BRAMHAGYAN: Vilakshan Mukti!

Bramhagyani Santshri Param Pujya Asaram Bapuji from Rajokari ashram ekantwaas

EKANT SATSANG, 30/11/2010 SHAM

(Bramhagyan kya hota hai , bramhi sthiti kaise hoti hai ,  bramhgyan kaise paya jata hai, bramhgyan paane se kya hoga?..ye kewal jaanane matr se anant phal hote hai…ye satsang ka labh lenewale param saubhagyshali hai jo ye aatm tatv ka gyan pratyaksh BRAMHAGYAN KO PAAYE HUYE MAHAAPURUSH BRAMHAGYANI SANTSHRI PARAM PUJYA ASARAM BAPUJI ke kalyankari amrutwani se paa rahe hai…is divy tatvik satsang ka video labh lene ke liye krupaya yahaa padhaare :-

http://www.youtube.com/watch?v=TYDbvuqKFQ4&feature=youtube_gdata

aur text ke liye please scroll down…  )
aap apane aatma ko jaan kar muktaamaa ho gaye to ho gayi mukti!  mukti bhi 6 prakaar ki hoti hai..swargiy mukti, saalokya mukti, saayujya mukti, saarupy mukti, samipya mukti ye 5 muktiyon se ek vilakshan mukti hai , ye 5 muktiyaa to marane ke baad milati hai..6 number ki mukti hai – BRAMHGYAN!
aap sharir me hote huye bhi mukt hai..dukh me hote huye bhi dukh se mukt hai, dukh ko jaananewale ho gaye..
bimaari hote huye bhi aap bimari se mukt hai…chinta hote huye bhi aap chinta se mukt hai…budhaapaa hote huye bhi budhaape se mukt hai…mrutyu hote huye bhi aap mrutyu se mukt hai..aap jeevan mukt ho gaye..!jeete jee mukt ho gaye…

aap ko apane shudhd budhd swarup ka pataa chal gayaa..ki janm mrutyu mera dharm nahi hai..
janm sharir ka hota hai…mrutyu sharir ka hota hai..
punya-paap man ke dwara hota hai to punya aur paap ka phal man ko milataa hai..
raag aur dwesh budhdi me hote hai..bhuk pyaas prano me lagati hai…
mai in sab ko sattaa denewala saakshi chaityany hun..
pranav ki aaradhana se nisankalp awasthaa, sa-vikalp samaadhi hogi….

aap bhi hai aur jagat bhi hai, lekin aap chaityany hai aur jagat parivartanshil hai…dwait banaa rahaa, aur aage badhe to aap ki nir-vikalp samaadhi hogi…nir-vikalp samadhi me koyi vikalp nahi, shant dashaa hai….agar yog samaadhi hai to samaadhi se uthe to jagat dikhegaa…lekin yog samaadhi ke sath sath sadguru bramhgyani hai , aur aap ka bramhgyan ka najariyaa hai to aap ka ye jagat dikhate huye baadhit ho gayaa…jaise rassi me saap dikhata hai, marubhumi me pani dikhata hai , thuthe me chor athava tapaswi dikhata hai lekin satya jaanane ke baad badhit ho jata hai ..
(pujyashri Sadgurudev ji bhagavan ke mukhaarvind se un ke jeevan ka ek sundar prasang jarur suniye…jis se jagat satya ki kalpana badhit  hone me bahot labh hoga…)
jagat badhit ho jaayega to achhe sunkar aasakti nahi hogi aur bure sunkar nafarat nahi hogi..aisa bramhgyan hai!sab badhit ho jata hai…achha-bura, punya -paap , apana- paraayaa sab badhit ho jaayegaa..to aap ke jeevan me samataa ka sukh aayegaa, samataa ka ras aayegaa..samataa ka saamarthy aayegaa..
aap ka chitt bhagavan narayan ke jaisa ho jaayegaa..isi liye yog vashishth me kahaa hai ki bramhagyani saakshat narayn swarup hai…

guruwani me bhi aayaa:-


man mero panchhi bhayo

udan lagyo aakaash

swarg lok khaali padyo

saahib santan ke paas


swarg me to indr apsara nache tab sukh lete, lekin jin ko bramh ka gyan- aatm saakshatkaar ho gayaa un ke hruday me paramaatma ka prakaash hai..prakaash maane bulb ki roshani nahi, samajh !
jo bhagavan narayan ki samajh hai, jo bhagavan shiv ji ki samajh hai, jis me bramhaji samaadhist hote hai usi aatma me ye bramhgyani mahaapurush jagrut huye hai…

jagrut aata hai chala jata hai, swapna aata hai chala jata hai, gaheri nind aati hai chali jati hai..ye tino ko dekhanewala jo hai, usi ko “mai”  roop me vyapak anant bramhaando me vo ‘mai’chidghan chaityany hun…aisa bramhagyani jaan lete hai…


ashtavakr muni kahete :-tasy tulana kin jaayate
bramhagyani ki tulana tum kis se karoge?


wo sansaar ki kisi paristhiti se dwesh nahi karate..aatma paramaatmaa ko bhi wo chaahataa nahi..
aap asaram bapu ko chahate, isliye aaye.. mai nahi chaahataa!kyo ki mai to hun hi!!aise bramhagyani bramh paramaatma ko chaahataa nahi…vo to hai hi hai!wo to dusaro ko bhi  apane aap ke usi roop me jaanate hai…


bramhgyani ki mat kaun bakhaane?

bramhagynai ki budhdi ki bakhaan purn roop se koyi nahi kar sakataa…kyu ki bramh anant hai to bramhgyani ki mati bhi anant ke sath anant ho gayi hai..
mat karo varnan…har be-ant hai….kya jaane vo kaiso re….bhagavan ki puri vyakhya nahi hoti….

aise hi sant ke darshan aur satsang se kitanaa laabh hota hai puri vyakhya nahi ho sakati….

OM SHANTI.
SADGURUDEV JI BHAGAVAN KI MAHAA JAYJAYAKAAR HO!!!!!
Galatiyon ke liye prabhuji kshamaa kare…

 

ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ

ब्रम्हज्ञान: विलक्षण मुक्ति!


ब्रम्हज्ञानी संतश्री परम पूज्य आसाराम बापूजी फ्रॉम रजोकरी आश्रम एकान्तवास

एकांत सत्संग, 30/11/2010 शाम

(ब्रम्हज्ञान क्या होता है , ब्राम्ही स्थिति कैसे होती है ,  ब्रम्हज्ञान कैसे पाया जाता है, ब्रम्हज्ञान पाने से क्या होगा?..ये केवल जानने मात्र से अनंत फल होते है…ये सत्संग का लाभ लेनेवाले परम सौभाग्यशाली है जो ये आत्म तत्व का ज्ञान प्रत्यक्ष ब्रम्हज्ञान को पाए हुए महापुरुष ब्रम्हज्ञानी संतश्री परम पूज्य आसाराम बापूजी के कल्याणकारी अमृतवाणी  से पा रहे है…इस दिव्य तात्विक सत्संग का विडियो लाभ लेने के लिए कृपया  यहाँ पधारे :-

 

और टेक्स्ट के लिए प्लीज  स्क्रोल डाउन…  )
आप अपने आत्मा को जान कर मुक्तामा हो गए तो हो गयी मुक्ति!  मुक्ति भी 6 प्रकार की होती है..स्वर्गीय मुक्ति, सालोक्य मुक्ति, सायुज्य मुक्ति, सारुप्य मुक्ति, सामीप्य मुक्ति ये 5 मुक्तियों से एक विलक्षण मुक्ति है , ये 5 मुक्तियां  तो मरने के बाद मिलती है..6 नंबर की मुक्ति है – ब्रम्हज्ञान!

ब्रम्हज्ञान ऐसी मुक्ति है कि …
आप शरीर में होते हुए भी मुक्त  है..

दुःख में होते हुए भी दुःख से मुक्त है, दुःख को जाननेवाले हो गए..


बिमारी होते हुए भी आप बीमारी से मुक्त है…

चिंता होते हुए भी आप चिंता से मुक्त है…

बुढापा होते हुए भी बुढापे से मुक्त है…

मृत्यु होते हुए भी आप मृत्यु से मुक्त है..आप जीवन मुक्त हो गए..!जीते जी मुक्त हो गए…!!

आप को अपने शुध्द बुध्द स्वरुप का पता चल गया..की जन्म मृत्यु मेरा धर्म नहीं है..


जन्म शरीर का होता है…मृत्यु शरीर का होता है..

पुण्य-पाप मन के द्वारा होता है तो पुण्य और पाप का फल मन को मिलता है..
राग और द्वेष बुध्दी में होते है..भूक प्यास प्राणों में लगती है…
मैं  इन सब को सत्ता देनेवाला साक्षी चैत्यन्य हूँ..
प्रणव की आराधना से निसंकल्प अवस्था, स-विकल्प समाधि होगी….

आप भी है और जगत भी है, लेकिन आप चैत्यन्य है और जगत परिवर्तनशील  है…तो आप और जगत ये द्वैत बना रहा…. और आगे बढे तो आप की निर-विकल्प समाधि होगी…निर-विकल्प समाधी में कोई विकल्प नहीं होता , ऐसी  शांत दशा है….अगर योग समाधि है तो समाधि से उठे तो जगत दिखेगा…लेकिन योग समाधि के साथ साथ सद्गुरु ब्रम्हज्ञानी है , और आप का ब्रम्हज्ञान का नजरिया है तो आप का ये जगत दिखते हुए बाधित हो गया…जैसे रस्सी में साप दिखता है, मरुभूमि में पानी दिखता है , ठुठे  में चोर अथवा तपस्वी दिखता है लेकिन सत्य जानने के बाद बाधित हो जाता है ..


(पुज्यश्री सदगुरुदेव जी भगवान के मुखारविंद से उन के जीवन का एक सुन्दर प्रसंग जरुर सुनिए…जिस से जगत सत्य की कल्पना बाधित  होने में बहोत लाभ होगा…)


जगत बाधित हो जाएगा तो अच्छा  सुनकर आसक्ति नहीं होगी और बुरे सुनकर नफ़रत नहीं होगी..ऐसा ब्रम्हज्ञान है!  …सब बाधित हो जाता है…अच्छा- बुरा , पुण्य -पाप , अपना- पराया सब बाधित हो जाएगा..तो आप के जीवन में समता का सुख आयेगा, समता का रस आयेगा..समता का सामर्थ्य आयेगा..

आप का चित्त भगवान नारायण के जैसा हो जाएगा..इसी लिए योग वशिष्ठ में कहा है की ब्रम्हज्ञानी साक्षात नारायण स्वरुप है…

गुरुवाणी में भी आया:-


मन मेरो पंछी भयो

उड़न लग्यो आकाश

स्वर्ग लोक खाली पड्यो

साहिब संतन के पास


स्वर्ग में तो इंद्र अप्सरा नाचे तब सुख लेते, लेकिन जिन को ब्रम्ह का ज्ञान- आत्म साक्षात्कार हो गया उन के ह्रदय में परमात्मा का प्रकाश है..प्रकाश माने बल्ब की रोशनी नहीं, समझ !
जो भगवान नारायण की समझ है, जो भगवान शिव जी की समझ है, जिस में ब्रम्हाजी समाधिस्त होते है उसी आत्मा में ये ब्रम्हज्ञानी महापुरुष जागृत हुए है…

जागृत आता है चला जाता है, स्वप्ना आता है चला जाता है, गहेरी नींद आती है चली जाती है..ये तीनो को देखनेवाला जो है, उसी को “मैं ”  रूप में व्यापक अनंत ब्रम्हान्डो  में वो  ‘मैं ’ चिद्घन चैत्यन्य हूँ…ऐसा ब्रम्हज्ञानी जान लेते है…


अष्टावक्र मुनि कहेते :-तस्य तुलना किन जायते
ब्रम्हज्ञानी की तुलना तुम किस से करोगे?


वो संसार की किसी परिस्थिति से द्वेष नहीं करते..आत्मा परमात्मा को भी वो चाहता नहीं..
आप आसाराम बापू को चाहते, इसलिए आये.. मैं  नहीं चाहता! क्यों की मैं  तो हूँ ही!! …ऐसे ब्रम्हज्ञानी ब्रम्ह परमात्मा को चाहता नहीं…वो तो है ही है!…वो तो दूसरो को भी  अपने आप के उसी रूप में जानते है…


ब्रम्हज्ञानी की मत कौन बखाने?

ब्रम्हग्यानी  की बुध्दी की बखान पूर्ण रूप से कोई नहीं कर सकता…क्यों की ब्रम्ह अनंत है तो ब्रम्हज्ञानी की मति भी अनंत के साथ अनंत हो गयी है..
मत करो वर्णन…हर बे-अंत है….क्या जाने वो कैसो रे….भगवान की पूरी व्याख्या नहीं होती….

ऐसे ही संत के दर्शन और सत्संग से कितना लाभ होता है पूरी व्याख्या नहीं हो सकती….

ॐ शांति.


सदगुरुदेव जी भगवान की महा जयजयकार हो!!!!!

गलतियों के लिए प्रभुजी क्षमा करे…




Advertisements
Explore posts in the same categories: Pujya Bapuji

One Comment on “BRAMHAGYAN: Vilakshan Mukti!”

  1. Subhash Chander Says:

    Jai Bapu Ji. Jai Sita Ram Narayan Hari


Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s


%d bloggers like this: