Vidur niti ka divy gyaan (शील का सदगुण लाओ )

Surat Holi Mahotsav, 20 March 2011

इस पोस्ट को हिंदी में पढ़ने के लिए कृपया यहाँ पधारे..

http://wp.me/pZCNm-mb


ek bholi maayi ko bhagavaan ram ji ne sitaaji aur lakshman sahit darshan diye..maayi boli, bhagavaan mai satat raam raam ka ratan karati hun..ab aage kya karu?

bhagavan bole, tu ram ram karanaa hi chhod de baas!..:)

bai ne bhagavan ke kahene par ratan chhoda lekin ratan nahi kar rahi isliye roti raheti…bhagavan bole , thik hai ratan me hi aanand hai to rato..

holi aayi to bhagavan ke naam ratan karate karate maayi ko bhagavan ke darshan ki khwaahish aayi..to raam raam ratate ratate maayi so gayi…bhagavan ram ji aaye..bole tum ko darshan karane hai na? tum to let gayi..utho..maayi ko hosh aayaa..bhagavan raam ne maayi ko prakrutik rang lagaayaa…lakshman ji ne bhi lagaayaa …sitaaji ne bhi lagaayaa aur maayi ne bhi rang lagaayaa..
ab bhagavan antardhaan ho gaye!

maayi phir waisi ki waisi!..ye kya dekha maine?…Mahaaraaj mai ab kya karu?

bhagavan bole, le!abhi kya karanaa hai?

maayi! bhagavan ki bhakti se hruday ka nirmaan karanaa hai..sukh dukh me sam rahenaa hai aur wo bhagavaan to pragat honge phir antardhaan ho jaate..jis antaryaami  bhagavaan se baahar ke bhagavaan dikhate vo tere antaryaami bhagavaan ka   bhagavan ka gyaan paa le!

bholi maayi hai!baahar ke bhagavaan aayenge phir chale jaayenge ..phir tu ro rahi hai…
bhagavaan ke naam ka ratan karati, vo ratan chhudaayaa to phir ro rahi hai..

ratan kar rahi hai to bhi us ke darshan ki khwaahish hai..
naa rona hai , naa khwaahish karanaa hai.. bhagawaan ke swarup ko jaananaa hai..jo nitya navin ras gyaan swarup, nitya chaityany swarup hai..
sukh aataa chalaa jata hai, dukh aataa hai chalaa jata hai..bachapana aataa hai chalaa jaataa hai…vikaar aata hai chalaa jaataa hai..phir bhi jo sadaa rahetaa hai , us ke prati sadabhaav rakho…us ke prati gyan drishti rakho ..us ke prati aham ka samarpan kar ke us ke saath ek ho jaao..
baahar ke bhagavaan to shaakuni ne bhi dekhe the..raawan ne bhi dekhe the…kans ne bhi dekhe the..to baahar ke aakruti wale bhagavaan aayenge..thodi der ke liye updesh de kar antardhaan ho jaayenge..un ka jo updesh hai vo santo ke dwara sun ke apane chitt ko SAM-waan banaao!dukh-sukh me sam…laabh-hanai me sam..aur apane deh-adhyaas se sharir ko mai maanane ki galati nikaalo..mai jahaa se sphurit hota hai vo chaityany mai ko jaano..sharir ki bimaari ko apani bimaari mat maano..man ke dukh ko apanaa dukh mat maano..kaam-vikaar aayaa,chalaa gayaa..apane ko kaami, krodhi, lobhi banaao nahi aur maano nahi..
apane ko nitya shudhd budhd paramaatmaa ka amrut putr maano..aur usi me jaago..
nahi to bhagavan aayenge to bhi chale jaayenge..

ved vyaas ji saadhanaa karane jaa rahe the ..maa ne kahaa , ‘betaa! putr isliye hota ki ma abaap ke kaam aaye..tum to chale jaa rahe ho…’ved vyaas ji bole, ‘maiyya jab tumhe koyi taklif hogi , mujhe yaad karogi to mai aakaash maarg se aa jaaungaa..’
maa ko dusare 3 bete huye..un ke bahuye aayi..samay ki dhara me bahuye vidhavaa ho gayi..beton ko bimaari lagi bhog ke kaaran..jo din ko sambhog karate un ko bimaariyaa jaldi lag jaati hai..jo amaavasyaa, poonam, janmaashtami, holi, diwaali, mahaashivratri  ko sansaar sukh bhogate un ka sharir jaldi khatam ho jata hai..vo to raja thahere..kaun kahene wala?..to tino ke tino raaj kumaar mar gaye..bahuye vidhavaa ho gayi..maa ne bade putr bhagavaan ved vyaas jinho ne mahaa bhaarat ki rachanaa ki us bhagavaan ved vyaas ka sumiran kiyaa..vo aaye…
vo aaye..maa boli, ‘beta teri ye tino bhaabhiyaa vidhavaa ho kar padi hai..un ko santaan nahi..mai raaj paat kab tuk sambhaalungi? tere pitaaji paaraashar ji to virakt hai..ab mujhe ye raaj paat ka jhanjhat kab tak sambhaalanaa padegaa?..tum kuchh karo..’
ved vyaas ji bole, ‘ye bhaabhiyaa snaan kar ke mere saamane se pasaar ho jaaye to mai drushti se unhe garbhaa daan kar dungaa..
6 prakaar se garbhaadaan hota hai…

1) phal dene se

2) drushti se

3) vishisht naadi dabaane se

4) hath rakhane se(sparsh)

5) sankalp se

6) halke me halkaa garbhaa daan hai maithun(sambhog)..baaki ke 5 unche hai..
to drushti se mai daalungaa aur un ko garbh rahe jaayegaa..’
to ek bhaabhi aayi..jeth se santaan lenaa sharam ke maare dar se pili pad gayi..to us ko paandu (pile rang ka) putr paida huaa,  jis ke putr 5 paandav huye..dusari bhaabhi ne aankho par hath rakh diyaa to andhaa dhritaraashtra paidaa huaa…tisari bhaabhi ne apane kapade , gahene gaanthe  daasi ko paheraa kar sajaa-dhajaa kar bhejaa to daasi to aadar shradhdaa se dekhati rahi to vidur jaise mahaan aatma ko us daasi ne janm diyaa..
vidur ki itani badhiyaa budhdi thi ki vidur niti granth hai..ye granth rajendra baabu bade chaaw se padhate aur apane bhaashano men vidur niti ka drushtaant dete..
bible me bhi vidur niti ke vachan uthaaye gaye hai…

vidur niti me likhaa hai :-

aatm pratikulaani paresaam na samaacharet..

jo aap ko pratikul lagataa hai, jo aap ko achchha nahi lagataa hai aisa dusare ke sath vyavahaar nahi karo..tum nahi chaahate ki dusare ko bewkuf banaao to dusare bewkuf naa banaao..tum nahi chaahate ki mujhe koyi dukh de, to aap dusare ko dukh nahi de..tum nahi chaahate ki mere se koyi thagi kare to aap dusare se thagi naa kare..tum nahi chaahate ki mera koyi apamaan kare, to aap dusare ka apamaan naa karo..aap apane liye jo nahi chaahate wo dusare ke liye nahi karo..kyo ki aap hi kaa aatmaa dusare ke roop me chhipaa hai..aap dusare ke liye jo bhi karate vo ghum phir ke aap ke paas aayegaa..
isliye dusare me bhi apane ko jaano, aur apane ko dusare me jaano..sab ka mangal , sab ka bhalaa..sheel ka sadagun laao..to aise aasaani se tum mahaan banoge..
pilot banane se tum dukh se bachegaa nahi..neta banane se bhi dukh se nahi bachegaa..nisantaan hone se bhi dukh se nahi bachegaa..aur santaano ki jhanjhat me padane se bhi dukh se nahi bachegaa…

sachche satsang ko apane jeevan me utaaro…apane me sheel ka sadgun laao..apane aatmaa ko jaanoge to dukh tikegaa nahi, sukh mitegaa nahi..apane aatm-vat sab se vyavhaar karoge to sukh mitegaa nahi, dukh tikegaa nahi..baahar se dukhad paristhiyaa aayegi lekin aap ko dukhi nahi banaayegi..yash-apayash,bimaari-tandurusti vo saamaany aadami ko aayegaa aise gyaani ko bhi aayegaa..lekin gyaan ki drushti se nity-navin sukh men rahegaa..jaise helicopter bhi unhi sadakon se jaataa hai lekin sadako ke khadde aur sadako ke  galiyaare helicopter ko kuchh nahi kar sakate..aap yahaa se delhi jaao..to train bhi delhi jaati..bus bhi delhi jaati …lekin helicopter se athavaa havaayi jahaaj se  delhi jana matlab niche ke khaddo se paar! aise  hi gyaani aatm drushti se sansaar me rahetaa hai , lekin sansaar ke utaar chadhaav ke choton se paar ho jaataa hai..
aisaa vidur ji kaa divya gyaan hai..shaashsriy gyaan hai..

(pujyasri sadgurudev ji bhagavaan ne khaatu shaam ji ki kathaa sunaayi..is kataa ko padhane ke liye link:

https://latestsatsang.wordpress.com/2011/03/18/sab-se-thos-parbramh-khatu-sham-ji-ki-kathaa/ )
OM SHANTI.
SADGURUDEV JI BHAGAVAN KI MAHAA JAY JAYKAAR HO!!!!!
Galatiyon ke liye Prabhuji kshamaa kare..

विदुर निति का दिव्य ज्ञान

सूरत होली महोत्सव, 20 मार्च 2011


एक भोली माई को भगवान राम जी ने सीताजी और लक्ष्मण सहित दर्शन दिए..माई बोली,  ‘भगवान मैं  सतत राम राम का रटन  करती हूँ..अब आगे क्या करू?’

भगवान बोले,  ‘तू राम राम रटना  ही छोड़ दे बास!.. 🙂

बाई ने भगवान के कहेने पर रटन छोड़ा लेकिन रटन नहीं कर रही इसलिए रोती  रहेती…भगवान बोले , ठीक है रटन में ही आनंद है तो रटो ..

होली आई तो भगवान के नाम रटन करते करते माई को भगवान के दर्शन की ख्वाहिश आई..तो राम राम रटते रटते माई सो गयी…भगवान राम जी आये..बोले तुम को दर्शन करने है न? तुम तो लेट गयी..उठो..माई को होश आया..भगवान राम ने माई को प्राकृतिक रंग लगाया…लक्ष्मण जी ने भी लगाया …सीताजी ने भी लगाया और माई ने भी रंग लगाया..
अब भगवान अंतर्धान हो गए!

माई फिर वैसी की वैसी!..ये क्या देखा मैंने?…महाराज… मैं  अब क्या करू?

भगवान बोले,   ले!अभी क्या करना है?…

माई! भगवान की भक्ति से ह्रदय का निर्माण करना है..सुख दुःख में सम रहेना है और वो भगवान तो प्रगट होंगे फिर अंतर्धान हो जाते..जिस अंतर्यामी भगवान से वो बाहर के  भगवान दिखते वो तेरे भगवान का ज्ञान पा ले!

भोली माई है!बाहर के भगवान आयेंगे फिर चले जायेंगे ..फिर तू रो रही है…
भगवान के नाम का रटन करती, वो रटन छुडाया तो फिर रो रही है..

रटन कर रही है तो भी उस के दर्शन की ख्वाहिश है..
ना रोना है , ना ख्वाहिश करना है.. भगवान के स्वरुप को जानना है..जो नित्य नविन रस ज्ञान स्वरुप, नित्य चैत्यन्य स्वरुप है..
सुख आता चला जाता है, दुःख आता है चला जाता है..बचपन आता है- चला जाता है…विकार आता है – चला जाता है..फिर भी जो सदा रहेता है , उस के प्रति सदभाव रखो…उस के प्रति ज्ञान दृष्टि रखो ..उस के प्रति अहम् का समर्पण कर के उस के साथ एक हो जाओ..
बाहर के भगवान तो शाकुनी ने भी देखे थे..रावण  ने भी देखे थे…कंस ने भी देखे थे..तो बाहर के आकृति वाले भगवान आयेंगे..थोड़ी देर के लिए उपदेश दे कर अंतर्धान हो जायेंगे..उन का जो उपदेश है वो संतो के द्वारा सुन के अपने चित्त को सम-वान बनाओ!दुःख-सुख में सम…लाभ-हानि  में सम..और अपने देह-अध्यास से शरीर को मैं  मानने की गलती निकालो.. मैं  जहा से स्फुरित होता है वो चैत्यन्य मैं  को जानो..शरीर की बिमारी को अपनी बिमारी मत मानो..मन के दुःख को अपना दुःख मत मानो..काम-विकार आया,चला गया..अपने को कामी, क्रोधी, लोभी बनाओ नहीं और मानो नहीं..
अपने को नित्य शुध्द बुध्द परमात्मा का अमृत पुत्र मानो..और उसी में जागो..
नहीं तो भगवान आयेंगे तो भी चले जायेंगे..

वेद  व्यास जी साधना करने जा रहे थे ..माँ ने कहा , ‘बेटा! पुत्र इसलिए होता की माँ बाप के काम आये..तुम तो चले जा रहे हो…’

वेद  व्यास जी बोले, ‘मैय्या जब तुम्हे कोई तकलीफ होगी , मुझे याद करोगी तो मैं  आकाश मार्ग से आ जाउंगा..’


माँ को दुसरे 3 बेटे हुए..उन के बहुएं   आई..समय की धारा में बहुएं  विधवा हो गयी..बेटों को बिमारी लगी भोग के कारण..जो दिन को सम्भोग करते उन को बीमारियां  जल्दी लग जाती है..जो अमावस्या, पूनम, जन्माष्टमी, होली, दिवाली, महाशिवरात्रि  को संसार सुख भोगते उन का शरीर जल्दी ख़तम हो जाता है..वो तो राजा ठहेरे..कौन कहेने वाला?..तो तीनो के तीनो राज कुमार मर गए..बहुएं  विधवा हो गयी..माँ ने बड़े पुत्र भगवान वेद व्यास जिन्हों ने महा भारत की रचना की उस भगवान वेद व्यास का सुमिरन किया..वो आये…

वो आये..माँ बोली, ‘बेटा तेरी ये तीनो भाभियां  विधवा हो कर पड़ी है..उन को संतान नहीं..मैं  राज पाट  कब तक  सम्भालुंगी? तेरे पिताजी पाराशर जी तो विरक्त है..अब मुझे ये राज पाट का झंझट  कब तक संभालना पडेगा?..तुम कुछ करो..’
वेद व्यास जी बोले, ‘ये भाभियां  स्नान कर के मेरे सामने से पसार हो जाए तो मैं  दृष्टी से उन्हें गर्भा दान कर दूंगा..
6 प्रकार से गर्भादान होता है…

1) फल देने से

2) दृष्टी से

3) विशिष्ट नाडी दबाने से

4) हाथ रखने से(आशीर्वाद का स्पर्श)

5) संकल्प से

6) हलके में हल्का गर्भा दान है मैथुन(सम्भोग)..बाकी के 5 ऊँचे है..
तो दृष्टी से मैं  डालूँगा और उन को गर्भ रहे जाएगा..’


तो एक भाभी आई..जेठ से संतान लेना .. शर्म के मारे डर  से पिली पड़  गयी..तो उस को पांडू (पीले रंग का) पुत्र पैदा हुआ,  जिस के पुत्र 5 पांडव हुए..दूसरी भाभी ने आँखों पर हाथ रख दिया तो अंधा  धृतराष्ट्र पैदा हुआ…तीसरी भाभी ने अपने कपडे , गहने गांठे  दासी को पहेना  कर सजा-धजा कर भेजा तो दासी तो आदर श्रध्दा से देखती रही तो विदुर जैसे महान आत्मा को उस दासी ने जन्म दिया..


विदुर की इतनी बढ़िया बुध्दी थी की विदुर निति ग्रन्थ है..ये ग्रन्थ राजेंद्र बाबू बड़े चाव से पढ़ते और अपने भाषणों  में विदुर निति का दृष्टांत देते..

बाइबल  में भी विदुर निति के वचन उठाये गए है…

विदुर निति में लिखा है :-

आत्म प्रतिकुलानी परेसाम न समाचरेत..

जो आप को प्रतिकूल लगता है, जो आप को अच्छा नहीं लगता है ऐसा दुसरे के साथ व्यवहार नहीं करो..तुम नहीं चाहते की दुसरे को बेवकुफ बनाओ तो दुसरे को  बेवकुफ ना बनाओ..तुम नहीं चाहते की मुझे कोई दुःख दे, तो आप दुसरे को दुःख नहीं दे..तुम नहीं चाहते की मेरे से कोई ठगी करे तो आप दुसरे से ठगी ना करे..तुम नहीं चाहते की मेरा कोई अपमान करे, तो आप दुसरे का अपमान ना करो..आप अपने लिए जो नहीं चाहते वो दुसरे के लिए नहीं करो..क्यों की आप ही का आत्मा दुसरे के रूप में छिपा है..आप दुसरे के लिए जो भी करते वो घूम फिर के आप के पास आयेगा..
इसलिए दुसरे में भी अपने को जानो, और अपने को दुसरे में जानो..सब का मंगल , सब का भला..शील का सदगुण लाओ..तो ऐसे आसानी से तुम महान बनोगे..
पाइलट  बनने से तुम दुःख से बचेगा नहीं..नेता बनने से भी दुःख से नहीं बचेगा..निसंतान होने से भी दुःख से नहीं बचेगा..और संतानों की झंझट  में पड़ने से भी दुःख से नहीं बचेगा…

सच्चे सत्संग को अपने जीवन में उतारो…अपने में शील का सद्गुण लाओ..अपने आत्मा को जानोगे तो दुःख टिकेगा नहीं, सुख मिटेगा नहीं..अपने आत्म-वत  सब से व्यवहार करोगे तो सुख मिटेगा नहीं, दुःख टिकेगा नहीं..बाहर से दुखद परिस्थियां  आएगी लेकिन आप को दुखी नहीं बनाएगी..यश-अपयश,बिमारी-तंदुरुस्ती वो सामान्य आदमी को आयेगा ऐसे ग्यानी को भी आयेगा..लेकिन ज्ञान की दृष्टी से नित्य-नविन सुख में रहेगा..जैसे हेलिकॉप्टर भी उन्ही सडकों से जाता है लेकिन सड़को के खड्डे और सड़को के  गलियारे हेलिकॉप्टर को कुछ नहीं कर सकते..आप यहाँ से डेल्ही जाओ..तो ट्रेन भी डेल्ही जाती..बस भी डेल्ही जाती …लेकिन हेलिकॉप्टर से अथवा हवाई जहाज से  डेल्ही जाना मतलब निचे के खड्डों  से पार! ऐसे  ही ग्यानी आत्म दृष्टी से संसार में रहेता है , लेकिन संसार के उतार चढ़ाव के चोटों से पार हो जाता है..
ऐसा विदुर जी का दिव्य ज्ञान है..शाश्स्रिय ज्ञान है..

(पुज्यश्री  सदगुरुदेव जी भगवान ने खाटू शाम जी की कथा सुनाई..इस कथा  को पढ़ने के लिए लिंक:

https://latestsatsang.wordpress.com/2011/03/18/sab-se-thos-parbramh-khatu-sham-ji-ki-kathaa/ )


ॐ शांति.

सदगुरुदेव जी भगवान की महा जय जयकार हो!!!!!
गलतियों के लिए प्रभुजी क्षमा करे..


Advertisements
Explore posts in the same categories: Pujya Bapuji

One Comment on “Vidur niti ka divy gyaan (शील का सदगुण लाओ )”

  1. ashish rohilla Says:

    sadho wah prabhu ji wah


Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s


%d bloggers like this: