Bhakt Kanhopatra भक्त कान्होपात्रा

Viththal bhakt sant Kanhopatra

shama naam ki veshya apana sharir bech kar naach kar, gaa kar kami logo ki ti kaam ki putali ban kar jeevan jeeti thi..us ko ladaki huyi..ladaki badi khubsurat thi…jitani baahar se khubsurat thi, utani bhitar se bhi us ki khubsurati chamaki..satsang jati…15 varsh ki huyi tab tak to naach gaane me badi nipun ho gayi..maa ka dhanda tha naach gane ka, veshya vrutti kaa..vidarbh ki ghatanaa hai..mangalwedha gaav me shama veshya raheti..
kanhopatra ladaki ke jo bhi koyi us ki maa ke graahak dekhate to us ki chaah karate the…lekin kanhopatra kisi kaami ke hath nahi chadhi… ..maa bolati ki ye dhanda kar..agar is dhande se nafarat hai to ek pati sweekar kar ke shadi kar le, gruhasthi jeevan jee….


kanhopatra boli, tumhara ye aagrah to mai manungi lekin pati sadaachari ho..aisa nahi ki mere haad maas ko noch kar mujhe bimaar kare aur khud bhi jaldi mare, aisa pati nahi chahiye…jo sushil ho, sarv gun sampann ho…  sanyami ho..bramhchary ka mahatv janataa ho.. ..maa tum bolati vesha ka dhanda karo..maine  satsang suna hai ki jo sree par-purusho ke sath vicharan karati vo dusare janam me khargoshi banati,  suwari banati, bakari banati hai…ek bakaraa 40-40 bakariyon ke sath sambhog kar sakataa hai…manushy kare to usi din mar jaaye..kaamvikaar ki kayi nich yoniyaa hai..mujhe un nich yoniyo me nahi bhatakanaa hai…tum aagrah karati ho to mai shadi karungi lekin aisa sushil var (pati) kahaa mile?tum bhi dekho mai bhi dekhati hun..
andar se kanhopatra ne thaan liya ki aisa var kahaa milegaa jo sanyami bhi ho, paropakari ho, sanyami ho, sadaachari ho, chamade ke aakarshano se paar ho ..aisa var kahaa milegaa? aisa to koyi bhagavan ko paya huaa athava bhagavan hogaa!in dono ke siwa to nahi mil sakataa…yaa to vo bhagavat gyani -bramhagyani hogaa..yaa to bhagavan hogaa…ab bramhagyaani kahaa dhundhu? to bramhswarup viththal ke paas jane lagi…
vitthal ke darshan karati..shama veshya ki kanya pandurang ko ektuk dekhati, apane ko pandurang ka aur pandurang ko apana maanati……bhagavan aur guru apane lagane lagate to bhakti jaagati..premabhakti dosho ko har leti hai…mangalwedha ki ye kanya pandharpur jati..us ke saundary ke sath us ki ekagrata aur bhakti dekh kar ..sab log us ki  saraahanaa karane lage…us ki saraahanaa usi ke liye musibat ban gayi..yuwatiyon ke liye 2 musibat hai- ek un ka yauwan aur dusara un ka saundary…

3chije badi khatarnaak hai, aur badi heet kaari bhi…yauwan, saundary, swasthy dhan …ye tino agar sahi raste lagataa hai to param saundary paramaatma ka praagaty kar deta hai…aur agar sukh bhogane me lagataa to tabaahi hoti..ye sharir jo baahar se dikhata hai andar se dekho to toba hai..vicharate to bhi glani ho jaaye..
kanhopatra satasang aur bhagawan ke bhajan se uttam vichar ki dhani bani thi..is haad maas ke sharir ko kaamiyo ki kath-putali banaane ke badale bhagavaan viththal ki mai bhakt banungi..
Bidar  ke raja khuda khair kare, banda laher kare..aisa biwiyo par biwiyaa karataa…mano biwiyaa banaane ka theka lekar rakha hai..us ko pata chala ki is yug ki ek maha sundari hai…abhi 16 saal ki hai, to raja ne mantri aur sainiko ko aadesh diya ki us sundari ko pataa kar le aaye, nahi aayi to mai raja hun, mera hukum hai kar ke bal purvak utha ke laaye…
ab raja ka mantri aur sainik jab kisi ko lene ke liye aawe to kaun us me aade aayegaa?sanyog se kanhopatra us samay pandharpur me thi..us ko samajha-pataa kar le jane ke baat ki to vo samajh gayi..sree ke paas ek sadgun hota hai..ki saamanewala haraamkhori se baat kar rahaa hai ki bahen ke bhaav se baat kar rahaa hai…vo bechari sikud gayi..nahi aayi to ye bal purvak le jaayenge aisa aadesh hai…tanik shant ho gayi..antaraatma to sabhi ke andar hai..chahe viththal ke naam se pukaro,  krushn ke naam se pukaro, guru ke naam se pukaro, chahe ram ji  ke naam se pukaro,..pukaarate hi prerana mili.. boli, ” tum mujhe balpurvak kyo le jaaoge, mai khud hi tumhare sath chalungi..  thodi der ke liye mujhe pandurang ke darshan karane do..
bole,  “sipaahi sath chalenge…”boli, “haa , chale..mai pandurang ka darshan karungi, prarthana karungi….”darshan karate karate aisi antrang  prarthanaa me pahunch gayi.. …” ab mai tumhare sharan aayi hun..sansaar ke sharan jaane se mera dukh nahi mitega, lekin tumhare sharan aayi hun to mera dukh tikega nahi, mujhe pakka vishwas hai….mai meri shama maa ke paas jaaungi to wo mera dukh nahi mita sakati..aur ke raja ke paas jaungi to mera dukh kya mitegaa,kaamvikar ki putali ban ke mera jeevan barbaad ho jaayegaa..ab to mai teri sharan me hun pandurangaa…ab is kaamvikaar ke putale jaise sharir se mera koyi lena-dena nahi hai…mai to tum ko var chuki hun..ab tumhari sati ko dusara koyi le jaaye?…tum mere mata pita ho, bandhu sakha bhi ho…pati bhi ho..vastav me sansaar ka pati pita nahi ho sakataa, putra nahi ho sakataa..lekin tum pita bhi ho sakate, mata bhi ho sakate…jo bhi sambandh maan lo, lekin mujhe apane charano me le lo…hari sharanam….hari sharanam…pandurang sharanam gachchhaami..” ek tuk pandurang ko dekhate dekhate anek rupo me vyapt jo bramh paramaatmaa hai vo apana aatma hai..kanhopaatraa wahi dhal gayi…us ki jeevan jyoti param pandurang tatv me samaa gayi…ghadaa phuta to aakash mahaa-aakaksh me mil gayaa..

Sant kanhopatra ki murti

us ke sharir ki anteshti ki gayi..jo haddiyaa thi vo mandir ke dakshin bhaag me gaad di gayi..
aur duniyaa ke pataa chale ki dukh aaye to dukh haari ke sharan jaao ..sharir mitane ke baad kanhopatra ka dukh nahi tikaa, sharir raheta to bhi dukh nahi tikataa..jaruri nahi ki sab kanhopatra ki tarah sharir ko tyag de aise chakkar me nahi padanaa..kanhopatra ne sankalp kiya tha, isliye sharir tyagaa..kaamvikariyo ki putali jaise sharir ko tyagane ka sankalp kiya tha, to jaise jis ke tivra sankalp karate , bhagavan waisa karate hai..
pandharpur me pandurang ke murti ke aage aaj bhi us ki murti khadi hai..bhako ko bhagavaan ke sath bhaktani ke bhi darshan hote…jo bura dhanda kar rahi hai us ke beti ka bhi log darshan karate…
ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ


विठ्ठल  भक्त संत कान्होपात्रा
शामा नाम की वेश्या अपना शरीर बेच कर नाच कर, गा कर कामी लोगो की  काम की पूतली बन कर जीवन जीती थी..उस को लड़की  हुयी ..लड़की बड़ी खुबसूरत थी…जीतनी बाहर से खुबसूरत थी, उतनी भीतर से भी उस  की खुबसुरती चमकी..सत्संग में  जाती…15 वर्ष की हुयी तब तक तो नाच गाने में बड़ी निपुण हो गयी..माँ का धंदा था नाच गाने का, वेश्या वृत्ति का..विदर्भ की घटना है..मंगलवेढा  गाव में शामा वेश्या रहेती..
कान्होपात्रा  लड़की को  जो भी कोई उस की माँ के ग्राहक देखते तो उस की चाह करते थे…लेकिन कान्होपात्रा  किसी कामी के हाथ नहीं चढ़ी… ..माँ बोलती की ये धंदा कर..अगर इस धंदे से नफ़रत है तो एक पति स्वीकार कर के शादी कर ले, गृहस्थी जीवन जीओ ….


कान्होपात्रा  बोली, तुम्हारा ये आग्रह तो मैं  मानूंगी लेकिन पति सदाचारी हो..ऐसा नहीं की मेरे हाड मांस को नोच कर मुझे बीमार करे और खुद भी जल्दी मरे, ऐसा पति नहीं चाहिए…जो सुशिल हो, सर्व गुण संपन्न हो…  संयमी हो..ब्रम्हचर्य  का महत्त्व जानता हो.. ..माँ तुम  बोलती वेश्या   का धंदा करो..मैंने  सत्संग में सुना है की जो स्त्री  पर-पुरुषो के साथ विचरण करती वो दुसरे जनम में खरगोशी  बनती,  सुवरी बनती, बकरी बनती है…एक बकरा 40-40 बकरियों के साथ सम्भोग कर सकता है…मनुष्य करे तो उसी दिन मर जाए..कामविकार की कई नीच योनियां  है.. मुझे  उन नीच योनियों में नहीं भटकना है…तुम आग्रह करती हो तो मैं  शादी करुँगी लेकिन ऐसा सुशिल वर (पति) कहाँ  मिले? तुम भी देखो ,  मैं  भी देखती हूँ..
अन्दर से कान्होपात्रा  ने ठान लिया की ऐसा वर कहाँ  मिलेगा जो संयमी भी हो, परोपकारी हो, सुशिल  हो, सदाचारी हो, चमड़े के आकर्षणों  से पार हो ..ऐसा वर कहाँ  मिलेगा? ऐसा तो कोई भगवान को पाया हुआ अथवा भगवान ही होगा!  इन दोनों के सिवा तो नहीं मिल सकता…या तो वो भगवत ज्ञानी -ब्रम्हज्ञानी होगा..या तो भगवान होगा 🙂 …अब ब्रम्हग्यानी कहाँ  ढूँढू  ? तो ब्रम्हस्वरूप विठ्ठल   के पास जाने लगी…
विठ्ठल  के दर्शन करती..शामा वेश्या की कन्या पांडुरंग को एक टक  देखती, अपने को पांडुरंग का और पांडुरंग को अपना मानती……भगवान और गुरु अपने लगने लगते तो भक्ति जागती..प्रेमाभक्ति दोषों को हर लेती है…मंगलवेढा  की ये कन्या पंढरपुर   जाती..उस के सौन्दर्य के साथ उस की एकाग्रता और भक्ति देख कर  सब लोग उस की  सराहना करने लगे…उस की सराहना उसी के लिए मुसीबत बन गयी..युवतियों के लिए 2 मुसीबत है- एक उन का यौवन और दूसरा उन का सौन्दर्य…

3चीजे बड़ी खतरनाक है, और बड़ी हीत कारी भी…यौवन, सौन्दर्य, स्वास्थ्य धन …ये तीनो अगर सही रस्ते लगता है तो परम सौन्दर्य परमात्मा का प्रागट्य  कर देता है…और अगर सुख भोगने में लगता तो तबाही होती..ये शरीर जो बाहर से दिखता है अन्दर से देखो तो तोबा है..विचारते तो भी ग्लानी हो जाए..
कान्होपात्रा  सतसंग और भगवान के भजन से उत्तम विचार की धनि बनी थी..उस ने पक्का कर  लिया की , इस हाड मांस के शरीर को कामीयों  की कठ-पुतली बनाने के बदले भगवान विठ्ठल  की मैं  भक्त बनूँगी..
बीदर  के राजा… खुदा खैर करे, बंडा  लहर करे..ऐसा बीवियों पर बिवियां  करता…मानो बिवियां  बनाने का ठेका लेकर रखा है..उस को पता चला की इस युग की एक महा सुंदरी है…अभी 16 साल की है, तो राजा ने मंत्री और सैनिको को आदेश दिया की उस सुंदरी को पता कर ले आये, नहीं आई तो मैं  राजा हूँ  ,  मेरा    हुकुम  है कर के बल पूर्वक उठा के लाये…
अब राजा का मंत्री और सैनिक जब किसी को लेने के लिए आवे तो कौन उस में आड़े आयेगा?  संयोग से कान्होपात्रा  उस समय पंढरपुर  में थी..उस को समझा-पटा  कर ले जाने के बात की तो वो समझ गयी..स्री  के पास एक सद्गुण होता है..चटाक से समझ जाती है कि सामनेवाला हरामखोरी से बात कर रहा है की बहेन  के भाव से बात कर रहा है…कान्होपात्रा  बेचारी सिकुड़ गयी..नहीं आई तो ये बल पूर्वक ले जायेंगे ऐसा आदेश है…तनिक शांत हो गयी..अंतरात्मा तो सभी के अन्दर है..चाहे विठ्ठल  के नाम से  पुकारो ,  कृष्ण के नाम से पुकारो, गुरु के नाम से पुकारो, चाहे राम जी  के नाम से पुकारो,..पुकारते ही प्रेरना मिली.. बोली,   “तुम  मुझे बलपूर्वक क्यों ले जाओगे, मैं  खुद ही तुम्हारे साथ चलूंगी..  थोड़ी देर के लिए मुझे पांडुरंग के दर्शन करने दो..”
बोले,  “सिपाही साथ चलेंगे…”
बोली, “हां , चले..मैं  पांडुरंग का दर्शन करुँगी, प्रार्थना करुँगी….”
दर्शन करते करते ऐसी अन्तरंग  प्रार्थना में पहुँच गयी.. …  “अब मैं  तुम्हारे शरण आई हूँ..संसार के शरण जाने से मेरा दुःख नहीं मिटेगा, लेकिन तुम्हारे शरण आई हूँ तो मेरा दुःख टिकेगा नहीं, मुझे पक्का विश्वास है….मैं  मेरी शामा माँ के पास जाउंगी तो वो मेरा दुःख नहीं मिटा सकती..और  राजा के पास जाउंगी  तो मेरा दुःख क्या मिटेगा,  काम विकार  की पुतली बन के मेरा जीवन बर्बाद हो जाएगा..अब तो मैं  तेरी शरण में हूँ पांडुरंगा…अब इस कामविकार के पुतले जैसे शरीर से मेरा कोई लेना-देना नहीं है…मैं  तो तुम को वर चुकी हूँ..अब तुम्हारी सती  को दूसरा कोई ले जाए ?…  तुम ही  मेरे माता पिता हो, बंधू सखा भी हो…पति भी हो..वास्तव में संसार का पति पिता नहीं हो सकता, पुत्र नहीं हो सकता..लेकिन तुम पिता भी हो सकते, माता भी हो सकते…जो भी सम्बन्ध मान लो, लेकिन मुझे अपने चरणों में ले लो…हरी शरणम….हरी शरणम…पांडुरंग शरणम गच्छामि..” एक टक  पांडुरंग को देखते देखते अनेक रूपों में व्याप्त जो ब्रम्ह परमात्मा है वो अपना आत्मा है..कान्होपात्रा वही ढल गयी…उस की जीवन ज्योति परम पांडुरंग तत्व में समा गयी…घडा फुटा तो आकाश महा-आकाश  में मिल गया..

उस के शरीर की अंतेष्टि की गयी..जो हड्डिया थी वो मंदिर के दक्षिण भाग में  गाड़ दी गयी…. दुनिया के पता चले की दुःख आये तो दुःख हारी के शरण जाओ ..शरीर मिटने के बाद कान्होपात्रा  का दुःख नहीं टिका, शरीर रहेता तो भी   दुःख   नहीं छुटता ..जरुरी नहीं की सब कान्होपात्रा  की तरह शरीर को त्याग दे ऐसे चक्कर में नहीं पड़ना..कान्होपात्रा  ने संकल्प किया था, इसलिए शरीर त्यागा..काम विकारियों  की पुतली जैसे शरीर को त्यागने का संकल्प किया था, तो जैसे जिस के तीव्र संकल्प होते  , भगवान वैसा करते है..
पंढरपुर  में पांडुरंग के मूर्ति के आगे आज भी उस की मूर्ति खड़ी है..भक्तों  को भगवान के साथ भक्तानी के भी दर्शन होते…जो बुरा धंदा कर रही है उस के बेटी का भी लोग दर्शन करते…
ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ


One Comment on “Bhakt Kanhopatra भक्त कान्होपात्रा”


  1. […] के लिए कृपया  लिंक पर क्लिक कीजिएगा .. संत कान्होपात्रा ) पुज्यश्री बापूजी […]


Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s


%d bloggers like this: