sab se thos : Parbramh (Khatu Sham ji ki kathaa)

Delhi,17 march2011

इस पोस्ट को हिंदी में पढ़ने के लिए कृपया यहाँ पधारे :

http://wp.me/pZCNm-m6

ramleela maidaan par mahaa kumbh ho gayaa hai..ye koyi shakti ka pradarshan nahi hai, ye shakti ke mool me jana hai!
sari shakti ka mool hai akaal purush..us ke Bramh bolate hai…
aise hi vriksho me sab se aadaraniy sangyaa deni ho to palaash ke vriksh ko bramh-vriksh kahenaa chahiye..

bhagavan aur jeev jis se pragat hote , jis me leela karate aur jis me samaa jaate hai vo bramh hota hai..jeev, Ishwar aur jagat tino me jo vyaap rahaa hai aur tino ki badalaahat ka jo jaankaar hai vo bramh paramaatmaa hai..ek Omkar!..us ki swabhaavik dhwani omkaar hai..sat naam! wohi sat kahelataa hai..sury, chandramaa, prithvi par niyantran, rituon par niyantran aur hamaari naabhi  maa ki jer se jodanewali jo sattaa hai vo bramh paramaatmaa hai…

bachche ki naabhi maa ki jer se jodanaa agyaan ka kaam nahi hai, gyan ka hai…sthul ka gyan nahi hai, param sukshm tatv ka gyan hai…aur dushman ka kaam nahi hai, param hiteshi ka, param suhurd ka kaam hai…bachcha maa ke god me aate hi maa ke sharir me dudh banaa denaa kitani badi bhaari su-vyavasthaa ka saamarthy rakhane wali satta hai..usi ko bolate ek omkaar!

wo hi jaagandi jyot bhi hai…raatri ka swapnaa aayaa-gayaa us ko jaanane wala jaagandi jyot hai, wo hi aatma hai..kal ka vyavhaar aaya-gayaa, us ko jaanane wala abhi hai…raat ki nind aayi-gayi, us ko jaanane wala abhi  hai.. ye jaagandi jyot diye ki yaa mombatti ki mat samajhanaa!ye jyot hai saakshi swabhaav! chaityany swabhaav!
us me tikane ke liye manushy jeevan, satsang aur budhdi mili hai…jo jaagandi jyot hai , vo hi bramh paramaatmaa hai..ye jaagandi jyot antakaran me hai …aur anant bramhando me jo vyaap rahe us ko bramh bolate hai..

aise bramh paramatma ko bhagavan bolate to thik hai..lekin bhagavan bhi kayi ho gaye apani apani srishti ke..jaise ek srishti ke bramha, vishnu , mahesh hai aise aur kayi srishtiyon ke bhi bramha vishnu mahesh hote hai..

lekin bramh paramaatmaa ?sabhi srishtiyaa jis ke sankalp me hoti hai, vo bramh paramaatma hai!
us bramh paramaatmaa ki upaadhi jis vriksh ko di us vriksh ka naam hai khaakare ka vriksh(palaash ) …

  • kele ke pattal me bhojan karane se chandi ke bartan me bhojan karane   jaise gunadharm aur aarogyataa milati hai sharir ko..lekin palaash ke pattal me bhojan karane se sone ke bartan me bhojan karane ka sharir ko phayadaa milataa hai..
  • aise hi palaash ke phoolo ka rang sharir ke rom kupo me sapt rango ko santulit karataa hai, sharir ke sapt dhatuo ko santulit karataa hai..garami pachaane ki taakad detaa hai, sardi pachaane ki taakad detaa hai..
  • kisi ko khujali daadar nikali ho to vo palaash ke bijo ka churn aur nimbu milaa kar lagaa de to daadar(khujali) gaayab ho  jaayegi…kayi log khujalaate rahete to erandiyaa tel lagaa do to khujali shant ho jaati  hai..lekin jab tab khujali ho to erandiyaa kya lagaanaa? ye palaash ke phulo ka rang sharir ko chupad ke thodi der baitho to khujali aawe hi nahi…
  • aankho ki kamjori ho to palaash ke phulo ka ras shahed me milaa kar anjan karane se aankho ki kamajori thik ho jaayegi..
  • gussaa jyada aataa ho to palaash ke chhote chhote patton ki sabji khaane se gussa, krodh aur pitt shaant hota hai..

lekin ye satsang kewal aap ki tabiyat thik ho us liye nahi hai, aap ka man thik ho us liye bhi nahi hai..aap ki tabiyat thik, man thik, budhdi thik ..lekin ye saare thik prakruti ki chije hai…satsang ka uddeshy kewal  praakritik chijo ka thikthaak karanaa hi nahi hai, satsang ka uddeshy hai ki prakritik chije thik-bethik ho ho ke meet jati hai , phir bhi jo nahi mitataa us paramaatmaa ki priti, paramaatma aki smriti aur paramaatmaa ki praapti ke liye  hai!!!!

sabhi duniyaanvi thos chijo se manaviy sankalp thos hai..sankalp se bhi mati thos hai…mati me bhi taamasi se  raajasi mati , raajasi mati se saatavik mati , satavik mati se bhi bhagavat arthadaa mati thos hai jo bhogadaa ka bhi sanyam se upyog karate hai..aisi mati me  dharam ke rahasy ka gyan pragat hota hai..aisi mati moksh ke karib le jaati hai aur aisi mati bhagavat-prasaadajaa mati banati hai..

bhagavat prasaadajaa mati bhagavan ke charchaa, vyakhya sumiran se aanand me raheti hai..is se bhi jyada thos budhdi hai jo me paramaatma ke tatv me tiki hai(tatv prasaadjaa mati)…bhagavan chetan rup hai, gyan rup hai, aanand rup hai..ashtadaa prakriti me unhi ki satta hai..bachapan aayaa- chalaa gayaa..us ko jaanane wali satta mere rom rom ram rahaa hai..jawaani aayi-chali gayi..sab chale jate phir bhi jo sadaa rahetaa hai , maut sharir ko chhin leti hai phir bhi jo hamaaraa sath nahi chhodataa wo hamaaraa aatma- paramaatmaa hai..aise tatv ka updesh se antaraatma ki vishesh kripa paakar jab bramhgyaan hotaa hai..to param saty me budhdi pratishtit ho jaati hai..us ko bolate :

tasy pragyaa pratishtite

arjun ne puchha ki bramhgyani ke kya lakshan hai?
anaarambha pari tyagi shtiti pragyasy gochare
ye paau, ye kahvu , ye banaau ye sab waasanaa us ki mit jaati hai..apane parbramh paramaatmaa me us ki mati tik jaati hai..

to jis ki budhdi sat me tiki hai aise santo ke vachan sat-vachan hote  hai..sat kya hotaa hai? jo aadi me bhi sat hai, yugo se sat hai, abhi bhi sat hai aur sharir mitane ke baad bhi rahegaa..ye sat kisi ka saath nahi chhod sakataa hai..jo sadaa hai , vo ab bhi hai..jo sarvatr hai to yahaa  bhi hai…sab me hai to hum me bhi hai..kewal hamaari us me tike..sab me thos me thos hai parabramh paramaatmaa akaal purush…

ab Khatu Sham ji ki kathaa sunaataa hun..

Khatu Shamji (Rajsthan)

5 paandavon ki patni dropadi thi..dropadi kisi janam ki tapaswini thi..vivaah nahi karati..us ki parikshaa lene ke liye aadi shakti aayi..gaay ka rup lekar…hammaa ss hammaa sss hammaaass hammaaa  ssss hammmmaaaa   ssss 5 baar gaay ne pukaaraa…naa gaay ko chara, naa gaay ko pani, naa kuchh…to gau-rup ne prakriti ne pukaaraa lekin tapaswini ne dekhaa tak nahi..to prakriti aadi shakti ne kahaa ki tum ko abhimaan ho gayaa hai ki mai bramhachaarini hun, shaadi nahi kiyaa..pati nahi kiyaa.. maine 5 baar pukaaraa..phir bhi tum ne ghar aaye huye atithi ka aatithy nahi kiyaa, dhyan nahi diyaa to kaisi teri bhakti hai?.. pati nahi kiya is ahankaar me baithi rahi to jaa ek nahi 5 pati tumhe karane padenge…to wo hi tapaswini dropadi huyi aur  5 paandav devo ke ansh the..indr, vayu aadi ke…

5 paandavo me ek bhim the..bhim ki ek patni raakshasi thi..us ka naam tha hidimbaa..jaise alag alag jaati hoti hai…jaise jaat jati hai, bhil jaati hai, aise pahele raakshas jati aur naag jati aadi jaati bhi kaalaantar me hogi.. hidimbaa ki kokh se bhim kaa putr ghatotkach huaa..aur ghatotkach ke sansaari jeevan me barbari naam ka beta paidaa huaa..jo khaatu shaam bhagavan ho kar puje jaate hai..
barbari yuwak huaa to shrikrishn kahi padhaare the to ghatotkach barbarik ko le gayaa..shrikrishn ki stuti aadi kar ke prarthanaa kiyaa ki ye putra aap kaa hi hai.. is ke man me kuchh prashn uthate hai ..maadhav aap hi in ke uttar dene me samarth hai..aap hi barbarik par kripaa karenge…


yuwak aur adhyatmik prashn puchhane wala ho to sant ko to pyara lagataa hai..aur shrikrishn to premaa awataar the… bole, hey putra ! tu kya chaahataa hai?bola, “manushy ka sab se adhik mangal kaise ho?..koyi bolate dev darshan se, koyi bolate yagya karanaa chaahiye to koyi bolate daan hi sarvo pari hai..to koyi bolate pitri-pujan hi sarvo pari hai…koyi bolate vrat-upawaas karanaa chaahiye…koyi kuchh saadhan bataate , koyi kuchh saadhan bataate..to hey prani matr ke hiteshi, hey parameshwar  aap mere ko apanaa baalak apanaa daas samajh kar mujhe upadesh dijiye…”arthaat satsang ki maang ki..
sachchaa satsang maangane wala aataa hai to sant aur bhagavant ka dil khilataa hai..
to shrikrishn ne barbarik  ko khub prem se gale lagaayaa..bole,”vats! tumhara soch bahot achchhaa hai..aur jaisa adhikari hota hai us ke liye vo dharam shresth hai..”  ab mai aap ko samajhaane ke liye vistaar karataa hun ki jo K.G. ka adhikaari hai us ke liye college bekaar hai..aur jo college ka adhikaari hai us ke liye k.g. ki pustak padhanaa bekaar hai..to adhikaari dekh kar sab apani apani jagah par thik hai…jo paidal yaatraa karate hai naa, un ko parishram bahot hota hai, phal thodasa hota hai…lekin vo parishram ke adhikari hai..jin ko sant sadguru mil gayaa, dhyan bhajan ki yukti mil gayi phir bhi haath me jhande lekar paidal yaatra kare to karmvedhi maane jaayenge…haath me makhkhan ka pind hai , vo chhod ke chhas chaatane jaane jaisa hai !..to adhikar ke hisaab se sab apani apani jagah par thik hai..paheli claas ke liye paheli thik hai, lekin 7vi waale ke liye 7vi thik hai..college wale ke liye college thik hai..aise hi jis ki jaisi jaisi awasthaa hai, us ke liye wo wo saadhan thik hai..phir bhi  saadhano ko 4 vibhago me bramhaaji ne srishti me prachalit kar diyaa hai.. jo braamhan hai vo divyaatmaa hai..jo bramh ko jaanane ki jigyasa karate ve bramhan hai..un ke liye ved padhanaa, shaastra adhyayan karanaa, purano ki kathaa sunanaa-sunaanaa, daan lenaa-daan karanaa aadi sadhan un ke liye shresth hai..kshatriy ke liye bal sampaadan karanaa aur bal se durbalo ki sahaayataa karanaa…

shrikrishn ne barbarik ko bataayaa ki , tum kshatriy ho to jo durjan hai, aatataayi hai, paataki hai un ko dand denaa aur prajaa ki sewa, suraksha .. rakhwali karanaa  ye tumhara dharm hai…tum kshatriy ho bete..”

vaishy ka dharm hai ki achchhi chij vastu lana , apane grahako ko dena aur naphaa lekar apani aajivika chalaanaa..
aay ka dasavaa hissa daan-pun karanaa..santo ka sang karanaa aur samay nikaal ke nivrutti paraayan santo ke paas jaana kshatriyon ka, vaishyo ka, bramhano ka kartavya hai…aur in tino se jo chhoti mati-gati wale hai ve in tino ki sewa karenge to is se un ka mangal ho jaayegaa..un ko kshudra kahaa gayaa aisa varnan hai..

barbarik tum bal ka arjan karo ..maahimati naam ke gupt  kshetr me jaao..wahaa ekaant hai aur tum dhyan bhajana karanaa..maun rakhane se abhimaan vilay hota hai..wasanaa nivritt hoti hai aur shaktiyaa jaagrit hoti hai.. samajhdari ki nivrutti apane ko bhagavan se milaati  hai, naa-samajhi ki nivritti wasanaao ko bhadakaa ke aur gaheraa kar deti hai..isliye barbari tum wahaa jaao..tumhe 9 deviyaa sahayog karengi..
barbarik shrikrishn ki pradakshinaa kar ke apane pita ka ashirwaad lekar udhar chale gaye..kuchh hi samay me un ki saadhanaa se nav durgaa ka pragatya ho gayaa aur deviyon ne kahaa ki babrik tum yahaa kuchh samay aur raho..yahaa ek braamhan aayenge , vo bhi apanaa manorath purn karane ki saadhanaa karenge..lekin un ki saadhanaa me vighn daalane wale aayenge un se bramhan ki rakshaa karanaa ..un ke sampark me rahenaa ..tumharaa mangal hogaa..deviyon jaisa margdarshan diya waise bramhan aaye..barbarik bramhano ki sewa me lage..un ki saadhanaa kaal me kabhi koyi bhayankar rupdhaari aaye to kabhi koyi vighn daalane aate to barbarik un ki sewaa me jhujhate..ek vishesh bhayankar daity aayaa..barbarik ne himmat se us ko bhi majaa chakhaayaa..vo daity phir se aayaa..to barbarik ko gussaa aayaa ..us ka pichhaa kiyaa to daity paataal me ghus gayaa..barbarik paataal lok me gayaa to bahot saare daity us par toot pade..barbarik akele rahe gaye..jo sewa karataa hai vo akelaa bhi kayiyon ke liye bhaari pad jata hai..
aap paropakaar ke liye akele nikal chale lekin itane karodo log sath me ho jaate ye prakritik niyam hai!aap ke paas dhan nahi hai, daulat nahi hai, padhayi likhayi nahi hai, certificate nahi hai..lekin bhagavan aur bhagavat jano ki prasannataa ke liye kaam karate to aap akele nahi hote..sara vishw aur bhagavan ki yogyataa aap ke sath aa jati hai!!pratyaksh dekh lo!! 🙂
barbarik daityo ko maar kar jab waapas laut rahaa tha to naag jaati ki kanyaaye barbarik ka badaa aadar satkaar karane lagi…aap jaise veer ne hamaare naag jaati ke sabhi ko abhaydaan diyaa hai..tumhaaraa saahas, saundary aur paropakaar dekh kar ham aap ko apanaa bhartaa maanati hai..ham sabhi tumhaari patniyaa hai..
barbarik ne kahaa deviyaa ye baat phir naa doharaao..kyo ki maine bramhachary vrat liyaa hai..
ye barbarik ka dridh sankalp saraahaniy hai!aadar ke yogya hai ..sanmaan ke yogya hai..barbarik ne un kanyaao se waapas aane ka rasta jaan liyaa..phir us bramhan ki saadhanaa me vighn naa pade isliye jut gayaa..9 deviyon ka sahyog thaa..bramhan ke havan kund me ek aisi laal bhasm paidaa ho gayi..bramhan ne barbarik ko kahaa ki, “is me se bhasm le lo..tum prithvi par ajey yodhdaa ban jaaoge!”
barbarik bola ki maine to aap ki sadhana sampann ho isliye sewa kiya tha..mujhe ye kuchh nahi chaahiye..
bramhan bole, “tumhaaraa uddeshy unchaa thaa..isliye mai ye uchch shreni ki prasaadi tumhe denaa chaahataa hun..”bramhan ne vo laal bhasm ki prasaad barbarik ko diyaa..
babarik ko sewa ke bal se, paropkaar ke bal se, bramhchary ke bal se sankalp sidhdiyaa praapt huyi.. kisi sarowar kinaare vo rahetaa thaa…jahaa se bramhan , sadhu jal le jaate..dev ko snan karaate..to sarowar me gandagi naa pade is ka dhyan barbarik rakhataa..pandavo ke 12 saal vanwaas ke baad 13 vaa saal agyaatwas ka tha tab paandav bhukh pyaas se jhatpataate usi tirth kshetr me pahunche jahaa barbarik us sarowar ki rakhwali apane jimme le baitha thaa..yudhishtir ne bhim ko kahaa ki, “bhim tujhe pyaas lagi hai, jaldi jaldi jaa rahaa hai..lekin ye tirth kshetr ka jal hai..thoda baahar pani lekar hath pair dhokar baad me  andar jaao..tirth kshetr ke jal ko gandaa na kar ke tum apanaa kaam banaa lo..jald baaji me tirth ke jal me gande hath pair nahi daalanaa”
lekin bhim aisa thakaa thaa ki sunaa an-sunaa kar ke jaldi jaldi pani me ghus gayaa..
barbarik dur se dauda aayaa..barbarik ko pataa nahi thaa ki bhim us ka dadaji hai..bhim ko bhi pataa nahi tha ki ye us ka potaa hai..dono me khub ladaayi huyi..bhim ko bhi krishn ka darshan tha, barbarik ko bhi krishn ka darshan tha..lekin satsang gyan ke bina dada aur potaa dono ka vaimanasy nahi mitaa…satsang kitani badi chij hai!shrikrishn ne bhim ko bhi sparsh kiya tha..barbarik ko hriday se lagaayaa thaa..phir bhi dono ke andar ek-dusare ke prati maar kaat thaa..yudhd aisa chalaa ki shiv ji ko us me hastkshep karanaa padaa..
shiv ji aakaash maarg se aakaashwani kiye ki beta barbarik ghatotkach ke tum putr ho aur ghatotkach bhim ji ke putr hai.. wo hi bhim ji se tum lad rahe ho bete jo tere dadaji lagate hai..sunate hi barbarik ka hausalaa charabaraa uthaa…ki mai to apane dadaji ko uthaa kar samundar me dabochane wala tha…pita-mata-pitaamah aur guru ka apamaan karanewali vyakti ko mrityudand le lenaa chaahiye.. apane aap mar jana chaahaiye..bhim ne us ko gale se lagaayaa ki beta naa-samajhi se jo aparaadh hote vo dand ke paatr nahi hote..tu mujhe nahi jaanaataa  thaa, mai tujhe nahi jaanataa thaa..shiv ji ne kripaa kar ke hamaari naa-samajhi par gyan ka prakaash dala…

jab 13 varsh pura huaa aur kaurav pandavon ka tudhd chhidaa to kauravo ne apani sena ko bola ki kaun pandavo ko kitane din me nasht bhrasht kar sakataa hai?bhishm pitaamah bole ek mahine ke andar pandavo ki sena ko paraajit karenge, krupachary ne 25 to dronachary ne 20 din bola..aise karate karate karn ne kahaa ki mai pandavo ki sena ka 6 din me vinaash kar dungaa..
wahaa ye arbarik upasthit thaa. vo bolaa ki aap log itanaa shram naa uthaao, mai ye 3 bano se pandavo ki sena tahes nahes kar sakataa hun!ye bhishm pitaamah, kripachary, dronachary, karn ke munh pe tamaachaa thaa…aur krishn aur bramhaaji ke haajiri me ye bola to bramhaaji bhi rushth  huye..bhagavan krishn aur aise mahaan logo ke bich tum apani shekhi bagaarataa hai..jaa ! ..tu shrikrishn ke haatho se hi nasht hogaa…ye baat to wahaa ho gayi…

lekin jab yudhd chhidaa to ye barbarik bhaisaahab jaane lage yudhd ki aor…krishn ne dekha ki ye barbarik kauravo ke paksh ke ladegaa ki pandavo ke?bramhan ka roop dhaaran kar ke krishn bhagavan raste me khade ho gaye..bole, kaho barbarik kahaa sajdhaj ke jaa rahe ho?barbarik bola, mahaa bhaarat ka yudhd dekhane jaa rahaa hun..to tum kis ke paksh me yudhd ladoge? krishn bhagavan puchhhe..barbarik bola, jo nirbal hoga, jo haar ke kagaar me dikhegaa us ke paksh me khadaa hovungaa..bramhan devataa ke roop me bhagavan bole, mai kaise manu?barbarik bole, bramhan devataa ye chamatkaar dekho..9 durgaao ke sahayog se  aur bramhano ne jo yagy kiya us shakti ki ye laal bhabhut mere paas hai..ye bhabhut baano ko lagaaungaa aur sabhi yodhdaao ke shiro ko chhed kee aayegaa..dusaraa baan sabhi ko letaa degaa aur tisare baan me sab saphaa ho jaayegaa..
bramhan roop dhari bhagavan bole mai ye kaise sach maanu? tu pipal ke patte ko chir ke dikhaa to maanu..ek saath sabhi girane chahiye..
barbarik ne baan chhodaa to pipal ke sabhi patto ko baan ne gheraa.. bhagavan shrikrishn ne pipal ke ek patte ko pair ke tale dabaa rakhaa thaa..to vo baan shrikrishn bhagavan ki pradakshinaa karane lagaa..
brabarik ne kahaa ki,  bramhan devataa ..pipal ke sabhi patton ko bhedane ko tum ne kahaa hai , ek patta tumhaare pairo ke niche hogaa..isliye mera ye mantr shakti wala baan jaan gayaa hai…isliye aap ke charo aor ghum rahaa hai..aap jaldi pair hataao nahi to ye baan aap ko naa lage!aap kya samajhate ho?bhagavan krishn ne dekha ki ab is ne avagyaa kar li..is ne mujh se aashirwaad liyaa tha..
bole mai bramhan hun..mahaa bhaarat ke yudhd me kisi na kisi ki bali lagegi..sab ki rakshaa ke liye  tumhaare jaise ek veer bahaadoor bali degaa to mahaabhaarat ka yudhd shanti se nipat jaayegaa..mai bramhan hun, tum mujhe shish arpan kar do..
barbarik bola, bramhan devata, tum kaun ho ye asali roop dikhaao..to shrikrishn bhagavaan pragat ho gaye..barbarik un ke charano me geer gaye..shrirkishn bhagavan bole, barbarik tujhe shaam ke hriday se sparsh huaa hai, aaj tu shaam ke charano me padaa hai..tera ek naam barbarik hai to dusaraa naam sham aur tisaraa naam suhurd maine diyaa hai..
barbarik bola, madhav mujhe sirf mahaabhaarat ka yudhd dekhanaa ko mil jaaye..
shrirkishn bole, tu shish de de, vo is pahaad pe rahegaa aur wahaa se tu yudhd dekhegaa..
barbarik ne seer arpan kar diyaa..kauravo ke paksh me jaanewali aapadaa to tal gayi naa..!us ka sheesh shrikrishn ke vardaan se yudhd dekhane lagaa..
mahaabhaarat ke yudhd me jab paandav vijetaa huye to yudhdishtir krishn ko yash dene lage ki aap ki kripaa se ye yudhd jeetaa hai..to bhim ne kahaa ki akele krishn kya karate? bhaiyyaa arjun ne bhi kiya, aap ne kiyaa, sabhi ne kiyaa hai..sab krishn krishn kaise?to bhaayiyon me jaraa vaimanasy naa ho isliye bhagavan krishn bole ki vo phaadi par sheesh yudhd dekh rahaa hai , usi se chal kar puchhe..to barbarik ne sara vrittaant bataa diyaa..ki shrikrishn ke sudarshan ne sabhi ka tap-tej har liyaa thaa..tum ham sab nimitt the..

barbarik ko vardaan mile..ki betaa jahaa tera ye shish lagaayaa jaayegaa us gaanv ka naam sadaa rahegaa aur us me mera naam bhi rahegaa..to khaatu gaanv me barbarik ki anteshti huyi..to phalguni ekaadashi ko KHATU SHAM ke naam se badaa utsav hotaa hai..mela lagataa hai..

Khatushamji ka phalguni mela

( dashami aur ekadashi ko wahaa pujyashri ka satsang thaa..is utsav me jo paidal yaatri aate hai un ke parishram ka phal un ko pujyashri ka satsang mil gayaa)
barbarik ka yash to huaa.. lekin krishn bhagavan se bramhgyaan paa letaa to kuchh aur rang aataa!
krishn ko jo apane aatma-paramaatmaa ka gyan tha wo hi gyaan aur ras paane ke ham adhikaari ban rahe ye bhagavan ki aseem kripaa hai..
to saob se thos tatv hai jis me barbarik utpann hokar vilay ho jate phir bhi jyo ka tyo!
jis me krishn awataar lekar antardhaan ho jaate phir bhi  akaal purush jyo ka tyo!
to vo bramh sab se thos hai!us bramh paramaatmaa ke naam se palaash ka naam bramh vriksh hai..us me bahot saare gun hai..is palaash ke rang se sabhi ko holi khelaaungaa!! 🙂

OM SHANTI.
SADGURUDEV JI BHAGAVAN KI MAHAA JAY JAYKAAR HO!!!!!

Galatiyon ke liye Prabhuji kshamaa kare..

सब से ठोस : परब्रम्ह (खाटू शाम जी की कथा)

देल्ही,17 मार्च2011


रामलीला मैदान पर महा कुम्भ हो गया है..ये कोई शक्ति का प्रदर्शन नहीं है, ये शक्ति के मूल में जाना है!

सारी  शक्ति का मूल है अकाल पुरुष..उस को  ब्रम्ह बोलते है…

भगवान और जीव जिस से प्रगट होते , जिस में लीला करते और जिस में समा जाते है वो ब्रम्ह होता है..

जीव, ईश्वर और जगत तीनो में जो व्याप रहा है और तीनो की बदलाहट का जो जानकार है वो ब्रम्ह परमात्मा है..एक ओमकार!..उस की स्वाभाविक ध्वनि ओमकार है..सत  नाम! वोही सत कहेलाता है..सूर्य, चन्द्रमा, पृथ्वी पर नियंत्रण.. ऋतुओं पर नियंत्रण और हमारी नाभि  माँ की जेर से जोड़नेवाली जो सत्ता है वो ब्रम्ह परमात्मा है…

बच्चे की नाभि माँ की जेर से जोड़ना अज्ञान का काम नहीं है, ज्ञान का है…स्थूल का काम  नहीं है, परम सूक्ष्म तत्व का काम  है…और दुश्मन का काम नहीं है, परम हितेषी का, परम सुहुर्द का काम है…बच्चा माँ के गोद में आते ही माँ के शरीर में दूध बना देना कितनी बड़ी भारी सु-व्यवस्था का सामर्थ्य रखने वाली सत्ता है..उसी को बोलते एक ओमकार!

वो ही जागंदी ज्योत भी है…रात्री का स्वप्ना आया-गया उस को जानने वाला जागंदी ज्योत है, वो ही आत्मा है..कल का व्यवहार आया-गया, उस को जानने वाला अभी है…रात की नींद आई-गयी, उस को जानने वाला अभी  है.. ये जागंदी ज्योत दिए की या मोमबत्ती की मत समझना!ये ज्योत है साक्षी स्वभाव! चैत्यन्य स्वभाव!
उस में टिकने के लिए मनुष्य जीवन, सत्संग और बुध्दी मिली है…जो जागंदी ज्योत है , वो ही ब्रम्ह परमात्मा है..ये जागंदी ज्योत अंतकरण में है …और अनंत ब्रम्हांडों   में जो व्याप रहे उस को ब्रम्ह बोलते है..

ऐसे ब्रम्ह परमात्मा को भगवान बोलते तो ठीक है..लेकिन भगवान भी कई हो गए अपनी अपनी सृष्टि के..जैसे एक सृष्टि के ब्रम्हा, विष्णु , महेश है ऐसे और कई सृष्टियों के भी ब्रम्हा विष्णु महेश होते है..

लेकिन ब्रम्ह परमात्मा ?सभी सृष्टियां  जिस के संकल्प में होती है, वो ब्रम्ह परमात्मा है!

ऐसे ही वृक्षो में सब से आदरणीय  संज्ञा देनी हो तो पलाश के वृक्ष को ब्रम्ह-वृक्ष कहेना चाहिए..
उस ब्रम्ह परमात्मा की उपाधि जिस वृक्ष को दी उस वृक्ष का नाम है खाकरे का वृक्ष(पलाश ) …


केले के पत्तल में भोजन करने से चांदी  के बर्तन में भोजन करने   जैसे गुणधर्म और आरोग्यता मिलती है शरीर को..लेकिन पलाश के पत्तल में भोजन करने से सोने के बर्तन में भोजन करने का शरीर को फायदा मिलता है..

ऐसे ही पलाश के फूलो का रंग शरीर के रोम कुपो में सप्त रंगों को संतुलित करता है, शरीर के सप्त धातुओ को संतुलित करता है..गरमी पचाने की ताकद देता है, सर्दी पचाने की ताकद देता है..
किसी को खुजली दादर निकली हो तो वो पलाश के बीजो का चूर्ण और निम्बू का रस  मिला कर लगा दे तो दादर(खुजली) गायब हो  जायेगी…कई लोग खुजलाते रहेते तो एरंडीया   तेल लगा दो तो खुजली शांत हो जाती  है..लेकिन जब तब खुजली हो तो एरंडीया    क्या लगाना? ये पलाश के फूलो का रंग शरीर को चुपड़  के थोड़ी देर बैठो तो खुजली आवे ही नहीं…
आँखों की कमजोरी हो तो पलाश के फूलो का रस शहेद में मिला कर अंजन करने से आँखों की कमजोरी ठीक हो जायेगी..

गुस्सा ज्यादा आता हो तो पलाश के छोटे छोटे पत्तों की सब्जी खाने से गुस्सा, क्रोध और पित्त शांत होता है..
लेकिन ये सत्संग केवल आप की तबियत ठीक हो उस लिए नहीं है, आप का मन ठीक  हो उस लिए भी नहीं है..आप की तबियत ठीक, मन ठीक, बुध्दी ठीक ..लेकिन ये सारे ठीक प्रकृति की चीजे है…सत्संग का उद्देश्य केवल  प्राकृतिक चीजो का ठीकठाक करना ही नहीं है, सत्संग का उद्देश्य है की प्राकृतिक चीजे ठीक-बेठीक हो हो के मिट  जाती है , फिर भी जो नहीं मिटता उस परमात्मा की प्रीति , परमात्मा की स्मृति और परमात्मा की प्राप्ति के लिए  है!!!!

सभी दुनियांवी ठोस चीजो से मानवीय संकल्प ठोस है..संकल्प से भी मति ठोस है…मति में भी तामसी से  राजसी मति , राजसी मति से सात्विक मति , सात्विक मति से भी भगवत अर्थदा मति ठोस है जो भोगदा का भी संयम से उपयोग करते है..ऐसी मति में  धरम के रहस्य का ज्ञान प्रगट होता है..ऐसी मति मोक्ष के करीब ले जाती है और ऐसी मति भगवत-प्रसादजा मति बनती है..
भगवत प्रसादजा मति भगवान के चर्चा, व्याख्या सुमिरन से आनंद में रहेती है..इस से भी ज्यादा ठोस बुध्दी है जो में परमात्मा के तत्व में टिकी है(तत्व प्रसाद्जा मति)…भगवान चेतन रूप है, ज्ञान रूप है, आनंद रूप है..अष्टदा  प्रकृति में उन्ही की सत्ता है..बचपन आया- चला गया..उस को जानने वाली सत्ता मेरे रोम रोम रम रहा है..जवानी आई-चली गयी..सब चले जाते फिर भी जो सदा रहेता है , मौत शरीर को छीन लेती है फिर भी जो हमारा साथ नहीं छोड़ता वो हमारा आत्मा- परमात्मा है..ऐसे तत्व का उपदेश से अंतरात्मा की विशेष कृपा पाकर जब ब्रम्हज्ञान होता है..तो परम सत्य में बुध्दी प्रतिष्टित हो जाती है..उस को बोलते :

तस्य प्रज्ञा प्रतिष्टिते

अर्जुन ने पूछा की ब्रम्हज्ञानी के क्या लक्षण है?
अनारम्भा परी त्यागी स्थिति   प्रग्यस्य गोचरे
ये पाऊं , ये खावूँ  , ये बनाऊ ये सब वासना उस की मिट जाती है..अपने परब्रम्ह परमात्मा में उस की मति टिक जाती है..

तो जिस की बुध्दी सत में टिकी है ऐसे संतो के वचन सत-वचन होते  है..सत क्या होता है? जो आदि में भी सत है, युगों से सत है, अभी भी सत है और शरीर मिटने के बाद भी रहेगा..ये सत किसी का साथ नहीं छोड़ सकता है..जो सदा है , वो अब भी है..जो सर्वत्र है तो यहाँ  भी है…सब में है तो हम में भी है..केवल हमारी बुध्दी उस में टिके..सब में ठोस में ठोस है परब्रम्ह परमात्मा अकाल पुरुष…

अब खाटू शाम जी की कथा सुनाता हूँ..

खाटू शामजी (राजस्थान) 

5 पांडवों की पत्नी द्रोपदी थी..द्रोपदी किसी जनम की तपस्विनी थी..विवाह नहीं करती..उस की परीक्षा लेने के लिए आदि शक्ति आई..गाय का रूप लेकर…हम्मा ssss हम्मा sssss हम्मा ssssss हम्मा  ssss  हम्म्म्मा  sssss    5 बार गाय ने पुकारा…ना गाय को चारा, ना गाय को पानी, ना कुछ…तो गौ-रूप ने प्रकृति ने पुकारा लेकिन तपस्विनी ने देखा तक नहीं..तो प्रकृति आदि शक्ति ने कहा की,   ‘तुम को अभिमान हो गया है की मैं  ब्रम्हचारिणी हूँ, शादी नहीं किया..पति नहीं किया.. मैंने 5 बार पुकारा..फिर भी तुम ने घर आये हुए अतिथि का आतिथ्य नहीं किया, ध्यान नहीं दिया तो कैसी तेरी भक्ति है?.. पति नहीं किया इस अहंकार में बैठी रही तो जा एक नहीं 5 पति तुम्हे करने पड़ेंगे’

…तो वो ही तपस्विनी द्रोपदी हुयी और  5 पांडव देवो के अंश थे..इंद्र, वायु आदि के…

5 पांडवो में एक भीम थे..भीम की एक पत्नी राक्षसी थी..उस का नाम था हिडिम्बा..जैसे अलग अलग जाती होती है…जैसे जाट  जाती है, भील जाती है, ऐसे पहेले राक्षस जाती और नाग जाती आदि जाती भी कालान्तर में होगी.. हिडिम्बा की कोख से भीम का पुत्र घटोत्कच हुआ..और घटोत्कच के संसारी जीवन में बरबरीक  नाम का बेटा पैदा हुआ..जो खाटू शाम भगवान हो कर पूजे जाते है..
बरबरीक  युवक हुआ तो श्रीकृष्ण कही पधारे थे तो घटोत्कच बर्बरीक को ले गया..श्रीकृष्ण की स्तुति आदि कर के प्रार्थना किया की,  ‘ये पुत्र आप का ही है.. इस के मन में कुछ प्रश्न उठते है ..माधव! आप ही इन के उत्तर देने में समर्थ है..आप ही बर्बरीक पर कृपा करेंगे…’


युवक और अध्यात्मिक प्रश्न पूछने वाला हो तो संत को तो प्यारा लगता है..और श्रीकृष्ण तो प्रेमा अवतार थे… बोले, हे पुत्र ! तू क्या चाहता है?बोला, “मनुष्य का सब से अधिक मंगल कैसे हो?..कोई बोलते देव दर्शन से, कोई बोलते यज्ञ करना चाहिए तो कोई बोलते दान ही सर्वो परी है..तो कोई बोलते पितृ -पूजन ही सर्वो परी है…कोई बोलते व्रत-उपवास करना चाहिए…कोई कुछ साधन बताते , कोई कुछ साधन बताते..तो हे प्राणी मात्र के हितेषी, हे परमेश्वर  आप मेरे को अपना बालक.. अपना दास समझ कर मुझे उपदेश दीजिये…”      अर्थात सत्संग की मांग की..
सच्चा सत्संग माँगने वाला आता है तो संत और भगवंत का दिल खिलता है..
तो श्रीकृष्ण ने बर्बरीक  को खूब प्रेम से गले लगाया..बोले,  ‘वत्स! तुम्हारा सोच बहोत अच्छा है..और जैसा अधिकारी होता है उस के लिए वो धरम श्रेष्ठ है…’

अब मैं  आप को समझाने के लिए विस्तार करता हूँ की जो के जी  का अधिकारी है उस के लिए कॉलेज बेकार है..और जो कॉलेज का अधिकारी है उस के लिए के जी  की पुस्तक पढ़ना बेकार है..तो अधिकारी देख कर सब अपनी अपनी जगह पर ठीक है…जो पैदल यात्रा करते है ना, उन को परिश्रम बहोत होता है, फल थोडासा होता है…लेकिन वो परिश्रम के अधिकारी है..जिन को संत सद्गुरु मिल गया, ध्यान भजन की युक्ति मिल गयी फिर भी हाथ में झंडे लेकर पैदल यात्रा करे तो कर्म वेधी  माने जायेंगे…हाथ में मख्खन का पिंड है , वो छोड़ के छास चाटने जाने जैसा है !..तो अधिकार के हिसाब से सब अपनी अपनी जगह पर ठीक है..पहेली क्लास के लिए पहेली ठीक है, लेकिन 7 वी  वाले के लिए 7  वी ठीक है..कॉलेज वाले के लिए कॉलेज ठीक है..ऐसे ही जिस की जैसी जैसी अवस्था है, उस के लिए वो वो साधन ठीक है..फिर भी  साधनो को 4 विभागों में ब्रम्हाजी ने सृष्टि में प्रचलित कर दिया है.. जो ब्राम्हण  है वो दिव्यात्मा है..जो ब्रम्ह को जानने की जिज्ञासा करते वे ब्राम्हण  है..उन के लिए वेद  पढ़ना, शास्त्र अध्ययन करना, पुराणों  की कथा सुनना-सुनाना, दान लेना-दान करना आदि साधन उन के लिए श्रेष्ठ है..क्षत्रिय के लिए बल सम्पादन करना और बल से दुर्बलो की सहायता करना…

श्रीकृष्ण ने बर्बरीक को बताया की ,  ‘तुम क्षत्रिय हो तो जो दुर्जन है, आततायी है, पातकी है उन को दंड देना और प्रजा की सेवा, सुरक्षा .. रखवाली करना  ये तुम्हारा धर्म है…तुम क्षत्रिय हो बेटे..’

वैश्य का धर्म है की अच्छी चीज वस्तु लाना , अपने ग्राहकों को देना और नफा लेकर अपनी आजीविका चलाना..
आय का दसवा हिस्सा दान-पुण्य  करना..संतो का संग करना और समय निकाल के निवृत्ति परायण संतो के पास जाना ये  क्षत्रियों का, वैश्य   का, ब्राम्हण  का कर्त्यव्य है…और इन तीनो से जो छोटी मति-गति वाले है वे इन तीनो की सेवा करेंगे तो इस से उन का मंगल हो जाएगा..उन को क्षुद्र कहा गया ऐसा वर्णन है..

बर्बरीक तुम बल का अर्जन करो ..माहिमती नाम के गुप्त  क्षेत्र में जाओ..वहा एकांत है और तुम ध्यान भजन करना..मौन रखने से अभिमान विलय होता है..वासना निवृत्त होती है और शक्तियां  जागृत होती है.. समझदारी की निवृत्ति अपने को भगवान से मिलाती  है, ना-समझी की निवृत्ति वासनाओ को भड़का के और गहेरा कर देती है..इसलिए बरबरीक  तुम वहा जाओ..तुम्हे 9 देवियां  सहयोग करेंगी..
बर्बरीक श्रीकृष्ण की प्रदक्षिणा  कर के अपने पिता का आशीर्वाद लेकर उधर चले गए..कुछ ही समय में उन की साधना से नव दुर्गा का प्रागट्य  हो गया और देवियों ने कहा की  बरबरिक  तुम यहाँ कुछ समय और रहो..यहाँ एक ब्राम्हण  आयेंगे , वो भी अपना मनोरथ पूर्ण करने की साधना करेंगे..लेकिन उन की साधना में विघ्न डालने वाले आयेंगे उन से ब्राम्हण  की रक्षा करना ..उन के संपर्क में रहेना ..तुम्हारा मंगल होगा..देवियों ने जैसा मार्गदर्शन दिया वैसे ब्राम्हण  आये..बर्बरीक ब्राम्हण  की सेवा में लगे..उन की साधना काल में कभी कोई भयंकर रूपधारी आये तो कभी कोई विघ्न डालने आते तो बर्बरीक उन की सेवा में झुझते..एक विशेष भयंकर दैत्य आया..बर्बरीक ने हिम्मत से उस को भी मजा चखाया..वो दैत्य फिर से आया..तो बर्बरीक को गुस्सा आया ..उस का पीछा किया तो दैत्य पाताल में घुस गया..बर्बरीक पाताल लोक में गया तो बहोत सारे दैत्य उस पर टूट पड़े..बर्बरीक अकेले रहे गए..जो सेवा करता है वो अकेला भी कईयों के लिए भारी पड़  जाता है..
आप परोपकार के लिए अकेले निकल चले लेकिन इतने करोडो लोग साथ में हो जाते ये प्राकृतिक नियम है!आप के पास धन नहीं है, दौलत नहीं है, पढाई लिखाई नहीं है, सर्टफिकेट   नहीं है..लेकिन भगवान और भगवत जनो की प्रसन्नता के लिए काम करते तो आप अकेले नहीं होते..सारा विश्व और भगवान की योग्यता आप के साथ आ जाती है!!प्रत्यक्ष देख लो!! :)


बर्बरीक दैत्यों को मार कर जब वापस लौट रहा था तो नाग जाती की कन्याये बर्बरीक का बड़ा आदर सत्कार करने लगी…आप जैसे वीर ने हमारे नाग जाती के सभी को अभयदान दिया है..तुम्हारा साहस, सौन्दर्य और परोपकार देख कर हम आप को अपना भरता मानती है..हम सभी तुम्हारी पत्नियां  है..

बर्बरीक ने कहा देवियां  ये बात फिर ना दोहराओ..क्यों की मैंने ब्रम्हचर्य व्रत लिया है..


ये बर्बरीक का दृढ संकल्प सराहनीय है!आदर के योग्य है ..सन्मान के योग्य है..बर्बरीक ने उन कन्याओं से वापस आने का रास्ता जान लिया..फिर उस ब्राम्हण  की साधना में विघ्न ना पड़े इसलिए जुट गया..9 देवियों का सहयोग था..ब्राम्हण  के हवन  कुण्ड  में एक ऐसी लाल भस्म पैदा हो गयी..ब्राम्हण  ने बर्बरीक को कहा की, “इस में से भस्म ले लो..तुम पृथ्वी पर अजेय योध्दा बन जाओगे!”

बर्बरीक बोला की मैंने तो आप की साधना संपन्न हो इसलिए सेवा किया था..मुझे ये कुछ नहीं चाहिए..
ब्राम्हण  बोले, “तुम्हारा उद्देश्य उंचा था..इसलिए मैं  ये उच्च श्रेणी की प्रसादी तुम्हे देना चाहता हूँ..”    ब्राम्हण  ने वो लाल भस्म की प्रसाद बर्बरीक को दिया..


बबरिक को सेवा के बल से, परोपकार के बल से, ब्रम्हचारी के बल से संकल्प सिध्दियां  प्राप्त हुयी.. किसी सरोवर किनारे वो रहेता था…जहा से ब्राम्हण  , साधू जल ले जाते..देव को स्नान कराते..तो सरोवर में गन्दगी ना पड़े इस का ध्यान बर्बरीक रखता..पांडवों  के 12 साल वनवास के बाद 13 वा साल अज्ञातवास का था तब पांडव भूख प्यास से झटपटाते उसी तीर्थ क्षेत्र में पहुंचे जहा बर्बरीक उस सरोवर की रखवाली अपने जिम्मे ले बैठा था..

युधिष्टिर ने भीम को कहा की, “भीम तुझे प्यास लगी है, जल्दी जल्दी जा रहा है..लेकिन ये तीर्थ क्षेत्र का जल है..थोडा बाहर पानी लेकर हाथ पैर धोकर बाद में  अन्दर जाओ..तीर्थ क्षेत्र के जल को गंदा न कर के तुम अपना काम बना लो..जल्द बाजी में तीर्थ के जल में गंदे हाथ पैर नहीं डालना”
लेकिन भीम ऐसा थका था की सूना अन-सूना कर के जल्दी जल्दी पानी में घुस गया..
बर्बरीक दूर से दौड़ा आया..बर्बरीक को पता नहीं था की भीम उस का दादाजी है..भीम को भी पता नहीं था की ये उस का पोता है..दोनों में खूब लड़ाई हुयी..भीम को भी कृष्ण का दर्शन था, बर्बरीक को भी कृष्ण का दर्शन था..लेकिन सत्संग ज्ञान के बिना दादा और पोता दोनों का वैमनस्य नहीं मिटा…सत्संग कितनी बड़ी चीज है!श्रीकृष्ण ने भीम को भी स्पर्श किया था..बर्बरीक को ह्रदय से लगाया था..फिर भी दोनों के अन्दर एक-दुसरे के प्रति मार काट था..युध्द ऐसा चला की शिव जी को उस में हस्तक्षेप करना पडा..
शिव जी आकाश मार्ग से आकाशवाणी  किये की,   ‘बेटा बर्बरीक घटोत्कच के तुम पुत्र हो और घटोत्कच भीम जी के पुत्र है.. वो ही भीम जी से तुम लड़ रहे हो बेटे जो तेरे दादाजी लगते है..’

सुनते ही बर्बरीक का हौसला चरबरा उठा…की मैं  तो अपने दादाजी को उठा कर समुन्दर में दबोचने वाला था…पिता-माता-पितामह और गुरु का अपमान करनेवाली व्यक्ति को मृत्युदंड ले लेना चाहिए.. अपने आप मर जाना चाहिए..भीम ने उस को गले से लगाया की बेटा ना-समझी से जो अपराध होते वो दंड के पात्र नहीं होते..तू मुझे नहीं जानता  था, मैं  तुझे नहीं जानता था..शिव जी ने कृपा कर के हमारी ना-समझी पर ज्ञान का प्रकाश डाला…

जब 13 वर्ष पूरा हुआ और कौरव पांडवों का युध्द छिड़ा तो कौरवो ने अपनी सेना को बोला की कौन पांडवों  को कितने दिन में नष्ट भ्रष्ट कर सकता है?भीष्म पितामह बोले एक महीने के अन्दर पांडवों  की सेना को पराजित करेंगे, कृपाचार्य ने 25 तो द्रोणाचार्य  ने 20 दिन बोला..ऐसे करते करते कर्ण ने कहा की मैं  पांडवों  की सेना का 6 दिन में विनाश कर दूंगा..
वहा ये बर्बरीक  उपस्थित था. वो बोला की आप लोग इतना श्रम ना उठाओ, मैं  ये 3 बाणों  से पांडवों  की सेना तहेस नहेस कर सकता हूँ!ये भीष्म पितामह, कृपाचार्य , द्रोणाचार्य , कर्ण के मुंह पे तमाचा था…और कृष्ण और ब्रम्हाजी के हाजिरी में ये बोला तो ब्रम्हाजी भी रुष्ट  हुए..भगवान कृष्ण और ऐसे महान लोगो के बिच तुम अपनी शेखी बगारता है..जा ! ..तू श्रीकृष्ण के हाथो से ही नष्ट होगा…ये बात तो वहा हो गयी…

लेकिन जब युध्द छिड़ा तो ये बर्बरीक भाईसाहब जाने लगे युध्द की ओर…कृष्ण ने देखा की ये बर्बरीक कौरवो के पक्ष से  लडेगा की पन्दवो के?

..ब्राम्हण   का रूप धारण कर के कृष्ण भगवान रस्ते में खड़े हो गए..बोले, कहो बर्बरीक कहा सजधज के जा रहे हो?

बर्बरीक बोला, महा भारत का युध्द देखने जा रहा हूँ..

तो तुम किस के पक्ष में युध्द लड़ोगे? कृष्ण भगवान पूछे ..

बर्बरीक बोला, ‘जो निर्बल होगा, जो हार के कगार में दिखेगा उस के पक्ष में खडा होऊंगा’ …

ब्राम्हण  देवता के रूप में भगवान बोले, ‘मैं  कैसे मानु ?’

बर्बरीक बोले,  ‘ब्राम्हण   देवता ये चमत्कार देखो..9 दुर्गाओ के सहयोग से  और ब्राम्हणों  ने जो यज्ञ  किया उस शक्ति की ये लाल भभूत मेरे पास है..ये भभूत बाणों  को लगाउंगा और छोडूंगा तो  सभी योध्दाओ के शिरो को छेद  के  आयेगा..दूसरा बाण सभी को लिटा  देगा और तीसरे बाण में सब सफा हो जाएगा..’
ब्राम्हण  रूप धारी भगवान बोले,  ‘मैं  ये कैसे सच मानु? तू पीपल के पत्ते को चिर के दिखा तो मानु..एक साथ सभी गिराने चाहिए..’
बर्बरीक ने बाण छोड़ा तो पीपल के सभी पत्तो को बाण ने घेरा.. भगवान श्रीकृष्ण ने पीपल के एक पत्ते को पैर के तले  दबा रखा था..तो वो बाण श्रीकृष्ण भगवान की प्रदक्षिणा  करने लगा..
बरबरिक  ने कहा की,   ‘ब्राम्हण  देवता ..पीपल के सभी पत्तों को भेदने को तुम ने कहा है , एक पत्ता तुम्हारे पैरो के निचे होगा..इसलिए मेरा ये मन्त्र शक्ति वाला बाण जान गया है…इसलिए आप के चारो ओर घूम रहा है..आप जल्दी पैर हटाओ नहीं तो ये बाण आप को ना लगे!आप क्या समझते हो?’

भगवान कृष्ण ने देखा की अब इस ने अवज्ञा कर ली..इस ने मुझ से आशीर्वाद लिया था..
बोले मैं  ब्राम्हण  हूँ..महा भारत के युध्द में किसी न किसी की बलि लगेगी..सब की रक्षा के लिए  तुम्हारे जैसे एक वीर बहादूर बलि देगा तो महाभारत का युध्द शांति से निपट जाएगा.. मैं  ब्राम्हण  हूँ, तुम मुझे शीश अर्पण कर दो..
बर्बरीक बोला,  ‘ब्राम्हण  देवता, तुम कौन हो ये असली रूप दिखाओ..’  …   तो श्रीकृष्ण भगवान प्रगट हो गए..बर्बरीक उन के चरणों में गीर गए….

श्रीकृष्ण  भगवान बोले, बर्बरीक तुझे शाम के ह्रदय से स्पर्श हुआ है, आज तू शाम के चरणों में पडा है..तेरा एक नाम बर्बरीक है तो दूसरा नाम शाम और तीसरा नाम सुहुर्द मैंने दिया है..
बर्बरीक बोला,  ‘माधव! मुझे सिर्फ महाभारत का युध्द देखने  को मिल जाए..’
श्रीर्किष्ण बोले, ‘ तू शीश दे दे, वो इस पहाड़ पे रहेगा और वहा से तू युध्द देखेगा..’
बर्बरीक ने सीर अर्पण कर दिया..कौरवो के पक्ष में जानेवाली आपदा तो टल  गयी ना..!उस का शीश श्रीकृष्ण के वरदान से युध्द देखने लगा..


महाभारत के युध्द में जब पांडव विजेता हुए तो युधिष्टिर  कृष्ण को यश देने लगे की आप की कृपा से ये युध्द जीता है..तो भीम ने कहा की अकेले कृष्ण क्या करते? भैया अर्जुन ने भी किया, आप ने किया, सभी ने किया है..सब कृष्ण कृष्ण कैसे?…तो भाईयों में ज़रा वैमनस्य ना हो इसलिए भगवान कृष्ण बोले की वो पहाड़ी पर शीश युध्द देख रहा है , उसी से चल कर पूछे..तो बर्बरीक ने सारा वृत्तांत बता दिया..की श्रीकृष्ण के सुदर्शन ने सभी का तप-तेज हर लिया था..तुम हम सब निमित्त थे..

बर्बरीक को वरदान मिले..की बेटा जहा तेरा ये शीश लगाया जाएगा उस गाँव का नाम सदा रहेगा और उस में मेरा नाम भी रहेगा..तो खाटू गाँव में बर्बरीक की अंतेष्टि हुयी..तो फाल्गुनी एकादशी को खाटू शाम के नाम से बड़ा उत्सव होता है..मेला लगता है..

खाटू शामजी का फाल्गुनी मेला 

( दशमी और एकादशी को वहा पुज्यश्री का सत्संग था..इस उत्सव में जो पैदल यात्री आते है उन के परिश्रम का फल उन को पुज्यश्री का सत्संग मिल गया)
बर्बरीक का यश तो हुआ.. लेकिन कृष्ण भगवान से ब्रम्हज्ञान पा लेता तो कुछ और रंग आता!
कृष्ण को जो अपने आत्मा-परमात्मा का ज्ञान था वो ही ज्ञान और रस पाने के हम अधिकारी बन रहे ये भगवान की असीम कृपा है..
तो सब से ठोस तत्व है जिस में बर्बरीक उत्पन्न होकर विलय हो जाते फिर भी ज्यो का त्यों!
जिस में कृष्ण अवतार लेकर अंतर्धान हो जाते फिर भी  अकाल पुरुष ज्यो का त्यों!
तो वो ब्रम्ह सब से ठोस है!उस ब्रम्ह परमात्मा के नाम से पलाश का नाम ब्रम्ह वृक्ष है..उस में बहोत सारे गुण है..इस पलाश के रंग से सभी को होली खेलाउन्गा!! :)

ॐ शान्ती .


सदगुरुदेव जी भगवान की महा जय जयकार हो!!!!!

गलतियों के लिए प्रभुजी क्षमा करे.


Advertisements
Explore posts in the same categories: Pujya Bapuji

2 Comments on “sab se thos : Parbramh (Khatu Sham ji ki kathaa)”


  1. […] Latest Satsang Bapu, Bapuji, Sant, Santshri, SantSri, Sai , satsang , latest , live , latest satsang , Param Pujya, Pujyapad, Pujyapaad, Pratahsmarniya, Pujya, PujyaShri, Pujyasri, Pujya Shri, Pujya Sri, Purna Guru, Poorna Guru, Satguru, Sadguru, Sadgurudev, Gurudev, Guru, Acharya, Aacharya,Asaramji, Asharamji, Asaram, Asharam, Asaram ji, Asharam ji,Sri Yog Vedant Seva Samiti, Sri Yog Vedant Sewa Samiti, Shri Yog Vedant Seva Samiti, Shri Yog Vedant Sewa Samiti, Shri Yoga Vedant Seva Samiti, Shri Yoga Vedant Sewa Samiti, Sri Yoga Vedant Seva Samiti, Sri Yoga Vedant Sewa Samiti,Vedant, Vedanta,Ishvar, Ishwar, Bhagwan, Bhagvan, Prabhu, Prabhuji,HariOm, Hari Aum, Aum, Om, Hari Om, Hari Aum, Om Anand, Aum AnandOm Namah Shivay, Om Namo Bhagvate Vasudevay, Aum Namo Bhagvate Vasudevay, Narayan Hari, Hari, Narayan, Ram, Rama, Shyam, Shyama,Shri, Sri, Gayatri,Ajapa GayatriAhmedabad, Amdavad, Surat, Delhi, Indore, Bhopal, Mumbai, Hyderabad, Bangalore, Kolkata, Allahabad, Katni, Agra, Chandigarh, Ratlam, Pushkar, Panched, Chennai,Ludiana, Jabalpur, Satna, PipariyaHariOm Group, HariOmGroup, Hari Om Group, ashram,Yog, Yoga, Meditation, Dhyan, Dhyana, Spiritual, spirituality, Jap, Japa, Mala, Anushthan, Darshan, Maun, Silence, Mandir, Temple, Hindu, Sanatan, Sanatan Dharma, Dharma, Dharm, Dharam, Celibacy, Yuvadhan, Bapuji, Bapu, Vishwa guru,Sant Shri Asaramji Bapu, satsang , latest , the great Satguru and Vedanta Teacher from … Asaramji Bapu, Asaram bapu, Asharam Bapu, Asharamji, Asharamji Bapu « sab se thos : Parbramh (Khatu Sham ji ki kathaa) […]


Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s


%d bloggers like this: