har din parv hai, har pal utsav ! paayi hai asali khushiyaa….

 Churu( Rajsthaan) ; 25th July 2011

इस पोस्ट को हिंदी में पढ़ने के लिए कृपया यहाँ पधारे : http://wp.me/pZCNm-n6
अथवा स्क्रोल ड़ाऊन  करे .  

England ki rani elizaabeth doctoro ko bolati meri sari sampatti le lo, raajya le lo lekin mujhe ek ghante ke liye jivit karo..doctor nahi kar paaye, komaa me padi rahi lekin us ki koyi kimat nahi hoti..mar gayi bechaari laachaar ho kar..

 sikandar jaate jaate pidit ho gayaa..lukmaan hakim doctor saath men the..100 mil ki duri par mera vatan hai, wahaa pahunchaa do..mai apane vatan ke logon ko bataaungaa ki adhibhautik gyan aur adhibhautik loot, hire jawaaraat sampadaa paane ke baad bhi manushy ko aatm santosh nahi hotaa..pakwaan to paison se aa jaayenge..lekin bhuk to iishwar ki den hai..palang to paiso se aa jaayenge lekin nind to iishwar ki den hai..

aise hi adhyaatmikataa ke binaa, adhi daivik ke binaa antaraatmaa ka santosh sukh nahi hai..

vo bechaaraa sikandar 100 mil to kya 1 mil bhi tay nahi kar sakaa..raaste me hi mar gayaa.. aisi laachaari hoti hai ..adhibhautik sampadaa paane ke baad bhi dukh nahi mitataa, bhay nahi mitataa, chintaa nahi mitati..janam-maran nahi mitataa..

churu ke samiti ko 4 baar dhanywaad dungaa ki yahaa ke logon ko  adhidavik aur adhyaatm ka, 7-7 pidhiyon ko taaranewala satsang ka saubhaagy logon ko dilaya hai..

kayi bade bade log jinho ne jeevan bhar adhibhautik sanjoyaa lekin marate samay dukhi ho kar mar gaye..

pandit neharu achhe aadami the..marate samay kuchh din pahele paralise ho gayaa..aanand mayi maa- mai un ko jaanataa thaa, apane ashram men bhi aayi thi- un ko ve bhi jaanate the…neharu ji ne indiraa ko bhejaa ki jaao maataaji ko le aao..mataji aayi .. laachaar neharu uth ke khade honaa chaahate the sant ka swaagat karane lekin khade nahi ho sake..haath jodanaa chaahate the lekin paralise huaa tha..to adhi bhautik pad kitane bhi unche ho , adhibhautik pratishthaa kitani bhi unchi ho lekin adhibhautik sharir aur adhi bhautik sampadaa aur daulat jivaatmaa ke saare dukh nahi har sakati..bilkul pakki baat hai..

adhibhautik ho, lekin us ke saath adhi daivik shaktiyaan ho…adhi daivik gyaan aap ke man ko divya banaataa hai aur budhdi ko divya banaataa hai aur divya logon se divya aatmaao se sambandh bhi jod sakate ho..sambandh jude naa jude lekin aap ke jeevan me thodi divyataa aa jaati hai..

jaise mere naani ke jeevan me divyataa aayi….jyada padhi likhi nahi thi..sattaa nahi thi..dehaati mahilaa thi meri naani- meri maa ki maa..

meri maa ki maa mar gayi..samshaan men le gaye..aur wahaa karavat hilaayi ..rassi kholi..gayi to kandhe pe thi, jindi hokar paidal chal ke aayi !agar mai jhuth bolu to tum sab maro! 🙂 lekin jaanch karanaa jhuthi baat ho tab naa..39 saal meri naani jivit rahi..puchhaa gayaa ki kyaa huaa tha?..marate samay elizabeth jaisi, sikandar jaisi pidaa huyi?..boli kuchh bhi nahi! 🙂 kyo ki un ke paas adhi daivik guru mantr tha !

naani boli, äisaa koyi sunn saa huaa..phir maine dekhaa ki ye yamadut hai..yahaa to paapiyon ki jagah hai..

to maine bolaa ki, “mai to paapi nahi hun, mere paas to guru mantr hai..mere ko idhar kaise laaye?”

yamdut bole, “tumhara naam hemibai hai naa?”

nani boli, “hemibaai to hamaare shaher men bahot hai, jaise kamalaa naam bahot hote aise..to kaun si kamalaa?kaun si hemibaai? aage kaa naam lo to pataa chale..”

yamdut bole, “Hemibaai Pohumal!”

“nahi nahi nahi…ham vo nahi hai!hamaare pati kaa naam dusaraa hai..”  naani ne yamduto ko bola..

yamduton ne puchhaa, “to kyaa naam hai?prahlaad?”

“nahi!”

“purushottam?”

“nahi!”

“to kyaa hai?”

“p pe hai , lekin ye nahi hai..”

“to baai bol de naa..”

naani boli, “ham apane pati kaa naam nahi lete..tum bolate jaa naa..hemibaai phalaanaa..phalaanaa..”

yamdut bole, “premkumaar?”

nani boli, “thahero!..aage kaa naam to rakho..kumaar ki jagah par chand lagaao to!”

bole, “premchand!”

nani boli, “haa!..teraa bhalaa ho!”

yamaraaj ne yamduton ko daataa ki ‘arre murkho..hemibaai premchand ko le aaye ho hemibaai pohumal ke badale ..jaao waapis chhod ke aao!..”

naani 39 saal jee..naa sikandar jaisi pidaa, naa elizabeth jaisi pidaa..na bade bade sattaadhisho jaisi pidaa..kyo ki adhidaivik gyaan hai..guru mantr hai..guru mantr se adhi daivik shaktiyaan jaagrut raheti hai..nani yamduton ko daant kar waapis aayi!..

sikh dharam ke aadi guru kahete hai :

bramhgyaani sang dharmraaj kare sewaa…

aatm vetta guru mil gayaa, dikshaa mil gayaa to yamraaj to sewaa karate !adhibhautik gyaan se yamraaj sewaa nahi karegaa..

adhi bhautik gyaan kitanaa bhi mil jaaye , sukh-shanti ke liye waaiin ki jarurat padati hai…klabon ki jarurat padati..swaasthy ke liye tonikon ki jarurat padati…gyaan ke liye kitaabon aur pothon ki jarurat padati hai.. prasannataa ke liye naach gaan aur na jaane kya kyaa karane ki jarurat padati hai bade logon ko..

lekin jis ke jeevan men adhi daivik gyaan hai unhe sharaab ki jarurat nahi padati…vo apane aap men khush rahete hai..jaam par jaam pine se kyaa phaayadaa?..

 

jo chaay pite, coffi pite vo nistej ho jaate hai..kidany kharaab, paachan tantr kharaab, dhaatu kharaab..chaay coffi me 10 prakaar ke jaher hote hai..tenin, thin jo seer ko bhaari kar detaa hai..caffin paya gayaa jo Oj aur kidany ko kamjor karataa hai…voltaaiil jaher jo aanton ko kamjor karataa hai..kaarbolik acid jo acidity karataa hai..  paachan tantr aur man , budhdi kamjor karanewala aromolik jaher chaay coffi me hotaa hai..  synojan a-nidraa aur lakavaa detaa hai..rakt vikaar aur napunsakataa denewaale jaher bhi chaay coffi men paaye hai..isliye mai haath jodataa hun ki chaay aur coffi door se tyaago..

raat ko der se bhojan karate vo mote ho jaate..

Je Morgan vigyaani ne amerika me kayi centar khole aur kahaa ki omkaar therapy se kayi bimaariyaa mit jaati..omkaar mantr se  jigar, seer aur pet ki nirogataa raheti hai..us ne karodo rupaye kamaaye.. mai je morgan ko shaabaas to detaa hun ..lekin ye to kewal ek shlok bhar ki mahima hai..omkaar mantr ki mahimaa ke 22hajaar shlok hai..omkaar mantr se kewal sharir ki bimaariyaa mitati aisa nahi, omkaar mantr se adhi daivik shaktiyaa jagati hai, adhyaatmik shaktiyaa jagati hai..7 janamon ki daridrataa bhi mitati hai..aur bhagavaan ko jis rup men chaaho us rup men bhagavan ko pragat karane ki shaktiyaa aati hai….

omkaar ke mantr jap men vo taakad hai..

agar aap 5 minat omkaar ka jap karate ho to aap ke 72 karod 72 laakh 10 hajaar 201 naadiyon men saatvik Aoraa ka sanchaar hotaa hai..duniyaa ki koyi aushadh itani powerful nahi hai..jin ke paas  adhyaatmik gyaan nahi hai vo swasth rahene ke liye davaayiyon ki gulaami kar kar ke bhi bimaar rahete hai…khushi ke liye klabon me jaane ke baad bhi dukhi rahete hai aur gyaan ke liye pothe rat rat ke bhi gadbad karate hai..

jin ke paas adhi daivik gyaan hai vo aise hi bolate chale jaate aur satsang ho jaataa hai! 🙂

 

guruji tum tasalli naa do sirf baithe hi raho

mahefil ka rang badal jaayegaa

girataa huaa dil bhi sambhal jaayegaa..

aisi adhyaatmik gyaan ki mahimaa hai ! adhibhautik gyaan us ke aage bahut baunaa ho jata hai..

adhyaatm gyaan ki aap 10 minat bhi yaatraa kare to aap ka bhautik gyaan aur adhi daivik gyaan dono chamakegaa…

agar adhyaatmik gyaan se munh mod kar bhautik gyaan ke pichhe lagate hai bade pachhataate hai..

merath ka rup narayan jaisa bhautik degreeyaa wala vidwaan is samay bhaarat me shaayad hi ho..lekin itani degriyon ke baad bhi dukh nahi mitaa, vo mera chela ban gayaa..

adhibhautik kitanaa bhi mil jaaye, makaan dukaan mil jaaye, pad pratistha waah waahi mil jaaye..lekin adhyatm aur adhi daivik ke bina aadami ka dukhad awasthaa se chhutakaaraa nahi hotaa…

 

marate samay 4 dukh sataate hai..

1) shaaririk pida

2) maansik tapan ..kisi se bura saluk kiyaa hai to vo paap tapaataa hai.

3)aasakti ki pida- jahaa attaichment hai wahaa atakegaa..dhan daulat, bete ka kya hoga?beti ka kya hoga? pota aur poti ka kya hogaa aisaa chintan kar ke marate to wo hi dada dadi marane ke baad kutta ktti ban ke pota poti ke ird gird punchh hila rahe hai..

4) marane ke baad kahaa jaayenge koyi pataa nahi, isliye laachar ho ke marate.

to sharirik pida, maanasik tapan, aasakti ki pidaa aur marane ke baad kahaan jaayenge ye 4 pidaayen jeete jee  kuchal daalane ke liye manushy jeevan milaa hai..ye bhautik-taa se nahi kuchal sakate ho..us ke liye adhi daivik shakti chaahiye.. adhyatmik guru ki dikshaa chaahiye..

jodon ka dard hai to 100 gram til mixi men pis lo..us me 20 gram sauth ka powder milaa do..roj subah 5 graam gungune pani ke saath phaank lo to jodon ke dard me aaraam ho jaayegaa.

diabitis hai to adha kilo karele le lo..chhote chhote tukade kar ke tasale me daalo… subah subah khali pet ek ghante tak us ko pairon tale khade ho kar  kuchalo… ek ghantaa kuchalo to munh kadavaa ho jaayegaa..diabitis sadaa ke liye chali jaayegi..7 din men phaydaa ho jaayegaa, lekin aap 10 din karo..methi daane mixi men pis ke rakh do..15 se 50 gram meth daane rata ko bhigaa do..subah us ko aise hi piyo , yaa sabji men daal ke khaao, roti men daal ke khaao..7 din me ye khaao aur karele ko kuchalo to diabitis sadaa ke liye mit jaayegi..insulin ki injection bhokavaate to bhi diabitis nahi mitati..ye prayog karane waalon ke insulin bhi chhut jaate hai..

mere shishy ko heart ataaik kabhi naa ho, by paas sarjari kabhi nahi karaanaa hai..operation nahi karaanaa hai..high bP nahi, low BP nahi..mere paas aisi yukti aur mantr hai..piliyaa (jaundis) nahi hogaa..liver ki bimaari nahi hogi..hogi to ek din me thik hotaa aisa mantr bhi detaa hun..

aaj kal baaiiyon ko doctor daraa dete ki garbh ka kidany kharaab hai, aankh kharaab hai, 2 sir wala bachchaa hai..na jaane kya kya bol ke un ko garbhapaat karaane ko prerit kar dete ..kamishan khaane ke liye athavaa hinduno ki santaan kam ho , hamaarewaale aa kar yahaa ki vote bank badhaaye ye saajish chal rahi hai..

to kabhi bhi aisi nars aur doctoron ki baaten nahi maananaa..

bachchaa kamjor hai to 1 glaas dudh + aadhaa glaas paani ubaalo..pani sukh jaaye – samajho 300 gram dudh hai, 200 gram paani daal diyaa to ubaal ke 310 gram hone par utaar lo..us me 1 chammach ghee daal ke garbhini ko pilaa do..bachchaa sundar goraa hogaa.. aur pusht bhi hogaa..garbhini ki prasuti bhi aaraam se hogi..

kaay ko pet chiraawe?sijeriyan nahi karaanaa doctor kitanaa bhi daraaye..kuchh nahi hogaa..desi gaay ke gobar ka ras 10-12 graam nikaal ke us me 21 baar bhagavan ka naam jap kar ke garbhini ko pilaa do..bachchaa bhi jivit aur maa bhi jivit raheti..darane ki baat nahi ..

ghar men jhagade ho to ghar ki mukhya vyakti -chaahe dadi maa ho yaa jo sab se badaa ho- us ke palang ke niche ek lota pani bhar ke rakhe, subah us pani ko tulasi, pipal athavaa kisi bhi ped ko daale jahaa kisi ke pairon tale nahi aawe.. ghar ke log rasoyi ghar me bhagavaan ka kirtan kar ke khana khaaye to ghar ke jhagade mit jaayenge…

pahele sabhi khadaa namak khaate, hamaare baap dada sabhi lmabi umar tak jivit rahe ham bhi jivit hai..aaj kal aayodin aayodin ka hauwaa phailaa ke rakhaa hai aur 8 rupiye kilo namak dekar loot machaa rakhi hai..

khadaa namak jo 1.50 rupiye kilo milataa us ka khara pani banaa ke us ka ghar men potaa karo to ghar ki nigetiv enargy chali jaayegi..rin aayan banenge..dhan urjaa banegi..

ghar men koyi rog aur bimaariyaan raheti ho aasopaal ke patte aur neem ke patte ka toran banaa ke ghar ke darawaaje pe lagaa do..sab ka swaasthy achhaa rahegaa..

guru jab daantate to samajh lenaa chaahiye ki guru ne ham ko apanaa maanaa hai!

durjan ki karunaa buri

bhalo saaii ko traas..

suraj jab garami karen

tab barasan ki aas !

mere guruji mujhe daatate nahi, apanaa maanate nahi to mai to tapasyaa kar kar ke mar jaataa phir bhi bhagavaan nahi milate..guru ki daant se to aisaa meraa vikaas huaa ki mauj hi mauj ho gayi!

 

miraa baai ke jeevan men adhi daivik aur adhyaatmikataa ka mahatv thaa..vikram rana adhi bhautik ke nashe men chakanaachur thaa..udaa ne shuru shuru men miraa ko dushman maan kar miraa ki nindaa ki thi..lekin baad men udaa apani dushkruti se paschaataap ki aagni men shudhd huaa..vikram rana ne , miraa baai ke saasu ne jaher ka pyala diyaa , saap bhejaa duniyaa jaanati hai…jaher ka pyala amrit ho gayaa, saap navalakhaa haar ho gayaa ye adhi daivik jagat ki shakti hai..

lekin rana vahaa rukaa nahi..rana ek baadhil ko (shakil) taiyyar kiyaa ki miraa so rahi ho tab talawaar se us ka galaa kaat ke aa jaa…tere munh men gheee shakkar dungaa, jitani asharfiyaan hire mangegaa, dungaa…kyo ki miraa apane guru ke paas jaati aur guru hai chamaar jaati ke..hamaari nindaa hoti hai…raajy par kalank lag rahaa hai..meeraa mewaad ke liye kalank hai..

adhi bhautik jagat ko sachchaa maan kar adhi daivik aur adhyaatmik jagat ki awahelanaa karanewale rana ki budhdi bhrasht ho gayi thi..apani bhaabhi ko marawaane ke liye badhik ko bhejaa..

aur badhik ne paiso ke laalach men khuli talawaar soti huyi miraa ko de maari…talawaar aar-paar ho jaaye miraa mare hi nahi!..dekhe to talawaar to puri upar se gayi niche aa gayi, lekin khun dikhataa nahi!..badhik kaampataa huaa daudaa aur talwaar rana ke pairon men phenk di ki mahaaraaj maaph karanaa! miraabaaii ki adhi daivik shakti aur adhyaatmik shakti paraakaasthaa ki hai..mai paapi paiso ki laalach men us ko maarane ke liye gayaa..lekin paise saath nahi chalenge; apanaa buraa karm sath men chalegaa….

mira baai ko pataa chalaa ki meri hatyaa karane ke liye badhik ko bhejaa aur bhagavaan ne aisi rakshaa ki ki mere sharir se talawaare aar-paar huyi lekin meraa kuchh nahi bigadaa…ab aise waataavaran men rahenaa thik nahi..kabhi jaher ka pyaalaa, kabhi saap to kabhi shikaari aa kar mere upar talawaar chalaaye …ye thik nahi..

miraa baai ne tulasidaas gosaaii ji ko chiththi likhaa ki ghar men rah e ke bhajan karanaa mere liye mushkil ho rahaa hai…aisaa aisaa jeth ji karate..

Tulasidaas ji ne kaashi se  uttar likhaa miraa baai ko :-

jaa ke priya naa raam videhi

tajiye koti vairin sam, yadyapi param snehi

jis ko bhagavan pyara nahi , adhi daivik- adhyaatmik pyara nahi..khaali bhautik waadi hai aise ka tyaag kar do ..aisa vyakti badaa priy ho lekin karodo vairi ke samaan samajh kar us ka tyaag kar do..

jis ki aankh phuti us ko anjan kahaan? jo adhi bhautik men andha aho gayaa us ko gyaan aur satsang ka anjan kya lagegaa? abhaagaa aadami satsang men aa nahi sakataa..aaye to us ke kuchh punya hai, lekin us ke paap  us ko baithane nahi denge.. aisa aadami satsang men baith gayaa to us ke paap us ko uthaa ke le jaayenge..himmat kar ke baithaa to us ke paap bhaag jaayenge aur vo paapi dharmaatmaa ban jaayegaa aisa adhyaatm jagat ka prabhaav hai..

miraa ne mewaad tyaagane ka nirnay kiyaa aur brindaawan men gayi..

mewaad me akaal padane lagaa..mewaad par mughal kaher barasaane lage..gharon men jhagade, bimaariyaa aur ashaanti hone lagi…

jahaan bhagavaan ke bhakt ko sataayaa jaataa hai, bhagavaan ka bhakt jahaa ghar chhod ke chalaa jaataa hai wahaa musibaten aati hai..musibaton se ghiraa vikram rana bhay bhit ho gayaa tab braamhanon ko bulaayaa..braamhanon ne kahaa : 

jahaa sumati wahaa sampatti nana

jahaa  adhi daivik hai, adhyaatm hai wahaa sampadaa aati hai..jahaa un ko sataayaa jaataa hai wahaa vipadaa aati hai..kaise bhi kar ke miraa ko bulaayaa jaay..

ek vrudhd braamhan ko kuchh anuchar sath dekar vikram rana ne miraa ko waapis bulaane ke liye prayaas kiyaa..vrudhd braamhan ne jaanch karavaayi to mira baaii brindaawan chhodakar dwaarikaa jaa basi thi..aur chaityany mahaa prabhu ke sampradaay ki vaishnavi dikshaa se dikshit ho gayi thi…

vrudhd braamhan ne kahaa ki, miraa tum mewaad men thi tab tak tum ko sataate the, tumhaari kadar nahi thi..lekin tum chali gayi to waha akala pad  rahaa hai…bimaari aa rahi, anaavrushti ho rahi..vikram rana bahut dukhi hai..waha aki gaaye bachhade bail jeev jantu sab dukhi hai ..miraa tum ne mewaad ka tyaag kiyaa , to bhagavan ne bhi mewaad ka tyaag kiyaa.. jo bhagavaan ke bhakton ko sataate un ki durdashaa hoti hai miraa..

miraa baaii ka hruday pasijaa..miraa baaii ke aankhon men logon ke mangal ke aasu the…lekin hruday men vikram rana ka vyavahaar bhi yaad aataa tha..

mai to un logon ko dhanbhaagi maanataa hun jo bhagavaan ke bhakt ki sewaa karate, sant ka  satsang sunate..

 

  parali baijanaath maharaashtr me hai..wahaa ek ‘bhagavaan ka bhakt’ rahetaa thaa..

us ka naam tha jagan mitra..wahaa thanedaar ko darogaa bolate..ek badamaash darogaa sant jagan mitra ko aur us ke pariwaar ko sataataa tha..kisi gaanv waale ne jamin di hai, us ne apana amakaan baandhaa hai chhotasa aur bhagavan ka bhajan karataa hai…daroga ane dekha aki ye mere raaste ke kata hai..meri beti ki shaadi honewali hai, baratai aayenge..ye chhotasa jhopadewala yahaa?..mai us ka jhopadaa nilaam kar dungaa..mai us ko barbaad kar dungaa… gaanv waalon ne kahaa darogaa saab ham tum ko haath jodate, ye bhagavaan ka bhakt hai is ko aap naa sataaye to achhaa hai..

darogaa bola, arre vo bhagavaan ka bhakt hai to ham bhi devi ke bhakt hai! ham naastik nahi hai..agar ye bhakt sachchaa hai to devi ke sher ko bulaa ke dikhaaye.. sher is ko kaate nahi khaaye nahi to mai maanungaa..nahi to mai is ka jhopadaa hatavaa dungaa..nilaam kar dungaa is ko..

jagan mitr ko logon ne sunaayaa ki ye sarakri pulice sarkaari nokari ke bal se aap ko tabaah karanaa chahaataa hai ..is ke paas adhi bhautik bal hai ..

jagan mitra ne kaha ais ka adhi bhautik bal is ke paas rahe , mere paas adhi daivik bal hai..mere paas adhyaatmik bal ki krupaa hai..ye mujhe kuchale mujhe jail men bheje  meraa jhopadaa nilaam karaa de us ke pahele mai jata hun , mere thaakur ji ko bulaa lata hun..

jagan mitr jangal men gaye..prarthanaa kiye…govind hare, gopaal hare…tu bhakt ki laaj rakhane ke liye nirakar saakaar bhi ho sakataa hai..prabhu prabhu prabhu..pukarane lagaa..dahaadataa huaa sher kahaa se pragat huaa koyi soch nahi sakataa…dahaadataa huaa shere babbar jagan mitr ke paas aayaa!

jagan mitr ne kahaa, sher ke rup men padhaare ho prabhu..sinh ke rup men padhaare..rassi thi ..gale men baandh di..bole , prabhu chaliye mere sath…jaise paali huyi bakari ko koyi laaye aise sher ko khinch ke laa rahe hai..gaanv ko charo taraf diwaare hoti aur darawaaje hote..dwaarpaal ghabaraayaa ..darawaajaa samay se pahele hi band kar diyaa..darawaja ratri ko band hotaa tha, sandhyaa ke samay hi band kar diyaa..jagan mitr ne kahaa , prabhuji vo darawaajaa band kar baithe hai!vo darogaa ko kaise miloge aap?..prabhuji ne  panjaa mara to  darawaajaa gir padaa..jagan mitra  aur sher nagar me pravisht huye..

arre aisaa sher aur jagan mitra ke haath me aisaa chale ki jaise bakari…sab log gharon men chhup gaye..chhaton se dekhe..aur ye jagan mitra bhakt sher ko le jaa rahaa hai..jaate jaate darogaa ke pados men pahunchaa.. darogaa ne dekhaa ki ye to sher ko aise lekar aa rahaa hai..mai kymunh dikhaaun?..darogaa andar kamare men chhup gayaa..us ke baal bachche bhi chhup gaye aakhari kamare men..darawaajaa band kar diyaa..

jagan mitra bolate, prabhuji is ne to aap ka darshan hi nahi kiyaa..vo sher rupi prabhuji ne panjaa maaraa chaukhat baahar ! darogaa saab ko bolaa, tum bole sher laa ke dikhaao to dekh lo..darogaa saab phut phut ke rote huye baahar aaye…maine adhi daivik aur adhyaatmik shakti ka apamaan kiyaa ..mujhe pataa nahi thaa…aap jaise bhakt ko sataane se bhagavaan naaraaj hote mujhe pataa nahi thaa…mahaaraaj mujhe maaph kar do…

sant sataaye tino jaaye tej bal aur vansh

aise aise kayi dekh lo raawan kaurav jaise kans

sant ko sataane se tabaahi hoti hai to sant ke darshan satsang se aabaadi bhi to hoti hai, bedaa paar bhi to hotaa hai!

maine mere santo ko rijhaayaa to meraa bedaa paar huaa..jinho ne bhi santo ka darshan kiya, santon ko rijhaayaa unhe aatm shaanti mili..adhi daivik shanti mili, adhyaatmik shaanti mili..adhi bhautik jagat bhi unhen sukh daayi huaa..

jo adhyatmikataa ka tiraskaar kar ke adhi bhautik jagat men pragati karanaa chaahate hai, adhi bhautik jagat un ko daboch detaa hai..dukhi karataa hai..haart ataaik karaa ke kuchal kuchal ke maar detaa hai..

lekin jo adhyaatmik shakti adhi daivik shakti ka aashray lete us ke liye adhi bhautik jagat sukh rup ho jata hai..

adhyaatmikataa ki khabar denewala ye photo hai..saap ko maine uthaayaa aur saap kitanaa prem se mere najadik aayaa hai!

bhakton ke Bhagavaan ...

gyaan jogi ka jab se paayaa badali hamaari duniyaa

har din parv hai, har pal utsav paayi hai asali khushiyaa

jogi re kyaa jadu hai tumhare gyaan men..

chaar chaand lag jaaye wahaa jahaa jogi ke darshan hote..

badh jaati raunak aur khushiyaan jahaa kadam ye rakhate..

jogi re…

OM SHAANTI.

SHRI SADGURUDEV JI BHAGAVAAN KI MAHAA JAY JAYKAAR HO!!!!!

Galatiyon ke liye Prabhuji kshamaa kare….

ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ

हर दिन पर्व है, हर पल उत्सव ! पायी है असली खुशियां ….


 चुरू( राजस्थान) ; 25 जुलाई 2011

इंग्लैंड की रानी एलिजाबेथ डॉक्टरों   को बोलती मेरी सारी  संपत्ति ले लो, राज्य ले लो लेकिन मुझे एक घंटे के लिए जीवित करो..डॉक्टर नहीं कर पाए… कोमा में पड़ी रही लेकिन उस की कोई कीमत नहीं होती..मर गयी बेचारी लाचार हो कर..

 सिकंदर जाते जाते पीड़ित हो गया..लुकमान हकिम डॉक्टर साथ में थे.. बोला 100 मिल की दुरी पर मेरा वतन है, वहा पहुंचा दो..मैं  अपने वतन के लोगों को बताउंगा की अधिभौतिक ज्ञान और अधिभौतिक लूट, हीरे जवारात संपदा पाने के बाद भी मनुष्य को आत्म संतोष नहीं होता..पकवान तो पैसों से आ जायेंगे..लेकिन भूक तो ईश्वर की देन  है..पलंग तो पैसो से आ जायेंगे लेकिन नींद तो ईश्वर की देन  है..

ऐसे ही अध्यात्मिकता के बिना, अधिदैविक के बिना अंतरात्मा का संतोष सुख नहीं है..

वो बेचारा सिकंदर 100 मिल तो क्या 1 मिल भी तय नहीं कर सका..रास्ते में ही मर गया.. ऐसी लाचारी होती है ..अधिभौतिक संपदा पाने के बाद भी दुःख नहीं मिटता, भय नहीं मिटता, चिंता नहीं मिटती..जनम-मरण नहीं मिटता..



चुरू के समिति को 4 बार धन्यवाद दूंगा की यहाँ के लोगों को  अधिदैविक  और अध्यात्म का, 7-7 पीढियों को तारनेवाला सत्संग का सौभाग्य लोगों को दिलाया है..

कई बड़े बड़े लोग जिन्हों ने जीवन भर अधिभौतिक संजोया लेकिन मरते समय दुखी हो कर मर गए..

पंडित नेहरू अच्छे  आदमी थे..मरते समय कुछ दिन पहेले पैरेलाईज  हो गया..आनंद मई माँ-  मैं  उन को जानता था, अपने आश्रम में भी आई थी- उन को वे भी जानते थे…नेहरू जी ने इंदिरा को भेजा की जाओ माताजी को ले आओ..माताजी आई .. लाचार नेहरू उठ के खड़े होना चाहते थे संत का स्वागत करने.. लेकिन खड़े नहीं हो सके..हाथ जोड़ना चाहते थे.. लेकिन पैरेलाईज हुआ था..तो अधिभौतिक पद कितने भी ऊँचे हो , अधिभौतिक प्रतिष्ठा कितनी भी ऊँची हो लेकिन अधिभौतिक शरीर और अधिभौतिक संपदा और दौलत जीवात्मा के सारे दुःख नहीं हर सकती..बिलकुल पक्की बात है..

अधिभौतिक हो, लेकिन उस के साथ अधिदैविक शक्तियां हो…अधिदैविक ज्ञान आप के मन को दिव्य बनाता है और बुध्दी को दिव्य बनाता है और दिव्य लोगों से दिव्य आत्माओं से सम्बन्ध भी जोड़ सकते हो..सम्बन्ध जुड़े ना जुड़े लेकिन आप के जीवन में थोड़ी दिव्यता आ जाती है..

जैसे मेरे नानी के जीवन में दिव्यता आई….ज्यादा पढ़ी लिखी नहीं थी..सत्ता नहीं थी..देहाती महिला थी मेरी नानी- मेरी माँ की माँ..

मेरी माँ की माँ मर गयी..सम्शान में ले गए..और वहा करवट हिलाई ..रस्सी खोली..गयी तो कंधे पे थी, जिन्दी होकर पैदल चल के आई !अगर मैं  झूठ बोलू तो तुम सब मरो!.. 🙂   लेकिन जांच करना झूठी बात हो तब ना..39 साल मेरी नानी जीवित रही..पूछा गया की क्या हुआ था?..मरते समय एलिज़ाबेथ जैसी, सिकंदर जैसी पीड़ा हुयी?..बोली कुछ भी नहीं!  क्यों की उन के पास अधिदैविक  गुरूमन्त्र था !

नानी बोली, ऐसा  कोई सुन्न सा हुआ..फिर मैंने देखा की ये यमदूत है..यहाँ तो पापियों की जगह है..

तो मैंने बोला की, “मैं  तो पापी नहीं हूँ, मेरे पास तो गुरूमन्त्र है..मेरे को इधर कैसे लाये?”

यमदूत बोले, “तुम्हारा नाम हेमिबाई है ना?”

नानी बोली, “हेमिबाई तो हमारे शहर में बहोत है, जैसे कमला नाम बहोत होते ऐसे..तो कौन सी कमला?कौन सी हेमिबाई? आगे का नाम लो तो पता चले..”

यमदूत बोले, “हेमिबाई पोहुमल!”

“नहीं नहीं नहीं…हम वो नहीं है!हमारे पति का नाम दूसरा है..”  नानी ने यमदूतो को बोला..

यमदूतों ने पूछा, “तो क्या नाम है?प्रहलाद?”

“नहीं!”

“पुरुषोत्तम?”

“नहीं!”

“तो क्या है?”

“प पे है , लेकिन ये नहीं है..”

“तो बाई बोल दे ना..”

नानी बोली, “हम अपने पति का नाम नहीं लेते..तुम बोलते जा ना..हेमिबाई फलाना..फलाना..”

यमदूत बोले, “प्रेमकुमार?”

नानी बोली, “ठहेरो!..आगे का नाम तो रखो..कुमार की जगह पर चाँद लगाओ तो!”

बोले, “प्रेमचंद!”

नानी बोली, “हां!..तेरा भला हो!”

यमराज ने यमदूतों को डाटा की ‘अरे मूर्खो..हेमिबाई प्रेमचंद को ले आये हो हेमिबाई पोहुमल के बदले ..जाओ वापिस छोड़ के आओ!..”

नानी 39 साल जीवित् रही !..ना सिकंदर जैसी पीड़ा, ना एलिज़ाबेथ जैसी पीड़ा..न बड़े बड़े सत्ताधीशो जैसी पीड़ा..क्यों की अधिदैविक ज्ञान है..गुरू मन्त्र है..गुरू मन्त्र से अधि दैविक शक्तियां जागृत रहेती है..नानी यमदूतों को डाट  कर वापिस आई!..

सिख धरम के आदि गुरू कहेते है :

ब्रम्हज्ञानी संग धर्मराज करे सेवा…

आत्मवेत्ता गुरू मिल गया, दीक्षा मिल गया तो यमराज तो सेवा करते !अधिभौतिक ज्ञान से यमराज सेवा नहीं करेगा..

अधिभौतिक ज्ञान कितना भी मिल जाए , सुख-शांति के लिए वाईन की जरुरत पड़ती है…क्लबों की जरुरत पड़ती..स्वास्थ्य के लिए टोनिकों की जरुरत पड़ती…ज्ञान के लिए किताबों और पोथों की जरुरत पड़ती है.. प्रसन्नता के लिए नाच गान और न जाने क्या क्या करने की जरुरत पड़ती है बड़े लोगों को..

लेकिन जिस के जीवन में अधिदैविक ज्ञान है उन्हें शराब की जरुरत नहीं पड़ती…वो अपने आप में खुश रहेते है..जाम पर जाम पिने से क्या फ़ायदा?..

 

जो चाय पीते , कॉफ़ी    पीते वो निस्तेज हो जाते है..किडनी  खराब, पाचन तंत्र खराब, धातु खराब..चाय कॉफ़ी   में 10 प्रकार के जहर होते है..टेनिन , थीन  जो सीर को भारी कर देता है..काफ्फिन पाया गया जो ओज और किडनी  को कमजोर करता है…वोल्टाईल जहर जो आँतों को कमजोर करता है..कार्बोलिक एसिड जो एसिडिटी करता है..  पाचन तंत्र और मन , बुध्दी कमजोर करनेवाला अरोमोलिक जहर चाय कॉफ़ी  में होता है..  सायनोजन  अ-निद्रा और लकवा देता है..रक्त विकार और नपुंसकता देनेवाले जहर भी चाय कॉफ़ी  में पाए है..इसलिए मैं  हाथ जोड़ता हूँ की चाय और कॉफ़ी  दूर से त्यागो..

रात को देर से भोजन करते वो मोटे हो जाते..

जे मोर्गन विज्ञानी ने अमेरिका में कई सेंटर खोले और कहा की ओमकार थेरपी से कई बीमारियां  मिट जाती..ओमकार मन्त्र से  जिगर, सीर और पेट की निरोगता रहेती है..उस ने करोडो रुपये कमाए.. मैं  जे मोर्गन को शाबास तो देता हूँ ..लेकिन ये तो केवल एक श्लोक भर की महिमा है..ओमकार मन्त्र की महिमा के 22हजार श्लोक है..ओमकार मन्त्र से केवल शरीर की बीमारियां  मिटती ऐसा नहीं, ओमकार मन्त्र से अधिदैविक शक्तियां  जगती है, अध्यात्मिक  शक्तियां जगती है..7 जन्मों की दरिद्रता भी मिटती है..और भगवान को जिस रूप में चाहो उस रूप में भगवान को प्रगट करने की  शक्तियां आती है….

ओमकार के मन्त्र जप में वो ताकद है..

अगर आप 5 मिनट ओमकार का जप करते हो तो आप के 72 करोड़ 72 लाख 10 हजार 201 नादियों में सात्विक ओरा का संचार होता है..दुनिया की कोई औषध इतनी पॉवरफुल  नहीं है..जिन के पास  अध्यात्मिक ज्ञान नहीं है वो स्वस्थ रहेने के लिए दवाईयों की गुलामी कर कर के भी बीमार रहेते है…ख़ुशी के लिए क्लबों में जाने के बाद भी दुखी रहेते है और ज्ञान के लिए पोथे रट  रट के भी गड़बड़ करते है..

जिन के पास अधिदैविक ज्ञान है वो ऐसे ही बोलते चले जाते और सत्संग हो जाता है! 

 

गुरूजी तुम तसल्ली ना दो सिर्फ बैठे ही रहो
महेफिल का रंग बदल जाएगा
गिरता हुआ दिल भी संभल जाएगा..

ऐसी अध्यात्मिक ज्ञान की महिमा है ! अधिभौतिक ज्ञान उस के आगे बहुत बौना हो जाता है..

अध्यात्म ज्ञान की आप 10 मिनट भी यात्रा करे तो आप का भौतिक ज्ञान और अधिदैविक ज्ञान दोनों चमकेगा…

अगर अध्यात्मिक ज्ञान से मुंह मोड़ कर भौतिक ज्ञान के पीछे लगते है बड़े पछताते है..

मेरठ का रूप नारायण जैसा भौतिक डिग्रीयां  वाला विद्वान् इस समय भारत में शायद ही हो..लेकिन इतनी डिग्रियों के बाद भी दुःख नहीं मिटा, वो मेरा चेला बन गया..

अधिभौतिक कितना भी मिल जाए, मकान दूकान मिल जाए, पद प्रतिष्ठा  वाह वाही मिल जाए..लेकिन अध्यात्म और अधिदैविक के बिना आदमी का दुखद अवस्था से छुटकारा नहीं होता…

 

मरते समय 4 दुःख सताते है..

1) शारीरिक पीड़ा

2) मानसिक तपन ..किसी से बुरा सलूक किया है तो वो पाप तपाता है.

3)आसक्ति की पीड़ा- जहा अटैचमेंट  है वहा अटकेगा..धन दौलत, बेटे का क्या होगा?बेटी का क्या होगा? पोता और पोती का क्या होगा ऐसा चिंतन कर के मरते तो वो ही दादा दादी मरने के बाद कुत्ता कुत्ती  बन के पोता पोती के इर्द गिर्द पूंछ हिला रहे है..

4) मरने के बाद कहा जायेंगे कोई पता नहीं, इसलिए लाचार हो के मरते.

तो शारीरिक पीड़ा, मानसिक तपन, आसक्ति की पीड़ा और मरने के बाद कहाँ जायेंगे ये 4 पीडाएं जीते जी  कुचल डालने के लिए मनुष्य जीवन मिला है..ये भौतिकता  से नहीं कुचल सकते हो..उस के लिए अधिदैविक शक्ति चाहिए.. अध्यात्मिक गुरू की दीक्षा चाहिए..

जोड़ों का दर्द है तो 100 ग्राम तिल मिक्सी में पिस लो..उस में 20 ग्राम सौंठ  का पावडर मिला दो..रोज सुबह 5 ग्राम गुनगुने पानी के साथ फांक लो तो जोड़ों के दर्द में आराम हो जाएगा.

डाईबीटीस  है तो आधा  किलो करेले ले लो..छोटे छोटे तुकडे कर के तसले में डालो… सुबह सुबह खाली पेट एक घंटे तक  खड़े हो कर उस को पैरों तले   कुचलो… एक घंटा कुचलो तो मुंह कड़वा हो जाएगा.. डाईबीटीस  सदा के लिए चली जायेगी..7 दिन में फायदा हो जाएगा, लेकिन आप 10 दिन करो..मेथी दाने मिक्सी में पिस के रख दो..15 से 50 ग्राम मेथी  दाने रात  को भीगा दो..सुबह उस को ऐसे ही पियो , या सब्जी में डाल  के खाओ, रोटी में डाल के खाओ..7 दिन में ये खाओ और करेले को कुचलो तो डाईबीटीस  सदा के लिए मिट जायेगी..इंसुलिन की इन्जेकशन  भोकवाते तो भी डाईबीटीस  नहीं मिटती..ये प्रयोग करने वालों के इंसुलिन भी छुट जाते है..

मेरे शिष्य को हार्ट अटैक कभी ना हो, बाईपास सर्जरी कभी नहीं कराना है..ऑपरेशन नहीं कराना है..हाई बी पि  नहीं, लो बी पि  नहीं..मेरे पास ऐसी युक्ति और मन्त्र है..पीलिया (जौंडिस ) नहीं होगा..लीवर की बिमारी नहीं होगी..होगी तो एक दिन में ठीक होता ऐसा मन्त्र भी देता हूँ..

आज कल बाईयों को डॉक्टर डरा देते की गर्भ का किडनी  खराब है, आँख खराब है, 2 सीर  वाला बच्चा है..न जाने क्या क्या बोल के उन को गर्भपात कराने को प्रेरित कर देते ..कमीशन खाने के लिए अथवा हिन्दुओं  की संतान कम हो , हमारेवाले आ कर यहाँ की व्होट  बैंक बढाए ये साजिश चल रही है..

तो कभी भी ऐसी नर्स और डॉक्टरों की बातें नहीं मानना..

बच्चा कमजोर है तो 1 ग्लास दूध + आधा ग्लास पानी उबालो..पानी सुख जाए – समझो 300 ग्राम दूध है, 200 ग्राम पानी डाल दिया तो उबाल के 310 ग्राम होने पर उतार लो..उस में 1 चम्मच घी डाल के गर्भिणी को पिला दो..बच्चा सुन्दर गोरा होगा.. और पुष्ट भी होगा..गर्भिणी की प्रसुती भी आराम से होगी..

काय को पेट चिरावे?सिजेरियन नहीं कराना डॉक्टर कितना भी डराए..कुछ नहीं होगा..देसी गाय के गोबर का रस 10-12 ग्राम निकाल के उस में 21 बार भगवान का नाम जप कर के गर्भिणी को पिला दो..बच्चा भी जीवित और माँ भी जीवित रहेती..डरने की बात नहीं ..

घर में झगड़े हो तो घर की मुख्य व्यक्ति -चाहे दादी माँ हो या जो सब से बड़ा हो- उस के पलंग के निचे एक लोटा पानी भर के रखे, सुबह उस पानी को तुलसी, पीपल अथवा किसी भी पेड़ को डाले जहा किसी के पैरों तले नहीं आवे.. घर के लोग रसोई घर में भगवान का कीर्तन कर के खाना खाए तो घर के झगड़े मिट जायेंगे…

पहेले सभी खडा नमक खाते, हमारे बाप दादा सभी लम्बी उम्र तक जीवित रहे हम भी जीवित है..आज कल आयोडिन आयोडिन का हौवा फैला के रखा है और 8 रुपये किलो नमक देकर लूट मचा रखी है..

खडा नमक जो 1.50 रुपये किलो मिलता उस का खारा पानी बना के उस का घर में पोता करो तो घर की निगेटिव एनर्जी  चली जायेगी..ऋण आयन बनेंगे..धन ऊर्जा बनेगी..

घर में कोई रोग और बीमारियाँ रहेती हो आसोपाल के पत्ते और नीम के पत्ते का तोरण बना के घर के दरवाजे पे लगा दो..सब का स्वास्थ्य अच्छा  रहेगा..

गुरू जब डांटते तो समझ लेना चाहिए की गुरू ने हम को अपना माना है!

दुर्जन की करूणा  बुरी
भलो साई को त्रास..
सूरज जब गरमी करें
तब बरसान की आस !

मेरे गुरूजी मुझे डाटते नहीं, अपना मानते नहीं तो मैं  तो तपस्या कर कर के मर जाता फिर भी भगवान नहीं मिलते..गुरू की डाट  से तो ऐसा मेरा विकास हुआ की मौज ही मौज हो गयी!

 

मीरा बाई के जीवन में अधिदैविक और अध्यात्मिकता का महत्त्व था..विक्रम राणा  अधिभौतिक के नशे में चकनाचूर था..उदा  ने शुरू शुरू में मीरा को दुश्मन मान कर मीरा की निंदा की थी..लेकिन बाद में उदा अपनी दुष्कृति से पश्चाताप की अग्नि  में शुध्द हुआ..विक्रम राणा  ने , मीरा बाई के सासू ने जहर का प्याला दिया , साप भेजा ..दुनिया जानती है…जहर का प्याला अमृत हो गया, साप नवलखा हार हो गया ये अधिदैविक जगत की शक्ति है..

लेकिन राणा  वहा रुका नहीं..राणा  एक बधिल को (शकील) तैयार किया की मीरा सो रही हो तब तलवार से उस का गला काट के आ जा…तेरे मुंह में घी  शक्कर दूंगा, जीतनी अशर्फियाँ हीरे मांगेगा, दूंगा…क्यों की मीरा अपने गुरू के पास जाती और गुरू है चमार जाती के..हमारी निंदा होती है…राज्य पर कलंक लग रहा है..मीरा मेवाड़ के लिए कलंक है..

अधिभौतिक जगत को सच्चा मान कर अधिदैविक और अध्यात्मिक जगत की अवहेलना करनेवाले राणा  की बुध्दी भ्रष्ट हो गयी थी..अपनी भाभी को मरवाने के लिए बधिक को भेजा..

और बधिक ने पैसो के लालच में खुली तलवार सोती हुयी मीरा को दे मारी…तलवार आर-पार हो जाए मीरा मरे ही नहीं!..देखे तो तलवार तो पूरी ऊपर से गयी निचे आ गयी, लेकिन खून दीखता नहीं!..बधिक कांपता हुआ दौड़ा और तलवार राणा  के पैरों में फ़ेंक दी की महाराज माफ करना! मीराबाई की अधिदैविक शक्ति और अध्यात्मिक शक्ति पराकाष्ठा  की है.. मैं  पापी पैसो की लालच में उस को मारने के लिए गया..लेकिन पैसे साथ नहीं चलेंगे; अपना बुरा कर्म साथ में चलेगा….

मीरा बाई को पता चला की मेरी ह्त्या करने के लिए बधिक को भेजा और भगवान ने ऐसी रक्षा की की मेरे शरीर से तलवारे आर-पार हुयी लेकिन मेरा कुछ नहीं बिगड़ा…अब ऐसे वातावरण में रहेना ठीक नहीं..कभी जहर का प्याला, कभी साप तो कभी शिकारी आ कर मेरे ऊपर तलवार चलाये …ये ठीक नहीं..

मीरा बाई ने तुलसीदास गोसाई जी को चिठ्ठी लिखा की घर में रह  के भजन करना मेरे लिए मुश्किल हो रहा है…ऐसा ऐसा जेठ जी करते..

तुलसीदास जी ने काशी से  उत्तर लिखा मीरा बाई को :-

जा के प्रिय ना राम विदेही
तजिये कोटि वैरिन सम, यद्यपि परम स्नेही

जिस को भगवान प्यारा नहीं , अधिदैविक- अध्यात्मिक प्यारा नहीं..खाली भौतिकवादी है ऐसे का त्याग कर दो ..ऐसा व्यक्ति बड़ा प्रिय हो लेकिन करोडो वैरी के समान समझ कर उस का त्याग कर दो..

जिस की आँख फुटी उस को अंजन कहाँ? जो अधिभौतिक में अँधा हो गया उस को ज्ञान और सत्संग का अंजन क्या लगेगा? अभागा आदमी सत्संग में आ नहीं सकता..आये तो उस के कुछ पुण्य है, लेकिन उस के पाप  उस को बैठने नहीं देंगे.. ऐसा आदमी सत्संग में बैठ गया तो उस के पाप उस को उठा के ले जायेंगे..हिम्मत कर के बैठा तो उस के पाप भाग जायेंगे और वो पापी धर्मात्मा बन जाएगा ऐसा अध्यात्म जगत का प्रभाव है..

मीरा ने मेवाड़ त्यागने का निर्णय किया और ब्रिन्दावन में गयी..

मेवाड़ में अकाल पड़ने लगा..मेवाड़ पर मुग़ल कहर बरसाने लगे..घरों में झगड़े, बीमारियां  और अशांति होने लगी…

जहां भगवान के भक्त को सताया जाता है, भगवान का भक्त जहा घर छोड़ के चला जाता है वहा मुसीबतें आती है..मुसीबतों से घिरा विक्रम राणा  भयभीत हो गया तब ब्राम्हणों   को बुलाया..ब्राम्हणों  ने कहा : 

जहा सुमति वहा संपत्ति नाना

जहा  अधिदैविक है, अध्यात्म है वहा संपदा आती है..जहा उन को सताया जाता है वहा विपदा आती है..कैसे भी कर के मीरा को बुलाया जाय..

एक वृध्द ब्राम्हण  को कुछ अनुचर साथ देकर विक्रम राणा  ने मीरा को वापिस बुलाने के लिए प्रयास किया..वृध्द ब्राम्हण  ने जांच करवाई तो मीरा बाई ब्रिन्दावन छोड़कर द्वारिका जा बसी थी..और चैत्यन्य महा प्रभु के सम्प्रदाय की वैष्णवी दीक्षा से दीक्षित हो गयी थी…

वृध्द ब्राम्हण  ने कहा की, मीरा तुम मेवाड़ में थी तब तक तुम को सताते थे, तुम्हारी कदर नहीं थी..लेकिन तुम चली गयी तो वह अकाल  पड   रहा है…बिमारी आ रही, अनावृष्टि हो रही..विक्रम राणा  बहुत दुखी है..वहाँ   की गाये बछड़े बैल जीव जंतु सब दुखी है ..मीरा तुम ने मेवाड़ का त्याग किया , तो भगवान ने भी मेवाड़ का त्याग किया.. जो भगवान के भक्तों को सताते उन की दुर्दशा होती है मीरा..

मीरा बाई का ह्रदय पसीजा..मीरा बाई के आँखों में लोगों के मंगल के आसू थे…लेकिन ह्रदय में विक्रम राणा  का व्यवहार भी याद आता था..

मैं  तो उन लोगों को धनभागी मानता हूँ जो भगवान के भक्त की सेवा करते, संत का  सत्संग सुनते..

 

  परली बैजनाथ महाराष्ट्र में है..वहा एक ‘भगवान का भक्त’ रहेता था..

उस का नाम था जगन मित्र..वहा थानेदार को दरोगा बोलते..एक बदमाश दरोगा संत जगन मित्र को और उस के परिवार को सताता था..किसी गाँव वाले ने जमीन  दी है, उस ने अपना मकान बांधा है छोटासा और भगवान का भजन करता है…दरोगाने देखा की ये मेरे रास्ते के काटा है..मेरी बेटी की शादी होनेवाली है, बाराती आयेंगे..ये छोटासा  झोपड़े वाला यहाँ?.. मैं  उस का झोपड़ा नीलाम कर दूंगा.. मैं  उस को बर्बाद कर दूंगा… गाँववालों ने कहा दरोगा साब हम तुम को हाथ जोड़ते, ये भगवान का भक्त है इस को आप ना सताए तो अच्छा  है..

दरोगा बोला, अरे वो भगवान का भक्त है तो हम भी देवी के भक्त है! हम नास्तिक नहीं है..अगर ये भक्त सच्चा है तो देवी के शेर को बुला के दिखाए.. शेर इस को काटे नहीं खाए नहीं तो मैं  मानूंगा..नहीं तो मैं  इस का झोपड़ा हटवा दूंगा..नीलाम कर दूंगा इस को..

जगन मित्र को लोगों ने सुनाया की ये सरकारी  पुलिस सरकारी नोकरी के बल से आप को तबाह करना चाहता है ..इस के पास अधिभौतिक बल है ..

जगन मित्र ने कहा इस  का अधिभौतिक बल इस के पास रहे , मेरे पास अधिदैविक बल है..मेरे पास अध्यात्मिक बल की कृपा है..ये मुझे कुचले मुझे जेल में भेजे  मेरा झोपड़ा नीलाम करा दे उस के पहेले मैं  जाता हूँ , मेरे ठाकुर जी को बुला लाता हूँ..

जगन मित्र जंगल में गए..प्रार्थना किये…गोविन्द हरे, गोपाल हरे…तू भक्त की लाज रखने के लिए निराकार साकार भी हो सकता है..प्रभु प्रभु प्रभु..पुकारने लगा..दहाड़ता हुआ शेर कहा से प्रगट हुआ कोई सोच नहीं सकता…दहाड़ता हुआ शेरे बब्बर जगन मित्र के पास आया!

जगन मित्र ने कहा, शेर के रूप में पधारे हो प्रभु..सिंह के रूप में पधारे..रस्सी थी ..गले में बाँध दी..बोले , प्रभु चलिए मेरे साथ…जैसे पाली हुयी बकरी को कोई लाये ऐसे शेर को प्रीतिपूर्वक  खिंच के ला रहे है..गाँव को चारो तरफ दीवारे होती और दरवाजे होते..द्वारपाल घबराया ..दरवाजा समय से पहेले ही बंद कर दिया..दरवाजा रात्रि को बंद होता था, संध्या के समय ही बंद कर दिया..जगन मित्र ने कहा , प्रभुजी वो दरवाजा बंद कर बैठे है!वो दरोगा को कैसे मिलोगे आप?..प्रभुजी ने  पंजा मारा तो  दरवाजा गिर पडा..जगन मित्र  और शेर नगर में प्रविष्ट हुए..

अरे ऐसा शेर और जगन मित्र के हाथ में ऐसा चले की जैसे बकरी…सब लोग घरों में छुप गए..छतों से देखे..और ये जगन मित्र भक्त शेर को ले जा रहा है..जाते जाते दरोगा के पड़ोस में पहुंचा.. दरोगा ने देखा की ये तो शेर को ऐसे लेकर आ रहा है.. मैं क्या  दिखाऊं?..दरोगा अन्दर कमरे में छुप गया..उस के बाल बच्चे भी छुप गए आखरी कमरे में..दरवाजा बंद कर दिया..

जगन मित्र बोलते, प्रभुजी इस ने तो आप का दर्शन ही नहीं किया..वो शेर रूपी प्रभुजी ने पंजा मारा चौखट बाहर ! दरोगा साब को बोला, तुम बोले शेर ला के दिखाओ तो देख लो..दरोगा साब फुट फुट के रोते हुए बाहर आये…मैंने अधिदैविक और अध्यात्मिक शक्ति का अपमान किया ..मुझे पता नहीं था…आप जैसे भक्त को सताने से भगवान नाराज होते मुझे पता नहीं था…महाराज मुझे माफ कर दो…

संत सताए तीनो जाए तेज बल और वंश
ऐसे ऐसे कई देख लो रावन कौरव जैसे कंस

संत को सताने से तबाही होती है तो संत के दर्शन सत्संग से आबादी भी तो होती है, बेड़ा पार भी तो होता है!

मैंने मेरे संतो को रिझाया तो मेरा बेड़ा पार हुआ..जिन्हों ने भी संतो का दर्शन किया, संतों को रिझाया उन्हें आत्म शांती  मिली..अधिदैविक शांती  मिली, अध्यात्मिक शांती मिली..अधिभौतिक जगत भी उन्हें सुख दाई हुआ..

जो आध्यात्मिकता का तिरस्कार कर के अधिभौतिक जगत में प्रगति करना चाहते है, अधिभौतिक जगत उन को दबोच देता है..दुखी करता है..हार्ट अटैक करा के कुचल कुचल के मार देता है..

लेकिन जो अध्यात्मिक शक्ति अधिदैविक शक्ति का आश्रय लेते उस के लिए अधिभौतिक जगत सुख रूप हो जाता है..

 

 

अध्यात्मिकता की खबर देनेवाला ये फोटो है..साप को मैंने उठाया और साप कितना प्रेम से मेरे नजदीक आया है!

 भक्तों के भगवान …
 

 

ज्ञान जोगी का जब से पाया बदली हमारी दुनिया
हर दिन पर्व है, हर पल उत्सव पायी है असली खुशियां 
जोगी रे क्या जादू है तुम्हरे ज्ञान में..

चार चाँद लग जाए वहा जहा जोगी के दर्शन होते..
बढ़ जाती रौनक और खुशियाँ जहा कदम ये रखते..
जोगी रे…

ॐ शांती.

श्री सदगुरूदेव  जी भगवान की महा जय जयकार हो!!!!!

गलतियों के लिए प्रभुजी क्षमा करे….
Advertisements
Explore posts in the same categories: Pujya Bapuji

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s


%d bloggers like this: