Pujyashri Sadgurudev ji ka Sandesh

Nagpur, 12March2011 ; Dopaher ka satr.
aanewale 8 dino me sunaami jaisa–bhukamp jaisa aapatkaal  kahi bhi ho sakataa hai aisa vigyaniyon ka ishara hai..
desh-pardesh me ye  nagpur ka satsang sun rahe hai vo sabhi bhakt un ko mai(Pujyashri Sadgurudev ji Bhagavan Santshri Asaram Bapuji) ye apeal karataa hun ki  aanewale 8 dino me vigyaniyon ne sunami bhukamp jaise aapatti ka ishara  diya hai ..lekin Ishwar ka ashray lekar aap logo ka shubh sankalp aanewali aapadaao ka rukh badal sakataa hai…ye bilkul aap ke hath ki baat hai..!!jaise rajgopalachary ne madras me sukhaa padane par(1956 me) Ishwar ka ashray liya..un ki prarthana se aisi baarish huyi ki  red stone lake overflow hokar aisa bahane lagaa ki madras ke sadako par naave chalaani padi thi..athavaa vidyapati ji ne Ishwar ka ashray lekar  gangaa ji ka rukh badal diya thaa..aise hi rajgopalachari, naag mahaashay athavaa vidyapati ji ne jaise  Ishwar ke ashray se  shubh sankalp saakaar kar dikhaya aisa aap logo ka shubh sankalp aanewali aapadaao ka rukh badal sakataa hai…isliye bhagavan ki prarthana, bhagavan par vishwaas aur apanaa purushaarth ka ashray le.

kuchh saal pahele gujrath me samudr tatvarti tuphaan aanewala tha..gujarath sarakaar ne bahut kuchh taiyyariyaa kar rakhi thi..lekin kuchh aisi unchi aatma ka aisa shubh sankalp tha to us sunaami ka rukh badalaa aur baad me be-mosam baarish ke rup me vo baadal aur sunaami rajsthan aur gujrath ke ilaako me dhan-dhaany ka nimitt banaa..ve sant apanaa naam nahi bataayenge , kaam nahi bataayenge lekin sant ke shubh sankalp se aapadaao ka shuli me se kaanta ho sakataa hai ..isliye bhagavan ki prarthana, bhagavan par vishwaas aur apanaa purushaarth ka ashray le.

OM SHANTI.

SADGURUDEV JI BHAGAVAN KI MAHAA JAYAJAYKAAR HO!!!!!

Galatiyon ke liye Prabhuji kshamaa kare…

 

आनेवाले 8 दिनों में सुनामी जैसा –भूकंप जैसा आपातकाल कही भी हो सकता है ऐसा विज्ञानियों का इशारा है ..
देश -परदेश में ये नागपुर का सत्संग सुन रहे है वो सभी भक्त उन को मई (पुज्यश्री सदगुरुदेव जी भगवान संतश्री आसाराम बापूजी ) ये अपील करता हूँ की आनेवाले 8 दिनों में विज्ञानियों ने सुनामी भूकंप जैसे आपत्ति का इशारा दिया है ..लेकिन इश्वर का आश्रय लेकर आप लोगो का शुभ संकल्प आनेवाली आपदाओं का रुख बदल सकता है …ये बिलकुल आप के हाथ की बात है ..!!जैसे राजगोपालाचारी ने मद्रास में सुखा पड़ने पर (1956 में ) इश्वर का आश्रय लिया ..उन की प्रार्थना से ऐसी बारिश हुयी की रेड स्टोन लेक ओवरफ्लो होकर ऐसा बहने लगा कि मद्रास के सड़को पर नावे चलानी पड़ी थी ..अथवा विद्यापति जी ने इश्वर का आश्रय लेकर गंगा जी का रुख बदल दिया था ..ऐसे ही राजगोपालाचारी , नाग महाशय अथवा विद्यापति जी ने जैसे इश्वर के आश्रय से शुभ संकल्प साकार कर दिखाया ऐसा आप लोगो का शुभ संकल्प आनेवाली आपदाओं का रुख बदल सकता है …इसलिए भगवान की प्रार्थना , भगवान पर विश्वास और अपना पुरुषार्थ का आश्रय लें .

कुछ साल पहेले गुजरात में समुद्र तटवर्ती तूफान आनेवाला था ..गुजरात सरकार ने बहुत कुछ तैयारिया कर रखी थी ..लेकिन कुछ ऐसी ऊँची आत्मा का ऐसा शुभ संकल्प था तो उस सुनामी का रुख बदला और बाद में बे -मौसम बारिश के रूप में वो बादल और सुनामी राजस्थान और गुजरात के इलाको में धन -धान्य का निमित्त बना ..वे संत अपना नाम नहीं बताएँगे , काम नहीं बताएँगे लेकिन संत के शुभ संकल्प से आपदाओं का शूली में से काँटा हो सकता है ..इसलिए भगवान की प्रार्थना , भगवान पर विश्वास और अपना पुरुषार्थ का आश्रय लें .

ॐ शांति .

सदगुरुदेव जी भगवान की महा जय जयकार हो !!!!!

गलतियों के लिए प्रभुजी क्षमा करे …

Advertisements
Explore posts in the same categories: Pujya Bapuji

3 Comments on “Pujyashri Sadgurudev ji ka Sandesh”


  1. आनेवाले 8 दिनों में सुनामी जैसा –भूकंप जैसा आपातकाल कही भी हो सकता है ऐसा विज्ञानियों का इशारा है ..
    देश -परदेश में ये नागपुर का सत्संग सुन रहे है वो सभी भक्त उन को मई (पुज्यश्री सदगुरुदेव जी भगवान संतश्री आसाराम बापूजी ) ये अपील करता हूँ की आनेवाले 8 दिनों में विज्ञानियों ने सुनामी भूकंप जैसे आपत्ति का इशारा दिया है ..लेकिन इश्वर का आश्रय लेकर आप लोगो का शुभ संकल्प आनेवाली आपदाओं का रुख बदल सकता है …ये बिलकुल आप के हाथ की बात है ..!!जैसे राजगोपालाचारी ने मद्रास में सुखा पड़ने पर (1956 में ) इश्वर का आश्रय लिया ..उन की प्रार्थना से ऐसी बारिश हुयी की रेड स्टोन लेक ओवरफ्लो होकर ऐसा बहने लगा कि मद्रास के सड़को पर नावे चलानी पड़ी थी ..अथवा विद्यापति जी ने इश्वर का आश्रय लेकर गंगा जी का रुख बदल दिया था ..ऐसे ही राजगोपालाचारी , नाग महाशय अथवा विद्यापति जी ने जैसे इश्वर के आश्रय से शुभ संकल्प साकार कर दिखाया ऐसा आप लोगो का शुभ संकल्प आनेवाली आपदाओं का रुख बदल सकता है …इसलिए भगवान की प्रार्थना , भगवान पर विश्वास और अपना पुरुषार्थ का आश्रय लें .

    कुछ साल पहेले गुजरात में समुद्र तटवर्ती तूफान आनेवाला था ..गुजरात सरकार ने बहुत कुछ तैयारिया कर रखी थी ..लेकिन कुछ ऐसी ऊँची आत्मा का ऐसा शुभ संकल्प था तो उस सुनामी का रुख बदला और बाद में बे -मौसम बारिश के रूप में वो बादल और सुनामी राजस्थान और गुजरात के इलाको में धन -धान्य का निमित्त बना ..वे संत अपना नाम नहीं बताएँगे , काम नहीं बताएँगे लेकिन संत के शुभ संकल्प से आपदाओं का शूली में से काँटा हो सकता है ..इसलिए भगवान की प्रार्थना , भगवान पर विश्वास और अपना पुरुषार्थ का आश्रय लें .

    ॐ शांति .

    सदगुरुदेव जी भगवान की महा जय जयकार हो !!!!!

    गलतियों के लिए प्रभुजी क्षमा करे …


Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s


%d bloggers like this: