TATV Gyan se Ishwar Prapti:ekantsatsang amrut

Bramhgyani Santshri Param Pujya Asaram Bapuji from Rajokari ashram

Rajokari Ashram, 29/11/2010 raat ko 8.30baje…

( Param Dayaloo krupa sindhu karunymurti sadguru bhagavan MAULI un ke pyar bachhado ko gyan ka amrut pilaaye bina kaise ekant me bhi rahe sakati hai?…Bramhisthiti ki aanand aur vishranti ki ni:sankalp awastha ki nuraani masti se kuchh der ke liye hi sahi hamaare pyareji Sadgurudev ji Bhagavan humhe bhi wahi le jaa rahe hai, jahaa aapshri sthit hai….chaliye saadhako , ham sabhi ki apani apani gati to hai, lekin jab Pujyashri Bapuji ke tatvgyan ke havaayi jahaaj me baith jaate hai to sab ki gati badal ke Bapuji jaise le jana chahate waise hi um bhi chalane lagate hai…aayiye..chaliye…ye sundar awasar naa khoyiye…. is satsang amrut ka video dekhane ke liye krupayaa yahaa padhare:

http://www.youtube.com/watch?v=SMRBoWnxL0s&feature=youtube_gdata )

OM OM OM OM OM OM..

NARAYAN NARAYAN NARAYAN NARAYAN…

ishwar ke paaaye bina kuchh bhi paya to tikega nahi..ishwar mitega nahi, sansaar tikega nahi..
dukh chandaal hai, dukh ko nahi chaahate…sukh bhaag jata hai sukh ko chaahate hai…sukh nahi tikataa, dukh aa jata hai…lekin dukh bhi nahi tikega…jawani bhi nahi tikegi…budhaapaa bhi nahi tikegaa…maut ki prakriyaa bhi nahi tikegi..agar tikanewala koyi hai to tumhara aatmdev hai..
us aatmdev ko nahi paya to us ko chhod kar kuchh bhi paya to bhi samay ki dhara me naganya ho jaayegaa..aur aatmdev ko paya to baahar se kuchh bhi nahi paya lekin phir bhi sab kuchh us ne paa liyaa..sab tirth me nahaa liya, sab yagy kar liye, sab daan kar liye..

snaanat te na sarv tirtham

daatam te na sarv daanam

krutam te na sarv yagyam
ye na kshanam man bramhavicharen sthiram krutvaa

kshan bhar ke liye bhi us bramh paramaatma me man tik gayaa to bas…us ki bhukh lag jaaye…kshamaa ka gun aa jaaye, sanyam ka gun aa jaaye..aur us ko pane ka irada pakka ho jaaye to chutaki bajaate milataa hai…

jagat ka pane ka irada ho jaaye, nahi milataa hai jagat..us ke liye iraade ke sath mehanat bhi karo..phir mahol anukul ho..tab kuchh milata hai , lekin tikataa nahi hai..
aur paramaatma milate hai to chhutate nahi hai…
vo paramaatmaa apanaa aatmrup ho kar baithaa hai..us ki hi chetanaa se netro ki vrutti baahar jati hai, us ki hi chetana se man ke sankalp vikalp hote hai..usi satchidanand ki krupa se rakt sanchaar ho rahaa hai..usi parameshwar ki satta se maa ke sharir me dudh banataa hai..
to vo gyan swarup hai..jaanataa hai..vyakti ki naayi nahi jaanataa…
pair nahi hai bhagavan ke paas, kaan nahi hai , hath bhi nahi hai…lekin sabhi hath,pair, kaanwalon ko chalaataa wo hi hai!! 🙂
binu pad chale, sune binu kana

binu kar karm kare sohe vidhu nana
use ke  hath nahi hai, lekin sare hath ke dwara wo hi kaam karataa hai..kaan bhi nahi hai, sabhi kaano ke dwara wo hi sunane ki satta deta hai..
koyi gun nahi hai, saare gun usi se utpann hote hai..
koyi aakaar nahi hai, saare aakaar usi se utpann hote hai..
aur vo jo us ko apanaa maan kar priti purvak bhajataa hai to niyam maryaadaa kaary kaaran niyam ko chhod kar  kab kahaa kaise krupa kar de..pragat ho jaaye aisa sarv samarth bhi hai..

(Sadgurudev ji Bhagavan ne Gadariya aur hajarat moosaa ki kahaani sunaayi.)
bhaavagrahi janaardan..lekin vo aayenge phir antardhaan ho jaayenge..
pahele to khudaa “wahaan” the…ab “yahaan” hai..to yah aur wah dono ko jo jaanata wo “mai” ..is “mai” swarup chaityany wah aur yah dikhegaa.. ‘mai’ke bina yah nahi dikhega, wah nahi dikhegaa..to “mai”ke roop me agar khoj lagaa di jaay to ishwar jaisa hai , waisa ke waisa jaldi milegaa..

bhavanaa ke bal se to agar bhaavanaa thos ho to krushn wale ke liye krushn, ram wale ke liye ram..allaawale ke liye allaa..jaisaa bhi jaanataa ho maanataa ho aisa bananaa  hotaa hai phir antardhaan hona hai..to us me rasta lamba hai , aur mil kar antardhan ho jaayegaa..

ye rasta chhota hai, aur mile to kabhi antardhan ho hi nahi sakataa.. 🙂  kyo ki gyaan se milegaa..jaisa hai waisa milegaa..
bhakt apani bhaavanaa se ramji ko krushnji ko pragat karate…bhav ki pragaadhataa chahiye..
lekin TATV me to bolate ki aap jaise ho waise hi sweekaar ho..hamaari bhaavanaa wale bhagavan hum ko nahi chahiye…aap jaise ho waise hi aap hamaare paas ho…hum aap ke paas hai..aap kaise ho aap hi bataao…
to preranaa karenge ki satsang me jaao..aur satsang ye bataayega ki “apane mai ko khoj le to bhagavan wo hi hai”…
‘mai mohan hun..sohan hun’ye to sharir hai…

‘mai pahalaanaa hun’ ye jati hai..

‘mai’wastavik me kya hai ye jaan lo to lagegaa ki ye sharir ke baad bhi mai vyaapak chaityanya hun..us ko jaldi se paane ke liye 3 ghante omkaar ka jap kare roj..3 ghante vedant shaastr ko padhe…3 ghante usi vichaaro me dhyanasth rahe..us me ek-ek paher likha hai- paher mana 3 ghante..to 12 ghante roj satat us me lage to ek saal me to aaraam se ISHWARPRAPTI ho jaaye..
aur nahi to is janam me ishwar prapti nahi kiya to 2 karod varsh ghumo..jaisi aadat hai us aadat ke anusaar bhog paane ke sharir milenge…
saundary ye vo dekh kar jo majaa lete ye bilkul behudi baat hai..jis se dekha jata hai us ki jo shanti hai, us ka jo gyan hai , us ka jo vaibhav hai us ke aage swarg ka saundary bhi kuchh nahi…
ishwar ke vaibhav ko , ishwar ki shanti ko, ishwar ke gyan ko , ishwar ke ras ko paa lo phir lagegaa ki ye sharir aap nahi hai…aap ras-swarup hai !
raso vai saa vaishwa naro !
mai ye karu mai vo karu– kar kar ke aakhir maut to aayegi …. sab dharaa rahe jaayegaa..jo karanaa hai wo kaam nahi kiyaa, to baki ka pet ke liye vistar kar ke mar gaye !
pet to aise hi bhar jata hai jo ishwar ke raste jata hai…kuchh na kare, imaandari se ishwar ko paane ke liye lage to pet bharane ke liye kudarat se sab kuchh haajir ho jaayegaa…

OM SHANTI.
SADGURUDEV JI BHAGAVAN KI MAHAA JAYJAYKAAR HO!!!!!

GALATIYON KE LIYE PRABHUJI KSHAMAA KARE….

ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ

तत्व ज्ञान से ईश्वर प्राप्ति : एकान्त सत्संग अमृत

ब्रम्हज्ञानी संतश्री परम पूज्य आसाराम बापूजी फ्रॉम रजोकारी आश्रम 

रजोकारी आश्रम, 29/11/2010 रात को 8.30बजे…

( परम दयालू कृपा सिन्धु  कारुण्य मूर्ति  सद्गुरु भगवान माउली (माँ )  उन के प्यारे  बछड़ो को ज्ञान का अमृत पिलाए बिना कैसे एकांत में भी रहे सकती है?…ब्राम्हीस्थिति का  आनंद और विश्रांति की नि:संकल्प अवस्था की नुरानी मस्ती से कुछ देर के लिए ही सही हमारे प्यारेजी सदगुरुदेव जी भगवान  हमें  भी वही ले जा रहे है, जहा आपश्री स्थित है….चलिए साधको , हम सभी की अपनी अपनी गति तो है, लेकिन जब पुज्यश्री बापूजी के तत्वज्ञान के हवाई जहाज में बैठ जाते है तो सब की गति बदल के बापूजी जैसे ले जाना चाहते वैसे ही हम  भी चलने लगते है…आईये..चलिए…ये सुन्दर अवसर ना खोईये …. इस सत्संग अमृत  का विडियो देखने के लिए कृपया यहाँ पधारे:

http://www.youtube.com/watch?v=SMRBoWnxL0s&feature=youtube_gdata )

ॐ ॐ ॐ ॐ ॐ ॐ..

नारायण नारायण नारायण नारायण…

ईश्वर के पाए बिना कुछ भी पाया तो टिकेगा नहीं..ईश्वर मिटेगा नहीं, संसार टिकेगा नहीं..
दुःख चंडाल है, दुःख को नहीं चाहते…सुख भाग जाता है , सुख को चाहते है…   सुख  नहीं टिकता, दुःख आ जाता है…लेकिन दुःख भी नहीं टिकेगा…जवानी भी नहीं टिकेगी…बुढापा भी नहीं टिकेगा…मौत की प्रक्रिया भी नहीं टिकेगी..अगर टिकनेवाला कोई है तो तुम्हारा आत्मदेव है..
उस आत्मदेव को नहीं पाया तो उस को छोड़ कर कुछ भी पाया तो भी समय की धारा में नगण्य हो जाएगा..और आत्मदेव को पाया तो बाहर से कुछ भी नहीं पाया लेकिन फिर भी सब  कुछ उस ने पा लिया..सब तीर्थ में नहा लिया, सब यज्ञ  कर लिए, सब दान कर लिए..

स्नातं  ते न सर्व तीर्थं

दात्वं  ते न सर्व दानं

कृतं ते न सर्व यज्ञं
ये न क्षणं मन ब्रम्हविचारें स्थिरं कृत्वा

क्षण भर के लिए भी उस ब्रम्ह परमात्मा में मन टिक गया तो बस…उस की भूख लग जाए…क्षमा का गुण आ जाए, संयम का गुण आ जाए..और उस को पाने का इरादा पक्का हो जाए तो चुटकी बजाते वो  मिलता है…

जगत को  पाने का इरादा हो जाए, नहीं मिलता है जगत..उस के लिए इरादे के साथ मेहनत भी करो..फिर माहोल अनुकूल हो..तब कुछ मिलता है , लेकिन टिकता नहीं है..
और परमात्मा मिलते है तो छूटते नहीं है…
वो परमात्मा अपना आत्मरूप हो कर बैठा है..उस की ही चेतना से नेत्रों की वृत्ति बाहर जाती है, उस की ही चेतना से मन के संकल्प विकल्प होते है..उसी सत्चिदानन्द की कृपा से रक्त संचार हो रहा है..उसी परमेश्वर की सत्ता से माँ के शरीर में दूध  बनता है..
तो वो ज्ञान स्वरुप है..जानता है.. लेकिन वो व्यक्ति की नायी  नहीं जानता…
पैर नहीं है भगवान के पास, कान नहीं है , हाथ भी नहीं है…लेकिन सभी हाथ,पैर, कान वालों  को चलाता वो ही है!! :)


बिनु पद चले, सुने बिनु काना

बिनु कर कर्म करे सोहे विधु नाना


उसे के  हाथ नहीं है, लेकिन सारे हाथ के द्वारा वो ही काम करता है..कान भी नहीं है, सभी कानो के द्वारा वो ही सुनाने की सत्ता देता है..

कोई गुण नहीं है, सारे गुण उसी से उत्पन्न होते है..
कोई आकार नहीं है, सारे आकार उसी से उत्पन्न होते है..
और वो जो उस को अपना मान कर प्रीतिपूर्वक   भजता है तो नियम मर्यादा कार्य कारण नियम को छोड़ कर  कब कहाँ  कैसे कृपा कर दे..प्रगट हो जाए ऐसा सर्व समर्थ भी है..

(सदगुरुदेव जी भगवान ने गड़रिया और हजरत मूसा  की कहानी सुनाई.)
भावग्रही जनार्दन..लेकिन वो आयेंगे फिर अंतर्धान हो जायेंगे..
पहेले तो खुदा  “वहाँ”  थे…अब  “यहाँ”  है..तो यह और वह दोनों को जो जानता वो “मैं ” ..इस “मैं ” स्वरुप चैत्यन्य ‘वह’ और  ‘यह’  दिखेगा..  ‘मैं ’   के बिना ‘यह’  नहीं दिखेगा,  ‘वह’  नहीं दिखेगा..तो “मैं ”  के रूप में अगर खोज लगा दी जाय तो ईश्वर जैसा है , वैसा के वैसा जल्दी मिलेगा..

भावना के बल से तो अगर भावना ठोस हो तो कृष्ण वाले के लिए कृष्ण, राम वाले के लिए राम..अल्लावाले के लिए अल्ला..जैसा भी जानता हो मानता हो ऐसा बनना  होता है,  फिर अंतर्धान होना है..तो उस में रास्ता लम्बा है , और मिल कर अंतर्धान हो जाएगा..

इस से ये (तत्वज्ञान का ) रास्ता छोटा है, और मिले तो कभी अंतर्धान हो ही नहीं सकता.. :) क्यों की ज्ञान से मिलेगा..जैसा है वैसा मिलेगा..
भक्त अपनी भावना से रामजी को/  कृष्णजी को प्रगट करते…इस के लिए भाव की प्रगाढ़ता   चाहिए..
लेकिन तत्व में तो बोलते की आप जैसे हो वैसे ही स्वीकार हो..हमारी भावना वाले भगवान हम को नहीं चाहिए…आप जैसे हो वैसे ही आप हमारे पास हो…हम आप के पास है..आप कैसे हो आप ही बताओ…
तो प्रेरणा करेंगे की  ‘सत्संग में जाओ!’

..और सत्संग ये बतायेगा की  “अपने मैं  को खोज ले तो भगवान वो ही है” …
‘मैं  मोहन हूँ..सोहन हूँ’  – ये तो शरीर है…

‘मैं  फलाना  हूँ’  – ये तो जाती है..

‘मैं ’  वास्तविक में क्या है ये जान लो तो लगेगा की ये शरीर के बाद भी मैं  व्यापक चैत्यन्य हूँ..उस को जल्दी से पाने के लिए 3 घंटे ओमकार का जप करे रोज..3 घंटे वेदांत शास्त्र को पढ़े…3 घंटे उसी विचारों में ध्यानस्थ रहे..उस में एक-एक पहर लिखा है- पहर माने  3 घंटे..तो 12 घंटे रोज सतत उस में लगे तो एक साल में तो आराम से ईश्वर प्राप्ति  हो जाए..


और नहीं तो इस जनम में ईश्वर प्राप्ति नहीं किया तो 2 करोड़ वर्ष घुमो   ..जैसी आदत है उस आदत के अनुसार भोग पाने के शरीर मिलेंगे…

सौन्दर्य ये वो देख कर जो मजा लेते ये बिलकुल बेहूदी बात है..जिस से देखा जाता है उस की जो शांति है, उस का जो ज्ञान है , उस का जो वैभव है उस के आगे स्वर्ग का सौन्दर्य भी कुछ नहीं…
ईश्वर के वैभव को , ईश्वर की शांति को,  ईश्वर के ज्ञान को ,  ईश्वर के रस को पा लो फिर लगेगा की ये शरीर आप नहीं है…आप रस-स्वरुप है !
रसो वा सा  वैश्वा नरो !
मैं  ये करू मैं  वो करू – कर कर के आखिर मौत तो आएगी …. सब धरा रहे जाएगा..जो करना है वो काम नहीं किया, तो बाकि का पेट के लिए विस्तार कर के मर गए !
पेट तो ऐसे ही भर जाता है जो ईश्वर के रास्ते जाता है…    कुछ    न करे,   ईमानदारी से ईश्वर को पाने के लिए लगे तो पेट भरने के लिए  कुदरत  से सब कुछ  हाजिर हो जाएगा…

ॐ शांती .
सदगुरुदेव जी भगवान की महा जयजयकार हो!!!!!

गलतियों के लिए प्रभुजी क्षमा करे…


Advertisements
Explore posts in the same categories: Pujya Bapuji

2 Comments on “TATV Gyan se Ishwar Prapti:ekantsatsang amrut”

  1. Manish Kumar Says:

    हरि ऊँ,
    कृपया इसका देवनागरी लिप्यांतर भी प्रस्तुत करें ताकि पढ़ने में सुविधा हो..


Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s


%d bloggers like this: