अश्विनी मुद्रा

( परम पूज्य आसाराम बापूजी के सत्संग से )

अश्विनी मुद्रा (थल बस्ती प्रयोग) के लिए  विडिओ पुज्यश्री बापूजी के मुखारविंद से लाभ लेने के लिए लिंक

रोज गुरूमंत्र का जप करते हुए अश्विनी मुद्रा का व्यायाम करना तो मन लघु परिस्थिति से गुरुत्व की तरफ आ जाएगा..
ये आप अपनी रक्षा के लिए तोहफा जान लिजिए..
स्वास्थ्य  की रक्षा रहे , मन और बुध्दी भगवान में आसानी से लगे..

रोज सुबह खाली  पेट , स्नान कर के, जमीन  पर कम्बल डाल  दे..
सीर पूर्व दिशा में अथवा दक्षिण की ओर कर के सीधे लेट जाए..

earthing na mile aise aasan par sidhe let jaaye

  • घडी सामने दिखे ऐसी रख ले..
  • श्वास बाहर छोड़े और पेट को अन्दर बाहर कर ले 3-4 बार अच्छे  से..अन्दर ज्यादा, बाहर कम ऐसे करे.
  • अब अच्छी  तरह से श्वास लेकर बाहर छोड़े , बाहर ही रोके 40-45 सेकंद तक..श्वास बाहर रोक के शौच जाने की जगह का संकोचन-विस्तरण करिए..
  • एक बार श्वास रोकते तो 20 बार संकोचन-विस्तरण कर सकते है..ये क्रिया करते हुए मन में गुरूमंत्र जपे..
  • ऐसे 5 बार श्वास बाहर रोक के 100 बार संकोचन-विस्तरण हो जाएगा. 100 बार करने में साढ़े 3  मिनट लगते है.

इस से इतने फायदे होंगे की वर्णन नहीं कर सकते..
पहेले 50 बार ये क्रिया होती तो शरीर के त्रिदोष संतुलित होते, आम की तकलीफ दूर होती, कब्जियात दूर होगी…पेट में रोग के कण छुपे होते है , वे निकल जाते..सपन दोष की बीमारी मिटेगी , पानी  पड़ने  की बीमारी दूर होगी..
कफ्फ़ , वायु और पित्त से होनेवाली 132 प्रकार की बीमारियों से आप को छुटकारा मिलेगा…और ये त्रिदोष के मिश्रण से वायु कफ और पित्त के raw  मटेरियल से होने वाली 800 प्रकार की बिमारियां  आप को  आने का तो सवाल ही नहीं आयेगा..वायु और पित्त मिलता तो हार्ट अटैक  बनाता है..

ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ

(ParamPujya Asaram Bapuji ke Satsang se..)

roj gurumantr ka jap karate huye ashwini mudra ka vyaayaam karanaa to laghu paristhiti se gurutv ki taraf aa jaayegaa..

ye aap apani raksha ke liye tohafaa jaan lijieye..
swasathy ki raksha rahe , man aur budhdi bhagavan me aasaani se lage..

roj subah khali pet , snan kar ke, jamin par  kambal daal de..
seer purv disha me athava dakshin ki aor kar ke sidhe let jaaye..
ghadi saamane dikhe aisi rakh le..
shwas baahar chhode aur pet ko andar baahr kar le 3-4 baar achhe se..andar jyada, baahr kam aise kare.
ab achhi tarah se shwas lekar baaharchhode, baahar  hi roke 40-45 second tak..shwas baahar rok ke shauch jane ki jagah ka sankochan-vistaran kariye..
ek baar shwas rokate to 20 baar sankochan vistaran kar sakate hai..ye kriya karate huye man me gurumantra jape..
aise 5 baar shwaas baahar rok ke 100 baar sankochan vistaran ho jaayegaa.
is se itane phaayade honge ki varnan nahi kar sakate..
pahele 50 baar ye kriya hoti to sharir ke tridosh santulit hote, aam ki taklif dur hoti, kabjiyaat dur hogi…pet me rog ke kan chhupe hote hai , ve nikal jaate..sapan dosh ki bimari, pan ipadane ki bimari dur hogi..
kuff , vayu aur pitt se bhonewali 132 prakaar ki bimariyo se aap ko chhutakara milegaa…aur ye tridosh ke mishran se vayu kaf aur pitt ke raw materiyal se hone wali 800 prakar ki bimariya aap ke aane ka to sawaal hi nahi aayegaa..vayu aur pitt se heart attack banataa hai..

ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ

Advertisements

One Comment on “अश्विनी मुद्रा”

  1. sannikumar Says:

    sapan dosh two elephants


Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s


%d bloggers like this: