Guru bin bhav nidhi tarahi naa koyi

SAHEJ SUNDAR SAAI

15 July 2011; Ahmdaabaad Guru Punam Mahotsav.

 (pujyashri sadgurudev ji bhagavaan ne dada guruji shri Lilaashaah  mahaaraaj ji aur aaj kaa din jin ke sumiran me manaayaa jaataa ve ved vyaas ji bhagavaan ko naman kiyaa..)

log bolate ham guru kyo kare?

vyaas ji ko kyo maane? guru ko kyo maane? bhagavaan kripaa karate hai..

..to bhaai karate honge bhagavaan kripaa!..jab koyi guru hi nahi hai to koyi bhakt bhi nahi banegaa ( bhakt ka arth ye nahi ki mandir me ghanti bajaaye, prasaad dhar de..bhakt vo hai jo  “mai kaun hun?” aur “meraa kyaa hai?” is ka bhaag kar sake..) ..koyi bhakt nahi banegaa to bhagavaan kis par kripaa karenge?

jab guru hogaa tab bhakt banegaa..bhakt banegaa to bhagavaan kripaa karenge..nahi to bhagavaan kis par krupa karenge?sabhi par karenge to niyaman dosh aa jaayegaa…chaparaasi aur pradhaan mantri ek hi jagah par baithenge..pradhaan mantri aur chaparaasi ka dimaag ek jaisaa nahi hotaa, yogyataa ek jaisi nahi hoti , yogyataa ke anusaar pad milataa hai aur yogyataa se hi pad sambhaalaa jaataa hai..bhais charaanewala head maastar ho jaayegaa to bachchon ka kya hoga?..aise hi bhagavaan kripaa karenge to kis par karenge?..bhakt par hi to karenge..jab guru hi nahi honge to bhagavaan ki priti kahaan se hogi ? bhakti kahaan se hogi? bhakt hi nahi banenge to krupaa kis par karenge?

isiliye bhagavaan ved vyaas ji ne ek ved  kaa sabhi ko ved samajh men aaye aise 4  vibhaag kiyaa..isliye ved vyaas ji kahelaaye.

maine guruji ka pujan kiya tha, abu ki guphaa men rahetaa thaa..man hi man guru ji ko snaan karaayaa tha..vastra pahenaaye, chandan lagaayaa tilak bhi lagaayaa..mai apani privet baat bataataa hun 🙂  mogare ke phulon ka sugandh achchhaa hotaa hai to  mogare ki 2 mala guruji ko arpan kiyaa, paise dene nahi the ..man hi man paheraanaa tha..to kanjusi kyo kare? 🙂 mala ki suwaas ka aanand to is naak ko hotaa hai lekin hey gurudev aap to drushti maatr se hamen sw kaa aanand dete!hey satchitaanand gurudev! om gurubhyo namah.. om guru om…om aanand guru…om maadhury guru..aise karate karate dhyaan to guruji kaa kiyaa lekin kaam meraa ho gayaa!ekalavya ne dhyaan kiyaa hogaa nishaanebaaji ke liye , lekin maine nishaanebaji ke liye nahi kiyaa..maine mere gurudev kaa hi dhyaan kiyaa..jo guruji hai waisaa chintan kiyaa ..to guruji kyaa hai? guruji  aur ram..ram aur guruji dikhate 2 hai lekin hai to 1..jo rom rom bas rahe vo ram hai..

umaa ram swabhaav jehi jana, taahi bhajan bin bhaav na aanaa

antaryaami raam guru ka jis ne swabhaav jaan liyaa us ka bhajan chhod kar kahi man phasegaa nahi..chaahe kitana yash aa jaaye athavaa nindaa aa jaaye, chaahe kitani suvidhaa aa jaaye athavaa kitani bhi a-suvidhaa aa jaaye..sab swapnaa hai aur meraa guru tatv apanaa hai!

om guruji om ..om prabhuji om..pm mereji om..

bhagavaan ka dhyan karane me to mehanat pade mujhe kyo ki bhagavaan dekhe nahi hai..bhagavaan ke baar me sunaa hai lekin guruji ko to dekhaa bhi hai..charnon se lekar shikhaa tak dekhaa hai..daahe se bhi dekhaa hai baahen se bhi dekhaa hai..un ko ghurate bhi dekha hai, hasate bhi dekhaa hai..kalyaan daayi krupa drushti karate bhi dekhaa hai..us ka chinntan sahej men hotaa hai..guru tatv aur iishwar tatv ek hi hotaa hai…

ek badaa vidwaan pandit thaa..saare shaastr sath me hi lekar ghumataa ..jo bhi shaastarth kare us ko vo paraast kar kar detaa  (haraa detaa)..chalate chalate vo pandit thakaan ke kaaran kisi vruksh ke niche baithaa…sandhyaa ka samay thaa..us vruksh par bramh raakshas rahetaa thaa..dusaraa koyi aayaa us vruksh par baithane to bramh raakshas bola, ae! hat jaa hat jaa!…baithane wala bola, mujhe kyo hataataa hai bhaiyaa? tu bhi bramh raakshas, mai bhi bramh raakshas!

pahelaa bola, arre tere ko pataa nahi hai..ye vruksh ke niche baithaa pandit maregaa aur bramh raakshas ho kar rahegaa yahaa is vruksh par..ye us ki jagah hai!..

pandit wahaa sandhyaa ke samay sandhyaa kar rahaa tha..pandit ki kuchh punyaayii hogi , sandhyaa ka prabhaav hogaa to pandit ko in yakshon ka prabhaav sunaayi padaa… sochaa, “baap re!..mai itanaa badaa bhaari pandit..mere naam se sabhi vidwaan kaapate hai..aur mai marungaa to bramh raakshas hovungaa!..jis ko vidyaa ka garv hotaa hai vo hi to bramh raakshas hotaa hai..kya mujhe meri vidyaa ka garv raakshas yoni me le jaayegaa?”

sandhyaa kaal men sushumnaa naadi khuli raheti hai..sandhyaa kaal kalyaan kaari kaal me se hai..

4 sandhyaa kaal hote hai :-

1) subah suraj uday nahi huaa aur chandramaa ji dikhaayi denaa band huaa aisa sandhi kaal ..us samay devataa maane indriyon kaa aakarshan to sotaa hai, parantu us kaal me mantr devataa jaagrut hote hai…ye kaal me aap kaa shubh sankalp phalane ki awasthaa hoti hai..sury uday nahi huye, honewaale hai aur chandr ab dikhaayi nahi dete aisaa sandhi kaal mantra sidhdi ka yog hai..

2) aise hi dopaher ke 12 bajane ke kuchh minat pahele aur 12 bajane ke kuchhh minat baad sandhi kaal hotaa hai…

3) aise hi sury ast nahi huye lekin sury ka prakaash din jaisaa nahi rahaa…kuchh laalimaa rahi, sury ab vidaay ho rahe..vo sandhi kaal hai..

4) raatri ke 12 baje ka bhi sandhi kaal hotaa hai..

in sandhi kaalon ko chaaturmaas me sawaar le aur dhyaan bhajana karen to us men vishesh saphalataa ki sambhavanaa hai..devshayani ekaadashi( 12 july  2011) se chaaturmaas shuru ho gayaa hai..dev uthi ekadashi tak (6 Nov 2011) bhagavaan naaraayan apane bramh swabhaav men yog nidraa men rahenge..

vaaman pandit sochane lagaa …shaastraarth kar ke kayiyon ko paraast kar ke jaa rahe the..vriksh ke niche sandhyaa kar rahe the..vriksh par baithe bramh raakshason ki aapas men tu tu mai mai huyi..ek bramh rakshas dusare ko bola ki ye vaaman pandit ki jagah hai, yahaa tum nahi baithanaa..dusaraa bola ki kyo? to bole ki vo pandit shaastraarth kar ke  apane aham ko posataa hai!shaastr to achchhe hai lekin us ko aham posane ka raastaa milaa hai..aham posane ke liye jo dharm ka upyog karataa hai vo  bramh raakshas banane ke kaabil hai naa?…us kaa aasan yahaa hi is vriksh par hai..ye sambhaashan vaaman pandit sun liyaa..saare shaashtr wahaa hi visarjit kar diye!..himaalay ko chalaa gayaa..mai vaaman pandit ko khub khub dhanywaad dungaa..bramh raakshason ki baat sun kar sarvasw tyaagane ka saamarthy hai! manushy ke paas ye bahot badi uplabdhi hai!..maut to sarv tyaag karaa deti hai  , lekin jeete jee sarv tyaag ka  saamarthy jutaa paaye to sarv jis kaa hai vo sarveshwar aap ka aatm dev pragat ho jaayegaa !

tyaagaat shaanti nirantar..

himaalay me vaaman pandit varsho tak rahe..lekin bhagavaan nahi mile aur tatv rup se bhi pragat nahi hote..to is ahankaari sharir ko jindaa rakh kar kya karanaa?pahaad ki choti par chadhe aur “jay shrihari!” bol kar dhadaak apane ko phenkane ko gaye..lekin hari to hari hai naa! 🙂 ..hari maane guru ..gu maanaa agyaan, ru maane sidhi daayak bij..ur me pragat hone waale gyan!..bhagavaan ka ek naam “guru”bhi hai…guru pragat huye / hari pragat huye / bhagavaan pragat huye ye sabhi ek hi ke sab naam hai !..to bhagavaan pragat ho gaye..vaaman pandit ko rok diyaa aur apanaa baayaa haath vaaman pandit ke seer par rakhaa..bole,

“vaaman pandit teraa mangal ho!”

pandit bola, “bhagavaan aap itani tapasyaa aur itani kasoti ke baad mile..phir bhi shaastra me to likhaa hai ki daayaa haath rakhate hai..aap ne baayaa kyu rakhaa?”

bhagavaan bole, “arre vaaman tu itanaa vidwaan ho kar ye nahi jaanataa ki daayaa haath seer par rakhanaa guru kaa kaam hai, bhagavaan ka nahi hai..”

vaaman pandit aaschary chakit ho gayaa ki, “bhagavaan aap ne guru ke haq ki surakshaa ke liye mere seer par baayaa haath rakhaa, daayaa nahi rakhaa!ye aap bol rahe!..to kyaa aap se bhi guru ka adhikaar badaa hai?”

bhagavaan bole, “haa!badaa hai!!mai awataar lekar bhi guru ka sharanaagat hotaa hun..guru to guru hi hai..vaaman pandit jab tak guru ka gyaan nahi milataa tab tak meraa maayaavi rup dikhataa hai..aur vo maayaavi rup bulaane par pragat hotaa hai aur antardhaan ho jaataa hai..kabhi kisi nimitt meraa ye rup pragat huaa to bhi thodi der ke baad chalaa jaataa hai..adrushy ho jata hai..”

pandit ne puchhaa, “to mujhe guru kahaa milenge?”

bhagavaan bole, “sajjan gadh men!”

“achhaa!samarth raamdaas!”

pandit ne prabhu ko pranaam kiyaa, prabhu to antardhaan huye..

ab ye bhaai saahab pahunche mahaaraashtra men sajjan gadh par..samarth raamdaas ki stuti ki..samarth raam daas prasann huye..apanaa daayaa haath pandit ke pith par sparsh kiyaa…bole, “waah waah aa gaye!..apane ghar aa gaye jahaa aap ko aanaa thaa!”

pandit bola, “gurudev ! aap mujh par daayaa haath to rakhe hai lekin seer par kyon nahi rakhate?”

samarth bole, “arre pagale! seer par to narayan ne apanaa baayaa haath rakh diyaa naa! 🙂 “

pandit bola, “to aap daayaa haath kyu nahi rakhate?”

samarth bole, “narayan ka baayaa bhi hai aur daayaa bhi hai!!..jab narayan ne rakh diyaa to yahaa bhi to narayan hai!narayan me se hi samarth ramdaas hai..!”

vaaman pandit gadgad ho gayaa ki mere saare shaastr aur saari tapasyaa guru krupaa ke aage bahot chhoti ho jaati hai..

mai aap ko sachche hriday se prayatn karataa hun bol paane kaa..maine itani koyi tapasyaa nahi ki..maine itani koyi vidyaa arjit nahi ki..mere paas aisi koyi yogyataa nahi jo karodo karodo log ghanto baith ke sunate rahete hai..pahele jo 2 karod log maanate the ab bole adhaayi gune se bhi jyaadaa ho gaye ..matlab 5 karod se bhi adhik..log bolate kayi gune ho gaye..kayi gune waali baat abhi bhi mujhe dikhaayi de rahi hai..3 saal pahele itani jagah par poonam nahi hoti thi, tab jo bhid thi us se bhi jyaadaa abhi yahaa bhid ho rahi hai jab ki 11 sthaano par gurupoonam ka satsang huaa hai..chandigadh se gurupunam chali..raypur..ujjain..bhopaal..haidraabaad..banglor..punaa…ulhaas nagar..kalkattaa..delhi aur jaypur  poonam kar ke aaye hai..us samay itani jagah poonam nahi kiye the..phir bhi us samay se bhi kayi gunaa adhik bhid aaj yahaa hai..ye kyaa jaadu hai?itanaa ku-prachaar hone ke baad bhi log kayi gune badh gaye ..ye mere bas ka nahi hai..ye ku-prachaar waalon ke bas nahi hai.. ye su-prachaar waalon ke bas nahi hai..

ye to guru krupaa hi kewalam shishyasy param mangalam!

usi param guru ke aap ham sabhi shishy hai..baalak hai..

mai to kahetaa hun ki yahaa guru punam ke nimitt padhaare huye sabhi bhakt dharati ke devataa hai..

bhagavaan krupa karenge lekin jab guru nahi honge to bhakt kaun banegaa? bhakt nahi banoge to bhagavaan kaise krupa karenge?

guru krupaa hi kewalam shishyasy param mangalam!

 chintaamani granth me guruon ke 12 swabhaav ham ne sune aaj hi! 🙂

 1)dhaatuwaadi guru : mantra liya ab tirtharatan karo..bhikshaa maang ke khaao athavaa ghar kaa khaao to pyaj lahesun na khaao, ye na karanaa..vo naa karanaa ..is bartan men bhojan karanaa aise sonaa aadi..ye dhaatuwaadi guru hote hai..achhe hai, dhanywaad hai, pranaam hai..

2) chandan waadi guru : waani se, aacharan se hamaare me sanskaar bharate..un ki suwaas ka ham chintan karate to ham bhi samaaj men suwaasit hone ke kaabil ho jaate..

3)vichaar waadi guru :  jo saar hai vo bramh paramaatmaa hai..a-saar hai ashtadaa prakruti ka sharir..prakruti ka sharir prakruti ke niyam se rahe lekin aap apane bramh swabhaa men rahe…is prakaar ka vivek jagaane waale vichaar pradhaan guru hote hai.

4)anugrah krupa pradaan guru : jaise kayi pashu pakshi door hote huye bhi apane bachchon ko posate hai aisi apani drushti se shishuon ka poshan karate hai..maargdarshan dete hai..shishya achhaa kaam karate to guru protsaaheet karate..gadbad kiyaa to maano guru ki murti maano naaraaj ho rahi hai…aise guru bhi hote hai..

5)paaras guru : apane haath ka sparsh athavaa vastu ka sparsh karaa ke hamaare chitt ke doshon ko har kar chitt men aanand, shaanti, maadhurya aur apani yogyataa bhar dete hai..

6) kachchhap rupaa guru :  jaise maadaa kachhuwaa drishti maatr se apane bachchon ko poshit karataa hai aise gurudev kahi bhi ho apani nuraani nigaah maatr se shishy ko divy anubhutiyaan karaate rahete hai..aisaa maine apane gurudev ke jeevan me dekhaa..maine anubhav kiyaa ki guruji kahi hai aur mere hruday me divya anubhav ho rahe hai to lagaa ki ye kaise ho rahaa hai?..to turant pataa chalaa ki wahaa meri taraf un ka sadbhaav huaa to yahaa pahunch gayaa hai!..

7) chandra waadi guru: jaise chandr ugate hi chintaamani se ras tapakane lagataa hai aise hi dayaa rupi guru ko dekhate hi hamaare antakaran me un ka gyaan, aanand, maadhury ka dayaa rupi ras tapakane lagataa hai..guru ki lilaaye athavaa guru ki ghatanaaye , bhajan chintan kar ke kisi ko bataate to bhi  hamen ras aane lagataa hai..

8) darpan sam guru : jaise darpan me apanaa swarup dikhataa hai aise hi guru ke samip jaate hi apane gun dosh dikhane lagate hai..aur apni mahaanataa ka ras bhi aane lagataa hai..shaanti aanand maadhury milataa hai..jaise maano guru ek darpan hai aur guru ko dekhate to guru  ka swarup  aur apanaa swarup milataa julataa pyaaraa pyaaraa lagataa hai!..

9)chhayaa nidhi guru : jaise dev  pakshi aakaash men udataa hai aur jis par us dev pakshi ki chhayaa padati vo raja ban jata hai…vo pakshi hamen aankhon se dikhaayi nahi detaa..phir bhi jis par us ki chhayaa pad gayi vo raja ho kar rahegaa.. aise hi jis par guru ki drushti athavaa chaayaa pad gayi vo apane apane vishay me raja ho jata hai.. jaise sureshaanand aaj kal raajaon ke raajaa ho rahe ! 🙂

10) naad nidhi mani waadi guru:  jaise paaras kewal lohe ko sonaa karataa aise ek mani hotaa hai jis ke sparsh se kewal loha hi nahi, koyi bhi vastu sonaa ho jaaye…

 ek vaishnav saadhu ne garib daas baba ko mani di..baba ne phenk di..sadhu ne kahaa ki mai to tumhaari garibi mitaane ke liye di aur tumane mani phenk di!..meri mani itani tapasyaa ke baad mili thi..ab kyaa hoga?..garibdaas ne kahaa, ye aap ke haath ka chimataa do..sadhu ne chimataa diyaa to garibdaas ji maharaaj ne apane lalaat ko chhuwaayaa..to chimataa sone ka ho gayaa!..ab lalaat paaras bhi nahi aur naad nidhi mani bhi nahi..ab kyaa varnan kare?..manushy ke chitt ki kitani mahaanataa hai!..to aise bhi guru hote hai ki jin ka lalaat hi naad nidhi mani ban jaataa hai! 🙂

dadu dindayaal ji ke shishy the garib daas ji..aisi aisi vaartaaye sun kar hruday aanandit ho jata hai..ahobhaav se bhar jaataa hai..ham kitane bhaagyashaali hai ki bhaaratiy sankruti ke granth padhane aur sunane kaa awasar milataa hai..

manushy ka mastak naad nidhi mani kaise ban jata hai..wahaa saayans bauni ho jaati hai..vigyaan ghutane tekane lagataa hai…

guru mumukshu par karunaa kar ke vaani bolate hai aur mumukshu suwarn to kya hai hire to kyaa hai raajy kyaa hai..in sabhi ka daataa ban jaataa hai..naad nidhi se unnat guru ki krupaa aur guru ka gyaan kaam karataa hai..naad nidhi ko mai chamatkaar maanataa hun ..lekin us se bhi karodo gunaa chamatkaar mere gurudev ki waani aur krupaa hai…un ke charano men meraa namaskaar hai..

12) krounch drushti ke guru : jaise krounch pakshi aakaash me hi rahetaa hai ..apane bachchon ke prati sadbhaav karataa hai , vo pusht ho jaate hai.. aise hi guru apane chidaakaash me hote huye  apane shishyon ke liye sadbhaav karate to shishyon ko gulguliyaan hone lagati hai..aur samajh jaate ki gurudev ne yaad kiyaa..mai to apane gurudev ko yaad kar rahaa hun.. 🙂

aap ki vansh paramparaa kyaa hai aap ko pataa hai?

paaraashar ji shakti ke putra the..shakti vashishth ji ke putra the..aur vashishth bramhaa ji ke maanas putr the..bramhaa ji bhagavaan narayan ke naabhi se pragat huye aur bhagavaan narayan sat-chidaanand bramh ki saakaar vigrah hai..

satchidaanand bramhaji – bhagavan narayan – bramhaa ji -vashishth ji – shakti ji – paaraashar ji -vyaas ji- shukdev ji – gaud paadaachaary ji  – govindaachaary ji  – jagad guru shankaraachaary ji  –  ( shankaraachaary ji  10 shaakhaayen giri puri aadi..) to aap ham dekhaa jaaye to bramh ki santaan hai…

  maa me paramaatm dev hai, pitaa me paramaatm dev hai,  kanya lakshmi rupa hai, bahurani lakshmi swarupaa hai..bandhu sakhaa me paramaatm dev hai..kidi me bhi mere paramaatm dev hai.. chhote se chhotaa aur bade me badaa vo hi hai..sab se chhote me chhotaa bacteriya se bhi chhotaa agar koyi hai to paramaatmaa hai!..aur sab se bade men badaa hai to anant bramhaandon ko bhi dhaap letaa hai..vo paramaatmaa hai!

om shri paramaatmane namah..

.. vo belaa dhan bhaagi thi jis me kisi ke nimitt vyakti kaa ahankaar visarjit ho..mamataa visarjit ho…bhagavaan ki priti jage..bhagavaan ki sharan jaaye..vo saubhaagy  ki ghadiyaa thi jab narendra ne ramkrishn dev ko kahaa hoga ki mai aap ka shishy hun..vo param unchi ghadi hogi jab vaaman pandit ne samarth raamdaas ji ke charano men shishy bhaav se shish jhukaayaa hogaa…arjun ke liye vo param unnat ghadi thi jab arjun shrikrishn ko bolataa hai ki mai aap ka shishy hun!aap se shaasit hone ke yogya hun..aap is jiv par anushaasan kijiye..

vo arjun ki saubhaagy ki ghadi thi!

arjun aisa nahi thaa ki kisi ke saamane jhuk jaaye..kabhi haaraa nahi tha..

arjun jaisaa shreshth yodhdaa bolataa hai ki mujhe rajy nahi chaahiye,meri mati mudh ho gayi hai, mai kya karun mujhe samajh me nahi aataa..

shrikrishn ne updesh diyaa tab arjun ko pataa chalaa ki gyaan ki kya mahimaa hai..guru ke binaa itanaa yodhdaa pan bhi vyarthy hai, shok se to nahi chhudaataa..

logon ke drishti se mai sanyami hun urvashi jaisi apsaraa ko thukaraa diyaa, us ke moh paash me atakaa nahi, shraap shirodhaary kar liya lekin sanyam toda nahi..agyaatwaas me saphal huaa..swayanvar men dropadi ke jitane me saphal huaa.. 

maidaano ne kahaa mai vigyaan se swarg ke liye sidhiyaa banaa dungaa lekin arjun ne kahaa ki nahi tumhara vigyaan rajo guni hai..arjun mantr shakti se swarg ki yaatraa karane  men saphal huaa…lekin apane hriday ka dukh mitaane men to saphal nahi huaa…abhi mai dukhi hun..mujhe shok hai..kinkartyavya mudh hun..

dhyaan se sunanaa :

aihik vigyaan rajoguni hai.daiik vigyaan satv guni hai.lekin tatv gyaan tino guno se paar hai…

to 3 vigyaan hai..

1)  bhautik vigyaan me aap jaano- sikho- prayatn karo- paao- bhogo aur phir shithil ho jaao..maro ..marane ke baad bhi waasanaa le jaa kar phir usi chakr me ghumo..ye bhautik vigyaan hai..

bhautik gyaan se vakil bano, engineer bano, doctor bano, manager bano,ministar bano..kuchh bhi bano.. lekin bano -phir vo chije paao- phir un ko bhogo- budhaapaa laao aur ant me un waasanaao ko le jaa kar chakr me chakkar kaato ye bhautik gyaan ka itihaas hai..

2) daivik gyaan : us men jaanane ke baad  baahar se paanaa nahi hai, karanaa nahi hai , kewal bhitar se chintan karanaa hai.. maanasik ekaagrataa , baudhdik vishraanti  se divy shaktiyaan, divy bhog milate hai..lekin vo bhi hai to antkaran ke bhog !

3) tisaraa hai tatvgyaan..us men jaan kar kuchh karanaa nahi, kuchh paanaa nahi..kuchh bhoganaa nahi..apanaa hi aapaa itanaa vibhu hai..itanaa vyaapak hai ..itanaa mahaan hai ki indr ka pad bhi chhotaa ho jata hai..

aatm laabhaat param laabham na vidyate

aatm gyaanaat param gyaanam na vidyate

aatm sukhaat param sukham na vidyate..

ye adhyaatm gyaan hai..vyaas ji aur 12 prakaar ke lakshan jin guruon men ghatate hai ve aise daataa hote hai..aii haii !! 🙂

mai to saubhaagyshali ke paraakaashtaa par hun ki mujhe aise lilaashaah prabhu ne apanaa maan liyaa !

arjun ke saubhaagy ki ghadi aayi!!

saadhu maam shishyasy!

arjun ke liye vo param unnat ghadi thi jab arjun shrikrishn ko bolataa hai ki mai aap ka shishy hun!aap se shaasit hone ke yogya hun..aap is jiv par anushaasan kijiye..

vo arjun ki saubhaagy ki ghadi thi!

kabir ji ki vo punyamay ghadi thi ki Ramaanand ji ko kahaa ki aap mujhe sweekar kijiye..

shivaaji ke jeevan ki vo  param ghadi thi jab samarth ne us ko sweekar kar liyaa..

 kalakattaa ke yuwak Narendr ke liye jo kayiyon ko hilaate dulaate prashn puchhate …bade bade vidwaan bhi narendra se darate ki vo prashn puchhataa iishwar dekhaa hai to bataao! baaton se nahi chalegaa..

narendra kahi bhi jhuk jaaye aise nahi the ‘jhuku bhaiyyaa!’   un ko iishwar ko milane ki bahot tadap thi..to narendra jis kisi sadhu ke paas pahunch jaate ki aap ne iishwar dekhaa hai?aap iishwar se mile hai?..koyi shaastr samajhaate to bolate ki ye bhaashan nahi sunaao..aap ne iishwar dekha hai to mujhe dikhaao!..pothi men ye likha vo likhaa nahi sunaao..aise kayi saadhuon ko chup karaa dete…saadhu log kalakattaa jaate nahi aisaa narendra kaa puchhane ka tarikaa tha..koyi bhaashan kartaa kalakatte men jaane se kataraate ki vo ladakaa bich sabhaa men khadaa ho jaayegaa..puchhegaa ki mahaaraaj iishwar ka bhajan karo ye karo bolate to kyaa aap ko mile hai? mile to ham ko milaao..itanaa saal ye karo , vo karo..aisaa nahi, mile to ham ko dikhaao..

…ravindranaath tagor ke kaka kalakatten me double manjil ki naav me gangaaji men  tapasyaa karate sadhanaa karate..narendra din me nahi jaa sakate the to raat ko kud pade gangaa ji men ..aur tairate tairate wahaa jaa pahunche jahaa un ki naav gangaa ji me langar daal ke khadi raheti..naav men chadh gaye kaise bhi..us samay prabhaat ho gayi thi..ravindranath tagor ke kaka ji baithe the dhyaan men ..narendra ne jaa kar un ka kolar pakadaa..puchhaa ki kaka tum ne iishwar dekha?saakaar hai to kaise hai? niraakaar hai to kaise hai anubhav karaao..iishwar dekhaa to mujhe dikhaao!

kaka bole, ‘tum baitho mai gita ka sidhdaant bataataa hun..’

narendra bola, ‘gitaa ka sidhdaant nahi chaahiye mujhe, vidwattaa nahi chaahiye mujhe..anubhav chaahiye..mujhe ab jina mushkil ho rahaa hai..

mujhe jaldi bataao..’

 ravindranaath tagor ke kaka ko daantate huye narendra  waapis chale gaye..

us ko bahot tadap thi iishwar se milane ki..tadap! tadap!! tadap!!!…tadap ke binaa   guru kitanaa bhi barase phir bhi iishwar prapti nahi hoti..

aise tadapane waale kayi jagah se jhujhate huye narendra aakhir gadaadhar pujaari me se bane huye ramkrishn param hans ke paas pahunche… un ki gardan pakad li..likhit pustak ke aadhaar pe kahetaa hun.., ‘bataao..iishwar ko dekhaa hai?’

ramkrishn param hans ji ne ghabaraa kar nahi narendra se bhi jyada dam maar kar narendra ki koler pakad li aur kahaa, ‘haa! dekha hai!! hai dekhane ki taakad?’…narendra ke haath pakad liye aur apane pair ka anguthaa narendra ke hruday ko sprash karaa diyaa..ohhhhhh!!!

dhyaan lag gayaa! jeevan bhar Narendra(swami vivekaanand) Ramkrishn ji ke geet gaate gaate guru bhakti ke mahaan phal ko paate aur logon ko baatate baatate amar gati ko praapt huye!!

dhyan mulam guru murti..

mai kaali ki upasanaa, hanuman ki upaasanaa , devi devataaon ki upaasanaa ki..lekin jab sadguru mil gaye to un ka dhyaan, un ka chintan , un se vaartaalaap, unhi ki maanas pujaa aur unhi ki baahya puja ..sab karate karate mujhe itanaa laabh huaa ki maine itani sewaa nahi ki jitanaa us ka phal dikhaayi de rahaa hai..is phal ka to mai bayaan hi nahi kar sakataa hun..abhi yahaa baithaa hun, bol rahaa hun to ye duniyaa ke kayi desh, bhaarat ke kayi shaher, kayi gaanv aur kayi kasabe aur kayi galiyaayen abhi aadar se haath jod kar is samay tv, computer athavaa mobile  ke paas baithe hai un ka varnan karungaa to samay chalaa jaayegaa..!

 naamdev maharaaj ko santon ne kahaa ki tu kachchaa ghadaa hai to naamdev ko dukh huaa..viththal bhagavaan ke paas gayaa mandir men..viththal bhagavaan pragat huye..bole haa tum kachchaa ghadaa ho…aap ka darshan hotaa hai phir kachchaa ghadaa kaise? ped par us ko chadhanaa chaahiye jis ko phal chahaiye, lekin jo phal khaa rahaa hai us ko ped par chadhane ki kyaa jarurat hai?..aise hi mujhe aap ka darshan ho rahaa hai, aanand aa rahaa hai, bhaav aa rahaa hai..

viththal bhagavan bole, ye bhaavanaa pradhaan hai, tisare sharir ki upalabdhi hai..meraa maayaa ka sharir tere aage pragat hotaa hai..jaise swapne ka dhan swapne me hi rahe jaataa hai, jaagrut me kaam nahi aataa aise yahaa ka darshan yahaa hi rahe jaataa hai..aatmaa ka saakshaatkaar nahi hotaa tab tak sab maayaavi hai..

narasi mehataa ji ne bhi kahaa,

jyaa lagi aatm tatv chinyo nahi tyaa lagi saadhanaa sarv jhuthi

aakhaa bhagat ne bhi kahaa,

sajeev ne nirjeev ko banaayaa..sajeev manushy ne mandir banaayaa , math banaayaa, charch banaayaa aur phir wahaa naak ragad rahaa hai ki mujhe ye de vo de..

teri ek aankh phuti ki 2?

aisaa aakhaa bhagat bolate..

sajeev ne nirjeevo ne ghadyo pachhi kahe manye kaahi de

aankhaa tame ye puchhi ki tamaari ek phuti ki be ?

akhandaanand ji kahete ki bhagavaan  karate honge dayaa to jaao le lo!..lekin guru nahi honge to satsang nahi hogaa, bhakt nahi banenge to bhagavaan dayaa kis par karenge? sabhi par dayaa karenge to kaary kaaran dosh vyavasthaa dosh aa jaayegaa..gadhe par krupa karo aur tapaswi par kripaa karo to gadhe aur tapaswi me pharak nahi rahegaa..pradhaan mantri ko bhi vo hi kursi aur chaparasi ko bhi wo hi vyavasthaa  denge to vo ho nahi sakataa?..bhagavaan krupa karenge to bhakt honge tabhi to karenge..aur bhakt kaise honge jab guru honge tabhi to bhakt honge..

isliye tulasi daas ji kahete,

guru bin bhavnidhi tarahi naa koyi

chaahe biranchi shankar sam hoii

shankar ji ke naaii pralay ka saamarthy ho yaa bramhaa ji ke naaii srushti banaane ka saamarthy ho lekin guru ke binaa janam maran se , bandhano se, vikaar waasanaao se nahi chhutegaa..

kabir ji kahete ki,

kabiraa ve nar andh hai hari ko kahete aor guru ko kahete aor

hari ruthe guru thor hai, guru ruthe nahi thor…

om guru om..om aanand om..is men shaant hote jaao..is se vikaar waasanaa shant ho jaaye aur bhagavaan ka aanand badhataa jaaye..

om shanti

SHRI SADGURUDEV JI BHAGAVAAN KI MAHAA JAY JAYKAAR HO!!!!!

Galatiyon ke liye Prabhuji kshamaa kare… 

ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ

गुरू बिन भव निधि तरही ना कोई
15 जुलाई 2011; अहमदाबाद गुरू  पूनम महोत्सव.

 (पुज्यश्री सद्गुरूदेव  जी भगवान ने दादा गुरूजी श्री लीलाशाह महाराज जी और आज का दिन जिन के सुमिरन में मनाया जाता वे वेद  व्यास जी भगवान को नमन किया..)

लोग बोलते हम गुरू क्यों करे?

व्यास जी को क्यों माने? गुरू को क्यों माने? भगवान कृपा करते है..

..तो भाई करते होंगे भगवान कृपा!..जब कोई गुरू ही नहीं है तो कोई भक्त भी नहीं बनेगा ( भक्त का अर्थ ये नहीं की मंदिर में घंटी बजाये, प्रसाद धर दे..भक्त वो है जो  “मैं  कौन हूँ?” और “मेरा क्या है?” इस का भाग कर सके..) ..कोई भक्त नहीं बनेगा तो भगवान किस पर कृपा करेंगे?

जब गुरू होगा तब भक्त बनेगा..भक्त बनेगा तो भगवान कृपा करेंगे..नहीं तो भगवान किस पर कृपा करेंगे? सभी पर करेंगे तो नियमन दोष आ जाएगा…चपरासी और प्रधान मंत्री एक ही जगह पर बैठेंगे..प्रधान मंत्री और चपरासी का दिमाग एक जैसा नहीं होता, योग्यता एक जैसी नहीं होती , योग्यता के अनुसार पद मिलता है और योग्यता से ही पद सम्भाला जाता है..भैस चरानेवाला हेड मास्टर हो जाएगा तो बच्चों का क्या होगा?..ऐसे ही भगवान कृपा करेंगे तो किस पर करेंगे?..भक्त पर ही तो करेंगे..जब गुरू ही नहीं होंगे तो भगवान की प्रीति  कहाँ से होगी ? भक्ति कहाँ से होगी? भक्त ही नहीं बनेंगे तो कृपा किस पर करेंगे?

इसीलिए भगवान वेद व्यास जी ने एक वेद  का सभी को वेद समझ में आये ऐसे 4  विभाग किया..इसलिए ‘वेद व्यास जी’ कहेलाये.

सहेज सुन्दर साईं




मैंने गुरूजी का पूजन किया था, अबू की गुफा में रहेता था..मन ही मन गुरू जी को स्नान कराया था..वस्त्र पहेनाये, चन्दन लगाया तिलक भी लगाया..मैं  अपनी प्राईवेट  बात बताता हूँ  🙂   मोगरे के फूलों का सुगंध अच्छा होता है तो  मोगरे की 2 माला गुरूजी को अर्पण किया, पैसे देने नहीं थे ..मन ही मन पहेराना था..तो कंजूसी क्यों करे?  माला की सुवास का आनंद तो इस नाक को होता है लेकिन हे गुरूदेव आप तो दृष्टी मात्र से हमें स्व का आनंद देते! हे सत्चितानंद गुरूदेव! ॐ गुरुभ्यो नमः.. ॐ गुरू ॐ…ॐ आनंद गुरू…ॐ माधुर्य  गुरू..ऐसे करते करते ध्यान तो गुरूजी का किया लेकिन काम मेरा हो गया! एकलव्य ने ध्यान किया होगा निशानेबाजी के लिए , लेकिन मैंने निशानेबाजी के लिए नहीं किया..मैंने मेरे गुरूदेव का ही ध्यान किया..जो गुरूजी है वैसा चिंतन किया ..तो गुरूजी क्या है? गुरूजी  और राम..राम और गुरूजी दिखते 2 है लेकिन है तो 1..जो रोम रोम बस रहे वो राम है..

उमा राम स्वभाव जेहि जाना, ताहि भजन बिन भाव न आना



अन्तर्यामी राम गुरू का जिस ने स्वभाव जान लिया उस का भजन छोड़ कर कही मन फसेगा नहीं..चाहे कितना यश आ जाए अथवा निंदा आ जाए, चाहे कितनी सुविधा आ जाए अथवा कितनी भी अ-सुविधा आ जाए..सब स्वप्ना है और मेरा गुरू तत्व अपना है!

ॐ गुरूजी ॐ ..ॐ प्रभुजी ॐ.. मेरेजी ॐ..

भगवान का ध्यान करने में तो मेहनत पड़े मुझे क्यों की भगवान देखे नहीं है..भगवान के बार में सूना है लेकिन गुरूजी को तो देखा भी है..चरणों से लेकर शिखा तक देखा है..दाहे से भी देखा है बाहें से भी देखा है..उन को घूरते भी देखा है, हसते भी देखा है..कल्याण दाई कृपा दृष्टी करते भी देखा है..उस का चिंतन  सहेज में होता है..गुरू तत्व और ईश्वर तत्व एक ही होता है…

एक बड़ा विद्वान् पंडित था..सारे शास्त्र साथ में ही लेकर घूमता ..जो भी शास्त्रार्थ करे उस को वो परास्त कर  देता  (हरा देता)..चलते चलते वो पंडित थकान के कारण किसी वृक्ष के निचे बैठा…संध्या का समय था..उस वृक्ष पर ब्रम्ह राक्षस रहेता था..दूसरा कोई आया उस वृक्ष पर बैठने तो ब्रम्ह राक्षस बोला, ‘ऐ! हट जा हट जा!’ …बैठने वाला बोला,  ‘मुझे क्यों हटाता है भैया? तू भी ब्रम्ह राक्षस, मैं  भी ब्रम्ह राक्षस!’

पहेला बोला,  ‘अरे तेरे को पता नहीं है..ये वृक्ष के निचे बैठा पंडित मरेगा और ब्रम्ह राक्षस हो कर रहेगा यहाँ इस वृक्ष पर..ये उस की जगह है!..’

पंडित वहा संध्या के समय संध्या कर रहा था..पंडित की कुछ  पुण्याई  होगी , संध्या का प्रभाव होगा तो पंडित को इन यक्षों का प्रभाव सुनाई पडा… सोचा, “बाप रे!..मैं  इतना बड़ा भारी पंडित..मेरे नाम से सभी विद्वान् कापते है..और मैं  मरुंगा तो ब्रम्ह राक्षस होउन्गा!..जिस को विद्या का गर्व होता है वो ही तो ब्रम्ह राक्षस होता है..क्या मुझे मेरी विद्या का गर्व राक्षस योनी में ले जाएगा?”

संध्या काल में सुषुम्णा  नाडी खुली रहेती है..संध्या काल कल्याण कारी काल में से है..

4 संध्या काल होते है :-

1) सुबह सूरज उदय नहीं हुआ और चन्द्रमा जी दिखाई देना बंद हुआ ऐसा संधि काल ..उस समय देवता माने इन्द्रियों का आकर्षण तो सोता है, परन्तु उस काल में मन्त्र देवता जागृत होते है…ये काल में आप का शुभ संकल्प फलने की अवस्था होती है..सूर्य उदय नहीं हुए, होनेवाले है और चन्द्र अब दिखाई नहीं देते ऐसा संधि काल मंत्र सिध्दी का योग है..

2) ऐसे ही दोपहर के 12 बजने के कुछ मिनट पहेले और 12 बजने के कुछ मिनट बाद संधि काल होता है…

3) ऐसे ही सूर्य अस्त नहीं हुए लेकिन सूर्य का प्रकाश दिन जैसा नहीं रहा…कुछ लालिमा रही, सूर्य अब विदाय हो रहे..वो संधि काल है..

4) रात्री के 12 बजे का भी संधि काल होता है..

इन संधि कालों को चातुर्मास में सवार ले और ध्यान भजन करें तो उस में विशेष सफलता की संभावना है..देवशयनी एकादशी( 12 जुलाई   2011) से चातुर्मास शुरू हो गया है..देव उठी एकादशी तक (6 नोव्हे  2011) भगवान नारायण अपने ब्रम्ह स्वभाव में योग निद्रा में रहेंगे..

वामन पंडित सोचने लगा …शास्त्रार्थ कर के कईयों को परास्त कर के जा रहे थे..वृक्ष के निचे संध्या कर रहे थे..वृक्ष पर बैठे ब्रम्ह राक्षसों की आपस में तू तू मैं  मैं  हुयी..एक ब्रम्ह राक्षस दुसरे को बोला की ये वामन पंडित की जगह है, यहाँ तुम नहीं बैठना..दूसरा बोला की क्यों? तो बोले की वो पंडित शास्त्रार्थ कर के  अपने अहम् को पोसता है!शास्त्र तो अच्छे है लेकिन उस को अहम् पोसने का रास्ता मिला है..अहम् पोसने के लिए जो धर्म का उपयोग करता है वो  ब्रम्ह राक्षस बनाने के काबिल है ना?…उस का आसन यहाँ ही इस वृक्ष पर है..ये संभाषण वामन पंडित सुन लिया..सारे शास्त्र  वहा ही विसर्जित कर दिए!..हिमालय को चला गया..मैं  वामन पंडित को खूब खूब धन्यवाद दूंगा..ब्रम्ह राक्षसों की बात सुन कर सर्वस्व त्यागने का सामर्थ्य है! मनुष्य के पास ये बहोत बड़ी उपलब्धि है!..मौत तो सर्व त्याग करा ही देती है  , लेकिन जीते जी सर्व त्याग का  सामर्थ्य जुटा पाए तो सर्व जिस का है वो सर्वेश्वर आप का आत्म देव प्रगट हो जाएगा !

त्यागात शान्ति निरंतर..

हिमालय में वामन पंडित वर्षो तक रहे..लेकिन भगवान नहीं मिले और तत्व रूप से भी प्रगट नहीं होते..तो सोचे की इस अहंकारी शरीर को ज़िंदा रख कर क्या करना ? पहाड़ की चोटी पर चढ़े और “जय श्रीहरी!” बोल कर धडाक अपने को फेंकने को गए..लेकिन हरि  तो हरि है ना!  ..हरि माने गुरू ..गु माना अज्ञान, रू  माने सिध्दी  दायक बिज..उर में प्रगट होने वाले ज्ञान!..भगवान का एक नाम “गुरू” भी है…गुरू प्रगट हुए / हरि प्रगट हुए / भगवान प्रगट हुए ये सभी एक ही के सब नाम है !..तो भगवान प्रगट हो गए..वामन पंडित को रोक दिया और अपना बाया हाथ वामन पंडित के सीर पर रखा..बोले,

“वामन पंडित तेरा मंगल हो!”

पंडित बोला, “भगवान आप इतनी तपस्या और इतनी कसोटी के बाद मिले..फिर भी शास्त्र में तो लिखा है की सीर पर दाया हाथ रखते है..आप ने बाया क्यों रखा?”

भगवान बोले, “अरे वामन तू इतना विद्वान् हो कर ये नहीं जानता की दाया हाथ सीर पर रखना गुरू का काम है, भगवान का नहीं है..”

वामन पंडित आश्चर्य चकित हो गया की, “भगवान आप ने गुरू के हक की सुरक्षा के लिए मेरे सीर पर बाया हाथ रखा, दाया नहीं रखा! ये आप बोल रहे!..तो क्या आप से भी गुरू का अधिकार बड़ा है?”

भगवान बोले, “हां!बड़ा है!!मैं  अवतार लेकर भी गुरू का शरणागत होता हूँ..गुरू तो गुरू ही है..वामन पंडित जब तक गुरू का ज्ञान नहीं मिलता तब तक मेरा मायावी रूप दीखता है..और वो मायावी रूप बुलाने पर प्रगट होता है और बाद में अंतर्धान हो जाता है..कभी किसी निमित्त मेरा ये रूप प्रगट हुआ तो भी थोड़ी देर के बाद चला जाता है..अदृश्य हो जाता है..”

पंडित ने पूछा, “तो मुझे गुरू कहाँ  मिलेंगे?”

भगवान बोले, “सज्जन गढ़ में!”

“ अच्छा !समर्थ रामदास!”

पंडित ने प्रभु को प्रणाम किया, प्रभु तो अंतर्धान हुए..

अब ये भाई साहब पहुंचे महाराष्ट्र  में सज्जन गढ़ पर..समर्थ रामदास की स्तुति की..समर्थ राम दास प्रसन्न हुए..अपना दाया हाथ पंडित के पीठ पर स्पर्श किया…बोले, “वाह वाह आ गए!..अपने घर आ गए जहा आप को आना था!”

पंडित बोला, “गुरूदेव  ! आप मुझ पर दाया हाथ तो रखे है लेकिन सीर पर क्यों नहीं रखते ?”

समर्थ बोले, “अरे पगले! सीर पर तो नारायण ने अपना बाया हाथ रख दिया ना!  “

पंडित बोला, “तो आप दाया हाथ क्यों नहीं रखते?”

समर्थ बोले, “नारायण का बाया भी है और दाया भी है!!..जब नारायण ने रख दिया तो यहाँ भी तो नारायण है!नारायण में से ही समर्थ रामदास है..!”

वामन पंडित गदगद हो गया की मेरे सारे शास्त्र और सारी  तपस्या गुरू कृपा के आगे बहोत छोटी हो जाती है..



मैं  आप को सच्चे ह्रदय से प्रयत्न करता हूँ बोल पाने का..मैंने इतनी कोई तपस्या नहीं की ..मैंने इतनी कोई विद्या अर्जित नहीं की..मेरे पास ऐसी कोई योग्यता नहीं जो करोडो करोडो लोग घंटो बैठ के सुनते रहेते है..पहेले जो 2 करोड़ लोग मानते थे अब बोले अढाई गुने से भी ज्यादा हो गए ..मतलब 5 करोड़ से भी अधिक..कुछ लोग बोलते 5 करोड़ से भी अधिक है ..कई गुने हो गए..कई गुने वाली बात अभी भी मुझे दिखाई दे रही है..3 साल पहेले इतनी जगह पर पूनम नहीं होती थी, तब जो भीड़ थी उस से भी ज्यादा अभी यहाँ भीड़ हो रही है जब की 11 स्थानों पर गुरूपूनम का सत्संग हुआ है..चंडीगढ़ से गुरूपुनम चली..रायपुर..उज्जैन..भोपाल..हैदराबाद..बंगलौर..पूना…उल्हास नगर..कलकत्ता..डेल्ही और जयपुर  पूनम कर के आये है..उस समय इतनी जगह पूनम नहीं किये थे..फिर भी उस समय से भी कई गुना अधिक भीड़ आज यहाँ है..ये क्या जादू है?इतना कु-प्रचार होने के बाद भी लोग कई गुने बढ़ गए ..ये मेरे बस का नहीं है..ये कु-प्रचार वालों के बस का नहीं है..ये सु-प्रचार वालों के बस का भी नहीं है..

ये तो गुरू कृपा ही केवलं शिष्यस्य परम मंगलम!

उसी परम गुरू के आप हम सभी शिष्य है..बालक है..

मैं  तो कहेता हूँ की यहाँ गुरू पूनम के निमित्त पधारे हुए सभी भक्त धरती के देवता है..

भगवान कृपा करेंगे लेकिन जब गुरू नहीं होंगे तो भक्त कौन बनेगा? भक्त नहीं बनोगे तो भगवान कैसे कृपा करेंगे?

गुरू कृपा ही केवलं शिष्यस्य परम मंगलम!

 चिन्तामणि ग्रन्थ में गुरुओं के 12 स्वभाव हम ने सुने आज ही! 

 1)धातुवादी गुरू : मंत्र लिया अब तिर्थारटन  करो..भिक्षा मांग के खाओ अथवा घर का खाओ तो प्याज लहेसुंन ना खाओ, ये न करना..वो ना करना ..इस बर्तन में भोजन करना ऐसे सोना आदि..ये धातुवादी गुरू होते है..अच्छे  है, धन्यवाद है, प्रणाम है..

2) चन्दन वादी गुरू : वाणी से, आचरण से हमारे में संस्कार भरते..उन की सुवास का हम चिंतन करते तो हम भी समाज में सुवासित होने के काबिल हो जाते..

3)विचार वादी गुरू :  जो सार है वो ब्रम्ह परमात्मा है..अ-सार है अष्टदा प्रकृति   का शरीर है ..प्रकृति का शरीर प्रकृति के नियम से रहे;  लेकिन आप अपने ब्रम्ह स्वभाव्  में रहे…इस प्रकार का विवेक जगाने वाले विचार प्रधान गुरू होते है.

4)अनुग्रह कृपा प्रदान गुरू : जैसे कई पशु पक्षी दूर होते हुए भी अपने बच्चों को पोसते है ऐसी अपनी दृष्टी से शिशुओं का पोषण करते है..मार्गदर्शन देते है..शिष्य अच्छा  काम करते तो गुरू प्रोत्साहीत करते..गड़बड़ किया तो (फोटो में से)  दिखे की  गुरू की मूर्ति मानो नाराज हो रही है…ऐसे गुरू भी होते है..

5) पारस गुरू : अपने हाथ का स्पर्श अथवा वस्तु का स्पर्श करा के प्रसाद रूप में देते तो हमारे चित्त के दोषों को हर कर चित्त में आनंद, शांती , माधुर्य और अपनी योग्यता भर देते है..

6) कच्छप रूपा गुरू :  जैसे मादा कछुवा दृष्टि मात्र से अपने बच्चों को पोषित करता है ऐसे गुरूदेव कही भी हो, अपनी नुरानी निगाह मात्र से शिष्य को दिव्य अनुभूतियाँ कराते रहेते है..ऐसा मैंने अपने गुरूदेव के जीवन में देखा..मैंने अनुभव किया की गुरूजी कही है और मेरे ह्रदय में दिव्य अनुभव हो रहे है तो लगा की ये कैसे हो रहा है?..तो तुरंत पता चला की वहा मेरी तरफ उन का सदभाव  हुआ तो यहाँ पहुँच गया है!..

7) चन्द्र वादी गुरू: जैसे चन्द्र उगते ही चिन्तामणि से रस टपकने लगता है ऐसे ही दया रूपी गुरू को देखते ही हमारे अंतकरण में उन का ज्ञान, आनंद, माधुर्य  का दया रूपी रस टपकने लगता है..गुरू की लीलाए अथवा गुरू की घटनाए , भजन चिंतन कर के किसी को बताते तो भी  हमें रस आने लगता है..

8  )    दर्पण सम गुरू : जैसे दर्पण में अपना स्वरुप दीखता है ऐसे ही गुरू के समीप जाते ही अपने गुण दोष दिखने लगते है..और अपनी महानता का रस भी आने लगता है..शांती  आनंद माधुर्य  मिलता है..जैसे मानो गुरू एक दर्पण है और गुरू को देखते तो गुरू  का स्वरुप  और अपना स्वरुप मिलता जुलता प्यारा प्यारा लगता है!..

9)छाया निधि गुरू : जैसे देव पक्षी आकाश में उड़ता है और जिस पर उस देव  पक्षी की छाया पड़ती वो राजा बन जाता है…वो पक्षी हमें आँखों से दिखाई नहीं देता..फिर भी जिस पर उस की छाया पड  गयी वो राजा हो कर रहेगा.. ऐसे ही जिस पर गुरू की दृष्टी अथवा छाया पड गयी वो अपने अपने विषय में राजा हो जाता है.. जैसे सुरेशानंद आज कल राजाओं के राजा हो रहे ! 

10) नाद निधि मणि वादी गुरू:  जैसे पारस केवल लोहे को सोना करता ऐसे एक मणि होता है जिस के स्पर्श से केवल लोहा ही नहीं, कोई भी वस्तु सोना हो जाए…

 एक वैष्णव  साधू ने गरीब दास बाबा को मणि दी..बाबा ने फ़ेंक दी..साधू ने कहा की मैं ने  तो तुम्हारी गरीबी मिटाने के लिएमणि  दी और तुमने मणि फ़ेंक दी!..मेरी मणि इतनी तपस्या के बाद मिली थी..अब क्या होगा?..गरीबदास ने कहा, ये आप के हाथ का चिमटा दो..साधू ने चिमटा दिया तो गरीबदास जी महाराज ने अपने ललाट को छुवाया..तो चिमटा सोने का हो गया!..अब ललाट पारस भी नहीं और नाद निधि मणि भी नहीं..अब क्या वर्णन करे?..मनुष्य के चित्त की कितनी महानता है!..तो ऐसे भी गुरू होते है की जिन का ललाट ही नाद निधि मणि बन जाता है! 

दादू दीनदयाल जी के शिष्य थे गरीब दास जी..ऐसी ऐसी वार्ताए सुन कर ह्रदय आनंदित हो जाता है..अहोभाव से भर जाता है..हम कितने भाग्यशाली है की भारतीय संकृति के ग्रन्थ पढ़ने और सुनने का अवसर मिलता है..

मनुष्य का मस्तक नाद निधि मणि कैसे बन जाता है..वहा सायन्स  बौनी हो जाती है..विज्ञान घुटने टेकने लगता है…

गुरू मुमुक्षु पर करूणा  कर के वाणी बोलते है और मुमुक्षु सुवर्ण तो क्या है हीरे तो क्या है राज्य क्या है..इन सभी का दाता  बन जाता है..नाद निधि से उन्नत गुरू की कृपा और गुरू का ज्ञान काम करता है..नाद निधि को मैं  चमत्कार मानता हूँ , लेकिन उस से भी करोडो गुना चमत्कार मेरे गुरूदेव की वाणी और कृपा है…उन के चरणों में मेरा नमस्कार है..

12) क्रौंच दृष्टी के गुरू : जैसे क्रौंच पक्षी आकाश में ही रहेता है ..अपने बच्चों के प्रति सदभाव  करता है , वो पुष्ट हो जाते है.. ऐसे ही गुरू अपने चिदाकाश में होते हुए  अपने शिष्यों के लिए सदभाव  करते तो शिष्यों को गुल गुलियाँ    होने लगती है..और समझ जाते की गुरूदेव ने याद किया..मैं  तो अपने गुरूदेव  को याद कर रहा हूँ.. आप अपने गुरूदेव का जानो ! 🙂 

आप की वंश परम्परा क्या है आप को पता है?

पाराशर जी शक्ति के पुत्र थे..शक्ति वशिष्ठ जी के पुत्र थे..और वशिष्ठ ब्रम्हा जी के मानस पुत्र थे..ब्रम्हा जी भगवान नारायण के नाभि से प्रगट हुए और भगवान नारायण सतचिदानंद ब्रम्ह का  साकार विग्रह है..

सत्चिदानन्द ब्रम्हाजी – भगवान नारायण – ब्रम्हा जी -वशिष्ठ जी – शक्ति जी – पाराशर जी -व्यास जी- शुकदेव जी – गौड़ पादाचार्य जी  – गोविन्दाचार्य जी – जगद गुरू शंकराचार्य जी  – ( शंकराचार्य जी की 10 शाखाएं गिरी पूरी आदि..) तो आप हम देखा जाए तो ब्रम्ह की संतान है…

  माँ में परमात्म देव है, पिता  में परमात्म देव है,  कन्या लक्ष्मी  रूपा है,  बहुरानी लक्ष्मी स्वरूपा है..बंधू सखा में परमात्म देव है..कीड़ी में भी मेरे परमात्म देव है.. छोटे से छोटा और बड़े में बड़ा वो ही है..सब से छोटे में छोटा बैक्टेरिया से भी छोटा अगर कोई है तो परमात्मा है!..और सब से बड़े में बड़ा है तो अनंत ब्रम्हान्डों  को भी भाप लेता है वो परमात्मा है!

ॐ श्री परमात्मने  नमः..

.. वो बेला धन भागी  थी जिस में किसी के निमित्त व्यक्ति का अहंकार विसर्जित हो..ममता विसर्जित हो…भगवान की प्रीति  जगे..भगवान की शरण जाए..वो सौभाग्य  की घडियां  थी जब नरेन्द्र ने रामकृष्ण देव को कहा होगा की मैं  आप का शिष्य हूँ..वो परम ऊँची घडी होगी जब वामन पंडित ने समर्थ रामदास जी के चरणों में शिष्य भाव से शीश झुकाया होगा…अर्जुन के लिए वो परम उन्नत घडी थी जब अर्जुन श्रीकृष्ण को बोलता है की मैं  आप का शिष्य हूँ!आप से शासित होने के योग्य हूँ..आप इस जिव पर अनुशासन कीजिये..
वो अर्जुन की सौभाग्य की घडी थी!
अर्जुन ऐसा नहीं था की किसी के सामने झुक जाए..कभी हारा नहीं था..
अर्जुन जैसा श्रेष्ठ योध्दा बोलता है की मुझे राज्य नहीं चाहिए,मेरी मति मूढ़ हो गयी है, मैं  क्या करूँ मुझे समझ में नहीं आता..
श्रीकृष्ण ने उपदेश दिया तब अर्जुन को पता चला की ज्ञान की क्या महिमा है..गुरू के बिना इतना योध्दा पना  भी व्यर्थ्य  है, शोक से तो नहीं छुडाता  ..
अर्जुन सोचता की लोगों के दृष्टि से मैं  संयमी हूँ कि उर्वशी जैसी अप्सरा को ठुकरा दिया, उस के मोह पाश में अटका नहीं, श्राप शिरोधार्य कर लिया लेकिन संयम तोडा नहीं..अज्ञातवास में सफल हुआ..स्वयंवर में द्रोपदी को  जितने में सफल हुआ..
 मैदानों ने अर्जुन से कहा था कि मैं  विज्ञान से स्वर्ग के लिए सीढियां  बना दूंगा लेकिन अर्जुन ने कहा कि,  नहीं तुम्हारा विज्ञान रजो गुणी  है..अर्जुन मन्त्र शक्ति से स्वर्ग की यात्रा करने  में सफल हुआ…लेकिन अपने ह्रदय का दुःख मिटाने में तो सफल नहीं हुआ…अभी मैं  दुखी हूँ..मुझे शोक है..किन्कर्त्यव्य मूढ़ हूँ..


ध्यान से सुनना :

ऐहिक विज्ञान रजो गुणी  है…अधि दैविक  विज्ञान सत्व गुणी  है.लेकिन तत्व ज्ञान तीनो गुणों से पार है…

तो 3 विज्ञान है..

1)  भौतिक विज्ञान में आप जानो – सीखो – प्रयत्न करो – पाओ- भोगो और फिर शिथिल हो जाओ..मरो ..मरने के बाद भी वासना ले जा कर फिर उसी चक्र  में घुमो..ये भौतिक विज्ञान है..

भौतिक ज्ञान से वकील बनो, इंजिनियर बनो, डॉक्टर बनो, मेनेजर बनो,मिनिस्टर बनो..कुछ भी बनो.. लेकिन बनो -फिर वो चीजे पाओ- फिर उन को भोगो- बुढापा लाओ और अंत में उन वासनाओ को ले जा कर चक्र में चक्कर काटो ये भौतिक ज्ञान का इतिहास है..

2) दैविक ज्ञान : उस में जानने के बाद  बाहर से पाना नहीं है, करना नहीं है , केवल भीतर से चिंतन करना है.. मानसिक एकाग्रता , बौध्दिक विश्रांति  से दिव्य शक्तियां, दिव्य भोग मिलते है..लेकिन वो भी है तो अन्तकरण के भोग !

3) तीसरा है तत्वज्ञान..उस में जान कर कुछ करना नहीं, कुछ पाना नहीं..कुछ भोगना नहीं..अपना ही आपा इतना विभु है..इतना व्यापक है ..इतना महान है की इंद्र का पद भी छोटा हो जाता है..

आत्म लाभात परम लाभं न विद्यते

आत्म ज्ञानात परम ज्ञानम् न विद्यते

आत्म सुखात परम सुखं न विद्यते..

ये अध्यात्म ज्ञान है..व्यास जी और 12 प्रकार के लक्षण जिन गुरूओं में घटते है वे ऐसे दाता होते है..ऐई  हई !! 

मैं  तो सौभाग्यशाली के पराकाष्टा पर हूँ की मुझे ऐसे लीलाशाह प्रभु ने अपना मान लिया !

अर्जुन के सौभाग्य की घडी आई!!

साधू माम शिष्यस्य!

अर्जुन के लिए वो परम उन्नत घडी थी जब अर्जुन श्रीकृष्ण को बोलता है की मैं  आप का शिष्य हूँ!(शिष्य का अर्थ है ) मैं आप से शासित होने के योग्य हूँ..आप इस जिव पर अनुशासन कीजिये..वो अर्जुन की सौभाग्य की घडी थी!

कबीर जी की वो  पुण्यमय  घडी थी की रामानंद जी को कहा की आप मुझे स्वीकार कीजिये..

शिवाजी के जीवन की वो  परम घडी थी जब समर्थ ने उस को स्वीकार कर लिया..

 कलकत्ता के युवक नरेंद्र के लिए जो कईयों को हिलाते डुलाते प्रश्न पूछते …बड़े बड़े विद्वान् भी नरेन्द्र से डरते की वो प्रश्न पूछता –ईश्वर देखा है तो बताओ! बातों से नहीं चलेगा..
नरेन्द्र कही भी झुक जाए ऐसे नहीं थे ‘झुकू भैया!’   उन को ईश्वर को मिलने की बहोत तड़प थी..तो नरेन्द्र जिस किसी साधू के पास पहुँच जाते की आप ने ईश्वर देखा है?आप ईश्वर से मिले है?..कोई शास्त्र समझाते तो बोलते की ये भाषण नहीं सुनाओ..आप ने ईश्वर देखा है तो मुझे दिखाओ!..पोथी में ये लिखा वो लिखा नहीं सुनाओ..ऐसे कई साधुओं को चुप करा देते…साधू लोग कलकत्ता जाते नहीं ऐसा नरेन्द्र का पूछने का तरिका था..कोई भाषण कर्ता  कलकत्ते में जाने से कतराते की वो लड़का बिच सभा में खडा हो जाएगा..पूछेगा की महाराज ईश्वर का भजन करो ये करो बोलते तो क्या आप को मिले है? मिले तो हम को मिलाओ..इतना साल ये करो , वो करो..ऐसा नहीं, मिले तो हम को दिखाओ..

…रविन्द्रनाथ टगोर के काका कलकत्तें में डबल  मंजिल की नाव में गंगाजी में  तपस्या करते.. साधना करते..नरेन्द्र दिन में नहीं जा सकते थे तो रात को कूद पड़े गंगा जी में ..और तैरते तैरते वहा जा पहुंचे जहा उन की नाव गंगा जी में लंगर डाल  के खड़ी रहेती..नाव में चढ़ गए कैसे भी..उस समय प्रभात हो गयी थी..रविंद्रनाथ टगोर के काका जी बैठे थे ध्यान में ..नरेन्द्र ने जा कर उन का कोलर पकड़ा..पूछा की काका तुम ने ईश्वर देखा?साकार है तो कैसे है? निराकार है तो कैसे है अनुभव कराओ..ईश्वर देखा तो मुझे दिखाओ!

काका बोले, ‘तुम बैठो ..मैं  गीता का सिध्दांत बताता हूँ..’

नरेन्द्र बोला, ‘गीता का सिध्दांत नहीं चाहिए मुझे, विद्वत्ता नहीं चाहिए मुझे..अनुभव चाहिए..मुझे अब जीना मुश्किल हो रहा है..मुझे जल्दी बताओ..’

 रविन्द्रनाथ टगोर के काका को डांटते हुए नरेन्द्र  वापिस चले गए..

उस को बहोत तड़प थी ईश्वर से मिलने की..तड़प! तड़प!! तड़प!!!…तड़प के बिना   गुरू कितना भी बरसे फिर भी ईश्वर प्राप्ति नहीं होती..

ऐसे तड़पने  वाले कई जगह से झुझते हुए नरेन्द्र आखिर गदाधर पुजारी में से बने हुए रामकृष्ण परम हंस के पास पहुंचे… उन की गर्दन पकड़ ली..लिखित पुस्तक के आधार पे कहेता हूँ.., ‘बताओ..ईश्वर को देखा है?’

रामकृष्ण परम हंस जी ने घबरा कर नहीं, नरेन्द्र से भी ज्यादा दम मार कर नरेन्द्र की कोलेर पकड़ ली और कहा, ‘हां! देखा है!! है देखने की ताकद?’…नरेन्द्र के हाथ पकड़ लिए और अपने पैर का अंगूठा नरेन्द्र के ह्रदय को स्पर्ष करा दिया..ओह्ह्ह्हह्ह!!!
ध्यान लग गया! जीवन भर नरेन्द्र(स्वामी विवेकानंद) रामकृष्ण जी के गीत गाते गाते गुरू भक्ति के महान फल को पाते और लोगों को बाटते बाटते अमर गति को प्राप्त हुए!!

ध्यान मुलं गुरू मूर्ति..

मैंने  काली की उपासना, हनुमान की उपासना , देवी देवताओं की उपासना की..लेकिन जब सद्गुरू  मिल गए तो उन का ध्यान, उन का चिंतन , उन से वार्तालाप, उन्ही की मानस पूजा और उन्ही की बाह्य पूजा ..सब करते करते मुझे इतना लाभ हुआ की मैंने इतनी सेवा नहीं की जितना उस का फल दिखाई दे रहा है..इस फल का तो मैं  बयान ही नहीं कर सकता हूँ..अभी यहाँ बैठा हूँ, बोल रहा हूँ तो ये दुनिया के कई देश, भारत के कई शहर, कई गाँव और कई कसबे और कई गलियाएं अभी आदर से हाथ जोड़ कर इस समय टीवी, कंप्यूटर अथवा मोबाइल  के पास बैठे है.. उन का वर्णन करूंगा तो समय चला जाएगा..!

 नामदेव महाराज को संतों ने कहा की तू कच्चा घडा है तो नामदेव को दुःख हुआ..विठ्ठल  भगवान के पास गया मंदिर में.. .विठ्ठल  भगवान प्रगट हुए..बोले हां तुम कच्चा घडा हो…आप का दर्शन होता है फिर कच्चा घडा कैसे? पेड़ पर उस को चढ़ना चाहिए जिस को फल चाहिए, लेकिन जो फल खा रहा है उस को पेड़ पर चढने की क्या जरुरत है?..ऐसे ही मुझे आप का दर्शन हो रहा है, आनंद आ रहा है, भाव आ रहा है..मुझे गुरू कि क्या जरुरत है ?

.विठ्ठल  भगवान बोले, ये भावना प्रधान है, तीसरे शरीर की उपलब्धि है..मेरा माया का शरीर तेरे आगे प्रगट होता है..जैसे स्वप्ने का धन स्वप्ने में ही रहे जाता है, जागृत में काम नहीं आता ऐसे यहाँ का दर्शन यहाँ ही रहे जाता है..आत्मा का साक्षात्कार नहीं होता तब तक सब मायावी है..

नरसी मेहता जी ने भी कहा,

ज्या लगी आत्म तत्व चिन्यो नहीं त्या लगी साधना सर्व झूठी

आखा भगत ने भी कहा,
सजीव ने निर्जीवो ने घडयो पछि कहे मन्ये काही दे
आखा तमे  ये पूछे  की तमारी एक फुटी की बे ?
सजीव ने निर्जीव को बनाया..सजीव मनुष्य ने मंदिर बनाया , मठ  बनाया, चर्च बनाया और फिर वहा नाक रगड़ रहा है की मुझे ये दे वो दे..
तेरी एक आँख फुटी की 2?  – ऐसा आखा भगत बोलते..


अखंडानंद जी कहेते की भगवान  करते होंगे दया तो जाओ ले लो!..लेकिन गुरू नहीं होंगे तो सत्संग नहीं होगा, भक्त नहीं बनेंगे तो भगवान दया किस पर करेंगे? सभी पर दया करेंगे तो कार्य कारण दोष,  व्यवस्था दोष आ जाएगा..गधे पर कृपा करो और तपस्वी पर कृपा करो तो गधे और तपस्वी में फरक नहीं रहेगा..प्रधान मंत्री को भी वो ही कुर्सी और चपरासी को भी वो ही व्यवस्था  देंगे तो वो हो नहीं सकता?..भगवान कृपा करेंगे तो भक्त होंगे तभी तो करेंगे..और भक्त कैसे होंगे? .. जब गुरू होंगे तभी तो भक्त होंगे..

इसलिए तुलसी दास जी कहेते,

गुरू बिन भवनिधि तरही ना कोई
चाहे बिरंची शंकर सम होई

शंकर जी के नाई प्रलय का सामर्थ्य हो या ब्रम्हा जी के नाई सृष्टि  बनाने का सामर्थ्य हो लेकिन गुरू के बिना जनम मरण से , बंधनो से, विकार वासनाओ से नहीं छूटेगा..

कबीर जी कहेते की,

कबीरा वे नर अंध है हरि को कहेते ओर गुरू को कहेते ओर
हरि रूठे गुरू ठोर  है, गुरू रूठे नहीं ठोर…

ॐ गुरू ॐ..ॐ आनंद ॐ..इस में शांत होते जाओ..इस से विकार वासना शांत हो जाए और भगवान का आनंद बढ़ता जाए..

ॐ शांती 

श्री सद्गुरूदेव जी भगवान की महा जय जयकार हो!!!!!
गलतियों के लिए प्रभुजी क्षमा करे…
Advertisements
Explore posts in the same categories: Pujya Bapuji

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s


%d bloggers like this: