Iishwar ka prabhaav nahi, Swabhaav jaano

Lakhano(U. P.) ; 22March 2011

इस पोस्ट को हिंदी में पढ़ने के लिए कृपया यहाँ पधारे :

http://wp.me/pZCNm-me

naraa naam samuham iti naaram
nar naari ke samuh me jo chid ghan chaityany parameshwar sattaa hai us ko shaastro ne NARAYAN kahaa hai..
108 baar us bhagavaan ka naam lekar koyi badaa kaary aarambh karataa hai to yashaswi hota hai..

koyi lambi yaatraa karataa hai :   “om namo bhagavate vaasudevaay” 108 baar bol ke jata hai to vaasudev ki satta us ki rakhawaali karati hai…


bhagavaan ka prabhaav dekh kar aap bhagavaan ke nikat jaa bhi nahi sakate..
hajaar sharir ho aur ek ek sharir ko hajaar hajaar jibh ho tab bhi bhagavaan ka prabhaav bayaan nahi kiyaa jaayegaa!
agar bayaan ho jata hai to vo ant wala ho jaayega, ANANT nahi rahegaa..aur bhagavaan to ANANT HAI!


aakaash gangaa me 300karod sury hai..aise arabo arabo suraj hai..us me sab se chhota suraj pruthvi ka hai..ye sab se chhote sury ka 13 vaa laakh va hissa ye apani pruthvi  hai..idhar baith ke suraj ko dekhate to suraj kitanaa nanhaa lagataa hai..thaali jitanaa… lekin suraj par khade ho kar pruthvi ko dekhe to ekdam bindu jaisi lagegi..us me phir 168 raashtra..us me bhaarat kitanaa lagegaa..bhaarat me Uttar pradesh kitanaa dikhegaa..aur us me lakhano kitanaa?..us me phir   ‘hamaar-tumhaar’ karate karate jindagi puri kar dete…

mai aur mor tor ki maya

bas kar dini jeevan kaayaa


is sharir ko ‘mai’ aur  sharir sambandhit ko  ‘mera’ maan kar asali mai swarup chid ghan chaityany narayan hai , us  aatmaa ko nahi jaanate..


vigyaaniyo ne aakaash me rocket daudaaye lekin purv ka chhor nahi paya, paschim ka chhor nahi paya..dakshin aur uttar ka chhor nahi paya, upar ka chhor nahi paya aur niche ke paataal ka bhi chhor nahi paya..

iishwar  ke 5 bhut anant hai to iishwar  ki anant-taa kya dekhoge? kaise maapoge?
to iishwar ka prabhaav dekh kar aap iishwar ke raaste nahi jaa sakate..

jaise chinti(kidi) kahe,  “mai  suraj se mulaakaat karane jaaun” ! to ae  babali  ! thoda upar uthate hi taapmaan se tu sukh jaayegi..!
to iishwar ke prabhaav ke bal se ham iishwar ko nahi paa sakate..

lekin bhagavan ka swabhaav aisa hai ki us ko jo jaan le to dusare bhaav me vo giregaa nahi, phasegaa nahi, rukegaa nahi..

aap bhagavaan ka swabhaav jaan lo..
bhagavaan ka kya swabhaav hai?

suhurdam sarv bhutaanaam!

bhagavan kahate , sab praniyon ka mai suhurd hun..mitr hun..

maa ke jer se garbh ki naabhi bhagavaan ki sattaa aur suhurd swabhaav hi jodataa hai…baalak paidaa hote hi maa ke sharir me dayaalu iishwar ne dudh paida kar diyaa..ye bhagavaan ka  ‘sarv bhute heete rataa’ …suhurd swabhaav hai..


vo dayaalu mitr dekar hamaaraa hausalaa buland karataa hai, utsaaheet karataa hai..
vighn-baadhaa, virodhi, doshaaropan dekar hamhe sansaar ki nashwarataa, raag-dwesh ki pol-patti ka rahasy bataanaa chaahataa hai..


us ka swabhaav hai hamaaraa vikaas!


us ka swabhaav hai hamaari bahu-aayaami najariyaa..


us ka swabhaav hai ki ham maranewale sharir ko aur mitanewali chijo ko meri maan kar ulaaz naa jaaye..is se upar uthe..
aur us ka swabhaav hai ki …bol dun? ..phir bhi pura nahi bol paaungaa…

jaise sant ki pahechaan hai ki jo sat-chit-aanand iishwar ki priti me jage hai, jis ke janmo ka ant huaa hai..jise dukho ka ant karanewale anant ki priti aur anant ka gyan huaa hai..aur jo anant ke maadhury men, anant ki sattaa me jo rahete hai ve hai sant!..  ( jis ka jaisa swabhaav hota hai vo dusare ko apane jaisaa banaataa hai… aise hi aap ka swabhaav bhagavaan ke swabhaav se milataa hai.. …..   )
bhagavaan ka swabhaav ‘sat’ swabhaav hai..bhagavaan kabhi marate nahi, mitate nahi..aur marane ka un ko bhay nahi..bhagavaan ko koyi maar bhi nahi sakataa..

bhagavaan ka kewal ‘sat’ nahi, ‘chid’ swabhaav bhi hai..(chid= gyaan-mayi chetanaa)aur bhagavaan ka aanand swabhaav hai..
to aap bhagavaan ke swabhaav se apanaa swabhaav milaao isliye bhagavaan ne  na jaane kya kya ye maya rachi hai…


aur bhagavan kahete :-
mamayi vansho jeev loke

jeev bhut sanaatan


ye jo jivaatmaa hai ye mere vanshaj hai..
to aap baap ke vanshaj hai.. to baap ke jaise huye ki nahi huye?


ye sharir ka asali baap hai vo na paidaa hotaa haia, na marataa hai..aise hi tumhaaraa sharir paidaa hota hai , marataa hai..lekin tum to marane ke baad bhi rahete ho!

bachapan badal gayaa, bachapan ke dukh sukh badal gaye, bachapan ki budhdi badal gayi chintan badal gayaa..bachapan mar gayaa lekin tum vo hi ke wo hi ho..jawaani mar gayi tum wo hi ke wo hi..jawaani ke dukh sukh mar gaye..tum wo hi ke wo hi ho …bachapan ke budhdi ki bewkufi mar gayi..chawanni ke chane ke liye rote the..vo budhdi ki alpataa mar gayi..ab chawanni to kya 4 rupaye ke bhi aaye-jaaye to pharak nahi padataa..kyo ki budhdi badal gayi, man badal gayaa, tan badal gayaa ..kyo ki har 7 saal me sara sharir nayaa ban jata hai..purani koshikaaye mitati hai, nayi banati hai..haddiyaa tak nayi ban jaati hai……sharir ka model badal gayaa..phir bhi jo sat hai vo nahi badalataa…bachapan ki budhdi badal gayi, aisi budhdi ab nahi hai ye jo jaanataa hai vo hamaaraa sat swabhaav,chetan swabhaav, aanand swabhaav ab bhi hai.. (vo bhagavaan jaisa  a-badal swabhaav ab bhi hai..)


bhagavaan sat rup hai, chetan rup hai, aanand rup hai, ras-swarup hai..gyan swarup hai….param suhurd hai aur hamaaraa tyaag kabhi nahi karate..


sharir ko sadaa ham rakh nahi sakate aur parameshwar ko kabhi ham chhod nahi sakate..
jis ko rakh nahi sakate us sharir ka sanyam se sat-upayog karo..aur jis ko chhod nahi sakate us parameshwar ko priti purvak pukaaro..priti purvak us me dubo..priti purvak us me apani ‘mai’ko milaa do..

to aap ka mahaa-mangal hogaa..aap ka darshan aur wani sunane wale ka bhi mangal ho jaayegaa..


galati se aane-jaanewali chinta, aane jaane wali bimaari, aane-jaane waale dukh ke saath aap phisalate rahete isliye aap iishwar ke vanshaj hote huye bhi tuchchh sharir ke ulajhanon men maya me apane ko anajaane me apane ko sataa sataa ke jeevan khatm ho jata hai…

is jeevan ka badaa bhaari mahatv hai..adhik se adhik mulyawaan chij hai..sabhi 84 laakh yoniyon me shreshthatam manushy hai…aur manushy me bhi vishesh bhagavaan ne anudaan diyaa hai ki aap ke jeevan me sat swabhaav ki parakh ho, chetan swabhaav ki parakh ho, aanand ki parakh ho..aur aap us niyantaa se aap ka asali samabandh samajh kar nity jeevan ki prapti kar le..nity ras  ki prapti kar le..


OM SHANTI

SADGURUDEV JI BHAGAVAAN KI MAHAA JAYJAYKAAR HO!!!!!

Galatiyon ke liye Prabhuji kshamaa kare..

ईश्वर का प्रभाव नहीं, स्वभाव जानो

लखनौ (उत्तर प्रदेश ) ; 22मार्च 2011

नरा नाम समुहम  इती  नारम l
नर नारी के समूह में जो चिद घन चैत्यन्य परमेश्वर सत्ता है उस को शास्त्रों ने नारायण कहा है..
108 बार उस भगवान का नाम लेकर कोई बड़ा कार्य आरम्भ करता है तो यशस्वी  होता है..

कोई लम्बी यात्रा करता है :   “ॐ नमो भगवते वासुदेवाय” 108 बार बोल के जाता है तो वासुदेव की सत्ता उस की रखवाली करती है…

भगवान का प्रभाव देख कर आप भगवान के निकट जा भी नहीं सकते..


हजार शरीर हो और एक एक शरीर को हजार हजार जीभ हो तब भी भगवान का प्रभाव बयान नहीं किया जाएगा!

अगर बयान हो जाता है तो वो अंत वाला हो जाएगा, अनंत  नहीं रहेगा..और भगवान तो अनंत है!


आकाश गंगा में 300करोड़ सूर्य है..ऐसे अरबो अरबो सूरज है..उस में सब से  छोटा सूरज पृथ्वी का है..ये सब से छोटे सूर्य का 13 वा लाख वा  हिस्सा ये अपनी पृथ्वी  है..इधर बैठ के सूरज को देखते तो सूरज कितना नन्हा लगता है..थाली जितना .. लेकिन सूरज पर खड़े हो कर पृथ्वी को देखे तो एकदम बिंदु जैसी लगेगी..उस में फिर 168 राष्ट्र..उस में भारत कितना लगेगा..भारत में उत्तर प्रदेश कितना दिखेगा..और उस में लखनौ  कितना?..उस में फिर ‘हमार-तुम्हार’ करते करते जिंदगी पूरी कर देते…

मैं  और मोर तोर की माया

बस कर दिनी जीवन काया


इस शरीर को ‘मैं ‘ और शरीर से सम्बंधित को  ‘मेरा’ मान कर असली  मैं  स्वरुप जो  चिद घन चैत्यन्य नारायण आत्मा  है , उस को नहीं जानते..

विज्ञानियों ने आकाश में रोकेट  दौडाए लेकिन पूर्व का छोर नहीं पाया, पश्चिम का छोर नहीं पाया, दक्षिण का छोर नह पाया , उत्तर का छोर नहीं पाया, ऊपर का छोर नहीं पाया और निचे के पाताल का भी छोर नहीं पाया..

ईश्वर  के 5 भुत अनंत है तो ईश्वर  की अनंत-ता क्या देखोगे? कैसे मापोगे?
तो ईश्वर का प्रभाव देख कर आप ईश्वर के रास्ते नहीं जा सकते..

जैसे कीड़ी सोचे की,  ‘मैं  सूरज से मुलाक़ात करने जाऊं!’  …. तो ऐ  बबली थोडा ऊपर उठते ही तापमान से तू सुख जायेगी..!
तो ईश्वर के प्रभाव के बल से हम ईश्वर को नहीं पा सकते..

लेकिन भगवान का स्वभाव ऐसा ही की उस को जो जान ले तो दुसरे भाव में वो गिरेगा नहीं, फसेगा नहीं, रुकेगा नहीं..भगवान का स्वभाव जान लो..
भगवान का क्या स्वभाव है?

सुहुर्दम सर्व भूतानाम!

भगवान बोलते सब प्राणियों का मैं  सुहुर्द हूँ..मित्र हूँ..माँ के जेर से गर्भ की नाभि भगवान की सत्ता और सुहुर्द स्वभाव ही  जोड़ता है…बालक पैदा होते ही माँ के शरीर में उस  दयालु ने दूध पैदा कर दिया..ये भगवान का   ‘सर्व भूते हीते रता’ …सुहुर्द स्वभाव है..


वो दयालु मित्र देकर हमारा हौसला बुलंद करता है, उत्साहीत करता है..

विघ्न-बाधा, विरोधी, दोषारोपण देकर हमें  संसार की नश्वरता, राग-द्वेष की पोल-पट्टी का रहस्य बताना चाहता है..
उस का स्वभाव है हमारा विकास!
उस का स्वभाव है हमारी बहु-आयामी नजरिया..
उस का स्वभाव है की हम मरनेवाले शरीर को  मैं मान कर और मिटनेवाली चीजो को मेरी मान कर उलझ  ना जाए..इस से ऊपर उठे..
और उस का स्वभाव है की … बोल दूँ? 🙂  फिर भी पूरा बोल नहीं पाउँगा …..

जैसे संत की पहेचान है की जो सत -चित-आनंद ईश्वर की प्रीति  में जगे है, जिस के जन्मो का अंत हुआ है..जिसे दुखो का अंत करनेवाले अनंत की प्रीति और अनंत का ज्ञान हुआ है..और जो अनंत के माधुर्य  में, अनंत की सत्ता में जो रहेते है वे है संत!..  ( जिस का जैसा स्वभाव होता है वैसा दुसरे को बनाता है ..आप का स्वभाव सचमुच में सत चित आनंद स्वभाव के ईश्वर से मिलता है ..)
भगवान का स्वभाव ‘सत’ स्वभाव है..भगवान कभी मरते नहीं, मिटते नहीं..और मरने का उन को भय नहीं..भगवान को कोई मार भी नहीं सकता..भगवान का केवल ‘सत’ नहीं, ‘चिद’ स्वभाव भी है..(चिद= ज्ञान-मय  चेतना)और भगवान का आनंद स्वभाव है..
तो आप भगवान के स्वभाव से अपना स्वभाव मिलाओ इसलिए भगवान ने  न जाने क्या क्या ये माया रची है…


और भगवान कहेते :-


ममई वंशो जीव लोके

जीव भुत सनातन


ये जो जीवात्मा है ये मेरे वंशज है..

तो आप बाप के वंशज है.. तो बाप के जैसे हुए की नहीं हुए?


ये शरीर का असली बाप जो  है वो न पैदा होता है , न मरता है..ऐसे ही तुम्हारा शरीर पैदा होता है , मरता है..लेकिन तुम तो मरने के बाद भी रहेते हो!

बचपन बदल गया, बचपन के दुःख सुख बदल गए, बचपन की बुध्दी बदल गयी,  चिंतन बदल गया..बचपन मर गया लेकिन तुम वो ही के वो ही हो..जवानी मर गयी तुम वो ही के वो ही हो ..जवानी के दुःख सुख मर गए..तुम वो ही के वो ही…बचपन के बुध्दी की बेवकूफी मर गयी..चवन्नी के चने के लिए रोते थे..वो बुध्दी की अल्पता मर गयी..अब चवन्नी तो क्या 4 रुपये के भी आये-जाए तो फरक नहीं पड़ता..क्यों की बुध्दी बदल गयी, मन बदल गया, तन बदल गया ..क्यों की हर 7 साल में सारा शरीर नया बन जाता है.. पुरानी  कोशिकाए मिटती है, नयी बनती है..हड्डिया तक नयी बन जाती है……शरीर का मॉडल बदल गया..फिर भी जो सत है वो नहीं बदलता…बचपन की बुध्दी बदल गयी, ऐसी बुध्दी अब नहीं है ये जो जानता है वो हमारा   सत  स्वभाव,चेतन स्वभाव, आनंद स्वभाव अब भी है…..


भगवान सत रूप है, चेतन रूप है, आनंद रूप है, रस-स्वरुप है..ज्ञान स्वरुप है….परम सुहुर्द है और हमारा त्याग कभी नहीं करते..


शरीर को सदा हम रख नहीं सकते और परमेश्वर को कभी हम छोड़ नहीं सकते..

जिस को रख नहीं सकते उस शरीर का संयम से सत-उपयोग करो..और जिस को छोड़ नहीं सकते उस परमेश्वर को प्रीति पूर्वक पुकारो..प्रीति पूर्वक उस में डुबो..प्रीति पूर्वक उस में अपनी ‘मैं ’  को मिला दो..

तो आप का महा-मंगल होगा..आप का दर्शन और वाणी सुनने वाले का भी मंगल हो जाएगा..

 

गलती से आने-जानेवाली चिंता, आने जाने वाली बिमारी , आने-जाने वाले दुःख के साथ आप फिसलते रहेते… इसलिए आप ईश्वर के वंशज होते हुए भी तुच्छ शरीर के उलझनों में माया में अपने को अनजाने में अपने को सता सता के जीवन ख़त्म हो जाता है…
इस जीवन का बड़ा भारी महत्त्व है..अधिक से अधिक मूल्यवान चीज है..सभी 84 लाख योनियों में श्रेष्ठतम मनुष्य है…और मनुष्य में भी विशेष भगवान ने अनुदान दिया है की आप के जीवन में सत स्वभाव की परख हो, चेतन स्वभाव की परख हो, आनंद की परख हो..और आप उस नियंता से आप का असली सम्बन्ध  समझ कर नित्य जीवन की प्राप्ति कर ले..नित्य रस  की प्राप्ति कर ले..


ॐ शांति

सदगुरुदेव जी भगवान की महा जयजयकार हो!!!!!

गलतियों के लिए प्रभुजी क्षमा करे


Advertisements
Explore posts in the same categories: Pujya Bapuji

2 Comments on “Iishwar ka prabhaav nahi, Swabhaav jaano”

  1. Kuldeep patware Says:

    He parmatma
    Aap manushya ko jagane ke liye kitna parishram karte hai lekin ye insaan jagta kyo nahi , hey insaan ab tu jaag ja , hum log aalsi ho gaye hai , ab hume jaagna hoga, kyoki bapu ji 70 saal ki umra me bhi sirf humare liye itni doud doop kar rahe hai , hum hai ki hath par hath rakh kar baithe hai, ab hume jaagna hoga ,jagna hoga, jagna hoga………………..

  2. Aadi Says:

    I love baapu ji,,,,,may he live looonnngggg 4 betterment of society,,,,hariom


Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s


%d bloggers like this: