RAAJ VIDYAA!RAAJ GUHYAM..


 

SHRIGANGAANAGAR (Rajsthaan); 28July2011

इस पोस्ट को हिंदी में पढ़ने के लिए कृपया स्क्रोल डाउन कीजिये अथवा यहाँ पधारे : http://wp.me/pZCNm-nk 

chaityany mahaaprabhu gauraang bhakton ke saath kirtan karate karate nadi kinaare jaa nikale.. nadi kinaare ek dhobi hush hush karate huye kapade dho rahaa thaa…

gauraang ko kya sujhi ki dhobi ko bole hush hush kyaa karataa hai?..hari bol hari bol kar…

dhobi bola, baba tumhaare sath mai nachungaa to mere kapade kaun dhoyegaa?..roji roti kaun kargeaa?aap to baba logon ka thik hai hari bol hari bol…mai hari bol karungaa to meraa dhandaa kaun karegaa..

 

gauraang bole, teraa dhandaa to mai kar levu..tu hari bol..laao kapadaa…

gauraang mahaa prabhu kapadaa dhote-hush..aur dhobi bolataa hari bol..hush!–hari bol..hush!–hari bol…hush!—-hari bol.. hush hush karate karate dhobi ke saare paap hush ho gaye…dhobi ko to hari bol ka rang lag gayaa!..bolaa ab to baba aap ke saath hi rahungaa hari bol hari bol karungaa mai to..hari bol.. hari bol…

gaanv men khabar phaili ki dhobi to baawaraa ho gayaa..baba logon ke saath hari bol hari bol kar rahaa..dhobi ki patni bhi aa gayi..

boli..aie sammaa ke baap…

dhobi bole  ‘hari bol!’

dhobi ki patni boli.. ‘aie sammaa ke baap…’

dhobi bole  ‘hari bol!’

patni boli, ‘ye kyaa karate ho?’..dhobi ne jaraa haath lagayaa to patni bhi bol padi : hari bol!hari bol!hari bol!…

gaanv ke log bole baai vo to diwaanaa ho gayaa tum kyu aisaa karati ho..dusari baai ne dhobi ki patni ke hath pakad ke samjhaayaa..to  yvo baai bhi lag gayi hari bol hari bol karane….tisare bhai ne rokaa to vo bhi hari bol hari bol karane lag gayaa..

gaanv ke jo bhi un ko rokane aate vo hari bol hari bol ke kirtan men rang jaate..jaise sankraamak rog chhu ne waale ko lag jaataa aise 

ye heet kaari aur pavitra bhagavaan ke naam ki masti gaanv waalon ko jhumaa jhumaa ke aise pavitr kar diyaa ki itihaas bolataa ki vo dhobi dhanya rahaa hogaa jo sant ke darshan se hari bol karate huye saare gaanv ko pavitra kar diyaa!

 

hari kis ko bolate pataa hai? jo har jagah, har desh men, har kaal men, har vastu men , har paristhiti men jo parameshwar maujud hai usi ka naam hari hai…aur us ka smaran karane se paap taap shok dukh har liye jaate hai..kaisaa bhi bimaar aadami ho, us ko hari om ki saadhanaa de do..changaa hone lagegaa!bilkul pakki baat hai.. 🙂

aushadhi rog mitaane men samarth nahi hai..maano seer men dard hai to anosin liyaa..to seer ko thik karane ke badale anosin pure sharir men apanaa ku-prabhaav daalegaa..

 

hari———–ooo————mmmmmmm

 

durjano sajjano bhuryaat

sajjan shaanti maapnuyat

shaante muchyetbandhyebhyo

muktasch anyasy vimuktaye

 

ved bhagavaan praarthanaa sikhaa rahe ki durjan ke liye durbhaav naa rakho..durjan sajjan bane..sajjan sajjanataa ke aham men rukaa na rahe sajjan ko aatmshaanti mile..aur shaant ko bandhano se mukti ho..aur mukt anyo ko mukt kare…

 

 

aatm gyaan ek aisi vidyaa hai ki baaki saari vidyaaon ko 4 chaand lag jaate hai..is ko bolate hai bramh vidyaa!

dhyaan se sunanaa..3 prakaar ki vidyaaye hoti hai..ek hoti hai bhautik vidyaa..bahutik vidyaa men kullar banaane se lekar rocket banaanaa, lok lokaanatar men, antariksh men jana ye sab aihik bhautik vidyaa ke antaragt aataa hai..

dusari hoti hai adhidaivik vidyaa..adhidaivik vidyaa men vo bal hai ki aap yahaa baithe baithe lok lokaantar ke  laabh le sakate hai..purvajon ko athavaa aanewaale divyaatmaao ko bhi bulaa sakate hai..un se apane kul khaanadaan ko unnat kar sakate hai..bade bhaari dukh men bhi aap prasann rahe sakate hai..aur kangaalon ko aap amir banaa sakate hai..bhulon ko aap raah dikhaa sakate hai..haaron ko aap himmat de sakate hai..idhar udhar ki thokar khaane waalon ko aap samraat banaa sakate hai..ye adhi daivik vidya amen shakti hai..

 

aur tisari vidya hai adhyaatm vidyaa.. adhyaatm vidyaa to baap re baap!

adhyaatm vidyaa to  adhidaivik aur adhibhautik jahaa se chetanaa laata hai us ke saakshaatakaar ko adhyaatm vidyaa bolate hai..

vo adhyaatm vidyaa sab vidyaaon ki raajaa hai..is vidyaa ke baare men bhagavaan ne kahaa:

raaj vidyaa – ye vidyaaon men raja hai..

raaj guhyam – badi gopaniy hai..gopaniy to dakaiton ka kaam bhi gopaniy hotaa hai..swiss bank men paisaa rakhanewaalon kaa systim bhi gopaniy hotaa hai..gopaniy hone se kyaa badibaat ho gayi?

bhagavaan bole :

ye vidyaa  pavitr hai..is men chori chhupi nahi hai..

 

raaj vidyaa raaj guhyam

pavitram idam uttamam

 

bole pavitra hai, uttam bhi hai to kathin hogi..

 

bhagavaan bole nahi!ye vidyaa karane men sugam bhi hai..

 

to bole phal kaalaanatar men milegaa..

nahi! pratyaksh phal yahaa milegaa..

kewal us ki bhukh lagati hai bhaagyashaali ko…raaj vidyaa ki bhukh lag jaaye..aatm gyaan paane ki bhukh lag jaaye..to aap ke idhar ke rog shok dukh to aise bhaagenge ki jaise sher ki garjanaa se jangle se chhot mote praani bhaag jaate hai..athavaa suraj ke aane se andheraa bhaag jata hai..

 

raaj vidyaa ka ek namunaa suno..

 

raaj vidyaa kaheti hai ki tum chetan ho..amar ho..aatmaa ho..

aatmaa sat hai..tinon kaal men jo rahetaa hai us ko sat bolate hai..

tino kala men jo nahi hai us ko asat bolate hai..jaise sashe ke sing, manushy ke sing pahele nahi the, abhi nahi hai, baad men bhi nahi aayenge…to sat pahele bhi hai, abhi bhi hai aur baad men bhi sat hi rahetaa hai..jis ki sattaa tino kaal men badalati nahi us ko bolate hai sat…

satya aur sat men pharak samajh lenaa…

jaise ye gende ke phul jahaa hote wahaa se machchhar bhaag jaate..ye satya hai..sat nahi…2 aur 2 = 4 ye satya hai, sat nahi..

to sat ki sattaa tino kaal men abaadhit hai..

 

aur asat tino kaal men apratyaksh hai..tino kala men hotaa hi nahi hai…

 

mithyaa madhyakaalin hotaa hai, pahele nahi hotaa hai, baad men nahi hotaa hai..bich men kuchh samay ke liye dikhataa hai..jaise ye gajaraa kuchh samay pahele nahi thaa..ab dikh rahaa lekin kuchh samay baad aisa nahi rahegaa..73 saal pahele ye sharir nahi thaa..5-25 saal ke baad nahi rahegaa to ye sharir mithyaa hai..

dukh pahele nahi thaa..baad men nahi rahetaa to dukh mithyaa huaa..

sukh pahele nahi tha..baad men nahi rahetaa to sukh  mithyaa hai..

 

to mithyaa pahele nahi rahetaa aur baad men nahi rahetaa..

sat pahele hotaa hai..madhya men hotaa hai aur ant men bhi rahetaa hai..

aur asat pahel ebhi nahi, abhi bhi nahi aur baad men bhi nahi..

 

us raaj vidyaa ko samajhane ke liye ye sidhaant aap samajh lo…

 

to aap hai aatmaa- chaityany- aap hai sat…sharir hai mithyaa..

aap hai sat, dukh hai mithyaa..aap hai sat, bimaari hai mithyaa…

to tum sat swarup hote huye, chetan swarup hote huye, gyaan swarup hote huye mithyaa bimaari ko apane seer par odhane ki bewkufi ko  hataa do…

bimaar hotaa hai sharir aur bewkufi bolati hai mai bimaar hun..bimaari gaheri utaregi..

dukhi hotaa hai man, bewkufi bolati hai mai dukhi hun..chintaa hoti hai chitt men , bewkufi bolati hai mujhe chintaa hai..aap ka dukh, chintaa, bimaari gaheraa uatarataa hai isliye aap sat ki sharan jaayiye..sachche gyaan ki sharan lo..

jab bhi dukh aayaa to ye samajh lo ki ye dukh aayaa hai, is ke pahele mai tha, baad men bhi rahungaa..

bimaari aayi hai, is ke pahele mai tha, baad men rahungaa..

manushya ka kartyavy hai ki kisi bhi prakaar ka dukh aaye to usi ke anurup nishthaa se us dukh ko bhagaane ki taakad us men honi chaahiye!

 dukh men dab jaataa hai vo manushyataa ki upamaa nahi jaanataa..sukh men chhak jaataa hai vo manushyataa ki mahimaa nahi jaanataa..

ham aatmaa hai, hamen bhagavaan bhi nahi maar sakate..sharir to bhagavaan ne bhi nahi rakhaa to apanaa sharir praarabdh veg se jaayegaa..dukhad ghatanaa to baahar ghatati hai, dukh kaa bhaav bhitar aayaa..ab aap us dukh ke bhaav ko mahatv dete hai ki sat sang ko mahatv dete hai is ki mahimaa hai..

kaaton ko phulo men badalane ki kalaa sikh lo..

haar ko jeet men badalane ki kalaa sikh lo..

vair ko prit men badalane ki kalaa sikh lo..

dukh ko daataa ki bhakti men badalane ki kalaa sikh lo…

aur agar satguru hai kaamil to maut ko moksh men badalane ki kalaa sikh lo laalaa!

 

shrikrishn arjun ko kahete hai:

aagamo apaayino anityaanisch

 

ye jo dukh aate hai, vipadaaye aati hai, un ki koyi buniyaad gaheraa nahi hai..ye mithyaa hai..pahele nahi thi..baad men nahi rahegi..

 

dukh kitanaa bhi bhaari aaye, us samay bhaari hai..dhiraj rakho.

sukh kitanaa bhi aaye, us samay prabhaav dikhaataa hai, dhiraj rakho..sukh men kud mat pado..vo sukh tumhe noch degaa..dukh me dub mat jaao, vo dukh tumhe daboch degaa..

 

shrirkushn kahete hai:

sukham vaa yadi dukham sa yogi paramo matah

 

sukh aur dukh dono ka upyog kar ke apane saakshi swabhaav men- bramh vidyaa me aataa hai..mere mat men vo param yogi hai…shresthth yogi hai..

 

yog kayi prakaar ke hote hai..

aayurwed waale 2 vastuon ke mel ko yog bolate.

ganit waale 2 anko ke mel ko yog bolate.

patanjali chitt vrutti ke nirodh ko yog bolate.

dhyaan yog, lay yog, hath yog , bhakti yog, naadaanusandhaan yog ye maine bahot paapad bele hai..kayi kisam ki maine saadhanaa ki hai..isliye yahaa hindu, musalmaan, paarasi , isaayi sabhi aate hai..

 

dukh mitaane ke liye dusare ko dukhi mat karo..dusare par laanchhan mat lagaao..sukh ki ichchhaa mat karo..sukh aane se dukh dabataa hai, mitataa nahi hai..isliye sukh se dukh ko dabaao mat…dukh ko ukhaad ko phenk do ki dubaaraa tumhaare saamane dikhe hi nahi..dukh tum ko dekh kar pareshaan ho jaaye, bhaag jaaye.. 🙂

 

ye vidyaa hai raaj vidyaa!raaj guhyam…pavitram idam uttaamam..pratyaksha phal daatri hai..

ye vidyaa shrikrushn ne yudhd ke maidaan men arjun ko di thi..

aur hanumaan ji ne is hi vidyaa ke liye ram ji ki bin sharti sharanaagati li thi..

is hi vidyaa ke liye ashtaavakr muni ke charano men raja janak nat mastak huye the…12 saal ka guru ashtaavakr 80 saal ke raja janak shishy ko kahetaa hai, hey putr janak agar tu mukti chaahataa hai to vishay vikaaron ko vish ki naayi  tyaag de… aarjav kshamaa shauch aur satsang ki sudhaa din raat  paan kar…

manushy jeevan se agar satsang nikaal diyaa jaaye to mai kahungaa ki is se bail , gadhaa, ghodaa, kuttaa honaa achchhaa hai..kutte ko sale tax, income tax, bete beti ki shaadi ka tention nahi hotaa.. 🙂

 

chalo omkaar ki pratigyaa kare..

omkaar mantr..gaayatri chhand..paramaatmaa rishi…antarayaami devataa..antaryaami priti arthe ..jape viniyogaa…om om ..(2 minat hothon se, 2 minat kanth se, 2 minat hruday se jape..)

aaj raat puri ho jaaye, kal subah shukrawaar ko 3 bajakar 23 minat par aardr nakshatr shuru hotaa hai..aur 7 bajakar 54 minat tak chalegaa..us samay yah omkaar ka jap karoge to mai bahot aanandit ho jaaungaa…badaa bhaari sidhdi yog hai.. aaj raat ko 3 bajakar 23 minat par..kal subah 7 baj kar 54 minat tak hai..aardra nakshatra hai..dhyaan se sunanaa..ye nakshatra hai iishwar ko prasann karanewaalaa..iishwar ki shaktiyaan aap ke jeevan men jagaane waalaa..laakh kaam chhod kar aaj jaldi so jaanaa..aur karod kaam chhod kar subah 3 baje jag kar nahaa dhokar 3 bajakar 23 minat par aasan bichhaa kar baith jaanaa maalaa le kar..aur ye omkaar mantr ki pratigyaa ke saath jap kare..

abhi jo live telecast se sun rahe, A to Z ke dwara sun rahe,cabalon ke dwara , web site ke dwara , net ke dwara, mobile ke dwara jahaa jahaa bhi ye satsang jaa rahaa hai sabhi ne is nakshatr yog ka laabh uthaanaa hai.. ye aardr nakshatr yog kabhi kabhaar aataa hai..agar aap apane jeevan me lakshmi pati ka vaibhav jagaanaa chaahate ho to aaj raat ko jaldi so jaanaa aur kal subah jaldi jag jaanaa..is vishesh yog ka puraa laabh uthaanaa..

 

Om shaanti.

 

SHRI SADGURUDEV JI BHAGAVAAN KI MAHAA JAYJAYKAAR HO!

Galatiyon ke liye Prabhuji kshamaa kare…

ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ

राज विद्या!राज गुह्यं..

श्रीगंगानगर (राजस्थान); 28जुलाई2011

चैत्यन्य महाप्रभु गौरांग भक्तों के साथ कीर्तन करते करते नदी किनारे जा निकले.. नदी किनारे एक धोबी हुश हुश करते हुए कपडे धो रहा था…

गौरांग को क्या सूझी की धोबी को बोले हुश हुश क्या करता है?..हरि   बोल हरि बोल कर…

धोबी बोला, बाबा तुम्हारे साथ मैं  नाचूँगा तो मेरे कपडे कौन धोएगा?..रोजी रोटी कौन करेगा ?आप तो बाबा लोगों का ठीक है हरि बोल हरि बोल…मैं  हरि बोल करूंगा तो मेरा धंदा कौन करेगा..

 गौरांग बोले, तेरा धंदा तो मैं  कर लेवु..तू हरि बोल..लाओ कपड़ा…

गौरांग महा प्रभु कपड़ा धोते-हुश करते ..और धोबी बोलता हरि बोल..हुश!–हरि बोल..हुश!–हरि बोल…हुश!—-हरि बोल.. हुश हुश करते करते धोबी के सारे पाप हुश हो गए…धोबी को तो हरी बोल का रंग लग गया!..बोला अब तो बाबा आप के साथ ही रहूंगा हरि बोल हरि बोल करूंगा मैं  तो..हरि बोल.. हरि बोल…

गाँव में खबर फैली की धोबी तो बावरा हो गया..बाबा लोगों के साथ हरि बोल हरि बोल कर रहा..धोबी की पत्नी भी आ गयी..

बोली..ऐ  सम्मा के बाप…

धोबी बोले  ‘हरि बोल!’

धोबी की पत्नी बोली.. ‘ऐ  सम्मा के बाप…’

धोबी बोले  ‘हरि बोल!’

पत्नी बोली, ‘ये क्या करते हो?’..धोबी ने ज़रा हाथ लगाया तो पत्नी भी बोल पड़ी : हरि बोल!हरि बोल!हरि बोल!…

गाँव के लोग बोले बाई वो तो दीवाना हो गया तुम क्यों ऐसा करती हो..दूसरी बाई ने धोबी की पत्नी के हाथ पकड़ के समझाया..तो  वो बाई भी लग गयी हरि बोल हरि बोल करने….तीसरे भाई ने रोका तो वो भी हरि बोल हरि बोल करने लग गया..

गाँव के जो भी उन को रोकने आते वो हरि बोल हरि बोल के कीर्तन में रंग जाते..जैसे संक्रामक रोग छू ने वाले को लग जाता ऐसे ये हीत कारी और पवित्र भगवान के नाम की मस्ती गाँव वालों को झुमा झुमा के ऐसे पवित्र कर दिया की इतिहास बोलता की वो धोबी धन्य रहा होगा जो संत के दर्शन से हरी बोल करते हुए सारे गाँव को पवित्र कर दिया!

 

हरी किस को बोलते पता है? जो हर जगह, हर देश में, हर काल में, हर वस्तु में , हर परिस्थिति में जो परमेश्वर मौजूद है उसी का नाम हरि है…और उस का स्मरण करने से पाप ताप शोक दुःख हर लिए जाते है..कैसा भी बीमार आदमी हो, उस को हरि ॐ की साधना दे दो..चंगा होने लगेगा!बिलकुल पक्की बात है.. 

औषधि रोग मिटाने में समर्थ नहीं है..मानो सीर में दर्द है तो एनासिन  लिया..तो सीर को ठीक करने के बदले एनासिन पुरे शरीर में अपना कु-प्रभाव डालेगा..
हरि———–ओ ————म्म्मम्म्म्म

 
दुर्जनों सज्जनों भुर्यात
सज्जन शान्ति माप्नुयत
शान्ते मुच्येत्बंध्येभ्यो
मुक्तास्च अन्यस्य विमुक्तये
वेद  भगवान प्रार्थना सिखा रहे की दुर्जन के लिए दुर्भाव ना रखो..दुर्जन सज्जन बने..सज्जन सज्जनता के अहम् में रुका न रहे सज्जन को आत्मशान्ति मिले..और शांत को बंधनो से मुक्ति हो..और मुक्त अन्यो को मुक्त करे…

 

 

आत्म ज्ञान एक ऐसी विद्या है की बाकी सारी  विद्याओं को 4 चाँद लग जाते है..इस को बोलते है ब्रम्ह विद्या!

ध्यान से सुनना..3 प्रकार की विद्याये होती है..एक होती है भौतिक विद्या..बहुतिक विद्या में कुल्लड  बनाने से लेकर रोकेट  बनाना, लोक लोकांतर  में, अंतरिक्ष में जाना ये सब ऐहिक भौतिक विद्या के अन्तरगत आता है..

दूसरी होती है अधिदैविक विद्या..अधिदैविक विद्या में वो बल है की आप यहाँ बैठे बैठे लोक लोकांतर के  लाभ ले सकते है..पूर्वजों को अथवा आनेवाले दिव्यात्माओ को भी बुला सकते है..उन से अपने कुल खानदान को उन्नत कर सकते है..बड़े भारी दुःख में भी आप प्रसन्न रहे सकते है..और कंगालों को आप आमिर बना सकते है..भूलों को आप राह दिखा सकते है..हारों को आप हिम्मत दे सकते है..इधर उधर की ठोकर खाने वालों को आप सम्राट बना सकते है..ये अधि दैविक विद्या की  शक्ति है..

 और तीसरी विद्या है अध्यात्म विद्या.. अध्यात्म विद्या तो बाप रे बाप!
अध्यात्म विद्या तो  अधिदैविक और अधिभौतिक जहा से चेतना लाता है उस के साक्षातकार को अध्यात्म विद्या बोलते है..
वो अध्यात्म विद्या सब विद्याओं की राजा है..

इस विद्या के बारे में भगवान ने कहा:
राज विद्या – ये विद्याओं में राजा है..
राज गुह्यं – बड़ी गोपनीय है..गोपनीय तो डकैतों का काम भी गोपनीय होता है..स्विस बैंक में पैसा रखनेवालों का सिस्टिम भी गोपनीय होता है..गोपनीय होने से क्या बड़ी  बात हो गयी?
भगवान बोले :
ये विद्या  पवित्र है..इस में चोरी छुपी नहीं है..

राज विद्या राज गुह्यं
पवित्रं इदं उत्तमं

 बोले पवित्र है, उत्तम भी है तो कठिन होगी..
भगवान बोले – नहीं!ये विद्या करने में सुगम भी है..
तो बोले- फल कालान्तर  में मिलेगा..
बोले – नहीं! प्रत्यक्ष फल यहाँ मिलेगा..
केवल उस की भूख लगती है भाग्यशाली को…राज विद्या की भूख लग जाए..आत्म ज्ञान पाने की भूख लग जाए..तो आप के इधर के रोग शोक दुःख तो ऐसे भागेंगे की जैसे शेर की गर्जना से जंगले से छोट मोटे प्राणी भाग जाते है..अथवा सूरज के आने से अन्धेरा भाग जाता है..

 राज विद्या का एक नमूना सुनो..
राज विद्या कहेती है की तुम चेतन हो..अमर हो..आत्मा हो..
आत्मा सत  है..तीनों काल में जो रहेता है उस को सत  बोलते है..
तीनो काल  में जो नहीं है उस को असत बोलते है..जैसे सशे के सिंग, मनुष्य के सिंग पहेले नहीं थे, अभी नहीं है, बाद में भी नहीं आयेंगे…तो सत पहेले भी है, अभी भी है और बाद में भी सत ही रहेता है..जिस की सत्ता तीनो काल में बदलती नहीं उस को बोलते है सत…

सत्य और सत में फरक समझ लेना…
जैसे ये गेंदे के फूल जहा होते वहा से मच्छर भाग जाते..ये सत्य है, सत नहीं…2 और 2 = 4 ये सत्य है, सत नहीं..
तो सत की सत्ता तीनो काल में अबाधित है..
और असत तीनो काल में अप्रत्यक्ष है..तीनो काल  में होता ही नहीं है…
मिथ्या मध्यकालीन होता है, पहेले नहीं होता है, बाद में नहीं होता है..बिच में कुछ समय के लिए दीखता है..
जैसे ये गजरा कुछ समय पहेले नहीं था..अब दिख रहा लेकिन कुछ समय बाद ऐसा नहीं रहेगा..
73 साल पहेले ये शरीर नहीं था..5-25 साल के बाद नहीं रहेगा तो ये शरीर मिथ्या है..
दुःख पहेले नहीं था..बाद में नहीं रहेता तो दुःख मिथ्या हुआ..
सुख पहेले नहीं था..बाद में नहीं रहेता तो सुख  मिथ्या है..
तो मिथ्या पहेले नहीं रहेता और बाद में नहीं रहेता..

सत पहेले होता है..मध्य में होता है और अंत में भी रहेता है..
और असत पहेले  भी  नहीं, अभी भी नहीं और बाद में भी नहीं..

 उस राज विद्या को समझाने के लिए ये सिध्दांत  आप समझ लो…

 तो आप है आत्मा- चैत्यन्य- आप है सत…शरीर है मिथ्या..
आप है सत, दुःख है मिथ्या..आप है सत, बिमारी है मिथ्या…

तो तुम सत स्वरुप होते हुए, चेतन स्वरुप होते हुए, ज्ञान स्वरुप होते हुए मिथ्या बिमारी को अपने सीर पर ओढने की बेवकूफी को  हटा दो…
बीमार होता है शरीर और बेवकूफी बोलती है मैं  बीमार हूँ..बिमारी गहेरी उतरेगी..
दुखी होता है मन, बेवकूफी बोलती है मैं  दुखी हूँ..चिंता होती है चित्त में , बेवकूफी बोलती है मुझे चिंता है..आप का दुःख, चिंता, बिमारी गहेरा उतरता  है इसलिए आप सत की शरण जाईये..सच्चे ज्ञान की शरण लो..

जब भी दुःख आया तो ये समझ लो की ये दुःख आया है, इस के पहेले मैं  था, बाद में भी रहूंगा..
बिमारी आई है, इस के पहेले मैं  था, बाद में रहूंगा..
मनुष्य का कर्त्यव्य है की किसी भी प्रकार का दुःख आये तो उसी के अनुरूप निष्ठा से उस दुःख को भगाने की ताकद उस में होनी चाहिए!
जो दुःख में दब जाता है वो मनुष्यता की उपमा नहीं जानता..सुख में चहक जाता है वो मनुष्यता की महिमा नहीं जानता..

हम आत्मा है, हमें भगवान भी नहीं मार सकते..शरीर तो भगवान ने भी नहीं रखा तो अपना शरीर प्रारब्ध वेग से जाएगा..दुखद घटना तो बाहर घटती है, दुःख का भाव भीतर आया..अब आप उस दुःख के भाव को महत्त्व देते है की सत संग को महत्त्व देते है इस की महिमा है..

काटों को फूलो में बदलने की कला सिख लो..
हार को जीत में बदलने की कला सिख लो..
वैर को प्रीत में बदलने की कला सिख लो..
दुःख को दाता  की भक्ति में बदलने की कला सिख लो…
और अगर सतगुरू  है कामिल तो मौत को मोक्ष में बदलने की कला सिख लो लाला!

 

श्रीकृष्ण अर्जुन को कहेते है:
आगमो अपायिनो अनित्यानिस्च

 ये जो दुःख आते है, विपदाए आती है, उन की कोई बुनियाद गहेरा नहीं है..ये मिथ्या है..पहेले नहीं थी..बाद में नहीं रहेगी..
दुःख कितना भी भारी आये, उस समय भारी है..धीरज रखो.
सुख कितना भी आये, उस समय प्रभाव दिखाता है, धीरज रखो..सुख में कूद मत पडो ..वो सुख तुम्हे नोच देगा..दुःख में डूब मत जाओ, वो दुःख तुम्हे दबोच देगा..

 

श्रीकृष्ण  कहेते है:
सुखं वा यदि दुखम स योगी परमो मतः

 सुख और दुःख दोनों का उपयोग कर के अपने साक्षी स्वभाव में- ब्रम्ह विद्या में आता है..मेरे मत में वो परम योगी है…श्रेष्ठ  योगी है..

 

योग कई प्रकार के होते है..
आयुर्वेद वाले 2 वस्तुओं के मेल को योग बोलते.
गणित वाले 2 अंको के मेल को योग बोलते.
पतंजलि चित्त वृत्ति के निरोध को योग बोलते.
ध्यान योग, लय  योग, हठ  योग , भक्ति योग, नादानुसंधान योग ये मैंने बहोत पापड बेले है..कई किसम की मैंने साधना की है..इसलिए यहाँ हिन्दू, मुसलमान, पारसी , इसाई सभी आते है..

 दुःख मिटाने के लिए दुसरे को दुखी मत करो..दुसरे पर लांछन  मत लगाओ..सुख की इच्छा मत करो..सुख आने से दुःख दबता है, मिटता नहीं है..इसलिए सुख से दुःख को दबाओ  मत…दुःख को उखाड़ के  फ़ेंक दो की दुबारा तुम्हारे सामने दिखे ही नहीं..दुःख तुम को देख कर परेशान हो जाए, भाग जाए.. 

 ये विद्या है राज विद्या!राज गुह्यं…पवित्रं इदं उत्तमम..प्रत्यक्ष फल दात्री है..

ये विद्या श्रीकृष्ण ने युध्द के मैदान में अर्जुन को दी थी..
और हनुमान जी ने इस ही विद्या के लिए राम जी की बिन शर्ति शरणागति ली थी..
इस ही विद्या के लिए अष्टावक्र मुनि के चरणों में राजा जनक नत मस्तक हुए थे…12 साल का गुरू  अष्टावक्र 80 साल के राजा जनक शिष्य को कहेता है, हे पुत्र जनक अगर तू मुक्ति चाहता है तो विषय विकारों को विष की नाई  त्याग दे… आर्जव, क्षमा, शौच और सत्संग की सुधा दिन रात  पान कर…

मनुष्य जीवन से अगर सत्संग निकाल दिया जाए तो मैं  कहूंगा की इस से बैल , गधा, घोड़ा, कुत्ता होना अच्छा है..कुत्ते को सेल टैक्स, इन्कम टैक्स, बेटे बेटी की शादी का टेंशन  नहीं होता.. 🙂 

 
चलो ओमकार की प्रतिज्ञा करे..
ओमकार मन्त्र..गायत्री छंद..परमात्मा ऋषि…अंतरयामी देवता..अन्तर्यामी प्रीति  अर्थे ..जपे विनियोगा…ॐ ॐ ..(2 मिनट होठों से, 2 मिनट कंठ से, 2 मिनट ह्रदय से जपे..)

आज रात पूरी हो जाए, कल सुबह शुक्रवार को 3 बजाकर 23 मिनट पर आर्द्र नक्षत्र शुरू होता है..और 7 बजाकर 54 मिनट तक चलेगा..उस समय यह ओमकार का जप करोगे तो मैं  बहोत आनंदित हो जाउंगा…बड़ा भारी सिध्दी योग है.. आज रात को 3 बजकर 23 मिनट पर..कल सुबह 7 बज कर 54 मिनट तक है..आर्द्र नक्षत्र है..ध्यान से सुनना..ये नक्षत्र है ईश्वर को प्रसन्न करनेवाला..ईश्वर की शक्तियां आप के जीवन में जगाने वाला..लाख काम छोड़ कर आज जल्दी सो जाना..और करोड़ काम छोड़ कर सुबह 3 बजे जग कर नहा धोकर 3 बजाकर 23 मिनट पर आसन बिछा कर बैठ जाना माला ले कर..और ये ओमकार मन्त्र की प्रतिज्ञा के साथ जप करे..

अभी जो लाइव टेलेकास्ट से सुन रहे, ए  टू झेड   के द्वारा सुन रहे,केबलों के द्वारा , वेब साईट के द्वारा , नेट के द्वारा, मोबाइल के द्वारा जहा जहा भी ये सत्संग जा रहा है सभी ने इस नक्षत्र योग का लाभ उठाना है.. ये आर्द्र नक्षत्र योग कभी कभार आता है..अगर आप अपने जीवन में लक्ष्मी पति का वैभव जगाना चाहते हो तो आज रात को जल्दी सो जाना और कल सुबह जल्दी जग जाना..इस विशेष योग का पूरा लाभ उठाना..

 ॐ शांती .

श्री सदगुरूदेव जी भगवान की महा जयजयकार हो!
गलतियों के लिए प्रभुजी क्षमा करे…
Advertisements
Explore posts in the same categories: Pujya Bapuji

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s


%d bloggers like this: