ye akal ki bahaaduri hai yaa kaayarataa hai?

Navasari ke paas Bhairavi ashram me Bramhagyani Santshri Param Pujya Asaram Bapuji ke shishy-pariwaar dwara go-shalaaye chalaayi jati hai aur daridri-narayan ke liye bhajan karo bhojan karo karykram chalaaye jaate hai..is ashram ki bhumi purnataa vaidh hai, is ke proof ke sabhi kaagjaat/dastaavej maujud hote huye bhi 27/11/2010 ko subah 6 baje pulice ke sath buldozerwale aaye aur ashram ki shed tahes-nahes kar di..

*Press Release*:
Hindi<http://www.ashram.org/Press/PressView/tabid/912/ArticleId/921/Press-Release.aspx>,
Gujarati<http://www.ashram.org/Press/PressView/tabid/912/ArticleId/922/Press-Release-on-Bhairavi-Ashrams-Illegal-Demolition-In-Gujarati.aspx>and
English<http://www.ashram.org/Press/PressView/tabid/912/ArticleId/923/Press-Release-on-Bhairavi-Ashrams-Illegal-Demolition.aspx>
*
*
*Video*: A2Z Video
Clip<http://www.ashram.org/MultiMedia/Videos/VideoPlayer/TabId/404/VideoId/2709/Facts-About-Illegal-Demolition-Of-Bhairavi-Ashram-A2Z-News.aspx>

Is julum par Saadhak pariwaar me dukh aur julumiyon ki prati Uff ki aisi pratikriyaaye uthi hai ki un ko shant karane ke liye Bharat mata ko Vishwaguru ke pad pe aasin karane me, lok heetkaari kalyankari karyo me din raat a-virat parishram me vyast Bramhgyani Santshri Bole :-

Delhi ,  Rajokaro ashram; 27/11/2010 Sham 8baje

(please watch this vedio on :

http://www.youtube.com/watch?v=hpu6-rsC0WQ&feature=youtube_gdata )

Bhairavi Ashram julum par Pujyashri Bapuji ki pratikiya:BHAGAVAAN SAB KO SADBUDHI DE!

koyi bhi sharaarat kare, lekin mai to udhar karykram dunga hi aur bhandaare karunga hi..

wo shed gaay bachhado ko aandhi tufaan se bachane ke liye wo jagah thi…todane me un ko kya laabh huaa ye samajh me nahi aata..

(bapuji ke paas jo bhi aate saphal hote..is se kuchh log naraj hote..)
suraj kis ka? sab ka!

Gangaaji kis ki ? sab ki!

havaaye kis ki ? sab ki!

aise sant kis ke? sab ke!
mai to us sidhddant se rahetaa hun..phir bhi ye sajjan aisi sajjanataa  kyu dikhaate ? 🙂 ..ye akal ki bahaaduri hai ki kaayarataa hai? binaa kahe , sab kuchh vaidh hone ke baad bhi aisa julum huaa..hum to chale sahe lete, lekin prajaa nahi sahegi..prajaa ki uff se bache…Bhagavan sab ko sadbudhdi de…
aap ko ye sunkar kaisa lagataa?ye achha hua?subah 6 baje buldozer lekar, pulice lekar ashram ko tahes nahes karanaa ….ye kaisa julum hai…ashram ne jamin ke paise diye hai, proof hai,sab kuchh bataa rahe, dikha rahe..phir bhi a-vaidh kabja toda aisa prachaar kar ke julum kar rahe…tumhara  todanaa a-vaidh hai ki ashram a-vaidh hai is sawaal ka jabaab krupa kar ke sachchayi se  koyi de!agar a-vaidh kabjaa hai to mai apani galati sudharu aur apane sewako ko daantu…lekin vo to sab proof dikhaa rahe hai ashram vaidh hone ke…
hamaare pitaji nagar sewak the,ham ne apani milkat arpan kar di hai to dusaro ka a-vaidh kaay ko lungaa?mujhe kya padi hai?mai to ye ghoshana kar chuka hun ki ye jo ashram hai us me ashram me samarpit log pahele khaayenge us ke baad mera beta khana khayega..mahila ashram me jo samarpit bachchiyaa , maayiyaa hai wo pahele khana khaayengi us ke baad narayan ki bahen bhojan karegi..

abhi bhi ye sidhaant hai aur baad me bhi rahegaa..bachcho ka bhi mere prati sadbhaav hai , shradhda hai..mai jo bhi bolunga , karungaa mere bachche bolate ki hamaare saai jo bhi karate achha karate..narayan ne to yahaa tuk kahe diyaa ki mere chamadi ke jute banaa kar bapuji ke charano me pahenaau to bhi kum hai….!maine itana kadak vyavhaar kiya lekin mera beta to mere liye aisa bolata hai…agar mai koyi aur dhang ka hota to mera beta inkilaab jindabad kar deta!
hamaare paas to koyi ullu hi nahi jis ko sidha kare…hamaare paas to bhagavan hai, bhakti hai, dhyan hai , jap hai..
kaliyug bahot teji se badh rahaa hai , na jaane kahaa pahuncha dega..
hey prabhu dayaa kar!
charo taraf gair-kanuni/ a-vaidh ashram hone ka ku-prachaar kiya gayaa hai , ashram vaidh hai aur sabhi kanooni proof maujud hai ye samajhaane ke liye ye time diya..
mujhe to rajendrababu ki policy bahot achhi lagati…  kuchh akhabaare rajendrababu ke upar nishana saadhati thi..achhe logo ne kahaa ki is ka aap ki kitani badi kurbaani hai,hum se sahaa nahi jata…aap is ka khandan dijiye ..rajendrababu bole ki hathi chale aur kutte bhonke to agar kutto ki taraf dhyan de to kutto ki kimat badh jaati…
aise hi mai bhi kabhi koyi khandan deta nahi..bahut jaruri hota, log dukhi hote isliye  mujhe thoda bolana padataa hai..baki mujhe koyi pharak nahi padataa…kitane bhi aarop lage mujhe koyi pharak nahi padataa..mujhe to guruji ne vo chij dikhaa di hai ki jahaa kuchh pahunchataa hi nahi..(pujyashri bapuji ki aisi unchi bramhgyaan me sthiti huyi hai ki…) jahaa sharir nahi pahunchata, man nahi pahunchataa, budhdi nahi pahunchati…punya nahi pahunchataa, paap nahi pahunchataa waha ka anubhav karaa diyaa hai gurudev ne…isliye mere ko in baaton se koyi pharak nahi padataa..lekin jo sansaar me jee rahe hai..mere karodo karodo shrotaa hai to un ke dil me to lagega ki ashram a-vaidh hai kya…to mera kartyavy hai ki un ko sahi baat pataa chale baas!
to kal sab log mala karanaa..aur ye jo kuchh kar rahe hai un ke liye bhi 2-2 mala kar lena..bhagavan un ko sadbudhdi de vo mala karo to bhi hogaa..nahi to “jaa!”bol ke karenge to bhi vo chale jaayenge samajho!itani sadhako ki uff lag gayi to vo chale jaayenge…
hari om.. narayan narayan narayan narayan..
OM SHANTI.

SADGURUDEV JI BHAGAVAN KI MAHAA JAYJAYAKAAR HO!!!!!

GALATIYON KE LIYE PRABHUJI KSHAMAA KARE…


ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ

ये अकल की बहादुरी है कायरता है?

नवसारी के पास भैरवी आश्रम में ब्रम्हज्ञानी संतश्री परम पूज्य आसाराम बापूजी के शिष्य-परिवार द्वारा गो- शालाएं   चलाई जाती है और दरिद्री-नारायण के लिए ‘भजन करो, भोजन करो’ कार्यक्रम चलाये जाते है..इस आश्रम की भूमि पूर्णता वैध है, इस के प्रूफ के सभी कागजात/दस्तावेज मौजूद होते हुए भी 27/11/2010 को सुबह 6 बजे पुलिसे के साथ बुलडोजर वाले  आये और आश्रम की शेड तहेस-नहेस कर दी..

(कृपया  सत्य जानने के लिए  :-

*Press Release*:
Hindi<http://www.ashram.org/Press/PressView/tabid/912/ArticleId/921/Press-Release.aspx>,
Gujarati<http://www.ashram.org/Press/PressView/tabid/912/ArticleId/922/Press-Release-on-Bhairavi-Ashrams-Illegal-Demolition-In-Gujarati.aspx>and
English<http://www.ashram.org/Press/PressView/tabid/912/ArticleId/923/Press-Release-on-Bhairavi-Ashrams-Illegal-Demolition.aspx>
*
*
*Video*: A2Z Video
Clip<http://www.ashram.org/MultiMedia/Videos/VideoPlayer/TabId/404/VideoId/2709/Facts-About-Illegal-Demolition-Of-Bhairavi-Ashram-A2Z-News.aspx>  )

इस जुलुम पर साधक परिवार में दुःख और जुलुमियों की प्रति उफ़ की ऐसी प्रतिक्रियाये उठी है की उन को शांत करने के लिए भारत माता को विश्वगुरु के पद पे आसीन करने में, लोक हितकारी  कल्याणकारी कार्यो में दिन रात अ-विरत परिश्रम में व्यस्त ब्रम्हज्ञानी संतश्री बोले :-

देल्ही  ,  रजोकारी  आश्रम; 27/11/2010 शाम 8बजे

(कृपया पुज्यश्री के अमृतवचन का विडियो देखें  :

http://www.youtube.com/watch?v=hpu6-rsC0WQ&feature=youtube_gdata

)

भैरवी आश्रम जुलुम पर पुज्यश्री बापूजी की प्रतिकिया:भगवान सब को सद्बुधी दे! 

कोई भी शरारत करे, लेकिन मैं  तो उधर कार्यक्रम दूंगा ही और भंडारे करूँगा ही..

वो शेड गाय बछड़ो को आंधी तूफ़ान से बचने के लिए वो जगह थी…तोड़ने में उन को क्या लाभ हुआ ये समझ में नहीं आता..

(बापूजी के पास जो भी आते सफल होते..इस से कुछ लोग नाराज होते..)
सूरज किस का? सब का!

गंगाजी किस की ? सब की!

हवाए किस की ? सब की!

ऐसे संत किस के? सब के!
मैं  तो उस सिद्धांत  से रहेता हूँ..फिर भी ये सज्जन ऐसी सज्जनता  क्यों दिखाते ? :) ..ये अकल की बहादुरी है की कायरता है? बिना कहे , सब कुछ वैध होने के बाद भी ऐसा जुलुम हुआ..हम तो चलो  सहे लेते, लेकिन प्रजा नहीं सहेगी..प्रजा की उफ़ से बचे…भगवान सब को सद्बुध्दी दे…
आप को ये सुनकर कैसा लगता?ये अच्छा हुआ?सुबह 6 बजे बुलडोजर  लेकर, पुलिस लेकर आश्रम को तहेस नहेस करना ….ये कैसा जुलुम है…आश्रम ने जमीन  के पैसे दिए है, प्रूफ है,सब कुछ बता रहे, दिखा रहे..फिर भी ‘अ-वैध कब्ज़ा तोडा’ ऐसा झूठा  प्रचार कर के जुलुम कर रहे…

तुम्हारा  तोड़ना अ-वैध है की आश्रम अ-वैध है ?  इस सवाल का जबाब कृपा कर के सच्चाई से  कोई दे!

अगर अ-वैध कब्जा है तो मैं  अपनी गलती सुधारू और अपने सेवको को डाटू  …लेकिन वो तो सब प्रूफ दिखा रहे है आश्रम वैध होने के…
हमारे पिताजी नगर सेवक थे,हम ने अपनी मिल्कत अर्पण कर दी है तो दूसरो का अ-वैध काय को लूंगा?मुझे क्या पड़ी है?

मैं  तो ये घोषणा  कर चूका हूँ की ये जो आश्रम है उस में आश्रम में समर्पित लोग पहेले खायेंगे उस के बाद मेरा बेटा खाना खायेगा..महिला आश्रम में जो समर्पित बच्चिया , माईयां  है वो पहेले खाना खायेंगी उस के बाद नारायण की बहेन  भोजन करेगी..

अभी भी ये सिध्दांत  है और बाद में भी रहेगा..बच्चो का भी मेरे प्रति सदभाव  है , श्रध्दा है..मैं  जो भी बोलूँगा , करूंगा- मेरे बच्चे बोलते की , ‘हमारे साईं जो भी करते अच्छा करते!’

..नारायण ने तो यहाँ तक  कहे दिया की, ‘मेरे चमड़ी के जूते  बना कर बापूजी के चरणों में पहेनाऊ तो भी कम है….!’    ..मैंने इतना कड़क व्यवहार किया लेकिन मेरा बेटा तो मेरे लिए ऐसा बोलता है…अगर मैं  कोई और ढंग का होता तो मेरा बेटा इन्किलाब जिंदाबाद कर देता!
हमारे पास तो कोई उल्लू भी ही नहीं जिस को सीधा करे…हमारे पास तो भगवान है, भक्ति है, ध्यान है , जप है..
कलियुग बहोत तेजी से बढ़ रहा है , न जाने कहा पहुंचा देगा..
हे प्रभु दया कर!
चारो तरफ गैर-क़ानूनी/ अ-वैध आश्रम होने का कु-प्रचार किया गया है , आश्रम वैध है और सभी कानूनी प्रूफ मौजूद है ये समझाने के लिए ये टाइम दिया..
मुझे तो राजेन्द्रबाबू की पोलिसी  बहोत अच्छी  लगती…  कुछ अखबारे राजेन्द्रबाबू के ऊपर निशाना साधती थी..अच्छे  लोगो ने कहा की , आप की कितनी बड़ी कुर्बानी है,हम से सहा नहीं जाता…आप इस का खंडन दीजिये ..राजेन्द्रबाबू बोले की ,  हाथी  चले और कुत्ते भोंके तो अगर कुत्तो की तरफ ध्यान दे तो कुत्तो की कीमत बढ़ जाती…
ऐसे ही मैं  भी कभी कोई खंडन देता नहीं..बहुत जरुरी होता, लोग दुखी होते इसलिए  मुझे थोडा बोलना पड़ता है..बाकि मुझे कोई फरक नहीं पड़ता…कितने भी आरोप लगे मुझे कोई फरक नहीं पड़ता..मुझे तो गुरूजी ने वो चीज दिखा दी है की जहां  कुछ पहुंचता ही नहीं..(पुज्यश्री बापूजी की ऐसी ऊँची ब्रम्हज्ञान में स्थिति हुयी है की…) जहां  शरीर नहीं पहुंचता, मन नहीं पहुंचता, बुध्दी नहीं पहुंचती…पुण्य नहीं पहुंचता, पाप नहीं पहुंचता… वहाँ  का अनुभव करा दिया है गुरुदेव ने…इसलिए मेरे को इन बातों से कोई फरक नहीं पड़ता..लेकिन जो संसार में जी रहे है..मेरे करोडो करोडो श्रोता है तो उन के दिल में तो लगेगा की आश्रम अ-वैध है क्या…तो मेरा कर्त्यव्य है की उन को सही बात पता चले बस!
तो कल सब लोग माला करना..और ये जो कुछ कर रहे है उन के लिए भी 2-2 माला कर लेना..

भगवान उन को सद्बुध्दी दे वो माला करो तो भी होगा..

नहीं तो “जा!”बोल के करेंगे तो भी वो चले जायेंगे समझो!

इतनी साधको की उफ़ लग गयी तो वो चले जायेंगे…

हरि   ॐ.. नारायण नारायण नारायण नारायण..
ॐ शांती  .

सदगुरुदेव जी भगवान की महा जयजयकार हो!!!!!

गलतियों के लिए प्रभुजी क्षमा करे…



Advertisements
Explore posts in the same categories: Pujya Bapuji

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s


%d bloggers like this: