5 sutr : guru punam ka nayaa sandesh

Ham ko Guruvar mile maano Rab mil gayaa!

Delhi Dwaarakaa,  Guru poonam mahotsav 13 July 2011

 

इस पोस्ट को हिंदी में पढ़ने के लिए कृपया यहाँ पधारे  : http://wp.me/pZCNm-mN

 

अथवा इस पेज को स्क्रोल कीजिये

ek braamhan tha..us ki patni badi aagyaakaari thi..dono sanyam se rahete..garibi thi….kisi ne bataayaa ki vyaas ji aate gangaa kinaare..to ye gangaa kinaare gaye..vyaas ji vrudhd braamhan jaise haath kaapate huye lakadi lekar aate hai snaan karane gangaa ji men..to aap vyaas ji ke sharan chale jaaye..to ye gangaa kinaare gaye..,mile jab sant anukulaa..sant anukul huye to dukh kahaa bachegaa?… prabhaat men suraj ugane se pahele ..sandhi kala me gangaa ji ke kinaare aate…jo jagah bataayi thi wahaa chhipe rahe…dekhaa vo hi lakshan waale vridhd aa rahe hai , gangaa men jaa rahe hai..un ko pranaam kiyaa..vyaas ji ki stuti ki..vyaas ji ne idhar udhar dekhaa..bole, ‘kya hai braamhan?kyaa chaahataa hai?jaldi bol..’

braamhan bola, ‘kal mere pitaa ka shraadhd hai aap mere ghar padhaariye ye vachan de dijiye bas..’

vyaas ji bole , ‘thik hai, bataanaa nahi kisi ko’

braamhan ki jitani hasti thi us se kayi gunaa jyaadaa prayatn kar ke vyanjan jutaaye, taiyyariyaan ki…vyaas ji ko halawaa nahi achhaa lagegaa to maalpuwaa khaa lenge..maalpuwaa achhaa nahi lagegaa to mohan thaal khaa lenge..braamhani ne bhi prem se banaayaa..vyaas ji aaye..un ke charan dhoye..aachaman diyaa..stuti dhyaan aadi kiyaa..vyaas ji santusht huye ..bole, kyaa chaahiye?

bole, ‘mahaaraaj santaan nahi hai’..

vyaas ji bole, ‘ek nahi 10 honge!bade vidwaan honge..’

mahaapurush ka sankalp tha..jo iishwar ka sankalp hotaa hai usi iishwar me mahaapurush vishraanti paate hai..to mahaapurush kaa vachan aur iishwar ka vachan “tathaastu” men vo hi kaam karataa hai..

braamhan ko 10 bete huye, vidwaan budhdimaan huye…

mahaaraaj aap ka jab ham chaahe darshan ho jaaye..aur nahi to varsh men ek baar darshan ho jaaye..

vyaas ji bole, “haan..aashaadhi pornimaa ka ye sharir ka janm divas thaa..aashaadhi pornimaa ko hi bramh sutr kaa aarambh kiyaa..aashaadhi pornima ako hi mahaa bhaarat sampann huaa…devataaon ne vardaan maange the ki aashaadhi pornimaa ko jo apane guru men vyaas ji kaa bhaav kar ke priti purvak un ka pujan karegaa…to vo saakshaat meraa pujan hai..mai vahaa hi pragat hotaa hun…

to aashaadhi pornimaa kaa ye vyaas ji ka vardaan milaa hai..

aaashadhi pornimaa ko hi apanaa rishi prasaad ka praarambh huaa tha..

rishi prasaad ke sewaadhaariyon ko bhi rishi prasaad ki jayanti ki badhaayi detaa hun..aashaadhi pornimaa ko mahaa bhaarat sampann huaa aise rishi prasaad bhi sampann huaa!..

narayan hari..hari om hari..

(shri sadgurudev ji bhagavaan ne 3 vcd ka vimochan kiyaa: gaadi chali hai guru ke dwaar, bhagavat dharm aur ahamdabad rajokari taatvik satsang)

aaj se aap dukh ko mitaane ka bhagavat prasaad paane ka iraadaa pakka kar lo..dukh mitaane ka bhagavat prasaad kaise paayaa jaataa hai?

koyi bhi dukhad awasthaa ko mahatv naa do..us samay  gyaan ka aashray lo..

aap ke jeevan men 5 baate laayenge to us bhagavat prasaad ki praapti men aap saphal ho jaayenge!

ye 5 chije aap apane jeevan men le aao.

1) swa-dhram paalan :-

iishwar praapti men apanaa swadharm paalan karo. sree hai to sree ka jo dharm hai vo paalan karen..maasik dinon men apane haathon se  khana banaa ke pati ko bachchon ko khilaayegi to un ki budhdi aur oj tej ghategaa..sree hai to ghar ko lakshmi ki naayi sambhaalen..ghar ki sulakshani bane..purush apane dharam ka paalan karen..kaam kaaj sambhaale , sawaare..jo bhi milaa hai..doctor hai to marij kaa heet soche,aisaa nahi kare ki ye operation karaao vo operation karaao jo swaarth ke kaaran dusaron ko galat salaah dete ye a-sur dharam hai, ye swa-dharm nahi hai.asur dharam hota hai, daitya dharam hota hai, raakshas dharam hotaa hai..to un ko phal bhi waisaa hi milataa hai..maanav apanaa maanav dharam nibhaaye to un ko mahaa maanav jaisi sarv shresht bramh gyaan tak ki yaatraa hoti hai..to bhagavaan kahete hai:

swa-dharme nidhanam shreyam

apanaa dharam ka paalan karane men mar bhi jaayen to harakat nahi..aur dusare ka dharam haani kaarak hai aisa gitaa men kahaa hai.to swa-dharam kasht sahen kar ke bhi paalan karanaa hai…jaise saadhak ne poonam darshan ka vrat liyaa hai, us ko paalenge to tapobal badhegaa..jo dagumagu kar ke nischay ka paalan nahi karate to apane dharam se geer jaate..

2) kasht sahishnitaa :- sansaar men koyi bhi takalif aaye , kasht aaye to us ke liye taiyyar raho..kasht ke liye dusaron ko jimmedaar na maano..kasht bhi ek tapasyaa hai..kasht ke liye kasht-sahishnutaa rakhe.

3) bhagavaan ki santushti ke liye karam :

 jo bhi kaam karate to kisliye aap kaam karate hai?

kasmai devaay havishyaay vidmahe..

ek hi paramaatm dev ko santusht karane ke liye mai karm karataa hun..apanaa kartavya nibhaao .

pyaase ko pani, haare ko himmat do..pati kaa patni ke saath dharm hai, patni ka pati ke saath dharam hai, bhakt ka dharam hai..apanaa apanaa kartavya paalo..us ka badalaa naa chaaho..badalaa apane aap mil jaayegaa..aap ke kartavy men aap ko santusht rahenaa hai..jo jhaadu kaam men aate us ko bhi khane ki jagah, rahene ki jagah mil jaati hai..to aap apane karm ke dwaaraa kisi ke kaam aa gaye to aap ke khaane ki pine ki rahene ki chintaa aap jyadaa nahi karo..aap apane karyavya men lage raho..

bhagavaan ka jap dhyaan karanaa ye mukhya saatvik kartyavy hai..dusaraa shaaririk kartyavya hai.. tisaraa saamaajik kartyavy hai.. apane apane kartyavy se antaraatmaa prabhu sab men hai un ko santusht karo..

4) samataa ka abhyaas

5) bramha sukh jagaane ki aadat daal do..

subah uth kar mai bramh paramaatmaa ka dhyaan karataa hun..jo aanand rup hai, chaityany rup hai..din men kayi baar ye bhaav aaye..hai to kayi upaay lekin ye bilkul  short upaay hai, jaldi se bhagavat ras jagaane waale upaay hai! mai aaj prasann rahungaa kyo ki bramh paramaatmaa aanand swarup hai.. 4 vyaktiyon ka kasht mitaaungaa, prasann rakhungaa..4 vyaktiyon ko hasaaungaa…

bhagavaan ved vyaas ji ne kahaa ki apane aanand may swarup ka abhyaas karen..bramhsutra me 12 vaa adhyaay pahelaa skand.. apane ko aanand men rakhane kaa abhyaas karo..

ye guru pornimaa ka nayaa, is varsh ka sandesh hai.

aap paramaatmaa ko pragat karane men saksham hai…

tulasi mamataa ram se samataa sab sansaar.

apane paramaatmaa se mamataa rakho..bhagavaan mere hai..vo sat rup hai, vo chetan rup hai..vo aanand rup hai..karm ke niyaamak hai..karm ke prerak hai..karm ke phaladaataa hai..aur phal dete to hamaare bhalaayi ke liye hi dete hai..saphalataa, aanand , saamarthya dete to ham ko udaar banaane ke liye..viphalataa, vishaad aur dukh aataa hai to hame  saawadhaan karane ke liye aataa hai..waah prabhu waah! aap  dayaalu bhi hai nyaay kaari bhi hai..dayaalu nyaay nahi kar sakataa aur nyaay waalaa dayaa nahi kar sakataa..aap dono karane men samarth hai! om om om om om…

marate samay ko sabhi ko dukh pida hoti hai..

raman maharshi ko khun ka cancer ho gayaa tha..doctor bhi dehaati the, tab alopathi ka itanaa vikaas nahi huaa tha..chaaku se operation kiyaa..dusari baar kiya, tisari baar kiyaa…

logon ne puchhaa ki, ‘aap ko taklif nahi hoti?’

maharshi  bole, ‘ruaa ruaa jalataa hai..bahot tapan hoti hai’

‘to phir aap prasann kaise hai?’

maharshi bole, ‘tapan hoti to sharir men hoti,  blood cancer hai to sharir men hai, khun me hai….mujh me thodi hi hai!’

elizabeth pidit ho kar mari..kayi log pidit ho ke marate, lekin mahaa purush pidaa me bhi pidaa raheet awasthaa men hote..

ramkrishn param hans ji ke sharir ko  marate samay itani pidaa huyi ki vivekaanand se dekhi nai jaati, lekin raamkrishn dev prasann rahete..mansoor ko shuli par chadhaane waale itane ghaatak  shaasak the ki shuli par chadhaane se jaldi mar jaayegaa isliye pahele pair kaate, khun ki dhaaraa bahi ..bol allah anahaq hai, mansoor bole analagh!khudaa hai to mere se judaa thode hi hai..mere se judaa hai to khandit ho jaayegaa..mere sahit khudaa hi khudaa hai!..mansoor ke haath kaate..mansoor bolate, hath kate hai, pair kate hai lekin mere ko kaun kaat sakataa hai? gahene ko tod sakate hai, sone ko kaun mitaa sakataa hai?..makaan ko tod sakate ghade ko tod sakate lekin aakaash ko kaun tod sakataa hai?..mai chidaakaash chaityany hun!..khaal utaari gayi..to bhi mansoor kahete : ANALAGH!

mere gurudev kaa bhi sharir shaant huaa tab mai wahaa thaa..meri god me hi mere gurudev ji ne aakhari mahaa yaatraa ki..un ka sharir pidit hotaa to hamaaraa hriday kaapataa thaa..lekin gurudev bolate ye to sharir kaa praarabdh hai..aise karate karate mahaa prayaan kar gaye..

budhd ka sharir aakhari samay men thoda pidit ho gayaa thaa..kisi bhakt ke yahaa jaherili sabji khaayi thi isliye..budhd bole ki, ‘bhikshuko aaj mai subah subah aanand ka samaachaar sunaaungaa jaao ek dusare ko bol do jaldi taiyyar ho ke aa jaao!’

shishy soche ki budhd dev to roj hi aanand ka samaachaar sunaate..aaj kaun saa vishesh hogaa ki ekaaek sabhaa bulaayi…

sabhi shishy ikaththaa ho gaye..budhd un ke bich jaa baithe..mic ka jamaanaa nahi thaa to gol kar ke sab baithate the..budhd ne khade ho kar kahaa ki, ‘aaj aanand ka samaachaar ye hai ki aaj ham is sharir se vidaa le rahe hai!’ ..matalab ye sharir mar jaayegaa..

shishy rone lage..  ‘ye kyaa aanand samaachaar hai bhante?hamaare liye dukhad samaachaar hai..’

budhd bole, ‘kisi ko kuchh puchhanaa hai to puchho..’

shishya bole, ‘jeevan bhar rahasy bataate aaye,binaa puchhe hi itanaa sab kuchh dete aaye ..ab kyaa puchhe?’

budhd ne phir se bola kuchh puchhanaa hai, phir se bolaa..kisi ne kuchh puchhaa nahi..aakhir budhd bole, ‘achhaa ham jaa rahe..’

paheli baar bolaa to sharir se hate..

dusari baar bolaa to man se hate..

tisari baar bolaa to budhdi se hate..

chauthi baar puchhaa tab apane ‘mai’ se hat rahe the..

ab praano se hatanaa thaa, itane men ek daudataa huaa aadami aayaa aur bolaa ki, ‘sunaa hai budhd jaa rahe, rukiye mujhe kuchh puchhanaa hai..’

bhikshukon ne kahaa, ‘chup raho! ve abhi mahaa prayaan kar rahe..un ko kyu sataate?’

budhd bole, ‘nahi nahi..aane do un ko..koyi aisaa naa kahe ki puchhanewala aayaa aur budhd ne uttar nahi diyaa..jeevan bhar jo aaye , sab ki jholi bhar gayi to ye khaali kyu jaayegaa?’

budhd ne praano ko rokaa, us ki shankaa ka samaadhaan kiyaa…

kaisi karunaa hai santo ki hriday men !..

dekhaa ki aanand nahi dikhaayi diyaa..vo chacheraa bhai tha, badaa thaa..dikshaa lene se pahele aanand ne budhd se kuchh achan liye the ki mai aapa chelaa man jaaungaa, saadhu ban jaaungaa phir to kuchh vachan nahi le paaungaa..aap abhi mere ko ye vachan de dijiye..ki chaahe kuchh bhi ho jaaye mai sadaa aap ke saath hi rahungaa..kahi kuchh vighatanaa aa jaaye to aap mujhe dusare ke dukh mitaane bhejenege lekin mai aap ke paas hi rahungaa..

budhd ne kahaa thik hai vachan diyaa..

‘dusari baat ki koyi aaye  aap se milane aaye madhy raat ko bhi to mai aap ke paas aa sakun , aap tokenge nahi!’

budhd bole, thik hai..

tisaraa vachan ye chaahiye ki mujhe jab bhi shankaa ho kabhi kuchh puchhanaa ho to aisaa nahi kahe ki abhi nahi baad men dungaa jabaab..mai jab bhi aap se kuchh puchhu aap mujhe uttar denge..

budhd ne kahaa thik hai..is raaste chalate ho to saari tumhaari sharte kabul hai..

to aanand budhd ke saath jitanaa nikat rahaa, chhaayaa purush ho kar rahaa utanaa aur koyi nahi rahaa..

kabhi budhd ko thakaan hoti , kamar men dard hotaa to aanand ko bolate ki ab tu bhaashan kar..to budhd ke vichaar aanand ke dwaaraa bhi prasaarit prachaarit hote the..

jaate jaate bhi sukrut ko updesh diyaa budhd ne..dekho ab ki sharir men jaher hai..jaane ki taiyyari hai..phir bhi dukhi nahi hai..

marate samay sabhi ko 4 pidaayen sataati hai , lekin mahaa purushon ko ek bhi nahi hoti..

meri naani mar ke phir jindaa ho gayi , marate samay 4 pidaa me se koyi pidaa nahi huyi!samshaan me le gaye to turant hilane lagi to rassi kaati..kandho pe aayi thi paidal ghar chal ke gayi..puchhaa kyaa huaa to bataayi ki naani yamduton ko daati…mere ko yahaa kyu leke aaye mai to guru ki dikshaa li hun!..tab pataa chalaa ki yamdut hemibaai pohumal ki jagah naani hemibaai premchand ko le gaye…..to yamdut jaldi jaldi sharir me waapas chhod gaye..naani phir se jindaa ho gayi! us ke baad 39 saal jindaa rahi!..

maut ke baad bhi yamduton ko daant kar phir se jindaa huyi aisi naani kaa to mai dhotaa hun! 🙂

neem ke ped ko aagyaa kar ke chalaayaa ki masjid aur jhulelaal waalon ki jahaa asali had ho wahaa jaa kar khadaa rahe to neem ka ped chal padaa! jhulelaal waalon ki jo jagah dabaayi thi masjid waalon ne vo waapas mili..aur musalmaan bhi charano me aaye ki aap lilaram nahi LILASHAAH ho!! aise guru ka to mai chelaa hun!

mera janam subah honewala tha, lekin garibon men chhaans baatane ki sewaa purn karane ke liye iishwar se prarthanaa kar ke 12 baje ke baad sewa purn hone par mujhe janam diyaa aisi maa ka to mai betaa hun!

pahele 2 karod shishy the, kuprachaar ke baad adhaayi gunaa jyaadaa ho gaye ye to dikhate hai!… abhi vishw bhar me ye satsang web site se, mobile se, tv chanelon se, cable network se kitane log  live sun rahe is kaa aakadaa to koyi nahi bataa sakataa!…pahele itane desh videshon me web site se nahi sunate the, itani cable nahi dikhaate the, itani TV channel nahi chalati thi.. itane mobile network nahi sunaate the satsang..lekin abhi vishw bhar me ye satsang web site se, mobile se, tv chanelon se, cable network se live sun rahe… ( aise kuprachaar ke baad bhi aaye aise majbut chelon ka to mai guru hun! 🙂  )

om shaanti.

Hey Bramhgyaani sadguru aap aseem sadguno ka ek aisaa anmol khajaanaa ho ki jis ki gaheraayi samudr se bhi jyaadaa aur unchaayi aakaash se bhi unchi hai!

ye hamaare punyon kaa hi phal hai ki aap ko sadguru rup me paayaa hai!

prithvi par base is bhaarat maa ke is vishaal saamraajy ke aap vo dhwaj hai jo is ko vishw guru ke pad par phaheraane kaa sankalp lekar is ki chamak ko badhaa rahe hai!

aap kabhi vinod vinod men to kabhi saagar si gambhirtaa se apani divya  waani ka vo amrit pilaate ho jise pikar saadhakon ki pyaasi aatmaayen tript ho jaati hai!..

aap men aisi shakti hai  jo sab ke shish jhukaati hai…

aap ki waani aisi mithi hai  jo sab ke man ko bhaati hai..

aap men aisi thandak hai  jo sab ko sheetal karati hai..

aap ki aisi karani hai ki jo nich se unch banaati hai..

is jogi ki aisi masti hai jo sab ko mast banaati hai ..sab ko mast banaati hai…

SHRI SADGURUDEV JI BHAGAVAAN KI MAHAA JAY JAYKAAR HO!!!!!

Galatiyon ke liye Prabhuji kshamaa kare…   

ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ

5 सूत्र : गुरू  पूनम का नया सन्देश

 

 

 

 

हम को गुरूवर मिले मानो रब मिल गया!


 

डेल्ही द्वारका,  गुरू पूनम महोत्सव 13 जुलाई 2011

 

 

 

एक ब्राम्हण   था..उस की पत्नी बड़ी आज्ञाकारी थी..दोनों संयम से रहेते..गरीबी थी….किसी ने बताया की व्यास जी आते गंगा किनारे….व्यास जी वृध्द ब्राम्हण  जैसे हाथ कापते हुए लकड़ी लेकर आते है स्नान करने गंगा जी में..तो आप व्यास जी के शरण चले जाए..तो ये गंगा किनारे गए..,मिले जब संत अनुकूला..संत अनुकूल हुए तो दुःख कहा बचेगा?… प्रभात में सूरज उगने से पहेले ..संधि काल  में गंगा जी के किनारे आते…जो जगह बतायी थी वहा छिपे रहे…देखा वो ही लक्षण वाले वृध्द आ रहे है , गंगा में जा रहे है..उन को प्रणाम किया..व्यास जी की स्तुति की..व्यास जी ने इधर उधर देखा..बोले, ‘क्या है ब्राम्हण ?क्या चाहता है?जल्दी बोल..’

 

 

 

ब्राम्हण  बोला, ‘कल मेरे पिता  का श्राध्द है आप मेरे घर पधारिये ये वचन दे दीजिये बस..’

 

 

 

व्यास जी बोले , ‘ठीक है, बताना नहीं किसी को’

 

 

 

ब्राम्हण  की जीतनी हस्ती थी उस से कई गुना ज्यादा प्रयत्न कर के व्यंजन जुटाए, तैय्यारियाँ की…व्यास जी को हलवा नहीं अच्छा  लगेगा तो मालपुवा खा लेंगे..मालपुवा अच्छा  नहीं लगेगा तो मोहन थाल खा लेंगे..ब्राम्हणी  ने भी प्रेम से बनाया..व्यास जी आये..उन के चरण धोये..आचमन दिया..स्तुति ध्यान आदि किया..व्यास जी संतुष्ट हुए ..बोले, क्या चाहिए?

 

 

 

बोले, ‘महाराज संतान नहीं है’..

 

 

 

व्यास जी बोले, ‘एक नहीं 10 होंगे!बड़े विद्वान् होंगे..’

 

 

 

महापुरुष का संकल्प था..जो ईश्वर का संकल्प होता है उसी ईश्वर में महापुरुष विश्रांति पाते है..तो महापुरुष का वचन और ईश्वर का वचन “तथास्तु” में वो ही काम करता है..

 

 

 

ब्राम्हण  को 10 बेटे हुए, विद्वान् बुध्दिमान हुए…

 

 

 

महाराज आप का जब हम चाहे दर्शन हो जाए..और नहीं तो वर्ष में एक बार दर्शन हो जाए..

 

 

 

व्यास जी बोले, “हाँ..आषाढी  पोर्णिमा का ये शरीर का जन्म दिवस था..आषाढी  पोर्णिमा को ही ब्रम्ह सूत्र का आरम्भ किया.. आषाढी  पोर्णिमा को ही महा भारत संपन्न हुआ…देवताओं ने वरदान मांगे थे की आषाढी  पोर्णिमा को जो अपने गुरू में व्यास जी का भाव कर के प्रीति  पूर्वक उन का पूजन करेगा…तो वो साक्षात मेरा पूजन है..मैं  वहा ही प्रगट होता हूँ…

 

 

 

तो आषाढी  पोर्णिमा का ये व्यास जी का वरदान मिला है..

 

 

 

आषाढी  पोर्णिमा को ही अपना ऋषि प्रसाद का प्रारम्भ हुआ था..

 

 

 

 

 

 

 

ऋषि प्रसाद के सेवाधारियों को भी ऋषि प्रसाद की जयंती की बधाई देता हूँ..आषाढी  पोर्णिमा को महा भारत संपन्न हुआ ऐसे ऋषि प्रसाद भी संपन्न हुआ!..

 

 

 

नारायण हरि ..हरि ॐ हरी..

 

 

 

(श्री सदगुरूदेव  जी भगवान ने 3 वि सी डी  का विमोचन किया: गाडी चली है गुरू के द्वार, भगवत धर्म और अहमदाबाद रजोकरी तात्विक सत्संग)

 

 

 

आज से आप दुःख को मिटाने का भगवत प्रसाद पाने का इरादा पक्का कर लो..दुःख मिटाने का भगवत प्रसाद कैसे पाया जाता है?

 

 

 

कोई भी दुखद अवस्था को महत्त्व ना दो..उस समय  ज्ञान का आश्रय लो..

 

 

 

आप के जीवन में 5 बाते लायेंगे तो उस भगवत प्रसाद की प्राप्ति में आप सफल हो जायेंगे!

 

 

 

ये 5 चीजे आप अपने जीवन में ले आओ.

 

 

 

1) स्व -धरम पालन :-

 

 

 

ईश्वर प्राप्ति में अपना स्वधर्म पालन करो. स्री  है तो स्री का जो धर्म है वो पालन करें..मासिक दिनों में अपने हाथों से  खाना बना के पति को बच्चों को खिलाएगी तो उन की बुध्दी और ओज तेज घटेगा..स्री है तो घर को लक्ष्मी की नई संभालें..घर की सुलक्षणी  बने..पुरुष अपने धरम का पालन करें..काम काज संभाले , सँवारे ..जो भी काम मिला है..डॉक्टर है तो मरीज का हीत सोचे,ऐसा नहीं करे की ये ऑपरेशन कराओ वो ऑपरेशन कराओ ..जो स्वार्थ के कारण दूसरों को गलत सलाह देते ये अ-सुर धरम है, ये स्व -धर्म नहीं है.असुर धरम होता है, दैत्य धरम होता है, राक्षस धरम होता है..तो उन को फल भी वैसा ही मिलता है..मानव अपना मानव धरम निभाये तो उन को महा मानव जैसी सर्व श्रेष्ठ  ब्रम्ह ज्ञान तक की यात्रा होती है..तो भगवान कहेते है:

 

 

 

स्व -धर्मे निधनं श्रेयम

 

 

 

अपना धरम का पालन करने में मर भी जाएँ तो हरकत नहीं..और दुसरे का धरम हानि कारक है ऐसा गीता में कहा है.तो स्व -धरम कष्ट सहें कर के भी पालन करना है…जैसे साधक ने पूनम दर्शन का व्रत लिया है, उस को पालेंगे तो तपोबल बढेगा..जो  डगुमगु कर के निश्चय का पालन नहीं करते तो अपने धरम से गीर जाते..

 

 

 

2) कष्ट सहिष्णुता  :- संसार में कोई भी तकलीफ आये , कष्ट आये तो उस के लिए तैयार रहो..कष्ट के लिए दूसरों को जिम्मेदार न मानो..कष्ट भी एक तपस्या है..कष्ट के लिए कष्ट-सहिष्णुता रखे.

 

 

 

3) भगवान की संतुष्टि के लिए करम :

 

 

 

 जो भी काम करते तो किसलिए आप काम करते है?

 

 

 

तस्मै देवाय हविश्याय विद्महे..

 

 

 

एक ही परमात्म देव को संतुष्ट करने के लिए मैं  कर्म करता हूँ..अपना कर्त्तव्य निभाओ .

 

 

 

प्यासे को पानी, हारे को हिम्मत दो..पति का पत्नी के साथ धर्म है, पत्नी का पति के साथ धरम है, भक्त का धरम है..अपना अपना कर्त्तव्य पालो..उस का बदला ना चाहो..बदला अपने आप मिल जाएगा..आप के कर्तव्य में आप को संतुष्ट रहेना है..जो झाड़ू काम में आते उस को भी खाने की जगह, रहेने की जगह मिल जाती है..तो आप अपने कर्म के द्वारा किसी के काम आ गए तो आप के खाने की पिने की रहेने की चिंता आप ज्यादा नहीं करो..आप अपने कर्त्यव्य  में लगे रहो..

 

 

 

भगवान का जप ध्यान करना ये मुख्य सात्विक कर्त्यव्य है..दूसरा शरीरिक कर्त्यव्य है.. तीसरा सामाजिक कर्त्यव्य है.. अपने अपने कर्त्यव्य से अंतरात्मा प्रभु सब में है उन को संतुष्ट करो..

 

 

 

4) समता का अभ्यास

 

 

 

5) ब्रम्ह सुख जगाने की आदत डाल  दो..

 

 

 

सुबह उठ कर मैं  ब्रम्ह परमात्मा का ध्यान करता हूँ..जो आनंद रूप है, चैत्यन्य रूप है..दिन में कई बार ये भाव आये..है तो कई उपाय लेकिन ये बिलकुल  शोर्ट उपाय है, जल्दी से भगवत रस जगाने वाले उपाय है! मैं  आज प्रसन्न रहूंगा क्यों की ब्रम्ह परमात्मा आनंद स्वरुप है.. 4 व्यक्तियों का कष्ट मिटाउन्गा, प्रसन्न रखूंगा..4 व्यक्तियों को हसाउंगा …

 

 

 

भगवान वेद  व्यास जी ने कहा की अपने आनंद मय स्वरुप का अभ्यास करें..ब्रम्ह्सुत्र में 12 वा अध्याय पहेला स्कन्द.. अपने को आनंद में रखने का अभ्यास करो..

 

 

 

ये गुरू पोर्णिमा का नया, इस वर्ष का सन्देश है.

 

 

 

आप परमात्मा को प्रगट करने में सक्षम है…

 

 

 

तुलसी ममता राम से समता सब संसार.

 

 

 

अपने परमात्मा से ममता रखो..भगवान मेरे है..वो सत  रूप है, वो चेतन रूप है..वो आनंद रूप है..कर्म के नियामक है..कर्म के प्रेरक है..कर्म के फलदाता है..और फल देते तो हमारे भलाई के लिए ही देते है..सफलता, आनंद , सामर्थ्य देते तो हम को उदार बनाने के लिए..विफलता, विषाद और दुःख आता है तो हमें  सावधान करने के लिए आता है..वाह प्रभु वाह! आप  दयालु भी है न्याय कारी भी है..दयालु न्याय नहीं कर सकता और न्याय वाला दया नहीं कर सकता..आप दोनों करने में समर्थ है! ॐ ॐ ॐ ॐ ॐ…

 

 

 

मरते समय को सभी को दुःख पीड़ा होती है..

 

 

 

रमण महर्षि को खून का कैंसर हो गया था..डॉक्टर भी देहाती थे, तब अलोपथी का इतना विकास नहीं हुआ था..चाक़ू से ऑपरेशन किया..दूसरी बार किया, तीसरी बार किया…

 

 

 

लोगों ने पूछा की, ‘आप को तकलीफ नहीं होती?’

 

 

 

महर्षि  बोले, ‘ रौआ  रौआ जलता है..बहोत तपन होती है’

 

 

 

‘तो फिर आप प्रसन्न कैसे है?’

 

 

 

महर्षि बोले, ‘तपन होती तो शरीर में होती,  ब्लड  कैंसर है तो शरीर में है, खून में है….मुझ में थोड़ी ही है!’

 

 

 

एलिज़ाबेथ पीड़ित हो कर मरी..कई लोग पीड़ित हो के मरते, लेकिन महा पुरुष पीड़ा में भी पीड़ा रहीत अवस्था में होते..

 

 

 

रामकृष्ण परम हंस जी के शरीर को  मरते समय इतनी पीड़ा हुयी की विवेकानंद से देखी नहीं  जाती, लेकिन रामकृष्ण देव प्रसन्न रहेते..मंसूर को शूली पर चढाने वाले इतने घातक  शासक थे की शूली पर चढाने से जल्दी मर जाएगा इसलिए पहेले पैर काटे, खून की धारा बही .. “बोल अल्लाह अनहक है” , मंसूर बोले,  “अनलघ!खुदा है तो मेरे से जुदा थोड़े ही है..मेरे से जुदा है तो खंडित हो जाएगा..मेरे सहित खुदा ही खुदा है!” ..मंसूर के हाथ काटे..मंसूर बोलते, “हाथ कटे है, पैर कटे है लेकिन मेरे को कौन काट सकता है? गहने को तोड़ सकते है, सोने को कौन मिटा सकता है?..मकान को तोड़ सकते घड़े को तोड़ सकते लेकिन आकाश को कौन तोड़ सकता है?..मैं  चिदाकाश चैत्यन्य हूँ!”..खाल उतारी गयी..तो भी मंसूर कहेते : “अनलघ!”

 

 

 

मेरे गुरूदेव का भी शरीर शांत हुआ तब मैं  वहा था..मेरी गोद में ही मेरे गुरूदेव जी ने आखरी महा यात्रा की..उन का शरीर पीड़ित होता तो हमारा ह्रदय कापता था..लेकिन गुरूदेव बोलते ये तो शरीर का प्रारब्ध है..ऐसे करते करते महा प्रयाण कर गए..

 

 

 

बुध्द का शरीर आखरी समय में थोडा पीड़ित हो गया था..किसी भक्त के यहाँ जहेरीली सब्जी खायी थी इसलिए..बुध्द बोले की, ‘भिक्षुको आज मैं  सुबह सुबह आनंद का समाचार सुनाउन्गा जाओ एक दुसरे को बोल दो जल्दी तैयार हो के आ जाओ!’

 

 

 

शिष्य सोचे की बुध्द देव तो रोज ही आनंद का समाचार सुनाते..आज कौन सा विशेष होगा की एकाएक सभा बुलाई…

 

 

 

सभी शिष्य इकठ्ठा  हो गए..बुध्द उन के बिच जा बैठे..माईक  का ज़माना नहीं था तो गोल कर के सब बैठते थे..बुध्द ने खड़े हो कर कहा की, ‘आज आनंद का समाचार ये है की आज हम इस शरीर से विदा ले रहे है!’ ..मतलब ये शरीर मर जाएगा..

 

 

 

शिष्य रोने लगे..  ‘ये क्या आनंद समाचार है भंते ? हमारे लिए दुखद समाचार है..’

 

 

 

बुध्द बोले, ‘किसी को कुछ पूछना है तो पूछो..’

 

 

 

शिष्य बोले, ‘जीवन भर रहस्य बताते आये,बिना पूछे ही इतना सब कुछ देते आये ..अब क्या पूछे?’

 

 

 

बुध्द ने फिर से बोला कुछ पूछना है, फिर से बोला..किसी ने कुछ पूछा नहीं..आखिर बुध्द बोले, ‘अच्छा  हम जा रहे..’

 

 

 

पहेली बार बोला तो शरीर से हटे ..

 

 

 

दूसरी बार बोला तो मन से हटे..

 

 

 

तीसरी बार बोला तो बुध्दी से हटे..

 

 

 

चौथी बार पूछा तब अपने ‘मैं ’ से हट रहे थे..

 

 

 

अब प्राणों से हटाना था, इतने में एक दौड़ता हुआ आदमी आया और बोला की, ‘सूना है बुध्द जा रहे, रुकिए मुझे कुछ पूछना है..’

 

 

 

भिक्षुकों ने कहा, ‘चुप रहो! वे अभी महा प्रयाण कर रहे..उन को क्यों सताते?’

 

 

 

बुध्द बोले, ‘नहीं नहीं..आने दो उन को..कोई ऐसा ना कहे की पूछनेवाला आया और बुध्द ने उत्तर नहीं दिया..जीवन भर जो आये , सब की झोली भर गयी तो ये खाली क्यों जाएगा?’

 

 

 

बुध्द ने प्राणों को रोका, उस की शंका का समाधान किया…

 

 

 

कैसी करूणा  है संतो की ह्रदय में !..

 

 

 

देखा की आनंद नहीं दिखाई दिया..वो चचेरा भाई था, बड़ा था..दीक्षा लेने से पहेले आनंद ने बुध्द से कुछ वचन  लिए थे की मैं  आप चेला मन जाउंगा, साधू बन जाउंगा फिर तो कुछ वचन नहीं ले पाउँगा..आप अभी मेरे को ये वचन दे दीजिये..की चाहे कुछ भी हो जाए मैं  सदा आप के साथ ही रहूंगा..कही कुछ विघटना  आ जाए तो आप मुझे दुसरे के दुःख मिटाने भेजेंगे  लेकिन मैं  आप के पास ही रहूंगा..

 

 

 

बुध्द ने कहा ठीक है वचन दिया..

 

 

 

‘दूसरी बात की कोई आये  आप से मिलने आये मध्य रात को भी तो मैं  आप के पास आ सकूँ , आप टोकेंगे नहीं!’

 

 

 

बुध्द बोले, ठीक है..

 

 

 

तीसरा वचन ये चाहिए की मुझे जब भी शंका हो कभी कुछ पूछना हो तो ऐसा नहीं कहे की अभी नहीं बाद में दूंगा जबाब..मैं  जब भी आप से कुछ पुछू आप मुझे उत्तर देंगे..

 

 

 

बुध्द ने कहा ठीक है..इस रास्ते चलते हो तो सारी  तुम्हारी शर्ते काबुल है..

 

 

 

तो आनंद बुध्द के साथ जितना निकट रहा, छाया पुरुष हो कर रहा उतना और कोई नहीं रहा..

 

 

 

कभी बुध्द को थकान होती , कमर में दर्द होता तो आनंद को बोलते की अब तू भाषण कर..तो बुध्द के विचार आनंद के द्वारा भी प्रसारित प्रचारित होते थे..

 

 

 

जाते जाते भी सुकृत को उपदेश दिया बुध्द ने..देखो अब की शरीर में जहर है..जाने की तैय्यारी है..फिर भी दुखी नहीं है..

 

 

 

मरते समय सभी को 4 पीडाएं सताती है , लेकिन महा पुरुषों को एक भी नहीं होती..

 

 

 

मेरी नानी मर के फिर ज़िंदा हो गयी , मरते समय 4 पीड़ा में से कोई पीड़ा नहीं हुयी!सम्शान में ले गए तो तुरंत हिलाने लगी तो रस्सी काटी..कंधो पे आई थी पैदल घर चल के गयी..पूछा क्या हुआ तो बतायी की नानी ने  यमदूतों को डांटा …मेरे को यहाँ नरक क्यों लेके आये ?  मैंने  तो गुरू की दीक्षा ली है !..तब पता चला की यमदूत हेमिबाई पोहुमल की जगह नानी हेमिबाई प्रेमचंद को ले गए…..तो यमदूत जल्दी जल्दी शरीर में वापस छोड़ गए..नानी फिर से ज़िंदा हो गयी! उस के बाद 39 साल ज़िंदा रही!..

 

 

 

मौत के बाद भी यमदूतों को डांट  कर फिर से ज़िंदा हुयी ऐसी नानी का तो मैं  धोता हूँ! 

 

 

 

नीम के पेड़ को आज्ञा कर के चलाया की मस्जिद और झुलेलाल वालों की जहा असली हद हो वहा जा कर खडा रहे तो नीम का पेड़ चल पडा! झुलेलाल वालों की जो जगह दबाई थी मस्जिद वालों ने वो वापस मिली..और मुसलमान भी चरणों में आये की आप लीलाराम नहीं लीलाशाह हो!! ऐसे गुरू का तो मैं  चेला हूँ!

 

 

 

मेरा जनम सुबह होनेवाला था, लेकिन गरीबों में छांस  बाटने की सेवा पूर्ण करने के लिए ईश्वर से प्रार्थना कर के 12 बजे के बाद सेवा पूर्ण होने पर मुझे जनम दिया ऐसी माँ का तो मैं  बेटा हूँ!

 

 

 

पहेले 2 करोड़ शिष्य थे, कुप्रचार के बाद अढाई गुना ज्यादा हो गए ये तो दिखते है!… अभी विश्व भर में ये सत्संग वेब साईट से, मोबाइल से, टीवी चनेलों से, केबल  नेटवर्क से कितने लोग  लाइव सत्संग सुन रहे इस का आकडा तो कोई नहीं बता सकता!…पहेले इतने देश विदेशों में वेब साईट से नहीं सुनते थे, इतनी केबले  नहीं दिखाते थे, इतनी टीवी चैनल नहीं चलती थी.. इतने मोबाइल नेटवर्क सत्संग नहीं सुनाते थे ..लेकिन अभी विश्व भर में ये सत्संग वेब साईट से, मोबाइल से, टीवी चनेलों से, केबल  नेटवर्क से लाइव सुन रहे… ( ऐसे कुप्रचार के बाद भी डंटे रहे और नए को ले आये ऐसे मजबूत चेलों का तो मैं  गुरू हूँ!  🙂   )

 

 

 

ॐ शांती .

 

 

 

 

 

 

हे ब्रम्हज्ञानी सद्गुरु आप असीम सद्गुणों का एक ऐसा अनमोल खजाना हो की जिस की गहेराई समुद्र से भी ज्यादा और ऊँचाई आकाश से भी ऊँची है!

 

 ये हमारे पुण्यों का ही फल है की आप को सद्गुरु रूप में पाया है!

 

 पृथ्वी पर बसे इस भारत माँ के इस विशाल साम्राज्य के आप वो ध्वज है जो इस को विश्व गुरू के पद पर फहेराने का संकल्प लेकर इस की चमक को बढ़ा रहे है!

 

आप कभी विनोद विनोद में तो कभी सागर सी गंभीरता से अपनी दिव्य  वाणी का वो अमृत पिलाते हो जिसे पीकर साधकों की प्यासी आत्माएं तृप्त हो जाती है!..

 

आप में ऐसी शक्ति है  जो सब के शीश झुकाती है…

 

आप की वाणी ऐसी मीठी है  जो सब के मन को भाति है..

 

आप में ऐसी ठंडक है  जो सब को शीतल करती है..

 

आप की ऐसी करनी है की जो नीच से उंच बनाती है..

 

इस जोगी की ऐसी मस्ती है जो सब को मस्त बनाती है ..सब को मस्त बनाती है…

 

 

 

श्री सद्गुरूदेव जी भगवान की महा जय जयकार हो!!!!!

 

गलतियों के लिए प्रभुजी क्षमा करें …..

 

 

 

 

Advertisements
Explore posts in the same categories: Pujya Bapuji

2 Comments on “5 sutr : guru punam ka nayaa sandesh”

  1. Shrikant Says:

    Hariom

  2. mamta Says:

    hari om mujhe jogi re kya jadu hi tere pyar me bhajan likh ker de do


Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s


%d bloggers like this: