jay dev jay dev jay karunaakaraa!

PUNE GURU PUNAM MAHOTSAV; 9TH JULY 2011  

 इस पोस्ट को हिंदी में पढ़ने के लिए कृपया यहाँ पधारे :-   http://wp.me/pZCNm-mz

jay dev jay dev karunaakaraa aarati owaalu sadguru maheshwaraa

hey karuna saagar sadgurudev aap ki jay ho ! jay ho!!

mai aap ki aarati karataa hun…kyon ki aap ki maa ki god ke samaan sukh rup ho..antar aatma amen shaanti dilaate ho..saakaar rup bhagavaan gurudev ho…niraakaar tatv bhagavaan ka hai, lekin saakaar  tatv to guru ji to saamane hai! aisaa samarth raamdaas kahete hai.

sant tulasi daas ji kahete hai ki,

sadguru din dayaalu,binu sadguru jug jug maare jaaye..

khaaye phir yam ki laath, chale phir wahi ke saath..

sadguru ki kripaa ke binaa jug jug marate rahete , janamate rahete..

pritam daas ji kahete hai,

guru ke charan priti nahi laagi

so praani mahaa mand a-bhaagi

guru ko bramh rup je jooyi

vyaam bhaan aape bramh hoyi

preetam so param pad  paave

jo sadguru ke sharane aawe

guru ke charanon me jin ki priti nahi lagi vo praani mahaa mand a-bhaagi hai..jo guru ko chaityany rup maanate hai , iishwar rup maanate hai, bramh rup maanate hai  to swayam bhi iishwar rup – bramh rup ho jaate hai..lekin jo guru ko sharir dhaari  to manushy maanate hai to vo abhaage khud bhi manushy ke bhaav men aur vikaaron me pade rahete hai..

guru  mere gyan swarup hai, guru mere chetan swarup hai, guru mere aanand swarup hai ..aisa jo shishya maanate vo shishy bhi aanand-may gyan-may chaityany-may ho jaate hai..

guru meri aisi jaati hai, phalaane hai, dhingane hai aisa jo shaishy sochate to vo bhi jaati aur deh men phanse rahete hai..

jo sadguru ke sharan aate vo param pad ko paate hai aisaa sant preetam daas ji kahete hai..

to sadguru ki sharan kyaa hai?

iishwar ki sharan, sadguru ki sharan ek hi baat hai..

jahaan se hamaaraa man sphurit hotaa hai, vo chaityany aatmaa hi guru hai..vo chaityany aatmaa hi iishwar hai!..to jo iishwar aur guru ki sharan jaataa hai vo apane iishwaratv ko aur gurutv ko paa letaa hai…

vyaas purnimaa gurutv ko jagaane ki purnimaa hai..

sant tukaaraam ji bolate hai ki,

guru kripe maj bolavile deve

satya deve maajhaa kelaa angikaar

guru murtit bhetale paandurangaa

guru ki kripaa se paramaatmaa ne mujhe bulaayaa hai..prabhu ne mujhe apanaa liyaa hai..paramaatmaa mujhe guru rup men mile hai..

samarth raamdaas kahete hai,

jay jay dev jay karunaakaraa

aarati owaalu sadguru maheshwaraa

hey karuna saagar sadgurudev aap ki jay ho ! jay ho!!

mai aap ki aarati karataa hun…kyon ki aap  maa ki god ke samaan sukh aur gyaan, shanti aur prabhaav badhaane waale ho!

bhagavaan kahete hai gitaa men:-

(7th adhyaay 19 th shlok)

bahu naam janm naamante

gyaanwaan mam prapadyate

bahut janmo ke baad mujhe aatmaa-paramaatmaa ko bramh rup jaananewale  gyaani mahaa purush hote hai..

vaasudev sarvam iiti

sa-mahaatmaa sa-durlabhaa

arjun, mai to sarvatr sulabh hun, vyaapak hun..lekin meraa anubhav karanewaale-karaanewaale mahaatmaa bade durlabh hai..

murti ki pujaa se apani taraf se bhaavanaa ka phal milataa hai..lekin guru ki puja aur guru ke darshan se to apani bhaavanaa ka to phal hotaa hai ki guru ke dwaar apani bhaavana se jaate lekin guru ki drishti padati,guru ki waani milati aur guru ke niwaas sthaan men tirth bhaav ka sanchaar hotaa hai..isliye kabir ji bolate ki, 

tirath nahaaye ek phal

sant mile phal chaar

sadguru mile anant phal

jis phal kaa naash nahi ho aisaa phal sadguru ke darshan se dikshaa se aur un ke vachanon ko samajhane se anant phal hotaa hai..

main to shiv ji ki, vishnu ki, ganapati ki, kaali ki kayi devataa ki pujaa karataa tha..agar mere ko guru nahi milate to main abhi bhi pujaa karate karate baahar hi bhagavaan ko khojataa rahetaa..antar aatmaa bhagavat rup  hai ye to guru ke gyaan se aur guru ki kripaa se hotaa hai  aur baahar aur bhitar sab bhagavat sattaa ka saakshaatkaar hotaa hai..aise gurudev ki jay ho!

jalaal uddin romi ne kahaa,

50 varsh ki bandagi se bhi 2 ghadi phakiron ka sang tujhe nihaal kar degaa..

 bhaagavat men likhaa hai ki shrikrushn santon kaa sanmaan karate hai..charan dhote hai..un ki juthi pattal uthaate hai..

gurubinu bhav nidhi tarahi naa koyi

chaahe biranchi shankar sam hoyi

biranchi maanaa bramhaa ji jaisi srishti karane ki taakad ho aur shiv ji jaisaa pralay karane kaa saamarthy ho lekin sadguru ke binaa janam maran se baahar nahi ho sakataa hai…

bhagavaan 2 prakaar ke hote hai:-

nirgun niraakar aur sagun saakaar bhagavaan ke awataar- awataar bhi 2 prakaar ke hote hai ek hotaa hai nitya awataar aur dusaraa hota hai naimittik awataar…. to kans kaa nimitt lekar krishn aaye.. raawan ko maarane ka nimitt lekar ram aaye…hirany kashyapu ka nimitt lekar narsinh pragat huye…ye naimittik awataar hai..dusare hote hai nity awataar – jaise samarth raamdaas aaye..tukaram maharaj aaye..lilaashaah bapuji aaye …raman maharshi aaye..aur agale yugn me aur mahaa purush aate rahenge aise bhagavaan nity awatarit hote rahete hai..un ke  hruday men nity bhagavaan ka awataar hotaa hai..

to santon ke hriday men iishwar ka nitya awataar hai..aur kisi ka khaas nimitt lekar aate vo naimittik awataar antar aatmaa ka hotaa hai..

kapil muni ki maa jab kapil muni ki shishyaa ban gayi tab kapil muni ko boli ki ye aasakti nahi mitati hai, jeev aasakti ke kaaran dusare janmo men bhatakataa hai..jahaan raag hota hai wahaan janamataa hai..jahaan dwesh hotaa hai wahaa badalaa lene ke liye jata hai..sharir marane ke baad bhi  madhu kaitabh nahi marate arthaat waah waahi ki laalach aur iirshaa , raag dwesh nahi marataa..

to bhagavaan kapil ne kahaa ki maa tumhaari baat sachchi hai lekin yahi aasakti agar mahaa purushon men hai to vo sansaari aasakti mitaa kar swayam meet jaati hai aur jeev apane ko chaityany aatmaa maanataa hai.. ‘bachapan badal gayaa us ko jaanane wala mai aatmaa hun!dukh badal gayaa us ko jaanane wala mai aatmaa hun!sukh badal gayaa, jawaani badal gayi, lekin us ko jaananewala mai aatmaa chaityany hun!’ ..aisa gyaan  ko pakkaa kar ke mukt ho jata hai..

jo aasakti 84 laakh yoniyon men bhatakaati hai vo aasakti agar satpurush men ho jaaye to us ko divya gyaan aur moksh ki praapti hoti hai…

jo guru ko isht rup nahi jaanate vo guru ko isht rup bhi nahi jaanenge..guru ka aatmaa paramaatmaa hai aisaa nahi maanenge to apane paramaatm swabhaav ko bhi nahi jaanenge..

kabiraa ve nar andh hai jo hari ko kahete aur guru ko kahete aur..

hari ruthe guru thaur hai, guru ruthe nahi thaur..

mahaatmaa gaandhi raajpur ke manch par  bhaashan dene waale netaaon ke bich baithe the..sutra dhaar mahaatmaa gandhi the aur bhid men bahot log aaye the to ek budhdhe ko baar baar dekhate ki ye kahi dekhaa hai..yaad aayaa ki ye mere guru the!school men mujhe padhaane aaye the..gaandhiji manch chhod kar us guru ke paas jaa kar baithe..un se baatchit ki kaise hai, pariwaar kaisa hai aadi..phir us  vridhd ne kahaa ki tum jaao manch par , bhaashan karo..gandhi ji bole, nahi nahi..aap yahaa niche baithe aur mai upar baith ke bhaashan karu..nahi nahi…mai aap ke paas hi baithaa rahungaa..ye sab chalataa rahegaa, mai dekhataa rahetaa hun..kaarykram puraa huaa to gandhiji ne un ko pranaam kiyaa..to vridhd maastar ka hriday gad gad ho gayaa…ki mai to schooli shilshaa padhaane wala maastar thaa..lekin jo bhagavaan ki dikshaa detaa hai aise vyakti kaa aadar karanewaale vyakti jaisaa tum meraa aadar karate ho to gandhi tum bhi mahaatmaa ban..! 

aashirwaad mil gayaa guru ka! gandhiji mahaatmaa ban gaye!

padhaanewaale maastar ka guru rup men aadar hotaa hai to aisa laabh hotaa hai to jab bhagavaan ki dikshaa dete, bhagavaan ka satsang sunaate  us kaa to laakhon gunaa unchaa darjaa hotaa hai..

bachchaa maa ke paas rahe kar itanaa mahaan nahi ban sakataa hai kyon ki maa ki mamataa aad aati ki, ‘koyi baat nahi bachchaa hai bachchaa hai…’ maa ke paas bachche kaa 10 % vikaas hogaa, lekin baap ke sampark men rahegaa to bachche ka 25 % vikaas hogaa..aur school me maastar ke sampark men rahegaa to 50 % vikaas hogaa..lekin kisi guru kul men rahegaa to maa ka, baap ka sampark nahi hai..dusare log hai to vo mamataa nahi karenge, anushaasit hai to bachche ka 80%- 90% vikaas hoga..lekin guru koyi gyaani mahaa purush hai aur us ke sampark men rahegaa to 1000 gunaa vikaas ho jata hai!meraa karodo gunaa vikaas ho gayaa na! mai guru ke sampark me rahaa, guru ki aagyaa men rahaa to mera to karodo gunaa vikaas ho gayaa! isliye aatmgyaani guru ke sampark men jo rahetaa hai us ka kitanaa vikaas hogaa us kaa koyi aakadaa hi nahi hai! (10takaa, 20 takaa 100takaa 200 takaa nahi!anant gunaa!)

aisi vyaas pornimaa ke nimitt jo log guru ke paas jaate hai yaa nahi jaa sakate to maansik pujaa karate  un ko bhi bahut phaayadaa hotaa hai..

guruji aagyaa dete tabhi mai jaaungaa, us ke pahele to nahi jaa sakataa thaa..guru ko samarpit thaa to mai abu ki guphaa men rahetaa thaa aur guruji nainitaal men the… aagyaa ke bina anahi jaa sakate to guru punam kaise manaayenge?

mai man hi man guru ji ko snan karaataa thaa..

saamaany puja se shodashopachaar  pujaa men vishesh laabh hotaa hai, lekin shodashopachaar pujaa se bhi maanasik pujaa se hajaaro gunaa adhik laabh hotaa hai!aur maanasik pujaa jab guru ki karate to mere ko karodo gunaa phal mere ko milaa!! 🙂

mai kyaa karataa ki guru purnimaa ke din apane guru ji ko man hi man prem se snaan karaataa!..phir sukhe tauliye se pochhataa thaa..badaa aanand , badaa pyaar tha!..guru mere aatm rup hai..kabhi bhi kahi baithe ho, lekin yahaa mere hriday me bhi to hai ! to guru ji ko man se snaan karaa ke tauliye se pchhataa tha..mere guruji lambaa cholaa pahenate the, vo pahenaataa thaa..seer par saphed kapadaa baandhate the vo pahenaataa thaa…us ke baad guruji ke lalaat pe maine man hi man chandan ka tilak kiyaa…phir bich me kumkum tilak….mogare ke phulon ki maalaa ek nahi , 2 paheraayi ! paisaa to denaa nahi hai to phir kaay ko ek lenaa? 🙂  … to 2 mala guruji ko paheraayi! aur guruji ke aatmaa ki suwaas ki khabar de denge baahar ki sugandh waale phul ! ..guruji ko chhu kar havaa jaati vo bhi sukh shaanti deti hai.. guru ji ki drishti padati to log nishpaap hote…aise guruji ka mai dhyaan karataa hun…un se baate karataa..us samay agar mujhe dekhe to bole ye paagal hai…lekin mujhe paagal kahenewaale to paagal ho gaye, mai to baapu ban gayaa! 🙂 mujhe to guru ki aisi krupaa mili..

dhyaan mulam guru murti

pujaa mulam guru padam

mantr mulam gurur vaakyam

moksh mulam guru kripaa

akhand mandalaakaaram vyaaptam yen charaacharam…char men aur achar men jo vyaap rahaa hai..

tatpadam darshitam yenam…tu vo hi chaityany hai..

tasmai shri guruve namahaa…aisa bramhgyaan denewaale guru ko mai baar baar namaskaar karataa hun..

ham log saadhanaa to karate hai, lekin saadhanaa ko nasht karanewaale kaam bhi karate hai..jaise satsang to sunate lekin satsang men ghusbaith kar ke satsang ke puny ko nasht karane ki murkhataa bhi karate..

guru punam ko maansik pujan kar ke thodi der shaant..om guru om..aanand devaa guru om…mere guru om..thodi der hothon men..phir kanth men…phir hriday men aise maanasik dhyaan men dubate jaao..

tirth men to tumhaaraa tan gotaa maarataa hai, lekin dhyaan men to tum swayam gotaa maarate ho..dhyaan men tumhaaraa man swayam guru tatv men gotaa maarataa hai..yagy karane se vastu swahaa hoti hai lekin dhyaan karane se to vikaar aur dukh swaahaa hote hai…daan karane se to dhan shudhd hotaa hai lekin dhyaan karane se ham swayam shudhd ho rahe..om…aap ko hansi aayegi..shaanti aayegi..priti aayegi..kuchh naa kuchh hotaa jaayegaa…apani taraf se koshish mat karo… nirdosh bhaav se baith eraho..dubate jaao..om..om…om…

ab hotho se bhi nahi, kanth se bhi nahi hriday se japo..phir man idhar udhar jaaye to plut uchchaarn karo..OOOOOOOMMMMMMMMM…..

ati bhojan kar ke apane ko bimaar mat banaao..

aur ati upawaas kar ke apane ko kamjor mat banaao..

nange pair nahi ghumanaa chaahiye..jap karate to adhyaatmik aoraa banati hai..nange pair ghumane se vo aoraa dharati men chali jaati hai…kulmilaa kar arthing naa mile aisa baithanaa chalanaa chaahiye…rasoyi ghar me bhi plastik bichhaa deve..thande jamin par pair nahi rakhe..plastik bichchaa deve, bori bichchaa deve..us pe khade rahe..apane ko farsh athavaa jamin sidhe pairon par nahi lage…aur jap dhyaan kare…us se shakti aur bhagavat priti jaagrit hogi…om om…aanand om..om om prabhuji om..om om maadhurya om..om om guruji om..

samajho aap ka mantr om namah shivaay hai yaa jo bhi mantr hai to om namh shivaay om namah shivaay aise jaldi jaldi japenge ( hrasw uchchaaran bina ruke non stop ) to paap naashini urjaa banegi…dirgh japenge jaise O ..m..na..ma..h..shi..vaa..y.. to kaary saaphaly shakti aayegi..aur plut (lambaa)  japenge to bhagavaan men shaanti aur bhagavaan ke saath ek taanataa hogi…jaise o…….m……na….ma…….h…….shi…….va……y…… athavaa

ha………ri…….o……………..m……………..

ye bhagavaan men vishraanti degaa..

bahut unchaa phaayadaa hai..

hey prabhu aanand daataa prarthanaa roj karane se ghar ke jhagade shaant honge..sharir men bimaari ho to bhaag jaayegi…ninda karane se sharir men bimaari karane waale ras banate hai ..nuro popotile..LDL ..in se sharir men bimaari paida hoti..kisi ki nindaa naa kare…jaraa jaraa baat men khun garam nahi karanaa..hey prabhu aanand data ye prarthanaa roj karanaa..khun garam hota hai, krodh aataa hai to bhagavaan ka chintan karanaa…..ghar men sukh shaanti badhaanaa..

dhyaan denaa:-

1) 200 gram harad aur 100 gram saindhaa namak pis ke garam rakhanaa..subah 2-4 graam phaank lenaa, is sijan men achhaa hoga..

2) is sijan men nimbu ka ras, adrak, shahed ye phayade kaarak hai..

3) bhojan sada kare, badaam kaaju rabadi ye bimaari karataa hai.idali dosaa bhul ke bhi nahi khana, pet kharaab karataa hai.

4) dahi bhi aage chal ke naadiyon men blockege karataa hai…lassi pee sakate hai

5) shraawan maas men hare pattee waali sabji naa khaaye aur dudh kam kar de..

vyaas purnimaa ko maanasik pujan kar sakate hai.. dhyan kar sakate hai aur raatri ko guru ke saath mil sakate hai, baat chit kar sakate hai swapne men…..chaahe guru kitanaa bhi dur ho, shishy kitanaa bhi dur ho  lekin ye aatmik sambandh jod sakate hai…

OM SHAANTII.

SADGURUDEV JI BHAGAVAAN KI MAHAA JAYJAYKAAR HO!!!!!

Galatiyon ke liye Prabhuji kshamaa kare…. 

ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ

जय देव जय देव करुणाकरा आरती ओवालू सद्गुरू  महेश्वरा

पुणे गुरू  पूनम महोत्सव; 9  जुलाई 2011

जय देव जय देव करुणाकरा आरती ओवाळू  सद्गुरू  महेश्वरा

हे करूणा  सागर सद्गुरूदेव  आप की जय हो ! जय हो!!

मैं  आप की आरती करता हूँ…क्यों की आप  माँ की गोद के समान सुख रूप हो..अंतर आत्मा मन शांती  दिलाते हो..साकार रूप भगवान गुरू देव  हो…निराकार तत्व भगवान का है, लेकिन साकार  तत्व तो गुरू जी तो सामने है! ऐसा समर्थ रामदास कहेते है.

संत तुलसी दास जी कहेते है की,

सद्गुरु दिन दयालु,बिनु सद्गुरू जुग जुग मारे जाए..

खाए फिर यम की लात, चले फिर वही के साथ..

सद्गुरु की कृपा के बिना जुग जुग मरते रहेते , जनमते रहेते..

प्रीतम दास जी कहेते है,

गुरु के चरण प्रीती  नहीं लागी

सो प्राणी महा मंद अ-भागी

गुरु को ब्रम्ह रूप जे जोई

व्याम भान आपे ब्रम्ह होई

प्रीतम सो परम पद  पावे

जो सद्गुरु के शरणे  आवे

गुरू के चरणों में जिन की प्रीती नहीं लगी वो प्राणी महा मंद अ-भागी है..जो गुरू को चैत्यन्य रूप मानते है , ईश्वर रूप मानते है, ब्रम्ह रूप मानते है  तो स्वयं भी ईश्वर रूप – ब्रम्ह रूप हो जाते है..लेकिन जो गुरू को शरीरधारी   मनुष्य मानते है तो वो अभागे खुद भी मनुष्य के भाव में और विकारों में पड़े रहेते है..

गुरू  मेरे ज्ञान स्वरुप है, गुरू मेरे चेतन स्वरुप है, गुरू मेरे आनंद स्वरुप है ..ऐसा जो शिष्य मानते वो शिष्य भी आनंद-मय ज्ञान-मय चैत्यन्य-मय हो जाते है..

गुरू की  ऐसी जाती है, फलाने है, ढीन्गणे   है ऐसा जो शिष्य सोचते तो वो भी जाती और देह में फंसे रहेते है..

जो सद्गुरू के शरण आते वो परम पद को पाते है ऐसा संत प्रीतम दास जी कहेते है..

तो सद्गुरू की शरण क्या है?

ईश्वर की शरण, सद्गुरू की शरण एक ही बात है..

जहां से हमारा मन स्फुरित होता है, वो चैत्यन्य आत्मा ही गुरू है..वो चैत्यन्य आत्मा ही ईश्वर है!..तो जो ईश्वर और गुरू की शरण जाता है वो अपने ईश्वरत्व को और गुरुत्व को पा लेता है…

व्यास पूर्णिमा गुरुत्व को जगाने की पूर्णिमा है..

संत तुकाराम जी बोलते है की,

गुरू कृपे मज बोलाविले देवे

सत्य देवे माझा केला अंगीकार

गुरू मुर्तित भेटले पांडुरंग

गुरू की कृपा से परमात्मा ने मुझे बुलाया है..प्रभु ने मुझे अपना लिया है..परमात्मा मुझे गुरू रूप में मिले है..

समर्थ रामदास कहेते है,

जय जय देव जय करूणाकरा

आरती ओवाळू  सद्गुरू महेश्वरा

हे करूणा सागर सद्गुरूदेव आप की जय हो ! जय हो!!

मैं  आप की आरती करता हूँ…क्यों की आप  माँ की गोद के समान सुख और ज्ञान, शांती  और प्रभाव बढाने वाले हो!

भगवान कहेते है गीता में:-

(7 अध्याय 19  श्लोक)

बहु नाम जन्म नामंते

ज्ञानवान मम प्रपद्यते

बहुत जन्मो के बाद मुझे आत्मा-परमात्मा को ब्रम्ह रूप जाननेवाले  ग्यानी महा पुरुष होते है..

वासुदेव सर्वं ईति

स-महात्मा स-दुर्लभा

अर्जुन, मैं  तो सर्वत्र सुलभ हूँ, व्यापक हूँ..लेकिन मेरा अनुभव करनेवाले-करानेवाले महात्मा बड़े दुर्लभ है..

मूर्ति की पूजा से अपनी तरफ से भावना का फल मिलता है..लेकिन गुरू की पूजा और गुरू के दर्शन से तो अपनी भावना का तो फल होता है की गुरू के द्वार अपनी भावना से जाते लेकिन गुरू की दृष्टि पड़ती,गुरु की वाणी मिलती और गुरू के निवास स्थान में तीर्थ भाव का संचार होता है..इसलिए कबीर जी बोलते की,

तीरथ नहाए एक फल

संत मिले फल चार

सद्गुरू मिले अनंत फल

जिस फल का नाश नहीं हो ऐसा फल सद्गुरू के दर्शन से , दीक्षा से और उन के वचनों को समझने से अनंत फल होता है..

मैं  तो शिव जी की, विष्णु की, गणपति की, काली की कई देवता की पूजा करता था..अगर मेरे को गुरू नहीं मिलते तो मैं अभी भी पूजा करते करते बाहर ही भगवान को खोजता रहेता..अंतर आत्मा भगवत रूप  है ये तो गुरू के ज्ञान से और गुरू की कृपा से होता है  और बाहर और भीतर सब भगवत सत्ता का साक्षात्कार होता है..ऐसे गुरूदेव की जय हो!

जलालउद्दीन रोमी ने कहा,

50 वर्ष की बंदगी से भी 2 घडी फकीरों का संग तुझे निहाल कर देगा..

भागवत में लिखा है की श्रीकृष्ण संतों का सन्मान करते है..चरण धोते है..उन की जूठी पत्तल उठाते है..

गुरू बिनु भव निधि तरही ना कोई

चाहे बिरंची शंकर सम होई

बिरंची माना ब्रम्हा जी जैसी सृष्टि करने की ताकद हो और शिव जी जैसा प्रलय करने का सामर्थ्य हो लेकिन सद्गुरू के बिना जनम मरण से बाहर नहीं हो सकता है…

भगवान 2 प्रकार के होते है:-

निर्गुण निराकार और सगुण  साकार भगवान के अवतार- अवतार भी 2 प्रकार के होते है – एक होता है नित्य अवतार और दूसरा होता है नैमित्तिक अवतार…. तो कंस का निमित्त लेकर कृष्ण आये.. रावण को मारने का निमित्त लेकर राम आये…हिरण्यकश्यपू का निमित्त लेकर नृसिंह  प्रगट हुए…ये नैमित्तिक अवतार है..दुसरे होते है नित्य अवतार – जैसे समर्थ रामदास आये..तुकाराम महाराज आये..लीलाशाह बापूजी आये …रमण महर्षि आये..और अगले युगों  में और महा पुरुष आते रहेंगे ऐसे भगवान नित्य अवतरित होते रहेते है..उन के  ह्रदय में नित्य भगवान का अवतार होता है..

तो संतों के ह्रदय में ईश्वर का नित्य अवतार है..

और किसी का ख़ास निमित्त लेकर आते वो नैमित्तिक अवतार अंतर आत्मा का होता है..

कपिल मुनि की माँ जब कपिल मुनि की शिष्या बन गयी तब कपिल मुनि को बोली की ये आसक्ति नहीं मिटती है, जीव आसक्ति के कारण दुसरे जन्मो में भटकता है..जहां राग होता है वहाँ जनमता है..जहां द्वेष होता है वहा बदला लेने के लिए जाता है..शरीर मरने के बाद भी  मधु कैटभ नहीं मरते अर्थात वाह वाही की लालच और ईर्षा , राग द्वेष नहीं मरता..

तो भगवान कपिल ने कहा की माँ तुम्हारी बात सच्ची है लेकिन यही आसक्ति अगर महा पुरुषों में है तो वो संसारी आसक्ति मिटा कर स्वयं मीत जाती है और जीव अपने को चैत्यन्य आत्मा मानता है.. ‘बचपन बदल गया उस को जानने वाला मैं  आत्मा हूँ!दुःख बदल गया उस को जानने वाला मैं  आत्मा हूँ!सुख बदल गया, जवानी बदल गयी, लेकिन उस को जाननेवाला मैं  आत्मा चैत्यन्य हूँ!’ ..ऐसा ज्ञान  को पक्का कर के मुक्त हो जाता है..

जो आसक्ति 84 लाख योनियों में भटकाती है वो आसक्ति अगर सत्पुरुष में हो जाए तो उस को दिव्य ज्ञान और मोक्ष की प्राप्ति होती है…

जो गुरू को इष्ट रूप नहीं जानते वो गुरू को इष्ट रूप भी नहीं जानेंगे..गुरू का आत्मा परमात्मा है ऐसा नहीं मानेंगे तो अपने परमात्म स्वभाव को भी नहीं जानेंगे..

कबीरा वे नर अंध है जो हरि  को कहेते और गुरू को कहेते और..

हरि रूठे गुरू ठौर है, गुरू रूठे नहीं ठौर..

महात्मा गांधी राजपुर के मंच पर  भाषण देने वाले नेताओं के बिच बैठे थे..सूत्र धार महात्मा गाँधी थे और भीड़ में बहोत लोग आये थे तो एक बुढ्ढे को बार बार देखते की ये कही देखा है..याद आया की ये मेरे गुरू थे!स्कूल में मुझे पढ़ाने आये थे..गांधीजी मंच छोड़ कर उस गुरू के पास जा कर बैठे..उन से बातचीत की कैसे है, परिवार कैसा है आदि..फिर उस  वृध्द ने कहा की तुम जाओ मंच पर , भाषण करो..गाँधी जी बोले, नहीं नहीं..आप यहाँ निचे बैठे और मैं  ऊपर बैठ के भाषण करू..नहीं नहीं…मैं  आप के पास ही बैठा रहूंगा..ये सब चलता रहेगा, मैं  देखता रहेता हूँ..कार्यक्रम पूरा हुआ तो गांधीजी ने उन को प्रणाम किया..तो वृध्द मास्टर का ह्रदय गद गद हो गया…की मैं  तो स्कूली शिक्षा  पढ़ाने वाला मास्टर था..लेकिन जो भगवान की दीक्षा देता है ऐसे महात्मा  का आदर करनेवाले व्यक्ति जैसा तुम मेरा आदर करते हो तो गाँधी तुम भी महात्मा बन..!

आशीर्वाद मिल गया गुरू का! गांधीजी महात्मा बन गए!

पढानेवाले मास्टर का गुरू रूप में आदर होता है तो ऐसा लाभ होता है तो जब भगवान की दीक्षा देते, भगवान का सत्संग सुनाते  उस का तो लाखों गुना उंचा दर्जा होता है..

बच्चा माँ के पास रहे कर इतना महान नहीं बन सकता है क्यों की माँ की ममता आड़ आती की, ‘कोई बात नहीं बच्चा है बच्चा है…’ माँ के पास बच्चे का 10 % विकास होगा, लेकिन बाप के संपर्क में रहेगा तो बच्चे का 25 % विकास होगा..और स्कूल में मास्टर के संपर्क में रहेगा तो 50 % विकास होगा..लेकिन किसी गुरू कुल में रहेगा तो माँ का, बाप का संपर्क नहीं है..दुसरे लोग है तो वो ममता नहीं करेंगे, अनुशासित है तो बच्चे का 80%- 90% विकास होगा..लेकिन गुरू कोई ग्यानी महा पुरुष है और उस के संपर्क में रहेगा तो 1000 गुना विकास हो जाता है!मेरा करोडो गुना विकास हो गया न! मैं  गुरू के संपर्क में रहा, गुरू की आज्ञा में रहा तो मेरा तो करोडो गुना विकास हो गया! इसलिए आत्मज्ञानी गुरू के संपर्क में जो रहेता है उस का कितना विकास होगा उस का कोई आकडा ही नहीं है! (10  टका   , 20  टका  100  टका   200  टका नहीं!अनंत गुना!)

ऐसी व्यास पोर्णिमा के निमित्त जो लोग गुरू के पास जाते है या नहीं जा सकते तो मानसिक पूजा करते  उन को भी बहुत फ़ायदा होता है..

गुरूजी आज्ञा देते तभी मैं  जाउंगा, उस के पहेले तो नहीं जा सकता था..गुरू को समर्पित था तो मैं  अबू की गुफा में रहेता था और गुरूजी नैनीताल में थे… आज्ञा के बिना नहीं  जा सकते तो गुरू पूनम कैसे मनाएंगे?

मैं  मन ही मन गुरू जी को स्नान कराता था..

सामान्य पूजा से षोडशोपचार  पूजा में विशेष लाभ होता है, लेकिन षोडशोपचार पूजा से भी मानसिक पूजा से हजारो गुना अधिक लाभ होता है!और मानसिक पूजा जब गुरू की करते तो मेरे को करोडो गुना फल मेरे को मिला!!

मैं  क्या करता की गुरू पूर्णिमा के दिन अपने गुरू जी को मन ही मन प्रेम से स्नान कराता!..फिर सूखे तौलिये से पोछता था..बड़ा आनंद , बड़ा प्यार था!..गुरू मेरे आत्म रूप है..कभी भी कही बैठे हो, लेकिन यहाँ मेरे ह्रदय में भी तो है ! तो गुरू जी को मन से स्नान करा के तौलिये से पोछता था..मेरे गुरूजी लंबा चोला पहेनते थे, वो पहेनाता था..सीर पर सफेद कपड़ा बांधते थे वो पहेनाता था…उस के बाद गुरूजी के ललाट पे मैंने मन ही मन चन्दन का तिलक किया…फिर बिच में कुमकुम तिलक….मोगरे के फूलों की माला एक नहीं , 2 पहेराई ! पैसा तो देना नहीं है तो फिर काय को एक लेना?    … तो 2 माला गुरूजी को पहेराई! और गुरूजी के आत्मा की सुवास की खबर दे देते  बाहर की सुगंध वाले फूल ! ..गुरूजी को छू कर हवा जाती वो भी सुख शांती  देती है.. गुरु जी की दृष्टि पड़ती तो लोग निष्पाप होते…ऐसे गुरूजी का मैं  ध्यान करता हूँ…उन से बाते करता..उस समय अगर मुझे देखे तो बोले ये पागल है…लेकिन मुझे पागल कहेनेवाले तो पागल हो गए, मैं  तो बापू बन गया! मुझे तो गुरू की ऐसी कृपा मिली..

ध्यान मुलं गुरू मूर्ति

पूजा मुलं गुरू पदम्

मन्त्र मुलं गुरुर वाक्यं

मोक्ष मुलं गुरु कृपा

अखंड मंडलाकारं व्याप्तं येनं  चराचरम…चर में और अचर में जो व्याप रहा है..

तत्पदं दर्शितं येनं…तू वो ही चैत्यन्य है..

तस्मै श्री गुरूवे नमहा…ऐसा ब्रम्हज्ञान देनेवाले गुरू को मैं  बार बार नमस्कार करता हूँ..

हम लोग साधना तो करते है, लेकिन साधना को नष्ट करनेवाले काम भी करते है..जैसे सत्संग तो सुनते लेकिन सत्संग में घुस बैठ  कर के सत्संग के पुण्य  को नष्ट करने की मुर्खता भी करते..

गुरू पूनम को मानसिक पूजन कर के थोड़ी देर शांत..ॐ गुरू ॐ..आनंद देवा गुरू ॐ…मेरे गुरू ॐ..थोड़ी देर होठों में..फिर कंठ में…फिर ह्रदय में ऐसे मानसिक ध्यान में डूबते जाओ..

तीर्थ में तो तुम्हारा तन गोता मारता है, लेकिन ध्यान में तो तुम स्वयं गोता मारते हो..ध्यान में तुम्हारा मन स्वयं गुरु तत्व में गोता मारता है..यज्ञ  करने से वस्तु स्वाहा होती है लेकिन ध्यान करने से तो विकार और दुःख स्वाहा होते है…दान करने से तो धन शुध्द होता है लेकिन ध्यान करने से हम स्वयं शुध्द हो रहे..ॐ…आप को हंसी आएगी..शान्ति आएगी..प्रीती आएगी..कुछ ना कुछ होता जाएगा…अपनी तरफ से कोशिश मत करो… निर्दोष भाव से बैठ रहो ..डूबते जाओ..ॐ..ॐ…ॐ…

अब होठो से भी नहीं, कंठ से भी नहीं ह्रदय से जपो..फिर मन इधर उधर जाए तो प्लुत उच्चारण करो..ooooooommmmmmmmm…..

अति भोजन कर के अपने   को बीमार मत बनाओ..

और अति उपवास कर के अपने को कमजोर मत बनाओ..

नंगे पैर नहीं घुमना चाहिए..जप करते तो अध्यात्मिक ओरा बनती है..नंगे पैर घुमने से वो ओरा धरती में चली जाती है…कुलमिला कर अर्थिंग ना मिले ऐसा बैठना चलना चाहिए…रसोई घर में भी प्लास्टिक बिछा देवे..ठन्डे जमीन  पर पैर नहीं रखे..प्लास्टिक बिछा देवे, बोरी बिछा देवे..उस पे खड़े रहे..अपने को फर्श अथवा जमीन  सीधे पैरों पर नहीं लगे…और जप ध्यान करे…उस से शक्ति और भगवत प्रीती जागृत होगी…ॐ ॐ…आनंद ॐ..ॐ ॐ प्रभुजी ॐ..ॐ ॐ माधुर्य ॐ..ॐ ॐ गुरूजी ॐ..

समझो आप का मन्त्र ॐ नमः शिवाय है या जो भी मन्त्र है तो ॐ नमह शिवाय ॐ नमः शिवाय ऐसे जल्दी जल्दी जपेंगे ( ह्रस्व उच्चारण बिना रुके नॉन स्टॉप ) तो पाप नाशिनी ऊर्जा बनेगी…दीर्घ जपेंगे जैसे ओ ..म..न..म ..ह..शि ..वा..य.. तो कार्य साफल्य शक्ति आएगी..और प्लुत (लंबा)  जपेंगे तो भगवान में शांती  और भगवान के साथ एक तानता होगी…जैसे ओ…….म……न….म…….ह…….शि…….वा ……य…… अथवा

ह………रि …….ओ……………..म……………..

ये भगवान में विश्रांति देगा..

बहुत उंचा फ़ायदा है..

हे प्रभु आनंद दाता  प्रार्थना रोज करने से घर के झगड़े शांत होंगे..शरीर में बिमारी हो तो भाग जायेगी…निंदा करने से शरीर में बिमारी करने वाले रस बनाते है ..नूरो पोपोटाईल ..एल डी एल  ..इन से शरीर में बिमारी पैदा होती..किसी की निंदा ना करे…ज़रा ज़रा बात में खून गरम नहीं करना..हे प्रभु आनंद दाता  ये प्रार्थना रोज करना..खून गरम होता है, क्रोध आता है तो भगवान का चिंतन करना…..घर में सुख शांती  बढ़ाना..

ध्यान देना:-

1) 200 ग्राम हरड  और 100 ग्राम सैंधा नमक पिस के घर में  रखना..सुबह 2-4 ग्राम फांक लेना, इस सीजन में अच्छा  होगा..

2) इस सीजन में निम्बू का रस, अदरक, शहेद ये फायदे कारक है..

3) भोजन सादा करे, बादाम काजू रबड़ी ये बिमारी करता है.इडली दोसा भूल के भी नहीं खाना, पेट खराब करता है.

4) दही भी आगे चल के नाडीयों में ब्लोकेज  करता है…लस्सी पी सकते है

5) श्रावन मास में हरे पत्ती वाली सब्जी ना खाए और दूध कम कर दे..

व्यास पूर्णिमा को मानसिक पूजन कर सकते है.. ध्यान कर सकते है और रात्री को गुरू के साथ मिल सकते है, बात चित कर सकते है स्वप्ने में…..चाहे गुरू कितना भी दूर हो, शिष्य कितना भी दूर हो  लेकिन ये आत्मिक सम्बन्ध जोड़ सकते है…

ॐ शांती.

सद्गुरूदेव जी भगवान की महा जयजयकार हो!!!!!

गलतियों के लिए प्रभुजी क्षमा करे…

Advertisements
Explore posts in the same categories: Pujya Bapuji

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s


%d bloggers like this: