sheetal-taa, shakti aur shaanti in ke dwaar pe milati..jogi re..

Mumbai(airoli) ; 14march2011

इस पोस्ट को हिंदी में पढ़ने के लिए कृपया यहाँ पधारे

http://wp.me/pZCNm-m0

Mumbai Holi utsav

aap ki jaisi maanyataa hai aap waise ho jaaoge..aap apane ko paapi manoge to aap paap se mukt nahi ho sakoge..aap apane ko dukhi maanoge to dukh se mukt nahi hoge..lekin aap apane ko chaityany aatma maano, paramaatma ka mano to paramaatma mile bina tum ko chhode nahi!
waastav me aap paramaatmaa ke the, hai aur rahoge..

paramaatmaa chaahe to bhi aap ko apane se alag nahi kar sakate..kyo ki wo sarv vyaapak hai..to phir itanaa khula phayadaa kyo chhodate?


in dino me genhu+chaawal+jau+chanaa+mung+til aur udad in ka sambhaag mishran kar ke pisaa le aur is  ka katori me  ghol banaa ke is ubatan se nahaaye..seer par lagaaye , lalaat par tripund kar diya aur pure sharir par ragad  ke 5-10 minat baithe aur phir nahaaye to sharir ki sari garmi door ho jaayegi..ye punya daayi snan aap ko utasaahit  aur prasann karegaa..aaj nahaao aaj hi anubhav!aisa nahi ki yahaa puny karo aur bhavishy me phal milegaa aisa nahi 🙂

aap ka sat swarup gyan swarup aanand swarup aatma sukh rup hai..ye pakka karo aur vo paramaatmaa mujh se door nahi, durlabh nahi, pare nahi, paraayaa nahi…

man tu jyoti swarup apanaa mool pahechaan
apane sukh ke mool ko aap pahechaano..apane sukh swabhaav ka chintan karo…jo dusaro ko dukh dekar sukhi hona chaahate ve bade dukh ko bulaate hai..jo dusare ke dukh harane me, sanskruti ki sewa karane me aage badhate hai un ka dukh koyi badhaa nahi sakataa aur un ka sukh koyi chhin nahi sakataa..
koyi kitani bhi dhamaki de darane ki jarurat nahi hai..”om rhim om rhim” aapadaao ko haraane wala ye mahaa mantr apani rakshaa ke liye japoge …

  • taanrik athavaa mullaa ne kuchh kar diyaa to “om tam tam tam..” ye  mantr japo..jaise Ak 47 se goliyaa nikalati aise hi ye tam tam ka mantr taanrik ke tantro ko kaat ke phenk degaa..aap maje me rahenaa ! 🙂 darane ki jarurat nahi…
  • ghar me bhut pret ki baadhaa hai..athavaa bachcho pe bhut pret ki havaa lag jaati hai to us bhut ko aur baadhaa ko mitaane ke liye holika utsav ke dusare din dhulendi ko holi ki raakh ghar me rakh de..jis bachche ko upar ki havaa ka dar ho us ki naabhi me aur lalaat par us raakh se tilak karo to bhut pret ka prabhaav bhi gaayab ho jaayegaa…
  • najar lagane ka dar hai to ghode ke baal ko anguthi me madh ke paheraa do..najar-vajar chali jaayegi… 🙂
  • aap swasth raho..ye sab nahi karanaa ho to.. omkaar mahaa mantr ka viniyog ke sath prayog roj karo..omkar mantr, gaayatri chhand, paramaatmaa rishi , antaryaami devataa ..jis ke liye jap rahe us ka uchcharan karo aur om om om om uchcharan karo..2-3 minat hotho se japo, 2-3 minat kanth se japo phir 2-3 minat hruday japo.. phir plut omkaar japo…lambaa shwaas lekar oooooooooooooommmmmmmmmmmmmm ..aakhari me “m” ka uchcharan karate to hoth band hone chaahiye..is se tumhaare sharir ke 72 karod, 72 lakh 10 hajaar 201 …naadiyon me (200 bhi gine lekin 1 ko nahi chhoda!kaisa tumhara sanaatan gyan hai!duniyaa ke kisi majahab me aisa research nahi)…to sabhi naadiyon me omkar mantr ki saatvik aabhaa padati hai..phir tone-totake ka sawaal hi paidaa nahi hotaa..15 se 25-50 minat roj ye omkar mantr prayog karo to aap ko badaa aadami bananaa nahi padegaa..badappan jo hai, wo pragat hone lagegaa!!

kaay ko darate?ek sant to akele hai, saare ke saare  un par toot pade..phir bhi saare gaayab aur sant abhi bhi chamak rahe!..un ko mai jaanataa hun 🙂
( sadgurudev ji bhagavan ki mahaa jayjaykaar ho!)


nagapur ke satsang me gadakari(neta) aa kar baithe the..hum ne kahaa, tum nahi chaaho to bhi aur mai nahi chaahu to bhi tumhaari hamaari mulakaat aur bhi hone wali hai..rok sake to rok ke dikhaao…! 🙂   ..ye niyati hai… ye hotaa rahetaa hai…kaay ko daro? kaay ko gidgidaao?
praarabdh pahele bhayo pichhe bhayo sharir l
tulasi chinta kyaa kare bhaj le shri raghuvir ll

bhagavan ka sumiran karo aur bhagavan ki anant shaktiyon ke sath jud jaao..to aap saphal ho jaaoge..aap apana jeevan sukh-may , aanand-may karanaa chaahate to apane sukh-swarup aanand-swarup aur sadaa trupt -swarup ka chintan kijiye…
bhagavan gita me kahete :-

santushtam satatam yogi

bhogi satat santusht nahi rahe sakataa…bhog ki chije bhogate bhogate thak jata hai..thus ho jata hai..aur bhog ki chije chali naa jaaye is se bhaybhit rahetaa hai.. lekin jogi to mauj me rahetaa hai!
jogi re kya jadu hai tere gyan me, tere pyar me, tere relgaadi me.. 🙂


jogi ke sat-gyaan se hi agyaan ki lapate bujhati

sheetal-taa, shakti aur shaanti in ke dwaar pe milati


jogi re kya jadu hai tere gyaan me…


OM SHANTI
SADGURUDEV JI BHAGAVAN KI MAHAA JAY JAYKAAR HO!!!!!

Galatiyon ke liye Prabhuji kshamaa kare…

 

 

शीतलता , शक्ति और शांती  इन के द्वार पे मिलती..जोगी रे..

मुंबई(ऐरोली) ; 14मार्च२०११



मुंबई होली उत्सव

आप की जैसी मान्यता है, आप वैसे हो जाओगे..आप अपने को पापी मानोगे तो आप पाप से मुक्त नहीं हो सकोगे..आप अपने को दुखी मानोगे तो दुःख से मुक्त नहीं होगे..लेकिन आप अपने को चैत्यन्य आत्मा मानो, परमात्मा का मानो  तो परमात्मा मिले बिना तुम को छोड़े नहीं!
वास्तव में आप परमात्मा के थे, है और रहोगे..

परमात्मा चाहे तो भी आप को अपने से अलग नहीं कर सकते..क्यों की वो सर्व व्यापक है..तो फिर इतना खुला फायदा क्यों छोड़ते?


इन दिनों में गेंहू+चावल+जौ +चना+मुंग+तिल और उड़द इन का सम भाग मिश्रण कर के पिसा ले और इस  का कटोरी में  घोल बना के इस उबटन से नहाए..सीर पर लगाए , ललाट पर त्रिपुंड कर दिया और पुरे शरीर पर रगड़  के 5-10 मिनट बैठे और फिर नहाए तो शरीर की सारी गर्मी दूर हो जायेगी..ये पुण्य दाई स्नान आप को उत्साहित  और प्रसन्न करेगा..आज नहाओ आज ही अनुभव!ऐसा नहीं की यहाँ पुण्य  करो और भविष्य में फल मिलेगा ऐसा नहीं :)

आप का सत  स्वरुप ज्ञान स्वरुप आनंद स्वरुप आत्मा सुख रूप है..ये पक्का करो और वो परमात्मा मुझ से दूर नहीं, दुर्लभ नहीं, परे नहीं, पराया नहीं…

मन तू ज्योति स्वरुप अपना मूल पहेचान
अपने सुख के मूल को आप पहेचानो..अपने सुख स्वभाव का चिंतन करो…जो दूसरो को दुःख देकर सुखी होना चाहते वे बड़े दुःख को बुलाते है..जो दुसरे के दुःख हरने में, संस्कृति की सेवा करने में आगे बढ़ाते है उन का दुःख कोई बढ़ा नहीं सकता और उन का सुख कोई छीन नहीं सकता..
कोई कितनी भी धमकी दे , डरने की जरुरत नहीं है..  “ॐ  ह्रीं   ॐ ह्रीं ”      आपदाओं को हरने वाला ये महा मन्त्र अपनी रक्षा के लिए जपोगे …बस !

  • तांत्रिक  अथवा मुल्ला ने कुछ कर दिया तो “ॐ टम  टम  टम (ट के ऊपर बिंदी )  ..” ये  मन्त्र जपो..जैसे   एके  47 से गोलियां  निकलती ऐसे ही ये  ‘टम टम’ का मन्त्र  तांत्रिक  के तंत्रों को काट के फ़ेंक देगा..आप मजे में रहेना ! :) डरने की जरुरत नहीं…
  • घर में भुत प्रेत की बाधा है..अथवा बच्चो पे भुत प्रेत की हवा लग जाती है तो उस भुत को और बाधा को मिटाने के लिए होलिका उत्सव के दुसरे दिन धुलेंडी को होली की राख घर में रख दे..जिस बच्चे को ऊपर की हवा का डर  हो उस की नाभि में और ललाट पर उस राख से तिलक करो तो भुत प्रेत का प्रभाव भी गायब हो जाएगा…
  • नजर लगने का डर है तो घोड़े के बाल को अंगूठी में मढ़  के पहेरा दो..नजर- वजर चली जायेगी… :)
  • आप स्वस्थ रहो..ये सब नहीं करना हो तो.. ओमकार महा मन्त्र का विनियोग के साथ प्रयोग रोज करो..ओमकार मन्त्र, गायत्री छंद, परमात्मा ऋषि , अन्तर्यामी देवता ..जिस के लिए जप रहे उस का उच्चारण करो और ॐ ॐ ॐ ॐ उच्चारण करो..2-3 मिनट होठो से जपो, 2-3 मिनट कंठ से जपो फिर 2-3 मिनट ह्रदय में जपो.. फिर प्लुत ओमकार जपो…लंबा श्वास लेकर ओ sssssssss मम्म  ..आखरी में “म” का उच्चारण करते तो होठ बंद होने चाहिए..इस से तुम्हारे शरीर के 72 करोड़, 72 लाख 10 हजार 201 …नाडीयों में (200 भी गिने लेकिन 1 को नहीं छोड़ा!कैसा तुम्हारा सनातन ज्ञान है!दुनिया के किसी मजहब में ऐसा रिसर्च  नहीं)…तो सभी नाडीयों में ओमकार मन्त्र की सात्विक आभा पड़ती है..फिर टोने-टोटके का सवाल ही पैदा नहीं होता..15 से 25-50 मिनट रोज ये ओमकार मन्त्र प्रयोग करो तो आप को बड़ा आदमी बनना नहीं पडेगा..बड़प्पन जो है, वो आप में अपने आप प्रगट होने लगेगा!!

काय को डरते?

एक संत तो अकेले है, सारे के सारे  उन पर टूट पड़े..फिर भी सारे गायब और संत अभी भी चमक रहे!..उन को मैं  जानता हूँ :)
( सदगुरुदेव जी भगवान की महा जयजयकार हो!)


नागपुर के सत्संग में  गडकरी (नेता) आ कर बैठे थे..हम ने कहा, तुम नहीं चाहो तो भी और मैं  नहीं चाहू तो भी तुम्हारी हमारी मुलाकात और भी होने वाली है..रोक सके तो रोक के दिखाओ…! :) ..ये नियति है… ये होता रहेता है…काय को डरो ? काय को गिड़गिडाओ ?
प्रारब्ध पहेले भयो पीछे भयो शरीर  l
तुलसी चिंता क्या करे भज ले श्री रघुवीर ll

भगवान का सुमिरन करो और भगवान की अनंत शक्तियों के साथ जुड़ जाओ..तो आप सफल हो जाओगे..आप अपना जीवन सुख-मय , आनंद-मय करना चाहते तो अपने सुख-स्वरुप आनंद-स्वरुप और सदा तृप्त -स्वरुप का चिंतन कीजिये…
भगवान गीता में कहेते :-

संतुष्टम  सततं     योगी   l

भोगी सतत संतुष्ट नहीं रहे सकता…भोग की चीजे भोगते भोगते थक जाता है..ठूस हो जाता है..और भोग की चीजे चली ना जाए इस से भयभीत रहेता है.. लेकिन जोगी तो मौज में रहेता है!
जोगी रे क्या जादू है तेरे ज्ञान में, तेरे प्यार में, तेरे रेलगाड़ी में.. :)


जोगी के सत-ज्ञान से ही अज्ञान की लपटे बुझती

शीतलता, शक्ति और शांती इन के द्वार पे मिलती


जोगी रे क्या जादू है तेरे ज्ञान में…


ॐ शांती
सदगुरुदेव जी भगवान की महा जय जयकार हो!!!!!

गलतियों के लिए प्रभुजी क्षमा करे…


Advertisements
Explore posts in the same categories: Pujya Bapuji

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s


%d bloggers like this: