tum kitane samarth saahib se jude ho!!!!!

Mumbai(Airoli), 13March2011 sham ka satr.

इस पोस्ट को हिंदी में पढ़ने के लिए कृपया यहाँ पधारे :-

http://wp.me/pZCNm-lW


bihaar me samashtipur jilhaa hai..wahaa dalsing saraay station hai..us station se satakar Vidyaapati dham hai..wahaa kabhi vidyaapati ji rahete..vidyaapati ji ki shiv ji ke prati priti thi..ve dhyaan karate the…un ke paas ekaagrataa ka dhan tha..un ki gangaa ji ke prati aasthaa thi..jab vidyaapati ji vrudhd ho gaye to bole ki mujhe gangaa ji ke kinaare le chalo..aadhe raaste tak aaye..le chalane waale thake honge..vidyaapati ji ne kahaa ki ab aadhaa aa gaye to aadha maiyya khud aayegi! ve jahaa baithe the wahaa gangaa ji pragat huyi..gangaa ji ki dhara wahaa se bahene lagi..wahi sthaan aaj bhi vidyaapati dhaam ke naam se prasidhd hai..ye is baat ki khabar detaa hai ki aap ke sankalp me kitanaa bal hai !

Ramkrushn param hans ke samay ek doctor tha..ve naag mahaashay ke naam se jaane jaate..jab unho ne suna ki doctor,vakil aur dalaal ko ishwar ki prapti nahi ho sakati to sab kuchh chhod kar ve ishwar ke liye baith gaye….logo ne kahaa ki abhyuday tithi 50 varsh me ek baar aati hai..kyaa aap gangaa ji me snan ke liye nahi jaaoge? ve bole ki ek din -do din chal kar gangaa ji me snaan karane jaaye..koyi jaruri nahi…gangaa ji yahaa bhi to pragat ho sakati hai..aisa kahe kar unho ne dhyaan ke kamare me vishranti lee…subah ke samay un ke praangan se gangaa ji baheti chali..log dekh kar dang rahe gaye!

Rahidaas agale janam me bramhan the..ramanand swami ke liye bhikshaa ka ann kisi chamaar ke ghar se le aaye the..guru maharaj ne shraap diyaa ki jaao tum bhi chamaar hoge.. mrutyu ke baad us bramhan ka janm chamaar ke ghar huaa.. naam padaa Rahidaas…devaadhi dev bhagavan bhakt vatsal hai..ramanand swami ko swapna diyaa..ki tumhare shrap se tumhara shishy chamaar ke ghar janamaa hai..ab unhe shraap se mukt kar ke bhagavat ras me sanane ki sewa kare…

ramanand swami chalakar aaye, chamaar putr Rahidaas ko dikshaa diye..chamaar paramparaa ka dhanda chamadaa thik karanaa, chappal silaanaa aadi chalataa rahaa lekin andar me to ..sant bij palate nahichaahe jug bite anant..unch nich ghar awatarerahe sant ke sant !
Rahidaas sadhu sant ke prati badaa sad-bhaav rakhate the..rahidaas ki sadhu sewa dekh kar kisi sant ne unhe paaras de diyaa..

rahidaas ne kahaa, “mahaaraaj ye mere kisi kaam ka nahi…mujhe pasine ke kamaayi se sewa karane ka jo aanand hai us aanand ko paaras se sona banaa kar nahi le paaungaa..”shram ka jo mulya hai  vo param yog ho jata hai..bina shram ki chije lena dena ye koyi badi baat nahi hai..

sadhu uchch koti ke the…us ne socha itanaa nispruh aadami! hey bhagavan !
bhagavan ne rahidas ko swapnaa diya ki tum prayatn nahi karate ho,lekin anaayaas aaye to us chij ko le liya karo aur sewa me lagaao…

rahidaas ko thoda thoda sona milane lagaa..dharam shala banaayi..mandir banaayaa…saraayaa banaayaa..sadhu sewa santo ki bhakti me lagaaye..bramhano ka dhandaa jara manda hone lagaa..raja ko jaa kar shikaayat ki…dev mandir ki puja archana to bramhan karate..lekin ye chamaar ne mandir banaayaa..puja karataa hai..aadi pramaan dekar raja ko ukasaa diyaa..raja ne rahidaas ko bulaayaa..rahidaas ne kahaa ki jaati se chamaar hai, lekin bhagavan to bhakti aur prem se hi vash hote hai..to mere paas aa jaate hai..thakur ji jaisa chaahenge…
raja ne sahemati di..bramhano ke bulaane se thakur ji aa jawe to bramhano ka adhikaar chhinane ka aagrah chhod dena..
bramhano ne khub thakur ji ki archanaa, aarati jayghosh kiyaa..thakur ji ko pataate ki thakur ji aa jaaye hamaare karib…lekin thakur ji aaye nahi..


rahidas ko moka diya  gayaa..

rahidaas shaant chitt ho kar dekhate thakur ji ke saamane…vishranti yog paate…jis vishranti yog me abhuyday tithi ko gangaa ji ko bulaane ke liye naag mahaashay shaant huye the…athavaa to vidyaapati ji ne gangaa ji ko bulaa kar dalsing saraay jagah par pragat kar diyaa thaa…usi aatm dev me rahidaas shant huye aur uchchaaran kiye:-


devaadhidev aayo tum sharanaa

krupaa kijiye jaan apano janaa


dekhate dekhate mandir ke bhagavan wahaa se chal pade aur rahidaas ke god me aa baithe!!tab se rahidaas ka sabhi sanmaan karane lage..raja saheet lakho bhakt jan rahidaas ke premi bhakt ban gaye..aur mira baai ne bhi rahidaas ko apanaa guru maanaa…


namrataa se , sadbhaav se swabhaav nirmal hotaa hai..satya-nishth aur vinayi vyakti ke prati vishwaas paidaa hotaa hai..aur ye vishwaas jab bhagavaan ki taraf mudataa hai to bhagavaan ki vi-smruti karaane wale sansaar ke vikaaro ka prabhaav toot jata hai..chaahe shama veshya ki beti kanhopaatraa ho, chaahe raaj-rajeshwari ho..raaj kul me paidaa huyi mira bhagavan ke raste chal padi to aish aaram aur kami purush ki kathputali banaane wali durbudhdi chali jati hai..

apane preetam ke sukh me , apane priyatam ke sumiran me aur apane priyatam ke gyaan me jaane wale sant jano me sad-bhaav hotaa hai..vikaar aur aakarshan  vidaa hone lagate hai..


bigadi anek janam ki sudhare ab aur aaju

tulasi bhaje ram ko tyaji ke samaaju

rahidaas bhagavan ki murti ko bulaa kar apane god me bithaa dete hai !

… bihaar ke samashtipur jile se 10km duri wale dalsing saraay station hai , vidyapati ji wahaa gangaa ko bulaa lete hai..!!


maanav me anant sambhaavanaaye chhupi hai..ye to bahut chhoti upalabdhi hai!


anant aakaash gangaaye jis parameshwar ke ishaare se chalati phirati raheti hai aise parameshwar tumhaare sharir ke rakt ko chalaa rahe hai..tumhaare man budhdi ke udgam adhishtan hai..


so saahib sad sadaa hujure

andhaa jaanat taa ko dure..


tum kitane bade uchch koti ke saahib se jude ho!tumhaaraa kitanaa badaa samarth rakshak hai!poshak hai!!
bhagavan gita me kahete hai: tejo kshamaa dhairy..aap ke jeevan me tej ho…arthaat jo satya swarup – jo sury me tej ke rup me chandaa ke chaandani ke rup me aur aap ki aankho me bhi ye tej chamakataa hai…
tej kshamaa dhairy ho.. aap ke jeevan me tej ho, kshamaa ka gun ho aur dhairy bhi ho..pavitrataa bhi ho..andar ek baat , baahar dusari baat aisa nahi..kisi se vair naa ho.. holi ka utsav yahi khabar deta hai ki jo ‘ho li’us ko bhul jaa..gaanth mat baandh… unch-nich , badaa-chhota, pathit-anapadh, dhani-nirdhan ka bhed naa rakho..a-bhed aatmaa me aane ke liye ye holika utsav aap ko sahyog karataa hai…
‘mai badaa hun’ aisa simit sharir ko ‘mai’maan kar ‘vyaapak mai’ se apane ko alag naa maano..aap anant se milane ke liye aaye ho.. kitane bhi bade banoge lekin simit tukade ho jaaoge..apanaa a-maanitv chhod do to nisimit-taa ke sath ek ho jaane me aasani hogi…ye daivi sampadaa hai…. arthaat tej, kshamaa, dhairy, baahar-antar ki shuchi, kisi me shatru bhaav naa honaa aur ati-maanataa naa ho..
thoda bahot to maananaa padegaa ki mai bramhan hun sharaab nahi pee sakataa hun..mai phalaani ki beti hun ye phalaanaa bhadda kaam mujh se nahi hogaa..aisaa maanate to heet kaari hai..lekin maanate ki mai vishesh hun to ye ati-maan hai.. patan karane wala maan nahi hona chahiye..patan se rakshaa karane wala maan to honaa chaahiye..


NARAYAN HARI ..HARI OM HARI…

OM SHANTI.

SADGURUDEV JI BHAGAVAN KI MAHAA JAY JAYAKAAR HO!!!!!

Galatiyon ke liye Prabhuji kshamaa kare….

तुम कितने समर्थ साहिब से जुड़े हो!!!!!

मुंबई(ऐरोली), 13मार्च2011 शाम का सत्र.

बिहार में समष्टिपुर  जिल्हा है..वहा दलसिंग सराय स्टेशन है..उस स्टेशन से सटकर विद्यापति धाम है..वहा कभी विद्यापति जी रहेते..विद्यापति जी की शिव जी के प्रति प्रीति  थी..वे ध्यान करते थे…उन के पास एकाग्रता का धन था..उन की गंगा जी के प्रति आस्था थी..जब विद्यापति जी वृध्द हो गए तो बोले की मुझे गंगा जी के किनारे ले चलो..आधे रास्ते तक आये..ले चलने वाले थके होंगे..विद्यापति जी ने कहा की अब आधा आ गए तो आधा मैय्या खुद आएगी! वे जहां  बैठे थे वहाँ  गंगा जी प्रगट हुयी..गंगा जी की धारा  वहाँ  से बहेने लगी..वही स्थान आज भी विद्यापति धाम के नाम से प्रसिध्द है..ये इस बात की खबर देता है की आप के संकल्प में कितना बल है !

रामकृष्ण परम हंस के समय एक डॉक्टर था..वे नाग महाशय के नाम से जाने जाते..जब उन्हों ने सुना की डॉक्टर,वकील और दलाल को ईश्वर की प्राप्ति नहीं हो सकती तो सब कुछ छोड़ कर वे ईश्वर के लिए बैठ गए….लोगो ने कहा की अभ्युदय तिथि 50 वर्ष में एक बार आती है..क्या आप गंगा जी में स्नान के लिए नहीं जाओगे? वे बोले की एक दिन -दो दिन चल कर गंगा जी में स्नान करने जाए..कोई जरुरी नहीं…गंगा जी यहाँ भी तो प्रगट हो सकती है..ऐसा कहे कर उन्हों ने ध्यान के कमरे में विश्रांति ली…सुबह के समय उन के प्रांगण  से गंगा जी बहेती चली..लोग देख कर दंग  रहे गए!

रहिदास अगले जनम में ब्राम्हण  थे..रामानंद स्वामी के लिए भिक्षा का अन्न किसी चमार के घर से ले आये थे..गुरु महाराज ने श्राप दिया की जाओ तुम भी चमार होगे.. मृत्यु के बाद उस ब्राम्हण  का जन्म चमार के घर हुआ.. नाम पडा रहिदास…देवाधीदेव भगवान भक्त वत्सल है..रामानंद स्वामी को स्वप्ना दिया..की तुम्हारे श्राप से तुम्हारा शिष्य चमार के घर जन्मा है..अब उन्हें श्राप से मुक्त कर के भगवत रस में सनने की सेवा करे…

रामानंद स्वामी चलकर आये, चमार पुत्र रहिदास को दीक्षा दिए..चमार परम्परा का धंदा चमडा ठीक करना, चप्पल सिलाना आदि चलता रहा लेकिन अन्दर में तो ..

संत बिज पलटे  नहि

चाहे जुग बीते अनंत..

उंच नीच घर अवातरे

रहे संत के संत !


रहिदास साधू संत के प्रति बड़ा सद-भाव रखते थे..रहिदास की साधू सेवा देख कर किसी संत ने उन्हें पारस दे दिया..

रहिदास ने कहा, “महाराज ये मेरे किसी काम का नहीं…मुझे पसीने के कमाई से सेवा करने का जो आनंद है उस आनंद को पारस से सोना बना कर नहीं ले पाउँगा..”

श्रम का जो मूल्य है  वो परम योग हो जाता है..बिना श्रम की चीजे लेना देना ये कोई बड़ी बात नहीं है..

साधू उच्च कोटि के थे…उस ने सोचा इतना निस्पृह आदमी! हे भगवान !
भगवान ने रहिदास को स्वप्ना दिया की तुम प्रयत्न नहीं करते हो, लेकिन अनायास आये तो उस चीज को ले लिया करो और सेवा में लगाओ…

रहिदास को थोडा थोडा सोना मिलने लगा..धरम शाला बनायी..मंदिर बनाया…सराया बनाया..साधू सेवा संतो की भक्ति में लगाए.. ब्राम्हणों  का धंदा जरा मंदा होने लगा..राजा को जा कर शिकायत की…देव मंदिर की पूजा अर्चना तो ब्राम्हण  करते..लेकिन ये चमार ने मंदिर बनाया..पूजा करता है..आदि प्रमाण देकर राजा को उकसा दिया..राजा ने रहिदास को बुलाया..रहिदास ने कहा की जाती से चमार है, लेकिन भगवान तो भक्ति और प्रेम से ही वश होते है..तो मेरे पास आ जाते है..ठाकुर जी जैसा चाहेंगे…
राजा ने सहेमती दी..ब्राम्हणों  के बुलाने से ठाकुर जी आ जावे तो ब्राम्हणों  का अधिकार छिनने का आग्रह छोड़ देना..
ब्राम्हणों  ने खूब ठाकुर जी की अर्चना, आरती जयघोष किया..ठाकुर जी को पटाते की ठाकुर जी आ जाए हमारे करीब…लेकिन ठाकुर जी आये नहीं..


रहिदास को मोका दिया  गया..

रहिदास शांत चित्त हो कर देखते ठाकुर जी के सामने…विश्रांति योग पाते…जिस विश्रांति योग में अभ्युदय  तिथि को गंगा जी को बुलाने के लिए नाग महाशय शांत हुए थे…अथवा तो विद्यापति जी ने गंगा जी को बुला कर दलसिंग सराय जगह पर प्रगट कर दिया था…उसी आत्म देव में रहिदास शांत हुए और उच्चारण किये:-


देवाधिदेव आयो तुम शरना

कृपा कीजिये जान अपनो जाना


देखते देखते मंदिर के भगवान वहा से चल पड़े और रहिदास के गोद में आ बैठे!!तब से रहिदास का सभी सन्मान करने लगे..राजा सहीत लाखो भक्त जन रहिदास के प्रेमी भक्त बन गए..और मीरा बाई ने भी रहिदास को अपना गुरु माना…


नम्रता से , सदभाव  से स्वभाव निर्मल होता है..सत्य-निष्ठ और विनयी व्यक्ति के प्रति विश्वास पैदा होता है..और ये विश्वास जब भगवान की तरफ मुड़ता है तो भगवान की वि-स्मृति कराने वाले संसार के विकारों का प्रभाव टूट जाता है..चाहे शामा वेश्या की बेटी कान्होपात्रा हो, चाहे राज-राजेश्वरी मीरा  हो..राज कुल में पैदा हुयी मीरा भगवान के रस्ते चल पड़ी तो ऐश आराम की बुध्दी और कान्होपात्रा भगवान की ओर चल पड़ती तो कामी पुरुष की कठपुतली बनने वाली दुर्बुध्दी चली जाती है..

अपने प्रीतम के सुख में , अपने प्रियतम के सुमिरन में और अपने प्रियतम के ज्ञान में जाने वाले संत जनो में सद-भाव होता है तो विकार और आकर्षण  विदा होने लगते है..


बिगड़ी अनेक जनम की सुधरे अब और आजू

तुलसी भजे राम को त्यजी के समाजू

रहिदास भगवान की मूर्ति को बुला कर अपने गोद में बिठा देते है !

… बिहार के समष्टि पुर जिले से १०कि मी  दुरी वाले दलसिंग सराय स्टेशन है , विद्यापति जी वहा गंगा को बुला लेते है..!!


मानव में अनंत संभावनाए छुपी है..ये तो बहुत छोटी उपलब्धि है!


अनंत आकाश गंगायें जिस परमेश्वर के इशारे से चलती फिरती रहेती है ऐसे परमेश्वर तुम्हारे शरीर के रक्त को चला रहे है..तुम्हारे मन बुध्दी के उद्गम अधिष्टान  है..


सो साहिब सद सदा हजुरे

अंधा जानत ता को दुरे..


तुम कितने बड़े उच्च कोटि के साहिब से जुड़े हो!

तुम्हारा कितना बड़ा समर्थ रक्षक है!पोषक है!!


भगवान गीता में कहेते है: तेजो क्षमा धैर्य..आप के जीवन में तेज हो…अर्थात जो सत्य स्वरुप – जो सूर्य में तेज के रूप में , चन्दा में  चाँदनी के रूप में और आप की आँखों में भी ये तेज चमकता है…

तेज क्षमा धैर्य हो.. आप के जीवन में तेज हो, क्षमा का गुण हो और धैर्य भी हो..पवित्रता भी हो..अन्दर एक बात , बाहर दूसरी बात ऐसा नहीं..किसी से वैर ना हो.. होली का उत्सव यही खबर देता है की जो ‘हो ली’उस को भूल जा..गाँठ मत बाँध… उंच-नीच , बड़ा-छोटा, पठित-अनपढ़, धनि-निर्धन का भेद ना रखो..अ-भेद आत्मा में आने के लिए ये होलिका उत्सव आप को सहयोग करता है…


‘मैं  बड़ा हूँ’  ऐसा सिमित शरीर को ‘मैं ’ मान कर ‘व्यापक मैं ’ से अपने को अलग ना मानो..आप अनंत से मिलने के लिए आये हो.. कितने भी बड़े बनोगे लेकिन सिमित टुकड़े  हो जाओगे..अपना अति -मानित्व छोड़ दो तो निसिमित-ता  के साथ एक हो जाने में आसानी होगी…ये दैवी संपदा है…. अर्थात तेज, क्षमा, धैर्य, बाहर-अंतर की शुची, किसी में शत्रु भाव ना होना और अति-मानता ना हो..


थोडा बहोत तो मानना पडेगा की मैं  बराम्हन  हूँ,  शराब नहीं पी सकता हूँ.. मैं  फलानी की बेटी हूँ ये फलाना भद्दा काम मुझ से नहीं होगा..ऐसा मानते तो ये मानना हीत कारी है..लेकिन मानते की मैं  विशेष हूँ तो ये अति-मान है.. पतन करने वाला मान नहीं होना चाहिए..पतन से रक्षा करने वाला मान तो होना चाहिए..


नारायण हरी ..हरि ॐ हरि…

ॐ शांती.

सदगुरुदेव जी भगवान की महा जय जयकार हो!!!!!

गलतियों के लिए प्रभुजी क्षमा करे….



Advertisements
Explore posts in the same categories: Pujya Bapuji

One Comment on “tum kitane samarth saahib se jude ho!!!!!”

  1. karthik Sethupat Says:

    Hari Om…Bahut badiya satsatsang..ye sab sunke aisa likhit purvak prastut karna bahut badiya sewa hai..Dhanyavad


Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s


%d bloggers like this: