ओरइ सत्संग अमृत बिन्दु oraii satsang amrutbindu

ओरइ सत्संग अमृत बिन्दु  19/12/2011

1)   (बहोत प्यारा अलौकिक हरि ओम संकीर्तन हो रहा है)…जिस घर में 10-15 मिनट ये कीर्तन हो जाएगा, थोड़े दिनों में घर के लोगो की जीवन और भाग्य की रेखा बदल सकती है..

हार को जीत में बदलने की कला सिख लो…

वैर को प्रीत में बदलने की कला सिख लो…

काटों को फूलों में बदलने की कला सिख लो…

द्वेष को प्रीत में बदलने की कला सिख लो..

हार को जीत में बदलने की कला सिख लो…और मौत को मोक्ष में बदलने की कला सिख लो…ये भगवान की ऐसी कला है..

 2)   हे प्रभु आनंद दाता का घर में रोज पाठ करो और घर के दुखो को , बीमारियों को भगाओ..कृपया यहा पधारे :

http://wp.me/P6Ntr-sk

 3)   लंबा श्वाश लो…श्वास अंदर भर के कंठ में ओम ओम ओम ओम ओम ओम ओम ओम  की ध्वनि निकाले ऐसा रोज सिर्फ़ 1 मिनट करेंगे बच्चे तो याद शक्ति बढ़ेगी, बुद्दू से बुद्दू बच्चा भी जो ज़रा ज़रा बात में चिढ़ जाता, डर जाता, गुस्सा हो जाता वो भी रोज 1-डेढ़ मिनट ऐसा करेगा तो चमत्कार हो जाएगा!

नींद नही आती है, चिंता है…10 मिनट ओंकार का गुंजन करो..नींद अच्छी आएगी, चिंता भाग जाएगी.

 4)   तुलसी का पौधा ज़रूर लगाओ.तुलसी के 5-7 पत्ते चबा के खा लिया करो..पानी पियो ता की तुलसी के पत्ते मुँह में दातों के बीच फँसे ना रहे.. रोग भी मिटेंगे..याद शक्ति भी बढ़ेगी.. उस प्रसाद से तुम्हारा अंतरात्मा भगवान प्रसन्न होंगे…

तुलसी का पौधा जब सुख जाए तो उस की लकड़िया बड़ी कीमती है..कही भी किसी की भी मौत हो जाए और तुम कुछ और नही लेकिन तुलसी की सुखी लकड़िया भी दोगे तो शव पर वो लकड़िया रखेंगे…  तो वो शव चाहे कितना भी पापी आदमी का हो , लेकिन तुलसी की लकड़िया उस के मुँह में, आँखो पर, शरीर पर हो..तुलसी की लकड़ी से उस का अग्नि संस्कार हो तो उस की सदगति हो जाती है..

तुलसी का बड़ा भारी महत्व है..तुलसी के बीज मिक्सी में पीस जाते है..पीस के रख दिया..एक चुटकी तुलसी के बीज रात को भीगा दिया , सुबह ले लेवे..बुढ़ापा नही आएगा.पानी पड़ने की बीमारी ठीक हो जाएगी.स्वपन दोष की बीमारी ठीक हो जाएगी.कई बीमारियों को  दूर भगाएगी और बुढ़ापे की कमज़ोरी और बीमारियों से आप बचे रहेंगे.

  5) निंदा ना करे..निंदा करने से और निंदा सुनने से शरीर में विषारी रस पैदा होते है. इसलिए कभी किसी की निंदा ना करे, ना सुने. http://wp.me/P6Ntr-PW

 6)  रात को सोते समय दिन भर जो अच्छे काम किए वो प्रभु को अर्पण करो और जो बुरे काम हुए उन के लिए क्षमा याचना करो, दुबारा ऐसा नही हो इसलिए प्रभु मदद करे ये प्रार्थना करो..श्वासोशवास में प्रभु का नाम मिला के अजपा जप करते करते सो जाओ..तो आप की नींद भक्ति हो जाएगी..सुबह उठ कर प्रभु को प्रार्थना कर के सो जाओ तो दिन तो सुंदर हो जाएगा..स्वभाव और जीवन भी सुंदर हो जाएगा..

 7 ) पूज्यश्री बापूजी ने मदन मोहन मालवीय जी के जीवन में नारायण मंत्र से कैसा चमत्कार हुआ इस की कहानी सुनाई…”नारायण” मतलब बंद ताले खुलवा देगा!

http://wp.me/P6Ntr-K2

 8  ) पूज्यश्री बापूजी ने नानी जी के दृष्टांत से ओंकारवाले मंत्र का प्रभाव और मरते समय 4 तकलीफे होती है, उस से बचे ये समझाया… http://wp.me/P6Ntr-Pn

 9  )  जयपुर के पास ग़लता तीर्थ है, जहा शाण्डीली  नाम की कन्या ने ओंकार मंत्र और अनुष्ठान , साधना से अंतरात्मा का कैसा बाल जगाया इस की पूज्यश्री बापूजी ने कथा सुनाई.  http://wp.me/P6Ntr-Jy  

 10 ) पूज्यश्री बापूजी ने खजूर के फ़ायदे बताए. इन दिनों में खजूर अवश्य खानी चाहिए.

11 ) जितना हेत  हराम से उतना हरी से होय l

   कहे कबीर वा दास का पल्ला ना पकड़े कोय ll

जितना ये दुखद संसार में प्रीति है उतना प्रभु में हो तो बेड़ा पार हो जाए…

( बुड्ढे लोगो को नाती-धोती , पोता पोती के माया में नहीं फसना चाहिए…अपने लिए समय निकाल कर प्रभु का सुमिरन अवश्य करना चाहिए…)

 12 ) पूज्यश्री बापूजी ने महाभारत की कथा सुनाई.

 राजा युधिष्ठिर ने भीष्म पितामह को वंदन कर के प्रश्न किया की :

हे पितामह , संसार में जन्म लिया..राज वैभव पाया लेकिन मरना तो पक्का है..मुझे एक ऐसा उपाय बताओ की जिस की हम उपासना साधना कर के मरने के पहेले हम अपने अंतर आत्मा- परमात्मा का सुख शांति और माधुर्य  पा ले..मरने के बाद ढोर ढाकर या प्रेत आत्मा हो कर भटकने वाले तो कई राजा हो गये..लेकिन युधिष्ठिर महाराज ने जीते जी अमरता का अनुभव हो ऐसी साधना की दिशा बताओ ऐसी भीष्म पितामह को प्रार्थना की..तब भीष्म पितामह प्रसन्न हो कर बोलते की :-

“युधिष्ठिर,

सामान्य मनुष्य की अपेक्षा वेद के ज्ञान को जानने वाला 10 गुना बढ़ कर श्रेष्ठ माना जाता है.वेद के ज्ञान  जाननेवाले से भी 10 गुना अधिक कुलगुरु को आदर दिया जाता है..कुलगुरु से 10 गुना आदर उस का होता है जो हमारे रीत रिवाजो के आचार्य हो, विद्या गुरु हो, उपाध्याय हो….उन विद्यागुरू, आचार्यों , उपाध्याय से भी 10 गुना अधिक आदर पिता का होता है..सारे देवताओ की पूजा करो उस की अपेक्षा पिता प्रसन्न हो तो सब देवताओ की पूजा का फल हो जाता है..और पिता के आदर से भी 10 गुना आदर माता का आदर करने से मिलता है..सारे धरती के देवता और तीर्थों का आदर करने से जो पुण्य मिलता है वो माता का आदर करने से पुण्य मिलता है..माता-पिता का आदर करने से भी हज़ारो गुना आधिक पुण्य आत्मा-परमात्मा का साक्षात्कार किए हुए महापुरुष का सत्संग, दर्शन, आदर करने से होता है … उन की दीक्षा जीव का कल्याण कर देती है.”

   मेरे हज़ारो जनम के माता, पिता, गुरु, आचार्य हो गये..लेकिन इस जनम में लीला शाह प्रभुजी मिले तो  मुझे ऐसी उँचाई पर पहुँचा दिया की दुनिया की सारी स्कूले, कॉलेज, यूनिवर्सीटीयाँ और विश्व विद्यालय छान मारता, उन की सर्टिफिकेट ले आता  तो भी मेरा इतना भला नही हो सकता था..मेरे द्वारा समाज का इतना भला नही हो सकता था..जितना मेरे को गुरु कृपा से और गुरु सत्संग से फ़ायदा हुआ..

 

 ओम शांति.

 श्री सद्गुरुदेव जी भगवान की महा जयजयकार हो!!!!!

ग़लतियों के लिए प्रभुजी क्षमा करे…

ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ

oraii satsang amrutbindu 19/12/2011

 

1) (bahot pyara aloukik hari om sankirtan ho rahaa hai)…jis ghar men 10-15 minat ye kirtan ho jaayegaa, thode dinon men ghar ke logo ki jeevan aur bhaagya ki rekha abadal sakati hai..haar ko jeet men badalane ki kalaa sikh lo…vair ko prit men badalane ki kalaa sikh lo…kaaton ko phulon men badalane ki kalaa sikh lo…dwesh ko prit men badalane ki kalaa sikh lo..haar ko jeet men badalane ki kalaa sikh lo…aur maut ko moksh men badalane ki kalaa sikh lo…ye bhagavaan ki aisi kalaa hai..

 2)he prabhu aanand daataa ka ghar men roj paath karo aur ghar ke dukho ko , bimaariyon ko bhagaao..

http://wp.me/P6Ntr-sk 

3)lambaa shwaash lo…shwaas andar bhar ke kanth men om om om om om om om om  ki dhwani nikaale aisaa roj sirf 1 minat karenge bachche roj kare to yaad shakti badhegi, buddu se buddu to bachchaa bhi jo jaraa jaraa baat men chidh jaataa, dar jaataa, gusaa ho jaataa vo bhi roj 1-dedh minat aisaa karegaa to chamatkaar ho jaayegaa!

nind nahi aati hai, chintaa hai…10 minat omkaar kaa gunjan karo..nind achhi aayegi, chintaa bhaag jaayegi.

 4) tulasi kaa paudhaa jarur lagaao.tulasi ke 5-7 patte chabaa ke khaa liyaa karo..pani piyo taa ki tulasi ke patte munh men daaton ke bich phanse naa rahe.. rog bhi mitenge..yaad shakti bhi badhegi..bhagavaan prasann honge us prasaad se tumhaaraa antaraatmaa…tulasi ka paudhaa jab sukh jaaye to us ki lakadiyaa badi kimati hai..kahi bhi kisi ki bhi maut ho jaaye aur tum kuchh aur nahi lekin tulasi ki sukhi lakadiyaa bhi doge to shav par vo lakadiyaa rakhenge to vo shav chaahe kitanaa bhi paapi aadami ka ho , lekin tulasi ki lakadiyaa us ke munh men, aankho par, sharir par ho..tulasi ki lakadi se us kaa agni sanskaar ho to us ki sadgati ho jaati hai..

tulasi ka badaa bhaari mahatv hai..tulasi ke bij mixi men pis jaate hai..pis ke rakh diyaa..ek chutaki tulasi ke bij raat ko bhigaa diyaa , subah le lewe..budhaapaa nahi aayegaa.paani padane ki bimaari thik ho jaayegi.swapan dosh ki bimaari thik ho jaayegi.kayi bimaariyon se dur bhagaayegi aur budhaape ki kamjori aur bimaariyon se bache rahenge.

 

 5) nindaa naa kare..ninda karane se aur ninda sunane se sharir men vishaari ras paidaa hote hai. isliye kabhi kisi ki nindaa naa kare, naa sune.

http://wp.me/P6Ntr-PW

 6)raat ko sote samay din bhar jo achhe kaam kiye vo prabhu ko arpan karo aur jo bure kaam huye un ke liye kshamaa yaachanaa karo, dubaaraa aisaa nahi ho isliye prabhu madat kare ye prarthanaa karo..shwaasoshwaas men prabhu kaa naam milaa ke ajapaa jap karate karate so jaao..to aap ki nind bhakti ho jaayegi..subah uth kar prabhu ko praarthanaa kar ke so jaao to din to sundar ho jaayegaa..swabhaav aur jeevan bhi sundar ho jaayegaa..

 7) Pujyashri Baapuji ne Madan Mohan Maalaviy ji ke jeevan men Narayan mantr se kaisaa chamatkaar hua is ki kahaani sunaayi…”naarayaan”matalab band taale khulawaa degaa!

http://wp.me/P6Ntr-K2

 8 ) jitanaa het haraam se utanaa hari se hoy l 

   kahe kabir waa daas kaa pallaa na pakade koy ll

jitanaa ye dukhad sansaar men priti hai utanaa  prabhu men ho to bedaa paar ho jaaye…

 

9 ) Pujyashri Baapuji ne naani ji ke drushtaant se omkaarwaale mantr ka prabhaav aur marate samay 4 takalife hoti hai, us se bache ye samajhaayaa…

 10)  jaypur ke paas Galataa Tirth hai, jahaa shandili naam ki kanyaa ne omkaar mantr aur anushtaan saadhanaa se antaraatmaa kaa kaisaa bal jagaayaa is ki Pujyashri Baapuji ne kathaa sunaayi.  

 http://wp.me/P6Ntr-Jy  

 11) Pujyashri Baapuji ne khajur ke phaayade bataaye.in dinon men holi tak khajur khaane chaahiye.

 12) Pujyashri Baapuji ne mahaabhaarat ki kathaa sunaayi.

  raja yudhdishthir ne bhishm pitaamah ko vandan kar ke prashn kiyaa ki :

hey pitaamah , sansaar men janm liyaa..raaj vaibhav paayaa lekin maranaa to pakkaa hai..mujhe ek aisaa upaay bataao ki jis ki ham upaasanaa saadhanaa kar ke marane ke pahele ham apane antar aatmaa- paramaatmaa kaa sukh shaanti aur maadhury paa le..marane ke baad dhor dhaakar yaa pret aatmaa ho kar bhatakane waal eto kayi raajaa ho gaye..lekin yudhdishtir  mahaaraj ne jeete jee amarataa kaa anubhav ho aisi saadhanaa ki dishaa bataao aisi bhishm pitaamah ko prarthana aki..tab bhishm pitaamah prasann ho kar bolate ki :-

“yudhdishtir ,

saamaanya manushy ki apekshaa ved ke gyaan ko jaanane waalaa 10 gunaa badh kar shreshth maanaa jaataa hai.ved ke gyaan jaananewaale se bhi 10 gunaa adhik kulguru ko aadar diyaa jaataa hai..kulguru se 10 gunaa aadar us kaa hotaa hai jo hamaare reet riwaajo ke aachaary ho, vidya guru ho, apaadhyaay ho….un vidyaguru, aachaaryo, upaadhyaay se bhi 10 gunaa adhik aadar pitaa kaa hotaa hai..saare devataao ki pujaa karo us ki apekshaa pitaa prasann ho to sab devataao ki pujaa ka phal ho jaataa hai..aur pitaa ke aadar se bhi 10 gunaa aadar maataa kaa aadar karane se milataa hai..saare dharati ke deavataa aur tirthon kaa aadar karane se jo punya milataa hai vo mata ka aadar karane se punya milataa hai..maataa-pitaa kaa aadar karane se bhi hajaaro guna aadhik punya aatmaa-paramaatmaa kaa saakshaatkaar kiye huye mahaapurush kaa satsang , aadar aur un ki dikshaa jeev kaa kalyaan kar deti hai.”

   mere hajaaro janam ke maataa pitaa guru aachaary ho gaye..lekin is janam men Lilaa saah Prabhuji mil eto mujhe aisi unchaayi par pahunchaa diyaa ki duniyaa ki saari skule, college, yunivarsitiyaa aur vishw vidyaalay chaan maarataa, un ki sartifiket le aataa  to bhi meraa itana abhalaa nahi ho sakataa thaa..mere dwaaraa samaaj kaa itanaa bhalaa nahi ho sakataa thaa..jitanaa mere ko guru krupaa se aur guru satsang se phaayadaa huaa..

 om shaanti.

 SHRI SADGURUDEV JI BHAGAVAAN KI MAHAA JAYAJAYAKAAR HO!!!!!

Galatiyon ke liye Prabhuji kshamaa kare…

Advertisements
Explore posts in the same categories: Pujya Bapuji

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s


%d bloggers like this: