आनंद का महासागर Aanand kaa MahaaSaagar

अलीगढ़ सत्संग प्रसाद ; 9 डिसेम्बर 2011

Divya Jyot Praagatya

कल चंद्रग्रहण है… सुबह 9.11 am से सूतक शुरू हो जाता है , उस के पहेले खाना खा लेना …. सूतक के नियम पालन करोगे तो बहोत पुण्य होगा…रोजी रोटी स्वास्थ्य सभी में ये पुण्य का प्रभाव रहेगा …शाम 6.15 pm से 9.38 pm तक खग्रास चंद्रग्रहण है …. इस समय  एक बार जप करो तो लाख बार फल मिलता है..इसलिए करोड़ काम छोड़ कर भी जप करना..

ओ——————————म्म

72 करोड़ 72 लाख नाड़ियाँ इस ओंकार के गुंजन से सात्विक और पवित्र होने लगती है..

केवल 7 बार ओंकार का प्लूत उच्चारण करने के बाद इस ब्रम्‍हांड के पार अनंत ब्रम्‍हांडीय सत्ता के साथ साधक जुड़ जाता है..

ओ——————————म्म

अगर 15 मिनट भगवान को या गुरु को एक टक देखते हुए ये जप करे तो आरोग्य में, किस्मत में, भक्ति में 4 चाँद लग जाएँगे..

ओ——————————म्म

ओ——————————म्म

भगवान कहेते है यज्ञ, दान और तप से जीवन पवित्र  होते है.. कई लोग बुध्दिमान  तो होते है; लेकिन पवित्र  होना अलग बात है..बुध्दिमानों  को परम शांति नही मिलती..पवित्र को परम शांति मिलती है..

यज्ञ  करने से क्रिया की शुध्दी होती है..

दान करने से मोह ममता मिटती है, धन की शुध्दी होती है..

और तप करने से तन और मन पवित्र होता है..और अभी ये तपस्या हो रही है..आप भूक प्यास सहन कर के गुंजन कर रहे ये तपस्या है..

सत्य बोलना वाणी का तप है..मधुर बोलना, सार गर्भीत बोलना, दूसरे के हीत का बोलना ये वाणी की तपस्या है…आप की वाणी भाग्यशाली हो जाएगी..झूठ , कपट करने से आप की वाणी और आप का हृदय कमजोर हो जाएगा…

संकल्प करो ओंकार जपते हुए – सत्य का आश्रय लूँगा..झूठ , कपट , कटु वाणी नही बोलूँगा..मैं प्रभु का हूँ; प्रभु मेरे है..

हे प्रभु आनंद दाता का पाठ रोज करे …

किसी की निंदा ना करे; ना सुने..सासू बहू निंदा ना करे, ननंद भाभी निंदा ना करे, देरानी जेठानी निंदा ना करे..पत्नी अगर माँ की निंदा सुनाती हो तो उस को समझाए की मैने मेरी माँ का दूध पिया है, उस के शरीर से जन्म लिया है ..अगर उस की निंदा सुनूँगा तो पापी और गुण चोर हो जाऊंगा ..हमारे बच्चे भी पापी के बच्चे कहेलाएँगे..तू तो अच्छे घर की है, समझदार है, मुझे माँ  की निंदा नही सुना..

हमारा जीवन दिव्य हो.. ‘ये ऐसा है वैसा है’ बोलते ये तुच्छ जीवन है.. ‘मैं भगवान का हूँ, भगवान मेरे है’ ये सोचना दिव्य जीवन है..

भगवान आनंद स्वरूप है..मेरा अंतरात्मा है…भगवान का नाम लेते ही मन आनंदित होगा, खिलेगा..ये दिव्य जीवन है..

ओम ओम ओम ओम ओम ओम ..हृदय से जपो..फिर कंठ से जपो..श्रीकृष्ण यशोदा को बोलते ओंम्म्मममम (कंठ मे ओम)…फिर यशोदा बोलती : ओंम्म्ममममम ( कंठ में ओम)…तुम्हारे साथ में कृष्ण और यशोदा है..अंतरात्मा कृष्ण है और भगवान को यश देने वाली बुध्दी  यशोदा है…अभी अभी जपो और कृष्ण यशोदा संवाद का रसपान करो..

उ —-म्म …… उ —-म्म … उ —-म्म …. उ —-म्म

हँसी आएगी..आनंद उभरेगा… 🙂

उ —-म्म … उ —-म्म ….

ये अंतरात्मा का प्रसाद पाओ…मधुरता उभरेगी..आरोग्य के कण बनेंगे…याद शक्ति का केंद्र विकसित होगा…प्रसन्नता बढ़ेगी..प्रभाव बढ़ेगा…

प्रभुजी ओम..आनंद ओम…प्यारे जी ओम…ओम ओम ओम ..हा हा हा 🙂

रग रग पावन हो गयी…अलीगढ़ वाले अलख गढ़ के – परमात्मा के नगरी के हो गये..

ओम ओम ओम ओम ओम …..बड़ा आनंद आएगा..बड़ी आंतरिक तपस्या होगी..बुध्दी पवित्र होगी…

भगवान कहेते है :

यज्ञानाम  जप यज्ञ  असमि l

यग्यों में जप यज्ञ  तो मेरा ही स्वरूप है..

तीरथ नहाए एक फल ; संत मिले फल 4..और वो संत सदगुरु  के रूप में दीक्षा देते तो अनंत फल है..अभी आप की अनंत फल की यात्रा चल रही है…

ओम …ओम ….ओम…..ओम……

मेरा हृदय तो आनंद से छलक रहा है…जिन के हृदय में आनंद आ रहा हाथ उपर करो…शाबास है! सफल है तुम्हारी साधना और भक्ति !…

ओम……ओम…..ओम….ओम…

(सभी प्रसन्नता से मंद मंद मुस्कुरा रहे है..)

ओम ओम ओम ओम ओम ओम ….हरि ओम….प्यारे जी ओम……ओम ओम ओम ओम……रामा ओम ओम ओम ..शामा ओम ओम ओम ओम..गुरु ओम ओम ओम ओम..शिव ओम ओम ओम ओम..शक्ति ओम ओम ओम ओम…दाता ओम ओम ओम ओम …जय  हो!

shaadi ke 29 saal baad Bapuji ke prasaad se hamaare ghar 2 phul khile hai...

अलीगढ़ ने मिनी कुंभ कर दिया है..अब की बार 9 साल के बाद आया हूँ..अब मन बना रहा हूँ की साल में एक बार आऊँ….!

अलीगढ़  की पुलिस भी कर्म योगी है..

ओम ओम ओम प्यारे ओम ओम ओम ओम…

ओम ओम ओम ओम रामा ओम ओम ओम

ओम ओम ओम ओम दाता ओम ओम ओम

ओम ओम ओम ओम प्रभु ओम ओम ओम ….

तुम्हारी रग रग पावन हो रही है..

जाम पर जाम पीने से क्या फ़ायदा ?

सुबह अभागी उतर जाएगी

तू हरि नाम की प्यालियां पिया कर

तेरी सारी जिंदगी सुधर जाएगी!!

ओम ओम ओम ओम ओम……जय  हो!..

ओम ओम ओम ओम प्रभु ओम ओम ओम ….

( अलीगढ़  में हज़ारो बालक बालिकाओं ने  पूज्यश्री बापूजी की कृपा में  जीवन ओजस्वी तेजस्वी और उज्ज्वल भविष्य बनाने वाला सारस्वत्य मंत्र लिया… इन बहादुर बच्चो को पूज्यश्री बापूजी ने मगध का राजकुमार स्कंद गुप्त की कहानी और जयपुर की तेजस्वी ब्रम्हचारिणी शांडीली की कहानी सुनाई…ये कहानियाँ  पढ़ने के लिए कृपया लिंक पर पधारे

http://wp.me/P6Ntr-NJ    Veer Skand Gupt

http://wp.me/P6Ntr-Jy    Galataa Tirth

 परम चैत्यन्य मूर्ति पूज्यश्री बापूजी सदगुरु दर्शन एक्सप्रेस से पंडाल के सभी भक्तो को पावन दर्शन दिए…प्रसाद दिए…मुंबई के मानसून में ट्रक वाले और ऑटो वाले की दिल्लगी का चुटकुला सुना कर भक्तो के  दिलों में खुशियों के सावन की बौछार बरसाए …व्यासपीठ पर परम सुंदर ब्रम्ह नृत्य  किए…  इन सब का वर्णन शब्दों में कहाँ हो पाएगा? )

श्री सुरेशानंदजी गा रहे :

इन की वाणी महा सुखकारी

आनंद का महासागर

सब कुछ  है भक्तों को मिलता

जोगी के ज्ञान  को पा कर

जोगी रे….

ओम शांति

श्री सद्गुरुदेवजी भगवान की महा जयजयकार हो!!!!!

ग़लतियों के लिए प्रभुजी क्षमा करे..

ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ

Aligarh (U.P.)

kal khagraas chandr grahan hai..subah 9.11 se sutak lag jaataa hai to  us ke pahale bhojan kar lenaa..swaasthy aur punya bahot badhenge…shaam 6.15 pm  se  9.38 pm tak chandragrahan hai…us samay  ek baar jap karo to laakh baar phal milataa hai..isliye karod kaam chhod kar bhi jap karanaa..

ooooooooooooommmmmmmmmmmmmmmmmm

ooooooooooooommmmmmmmmmmmmmmmmm

72 karod 72 laakh naadiyaa is omkaar ke gunjan se saatvik aur pavitr hone lagati hai..

kewal 7 baar omkaar kaa plut uchchaaran karane ke baad is bramhaand ke paar anant bramhaandiy sattaa ke saath saadhak jud jaataa hai..

ooooooooooommmmmmmmmmmmmmmmmmmm

agar 15 minat bhagavaan ko yaa guru ko ek tak dekhate huye ye jap kare to aarogya men, kismat men, bhakti men 4 chaand lag jaayenge..

oooooooooooooooooommmmmmmmmmmmm

ooooooooooooooooo0mmmmmmmmmmmmm

bhagavaan kahete hai yagya daan aur tap se pavitra hote hai..budhdimaan to hote hai; lekin pavitra honaa alag baat hai..budhdimaano ko param shaanti nahi milati..pavitr ko param shaanti milati hai..

yagya karane se kriyaa ki shudhdi hoti hai..

daan karane se moh mamataa mitati hai, dhan ki shudhdi hoti hai..

aur tap karane se tan aur man pavitr hotaa hai..aur abhi ye tapasyaa ho rahi hai..aap bhuk pyaas sahan kar ke gunjan kar rahe ye tapasyaa hai..

satya bolanaa waani ka tap hai..madhur bolanaa, saar garbhit bolanaa, dusare ke heet ka bolanaa ye waani ki tapasyaa hai…aap ki waani bhaagyashaali ho jaayegi..jhuth , kapat karane se aap ki waani aur aap kaa hruday kamajor ho jaayegaa…

sankalp karo : omkaar japate huye satya kaa aashray lungaa..jhuth , kapat , katu waani nahi bolungaa..main prabhu kaa hun; prabhu mere hai..

kisi ki nindaa naa kare; naa sune..saasu bahu nindaa naa kare, nanand bhaabhi nindaa naa kare, derani jethani nindaa naa kare..patni agar maa ki nindaa sunaati ho to us ko samjhaaye ki maine meri maa kaa dudh piyaa hai, us ke sharir se janm liya ahai..agar us ki nindaa sunungaa to paapi aur gunchor ho jaaungaa..hamaare bachche bhi paapi ke bachche kahelaayenge..tu to achche ghar ki hai, samajhadaar hai, mujhe maa ki nindaa nahi sunaa..

hamaaraa jeevan divya ho..ye aisaa hai waisaa hai bolate ye tuchch jeevan hai..’main bhagavaan kaa hun, bhagavaan mere hai’ye sochanaa divya jeevan hai..

bhagavaan aanand swarup hai..meraa antaraatmaa hai…bhagavaan kaa naam lete hi man aanandit hogaa, khilegaa..ye divya jeevan hai..

om om om om om om ..hruday se japo..phir kanth se japo..shrikrushn yashodaa ko bolate ooooooooooommmmmmm (kanth me om)…phir yashodaa bolati : ooooooommmmmmmm ( kanth men om)…tumhaare saath men krushn aur yashodaa hai..antaraatmaa krushn hai aur bhagavaan ko yash dene waali budhdi yashodaa hai…abhi abhi japo aur raspaan karo..

oooooooooooooommmmmmmmmmmmmmm

ooooooooooooooommmmmmmmmmmmmmm..

hansi aayegi..aanand ubharegaa… 🙂

ooooooooooooooommmmmmmmmmmmmmmm

ye antaraatmaa ka prasaad paao…madhurataa ubharegi..aarogya ke kan banenge…yaad shakti kaa kendr vikasit hogaa…prasannataa badhegi..prabhaav badhegaa…

prabhuji om..aanand om…pyaare ji om…om om om ..haa haa haa 🙂

rag rag paawan ho gayi…aligarh waale alakh garh ke – paramaatmaa ke ho gaye..

om om om om om …..badaa aanand aayegaa..badi aantarik tapasyaa hogi..budhdi pavitr hogi…

bhagavaan kahete hai :

yagyaanaam jap yagy asmi l

yagyon men jap yagya to meraa hi swarup hai..

tirath nahaaye ek phal ; sant mile phal 4..aur vo sant sadguru  ke rup men dikshaa dete to anant phal hai..abhi aap ki anant phal ki yaatraa chal rahi hai…

om …om ….om…..om……

meraa hruday to aanand se chhalak rahaa hai…jin ke hruday men aanand aa rahaa haath upar karo…shaabas hai! saphal hai tumhaari saadhanaa aur bhakti!…

om……om…..om….om…

(sabhi prasannataa se mand mand muskuraa rahe hai..)


om om om om om om ….hari om….pyaare ji om……om om om om……raamaa om om om ..shaamaa om om om om..guru om om om om..shiv om om om om..shakti om om om om…daataa om om om om …jay ho!

aligarh  ne mini kumbh kar diyaa hai..ab ki baar 9 saal ke baad aayaa hun..ab man banaa rahaa hun ki saal men ek baar aaun….!

aligarh ki pulice bhi karm yogi hai..

om om om pyaare om om om om…

om om om om raamaa om om om

om om om om daataa om om om

om om om om prabhu om om om ….

tumhaari rag rag paawan ho rahi hai..

jaam par jaam pine se kyaa phaaydaa?

subah abhaagi utar jaayegi

tu hari naam ki pyaaliyaa piyaa kar

teri saari jindagi sudhar jaayegi!!

om om om om om……jay ho!..

om om om om prabhu om om om ….

( Aligarh men hajaaro baalak baalikaaon ne  Pujyashri Baapuji ki krupaa men  jeevan ojaswi tejaswi aur ujjwal bhavishy banaane waalaa saaraswatya mantr liyaa… in bahaadur bachcho ko Pujyashri baapuji ne magadh kaa raajkumar skand gupt ki kahaani aur jaypur ki tejaswi bramhachaarini shandili ki kahaani sunaayi…ye kahaaniyaa  padhane ke liye krupayaa link par padhaare

http://wp.me/P6Ntr-NJ    Veer Skand Gupt

http://wp.me/P6Ntr-Jy    Galataa Tirth

 param chaityany murti Pujyashri Baapuji sadguru darshan express se pandaal ke sabhi bhakto ko paawan darshan diye…prasaad diye…mumbai ke maansoon men trukwaale aur autowaale ki dillagi ka chulakulaa sunaa kar bhakto ko dilon men khushiyon ke saawan ki bauchhar kiye…vyaasapith par param sundar bramhanrutya kiye in sab kaa varnan shabdon men kahaa ho paayegaa? )

shri sureshaanand ji gaa rahe :

in ki waani mahaa sukh kaari

aanand kaa mahaa saagar

sab kuchh hai bhakton ko milataa

jogi ke gyaan ko paa kar

jogi re….

om shaanti

SHRI SADGURUDEV BHAGAVAAN KI MAHAA JAYAJAYKAAR HO!!!!!

Galatiyon ke liye Prabhuji kshamaa kare..

Advertisements
Explore posts in the same categories: Pujya Bapuji

One Comment on “आनंद का महासागर Aanand kaa MahaaSaagar”

  1. rupali Says:

    shri bapuji ka satsang hum tak pahuchane ke liye danyawad


Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s


%d bloggers like this: