भगवान पर परदा नही पड़ा है, बुध्दी पर परदा है bhagavaan par pardaa nahi padaa hai, budhdi par pardaa hai.

अहमदाबाद पूनम सत्संग अमृत; 10 दिसंबर 2011  

  

Poonam Darshan

नारायण नारायण नारायण नारायण

हरि ओम..

ध्यान से सुनना..

..भगवान अंतरात्मा ज्योति स्वरूप है..

रानी जोधाबाई नदी पे स्नान करने गयी..पानी में बहेती हुई मासूम लड़की देखी..उठाई…लड़की का पालन पोषण किया..लड़की 11-12 साल की हुई…एक बार अपनी बैग खोल के कुछ  कर रही थी..जोधा बाई ने चुपके से  देखा की क्या कर रही है… देखा उस ने साड़ी पहेनी..हार-सिंगार किया..और संध्या का समय होते ही छत पे खड़ी हो गयी…अभी सूरज ढालने को है..ग्वाल सब गौएँ ला रहे..उस समय ये लड़की सज-धज के खड़ी हो गयी…ऐसा कई बार देखा..जोधा बाई को आश्चर्य  हुआ…

जोधा बाई ने अपनी धर्म पुत्री को प्यार से पुछा की, ‘बेटी मैं कई दिनों से देखती हूँ की तुम सज धज के छत पे खड़ी हो जाती हो..बोल बेटी क्या रहस्य है?’  

पहेले तो उस ने शर्मीली सी अपनी स्वाभाविक स्थिति बताई…स्री सुलभ मर्यादा दिखाई…

फिर बोली की “मेरे पति आते है ना वापस गाय लेकर तो मैं उन के दर्शन करती हूँ…वो मेरे को देख कर प्रसन्न होते है, मैं उन को देख कर प्रसन्न होती हूँ…”

जोधा बाई दंग रहे गयी!

पुछा  की “पति कौन ?”

बोली, “वो बंसी वाले…घूंघराले बाल वाले..”

तो गये जनम में परमात्मा को पति रूप में माना…इस जनम में मनुष्य शरीर में जन्म हुआ , किसी कारण वो बहेती गयी..लेकिन गये जनम की भक्ति गयी नही..

आख़िर वो लड़की जब यौवन को प्राप्त हुई तब एक बार अकबर ने उस को देख लिया..जोधा बाई टालती थी इस बात को लेकिन अकबर ने पुछ लिया…फिर अकबर ने उस लड़की को अपनी भोग्या बनाना चाहा..ज़्यु ही अकबर उस के साथ विकार भोगने का विचार करने लगा तो अकबर के शरीर में जलन होने लगी..सारे हकीम वैद उलटे हो के टंग गये( सारे उपाय किए) लेकिन अकबर की जलन ठीक नही हुई…अकबर बिरबल की शरण गया की , “बिरबल अब तुम ही बताओ..जब से मैने उस कन्या को भोग दृष्टि से देखा है तब से मेरे शरीर में जलन है, अनिद्रा है..कोई इलाज काम नही करता है..अब क्या करना चाहिए?”

बिरबल  बोला, “अब आप संत की शरण जाइए”

अकबर संत सूरदास की शरण गये..खूब प्रार्थना की..संत ने कृपा दृष्टि की..तब अकबर को आराम मिला..तब अकबर की अकल ठिकाने आई की मन से किसी कन्या पर बुरी नज़र करने से भी पुण्य क्षीण होता है..

आज खग्रास चंद्र ग्रहण है..9.11 am से सूतक लगेगा..6.15 pm को चंद्रग्रहण शुरू होगा..तो चंद्र ग्रहण के 3 प्रहर (9 घंटे) पहेले

भोजन कर लेना चाहिए…अगर बूढ़े, बीमार, बालक है तो वो साडे 4 घंटे (1.5 प्रहार) पहेले खा ले..चंद्रग्रहण के समय जो भोजन करता है उस को कृमि की योनियों में जाना पड़ता है..और फिर मनुष्य शरीर में भी पेट के रोगों से आक्रांत रहेगा..ग्रहण के समय जो संसारी भोग भोगता है वो सुवर होता है…ग्रहण के समय ना करने योग्य बाते पहेले हम ने बताई हुई है…उन को जान लेना … (कृपया यहा पधारे :  http://www.hariomgroup.org/hariombooks/satsang/Hindi/KyaKarenKyaNaKaren.htm#%E0%A4%97%E0%A5%8D%E0%A4%B0%E0%A4%B9%E0%A4%A3%E0%A4%AE%E0%A5%87%E0%A4%82%E0%A4%95%E0%A5%8D%E0%A4%AF%E0%A4%BE%E0%A4%95%E0%A4%B0%E0%A5%87%E0%A4%82%E0%A4%95%E0%A5%8D%E0%A4%AF%E0%A4%BE%E0%A4%A8%E0%A4%95%E0%A4%B0%E0%A5%87%E0%A4%82   )


(पूज्यश्री बापूजी ने प्राणायाम के साथ ओंकार साधना करवाई..)

परमात्मा सदचिदानंद है..भगवान पर परदा नही पड़ा है, बुध्दी पर परदा है.. ‘मेरे को समझ में नही आता’ ये भी तुम समझ रहे हो… ‘मेरा मन अभी पाप में जा रहा है’ इस को भी तुम जानते हो..मन पुण्य में भी जाता तो उस को भी तुम जानते हो..तो ये पाप और पुण्य से आप प्रभावित होते तो आप राग द्वेष में फसते…जैसे ग्रहण के समय राहु श्री चंद्रमा को सूर्यदेव को ग्रासते तो सूर्य ग्रहण के समय सूर्य देव  अथवा चन्द्र ग्रहण के समय चंद्रमा नही दिखते अथवा बादल छा जाते तो सूर्य नही दिखते ऐसे ही तुम्हारा आत्मा तुम को नही दिखता है इसलिए तुम धन पा कर बड़े खुश हो जाते हो..सत्ता पा कर खुश हो जाते हो और फिर वासना के गुलाम हो कर बेटा चाहिए, फलाना चाहिए करते…अरे! जो सचमुच में तुम को चाहिए वो तुम्हारे साथ है!वो आत्मा परमात्मा कभी तुम्हारा साथ नही छोड़ता…वो आत्मा परमात्मा का सुख ही तुम को चाहिए…बेटे से तुम दुख थोड़ी ही चाहते हो..बेटे के द्वारा सुख चाहोगे तो कृष्ण के बेटों ने कृष्ण के नाक में दम कर रखा था…श्री राम जी के बेटो ने हनुमान जी को भी हरा दिया था ..इसलिए  बेटा मिल जाए,फलाना मिल जाए ऐसा नही सोचे..पहेले हम परमात्मा को पा ले…ज्योत से ज्योत जगाओ…(पूनम की मंगल आरती हो रही है..)

ॐ शांति l

श्री सद्गुरुदेव जी भगवान की महा जयजयकार हो !!!!!

गलतियों के लिए प्रभुजी क्षमा करें ….

 ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ

 Ahemadaabaad Poonam Satsang Amrut; 10 Dec 2011

naaraayan naaraayan naaraayan naaraayan

Hari om..

dhyaan se sunanaa..

..bhagavaan antaraatmaa jyoti swarup hai..

 raani jodhaabaai nadi pe snaan karane gayi..paani men baheti huyi maasum ladaki dekhi..uthaayi…ladaki ka paalan poshan kiyaa..ladaki 11-12 saal ki huyi…ek baar apani bag khol ke kuchh kar rahi thi..jodhaa baai ne chhup ke dekhaa ki kyaa kar rahi hai… dekhaa us ne saadi paheni..haar-singaar kiyaa..aur sandhyaa kaa samay hote hi chhat pe khadi ho gayi…abhi suraj dhalane ko hai..gwaal sab gaayen laa rahe..us samay ye ladaki saj-dhaj ke khadi ho gayi…aisaa kayi baar dekhaa..jodhaa baai ko aaschary huaa…

jodhaa baai ne apani dharm putri ko pyaar se puchhaa ki, beti main kayi dinon se dekhati hun ki tum saj dhaj ke chhat pe khadi ho jaati ho..bol beti kyaa rahasy hai?

pahele to us ne sharmili apani swaabhaavik sthiti bataayi…sree sulabh maryaadaa dikhaayi…

phir boli ki “mere pati aate hai naa waapas gaay lekar to main un ke darshan karati hun…vo mere ko dekh kar prasann hote hai, main un ko dekh kar prasann hoti hun…”

jodhaa baai dang rahe gayi!

puchhaa ki “pati kaun ?”

boli, “vo bansi waale…ghungharule baal waale..”

to gaye janam men paramaatmaa ko pati rup men maanaa…is janam men manushy sharir men janm huaa , kisi kaaran vo baheti gayi..lekin gaye janam ki bhakti gayi nahi..

aakhir vo ladaki jab yauwan ko praapt huyi tab ek baar akabar ne us ko dekh liyaa..jodhaa baai taalati thi is baat ko lekin akabar ne puchh liyaa…phir akabar ne us ladaki ko apani bhogyaa banaanaa chaahaa..jyu hi akabar us ke saath vikaar bhogane kaa vichaar karane lagaa to akabar ke sharir jalan hone lagi..saare hakim vaid ulate ho ke tang gaye( saare upaay kiye) lekin akabar ki jalan thik nahi huyi…akabar birbal ki sharan gayaa ki , “birabal ab tum hi bataao..jab se maine us kanya ako bhog drushti se dekhaa hai tab se mere sharir men jalan hai, anidraa hai..koyi ilaaj kaam nahi karataa hai..ab kyaa karanaa chaahiye?”

birbal bolaa, “ab aap sant ki sharan jaayiye”

akabar sant surdaas ki sharan gaye..khub praarthanaa ki..sant ne krupaa drushti ki..tab akabar ko aaraam milaa..tab akabar ki akal thikaane aayi ki man se kisi kanyaa par buri najar karane se bhi punya kshin hotaa hai..

aaj khagraas chandra grahan hai..9.11 am se sutak lagegaa..6.15pm ko chandragrahan shuru hogaa..to chandr grahan ke 3 prahar (9 ghante) pahele

bhojan kar lenaa chaahiye…agar budhe, bimaar, baalak hai to vo saade 4 ghante (1.5 prahar) pahele khaa le..chandragrahan ke samay jo bhojan karataa hai us ko krumi ki yoniyon men jaana padataa hai..aur phir manushya sharir men bhi pet ke rogon se aakraant rahegaa..grahan ke samay jo sansaari bhog bhogataa hai vo suwar hotaa hai…grahan ke samay naa karane yogya baate pahele ham ne bataayi huyi hai…

(Pujyashri Baapuji ne praanaayam ke saath Omkaar saadhanaa karavaayi..)

paramaatmaa satchidaanand hai..bhagavaan par pardaa nahi padaa hai, budhdi par pardaa hai.. ‘mere ko samajh men nahi aataa’ ye bhi tum samajh rahe ho… ‘meraa man abhi paap men jaa rahaa hai’is ko bhi tum jaanate ho..man punya men bhi jaataa to us ko bhi tum jaanate ho..to ye paap aur punya se aap prabhaavit hote to  aap raag dwesh men phasate…jaise grahan ke samay raahu shri chandramaa ko surydev ko graasate to sury dev , chandramaa nahi dikhate athavaa baadal chhaa jaate to sury nahi dikhate aise hi tumhaaraa aatmaa tum ko nahi dikhataa hai isliye tum dhan paa kar bade khush ho jaate ho..sattaa paa kar khush ho jaate ho aur phir waasanaa ke gulaam ho kar betaa chahaiye, phalaanaa chaahiye karate…are! jo sachamuch men tum ko chaahiye vo tumhaare saath hai!vo aatmaa paramaatmaa kabhi tumhaaraa saath nahi chhodataa…vo aatmaa paramaatmaa kaa sukh hi tum ko chaahiye…bete se tum dukh thodi hi chaahate ho..bete ke dwaaraa sukh chaahoge to krushn ke beton ne krushn ke naak men dam kar rakhaa thaa…shri raam ji ke beto ne hanumaan ji ko bhi sikh de di..isliye  betaa mil jaaye,phalaanaa mil jaaye aisaa nahi soche..pahele ham paramaatmaa ko paa le…jyot se jyot jagaao…(poonam ki mangal aarati ho rahi hai..)

 om shaanti.

SHRI SADGURUDEVJI BHAGAVAAN KI MAHAA JAYAJAYKAAR HO!!!!!

Galatiyon ke liye Prabhuji kshamaa kare…

Advertisements
Explore posts in the same categories: Pujya Bapuji

2 Comments on “भगवान पर परदा नही पड़ा है, बुध्दी पर परदा है bhagavaan par pardaa nahi padaa hai, budhdi par pardaa hai.”

  1. Amit Bansal Says:

    Jai gurudev pyare pyare sat gurudev ji jaisa accha aur saccha hiteshi is puree duniya main koi dusra nahi hai. Mere param pujya gurudev mujhe meri jaan se bhi jyada pyare hai unhe paane ke baad mere jivan main koi kami nahi rahi.

  2. -हरिॐ वेद Says:

    हरि ॐ, इसे पढ़ कर बहुत लाभ हुआ। -हरिॐ वेद


Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s


%d bloggers like this: