SHRAADHD MANTR

पटियाला ; 24 सप्टेम्बर  2011

देश विदेश में जिन के पास ये सत्संग पहुँच रहा है, ध्यान देना..

 

कल 25 तारीख है. …श्राध्द   में एक विशेष मंत्र उच्चारण करने से, कल के दिन इस मंत्र का जप करने से  पितरों को संतुष्टि होती है और संतुष्ट पितर  आप के कुल खानदान को आशीर्वाद देते…. 

जिन के कुल खानदान में श्राध्द  नही किया जाता उन के कुल खानदान में दीर्घ ज़ीवी संतान नही होती… दूर  दृष्टि वाली उँची आत्माएँ नही आती…

जो लोग श्राध्द  करते तो पितर  तृप्त होकर आशीर्वाद देते तो आयु, आरोग्य ,पुष्टि से पूर्ण संतति  उन के घर में आती है… 


तो कल  25 सप्टेम्बर  2011 को पितरों को तृप्त करनेवाला मंत्र अगर जप करते और  27 सप्टे.  को पितृ संतुष्टि के लिए और जिन का नाम गोत्र नही जानते उन के लिए भी श्राध्द  कर के तिल जल का तर्पण कर दे तो वो तृप्त होंगे … आप के कुल खानदान वाले हो अथवा आप के याद में आनेवाले कोई व्यक्ति मरे हो तो उन को भी तर्पण आदि से आप तृप्त करेंगे तो उन की तृप्ति आप के लिए मधुर आशीर्वाद लाएगी…

मैं  मेरे पिता का श्राध्द  करता हूँ तो उन के साथ साथ जो भी मेरे ध्यान में आते है उन के लिए भी मैं तर्पण कर देता हूँ… यहा तक की जो निंदा करते और बुरी तरह मर गये थे , जिन को किसी मर्द ने कंधा नही दिया तो उन की बेटी ने  दूसरी महिलाओं की मदद से कंधा देकर समशान में जला कर आई थी ऐसे संत निंदक समाज द्रोही व्यक्ति के लिए भी मैं  तर्पण कर दिया उस की सदगति के लिए तो मेरे हृदय में तो बड़ा आनंद आया.. 

संत की निंदा करने से उस आदमी की लाश को कोई कंधा देने नही गया तो उस की बेटी के साथ 2-4 महिलाओं ने उस को कंधा दिया था, तो उन के घर से लक्ष्मी चली गयी..वो कंगले हो गये… स्रियों  को  कंधे पर समशान में मुर्दा नही ले जाना चाहिए , घर में दरिद्रता आती है..उस का बेटा भी अमेरिका में ऑपरेशन में मर गया था…ऐसे निंदक व्यक्ति की याद आई तो उस के लिए भी मैने तर्पण किया…

 



 

दूसरे की भलाई सोचने से , सुनने से अपना हृदय भला होता है …दूसरे का बुरा सोचने से उस का बुरा हो चाहे ना हो अपना हृदय ज़रूर बुरा हो जाता है.. जिस का आप भला करते  उस का तो थोडासा भला होता , लेकिन भला करनेवाले का हृदय स्वयं भला हो जाता है…

 

मंत्र ध्यान से पढ़े :

 

*ॐ ह्रीं श्रीं क्लीं स्वधादेव्यै स्वाहा|*

 

 

 

 

 

ओम शांति.

 

 

 

 

 

श्री सद्गुरुदेव जी भगवान की महा जयजयकार हो!!!!!

 

ग़लतियों के लिए प्रभुजी क्षमा करे….. 

 

 




ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ

Patiyala ; 24Sept 2011

 

desh videsh men jin ke paas ye satsang pahunch rahaa hai, dhyaan denaa..

 

kal 25 taarikh hai. shraadhd men ek vishesh mantr uchcharan karane se, kal ke din is mantr ka jap karane se pitaron ko santushti hoti hai aur santusht pitar aap ke kul khaanadaan ko aashirwaad dete….

jin ke kul khaanadaan men shraadhd nahi kiyaa jaataa un ke kul khaanadaan men dirgh jivi santaan nahi hoti…door drushti waali unchi aatmaayen nahi aati…

jo log shraadhd karate to pitar trupt hokar aashirwaad dete to aayu, aarogya,pushti se purn santati un ke ghar men aati hai…

 

MANTR : OM HREEM SHREEM KLEEM SWADHAA DEVYEI SWAAHAA

 

to kal 25 sept 2011 ko pitaron ko trupt karanewaalaa mantr agar jap karate aur 27 sept ko pitru santushti ke liye aur jin kaa naam gotra nahi jaanate un ke liye bhi shradhd kar ke til jal ka tarpan kar de to vo trupt honge … aap ke kul khaanadaan waale ho athavaa aap ke yaad men aanewaale koyi vyakti mare ho to un ko bhi tarpan aadi se aap trupt karenge to un ki trupti aap ke liye madhur aashirwaad laayegi…

mai mere pitaa kaa shraadhd karataa hun to un ke saath saath jo bhi mere dhyaan men aate hai un ke liye bhi main tarpan kar detaa hun… yahaa tak ki jo nindaa karate aur buri tarah mar gaye the , jin ko kisi mard ne kandhaa nahi diyaa to un ki beti ne dusari mahilaaon ki madad se kandhaa dekar samshaan men jalaa kar aayi thi aise sant nindak samaaj drohi vyakti ke liye bhi mai tarpan kar diyaa us ki sadgati ke liye to mere hruday men to badaa aanand aayaa..

sant ki nindaa karane se us aadami ki laash ko koyi kandhaa dene nahi gayaa to us ki beti ke sath 2-4 mahilaaon ne us ko kandhaa diyaa thaa, to un ke ghar se lakshmi chali gayi..vo kangale ho gaye… sriyon ko kandhe par samshaan men murdaa nahi le jaanaa chaahiye , ghar men daridrataa aati hai..us ka betaa bhi amerikaa men operation men mar gayaa thaa…aise nindak vyakti ki yaad aayi to us keliye bhi maine tarpan kiyaa…

 

dusare ki bhalaayi sunane se apanaa hruday bhalaa hotaa hai …dusare ka buraa sochane se us ka buraa ho chaahe na ho apanaa hruday jarur buraa ho jaataa hai.. jis kaa paa bhalaa karatae us ka to thodaasaa bhalaa hotaa , lekin bhalaa karanewaale kaa hruday swayam bhalaa ho jaataa hai…

 

OM SHAANTI.

 

SHRI SADGURUDEV JI BHAGAVAAN KI MAHAA JAYJAYAKAAR HO!!!!!

GALATIYON KE LIYE PRABHUJI KSHAMAA KARE…..




Advertisements
Explore posts in the same categories: Pujya Bapuji

One Comment on “SHRAADHD MANTR”

  1. luvy Says:

    GREAT! MANY Thanks for your GREAT SEWA.. bapu ji ki jai ho.. jai gurudev !


Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s


%d bloggers like this: