bhagavat prasaad:nirmal man aur prasann chitt

Ujjain;  2 July 2011

 

 

इस पोस्ट को हिंदी में पढ़ने के लिए कृपया यहाँ पधारे :  http://wp.me/pZCNm-mr

Hari om hari om hari om…

bhay naashan durmati haran

kali me hari ko naam

nishi din saadhak jo jape saphal hovayi sab kaam

hariiiiiiiiii ooooooooommmmmmmmmmmmm hari om

aisa koyi upaay hai ki aadami chinta se bach jaaye, bhay se bach jaaye, shok se bach jaaye, pidaaon se bach jaaye…aisaa koyi upaay hai?

dhan hone se bhi dukh, pidayen, bhay , rog hota hai..ye nirdhan kobhi hota  hai, sattaa waalon ko bhi hota hai…

to aisaa koyi upaay hai kya ki manushy jo nahi chaahataa ho vo naa ho, aur jo chaahataa ho wo hi ho.. 🙂

to manushy  NAHI kya chaahataa? dukh nahi chaahataa, chintaa nahi chaahataa, shok nahi chaahataa, paraadhinataa nahi chaahataa..to manushy jo nahi chaahataa us se bach jaaye aur jo chaahataa wo us ke paas sadaa ke liye rahe jaaye aisaa koyi upaay hai?

manushy chaahataa hai ki mai sukhi rahun, mai aanandit rahun, mai gyaan men tript rahun, mera koyi shatru naa rahe, mujhe nichaa na dekhanaa pade…ye manushy ki chaah hai..

koyi aisa nahi chaahataa ki mai dukhi rahun, koyi aisa nahi chaahataa ki mai chintit rahun..

to aisaa koyi upaay hai ki manushy dukhon se chhut jaaye,  bhay se chhut jaaye, chintaaon se chhut jaaye, paraadhintaa se chhut jaaye…aur badi me badi paraadhintaa hai MRITYU! aur mrityu ke samay sharir ki durbalataa – pida sataati hai..mrityu ke samay  kiye dukram pida dete tadapaate (jaise aurangjeb ko sahrmad phakir ki hatya, darashiko ki hatya aur pita ka chhal ye dushkarm marate samay bahut tadapaaye), marate samay tisari baat jahaa attachment hota hai -aasakti hoti hai un ka kya hogaa ye sataati hai, aur chauthi baat marane ke baad  marane ke baad kahaan jaayenge kooyi pataa nahi ye laachaari hai..

in 4 chijon ka jeete jee solution dhundh lena chaahiye, in 4 chijon ka apane jeete jee apane niyantran men kar lenaa chaahiye.

to bhagavan is ka sundar upaay bataate hai..gita ka dusaraa adhyaay 5 va shlok

prasaade sarv dukhaanaam

haani rasyopjaayate

prasann chetaso yaasu

budhdi pariveshtite

bhagavan bolate ki  us prasaad ko paa lo jis se saare dukh mit jaate…marate samay ka dukh, marane ke baad nich yoniyon ka dukh aur  jeete jee jo bhay sataataa hai, dwesh sataataa hai, irshaa sataati hai,  kaam-krodh sataataa hai ..

gyani ko bhi sansaar me utarataa huaa dikhataa hai..lekin wo kaam ke aadhin ho kar nahi, krodh ke aadhin ho kar nahi..lobh aur moh ke aadhin ho kar nahi.. ek vyakti vo hai jo ghode ki lagaam pakad ke sawaar ho ke bhaagaa jaa rahaa hai to mauj se vicharan karataa hai.. dusaraa vo vyakti  hai jo ghode ki puchh ko pakad ke ghasitaa jaa rahaa hai..

to gyaani man rupi ghode ki lagaam haath me lekar sansaar me jeeta hai..jis ko vo gyaan ka prasaad nahi milaa vo man rupi ghode ki puchh pakad ke bechaaraa dhakelaa jaa rahaa hai..

TO YE UPAAY HAI KI DHAKELAAHAT SE BACHANAA HAI!GHODE KI PUCHH KE BADALE GHODE KI LAGAAM HATH ME AA JAAYE!!

to bhagavaan bolate lagaam hath me le lo!kya? ki bole prasaad!!

prasaad kya hai?

bole : chitt ki prasannataa!chitt ki namrataa!chitt ki sahejataa! aur “mujh” me vishranti paaye huye mahaapurushon ka satsang ye prasaad hai.

prasaade sarv dukhaanaam..mere paas koyi koyi dukh aataa hai to tikataa hi nahi!bade bade dukh log bhejate lekin idhar aate aate baune ho jaate phir khilone ke naayi khel ke hum chhod dete ki jaa betaa! to wahaa hi jaate waapas jahaa se bheje gaye gaye the.. 🙂

ye hai prasaad!

prasaade sarv dukhaanaam

haani rasyopjaayate

prasann chetaso yasu

budhdi parivitishtate

antakaran ki prasannataa hone par is ke sampurn dukho ka abhaav ho jata hai…khali garibi ka abhaav nahi, khali bimari ka abhaav nahi,sampurn dukhon ka abhaav ho jata hai! marate samay jo dukh aayega us ka bhi aur jeete jee jo bhi dukh hai sabhi ka abhaav ho jata hai…

saakshaatkaar ke pahele jo dukh dekhe us ka mahatv nahi rahegaa, aur vartmaan me koyi dukh un ko dabaa nahi sakataa aur bhavishy me koyi dukh un ke paas munh dikhaane ke laayak nahi rahetaa..vo bhagavat prasaad hota hota hai!chitt ki nirmalataa hoti hai!chitt ki prasannataa hoti hai!

aur us prasaad se yogi ki budhdi paramaatmaa men shighr hi bhali-bhaanti sthit ho jaati hai.

 dhyaan dena – bahot unchi baat hai.

is baat ko maayi-bhaai sab paa sakate hai aur yahi baat paane yogy hai is jeevan men…paisaa paa liyaa to kuchh nahi chhod ke hi maranaa hai..sattaa paa li to kuchh nahi sattaa ke baad bhi dukh nahi mitate.. saundary paa li to bhi kuchh nahi paya..sab kuchh paa liya aur ye chij nahi paya to vo vyakti abhaagaa hai, kangaal hai!

aur sab kuchh khone ke baad bhi ye chij paa li to us ke mata dhany hai pita dhany hai!us ka kul gotr dhany ho jaayegaa jis ne ye bhagavaan ki prasaadi paa li jis ke liye bhagavaan gita ke 5 ve shlok dusare adhyaay me ishaaraa kar rahe hai..

aur ye chij paane ki aap ke paas yogyataa hai.

aur ye chij paane ke liye bhagavaan din-raat aap ke paas doot bhejate rahete hai.

kya doot bhejate hai?

sukhrupi doot bhejate ki us sukh ko baant kar aap udaar bano.

dukhrupi doot bhejataa ki us dukh se aap vivek jagaao, vairaagy jagaao aur sanaar ki aasakti chhodo.

bhagavaan ye doot roj bhejate rahete hai..maan-apamaan, sukh-dukh,haani-laabh ye sab bhejataa rahetaa hai bhagavaan…taa ki mere bachche apane swa-bhaav me aa jaaye!

 samatv yog muchyate!

sukham vaa yadi vaa dukham sanyogi paramo matah l

sukhad awasthaa aa jaaye athavaa dukhad awasthaa aa jaaye , mere mat me vo param yogi hai jo sabhi awasthaa me sam rahetaa hai ..

 samatv yog muchyate!

ye baat shrikrishn audhav ko bataa rahe hai.audhav ne puchh liyaa thaa ki manushy jeevan me sab se bade me badaa kaam kyaa hai?

shrikrishn ne 2 tuk jabaab diyaa ki

swabhaav vijaye iti shauryam !

apanaa sharir ke sath attachment ka jo swabhaav hai, man ke sath-sharir ke sath milane ka jo swabhaav hai us swabhaav par vijay paa liyaa ye badi shur veerataa hai.

sharir me 8 khod-khappad hai aur chalate samay aise chale ki log bolate kya pataa kaun sa prani aa rahaa hai..aise 12 saal ka ashtaavakra muni ka swabhaav vijayi hai to 80 saal ka janak raja un ka shishy ho jata hai! aur 12 saal ka guru 80 saal ke shishy ko kahetaa hai ki (ashtaavakr gita me aataa hai) is swabhaav ko aap saadh sakate hai.

shrikrishn ne gita me kahaa :

prasaade sarv dukhaanaam

hani rasyopjaayate

prasann chetaso yasu

budhdi parivitishtate

budhddi is parabramh paramaatmaa me tik jaaye.jo huaa so huaa us ko bhul jaao.

beet gayi so baat gayi takdir ka shikavaa kaun kare

jo teer kamaan se nikal gayi us ka pichhaa kaun kare

bair vrutti, kisi ka badalaa lene ki vritti nahi rakho.

kisi ka buraa na chaaho, kisi ka bura na socho, kisi ka bura na karo..to aap ka bura chaahanewale aap ka bura sochanewale thak jaayenge lekin aap ka bura nahi kar sakate..aap apane swabhaav me mast rahenge!

tapasyaa se prasannataa nahi aati.

dhan se bhi prasannataa nahi aati, kshanik harsh aataa hai.

satta se bhi kshanik harsh aata hai.

lekin chitt ki nirmalataa se bhagavat prasaadjaa budhdi banati hai.

ramayan me aata hai :-

nirmal man jo sohi jan  paawaa

chhal chhidr kapat vaa swapne naa bhaavaa

ek ghar me kuchh mehamaan khana khaa rahe the..2-3 saal ka bachchaa aayaa..bola, aap sab log aap sab log yahaa marane ko kyu aaye?

mehmaano ko lagaa aisaa kya bol rahaa hai?..maa paros rahi thi..boli aisa kya bolataa hai?..maa tum hi ne to kahaa thaa ki ye sab idhar marane ko aa rahe!mere ke pataa hota to 2 din pahele kahi chali jaati ..ye mehamaan sab idhar marane ko aa rahe!khana banaanaa padegaa..

ye bachche ki nirmalataa hai. maa ke hotho par mehamaano ke liye hansi hai aur bhitar se kahaa se marane ko aaye ye bhaav hai !

bachhon ke bhaav nirmal hote, isliye bachche jitane khush rahete hai utane bade aadami nahi rahete khush.. 🙂 bachchon me kaave daave raag dwesh nahi hote nirdosh hote isliye pyaare lagate hai.

to bhagavan bolate ki chitt ko prasaad se bhar do.

mai sab me hun, sab mujh me hai.sab ka bhalaa ho. sab vasudev hai.is dhyaan se mere aatm gyaan ke prasaad ko bhar lo..

iishwar ke sivaay kahi bhi man lagaayaa to ant men rona HI padegaa..

iishwar ke naate man lagaao to rone ka sawaal nahi..:) diyaa to lobhi

iishwar ko mahatv nahi diyaa, dhan ko mahatv diyaa to lobh ban jaate…to kaam, krodh, moh, mad, maatsary ye sab lofar ham ko giraane ke liy aate hai…ham jab iishwar ka naam lete -japate to in ka prabhaav kam hotaa hai…ye haraami milkar bhi ham ko iishwar se vimukh kar dete hai..lekin ek baar bramhgyaani sadguru ki dikshaa mili to iishwar ki krupaa aisi barasati ki baar baar ye shatru gumraah karate phir bhi bhagavaan ham ko raah par le aate! ye us ki krupaa hai!!

bhagavaan param suhurd hai..maa ke sharir me hamaare liye dudh banaa diyaa..vo kitanaa daataa dayaalu hai! kitanaa samarth hai!

samarth ho lekin agyaani ho to hamaaraa kya bhalaa karegaa?lekin iishwar samarth hai, gyaan swarup bhi hai, sarvagy bhi hai..

sarvagy ho lekin us ko hamaari kuchh padi nahi to? to bole us ko hamaari padi bhi hai, wo param suhurd hai!vo hamaaraa hiteshi bhi hai…ham 1000 – 10000 baar phisalate to bhi vo hamen uthaa ke achchhe raaste lata hai..vo hi antaryaami paramaatmaa hai jo aaj yahaa bhi laayaa aap ko….us ko baar baar dhanyawaad do..

hey prabhu aanand daataa gyaan ham ko dijiye..

tuchchh jeevan aur divya jeevan kya hai? khaao piyo majaa karo ye tuchchh jeevan hai..sanyam se raho , sachchaayi se raho, dusare ke dukh dur karane me lago aur bhagavan ko apanaa , apane ko bhagavan ka  maano to ye divy jeevan ho jaayega.

shrikrushn audhav ko braamhan ki kathaa sunaaye..vo braamhan dhanwaan tha ,  tuchchh jeevan jitaa thaa..lekin tuchchh jeevan ka ant karanewala parameshwar us par rizaa…us ke swabhaav me chidchidaapan aayaa…graahaki kam hone lagi..aur to kya jo apane the un ke liye bhi kuchh kharch nahi karataa thaa to kutumbi bhi virudhd hone lage..itane me sarkaari amaldaaron ko bhi lagaa ki is ke paas to dhan bahot hai aur kisi ko detaa nahi to sarkaari amaldaar bhi us ko nochane lage…ye kar vibhaag se ye tax vo tax dikhaa ke japti laakar braamhan ko foothpaath pe laake khadaa kar diyaa..ab vo braamhan sochane lagaa ki haay re..dhan kamaayaa , naa maine daan kiyaa, naa sanyam se bhog bhogaa…dhan ko badhaa badhaa ke  aakhari dhan to sab  le gaye..ye dhan bolate ‘arth’ hai lekin is me badaa anarth chhupaa hai..is ka agar sachchayi se upyog nahi  karate , mehanat ke binaa aataa hai to badaa anarth karataa hai..haraam ka dhan aadami ko kaami banaa detaa hai, krodhi banaa detaa hai, mohi banaa detaa hai, ahanakaari banaa detaa hai..dusaron ka shoshak banaa detaa hai..is prakaar dhan me 64 durgun  shaasron me likhe hai..dhan sampadaa praarabdh veg me hoti hai utanaa samay hi tikati hai..baaki samay to tika tika ke khoka kharaab kar ke mar jaate hai..putr ke liye dhan ikaththaa kiya aur putr kupaatr hai to dhan kaun se raaste jaayegaa? aur agar pur supaatr hai to  us ke liye saari vyavasthaa iishwar ki aor se ho jaayegi…

put kaput hai to kaahe dhan-sanchay

aur put saput hai to kaahe dhan-sanchay?

adhik sangrah achchhaa nahi

ye moksh path me aad hai

kaise bhalaa tu lakh sake

sir pe ladaa jo bhaar hai

to dhan ke 64 durgunon se hi braamhan pareshaan huaa..dhan ke 16 sadgun hai..mata pita gurujano ki shaasron ki garibon ke kaam aaye , vivek vairaagy  badhaa kar iishwar praapti ke kaam aaye ye 16 sadguno ka braamhan ne phaayadaa nahi liyaa..64 durgunon ne us ko dabaa diyaa..braamhan khud hi ko kosane lagaa ki naa daan kiyaa naa yagy kiyaa..naa dharam me lagaayaa.. sab khaa gaye..haay re mai kahi nahi rahaa…aise kar ke royaa.. rote rote man me vivek jagaa ..jis dhan ke pichhe maine saari jindagi barbaad kar di aise mere jaise paagalon se to duniyaa bhari hai..ye bhagavaan ki kripa huyi ki dhan abhi jite jee chhut gayaa..nahi to marate samay dhan ka chintan kar ke marataa to saap ban jata…bichchhu hota..aur koyi nich yoni me aataa..

braamhan satsang me jaane lagaa.

binu satsang vivek naa hoyi.

bhaagy jab bahut jor kare to satsang me ruchi hoti hai.durbhaagy jor kare to satsang ko pith dene ki ruchi hoti hai.puny jor deta hai to satsang me jane ki ruchi hoti hai aur paap jor maarate to satsang karanewale aur satsang ke prati upraamataa ho jaati hai.

binu puny punj mile nahi santaa..us ke praayschitt se us ke puny uday huye.us ko sant mile.

uma sant samaagam aur laabh kachhu aan

binu harikripaa gyan upaje nahi gaav hi ved puraan

jab santon ke paas jaane ki ruchi hoti to samajh lena ki bhagavan ki kripa ho rahi.na jaane kaun se karm se antaraatmaa khush huaa hai to santon ki taraf bhej rahaa hai.braamhan satsang me jaane lagaa..lekin sansaar ki nashwarataa se kayi dhani aadami bhi nich narakon me pade hai..aur sanyam se rahenewali shabari bhilan bhi bhagavaan ki mor-mugut ho gayi!..is vishay ko sunate sunate bramhan ko huaa ki mai sanyaas ki dikshaa le lun…

jis ne jeevan bhar dhan kamaayaa..kisi ke taraf nahi dekhaa..ekaaek kangalaa ho gayaa phir sanyaas ki dikshaa liyaa to puraane shatru us ka badalaa lene lage..dhan chalaa gayaa to sadhu ban gayaa, haraam ka khaata tha..kisi ko kabhi khilaayaa nahi ab dharam kaa khata hai..

lekin bramhan ne satsang se sunaa thaa ki koyi bhi be-iijaati hoti hai vo sharir ki hoti hai ..samataa se sunate jaao to kayi janamo ke paap kat jaate hai..

samatv yog muchyate..

us braamhan ko bhikshaa maangate dekhate to log us ki thaththa-maskhari karate..kisi ko khilaayaa nahi aur ab mophat ka khataa hai, is ko bhikshaa deni nahi… 1 ghar, 2 ghar ..4-5 gharon me aise sunaa ke bhagaa dete..phir kisi ghar se kuchh bhikshaa mil jaati..to nadi kinaare aa kar bhagavaan ko bhog lagaa ke bhikshaa khaane ki taiyyari karataa to  udand, paataki, manchaahi karanewale log us ke upar laghushankaa(peshaab) karate the..kabhi kabhi to jaan-bujh kar daal khaa ke aate aur jahaa vo braamhan bhikshaa khaane biathataa us ke munh par jaa kar adho-vaayu chhodate..sharir ki gandi vayu chhodate..aisaa hone par bhi us braamhan ne satsang ko aisa pachaayaa  ki dukhad awasthaa baahar se aati hai..dukhaa kaar bhaav paidaa hota hai to us ke saath dukhi hokar apanaa dil kyu bigaadu? mai bhagavan ka hun, bhagavaan mere hai..ye mere kayi janmo ke lenedaar hai..sab kuchh gujar rahaa hai..paramaatmaa shaashwat hai aur mera antaraatmaa hai.. om shanti..om maadhury…

vo braamhan baithaa rahetaa to koyi us ke sir pe thungaa maar ke chalaa jata..koyi us ke jholi-jhande par peshaab karataa..to koyi jaan bujh ke us ke upar adhovayu chhodataa..bramhan kabhi chup rahetaa…kabhi hans letaa…to bolate ki badaa dhong karataa hai..abhi kuchh kahene ko bachaa nahi isliye hans ke baat ko taal detaa hai..aisi khari khoti us ko sunaate..braamhan ke man me kabhi kuchh aataa lekin phir satsang ki baat yaad kar ke us sab ke upar paani ghumaa kar mujh antaraatmaa ka chintan karataa ki prabhu ye teri leela hai..aur prasann rahetaa..

aise bade bhaari dukh me bhi satsang ke prasaad se bramhan nir-dukh ho gayaa…to maut us ko dukh kyaa de sakati hai?dusaraa janam us ka kya ho sakataa hai?

 bhagavaan bolate ki aap marane ke baad nich yoni se bach jaaye aur vartmaan me dukhad awasthaa aaye to bhi dukh naa ho, vikkaaron me naa gire, ahankaar posane me naa lage, sadgun badhaaye..ye sab aataa hai satsang se..prasaad milataa hai satsang se..gurukripa se..gurudikshaa se…. 

aap sabhi ko apani aur mahaakaal ki taraf dhanywaad deta hun:

dhany mata pita dhany gotram dhanyam kulod bhav

dhanyaach vasudhaa devi yatr syaat guru bhaktat:

satsang se aur sant kripa se jo phayadaa hota hai vo hajaar hajaar yaatraaon se nahi hotaa..devi -devataa ki puja karate , murti ki puja karate vo apane sankalp se apani bhaavanaa se  hota hai..murti to sankalp karegi nahi..baat karegi nahi.. lekin sant ke sharan jaate to  apanaa sankalp apane bhale ka hota aur sant ki drishti me hamaare bhale ka sankalp ki hi saari vyavasthaa hoti hai.. to sant ka hriday jitanaa unchaa aur pavitr hotaa hai utani ham ko madad milati hai..

ham agar lilashaah ji prabhu ke charano me nahi jaate to murti puja to karate the aur aise niyam ke pakke the ki aap ko sunaaye to aaschary karge..lekin phir bhi sadguru ke charanon me aane se jo laabh huaa vo biso saal ki bhakti se vo laabh nahi hotaa.. abhi mere ko khabar mili ki 5 karod satsangi ho gaye..ye 3 saal me 3 karod saadhak badh gaye..aaj kal helicopter me jaa kar 3-3 jagah satsang karanaa padataa hai…ham to kuprachaar karanewalo ka bhi mangal chaahate hai..hamen to samatv yog ka prasaad milaa hai!..aap bhi sam rahene ka prayatn karo..sam rahene se aap ke chitt me bhagavat prasaad aayegaa…chitt nirdosh hogaa..

om shanti.

SADGURUDEV JI BHAGAVAN KI MAHAA JAY JAYKAAR HO!!!!!

Galatiyon ke liye prabhuji kshamaa kare….

$$$$$$$$$$$$$$$$$

भगवत प्रसाद:निर्मल मन और प्रसन्न चित्त

 

उज्जैन;  2 जुलाई 2011




हरि   ॐ हरि ॐ हरि ॐ…

 

भय नाशन दुरमति हरण   

कलि में हरी को नाम

निशि दिन साधक जो जपे 

सफल होवई सब काम

हरि हरि  ओ s  म्मम्मम   s हरि ॐ  

 

ऐसा कोई उपाय है की आदमी चिंता से बच जाए, भय से बच जाए, शोक से बच जाए, पीडाओं से बच जाए…ऐसा कोई उपाय है?

धन होने से भी दुःख, पीडाएं, भय , रोग होता है..ये निर्धन कोभी होता  है, सत्ता वालों को भी होता है…

तो ऐसा कोई उपाय है क्या की मनुष्य जो नहीं चाहता हो वो ना हो, और जो चाहता हो वो ही हो.. :)

तो मनुष्य  नहीं क्या चाहता? दुःख नहीं चाहता, चिंता नहीं चाहता, शोक नहीं चाहता, पराधीनता नहीं चाहता..तो मनुष्य जो नहीं चाहता उस से बच जाए और जो चाहता वो उस के पास सदा के लिए रहे जाए ऐसा कोई उपाय है?

मनुष्य चाहता है की मैं  सुखी रहूँ, मैं  आनंदित रहूँ, मैं  ज्ञान में तृप्त रहूँ, मेरा कोई शत्रु ना रहे, मुझे नीचा न देखना पड़े…ये मनुष्य की चाह है..

कोई ऐसा नहीं चाहता की मैं  दुखी रहूँ, कोई ऐसा नहीं चाहता की मैं  चिंतित रहूँ..

तो ऐसा कोई उपाय है की मनुष्य दुखों से छुट जाए,  भय से छुट जाए, चिंताओं से छुट जाए, पराधीनता से छुट जाए…और बड़ी में बड़ी पराधीनता है मृत्यु! और मृत्यु के समय शरीर की दुर्बलता – पीड़ा सताती है..मृत्यु के समय  किये दुष्कर्म  पीड़ा देते तड़पाते है (जैसे औरंगजेब को शर्मद  फकीर की हत्या, दाराशिको की हत्या और पिता का छल ये दुष्कर्म मरते समय उस को  बहुत तडपाये), मरते समय तीसरी बात जहा अटैचमेंट होता है -आसक्ति होती है उन का क्या होगा ये सताती है, और चौथी बात मरने के बाद   कहाँ जायेंगे कूई पता नहीं ये लाचारीकी पीड़ा  है..

इन 4 चीजों का जीते जी सोल्यूशन  ढूंढ़  लेना चाहिए, इन 4 चीजों का अपने जीते जी अपने नियंत्रण में कर लेना चाहिए.

तो भगवान इस का सुन्दर उपाय बताते है..गीता का दूसरा अध्याय 5 वां  श्लोक

प्रसादे सर्व दुखानाम

हानि रस्योप्जायते

प्रसन्न चेतसो यासु

बुध्दी परिवेष्टिते 

भगवान बोलते की  उस प्रसाद को पा लो जिस से सारे दुःख मिट जाते…मरते समय का दुःख, मरने के बाद नीच योनियों का दुःख और  जीते जी जो भय सताता है, द्वेष सताता है, इर्षा सताती है,  काम-क्रोध सताता है ..

ज्ञानी भी संसार में उतरता हुआ दीखता है..लेकिन वो काम के आधीन हो कर नहीं, क्रोध के आधीन हो कर नहीं..लोभ और मोह के आधीन हो कर नहीं.. एक व्यक्ति वो है जो घोड़े की लगाम पकड़ के सवार हो के भागा जा रहा है तो मौज से विचरण करता है.. दूसरा वो व्यक्ति  है जो घोड़े की पूछ को पकड़ के घसीटा जा रहा है..

तो ग्यानी मन रूपी घोड़े की लगाम हाथ में लेकर संसार में जीता है..जिस को वो ज्ञान का प्रसाद नहीं मिला वो मन रूपी घोड़े की पूछ पकड़ के बेचारा धकेला जा रहा है..

तो ये उपाय है की धकेलाहट  से बचना है!घोड़े की पूछ के बदले घोड़े की लगाम हाथ में आ जाए!!

तो भगवान बोलते लगाम हाथ में ले लो!क्या? की बोले प्रसाद!!

प्रसाद क्या है?

बोले : चित्त की प्रसन्नता!चित्त की नम्रता!चित्त की सहेजता! और “मुझ” में विश्रांति पाए हुए महापुरुषों का सत्संग ये प्रसाद है.

प्रसादे सर्व दुखानाम..मेरे पास  कोई दुःख आता है तो टिकता ही नहीं!बड़े बड़े दुःख लोग भेजते लेकिन इधर आते आते बौने हो जाते फिर खिलोने के नाई खेल के हम छोड़ देते की जा बेटा! तो वहा ही जाते वापस जहा से भेजे गए गए थे.. :)

ये है प्रसाद!

प्रसादे सर्व दुखानाम

हानि रस्योप्जायते

प्रसन्न चेतसो यासु

बुध्दी परीवेष्टिते 

अंतकरण की प्रसन्नता होने पर इस के सम्पूर्ण दुखो का अभाव हो जाता है ..खाली  गरीबी का अभाव नहीं, खाली  बीमारी का अभाव नहीं,सम्पूर्ण दुखों का अभाव हो जाता है! मरते समय जो दुःख आएगा उस का भी और जीते जी जो भी दुःख है सभी का अभाव हो जाता है…

साक्षात्कार के पहेले जो दुःख देखे उस का महत्त्व नहीं रहेगा, और वर्तमान में कोई दुःख उन को दबा नहीं सकता और भविष्य में कोई दुःख उन के पास मुंह दिखाने के लायक नहीं रहेता..वो भगवत प्रसाद  होता है!चित्त की निर्मलता होती है!चित्त की प्रसन्नता होती है!

और उस प्रसाद से योगी की बुध्दी परमात्मा में शीघ्र ही भली-भाँती स्थित हो जाती है.

 ध्यान देना – बहोत ऊँची बात है.

इस बात को माई-भाई सब पा सकते है और यही बात पाने योग्य है इस जीवन में…पैसा पा लिया तो कुछ नहीं छोड़ के ही मरना है..सत्ता पा ली तो कुछ नहीं सत्ता के बाद भी दुःख नहीं मिटते.. सौन्दर्य पा लिया  तो भी कुछ नहीं पाया..सब कुछ पा लिया और ये चीज नहीं पाया तो वो व्यक्ति अभागा है, कंगाल है!

और सब कुछ खोने के बाद भी ये चीज पा ली तो उस के माता धन्य है पिता धन्य है!उस का कुल गोत्र धन्य हो जाएगा जिस ने ये भगवान की प्रसादी पा ली जिस के लिए भगवान गीता के 5 वे श्लोक दुसरे अध्याय में इशारा कर रहे है..

और ये चीज पाने की आप के पास योग्यता है.

और ये चीज पाने के लिए भगवान दिन-रात आप के पास दूत भेजते रहेते है.

क्या दूत भेजते है?

सुख रूपी  दूत भेजते की उस सुख को बाँट कर आप उदार बनो.

दुख रूपी  दूत भेजता की उस दुःख से आप विवेक जगाओ, वैराग्य जगाओ और संसार  की आसक्ति छोडो.

भगवान ये दूत रोज भेजते रहेते है..मान-अपमान, सुख-दुःख,हानि-लाभ ये सब भेजता रहेता है भगवान… ता  की मेरे बच्चे अपने स्व-भाव में आ जाए!

 समत्व योग मुच्यते!

सुखं वा यदि वा दुखम संयोगी परमो मतः l

सुखद अवस्था आ जाए अथवा दुखद अवस्था आ जाए , मेरे मत में वो परम योगी है जो सभी अवस्था में सम रहेता है ..

 समत्व योग मुच्यते!

ये बात श्रीकृष्ण औधव को बता रहे है.औधव ने पूछ लिया था की मनुष्य जीवन में सब से बड़े में बड़ा काम क्या है?

श्रीकृष्ण ने 2 टूक जबाब दिया की

स्वभाव विजय  इती  शौर्यं !

अपना शरीर के साथ अटैचमेंट का जो स्वभाव है, मन के साथ-शरीर के साथ मिलने का जो स्वभाव है उस स्वभाव पर विजय पा लिया ये बड़ी शुर वीरता है.

शरीर में 8 खोड -खप्पड   है और चलते समय ऐसे चले की लोग बोलते क्या पता कौन सा प्राणी आ रहा है..ऐसे 12 साल का अष्टावक्र मुनि का स्वभाव विजयी है तो 80 साल का जनक राजा उन का शिष्य हो जाता है! और 12 साल का गुरु 80 साल के शिष्य को कहेता है की (अष्टावक्र गीता में आता है) इस स्वभाव को आप साध सकते है.

श्रीकृष्ण ने गीता में कहा :

प्रसादे सर्व दुखानाम

हांनी रस्योप्जायते

प्रसन्न चेतसो यासु

बुध्दी परिवेष्टिते 

बुध्दी  इस परब्रम्ह परमात्मा में टिक जाए…जो हुआ सो हुआ उस को भूल जाओ.

बीत गयी सो बात गयी तक़दीर का शिकवा कौन करे

जो तीर कमान से निकल गयी उस का पीछा कौन करे

बैर वृत्ति, किसी का बदला लेने की वृत्ति नहीं रखो.

किसी का बुरा न चाहो, किसी का बुरा न सोचो, किसी का बुरा न करो..तो आप का बुरा चाहनेवाले आप का बुरा सोचनेवाले थक जायेंगे लेकिन आप का बुरा नहीं कर सकते..आप अपने स्वभाव में मस्त रहेंगे!

तपस्या से प्रसन्नता नहीं आती.

धन से भी प्रसन्नता नहीं आती, क्षणिक हर्ष आता है.

सत्ता से भी क्षणिक हर्ष आता है.

लेकिन चित्त की निर्मलता से भगवत प्रसाद्जा बुध्दी बनती है.

रामायण में आता है :-

निर्मल मन जो सोही मोहे   पावा

छल छिद्र कपट वा स्वप्ने ना भावा

एक घर में कुछ मेहमान खाना खा रहे थे..2-3 साल का बच्चा आया..बोला, आप सब लोग आप सब लोग यहाँ मरने को क्यों आये?

मेहमानों को लगा ऐसा क्या बोल रहा है?..माँ परोस रही थी..बोली ऐसा क्या बोलता है?..माँ तुम ही ने तो कहा था की ये सब इधर मरने को आ रहे!मेरे के पता होता तो 2 दिन पहेले कही चली जाती ..ये मेहमान सब इधर मरने को आ रहे!खाना बनाना पडेगा..

ये बच्चे की निर्मलता है…. माँ के होठो पर मेहमानों के लिए हंसी है और भीतर से कहा से मरने को आये ये भाव है !

बच्चों  के भाव निर्मल होते, इसलिए बच्चे जितने खुश रहेते है उतने बड़े आदमी नहीं रहेते खुश.. :) बच्चों में कावे दावे राग द्वेष नहीं होते निर्दोष होते इसलिए प्यारे लगते है.

तो भगवान बोलते की चित्त को प्रसाद से भर दो.

मैं  सब में हूँ, सब मुझ में है.सब का भला हो. सब वासुदेव है.इस ध्यान से मेरे आत्म ज्ञान के प्रसाद को भर लो..

ईश्वर के सिवाय कही भी मन लगाया तो अंत में रोना ही पडेगा..

ईश्वर के नाते मन लगाओ तो रोने का सवाल नहीं..:)

ईश्वर को महत्त्व नहीं दिया, धन को महत्त्व दिया तो लोभी  बन जाते…तो काम, क्रोध, मोह, मद, मात्सर्य ये सब लोफर हम को गिराने के लिये  आते है…हम जब ईश्वर का नाम लेते -जपते तो इन का प्रभाव कम होता है…ये हरामी मिलकर भी हम को ईश्वर से विमुख कर देते है..लेकिन एक बार ब्रम्हज्ञानी सद्गुरु की दीक्षा मिली तो ईश्वर की कृपा ऐसी बरसती की बार बार ये शत्रु गुमराह करते फिर भी भगवान हम को राह पर ले आते! ये उस की कृपा है!!

भगवान परम सुहुर्द है..माँ के शरीर में हमारे लिए दूध बना दिया..वो कितना दाता  दयालु है! कितना समर्थ है!

समर्थ हो लेकिन अज्ञानी हो तो हमारा क्या भला करेगा?लेकिन ईश्वर समर्थ है, ज्ञान स्वरुप भी है, सर्वग्य भी है..

सर्वग्य हो लेकिन उस को हमारी कुछ पड़ी नहीं तो? तो बोले उस को हमारी पड़ी भी है, वो परम सुहुर्द है!वो हमारा हितेषी भी है…हम 1000 – 10000 बार फिसलते तो भी वो हमें उठा के अच्छे रास्ते लाता है..वो ही अन्तर्यामी परमात्मा है जो आज यहाँ भी लाया आप को….उस को बार बार धन्यवाद दो..

हे प्रभु आनंद दाता  ज्ञान हम को दीजिये..

तुच्छ जीवन और दिव्य जीवन क्या है? खाओ पियो मजा करो ये तुच्छ जीवन है..संयम से रहो , सच्चाई से रहो, दुसरे के दुःख दूर करने में लगो और भगवान को अपना , अपने को भगवान का  मानो तो ये दिव्य जीवन हो जाएगा.

श्रीकृष्ण औधव को ब्राम्हण  की कथा सुनाये..वो ब्राम्हण  धनवान था ,  तुच्छ जीवन जीता था..लेकिन तुच्छ जीवन का अंत करनेवाला परमेश्वर उस पर रिझा  …उस के स्वभाव में चिडचिडापन आया…ग्राहकी कम होने लगी..और तो क्या जो अपने थे उन के लिए भी कुछ खर्च नहीं करता था तो कुटुम्बी भी विरुध्द होने लगे..इतने में सरकारी अमलदारों  को भी लगा की इस के पास तो धन बहोत है और किसी को देता नहीं तो सरकारी अमलदार भी उस को नोचने लगे…ये कर विभाग से ये टैक्स वो टैक्स दिखा के जप्ती लाकर ब्राम्हण  को  फुटपाथ  पे लाके खडा कर दिया..अब वो ब्राम्हण सोचने लगा की हाय रे..धन कमाया , ना मैंने दान किया, ना संयम से भोग भोगा…धन को बढ़ा बढ़ा के  आखरी धन तो सब  ले गए..ये धन बोलते ‘अर्थ’ है लेकिन इस में बड़ा अनर्थ छुपा है..इस का अगर सच्चाई से उपयोग नहीं  करते , मेहनत के बिना आता है तो बड़ा अनर्थ करता है..हराम का धन आदमी को कामी बना देता है, क्रोधी बना देता है, मोहि बना देता है, अहंकारी  बना देता है..दूसरों का शोषक बना देता है..इस प्रकार धन में 64 दुर्गुण  शास्रों में लिखे है..धन संपदा प्रारब्ध वेग में होती है उतना समय ही टिकती है..बाकी समय तो टिका टिका के खोका खराब कर के मर जाते है..पुत्र के लिए धन इकठठा  किया और पुत्र कुपात्र है तो धन कौन से रास्ते जाएगा? और अगर पुर सुपात्र है तो  उस के लिए सारी  व्यवस्था ईश्वर की ओर से हो जायेगी…

पुत  कपूत है तो काहे धन-संचय

और पुत सपूत है तो काहे धन-संचय?

अधिक संग्रह अच्छा नहीं

ये मोक्ष पथ में आड़ है

कैसे भला तू लख सके

सर पे लदा  जो भार है

तो धन के 64 दुर्गुणों से ही ब्राम्हण  परेशान हुआ..धन के 16 सद्गुण है..माता पिता गुरुजनों के  शास्रों के  गरीबों के काम आये , विवेक वैराग्य  बढ़ा कर ईश्वर प्राप्ति के काम आये ये 16 सद्गुणों का ब्राम्हण  ने फ़ायदा नहीं लिया..64 दुर्गुणों ने उस को दबा दिया..ब्राम्हण  खुद ही को कोसने लगा की ना दान किया ना यग्य किया..ना धरम में लगाया.. सब खा गए..हाय रे ! मैं  कही का नहीं रहा…ऐसे कर के रोया.. रोते रोते मन में विवेक जगा ..जिस धन के पीछे मैंने सारी जिंदगी बर्बाद कर दी ऐसे मेरे जैसे पागलों से तो दुनिया भरी है..ये भगवान की कृपा हुयी की धन अभी जीते जी छुट गया..नहीं तो मरते समय धन का चिंतन कर के मरता तो साप बन जाता…बिच्छु होता..और कोई नीच योनी में आता..

ब्राम्हण  सत्संग में जाने लगा.

बिनु सत्संग विवेक ना होई.

भाग्य जब बहुत जोर करे तो सत्संग में रूचि होती है.दुर्भाग्य जोर करे तो सत्संग को पीठ देने की रूचि होती है…पुण्य  जोर देता है तो सत्संग में जाने की रूचि होती है और पाप जोर मारते तो सत्संग करनेवाले और सत्संग के प्रति उपरामता हो जाती है.

बिनु पुण्य  पुंज मिले नहीं संता..

उस के प्रायश्चित्त से उस के पुण्य  उदय हुए…उस को संत मिले.

उमा संत समागम और लाभ कछु आन

बिनु हरिकृपा ज्ञान उपजे नहीं गाव ही वेद  पुराण

जब संतों के पास जाने की रूचि होती तो समझ लेना की भगवान की कृपा हो रही…न जाने कौन से कर्म से अंतरात्मा खुश हुआ है तो संतों की तरफ भेज रहा है….ब्राम्हण  सत्संग में जाने लगा..लेकिन संसार की नश्वरता से कई धनि आदमी भी नीच नरकों में पड़े है..और संयम से रहेनेवाली शबरी भिलन भी भगवान की मोर-मुगुट हो गयी!..इस विषय को सुनते सुनते ब्राम्हण  को हुआ की मैं  संन्यास की दीक्षा ले लूँ…

जिस ने जीवन भर धन कमाया..किसी के तरफ नहीं देखा..एकाएक कंगला हो गया फिर संन्यास की दीक्षा लिया तो पुराने शत्रु उस का बदला लेने लगे..धन चला गया तो साधू बन गया, हराम का खाता था..किसी को कभी खिलाया नहीं अब धरम का खाता है..ऐसी खरी खोटी सुनाते ..

लेकिन ब्राम्हण  ने सत्संग से सूना था की कोई भी बे- ईज्जती  होती है वो शरीर की होती है ..समता से सुनते जाओ तो कई जन्मो के पाप कट जाते है..

समत्व योग मुच्यते..

उस ब्राम्हण को भिक्षा माँगते देखते तो लोग उस की ठठ्ठा-मसखरी करते..किसी को खिलाया नहीं और अब मोफत का खाता है, इस को भिक्षा देनी नहीं… 1 घर, 2 घर ..4-5 घरों में ऐसे सूना के भगा देते..फिर किसी घर से कुछ भिक्षा मिल जाती..तो नदी किनारे आ कर भगवान को भोग लगा के भिक्षा खाने की तैय्यारी करता तो  उदंड, पातकी, मनचाही करनेवाले लोग उस के ऊपर लघुशंका(पेशाब) करते थे..कभी कभी तो जान-बुझ कर दाल खा के आते और जहा वो ब्राम्हण भिक्षा खाने  बैठता  उस के मुंह पर जा कर अधो-वायु छोड़ते..शरीर की गन्दी वायु छोड़ते..ऐसा होने पर भी उस ब्राम्हण  ने सत्संग को ऐसा पचाया  की दुखद अवस्था बाहर से आती है..दुखा कार भाव पैदा होता है तो उस के साथ दुखी होकर अपना दिल क्यों बिगाडू? मैं  भगवान का हूँ, भगवान मेरे है..ये मेरे कई जन्मो के लेनदार है..सब कुछ गुजर रहा है..परमात्मा शाश्वत है और मेरा अंतरात्मा है.. ॐ शांति..ॐ माधुर्य …

वो ब्राम्हण  बैठा रहेता तो कोई उस के सर पे ठुंगा  मार के चला जाता..कोई उस के झोली-झंडे पर पेशाब करता..तो कोई जान बुझ के उस के ऊपर अधोवायु छोड़ता.. ब्राम्हण  कभी चुप रहेता…कभी हंस लेता…तो बोलते की बड़ा ढोंग करता है..अभी कुछ कहेने को बचा नहीं इसलिए हंस के बात को  टाल देता है..ऐसी खरी खोटी उस को सुनाते..ब्राम्हन के मन में कभी कुछ आता लेकिन फिर सत्संग की बात याद कर के उस सब के ऊपर पानी घुमा कर मुझ अंतरात्मा का चिंतन करता की प्रभु ये तेरी लीला है..और प्रसन्न रहेता..

ऐसे बड़े भारी दुःख में भी सत्संग के प्रसाद से ब्राम्हण  नीर-दुःख हो गया…तो मौत उस को दुःख क्या दे सकती है ! दूसरा जनम उस का क्या हो सकता है !!

 भगवान बोलते की आप मरने के बाद नीच योनी से बच जाए और वर्तमान में दुखद अवस्था आये तो भी दुःख ना हो, विकारों  में ना गिरे, अहंकार पोसने में ना लगे, सद्गुण बढाए..ये सब आता है सत्संग से..प्रसाद मिलता है सत्संग से..गुरुकृपा से..गुरुदीक्षा से…. 

आप सभी को अपनी और महाकाल की तरफ से  धन्यवाद देता हूँ:

धन्य माता पिता धन्य गोत्रं धन्यं कुलोद भव

धन्याच वसुधा देवी यत्र स्यात गुरु भक्तत:

सत्संग से और संत कृपा से जो फायदा होता है वो हजार हजार यात्राओं से नहीं होता..देवी -देवता की पूजा करते , मूर्ति की पूजा करते वो अपने संकल्प से अपनी भावना से  होता है..मूर्ति तो संकल्प करेगी नहीं..बात करेगी नहीं.. लेकिन संत के शरण जाते तो  अपना संकल्प अपने भले का होता और संत की दृष्टि में हमारे भले का संकल्प की ही सारी व्यवस्था होती है.. तो संत का ह्रदय जितना उंचा और पवित्र होता है उतनी हम को मदद मिलती है..

हम अगर लीलाशाह जी प्रभु के चरणों में नहीं जाते तो मूर्ति पूजा तो करते थे और ऐसे नियम के पक्के थे की आप को सुनाये तो आश्चर्य करेंगे ..लेकिन फिर भी सद्गुरु के चरणों में आने से जो लाभ हुआ वो बिसो साल की भक्ति से वो लाभ नहीं होता.. अभी मेरे को खबर मिली की 5 करोड़ सत्संगी हो गए..ये 3 साल में 3 करोड़ साधक बढ़ गए..आज कल हेलिकॉप्टर में जा कर 3-3 जगह सत्संग करना पड़ता है…हम तो कुप्रचार करनेवालों का भी मंगल चाहते है..हमें तो समत्व योग का प्रसाद मिला है!..आप भी सम रहेने का प्रयत्न करो..सम रहेने से आप के चित्त में भगवत प्रसाद आयेगा…चित्त निर्दोष होगा..

ॐ शांती .

सदगुरुदेव जी भगवान की महा जय जयकार हो!!!!!

गलतियों के लिए प्रभुजी क्षमा करे….

 

 

 

 

 

 

Advertisements
Explore posts in the same categories: Pujya Bapuji

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s


%d bloggers like this: