pyaar kare, upakaar kare ye! paar kare , udhdaar kare ye !

Hisaar(haryana); 31July2011  

 

इस पोस्ट को हिंदी में पढ़ने के लिए कृपया यहाँ पधारे : http://wp.me/pZCNm-nt
अथवा स्क्रोल डाउन कीजिये


 

hisaar waale saar kyaa hai bolo…

saar ye hai ki bhagavaan ka aanand, bhagavaan ka maadhury aur bhagavaan ki satta cham cham chamake yahi hisaar waalon ke liye saar hai..

jeevan men 2 saar hai : ek santon ka sang aur dusaraa shabd kaa rang.

(bahot sundar omkar sankirtan ho rahaa hai..sabhi bhagavatiy aanand men jhum rahe hai..)

Binu raghuvir pad jeev ki jarani naa jaayi..

Jivaatmaa ki tapan hai ..jaise tavaa tapaa rahetaa hai..jab tak us par shital jal bharaa lotaa nahi daalate tab tak tave ki tapan nahi jaati aise omkaar swarup iishwar ki upaasanaa ka madhumay amrut nahi chhitakate tab tak chitt men kaam vikaar ki aag, krodh ki aag, lobh ki aag, moh ki pareshaani jivaatmaa ko tapaati raheti hai..

agar aaraam chaahe tu de aaraam khalakat ko

sataa kar gair logon ko milegaa kab aman tujh ko

jo dusaron ko shoshit kar ke sukhi rahenaa chaahataa hai use badi tenshan aur bade dukho ki aapadaayen saheni padati hai..

jo dusaron ki bhalaayi men apani bhalaayi ki paravaah nahi karataa us ke mahaa bhalaayi ke dwaar khul jaate hai..

 

Every Action create Reaction !

aap jo bhi karate vo kayi gunaa ho kar aap ke paas aataa hai..

 

isiliye Kabir ji kahete hai :-

Kabiraa aap thagaayiyo

aur naa thagiyo koyi

aap thage sukh upaje

aur thage dukh hoyi

 

kisi se dhokaa kar ke aap ne us ke 25-50 hajaar yaa laakh chhin liye..to vo marataa to  chhod ke jaataa..to marane ke baad chhod ke jaane waali chij aap ne chhini, lekin aap ne apanaa hruday kharaab kiya..aap marane ke baad bhi vo aadat aur vo karam aap ko tapaayegaa..kisi ka mai buraa chaahu to us kaa buraa ho naa ho, lekin meraa hruday to abhi se hi buraa hone lagegaa..buraa karane men saphal bhi ho gayaa to ahankaar badhegaa..aur dusaron ka buraa karungaa..agar bhalaa karane men saphal hotaa hun to us ka to baahar ka bhalaa hogaa, lekin mera to  hruday bhalaa hotaa chalaa jaayegaa..aisaa bhalaa hoga, aisa bhalaa hogaa ki bhalaa badhate badhate bhagavaan ki vyaapakataa aur mere dil ki vyaapakataa  ekaakaar bhi to ho jaati hai!

isliye bhagavaan ke gun apane men aane do..kyo ki aap ka asali swarup bhagavaan se milataa hai..nakali swarup sansaar se milataa hai..sharir nakali swarup hai..pahele nahi thaa, baad men nahi rahegaa..bich men dikh rahaa hai..swapnaa nakali hotaa hai to bich men dikhataa hai na? aise hi ye sharir pahele nahi tha, baad men nahi rahegaa…

lekin sharir ke pahele tum the…

bachapan chalaa gayaa tab bhi tum the..jawaani budhaape men kab badali pataa nahi lekin us ko jaanane waale tum ho! aur ye sharir mar jaayegaa us ke baad bhi tum rahete ho..to tum ho sat !

jo ‘sat’ hai , vo chetan bhi hai..haath ko pataa nahi..haath chetan nahi, tumhaari chetanaa se haath chetan hai..to aap sat hai, chetan  bhi hai..aur jo sat hai chetan hai vo aanand swarup bhi hai..apane aanand swabhaav ko jagaao to sansaar ke sukh lolupataa se aap bach jaayenge..phir aap jahaan najar daalenge wahaa sukh laheraayegaa..

 

bramhagyaani mahaapurushon ki jahaa nigaahe padati hai wahaa log saari suvidhaayen chhod kar dharati par baith kar, bhuk pyaas sahe kar bhi un ke darshan se  chinmay aanand paate hai..

bramhagyaani ki mat kaun bakhaane

naanak bramhagyaani ki gat mat bramhagyaani jaane

 

ye aatm vidyaa hai..

 

bhautik vidyaa ..adhi daivik vidyaa aur aatm vidyaa..

 

saa vidyaa yaa vimuktaye..

 jo saare dukho se, saari chintaaon se, saare paapon se, taapon se mukt kar de use aatm vidyaa kahete hai..jitane ansh men aap ye aatm vidyaa aatm saat karate h utane ansh men aap kaa sharir ka prabhaav, dukhon ka prabhaav , vikaaron ka prabhaav halakaa phulakaa ho jaayegaa..

 

aap chaahate hai kya ki ham dukhon ke prabhaav men dabe rahe? nahi!

aap chaahate hai kya ki ham vikaaron ke prabhaav men dabe rahe? nahi!

to shrikrushn kahete hai ki Aao!mere paas adhyaatm budhdi le lo!…adhyaatm budhdi ka naam kya hai?

prasaade sarv dukhaanaam

haani rasyop jaayate

prasann chetaso yaasu

budhdi paryavitishtate

 

us aatm prasaad se , bramhagyaan ke prasaad se saare dukhon kaa ant hotaa hai..aur aap ki budhdi men paramaatm ras jagamagaataa hai..budhdi balawaan hoti hai to man ko niyantrit rakhati hai..aur man indriyon ko niyantrit rakhataa hai..aap jaanate ho galat hai phir bhi indriyon ka prabhaav man ko khinchataa hai..man kaa prabhaav budhdi ko khinchataa hai aur aap naa chaahate huye bhi galatiyaan karate rahete hai..to baad men us ka phal bhi bhoganaa padataa hai..

agar aap aatm-vishranti ka abhyaas kare to budhdi balawaan hogi..man ko niyantrit karegi.. to man bhi balawaan hogaa..to indriyaa bhi niyantran men rahengi..aap ki gaadi thik jagah par chalegi..aap tejaswi banenge..buri jagah se apane ko rokane men saphal ho jaayenge..achchhe logon ka saath sahayog karane men aap balawaan ho jaayenge..

to roj subah uthate samay jo nind men se hamen jagaataa hai vo kaun hai? kaisi krupaa hai!

aur raat ko thake thakaaye aap ko apani nind bhari god men le jaataa hai vo kaun hai?

paiso se tum air candishan kamaraa banaa sakate ho, nind to us ki den hai!

paiso se tum pakawaan vyanjan banaa sakate ho, bhuk to us ki den hai!

aise hi duniyaa ki chije laa kar tum sukh ke saadhan jutaa sakate ho

lekin sukh aur prasannataa to kisi sant aur pyaare prabhu ki den hai!

nahi to prasannataa kahaan milati hai?

agar antaraatmaa me sukh hotaa to klabon me kyu jaate? kaay ko ek dusare ki thuk chaatate? kaay ko sharaab pite? kaay ko gaay ka maans khaate aur aatm hatyaa karate?

klabon men sukh hotaa to saare klabi sukhi ho jaate!

agar sattaa men sukh hota to saare sattaadhish sukhi hote! elizabeth bolate saari sattaa le lo , ek ghanataa jivit rakho to mai praarthanaa kar lun..paschaataap kar lu..marane ke baad kahaa jaaungi I don’t know…

 

arre marane ke baad kya ham to jeete jee ham jis ke hai us ke saath milenge!..

 

marane ke baad yamdut ko daant ke waapis aa gayi aur 30 saal jivit rahi aisi naani ka main dhotaa hun.. 🙂

aur subah daayi aa gayi thi lekin garibon men chhaans baatane ki sewaa puri karani thi to ghar ke mandir men jaa kar prarthanaa ki ki abhi prasuti nahi, saari sewaa puri ho us ke baad baalak ka janm ho ..sewaa puri karane ke baad baapu ko janm diyaa aisi maa ka to main betaa hun! 🙂

neem ke ped ko aagyaa diyaa ki jhulelaal waalon ki aur masjid waalon ki jahaa asali had hai wahaa jaa kar khadaa ho jaa! to neem ka ped chalaa aur jahaa vaastav men had thi wahaa  jaa kar khadaa ho gayaa!..to muslim bhi dekh kar charanon men aa gaye ki aap keshavraam ke shishy saai LILARAM AB AAP SAAI LILASHAAH ho!

Aisi Ram paramaparaa hai hamaari..KeshavRam..LilaaRam.. AshaRam…to muslim logon ne masjid aur jhulelal mandir ki asali had dikhaayi to bole aap saai Lilaashaah ho..

aise neem ka ped jin ki aagyaa se chal padataa hai aise guru ka mai chelaa hun! 🙂

maut ko bhi daraa kar waapis aati hai aisi naani ka dhotaa  hun..

aur tumhaare baapu ko rok kar sewaa kaary puraa karen aisi maa ka betaa hun!

aur pahele 2 karod shishy the abhi adhaayi- 3 gunaa ho gaye itane karodon kaa to Bapu hun! 🙂 ..ab bataao jogi re kyaa jaadu hai tumhare pyaar men.. 🙂

 

pure aakade nahi hai lekin pahele se kayi gunaa jyaadaa log ho gaye hai..ab helicopter se ek din me 2-2 jagah jaanaa padataa aise prograam hote hai….

A to Z chanel dwara kayi jagah par log live satsang dekh rahe..care chanel, den cable, 7 star cable. haathway cable, BN cable, SN cable, sharmaa cable..saaii cable, GTP cable.. dwara bhi kayi jagah log dekh rahe hai..Airtel aur relience mobile ke dwara kayi log live sun rahe hai..

 

abhi aap hisar me satsang ka labh le rahe ho, vishw ke any deshon men jaise chin, jaapaan, rashiyaa, italy, amerika, poland,jarmani ke log hisar ke satsang ke jud kar apanaa bhaagy sarv saar may banaa rahe hai..singapur, pakisthan, nepal, oman, swidan, bangaladesh,denmaark ,austreliya, u. k.,canada, spen, sauth koriya, shri lanka, panama, morishas,nedarland, nyuziland, iraland, gris,chili, finiland, france, maleshiyaa,phiniland, tarki, ghana, turk and keks, dubaii, i-land, thaai land, kataar, saudi arab, kuwait, philipaains, yukren, slowakiyaa, afirca ke keniya, ganbiyaa, jorjiyaa, austreliya, ijipt, belaaras  slovaniyaa aadi deshon ke log bhi hisar ke satsang men sarv saar sun rahe hai..       

 

bapu ke diwaane jhuthlaaye nahi jaate

kadam rakhate aage to lautaaye nahi jaate

 

 

 

dubaii men har 12-15 aadami ke pichhe ek air condishan kamaraa hai masjid men , jis ka kharch sarakaar karati hai..durbhaagy hai desh ka ki hindu dharm ke sadhuon ko tuchchh najar se dekhane ki najariyaa kayi abhaage logon ki hai…ve officer dhanabhaagi hai jo satsang men jaane waale ki dekh bhaal men karane men, aur is daivi kaary men himmat kar ke saajhidaar hote hai…ve abhaagi adhikaari hai jo satsangiyon ko aur santon ko halaki najar se dekhate ..aise adhikaariyon ko klabon men sukh dhundhane jana padataa hai..lekin kayi I S adhikaari satsang men param sukh khoj kar apani 7-7 pidhiyon ka udhdaar kar lete hai..

 

paison ke liye kathinaayi sahe to koyi badi baat nahi..jamin jaaydaad, kursi athavaa waah waahi ke liye kathinaayi sahaa to koyi badi baat nahi..lekin bhagavatiy shaanti ke kathinaayi sahe to ye to badi bhaari  tapasyaa ho gayi!

hisaar waalon ko saar mil gayaa ki har hamesh sam rahenaa, sadaachaari rahenaa..prasann rahenaa, sanyami rahenaa..

mrutyu se daro nahi, daraao nahi..

dukhi ho nahi, dusare ka dukh ka kaaran mat bano..

aap bewkuf bano nahi, dusare ko bewkuf banaao nahi..

 

om om om pyaareji om, mere ji om om om om oooooooommmmmmmmmmmm

om om aanand..om om maadhury om om ..om om pyaareji..

apane om swarup antaraatmaa ko pyaar karate jaayiye..sharir ke mrutyu ke baad bhi jo hamaaraa saath nahi chhodataa us paramaatmaa men priti purvak vishranti paayiye..positive sanskaar aur aatmaa ki chetanaa ko jagaao…

 

ommmmmmmmmmmm aanand devaa..maadhury devaa…..prabhu devaa…raat ko  aisaa kar ke soyenge to 6ghante ki nind aap ki bhakti men badal jaayegi..subah uthate hi thoda aisa gunjan karenge to jeevan aap ka phul jaisaa ho jaayegaa…

 

bhakton ke Bhagavaan

gadi chali hai guru ke darbaar men

aisa sukh naa hai pure sansaar men

 

hari om hari om hari..

 

gaadi jogi ki anokhi sab se

jogi ko jodati hai ye ham se

kaisaa jaadu hai in ke pyaar men

gaadi chali hai guru ke darbaar men..

 

namah shivaay om namah shivaay

 

bhakton ka tirath dhaam yahi hai

jogi ke dwar saa sukh naa kahi hai

kar di rahemat hai is kartaar ne

gaadi chali hai guru ke darbaar men

 

shrikrishn govind hare muraari

hey naath narayan vasudevaa

 

बाल्यभावेन यो भाति ब्रम्हज्ञानी स उच्यते

jahaa bhi jaayen khushiyaan laaye

jogi ki upasthiti shaanti dilaaye

kar di rahemat hai is kartaar ne

gaadi chali hai guru ke darbaar men

 

hari om hari om hari om hari

hari om hari om hari om hari

 

sadaa hi mangal karate guruvar

lage hai pyara in ka ye dar

divya jyoti hai ye andhakaar men

gaadi chali hai guru ke darbaar men

 

har ram hare ram ram ram hare hare

hare krishna hare krishna krishna krishan hare hare

 

pyaar kare, upakaar kare ye

paar kare , udhdaar kare ye

kaisi taakad hai in ke aadhaar men

gaadi chali hai guru ke darbaar men..

 

hari om hari om hari om hari

hari om hari om hari om hari

 

is gaadi ki shaan niraali shobhaa is ki adbhut

najhare in pe tik jaati hai kho jaati hai sudh budh

gaadi jogi ki chali, sukh baatati chali..

aatam shaanti ye sab ko dilaate

jogi sab ko hi khushiyaa baatate..

 

hari om hari om hari om hari

hari om hari om hari om hari

 

 

aalhaadit huye bhakt ye saare

jogi se jaage bhaagy hamaare

kaisaa jaadu hai in ke pyaar men

gaadi chali hai guru ke darbaar men

 

namah shivaay om namah shivaay

 

 

koyi dukh nahi tikataa yahaa pe

aisaa sukh nahi pure jahaa men

kya najaaraa hai dekho is dwaar pe

gaadi chali hai guru ke darbaar men

 

shrikrishn govind hare muraari

hey naath narayan vasudevaa

 

in ki mahimaa varani naa jaaye

bad bhaagi ham yahaa jo aaye

niraakaar aaye hai saakaar men

gaadi chali hai guru ke darbaar men..

 

 

hari om hari om hari om hari

hari om hari om hari om hari

 

chaahe darshan kitane kare ham

phir bhi ham ko lagate hai kam

kaisaa jaadu hai in ke pyaar men

gaadi chali hai guru ke darbaar men..

 

 

guruwar bhakton ke bich hai aaye

saari khushiyaa sang le aaye

kaisi karunaa hai har upakaar men

gaadi chali hai guru ke darabaar men..

 

 

namah shivaay om namah shivaay

 

ham sab ko jogi ne sanwaaraa

heet karate hai sadaa hi hamaaraa

kar di rahemat hai is kartaar ne

gaadi chali hai guru ke darabaar me

 

hari om hari om hari om hari

hari om hari om hari om hari

 

gyaan ye jab se paayaa in kaa

mahekaa kona konaa dil kaa

kaisaa jaadu hai in ke pyaar men

gaadi chali hai guru ke darbaar men

 

hari om hari om hari om hari

hari om hari om hari om hari

 

 OM SHANTI.

SHRI SADGURUDEV JI BHAGAVAAN KI MAHAA JAY JAYKAAR HO!!!!!

Galatiyon ke liye Prabhuji kshamaa kare…

 ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ

प्यार करे, उपकार करे ये! पार करे , उध्दार करे ये !


हिसार(हरयाणा); 31जुलाई2011

हिसार वाले सार क्या है बोलो…

सार ये है की भगवान का आनंद, भगवान का माधुर्य  और भगवान की सत्ता चम् चम् चमके यही हिसार वालों के लिए सार है..
जीवन में 2 सार है : एक संतों का संग और दूसरा शब्द का रंग.
(बहोत सुन्दर ओमकार संकीर्तन हो रहा है..सभी भगवतिय आनंद में झूम रहे है..)
बिनु रघुवीर पद जीव की जरनी ना जाई..
जीवात्मा की तपन है ..जैसे तवा तपा रहेता है..जब तक उस पर शीतल जल भरा लोटा नहीं डालते तब तक तवे की तपन नहीं जाती ऐसे ओमकार स्वरुप ईश्वर की उपासना का मधुमय अमृत नहीं छिटकते तब तक चित्त में काम विकार की आग, क्रोध की आग, लोभ की आग, मोह की परेशानी जीवात्मा को तपाती रहेती है..
अगर आराम चाहे तू दे आराम खलकत को
सता कर गैर लोगों को मिलेगा कब अमन तुझ को
जो दूसरों को शोषित कर के सुखी रहेना चाहता है उसे बड़ी टेंशन और बड़े दुखो की आपदाएं सहेनी पड़ती है..
जो दूसरों की भलाई में अपनी भलाई की परवाह नहीं करता उस के महा भलाई के द्वार खुल जाते है..
एवरी एक्शन क्रिएट  रिएक्शन   
आप जो भी करते वो कई गुना हो कर आप के पास आता है..
इसीलिए कबीर जी कहेते है :-
कबीरा आप ठगायियो
और ना ठगियो कोई
आप ठगे सुख उपजे
और ठगे दुःख होई
 किसी से धोका कर के आप ने उस के 25-50 हजार या लाख छीन लिए..तो वो मरता तो  छोड़ के जाता..तो मरने के बाद छोड़ के जाने वाली चीज आप ने छिनी, लेकिन आप ने अपना ह्रदय खराब किया..आप मरने के बाद भी वो आदत और वो करम आप को तपाएगा..किसी का मैं  बुरा चाहू तो उस का बुरा हो ना हो, लेकिन मेरा ह्रदय तो अभी से ही बुरा होने लगेगा..बुरा करने में सफल भी हो गया तो अहंकार बढेगा..और दूसरों का बुरा करूंगा..अगर भला करने में सफल होता हूँ तो उस का तो बाहर का भला होगा, लेकिन मेरा तो  ह्रदय भला होता चला जाएगा..ऐसा भला होगा, ऐसा भला होगा की भला बढ़ते बढ़ते भगवान की व्यापकता और मेरे दिल की व्यापकता  एकाकार भी तो हो जाती है!
इसलिए भगवान के गुण अपने में आने दो..क्यों की आप का असली स्वरुप भगवान से मिलता है..नकली स्वरुप संसार से मिलता है..शरीर नकली स्वरुप है..पहेले नहीं था, बाद में नहीं रहेगा..बिच में दिख रहा है..स्वप्ना नकली होता है तो बिच में दीखता है न? ऐसे ही ये शरीर पहेले नहीं था, बाद में नहीं रहेगा…लेकिन शरीर के पहेले तुम थे…
बचपन चला गया तब भी तुम थे..जवानी बुढापे में कब बदली पता नहीं लेकिन उस को जानने वाले तुम हो! और ये शरीर मर जाएगा उस के बाद भी तुम रहेते हो..तो तुम हो सत  !
जो ‘सत’ है , वो चेतन भी है..हाथ को पता नहीं..हाथ चेतन नहीं, तुम्हारी चेतना से हाथ चेतन है..तो आप सत है, चेतन  भी है..और जो सत है चेतन है वो आनंद स्वरुप भी है..अपने आनंद स्वभाव को जगाओ तो संसार के सुख लोलुपता से आप बच जायेंगे..फिर आप जहां नजर डालेंगे वहा सुख लहेरायेगा..
ब्रम्हग्यानी महापुरुषों की जहा निगाहें पड़ती है वहा लोग सारी  सुविधाएं छोड़ कर धरती पर बैठ कर, भूक प्यास सहे कर भी उन के दर्शन से  चिन्मय आनंद पाते है..
ब्रम्हग्यानी की मत कौन बखाने
नानक ब्रम्हाग्यानी की गत मत ब्रम्हग्यानी जाने
ये आत्म विद्या है..
भौतिक विद्या ..अधि दैविक विद्या और आत्म विद्या..३ विद्या है ..
सा विद्या या विमुक्तये..
जो सारे दुखो से, सारी चिंताओं से, सारे पापों से, तापों से मुक्त कर दे उसे आत्म विद्या कहेते है..जितने अंश में आप ये आत्म विद्या आत्म सात करते है  उतने अंश में आप का शरीर का प्रभाव, दुखों का प्रभाव , विकारों का प्रभाव हलका फुलका हो जाएगा..
आप चाहते है क्या की हम दुखों के प्रभाव में दबे रहे? नहीं!
आप चाहते है क्या की हम विकारों के प्रभाव में दबे रहे? नहीं!
तो श्रीकृष्ण कहेते है की आओ! मेरे पास अध्यात्म बुध्दी ले लो!…अध्यात्म बुध्दी का नाम क्या है?
प्रसादे सर्व दुखानाम
हानि रस्योप जायते
प्रसन्न चेतसो यासु
बुध्दी पर्यवितिष्टते   
 उस आत्म प्रसाद से , ब्रम्हज्ञान के प्रसाद से सारे दुखों का अंत होता है..और आप की बुध्दी में परमात्म रस जगमगाता है..बुध्दी बलवान होती है तो मन को नियंत्रित रखती है..और मन इन्द्रियों को नियंत्रित रखता है..आप जानते हो गलत है फिर भी इन्द्रियों का प्रभाव मन को खींचता है..मन का प्रभाव बुध्दी को खींचता है और आप ना चाहते हुए भी गलतियाँ करते रहेते है..तो बाद में उस का फल भी भोगना पड़ता है..
अगर आप आत्म-विश्रांति का अभ्यास करे तो बुध्दी बलवान होगी..मन को नियंत्रित करेगी.. तो मन भी बलवान होगा..तो इन्द्रिया भी नियंत्रण में रहेंगी..आप की गाडी ठीक जगह पर चलेगी..आप तेजस्वी बनेंगे..बुरी जगह से अपने को रोकने में सफल हो जायेंगे..अच्छे लोगों का साथ सहयोग करने में आप बलवान हो जायेंगे..
तो रोज सुबह उठते समय जो नींद में से हमें जगाता है वो कौन है? कैसी कृपा है!
और रात को थके थकाए आप को अपनी नींद भरी गोद में ले जाता है वो कौन है?
पैसो से तुम एयर कंडीशन  कमरा बना सकते हो;  नींद तो उस की देन  है!
पैसो से तुम पकवान व्यंजन बना सकते हो;  भूक तो उस की देन है!
ऐसे ही दुनिया की चीजे ला कर तुम सुख के साधन जुटा सकते हो
लेकिन सुख और प्रसन्नता तो किसी संत और प्यारे प्रभु की देन है!
नहीं तो प्रसन्नता कहाँ मिलती है?
अगर अंतरात्मा में सुख होता तो क्लबों में क्यों जाते? काय को एक दुसरे की थूक  चाटते? काय को शराब पिते ? काय को गाय का मांस खाते और आत्मह्त्या करते?
क्लबों में सुख होता तो सारे क्लबी  सुखी हो जाते!
अगर सत्ता में सुख होता तो सारे सत्ताधीश सुखी होते! एलिज़ाबेथ बोलती    सारी सत्ता ले लो , एक घंटा  जीवित रखो तो मैं  प्रार्थना कर लूँ..पश्चाताप कर लूँ ..मरने के बाद कहा जाउंगी आई डोंट नो …
अरे! मरने के बाद क्या हम तो जीते जी हम जिस के है उस के साथ मिलेंगे!..
मरने के बाद यमदूत को डांट  के वापिस आ गयी और 39 साल जीवित रही ऐसी नानी का मैं धोता हूँ.. 
और सुबह दाई आ गयी थी लेकिन गरीबों में छास  बाटने की सेवा पूरी करनी थी तो घर के मंदिर में जा कर प्रार्थना की कि  अभी प्रसुती नहीं, सारी सेवा पूरी हो उस के बाद बालक का जन्म हो ..सेवा पूरी करने के बाद बापू को जन्म दिया ऐसी माँ का तो मैं बेटा हूँ! 
नीम के पेड़ को आज्ञा दिया की झुलेलाल वालों की और मस्जिद वालों की जहा असली हद है वहा जा कर खडा हो जा! तो नीम का पेड़ चला और जहा वास्तव में हद थी वहा  जा कर खडा हो गया!..तो मुस्लिम भी देख कर चरणों में आ गए की आप केशवराम के शिष्य साईं लीलाराम हो ,  अब आप साईं लीलाशाह हो!
ऐसी राम परम्परा  है हमारी..केशव राम ..लीलाराम.. आशाराम…तो मुस्लिम लोगों ने मस्जिद और झुलेलाल मंदिर की असली हद दिखाई तो बोले आप साईं लीलाशाह हो..
ऐसे नीम का पेड़ जिन की आज्ञा से चल पड़ता है ऐसे गुरू  का मैं  चेला हूँ! 
मौत को भी डरा  कर वापिस आती है ऐसी नानी का धोता  हूँ..
और तुम्हारे बापू को रोक कर सेवा कार्य पूरा करें ऐसी माँ का बेटा हूँ!
और पहेले 2 करोड़ शिष्य थे;  अभी अढाई- 3 गुना हो गए इतने करोड़ों का तो बापू हूँ!  ..अब बताओ जोगी रे क्या जादू है तुम्हारे प्यार में..  🙂 
 पुरे आकडे नहीं है लेकिन पहेले से कई गुना ज्यादा लोग हो गए है..अब हेलिकॉप्टर से एक दिन में 2-2 जगह जाना पड़ता ऐसे प्रोग्राम होते है….
ए  टू  झेड  चानेल द्वारा कई जगह पर लोग लाइव सत्संग देख रहे..केयर चानेल, डेन केबल , 7 स्टार केबल . हाथवे केबल , बन केबल , सन  केबल , शर्मा केबल ..साई केबल , जी टी पि  केबल .. द्वारा भी कई जगह लोग देख रहे है..एयरटेल और रिलायंस  मोबाइल के द्वारा कई लोग लाइव सत्संग सुन रहे है..
अभी आप हिसार में सत्संग का लाभ ले रहे हो, विश्व के अन्य  देशों में जैसे चीन, जापान, रशिया, इटली, अमेरिका, पोलैंड,जर्मनी के लोग हिसार के सत्संग के जुड़ कर अपना भाग्य सर्व सार मय बना रहे है..सिंगापूर, पाकिस्थान, नेपाल, ओमान, स्विडन, बंगलादेश,डेनमार्क ,ऑस्ट्रेलिया, यु के ,कनाडा, स्पेन, साऊथ कोरिया, श्री लंका, पनामा, मोरिशस, नेदरलैंड  , न्युज़ीलैंड, आयरलैंड , ग्रीस,चिली, फिनलैंड , फ्रांस, मलेशिया, टर्कि, घना, तुर्क एंड केक्स, दुबई, आई -लैंड, थाई लैंड, कतार, सौदी अरब, कुवैत, फिलिपैन्स, युक्रेन, स्लोवाकिया, आफ्रिका  के केनिया, गांबिया, जोर्जिया, ऑस्ट्रेलिया, इजिप्त, बेलारस  स्लोवानिया आदि देशों के लोग भी हिसार के सत्संग में सर्व सार सुन रहे है..       
बापू के दीवाने झुठलाये नहीं जाते !
कदम रखते आगे तो लौटाए नहीं जाते !!
दुबई में हर 12-15 आदमी के पीछे एक एयर कंडीशन कमरा है मस्जिद में , जिस का खर्च सरकार करती है..दुर्भाग्य है देश का की हिन्दू धर्म के साधुओं को तुच्छ नजर से देखने की नजरिया कई अभागे लोगों की है…वे ऑफिसर धनभागी है जो सत्संग में जाने वाले की देख भाल  करने में सहकारी होते है , और इस दैवी कार्य में हिम्मत कर के साझीदार होते है…वे अभागी अधिकारी है जो सत्संगियों को और संतों को हलकि नजर से देखते ..ऐसे अधिकारियों को क्लबों में सुख धुंडने जाना पड़ता है..लेकिन कई  आई एस  अधिकारी सत्संग में परम सुख खोज कर अपनी 7-7 पीढियों का उध्दार कर लेते है..
पैसों के लिए कठिनाई सहे तो कोई बड़ी बात नहीं..
जमीन  जायदाद, कुर्सी अथवा वाह वाही के लिए कठिनाई सहा तो कोई बड़ी बात नहीं..
लेकिन भगवतिय शांती  के लिए कठिनाई सहे तो ये तो बड़ी भारी  तपस्या हो गयी!
हिसार वालों को सार मिल गया की हर हमेश सम रहेना, सदाचारी रहेना..प्रसन्न रहेना, संयमी रहेना..
मृत्यु से डरो  नहीं, डराओ नहीं..
दुखी हो नहीं, दुसरे का दुःख का कारण मत बनो..
आप बेवकुफ बनो नहीं, दुसरे को बेवकुफ बनाओ नहीं..
ॐ ॐ ॐ प्यारेजी ॐ, मेरे जी ॐ ॐ ॐ ॐओ ——————–म्म्मम्म्म्मम्म  
ॐ ॐ आनंद..ॐ ॐ माधुर्य  ॐ ॐ ..ॐ ॐ प्यारेजी..
अपने ॐ स्वरुप अंतरात्मा को प्यार करते जाईये..शरीर के मृत्यु के बाद भी जो हमारा साथ नहीं छोड़ता उस परमात्मा में प्रीती पूर्वक विश्रांति पाईये..पोजिटीव्ह   संस्कार और आत्मा की चेतना को जगाओ…
ओ ——————–म्म्मम्म्म्मम्म   आनंद देवा..माधुर्य  देवा…..प्रभु देवा…रात को  ऐसा कर के सोयेंगे तो 6घंटे की नींद आप की भक्ति में बदल जायेगी..सुबह उठते ही थोडा ऐसा गुंजन करेंगे तो जीवन आप का फूल जैसा हो जाएगा…

भक्तों के भगवान


गाड़ी चली है गुरू के दरबार में
ऐसा सुख ना है पुरे संसार में
हरि  ॐ हरि ॐ हरि ॐ हरि ..
गाडी जोगी की अनोखी सब से
जोगी को जोड़ती  है ये हम से
कैसा जादू है इन के प्यार में
गाडी चली है गुरू के दरबार में..
नमः शिवाय ॐ नमः शिवाय

भक्तों का तीरथ धाम यही है
जोगी के द्वार सा सुख ना कही है
कर दी रहेमत है इस करतार ने
गाडी चली है गुरू के दरबार में
श्रीकृष्ण गोविन्द हरे मुरारी
हे नाथ नारायण वासुदेवा

बाल्यभावेन यो भाति ब्रम्हज्ञानी स उच्यते


जहा भी जाएँ खुशियाँ लाये
जोगी की उपस्थिति शांती दिलाये
कर दी रहेमत है इस करतार ने
गाडी चली है गुरू के दरबार में
हरि ॐ हरि ॐ हरि ॐ हरि
हरि ॐ हरि ॐ हरि ॐ हरि
 सदा ही मंगल करते गुरूवर
लगे है प्यारा इन का ये दर
दिव्य ज्योति है ये अन्धकार में
गाडी चली है गुरू के दरबार में
हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे
हरे कृष्ण हरे कृष्ण कृष्ण कृष्ण  हरे हरे

 प्यार करे, उपकार करे ये
पार करे , उध्दार करे ये
कैसी ताकद है इन के आधार में
गाडी चली है गुरू के दरबार में..
हरि ॐ हरि ॐ हरि ॐ हरि
हरि ॐ हरि ॐ हरि ॐ हरि
 
इस गाडी की शान निराली शोभा इस की अदभुत 
नजरें  इन पे टिक जाती है खो जाती है सुध बुध
गाडी जोगी की चली, सुख बाटती चली..
आतम शांती ये सब को दिलाते
जोगी सब को ही खुशिया बाटते..
हरि ॐ हरि ॐ हरि ॐ हरि
हरि ॐ हरि ॐ हरि ॐ हरि


आल्हादित हुए भक्त ये सारे
जोगी से जागे भाग्य हमारे
कैसा जादू है इन के प्यार में
गाडी चली है गुरू के दरबार में
नमः शिवाय ॐ नमः शिवाय

 कोई दुःख नहीं टिकता यहाँ पे
ऐसा सुख नहीं पुरे जहा में
क्या नजारा है देखो इस द्वार पे
गाडी चली है गुरू के दरबार में
श्रीकृष्ण गोविन्द हरे मुरारी
हे नाथ नारायण वासुदेवा

 इन की महिमा वरणी  ना जाए
बडभागी हम यहाँ जो आये
निराकार आये है साकार में
गाडी चली है गुरू के दरबार में..
हरि ॐ हरि ॐ हरि ॐ हरि
हरि ॐ हरि ॐ हरि ॐ हरि

चाहे दर्शन कितने करे हम
फिर भी हम को लगते है कम
कैसा जादू है इन के प्यार में
गाडी चली है गुरू के दरबार में..
हरि ॐ हरि ॐ हरि ॐ हरि
 
गुरूवर भक्तों के बिच है आये
सारी खुशिया संग ले आये
कैसी करूणा  है हर उपकार में
गाडी चली है गुरू के दरबार में..
नमः शिवाय ॐ नमः शिवाय

 हम सब को जोगी ने संवारा
हीत करते है सदा ही हमारा
कर दी रहेमत है इस करतार ने
गाडी चली है गुरू के दरबार में
हरि ॐ हरि ॐ हरि ॐ हरि

ज्ञान ये जब से पाया इन का
महेका कोना कोना दिल का
कैसा जादू है इन के प्यार में
गाडी चली है गुरू के दरबार में
हरि ॐ हरि ॐ हरि ॐ हरि
 

 ॐ शांती.

श्री सदगुरूदेव जी भगवान की महा जय जयकार हो!!!!!
गलतियों के लिए प्रभुजी क्षमा करे…
Advertisements
Explore posts in the same categories: Pujya Bapuji

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s


%d bloggers like this: