satpurushon ka baal na baanka, mare naa maaraa jaay!

Bramhagyani Santshri Param Pujya Asaram Bapuji Bhivani vyasapith se..

Bhivani (Harayana);3Dec.2010.

(please watch this video on :-

http://www.youtube.com/watch?v=wcZSTlxLrys&feature=youtube_gdata )

Swaagat

Pujyashri ka Bhavaani ke dharaa par bhakton ne aadar, prem , utsaah aur aanand se hasate naachate gaate ulhaas se shobha yaatraa dwara swaagat kiyaa..
katha kirtan jya ghar bhayo

sant bhayo mehmaan

vaa ghar prabhu waasaa kino,

vo ghar vaikunth samaan!

budhdi ko agar bhagavan me lagaat eho to aap ka hruday vaikunth ho jata hai..
budhdi ko agar dwesh aur paap me lagaate ho to narak ban jata hai..

budhdi ko agar bhagavat prem me lagaate ho , bhagavat gyan me lagaate ho to aap ka hruday bhagavat-may ban jata hai..

budhdi ko agar lobh me lagaate ho aap ka chitt aur budhdi lobhaakaar ban jaati hai..

bhagavan ne jo budhdi diya hai, us se aap apanaa bhutkaal ka dukh mitaao…beet gayaa so beet gayaa..bite huye ko yaad kar ke jo dukh hota hai, us ko mitaane ke liye budhdi hai…jo ab nahi hai, us ko yaad kar ke pichhe pith ke bal kyu giranaa?aur jo abhi nahi aayaa hai to bhavishy me aisa ho jaayegaa aisaa bhay kar ke munh ke bal kyu giranaa?


sant ka singaar

(pujya bapuji hamesha ki tarah vyaspith par chandan ka tilak kiye 🙂  )

O maa mahengibaa ke Laal

chandan ka tilak! jo bahagavan ki yaad dilaataa hai..

tu kar mat itanaa singaar

nazar tohe lag jaayegi…

bhavaishya ke vichaaro me dubate athavaa bhutkala me girate ye budhdi nahi…bhagavaan ne budhdi di hai to bhutkaal ka vichaar kar ke apane ko giraao mat, bhavishy ka bhay kar ke  tanaav se bhar jaao mat…aur vartmaan ke vichaaro me gheer ke tuchchh bano mat..
abhi 12 dec 2010 aayegaa, us din ravivaari saptami hai, us din kiyaa huaa jap 10 hajaar gunaa phal deta hai…

budhdi diyaa hai to us ka upyog kar ke bhagavaan ki di huyi shaktiyon ko jagaao..bhagavaan ki priti ko jagaao, bhagavan ke gyan ke jagaao aur bhagavan ke swabhaav ko jagaao…kaam ka swabhaav kamar todegaa…
krodh ka swabhaav dil jalaayegaa…
lobh aayega to phasaayegaa..
moh aayegaa to chintaa me daalegaa…
ahankaar aayegaa to raawan jaise ko thokar khani padati hai..

isliye budhdi me bhagavan ka gyan aaye…to gyan kahaa se aayegaa?satsang se..

binu satsang vivek naa hoyi — bhagavat prapti ka vivek satsang ke bina nahi hota…

is jeev ne 5 kalpanaao ke vastr pahen rakhe hai…raag ke dwesh ke abhinivesh ke mamataa ke aur ahantaa ke ….bhagavaan ne gyaan dekar vo vastr hataaye to apanaa aapaa bepardaa huaa…us shahenshahaa aatma ka mukhadaa dekhaa!tab gyan hua aki maranewala sharir mai nahi hun..sharir marataa hai phir bhi mai rahetaa hun…dukhi honewala man mai nahi hun…man me dukh aata hai, chalaa jata hai us ko bhi mai jaanataa  hun…chintaa karanewala chitt mai nahi hun…chintaa aati hai, nigudi chali jaati hai…hum hai apane aap, har paristhiti ke baap!!…ye bhagavan ne kalpanaao ke vastr-haran kiye the…lekin pande  bolenge ki yahaa laalaa ne gopiyon ke cheer-haran kiye the , yahaa maththaa teko, dakshina dharo…to tirtho me bhi ye galat kaam ho rahaa hai…isliye satsang ke bina bhagavan ka gyan bhagavan ki priti aur bhagavat-may budhdi nahi banati..


ab mai tumhaari class lunga.. 🙂 tum bolanaa..
kabiraa kutta ram ka ..apan aise bolate to bahot paap lagataa, lekin kabir ji ne bola hai aur apan un se kuchh sikhane ke liye un ko yaad karate hai..apan kabir ji ko ye drushti ko nahi dekh rahe is liye paap nahi lagegaa.., sant ke liye aisa nafarat se bolate to paap lagegaa…to yahaa kabir ji ne swayam ke liye aisa bola hai :-

kabira kutta raam ka

motiyaa mera naam

gale naam ki jewari(rassi)

jeeth khinche tith jaaun

tu tu kare to baanwaraa

hud-dhut kare to hut jaaun

jo dewe so khaaun

jahaa raakhe rahe jaaun


matalab apani koyi fikr nahi hai, jaise pala huaa kutta maan kar hum bhagavan ke ho jaaye..pyaar karate to khush ho jaate aur jaraa aankh dikhaate-vipatti dete to bhaag jaate, toba ho jaate… aisa kabir ji kahe rahe…kabir ji aisa bhi kahe rahe aur vo bhi kabir ji kahe rahe ki :-
bhalaa huaa hari bisaro
seer se tali balaa
mukh se japu naa kar se japu
oor se japu naa raam
raam sadaa hum ko jape
hum paawe vishraam !!

Pujyashri class le rahe.. 🙂

budhdi me bhagavan me lage to budhdi ka vikaas hota hai badi teji se..duniyaa bhar ke certifikiton se utanaa bhalaa nahi hota, jitanaa sant aur bhagavaan me budhdi lagaane se hota hai…

pahele to hum K.G. chalaate the , ab K.G. band kar diyaa..middle class, high school, college aur phir dhakka maar ke P.hd. !
phataaphat aage badho!!

ekdum sidhaa helicopter se, havaayi jahaaj se upar udo…aisi hum saadhako ki teji se unnati chaahate hai….isliye ye sawaal le aaye hai ki kabir ji aisa kyu kahe rahe hai , is me budhdi lagaao…
budhdi bhagavan ne dukh mitaane ke liye di hai,

budhdi di hai bhagavan ne bandhan chudaane ke liye..
budhdi di hai bhagavaan ne bhagavan se milane ke liye…
sansaar me phasane ke liye budhdi nahi di hai…dukh me phasane ke liye budhdi nahi di hai..
kabir ji kahete ki mai bhagavan ka kutta hun aur vo hi kabir ji kahete ki bhalaa ho gayaa hari bisaro..raam sadaa hum ko jape hum paawe vishram..to is me budhdi ko lagaao…is se budhdi aap ki bhagavan me lagegi…to khub badhiyaa budhdi hogi…
chintaa me budhdi lagane se tabiyat kharaab ho jaati..sree-purushon me budhdi lagane se kaam -vikaar hota hai..sansaar me budhdi lagane se budhdi ladkhadaane lagati hai..bhagavan me budhdi lagane se bhagavan ka dhyan ho jata hai…
bahot bada abhaari phayadaa hai..jitani unchi chij me budhdi lagati utanaa kum parishram aur unchaa phayadaa..
bhagavan ki bhaavanaa karate lekin bhagavan me budhdi nahi lagaa paate…
bhagavan kahete hai jo mujhe priti purvak bhajataa hai us ko mai budhdi yog deta hun…

bhajaami pritipurvakam dadaami budhdiyogam tam yen maam upayaantite…
jo mujhe pritipurvak bhajataa hai us ko mai budhdiyog detaa hun..aur vo mujhe paa letaa hai..
bhagavaan ke paas jana nahi hai,

bhagavan ko bulana nahi hai,

bhagavan to hajirahujur maujud hai, kewal us ko pahechaahane ki budhdi banaanaa hai…

dukh se bhaaganaa nahi hai, aur dukhi hokar giranaa nahi hai..kewal dukh ke seer par pair rakhanewali budhdi banaanaa hai..
sukh se bhaaganaa nahi hai, sukh bhogi hokar thoos hona nahi hai , kewal sukh ka budhdi purvak upyog kar ke param sukh swarup ko sadaa ke liye paa lenaa hai..

sant-bhagavant haasy!

hasibo khelibo dharibo dhyaan!hasate khelate us chaityany ka budhdi me dhyan karo..


nukte ki her-fer me khudaa se judaa huaa

nukta agar upar rakh de to juda se khudaa huaa


(urdu aur sindhi me bindi niche di juda shabd hota hai aur bindi upar lagaayi to khuda shabd ban jata hai)
apanaa mai jab sharir me rakhaa to juda ho gayaa aur apana mai maalik me mila diya to khuda ho gayaa!

kabir ji kahete ki
motiyaa mera naam

gale naam ki jewari(rassi)

jeeth khinche tith jaaun
tu tu kare to baanwaraa

hud-dhut kare to hut jaaun

jo dewe so khaaun

jahaa raakhe rahe jaaun
aisi bhagavat priti kar ke waasanaa ki iti kar di to hruday me bhagavan hi bhagavan rahe gaye…
phir kabir ji bolate ki:-

bhalaa huaa hari bisaro

seer se tali balaa

mukh se japu naa kar se japu
oor se japu naa raam
raam sadaa hum ko jape
hum paawe vishraam !!
raam mare to hum mare hamaari mare balaa

satpurushon ka baal na baanka mare naa mara jaay!
kitani unchaayi hai us mahaapurush ki !

jitanaa samarpan hai utani hi unchayai hai!

jitana samarpan hai utanaa hi gyan hai!!

aur jitana gyan hai utani unchaayi hai!!

sadguru mera suramaa

kare shabd ki chot

maare gola prem ka

hare bharam ki pot
ye bharam ho gayaa hai ki mai sharir hun, ye sansaar mera hai..vaastav me mai aatma hun aur paramaatma mera hai!  ashtadaa prakruti se aap ka “mai” alag hai..aisa chintan kar ke oooooooooooooooommmmmmmmmmmmmmm  ka plut uchcharan karo roj 15 minute…ye jap karane se urja badhegi…

OM SHANTI.

SADGURUDEV JI BHAGAVAN KI JAY HO!!!!!

Galatiyon ke liye prabhuji kshamaa kare…

 

सत्पुरुषों का बाल न बांका, मरे ना मारा जाय!

ब्रम्हज्ञानी संतश्री परम पूज्य आसाराम बापूजी भिवानी व्यासपीठ  से..

भिवानी (हरियाणा);३ दिसम्बर .2010.

 

(इस सत्संग विडियो के लिए कृपया यहाँ पधारे  :-

http://www.youtube.com/watch?v=wcZSTlxLrys&feature=youtube_gdata )

स्वागत

पुज्यश्री का भवानी के धरा पर भक्तों ने आदर, प्रेम , उत्साह और आनंद से हसते नाचते गाते उल्हास से शोभा यात्रा द्वारा स्वागत किया..
कथा कीर्तन ज्या  घर भयो

संत भयो मेहमान

वा घर प्रभु वासा कीनो,

वो घर वैकुण्ठ समान!

बुध्दी को अगर भगवान में लगाते  हो तो आप का ह्रदय वैकुण्ठ हो जाता है..
बुध्दी को अगर द्वेष और पाप में लगाते हो तो नरक बन जाता है..

बुध्दी को अगर भगवत प्रेम में लगाते हो , भगवत ज्ञान में लगाते हो तो आप का ह्रदय भगवत-मय बन जाता है..

बुध्दी को अगर लोभ में लगाते हो आप का चित्त और बुध्दी लोभाकार बन जाती है..

भगवान ने जो बुध्दी दिया है, उस से आप अपना भूतकाल का दुःख मिटाओ…बीत गया सो बीत गया..बीते हुए को याद कर के जो दुःख होता है, उस को मिटाने के लिए बुध्दी है…जो अब नहीं है, उस को याद कर के पीछे पीठ के बल क्यों गिरना?और जो अभी नहीं आया है तो भविष्य में ऐसा हो जाएगा ऐसा भय कर के मुंह के बल क्यों गिरना?


संत का सिंगार

(पूज्य बापूजी हमेशा की तरह व्यासपीठ  पर चन्दन का तिलक किये :) )

ओ माँ महेंगिबा के लाल

चन्दन का तिलक! जो भगवान की याद दिलाता है..

तू कर मत इतना सिंगार

नज़र तोहे लग जायेगी…

भविष्य के विचारों में डूबते अथवा भूतकाल  में गिरते ये बुध्दी नहीं…भगवान ने बुध्दी दी है तो भूतकाल का विचार कर के अपने को गिराओ मत, भविष्य का भय कर के  तनाव से भर जाओ मत…और वर्तमान के विचारों में घिर के तुच्छ बनो मत..
अभी 12 दिसंबर  2010 आयेगा, उस दिन रविवारी सप्तमी है, उस दिन किया हुआ जप 10 हजार गुना फल देता है…

बुध्दी दिया है तो उस का उपयोग कर के भगवान की दी हुयी शक्तियों को जगाओ..भगवान की प्रीति  को जगाओ, भगवान के ज्ञान के जगाओ और भगवान के स्वभाव को जगाओ…

काम का स्वभाव कमर तोड़ेगा…
क्रोध का स्वभाव दिल जलाएगा…
लोभ आएगा तो फसायेगा..
मोह आयेगा तो चिंता में डालेगा…
अहंकार आयेगा तो रावण  जैसे को ठोकर खानी पड़ती है..

इसलिए बुध्दी में भगवान का ज्ञान आये…तो ज्ञान कहा से आयेगा?सत्संग से..

बिनु सत्संग विवेक ना होई  – भगवत प्राप्ति का विवेक सत्संग के बिना नहीं होता…

इस जीव ने 5 कल्पनाओं के वस्त्र पहेन  रखे है…राग के, द्वेष के, अभिनिवेश के, ममता के और अहंता के ….भगवान ने ज्ञान देकर वो वस्त्र हटाये तो अपना आपा बेपर्दा  हुआ…उस शहेंशहा आत्मा का मुखडा देखा!…..तब ज्ञान हुआ की मरनेवाला शरीर मैं  नहीं हूँ..शरीर मरता है फिर भी मैं  रहेता हूँ…दुखी होनेवाला मन मैं  नहीं हूँ…मन में दुःख आता है, चला जाता है उस को भी मैं  जानता  हूँ…चिंता करनेवाला चित्त मैं  नहीं हूँ…चिंता आती है, निगुडी  चली जाती है…हम है अपने आप, हर परिस्थिति के बाप!!… भगवान ने ये कल्पनाओं के वस्त्र-हरण किये थे…लेकिन पण्डे  बोलेंगे की यहाँ लाला ने गोपियों के चीर-हरण किये थे , यहाँ मथ्था टेको, दक्षिणा धरो…तो तीर्थो में भी ये गलत काम हो रहा है…इसलिए सत्संग के बिना भगवान का ज्ञान भगवान की प्रीति  और भगवत-मय  बुध्दी  नहीं बनती..

अब मैं  तुम्हारी क्लास लूँगा.. :) तुम बोलना..
कबीरा कुत्ता राम का ..अपन ऐसे बोलते तो बहोत पाप लगता, लेकिन कबीर जी ने बोला है और अपन उन से कुछ सिखने के लिए उन को याद करते है..अपन कबीर जी को ये दृष्टी को नहीं देख रहे इस लिए पाप नहीं लगेगा.., संत के लिए ऐसा नफ़रत से बोलते तो पाप लगेगा…तो यहाँ कबीर जी ने स्वयं के लिए ऐसा बोला है :-

कबीरा कुत्ता राम का

मोतिया मेरा नाम

गले नाम की जेवरी(रस्सी)

जीत खींचे तित जाऊं


तू तू करे तो बांवरा

हुड-धुत करे तो हट जाऊं

जो देवे सो खाऊं

जहा राखे रहे जाऊं


मतलब अपनी कोई फ़िक्र नहीं है, जैसे पाला हुआ कुत्ता मान कर हम भगवान के हो जाए..प्यार करते तो खुश हो जाते और ज़रा आँख दिखाते-विपत्ति देते तो भाग जाते, तोबा हो जाते… ऐसा कबीर जी कहे रहे…कबीर जी ऐसा भी कहे रहे और वो भी कबीर जी कहे रहे की :-

भला हुआ हरी बिसारो
सीर से टली बला
मुख से जपु ना कर से जपु
उर से जपु ना राम
राम सदा हम को जपे
हम पावे विश्राम !!

पुज्यश्री क्लास ले रहे.. :)

बुध्दी में भगवान में लगे तो बुध्दी का विकास होता है बड़ी तेजी से..दुनिया भर के सर्टिफिकेट   से उतना भला नहीं होता, जितना संत और भगवान में बुध्दी लगाने से होता है…

पहेले तो हम केजी   चलाते थे , अब केजी   बंद कर दिया..मिडील  क्लास, हाई स्कूल, कॉलेज और फिर धक्का मार के पि .एच डी . !
फटाफट आगे बढ़ो!!

एकदम सीधा हेलिकॉप्टर से, हवाई जहाज से ऊपर उडो …ऐसी हम साधको की तेजी से उन्नति चाहते है….इसलिए ये सवाल ले आये है की कबीर जी ऐसा क्यों कहे रहे है , इस में बुध्दी लगाओ…
बुध्दी भगवान ने दुःख मिटाने के लिए दी है,

बुध्दी दी है भगवान ने बंधन छुड़ाने के लिए..
बुध्दी दी है भगवान ने भगवान से मिलाने के लिए…
संसार में फसाने के लिए बुध्दी नहीं दी है…दुःख में फसाने के लिए बुध्दी नहीं दी है..
कबीर जी कहेते की मैं  भगवान का कुत्ता हूँ और वो ही कबीर जी कहेते की भला हो गया हरी बिसारो..राम सदा हम को जपे हम पावे विश्राम..तो इस में बुध्दी को लगाओ…इस से बुध्दी आप की भगवान में लगेगी…तो खूब बढ़िया बुध्दी होगी…
चिंता में बुध्दी लगाने से तबियत खराब हो जाती.स्त्री -पुरुषों में बुध्दी लगाने से काम -विकार होता है..संसार में बुध्दी लगाने से बुध्दी लडखडाने लगती है..भगवान में बुध्दी  लगाने से भगवान का ध्यान हो जाता है…
बहोत बड़ा भारी फायदा है..जीतनी ऊँची चीज में  बुध्दी  लगती उतना कम परिश्रम और उंचा फायदा..
भगवान की भावना करते लेकिन भगवान में बुध्दी नहीं लगा पाते…
भगवान कहेते है जो मुझे प्रीति  पूर्वक भजता है उस को मैं  बुध्दी योग देता हूँ…भजामि प्रितिपुर्वकम ददामि बुध्दियोगम तम येन माम उपयान्तिते…
जो मुझे प्रीतिपूर्वक भजता है उस को मैं  बुध्दियोग देता हूँ..और वो मुझे पा लेता है..
भगवान के पास जाना नहीं हैभागावन को बुलाना नहीं है

भगवान  तो हजिराहुजुर मौजूद है, केवल उस को पहेचान ने की बुध्दी बनाना है…

दुःख से भागना नहीं है, और दुखी होकर गिरना नहीं है..केवल दुःख के सीर पर पैर रखनेवाली बुध्दी बनाना है..
सुख से भागना नहीं है, सुख भोगी होकर ठूस होना नहीं है , केवल सुख का बुध्दी पूर्वक उपयोग कर के परम सुख स्वरुप को सदा के लिए पा लेना है..

संत-भगवंत हास्य!

हसिबो खेलिबो धरिबो ध्यान!हसते खेलते उस चैत्यन्य का बुध्दी में ध्यान करो..


नुक्ते की हेर-फेर में खुदा से जुदा हुआ

नुकता अगर ऊपर रख दे तो जुदा से खुदा हुआ


(उर्दू और सिन्धी में बिंदी निचे दी तो  ‘जुदा’ शब्द होता है और बिंदी ऊपर लगाई तो  ‘खुदा’  शब्द बन जाता है)
अपना मैं  जब शरीर में रखा तो खुदा से जुदा  हो गया और अपना मैं  मालिक में मिला दिया तो खुदा हो गया!

कबीर जी कहेते की:-


मोतिया मेरा नाम

गले नाम की जेवरी(रस्सी)

जीत खींचे तित जाऊं

तू तू करे तो बांवरा

हुड-धुत करे तो हट जाऊं

जो देवे सो खाऊं

जहा राखे रहे जाऊं


ऐसी भगवत प्रीति कर के वासना की इती  कर दी तो ह्रदय में भगवान ही भगवान रहे गए…

फिर कबीर जी बोलते की:-

भला हुआ हरी बिसारो

सीर से  टली बला

मुख से जपु ना कर से जपु

उर से जपु ना राम

राम सदा हम को जपे

हम पावे विश्राम !!

राम मरे तो हम मरे, हमारी मरे बला

सत्पुरुषों का बाल न बांका,  मरे ना मारा जाय!


कितनी ऊँचाई है उस महापुरुष की !

जितना समर्पण है उतनी ही ऊँचाई  है!

जितना समर्पण है उतना ही ज्ञान है!!

और जितना ज्ञान है उतनी ऊँचाई है!!

सद्गुरु मेरा सुरमा

करे शब्द की चोट

मारे गोला प्रेम का

हरे भरम की पोट

ये भरम हो गया है की मैं  शरीर हूँ, ये संसार मेरा है..वास्तव में मैं  आत्मा हूँ और परमात्मा मेरा है!  अष्टदा    प्रकृति से आप का “मैं ” अलग है..ऐसा चिंतन कर के ओ sssssssssssssss म   का प्लुत उच्चारण करो रोज 15 मिनट…ये जप करने से उर्जा बढ़ेगी…

ॐ शांति.

सदगुरुदेव जी भगवान की जय हो!!!!!

गलतियों के लिए प्रभुजी क्षमा करे…



Advertisements
Explore posts in the same categories: Pujya Bapuji

One Comment on “satpurushon ka baal na baanka, mare naa maaraa jaay!”

  1. Santosh K Rastogi Says:

    Satgurudev Bhagavaan ki Jai !


Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s


%d bloggers like this: