Ajapaa Gaayatri “सोऽहं so-ham” jape : Guru Aagya

Ahmdabad; 16July 2011

इस पोस्ट को हिंदी में पढ़ने के लिए कृपया यहाँ पधारें : http://wp.me/pZCNm-n1 

 अथवा स्क्रोल डाउन कीजिये 

vaastvaastavik jeevan kyaa hai?

 

vaastavik jeevan ki mahattaa samajhenge to udhar ko jaayenge..

 

sharir ka swaasthy thik nahi rahetaa..aushadhi bhi lete, operation bhi karaate, injection bhi bhokavaate..aayurvedik ke upachaar bhi karate..swaasthy thik nahi rahetaa, thoda din thik huaa na huaa phir se be-thik ho jaataa hai..ya hi samasyaa hai aaj ke  maanav ki..

 

vaastav men swaasthy ka aur sukh ka, aanand aur maadhury kaa aur saari samasyaaon kaa strot kahaan hai? us ko maanav bhulataa chalaa gayaa..

 

kudaa karakat hai to chaadar daal di, thik thaak ho gayaa..samay paakar chaadar ko bhi kudaa karakat banaa degaa..phir dusari chaadar..tisari chaadar..aise hi upar upar ke upachaar wohi rog dinataa hinataa bhavishya ki takalife reaction dete hai..kaf ho gayaa khaasi ho gayi le li goli..kaf sukh gayaa, sochate kaf gayaa, lekin vo aage chal ke tyumar banaa , cancer banaa..pidaa ho rahi hai to penkilar lete..pidaa dab gayi lekin vo penkilar aur bhi musibat le aayaa..

 

to aise upaay karate hai ki jyu jyu upaay karate gaye tyu tyu marj badhataa gayaa!..isliye jeevan nahi hai..sahi upaay ho..rog ke mul ko samajhanaa hai..aur sahi upachaar se rog ke mul ko ukhed ke aap ko swaasthy de..ye sahi upaay , sahi upachaar hai..

 

 

vikaar 5 hai : shabd , sparsh , roop,  ras aur gandh.

 

pati-patni ka sparsh vikaar hai..gana-bajaanaa, khushaamat sunanaa ye shabd vikaar hai..jibh ke vyanjan banaa kar bimaariyaan banati hai , vo bhi ek vikaar hai..to ye 5 vikaar hai lekin in ke mul me dekho to 2 hi vikaar hai..raag se khaayaa to bimaar padoge..raag se pati-patni ka vyavhaar kiyaa to jaldi budhe banoge..raag se kisi se jude to mamataa ho jaayegi, dusaron se anyaay karaayegi..dwesh se kisi ke saath vyavahaar karoge to bhi phasoge..adharm karoge.. atyaachaar karoge..

 

raag aur dwesh ! 5 vikaaron ka mul hai raag aur dwesh…

is raag dwesh ko shithil kiyaa athavaa raag dwesh par vijay paanaa athavaa raag dwesh ko baadhit karanaa bahot unchaa saadhan hai..

is se shaaririk swaasthy hasate khelate milegaa..

maanasik prasannataa aur santushti ye apane ghar ki chij ho jaayegi..aur baudhdik vikaas kalpanaatit hogaa..

bade bade budhdimaan santon ke aage margdarshan lete hai..sant doctori nahi padhe hai, lekin doctor santon se maargdarshan lete hai!sant netaagiri nahi jaanate lekin netaa aashirwaad lete…to aakhir un mahaapurushon ke paas aisi kaun si chij hai?

bole : bhagavaan ..bhagavaan..bhagavaan..

to un ke paas bhagavaan hai to aap ke paas kyaa hai? shaitaan hai kya? waise ke waisaa bhagavaan to aap ke paas bhi hai..lekin man mukhataa ek shaitaaniyat hai..

 

shishya ka matalab kyaa hai?

“mai ab aap se shaasit hone yogy hun”

2 haath jodate aur tisaraa maththaa tekate..to hamaare karmendriyaa, gyaanendriyaa aur 11 vaa man ye ham ko sataa rahe hai.. ab ham aap ke nirdeshaa nusaar in ko chalaayenge..

ham shishy hai..shish jhukaayaa..apani hekadi nahi..apane nirnay karane se bhatak jaayegaa..hamaaraa kis men bhalaa hai vo gurudev bataa de usi raaste chale, to kahaa se kahaa pahunch jaaye..

 

is ka sundar upaay hai..indriyon ka swaami man hai.man ke swaami praan hai..aur sabhi ke swaami tumhaaraa chaityanya aatm dev hai…us aatm dev men vishranti paane waali saadhanaa sikh lo..to rog chutaki bajaate jaate hai!chintaa yun mitati hai!bewkufi yun bhaagati hai!

aur bhagavat laabh sahej men hotaa hai…

dikshaa ke samay ye sabhi ko sikhaayaa jaataa hai , kahaa jaataa hai ki 50 ki ginati har roj karanaa hai…jis se man niyantrit ho, praan taal badhd ho..aayu aarogy pushti rahe..jo log aagyaa ka paalan kar ke karate honge un ko to laabh hotaa hogaa..lekin is laabh ki mahimaa na jaanane ke kaaran ek khaanaapurti jaise karate honge to phir khaanaapurti jaisaa laabh hota hogaa..

is me man ki sajaagataa + praanon ki taal badhdataa + aap ki vedaantik samajh ye 3 chije milaa kar ajapaa gaayatri ek saadhanaa hai.

 

to aaj ye uttam saadhan bataa rahaa hun..jaise har saal claas men ek darjaa / 2darjaa upar chale jaate..ye uttam saadhan shaastro ne bataayaa hai..mahaapurushon ka anubhav hai..aap log is ko apanaao..is se aap ka man niyantrit hogaa…indriyaa niyantrit hongi..praan taal badhd hogaa..

aur bimaariyaa to aise jaayegi jaise suraj aate hi raatri ka andhakaar aur bhut-pisaach aadi ka bhay taandav gaayab ho jaataa hai..

 

is saadhan ko kahete hai : AJAPAA GAAYATRI

 

maalaa shwasoshwaas ki ye bahut unchaa saadhan hai.dikshaa ke samay to bataate hai lekin log itanaa gaheraayi se nahi lete hai.

 

shwaas andar gayaa to “so” athavaa “om”  ..

“so” maanaa vo chaityany shaant aatmaa..shwaas baahar gayaa to “ham” – ‘mai hun!’ ..jis ki sattaa se praan chalate vo mai hun..jis ki sattaa se man sochataa hai vo mai hun…jis ki sattaa se indriyaa daudati hai vo mai hun…to aap ko apani hi sattaa ki mahattaa aane par jaise dukaan ka manegar athavaa ghar ka maalik balwaan hotaa hai to  us ke adhinast sab satarkataa se baratate hai, thik chalate hai.. aise aap apane soham swabhaav ki mahimaa  jagaaoge to aap ki indriyaan, aap ka man aur aap ke praan taal badhd chalenge…

aushadhi upar upar sthul sharir par asar karati hai, lekin maanasik tanaav ke kaaran kayi bimaariyaan hoti hai..maanasik waasanaao ke kaaran bhi hoti hai…baudhdik naa-samajhi ke kaaran bhi hoti hai..to kewal sthul sharir ki bimaariyaan nahi hai..

praan may kosh ki bhi bimaariyaan hai.

mano may kosh ki bhi bimaariyaan hai.

vigyaan may kosh ki bhi bimaariyaan hai.

kyo ki aanand may kosh ke adhishtaan ko achhutaa kar diyaa hai..

 

 

kal guru poonam nimitt saar baaten sunaayi gayi thi ki sthul duniyaa ka gyaan kitanaa bhi paa lo, vo gyaan paa kar us vishay ko, un vastuon ko paane ke liye aap ko prayatn karanaa padegaa… bhautik gyaan paane men parishram hai aur phir bhautik gyaan paa liyaa – padh liyaa, likh  liyaa, parikshaa paas kar li – to bhautik gyaan ke pramaan patr mil gaye  to phir us ke anusaar kriyaa karo..kriyaa kar ke phir bhog ke vastuye kharido..aur bhog bhogane men auchity-an-auchity ka pataa nahi hai to vo hi bhog le dubate hai…

pati mba hai 35 lakh kamaataa hai, patni mba hai 30 lakh kamaati hai lekin dono ek dusare se baat nahi karate..patni 4 mahine ki garbhavati thi,sharaabi pati ne patni ko laath maar ke maayake chhod diyaa..

to bhautik gyaan ke baad bhi, bhautik suvidhaaon ke baad bhi man ki bewkufi aur vikaaron ka prabhaav to  nahi mitataa naa..

man ki bewkufi aur vikaaron ka prabhaav nahi mitaa to bhautik gyaan ki aisi taisi..

 

kabir ji kahete,

bhalo bhayo ganwaar

 jaa ke naa vyaapi jag ki maayaa..

 

bhautik gyaan sampann vyakti padhaa likhaa vyakti jitanaa samaaj ka vyaapak kalyaan kaary kar sakataa hai utanaa anapadh nahi kar sakataa …lekin padhe likhe men agar man niyantran ka gyaan nahi hai, budhdi men samatv nahi hai, par dukh kaatarataa nahi hai to padhe likhe aadami garibon ko, samaaj ko noch kar jitanaa shoshan kar ke baithe hai utanaa anapadh logon ne nahi nochaa hai..arabo kharabo ki to kyaa baat kare aise aakade ki geen nahi sakate aise loot ke baithe hai..shoshak log ikaththaa kar ke baithe hai..shoshak bhi pareshaan hai, shoshit bhi pareshaan hai…aur shoshako ke bachche bhi pareshaan hai , bilkul sachchi baat hai, is ko koyi kaat nahi sakataa..

apane aap ko saraahane men hi lagate hai bhautik gyaan waale.

 

bhautik gyaan ke saath daivik gyaan honaa chaahiye.daivik gyaan ka mul hai adhyaatm gyaan.

pahele dikshaa hoti thi phir shikshaa hoti thi..ram ji ki pahele dikshaa huyi baad men shikshaa huyi.

dikshaa maane thik dishaa aap ke apane swarup ki…

 

 

kamar sidhi. gardan sidhi.aap apane naak ke agr bhaag me najar rakho.shwaas andar gayaa “so” ; baahar aayaa to “ham”

ye ajapaa gaayatri chalati rahati hai..us men aap pravesh kare to aap ka man, aap ki indriyaa, aap ka swasthy, aap kaa jeevan itanaa unchaa uthegaa, itanaa mahekegaa…ki varnan nahi kar sakate..

 

mai kitanaa bad-parheji karataa hun..kabhi kidhar rahenaa, kabhi kidhar khana..kabhi kidhar sonaa..time table jahaajon ke anusaar  daudanaa, musaaphiri..phir bhi swaasthy ke liye mujhe injection capsul nahi lene padate..davaayiyon ki gulaami nahi karani padati..khushi ke liye mujhe clubo men leda-lediyon ke naayi a-pavitra sang nahi karanaa padataa hai..gyaan ke liye mujhe pothe nahi ratane padate hai..sab us satchidaanand se milataa rahetaa hai aur aap log bhi aanandit hote rahete hai..

 

 

to aap ke paas bhi aisa unchaa thikaanaa hai to phir kaay ko pareshaan hote ho?

ek bhik mange ne thaan liyaa ki mai raajaa banungaa..kaise bhi kar ke mai sampatti ikaththi kar ke samraat banungaa…vo subah 10 se shaam ko 5 baje tak bhik maangataa thaa..jahaa bhik maangataa wahaa hi us ne khaanaa , pina, sonaa kar liyaa thaa..phir subah 4 baj eki lokal aati to bi uth ke khadaa ho jaata ki jyada bhik maange.. 5.30 waali express ko bhi nahi chhodataa thaa.. matalab raat men , din men jo bhi relway station par gaadi aayi vo 24 ghantaa bhik maangataa..bich me jhapaki le letaa..kaafi chillar ikaththaa kiyaa us ne..chillar me se bade bade rupiye bhi banaaye..gaheraa khaddaa khod ke wahaa rakhataa bhi gayaa..

24 ghantaa wahaa sotaa rahetaa…chaukidaari bhi thi, tatparataa bhi thi..ek din bhik mangaa mar gayaa..to jo kuchh us ne saamaan rakhaa tha wo to hataa diyaa logo ne..saaph saphaayi karane ke bahaane jaraa phaawadaa laaye to kuchh khad-badaa dikhaa to khodaa..to laakhon ki chillar mili… ur bhi kuchh milegaa kar ke khodate gaye..khodate gaye ..to puraanaa khajaanaa thaa kisi raajaa ka vo mil gayaa!..ab bhik mangaa to bhik maangate maangate hi mar gayaa…jahaa baithaa thaa wahaa khojaa nahi, apanaa aur jamaa kiyaa samraat hone ke liye…samraat ka khajaanaa to pahele se thaa..us par hi baith ke bhik maang rahaa thaa..bhik maang ke koyi samraat ban sakataa hai kya? khojataa to khajaanaa bhi milataa..

 

aise hi hey naak tu majaa de..hey jibh tu majaa de de, hey aankh tu majaa de de..hey waah waahi tu majaa de de..hey lalanaa ka haad maans tu majaa de de..ye bhik mange hai!vikaaro ke dwaaraa jo majaa lene jaate un ki bhikaari jaisi dashaa hai..

 

aap ke khajaano ka khajaanaa, samraaton ke samraat ka khajaanaa hai aap jahaa baithate uthate , aap ka jahaa se shwaas chalataa hai, man sankalp vikalp karataa hai, budhdi nirnay karati hai – ye sab badal jaataa hai phir bhi jo nahi badalataa hai vo “so-ham” “vo mai hun!”..

us men vishraanti paate jaaye to vo din dur nahi ki samraat bhi aap ke aage kangale lagenge…

 

duniyaa ki sampadaa shoshit kar ke jo shoshak apane ko sukhi maanate vo kangale lagenge…

aap itane sukh men, itane swaasthy me, itane maadhury me pahunch jaaoge!..

 

sunya-sankadaa koyi nahi

sab ke bhitar laal

murakh granthi khole nahi

karmi bhayo kangaal

 

bhautik karmo men apane ko khapaao mat..bhautik karm karo lekin kartutv ke abhimaan se apane ko mitaane ke liye aur  jis se karm kiye jaate hai us paramaatmaa men vishranti paane ke liye karo..karm  sewaa bhaav , sadabhaav aur tatparataa se isliye karo ki karm ki waasanaa , phal ki waasanaa chali jaaye to apane nirlep narayan ho jaaoge..

 

 maano to aisaa maano ke baas vo hai to hai! jaano to usi ko jaano ! “so-ham!” ….is ko ajapaa gaayatri kahaa gayaa hai..aur kabir ji ne kahaa hai ki,

mala shwasoshwaas ki jagat bhagat ke bich

jo phere so gurumukhi naa phere so nich

 

to jo adhi-bhautik ko mahattaa de baithe…niche karmon men , niche bhogon men khape hai vo aisi unchi saadhanaa nahi kar sakataa..agar aisi unchi saadhanaa kare to nichi dawaaiiyaan, niche bhog aur niche karmon se man uth jaayegaa upar…

 

to ab is ko guru aagyaa samajho, guru krupaa samajho, guru sandesh samajho ki roj  is guru poonam se aap ko gaayatri ajapaa jaap mul gaayatri “so-ham” men kam se kam  100 ki ginati kare aur raat ko 50 ki….ye aasaan nahi hai..shwasoshwaas to chalataa hai, lekin shwaas ki ridam banaanaa , us men man lagaanaa aur us ke  aanand men pravesh karanaa shuruwaat men kathin lagegaa…subah ke 4  se 6 baje ke bich ke sandhi kaal men man shaant bhaav se nidraa se uthate us samay karanaa  aasaan padegaa…

meri aaj nind khul gayi thi sadhe 3 baje, mai lete lete 4 baje tak usi men thaa…phir 4 baje ke baad mai uth ke baithaa..dharati par mera aasan bichhaa rahetaa hai..karate karate 7 baje tak chalaa…phir thodaa ghum ke aaye phir dhyan aasan ye chalataa rahaa..to pratidin 2-4 ghante paramaatm dhyaan men gujaarane chaahiye…

 

dhyaan ke samaan koyi tirth nahi

dhyaan ke samaan koyi yagy nahi

dhyaan ke samaan koyi tap nahi

dhyaan ke samaan koyi daan nahi

dhyaan ke samaan koyi snaan nahi

 

snaan karate to tumhaaraa sthul sharir nahaataa hai lekin is ajapaa dhyaan men tum swayam paramaatmaa men nahaaoge..

daan karane se tumhaaraa dhan shudhd hotaa hai lekin dhyaan karane se tum swayam shudhd ho jaaoge..

 

kartaa shudh ho jaayegaa to us ke karm bhi shudhd ho jaayenge..phal bhi shudhd aayegaa..kartaa ashudhd hogaa to karm karane par bhi kartaa ka uddesh ashudhd hone se apane aur dusare ke liye musibat banegaa..thag banegaa..

 

banate bhagat thagate jagat padate bhav ke jaal men

 

 

to adhyaatmik gyaan ke bina bhautik gyaan aadami ko khapaa khapaa ke khapaayegaa, khapaa khapaa ke khapaayegaa…kitanaa bhi bhautik gyaan paa liyaa to bhi aap ko nokari dhandaa kuchh karanaa hai..phir rupiyon paiso se kuchh vastuyen laani hai..vastuon ko niyantrit ho kar us ka bhoge to vairaagy aayegaa ..lekin niyantran nahi hai to raag utpann hogaa..raag hogaa to dwesh hogaa..janam maran ke chakr ko  aap gati de rahe bhautik sukh le kar…bhautik gyaan aur bhautik sukh aap musibat badhaane ke liye le rahe hai..bhautik gyaan aur bhautik sukh me adhi daivik aur  adhyaatmik kaa samput lagaa dijiye to aap us ka sataupayog kar lenge..

 

ghodaa to paalaa hai lekin ghode ki lagaam niyantran men nahi hai to ghode ki puchh pakad liyaa to pareshaan ho jaayenge..

 

jo aayaa so khaa liyaa, jo aayaa so bol diyaa, jahaa milaa wahaa chal gaye..jis kisi se mel-milaap kar diyaa..arre bhaai!ye tumhaare raaste ka hai yaa tumhe saadhanaa se giraanewala hai vichaar kar …

 

nirmaan mohaa   -moh ka nirvaan karo

jeet sang doshaa  -sang ke doshon ko jeeto, sang ke doshon men giro mat.

adhyaatm nityaa  – nitya adhyaatm ka ras paan karo..

 

viniyet kaamaa   – kaamanaao ko nivrutt karo..ye kaamanaa puri karane men to paraadhinataa hai purushaarth ki , vakt ki , vyakti ki, vastu ki..lekin kaamanaa nivrutt karane men tum swatantr ho!

 

100 ki kar do 60  ( 100 kaamanaa me se 60 kar do)

aadhaa kar do kaath ( 30 ho gaye)

10 denge, 10 chhudaayenge

10 ke jodenge haath !

abhi to so-ham me tiko..to aap sachamuch men samaaj ke taaran haar ho jaaoge , phir aap ke dubane kaa sawaal hi nahi paidaa hogaa!..is saadhanaa men lage raho…

 

chalati chakki dekh ke diyaa kabiraa roye

2 paatan ke bich men saabit bachaa na koye

 

genhu ke daane ho yaa baajare ko ho chakki ke bich aate to pees jaate.. lekin sant ne aur gaheraayi men jaa kar upaay khoj liyaa :-

 

chakki chale to chaalan de, tu kaahe ko roye?

lagaa rahe tu khil par, baal naa baankaa hoye

 

jo dana khil par atakaa rahetaa hai, vo pisataa nahi hai..aise aap apane “so-ham “swabhaav men tike rahe to aap vikaaron men pisane se, dukhon men pisane se bach gaye…

 

is ajapaa jaap ko priti purvak aarambh men karo..

 

to is ko is guru punam ka nayaa paath kaho, nayi saadhanaa kaho..hai to badi praachin ..ye soham ki saadhanaa karoge to man niyantrit hogaa..ghar ke jhagade shaant honge…wasanaao ka veg shaant hogaa,raag shaant hogaa, dwesh shaant hogaa..kaam shaant hogaa, krodh shaant hogaa…ek din me nahi, subah aadhaa-paunaa ghantaa us hi men lag jaao..phir dopaher ki sandhi kaal me jahaa bhi jaisa samay mile thodaa karo..phir shaam ki sandhi me karo..is se aatm vaibhav pragat hogaa…

bhautik gyaan kriyaa me le jaayegaa, phir dhan me le jaayegaa, achhaayi -buraayi se dhan aayegaa..phir bhog bhogo aur achhe aur bure janmo men bhatako is ka ant nahi hai…

 

adhi daivik men gyaan paa kar kuchh karanaa nahi hai, chintan maatr se aatm santushti se man , mati aur praarabdh me aakarshini shakti se sansaari chije aap ki sewaa me haajir ho jaayegi…

bhautik se adhi daivik unchaa hai..jaise netr ke swaami chandramaa hai, budhdi ke swaami sury dev hai..is prakaar devo ki upaasanaa man se karo to devon me jo devatv hai us ki bhakti puja sumiran bhagat log karate hai us se santushti milegi lekin bhagavaan baahar hai, dur hai..un ki krupaa se ye huaa..un ki krupaa se ye banaa rahe..is me hi rahoge..

 

lekin jab adhyaatm me aa gaye sidhaa soham swarup men to paramaatmaa dur nahi hai, durlabh nahi hai..pare nahi hai, paraaye nahi hai..ve sat hai sadaa hai, chetan rup hai, budhdi me unhi kaa gyaan aataa hai..aanand swarup hai aur mere aatm rup hai..to aap ko kuchh bhoganaa nahi, karanaa nahi, aisi unchaayi par pahunch jaaoge..

 

adhi daivik shaktiyon se hirany kashyapu ne binaa jote bina boye khet khali me dhaan paidaa ho jaataa thaa, adhi daivik shakti se samudr uchhal uchhal kar ratn sampadaa detaa thaa..dharati ke grabh men  chhipe dhaatu dharati pe aa jaate the..ye adhi daiik shaktiyaa thi, lekin phir bhi waasanaaye nahi miti.. aatm ras ke binaa waasanaa mitegi nahi…

 

binu raghuvir pad jeev ki jarani naa jaayi..

 

 

paramaatmaa ke binaa jeevaatmaa ki tapan nahi mitati.. to aap paramaatm pad me pahuncho..agar mile to paramaatm sukh mile, paramaatm laabh mile…

 

aaj se bapuji ki aagyaa hai, jo bhi hai desh videsh me jo sun rahe sab is me lago..

shwas andar gayaa “so- ham”..athavaa “om” jo aanand swarup hai, gyaan swarup hai..jo sab ka hiteshi hai vo mera paramaatmaa hai..shwasoshwaas ka saadhan shuru kar do..10 mala karate vo thik hai, lekin ye shwaasoshwaas ke saadhan ko aap badhaa do..subah nind me se uthate hi karo to is me jaldi gati hogi…shuru shuru me bhale hi gati naa ho , lekin aap saadhan karate jaao ..man idhar udhar jaayegaa athavaa nind aayegi to subah to baith ke hi karanaa hai, nind ke chakkar me nahi padanaa hai..raatri ko sote sote bhi karo..nind aa jaayegi to bhi yog nidra ho jaayegi…

mujhe is saadhan se badaa gajab ka phaaydaa huaa..aap aatm trupti me raho..paramaatmaa me raho..

 

bhautik jagat me maanav rotaa huaa janamataa hai, phariyaad karataa huaa jitaa hai aur niraash hoke marataa hai..is se aadhi daivik men kam rotaa hai, kuchh bhogataa hai sanyam se… lekin phir bhi hiranya kshyapu aur raawan koyi purn santusht ho ke nahi gaye..

shabari bhilan ko sadaguru mile the to rom rom me ramane waale ram men sthiti ho gayi..ram kaho, soham kaho, om kaho ..ek hi hai..to antaraatmaa raam ka bhi sukh milaa, dasharath nandan ram ke bhi darshan huye..aur purnataa ko bhi paa liyaa..miraa baai ne purnataa ko paa liyaa, sahajo baai ne purnataa ko paa liyaa..narasi mehataa, aakhaa bhagat aur kayi mahaapurushon ne purnataa ko paa liyaa..chhatrapti shivaaji galaa dub vyavhaar me rahete raaj kaaj ke lekin phir bhi guru samarth ke prati aadar thaa aur is chij ke liye tadap thi to shiaaji ne bhi saakshaatkaar kar liyaa..

to aap bhi saakshaatkaar karane ka iiraadaa pakkaa karo..baaki ki madad..tum ko to pataa hai bapuji yahi chaahate ki,

 

 sab jholi bhar le nij aatmaa ka darshan kar le..

 

main ye nahi chaahataa ki tum guru punam ko haar laao, dakshinaa do ye mai nahi chaahataa..is nimitt aap aage badh jaao bas…

 

 

pandaal ke baahar pichhe baithe bhakton ke bhagavaan!

OM SHAANTI.

 

 

SHRI SADAGURUDE JI BHAGAVAAN KI MAHAA JAY JAYKAAR HO!!!!!

Galatiyon ke liye Prabhuji kshamaa kare…

ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ

अजपा गायत्री “सो-हम” जपे : गुरू  आज्ञा 


अहमदाबाद; 16जुलाई 2011

वास्तविक जीवन क्या है?

वास्तविक जीवन की महत्ता समझेंगे तो उधर को जायेंगे..

शरीर का स्वास्थ्य ठीक नहीं रहेता..औषधि भी लेते, ऑपरेशन भी कराते, इन्जेकशन   भी भोकवाते..आयुर्वेदिक के उपचार भी करते..स्वास्थ्य ठीक नहीं रहेता, थोडा दिन ठीक हुआ न हुआ फिर से बे-ठीक हो जाता है..यही समस्या है आज के  मानव की..

वास्तव में स्वास्थ्य का और सुख का, आनंद और माधुर्य  का और सारी  समस्याओं का स्त्रोत कहाँ है? उस को मानव भूलता चला गया.. 

कूड़ा करकट है तो चादर डाल  दी, ठीक ठाक हो गया..समय पाकर चादर को भी कूड़ा करकट बना देगा..फिर दूसरी चादर..तीसरी चादर..ऐसे ही ऊपर ऊपर के उपचार वोही रोग दीनता हीनता भविष्य की तकलीफे रिएक्शन  देते है..कफ हो गया खासी हो गयी ले ली गोली..कफ सुख गया, सोचते कफ गया, लेकिन वो आगे चल के ट्यूमर बना , कैंसर बना..पीड़ा हो रही है तो पेनकिलर लेते..पीड़ा दब गयी लेकिन वो पेनकिलर और भी मुसीबत ले आया..

तो ऐसे उपाय करते है की ज्यू ज्यू उपाय करते गए त्यु त्यु मर्ज बढ़ता गया!..इसलिए जीवन नहीं है..सही उपाय हो..रोग के मूल को समझना है..और सही उपचार से रोग के मूल को उखेड के आप को स्वास्थ्य दे..ये सही उपाय , सही उपचार है..
 

विकार 5 है : शब्द , स्पर्श , रूप,  रस और गंध.

पति-पत्नी का स्पर्श विकार है..गाना-बजाना, खुशामत सुनना ये शब्द विकार है..जीभ के व्यंजन बना कर बीमारियाँ बनती है , वो भी एक विकार है..तो ये 5 विकार है लेकिन इन के मूल में देखो तो 2 ही विकार है..राग से खाया तो बीमार पड़ोगे..राग से पति-पत्नी का व्यवहार किया तो जल्दी बूढ़े बनोगे..राग से किसी से जुड़े तो ममता हो जायेगी, दूसरों से अन्याय कराएगी..द्वेष से किसी के साथ व्यवहार करोगे तो भी फसोगे..अधर्म करोगे.. अत्याचार करोगे..

राग और द्वेष ! 5 विकारों का मूल है राग और द्वेष…
इस राग द्वेष को शिथिल किया अथवा राग द्वेष पर विजय पाना अथवा राग द्वेष को बाधित करना बहोत उंचा साधन है..

इस से शारीरिक स्वास्थ्य हसते खेलते मिलेगा..

मानसिक प्रसन्नता और संतुष्टि ये अपने घर की चीज हो जायेगी..और बौध्दिक विकास कल्पनातीत होगा..

बड़े बड़े बुध्दिमान संतों के आगे मार्गदर्शन लेते है..संत डॉक्टरी  नहीं पढ़े है, लेकिन डॉक्टर संतों से मार्गदर्शन लेते है!संत नेतागिरी नहीं जानते लेकिन नेता आशीर्वाद लेते…तो आखिर उन महापुरुषों के पास ऐसी कौन सी चीज है?

बोले : भगवान ..भगवान..भगवान..

तो उन के पास भगवान है तो आप के पास क्या है? शैतान है क्या? वैसे के वैसा भगवान तो आप के पास भी है..लेकिन मन मुखता एक शैतानियत है..

शिष्य का मतलब क्या है?

“मैं  अब आप से शासित होने योग्य हूँ”

2 हाथ जोड़ते और तीसरा मथ्था टेकते..तो हमारे कर्मेन्द्रिया, ज्ञानेन्द्रिया और 11 वा मन ये हम को सता रहे है.. अब हम आप के निर्देशा नुसार इन को चलाएंगे..

हम शिष्य है..शीश झुकाया..अपनी हेकड़ी नहीं..अपने निर्णय करने से भटक जाएगा..हमारा किस में भला है वो गुरूदेव बता दे उसी रास्ते चले, तो कहा से कहा पहुँच जाए..

 

इस का सुन्दर उपाय है..इन्द्रियों का स्वामी मन है.मन के स्वामी प्राण है..और सभी के स्वामी तुम्हारा चैत्यन्य आत्म देव है…उस आत्म देव में विश्रांति पाने वाली साधना सिख लो..तो रोग चुटकी बजाते जाते है!चिंता यूँ मिटती है!बेवकूफी यूँ भागती है!

और भगवत लाभ सहेज में होता है…

दीक्षा के समय ये सभी को सिखाया जाता है , कहा जाता है की 50 की गिनती हर रोज करना है…जिस से मन नियंत्रित हो, प्राण ताल बध्द हो..आयु आरोग्य पुष्टि रहे..जो लोग आज्ञा का पालन कर के करते होंगे उन को तो लाभ होता होगा..लेकिन इस लाभ की महिमा न जानने के कारण एक खानापूर्ति जैसे करते होंगे तो फिर खानापूर्ति जैसा लाभ होता होगा..

इस में मन की सजागता + प्राणों की ताल बध्दता + आप की वेदान्तिक समझ ये 3 चीजे मिला कर अजपा गायत्री एक साधना है.

तो आज ये उत्तम साधन बता रहा हूँ..जैसे हर साल क्लास में एक दर्जा / 2दर्जा ऊपर चले जाते..ये उत्तम साधन शास्त्रों ने बताया है..महापुरुषों का अनुभव है..आप लोग इस को अपनाओ..इस से आप का मन नियंत्रित होगा…इन्द्रिया नियंत्रित होंगी..प्राण ताल बध्द होगा..

और बीमारिया तो ऐसे जायेगी जैसे सूरज आते ही रात्री का अन्धकार और भुत-पिसाच आदि का भय तांडव गायब हो जाता है..

इस साधन को कहेते है : अजपा गायत्री

माला श्वासोश्वास की ये बहुत उंचा साधन है.दीक्षा के समय तो बताते है लेकिन लोग इतना गहेराई से नहीं लेते है.
श्वास अन्दर गया तो “सो” अथवा “ॐ”  ..

“सो” माना वो चैत्यन्य शांत आत्मा..श्वास बाहर गया तो “हम” – ‘मैं  हूँ!’ ..जिस की सत्ता से प्राण चलते वो मैं  हूँ..जिस की सत्ता से मन सोचता है वो मैं  हूँ…जिस की सत्ता से इन्द्रिया दौड़ती है वो मैं  हूँ…तो आप को अपनी ही सत्ता की महत्ता आने पर जैसे दूकान का मैनेजर  अथवा घर का मालिक बलवान होता है तो  उस के अधिनस्त सब सतर्कता से बरतते है, ठीक चलते है.. ऐसे आप अपने सोऽहं स्वभाव की महिमा  जगाओगे तो आप की इन्द्रियाँ, आप का मन और आप के प्राण ताल बध्द चलेंगे…

औषधि ऊपर ऊपर स्थूल शरीर पर असर करती है, लेकिन मानसिक तनाव के कारण कई बीमारियाँ होती है..मानसिक वासनाओ के कारण भी होती है…बौध्दिक ना-समझी के कारण भी होती है..तो केवल स्थूल शरीर की बीमारियाँ नहीं है..

प्राणमय कोष की भी बीमारियाँ है.

मनोमय कोष की भी बीमारियाँ है.

विज्ञानमय कोष की भी बीमारियाँ है.

क्यों की आनंदमय कोष के अधिष्ठान   को अछूता कर दिया है.. 

कल गुरू पूनम निमित्त सार बातें सुनाई गयी थी की स्थूल दुनिया का ज्ञान कितना भी पा लो, वो ज्ञान पा कर उस विषय को, उन वस्तुओं को पाने के लिए आप को प्रयत्न करना पडेगा… भौतिक ज्ञान पाने में परिश्रम है और फिर भौतिक ज्ञान पा लिया – पढ़ लिया, लिख  लिया, परीक्षा पास कर ली – तो भौतिक ज्ञान के प्रमाणपत्र मिल गए  तो फिर उस के अनुसार क्रिया करो..क्रिया कर के फिर भोग के वस्तुए खरीदो..और भोग भोगने में औचित्य-अनऔचित्य का पता नहीं है तो वो ही भोग ले डूबते है…

पति एम् बी ए है – 35 लाख कमाता है, पत्नी एम् बी ए  है – 30 लाख कमाती है लेकिन दोनों एक दुसरे से बात नहीं करते..पत्नी 4 महीने की गर्भवती थी,शराबी पति ने पत्नी को लात मार के मायके छोड़ दिया..

तो भौतिक ज्ञान के बाद भी, भौतिक सुविधाओं के बाद भी मन की बेवकूफी और विकारों का प्रभाव तो  नहीं मिटता ना..

मन की बेवकूफी और विकारों का प्रभाव नहीं मिटा तो भौतिक ज्ञान की ऐसी तैसी..

 

कबीर जी कहेते,

भलो भयो गंवार
 जा के ना व्यापी जग की माया..

भौतिक ज्ञान संपन्न व्यक्ति पढ़ा लिखा व्यक्ति जितना समाज का व्यापक कल्याण कार्य कर सकता है उतना अनपढ़ नहीं कर सकता …लेकिन पढ़े लिखे में अगर मन नियंत्रण का ज्ञान नहीं है, बुध्दी में समत्व नहीं है, पर दुःख कातरता नहीं है तो पढ़े लिखे आदमी गरीबों को, समाज को नोच कर जितना शोषण कर के बैठे है उतना अनपढ़ लोगों ने नहीं नोचा है..अरबो खराबो की तो क्या बात करे ऐसे आकडे की गीन नहीं सकते ऐसे लूट के बैठे है..शोषक लोग इतना  इकठ्ठा  कर के बैठे है..शोषक भी परेशान है, शोषित भी परेशान है…और शोषको के बच्चे भी परेशान है .. बिलकुल सच्ची बात है, इस को कोई काट नहीं सकता..

अपने आप को सराहने में ही लगते है भौतिक ज्ञान वाले.

भौतिक ज्ञान के साथ दैविक ज्ञान होना चाहिए….दैविक ज्ञान का मूल है अध्यात्म ज्ञान.

पहेले दीक्षा होती थी फिर शिक्षा होती थी..राम जी की पहेले दीक्षा हुयी बाद में शिक्षा हुयी.

दीक्षा माने ठीक दिशा आप के अपने स्वरुप की… 

कमर सीधी. गर्दन सीधी.आप अपने नाक के अग्र  भाग में नजर रखो.श्वास अन्दर गया “सो” ; बाहर आया तो “हम”

ये अजपा गायत्री चलती रहती है..उस में आप प्रवेश करे तो आप का मन, आप की इन्द्रिया, आप का स्वास्थ्य, आप का जीवन इतना उंचा उठेगा, इतना महेकेगा…की वर्णन नहीं कर सकते..

 

मैं  कितना बद-परहेजी करता हूँ..कभी किधर रहेना, कभी किधर खाना..कभी किधर सोना..टाइम टेबल और जहाज़ों के अनुसार  दौड़ना, मुसाफिरी..फिर भी स्वास्थ्य के लिए मुझे इन्जेकशन  कैप्सूल नहीं लेने पड़ते..दवाईयों की गुलामी नहीं करनी पड़ती..ख़ुशी के लिए मुझे क्लबों  में लेडा-लेडियों के नाई अ-पवित्र संग नहीं करना पड़ता है..ज्ञान के लिए मुझे पोथे नहीं रटने पड़ते है..सब उस सत्चिदानन्द से मिलता रहेता है और आप लोग भी आनंदित होते रहेते है..
तो आप के पास भी ऐसा उंचा ठिकाना है तो फिर काय को परेशान होते हो?

एक भिक मंगे  ने ठान लिया की मैं  राजा बनूंगा..कैसे भी कर के मैं  संपत्ति इकठ्ठी कर के सम्राट बनूंगा…वो सुबह 10 से शाम को 5 बजे तक भिक मांगता था..जहा भिक मांगता वहा ही उस ने खाना , पीना, सोना कर लिया था..फिर सुबह 4 बजे  की लोकल आती तो भी  उठ के खडा हो जाता की ज्यादा भिक मांगे.. 5.30 वाली एक्सप्रेस को भी नहीं छोड़ता था.. मतलब रात में , दिन में जो भी रेलवे स्टेशन पर गाडी आई वो 24 घंटा भिक मांगता..बिच में झपकी ले लेता..काफी चिल्लर इकठ्ठा  किया उस ने..चिल्लर में से बड़े बड़े रुपये भी बनाए..गहेरा खड्डा खोद के वहा रखता भी गया..24 घंटा वहा सोता रहेता…चौकीदारी भी थी, तत्परता भी थी..एक दिन भिक मंगा  मर गया..तो जो कुछ उस ने सामान रखा था वो तो हटा दिया लोगो ने..साफ सफाई करने के बहाने ज़रा फावड़ा लाये तो कुछ खदबड़ा दिखा तो खोदा..तो लाखों की चिल्लर मिली… और  भी कुछ मिलेगा कर के खोदते गए..खोदते गए ..तो पुराना खजाना था किसी राजा का वो मिल गया!..अब भिक मंगा तो भिक माँगते माँगते ही मर गया…जहा बैठा था वहा खोजा नहीं, अपना और जमा किया सम्राट होने के लिए…सम्राट का खजाना तो पहेले से था..उस पर ही बैठ के भिक मांग रहा था..भिक मांग के कोई सम्राट बन सकता है क्या? खोजता तो खजाना भी मिलता..

 ऐसे ही हे नाक तू मजा दे..हे जीभ तू मजा दे दे, हे आँख तू मजा दे दे..हे वाह वाही तू मजा दे दे..हे ललना का हाड मांस तू मजा दे दे..ये भिक मंगे है! विकारों के द्वारा जो मजा लेने जाते उन की भिकारी जैसी दशा है..
आप के पास खजानों का खजाना, सम्राटों के सम्राट का खजाना है ..आप जहा बैठते उठते , आप का जहा से श्वास चलता है, मन संकल्प विकल्प करता है, बुध्दी निर्णय करती है – ये सब बदल जाता है फिर भी जो नहीं बदलता है वो “सो-हम” “वो मैं  हूँ !”..

उस में विश्रांति पाते जाए तो वो दिन दूर नहीं की सम्राट भी आप के आगे कंगले लगेंगे…
दुनिया की संपदा शोषित कर के जो शोषक अपने को सुखी मानते वो कंगले लगेंगे…

आप इतने सुख में, इतने स्वास्थ्य में, इतने माधुर्य  में पहुँच जाओगे!..

सुन्या-संकडा कोई नहीं
सब के भीतर लाल
मुरख ग्रंथि खोले नहीं
कर्मी भयो कंगाल
भौतिक कर्मो में अपने को खपाओ मत..भौतिक कर्म करो लेकिन कर्तुत्व के अभिमान से अपने को मिटाने के लिए और  जिस से कर्म किये जाते है उस परमात्मा में विश्रांति पाने के लिए कर्म करो..कर्म  सेवा भाव , सदभाव और तत्परता से इसलिए करो की कर्म की वासना , फल की वासना चली जाए तो आप  निर्लेप नारायण हो जाओगे..

 

 मानो तो ऐसा मानो के बस वो है तो है! जानो तो उसी को जानो ! “सो-हम!” ….इस को अजपा गायत्री कहा गया है..
और कबीर जी ने कहा है की,

माला श्वासोश्वास की जगत भगत के बिच
जो फेरे सो गुरू मुखी ना फेरे सो नीच

 तो जो अधि-भौतिक को महत्ता दे बैठे…निचे कर्मों में , निचे भोगों में खपे है वो ऐसी ऊँची साधना नहीं कर सकता..अगर ऐसी ऊँची साधना करे तो नीची दवाईयां, निचे भोग और निचे कर्मों से मन उठ जाएगा ऊपर…

 

तो अब इस को गुरू आज्ञा समझो, गुरू कृपा समझो, गुरू सन्देश समझो की रोज  इस गुरू पूनम से आप को गायत्री अजपा जाप मूल गायत्री “सो-हम” में कम से कम  100 की गिनती करे और रात को 50 की….ये आसान नहीं है..श्वासोश्वास तो चलता है, लेकिन श्वास की रिदम बनाना , उस में मन लगाना और उस के  आनंद में प्रवेश करना शुरुवात में कठिन लगेगा…सुबह के 4  से 6 बजे के बिच के संधि काल में मन शांत भाव से निद्रा से उठाते उस समय करना  आसान पडेगा…

मेरी आज नींद खुल गयी थी साढ़े 3 बजे, मैं  लेटे  लेटे 4 बजे तक उसी में था…फिर 4 बजे के बाद मैं  उठ के बैठा..धरती पर मेरा आसन बिछा रहेता है..करते करते 7 बजे तक चला…फिर थोड़ा घूम के आये फिर ध्यान आसन ये चलता रहा..तो प्रतिदिन 2-4 घंटे परमात्म ध्यान में गुजारने चाहिए…

ध्यान के समान कोई तीर्थ नहीं
ध्यान के समान कोई यज्ञ  नहीं
ध्यान के समान कोई तप नहीं
ध्यान के समान कोई दान नहीं
ध्यान के समान कोई स्नान नहीं

स्नान करते तो तुम्हारा स्थूल शरीर नहाता है लेकिन इस अजपा ध्यान में तुम स्वयं परमात्मा में नहाओगे..
दान करने से तुम्हारा धन शुध्द होता है लेकिन ध्यान करने से तुम स्वयं शुध्द हो जाओगे..

कर्ता  शुद्ध हो जाएगा तो उस के कर्म भी शुध्द हो जायेंगे..फल भी शुध्द आयेगा..कर्ता अशुध्द होगा तो कर्म करने पर भी कर्ता का उद्देश अशुध्द होने से अपने और दुसरे के लिए मुसीबत बनेगा..ठग बनेगा..

 बनते भगत ठगते जगत पड़ते भव के जाल में

 तो अध्यात्मिक ज्ञान के बिना भौतिक ज्ञान आदमी को खपा खपा के खपायेगा, खपा खपा के खपायेगा…कितना भी भौतिक ज्ञान पा लिया तो भी आप को नोकरी धंदा कुछ करना है..फिर रुपियों पैसो से कुछ वस्तुएं लानी है..वस्तुओं को नियंत्रित हो कर  भोगे तो वैराग्य आयेगा ..लेकिन नियंत्रण नहीं है तो राग उत्पन्न होगा..राग होगा तो द्वेष होगा..जनम मरण के चक्र को  आप गति दे रहे भौतिक सुख ले कर…भौतिक ज्ञान और भौतिक सुख आप मुसीबत बढाने के लिए ले रहे है..भौतिक ज्ञान और भौतिक सुख में अधि दैविक और  अध्यात्मिक का सम्पुट लगा दीजिये तो आप उस का सत उपयोग कर लेंगे..

 घोड़ा तो पाला है लेकिन घोड़े की लगाम नियंत्रण में नहीं है तो घोड़े की पूछ पकड़ लिया तो परेशान हो जायेंगे..
जो आया सो खा लिया, जो आया सो बोल दिया, जहा मिला वहा चल गए..जिस किसी से मेल-मिलाप कर दिया..अरे भाई!ये तुम्हारे रास्ते का है या तुम्हे साधना से गिरानेवाला है ये विचार कर …

 श्रीकृष्ण भगवान  कहेते है :- 

निर्माण मोहा   -मोह का निर्वाण करो

जीत संग दोषा  -संग के दोषों को जीतो, संग के दोषों में गिरो मत.

अध्यात्म नित्या  – नित्य अध्यात्म का रस पान करो..

 विनियेत कामा   – कामनाओ को निवृत्त करो..ये कामना पूरी करने में तो पराधीनता है पुरुषार्थ की , वक्त की , व्यक्ति की, वास्तु की..लेकिन कामना निवृत्त करने में तुम स्वतंत्र हो!

 100 की कर दो 60  ( 100 कामना में से 60 कर दो)

आधा कर दो काठ ( 30 हो गए)

10 देंगे, 10 छुडायेंगे

10 के जोड़ेंगे हाथ !

अभी तो ‘सो-हम’ में टीको..तो आप सचमुच में समाज के तारण हार हो जाओगे , फिर आप के डूबने का सवाल ही नहीं पैदा होगा!..इस साधना में लगे रहो…
चलती चक्की देख के दिया कबीरा रोये
2 पाटन के बिच में साबित बचा न कोए
गेंहू के दाने हो या बाजरे के  हो चक्की के बिच आते तो पीस जाते.. लेकिन संत ने और गहेराई में जा कर उपाय खोज लिया :-

 चक्की चले तो चालन दे, तू काहे को रोये?
लगा रहे तू खिल पर, बाल ना बांका होए

 जो दाना खिल पर अटका रहेता है, वो पिसता नहीं है..ऐसे आप अपने “सो-हम “स्वभाव में टिके रहे तो आप विकारों में पिसने से, दुखों में पिसने से बच गए…

इस अजपा जाप को प्रीति  पूर्वक आरम्भ  करो..

तो इस को इस गुरू पूनम का नया पाठ कहो, नयी साधना कहो..है तो बड़ी प्राचीन ..ये सोऽहं की साधना करोगे तो मन नियंत्रित होगा..घर के झगड़े शांत होंगे…वासनाओ का वेग शांत होगा,राग शांत होगा, द्वेष शांत होगा..काम शांत होगा, क्रोध शांत होगा…एक दिन में नहीं, सुबह आधा-पौना घंटा उस ही में लग जाओ..फिर दोपहर की संधि काल में जहा भी जैसा समय मिले थोड़ा करो..फिर शाम की संधि में करो..इस से आत्म वैभव प्रगट होगा…

भौतिक ज्ञान क्रिया में ले जाएगा, फिर धन में ले जाएगा, अच्छाई -बुराई से धन आयेगा..फिर भोग भोगो और अच्छे  और बुरे जन्मो में भटको इस का अंत नहीं है…

अधिदैविक में ज्ञान पा कर कुछ करना नहीं है, चिंतन मात्र से आत्म संतुष्टि से मन , मति और प्रारब्ध में आकर्शिणी  शक्ति से संसारी चीजे आप की सेवा में हाजिर हो जायेगी…जैसे रावण के लिए सोने की लंका और हिरण्यकश्यपू के लिए हिरण्यपुर आदि ..
भौतिक से अधि दैविक उंचा है..जैसे नेत्र के स्वामी चन्द्रमा है, बुध्दी के स्वामी सूर्य देव है..इस प्रकार देवो की उपासना मन से करो तो देवों में जो देवत्व है उस की भक्ति पूजा सुमिरन भगत लोग करते है उस से संतुष्टि मिलेगी लेकिन भगवान बाहर है, दूर है..उन की कृपा से ये हुआ.. ‘उन की कृपा से वो हुआ’ .. ये भाव  बना रहेगा ..इस में ही रहोगे..

लेकिन जब अध्यात्म में आ गए सीधा सोऽहं स्वरुप में तो परमात्मा दूर नहीं है, दुर्लभ नहीं है..परे नहीं है, पराये नहीं है..वे सत  है सदा है, चेतन रूप है, बुध्दी में उन्ही का ज्ञान आता है..आनंद स्वरुप है और मेरे आत्म रूप है..तो आप को कुछ भोगना नहीं, करना नहीं, ऐसी ऊँचाई पर पहुँच जाओगे..
 अधि दैविक शक्तियों से हिरण्यकश्यपू के दृष्टी मात्र से  बिना जोते बिना बोये खेत खली में धान पैदा हो जाता था, अधि दैविक शक्ति से समुद्र उछल उछल कर रत्न संपदा देता था..धरती के गर्भ में  छिपे धातु धरती पे आ जाते थे..ये अधि दैविक  शक्तियां   थी, लेकिन फिर भी वासनाए नहीं मिटी .. आत्म रस के बिना वासना मिटेगी नहीं…

बिनु रघुवीर पद जीव की जरनी ना जाई..

 परमात्मा के बिना जीवात्मा की तपन नहीं मिटती.. तो आप परमात्म पद में पहुँचो..अगर मिले तो परमात्म सुख मिले, परमात्म लाभ मिले…

आज से बापूजी की आज्ञा है, जो भी है देश विदेश में जो सुन रहे सब इस में लगो..
श्वास अन्दर गया “सो- हम”..अथवा “ॐ” जो आनंद स्वरुप है, ज्ञान स्वरुप है..जो सब का हितेषी है वो मेरा परमात्मा है..श्वासोश्वास का साधन शुरू कर दो..10 माला करते वो ठीक है, लेकिन ये श्वासोश्वास के साधन को आप बढ़ा दो..सुबह नींद में से उठते ही करो तो इस में जल्दी गति होगी…शुरू शुरू में भले ही गति ना हो , लेकिन आप साधन करते जाओ ..मन इधर उधर जाएगा अथवा नींद आएगी तो सुबह तो बैठ के ही करना है, नींद के चक्कर में नहीं पड़ना है..रात्री को सोते सोते भी करो..नींद आ जायेगी तो भी योग निद्रा हो जायेगी…

मुझे इस साधन से बड़ा गजब का फायदा हुआ..आप आत्म तृप्ति में रहो..परमात्मा में रहो..

 भौतिक जगत में मानव रोता हुआ जनमता है, फरियाद करता हुआ जीता है और निराश होके मरता है..इस से आधी दैविक में कम रोता है, कुछ भोगता है संयम से… लेकिन फिर भी हिरण्य कश्यपू  और रावण कोई पूर्ण संतुष्ट हो के नहीं गए..

शबरी भिलन को सदगुरू  मिले थे तो रोम रोम में रमने वाले राम में स्थिति हो गयी..राम कहो, सोऽहं कहो, ॐ कहो ..एक ही है..तो अंतरात्मा राम का भी सुख मिला, दशरथ नंदन राम के भी दर्शन हुए..और पूर्णता को भी पा लिया..मीरा बाई ने पूर्णता को पा लिया, सहजो बाई ने पूर्णता को पा लिया..नरसी मेहता, आखा भगत और कई महापुरुषों ने पूर्णता को पा लिया..छत्रपती शिवाजी गला डूब व्यवहार में रहेते राज काज के लेकिन फिर भी गुरू समर्थ के प्रति आदर था और इस चीज के लिए तड़प थी तो शिवाजी ने भी साक्षात्कार कर लिया..

तो आप भी साक्षात्कार करने का ईरादा पक्का करो..बाकी की मदद..तुम को तो पता है बापूजी यही चाहते की,

 सब झोली भर ले निज आत्मा का दर्शन कर ले..

मैं ये नहीं चाहता की तुम गुरू पूनम को हार लाओ, दक्षिणा दो ये मैं  नहीं चाहता..इस निमित्त आप आगे बढ़ जाओ बस…

 

 

पंडाल के बाहर पीछे बैठे भक्तों के भगवान!


ॐ शांती .

 

श्री सद्गुरूदेव  जी भगवान की महा जय जयकार हो!!!!!
गलतियों के लिए प्रभुजी क्षमा करे…

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

Advertisements
Explore posts in the same categories: Pujya Bapuji

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s


%d bloggers like this: