Ujjain Sharad Poonam

Bramhvetta Parampujya Santshri Asarambapuji

20-22Oct2010

20 Oct 2010 Ujjain me damaadam barshaa huyi..sham ke satsang me lakho lakho log  ‘ jogi re’ bhajan gaate , jhumate-naachate khub aanand manaaye…

Asodja ka megh bahut kare upakaar!

Pujyashri Bapuji bole, ye Ashwin maas ki varsha heetkari hai, yahaa par varshaa ki jarurat bhi hai…isliye varsha ko roke nahi, aane de!satsang maidaan to pura pani se bhar gayaa tha…lekin sewabhavi bhakto ne aur ujjain ke sewabhavi karmchariyon ne maidan phir se thik kar diyaa..dal dal to thi , lekin log aisa nahi sochate ki kapade gande honge…nahi nahi..kyu ki sab ko pataa hai bapuji ke satsang darshan se to dil” swachh hote hai! Pujyashri Bapuji ke darshan satsang se baahar bhitar sabhi dal-dal sukh jata hai! 🙂

Amrutvarshi Karunyamurti


Indr ke amrut se bhi jo labh nahi hota vo labh hota hai satsang se…satsang ka labh mil gayaa to samajho PARAM LAbh ho gayaa…!
satsang se ye labh hota ki prarabdh se ,prakruti se ishwariy niyamo se kaisi bhi paristhiti aaye us me dukhi sukhi, bhaybhit-pareshan  hona athava us se prasann hokar , us ka upyog kar ke unnat hona ye aap ke hath ki baat hai!jaise kal prakruti ki pariksha – dhamaadham barish me sadhako ne jo prasannataa se swagat kiya is se sADGURUDEV JI bahot prasann hai ki sabhi saadhak 100 % se pass ho gaye! 🙂

sahaj saral swabhav me Pujyashri Sadgurudev

manushya ke andar ishwar ka aisa adbhut saamarthya aur shaktiyaa hai ki koyi bhi us ka pura varnan nahi kar sakataa!
lekin manushy galati ye karataa hai ki dukh aata to sansaar ki taraf bhaagataa hai..samajho aag lage aur petrol pump ka fuwwaaraa karane jata hai!aag lage aur sukhe tinake dalawaane jata hai…

1) dukh aaye to dukh -haari hari ke sharan jaao..vo hi dukh haari hai…sansaar kya dukh mitaayega?us ke paas to apana hi dukh hai…sansaar usi ko chaahataa jo us ke dukh mitaaye..jo apane dukhade roye us ko sansaar nahi chaahata..isliye uk hari ko pukaro..hari me shant ho jaao..ek tuk dekho..prarthana karo..he dukh haari tu hi agyaan haranewala, dukh haranewala,apana swabhaav bharanewala ham teri sharan aaye..hariiiiiiiiii ooooooooooommmmmmm..aisa 15 se 25 minute subah-dopaher -sham chalu kar do..kaisa bhi dukh ho,agar 2/3 din me nahi dukh bhaagaa to mere paas dukh ko le aanaa! 🙂

ye upaay karane ke baad bhi tumhara dukh nahi jata to mai kuchh bhi sahene ko taiyyar hun!mera gaal aur tumhari thapade athavaa to meri pith aur tumhaare mukke!!nahi kaise bhaagega dukh?garranty deta hun naa .. 🙂
dukh hota kyu hai?-man ki chaahi nahi huyi to dukh hota hai..-virodhi saphal huaa to dukh hota hai..-apanaa jis ko maanate vo chalaa jaane ke durr se dukh hota hai….to kulmilaakar dukh bewkufi ka beta hai.. 🙂
manushy ke andar adbhut shakti saamarthy hai , is saamarthy ko nahi jagaata aur rota raheta vo aisa hai ki aa bail mujhe maar!dukh aata hai tumhari  soyi huyi shaktiyaa jagaane ko..vivek jagaane ko..vairaagy jagaane ko…dukh haari se priti karane ko…sukh aata hai udarataa badhane ko sabhi me sukh baatane ko..dukhi hokar sansaar ki taraf jayenge to dukh badhaate..dukh haari ke paas jaoge to dukh mitegaa..
sansar apane kaam anewale ko chahataa hai..dukhi ko duniya nahi chahati..

Ujjain satsangiyo ki sankhya camera ki pakad me nahi aa rahi thi...

2)  kabhi aisa nahi socho ki ham to halaki jaati ke hai..yahaa tak ki nich se nich kaam dhanda karanewale me bhi unche se unche paramaatma ka samarthy , sukh ke darshan hote rahete hai…
sharir malinata ko prapt ho us ke pahele tum amarata ko prapt kar lo… kaisi bhi paristhiti me sam raho..
shama naam ki veshya apana sharir bech kar naach kar, gaa kar kami logo ki ti kaam ki putali ban kar jeevan jeeti thi..us ko ladaki huyi..ladaki badi khubsurat thi…jitani baahar se khubsurat thi, utani bhitar se bhi us ki khubsurati chamaki..satsang jati…15 varsh ki huyi tab tak to naach gaane me badi nipun ho gayi..

(Pujashri Bapuji ne Sant Kanhopatra ki katha ke sunayi.. katha ke liye please link par click kijiyegaa .. Sant Kanhopatra )

Pujyashri Bapuji Ujjain Vyasapith se..

3) sant sataaye tino jaaye aayu bal aur vansh

aise aise kayi gaye duryodhan,rawan jaise kans
karnatak me mahatma ho gaye…Basaweshwar..unho ne lingayat dharm ki sthapana ki..jati pati ke bhed-bhaav nahi maanate..to bramhano ne virodh kiya to raja bhi virodhi ho gayaa….raja ne us mahatma ko bahut kasht diyaa, un ko hathi ke pairo tale kuchalwaya..un ke shishyo ko bahot julum kiyaa..raj sattaa ke bal se julum to kar liya, lekin baad me us ki aisi haalat huyi ki khoj kar bhi us ka namonishan nahi milataa..lingayat sampradaay ke shishya aur ashram aaj bhi  basaweshwar me maujud hai…

Bhakto ke Bhagavan

4) kewal apana heet sochata wo asur hai..a-sur maane daitya ..puri manavataa ka bhi  mangal  sochate, vo mahaamanav hi soch sakate…
sadhu te nahi hove  kaaraj hani

yadi vo sankalp chalaaye murda bhi jivit ho jaaye..
sant naamdev ka yash charo aor phaila tha….vidarbh ke bhakto ne bulaya to namdev ji bhakto ke sath vidarbh me gaye..raja ko pata chala ki itane saare log aa rahe hai to mauka hai…vidarbh naresh ne namdev ji ko bandi banaa kar laya aur mari huyi gaay laa kar un ke saamane rakh di … aadesh diya ki mari huyi gaay jinda kar ke dikhao yaa hamara majahab sweekar karo, musalmaan bano..waranaa suraj dubate hi galaa kategaa..
dharmaandh raja tha ..krur apani krurataa nahi chhodataa to naamdev apane bhagawan ko kyu chhode?…bhakto ke pran kanth me aa gaye ki suraj ab dubane ko hai…namdev ji ne kirtan karate karate vishranti yog me chale gaye..bhru-madhy me sankalp kar ke gaay ki taraf dekhate huye pani chhitaka to gaay jinda ho gayi..!!

 

apaar janmedani..

5) tumhare antakaran ki aisi unchi dashaa ho ki vartman me sukhad bhavishy me sukhad ho…ihlok parlok sukhi ho…. sangharsho se bach kar aaram karane ke liye gurudwar nahi hota..bhakti sewa kar ke param aaram me pahunchane ke liye guru ka dwar hota hai..
guruvachano ka aadar kar ke sewa sumiran me lagaa raheta us ke pichhe duniya ghumati hai…

(pujyashri Bapuji raja Bhartruhari aur un ke Guruji Jogi Gorakhnath ji ki katha sunaaye..puri katha ke liye link par click kijiyegaa.. raja bhartruhari ki katha )
raja bhatruhari  bole : “to kya yog satta jila sakate hai?”

jogi gorakh nath ji bole : “tumhe shanka hai kya?” uthayi bhabhut aur phunk maar ke hiran ko bole “uth!”maraa huaa hiran uth kar khadaa ho gayaa!! yog satta ne hiran ko jila diya!!bharotari charano me giraa……

raja bharotari bolate : “mujhe bhi yog vidya sikhao…maharaj mujhe diksha do”

…jogi ji bole, “chamatkar dekh ke diksha lena  ye  to thik nahi..vivek jagega tab aao..”pranaam kar ke raja laut gayaa..lekin hruday me shradhdaa lekar gayaa…ab nirdosh jeev ki jaan lene ki ichha nahi rahi..apani pingalaa rani ko samajha rahaa hai ki satshishy ki pahechan hai ki apane guru ke siwa kahi un ka man na lage… ek sadguru mila to baas!
suraj ugaa to aur diya kiya na kiyaa…
supaatr mila to kupaatr ko daan diya na diya.. guru aisa sochata hai ki , sat-shishy mila to ku-shishy ko gyan diya na diyaa..kahe kavi gang sadguru mila to auro ko namaskaar kiya na kiyaa..
shishy ki pahechan hai ki ek sadguru mil gayaa to idhar udhar bhatakega nahi..jo bhatakataa hai vo sat-shishy nahi..jaise ek pati mila to pativrata sree apane pati ke siwa kahi nahi bhatakati…pativrataa ka kya lakshan hota hai? pativrataa ka lakshan hai ki pati ke prano ke sath us ke pran jude hote hai…pati ka jeevan hi us ka jeevan hota hai..sati pati ka viyog nahi saheti..
is prakaar bhartuhari ne pingala ko sunaya…pingala pati parayanaa thi..ek din bhartruhari ko sujhaa ki shishya ki pariksha guru lete aur pativrataa ki pariksha pati lete..to ek din apane kapade rakt se gile kar ke aise chinh kar ke bheje, aur pingala ko kahe ki shatru ke dware mare gaye..pingala ne kapade dekhe ki yahi kapade pahen ke raja gaye the, aur aise rakt se sane hai…heart attack ho gayaa aur pingala mar gayi…raja bhartruhari “haay haay”kar ke vilap kare ki hey pingala ye pariksha nahi liya,  tumhare sath anyay kiya..julum kiya..ab kaise prayaschitt karu?..pingale pingale karate karate bharotari to mano diwane ho gaye..bahut samay beet gayaa..Gorakhnath ji ne dekha ki ab samay aayaa hai..gorakhnatha ji wahaa se gujar rahe the , jahaa bhartruhari ekant me pingala ki yaad me vilaap kar rahe the…

nazaro se vo nihaal ho jaate, jo santo ke nazaro me aa jaate..

ekant me kis ki yaad aati?

ekant me jis ki yaad aati usi ka mahatv hai aap ke jeevan me…swapna kaisa aata hai, usi ka mahatv hai..vartaalaap ekant me kis se karate ho?

ham guruji se baate karate the…

bhagavan ke liye ekant me raho…..bhagavan ke liye chup hone se samarthy kaam aata rahegaa..ratri ko kuchh nahi karate to usi bhagavat satta sthul sharir ko aaraam deti; jaagrut me bhagavat smruti me chuppi karate to vohi satta aatm-swarup ko aaraam deti hai..us satta se milanewale samarthy ka dhindhora na pito to labh adhik hoga……
aayu aarogy aur pushti chahate to suryoday ke pahele jaag jaao..pranayam karo..bhaar rahit hona chahate , sukh may jeevan chahate ho to anek sthano ka aakarshan chhod kar ek parameshwar ke charano me  apane ko arpit kar ke us ki priti se smruti karo….balak ke smit me tum hi ho maharaj…pakshi ke kilol me tu hai bhagavan.. aise ek ke madhury se madhumay smruti banaa le..
dukh se bachane ke liye sukh ki laalach se  vivaah karo lekin us se sukhi hone ki laalach chhodo..dusaro se maan aur stuti ki ichha chhodo..
bhagawan ki sharan chaahate to baar baar us ki smruti karo…satat nahi hoti bole…to jaise tubelight dekhate, pankhe ko dekhate, tv-fridge ko dekhate to din bhar ye thodi ratate ki in me electric shakti hai,lekin bhulate nahi…to aise hi jo bhi dekho us me madhumay sarv vyapt ki smruti bani rahe.. sumiran aisa kijiye khare nishane chotaisa sumiran hoga to chahe kahi bhi baithe, smaran sadaa banaa rahetaa…aise sumiran ho…phir to sharir ko sadhan samajh ke majbut karana bhi punya ho jayegaa..sharir se mamataa hataa kar dusare ke kaam aaye isliye sharir ko sambhala to sewa mana jata..is ke liye sharir par kharcha kiya to daan mana jata…

bhagavan ke sath shashwat  sambandh hai..todana chahe to tod nahi sakate..aur sansaar ke sath a-shashwat sambandh hai, rakhana chahe to bhi rakh nahi sakate…
jeevan mukt hona chahate to gyani ka swabhav apane antaratma me dhar dijiye…nirbhikataa, muditaa, samataa, aadi..

bhakto ke liye kaisa roop banayaa..

gorakhanath ji mitti ka handi(matakaa) lekar bhartruhari ke samane se aise dhang se gaye ki us ki najar pade…aur seer par se handi giri..gorakhanaath ji jor jor se rone lage..handi re handi …kya gunaah tha ki tu phut gayi? tu kyu mar gayi?..tere bina kaise jiyuanga?”bhartruhari dekh rahaa tha… bole , “maharaj ek handi ke liye kaahe rote ho?mai to aap ko daso handi laakar de dun…aap sant ho kar handi ke liye ro rahe!maharaj bole, “tu bhi pingala ke liye ro rahaa hai..”raja bole, “pingala to pingala thi..” maharj bole, äre mai tum ko daso pingalaa laake de du?..bhabhut se kayi pingala dikha di yog bal se! (Bhartruhari aur guruji Gorakhnath ji ki sampurn katha ki link :  bhatruhari aur jogi Gorakhnath )

successful life tips

swasth sukhi jeevan sab ki maang hai…adhytmik aanand sabhi ki mang hai..sabhi ko  satosh ho jata..

diwali me mithayi  mitha munh karane ke liye thoda sa khana,  lekin mave ke mithayiyo se saawadhan rahenaa..nakali ghee aur nakali mawa hota hai..liver, kideny pe bura asar hota..paachan kharaab karataa hai, bimariyaa lata hai..Vivekanand bolate the mithayi ki dukan sakshat yamdut ki maut ki dukan hai..isliye aisi mithayi se parhej karanaa…ghar me banaa lena…
diwali me narayan sahit ki lakshmi ka pujan karate…aap narayan ko chahate to lakshmi ji prasann hoti hai… maa ki tarah puje to prasann hoti hai.. lekin jo lakshmi ka upbhog karane jate to lakshmi mata unhi par chandika rup dikhaati hai..

8 chij ka mishran kar ke 5 aahutiya dalate gaay ke kande par ghee, gud, chandan chura, kapur, gugal, chawal, jau, til..sthan devatabhyo namah , gram devatabhyo namah, kul devata bhyo namah..kar ke ghar ke sabhi 5 -5 aahutiyaa daale.rasoyi ghar me baith kar ghar ke log khana khaye..to ghar ke logo ki visanvaadita mitati hai..ghar ke sabhi sadasya mil kar .. diwaar par guru athava  devata par ek tuk dekhate huye “hari om”ka lambaa uchcharan kare , aisa 5  din kare to sukh sampada aayegi..

muslim log hai to hari om kaise bole ? to “alllaaho” kar do…is prakar karane se bhi muslim ko bhi wo hi phayada hoga jo hindu ko phayda hoga..


jogi ke dwar pe jo milataa hai kahi nahi vo milataa

prapti aur pratiti ka bhram yahi pe aakar mitataa

jogi re kya jadu hai tere gyan me..

kaal ki sarthakataa me hi pujan hai mahaakal ka

jogi ke dware saphal hai har pal,chhute mohjaal ka

jogi re kya jadu hai tere pyar me…
mahakaal ke pujan se to puny hai sab ko milata

paap puny se paar ho jata jo jogi ki wani hai sunata

jogi re kya jadu hai tere satsang me….

Om Shanti

SADGURUDEV JI BHAGAVAN KI MAHAAJAYJAYKAAR HO!!!!!

GALATIYON KE LIYE PRABHUJI KSHAMA KARE…

उज्जैन शरद पूनम

ब्रम्ह्वेत्ता परमपूज्य संतश्री आसाराम बापूजी 

20-22ओक्ट2010 

20 ओक्टोबर  2010 उज्जैन में धमाधम बर्षा हुयी..शाम के सत्संग में लाखो लाखो लोग  ’ जोगी रे’ भजन गाते , झूमते-नाचते खूब आनंद मनाये…

असोद्जा का मेघ बहुत करे उपकार! 

पुज्यश्री बापूजी बोले, ये आश्विन मास  की वर्षा हितकारी   है, यहाँ पर वर्षा की जरुरत भी है…इसलिए वर्षा को रोके नहीं, आने दे!..सत्संग मैदान तो पूरा पानी से भर गया था…लेकिन सेवाभावी भक्तो ने और उज्जैन के सेवाभावी कर्मचारियों ने मैदान फिर से ठीक कर दिया..दल दल तो थी , लेकिन लोग ऐसा नहीं सोचते की कपडे गंदे होंगे…नहीं नहीं..क्यों की सब को पता है बापूजी के सत्संग दर्शन से तो  ‘दिल’ स्वच्छ होते है! पुज्यश्री बापूजी के दर्शन सत्संग से बाहर भीतर सभी दल-दल सुख जाता है! :)

अमृत वर्षी कारुण्यमूर्ति 


इंद्र के अमृत से भी जो लाभ नहीं होता वो लाभ होता है सत्संग से…सत्संग का लाभ मिल गया तो समझो परम लाभ हो गया…!
सत्संग से ये लाभ होता की  प्रारब्ध से ,प्रकृति से ईश्वरीय नियमो से कैसी भी परिस्थिति आये उस में दुखी सुखी, भयभीत-परेशान नहीं   होना ;  उस से प्रसन्न होकर , उस का उपयोग कर के उन्नत होना ये आप के हाथ की बात है!जैसे कल प्रकृति की परीक्षा – धमाधम बारिश में साधको ने जो प्रसन्नता से स्वागत किया इस से सदगुरुदेव जी बहोत प्रसन्न है की सभी साधक 100 % से पास हो गए! :)

सहज सरल स्वभाव में पुज्यश्री सदगुरुदेव 

मनुष्य के अन्दर इश्वर का ऐसा अद्भुत सामर्थ्य और शक्तियां  है की कोई भी उस का पूरा वर्णन नहीं कर सकता!
लेकिन मनुष्य गलती ये करता है की दुःख आता तो संसार की तरफ भागता है..समझो आग लगे और पेट्रोल पम्प  का फुव्वारा करने जाता है!आग लगे और सूखे तिनके डलवाने जाता है…

1) दुःख आये तो दुःख -हारी हरी के शरण जाओ..वो ही दुःख हारी है…संसार क्या दुःख मिटाएगा?उस के पास तो अपना ही दुःख है…संसार उसी को चाहता जो उस के दुःख मिटाए..जो अपने दुखड़े रोये उस को संसार नहीं चाहता..इसलिए उक हरी को पुकारो..हरी में शांत हो जाओ..एक तुक देखो..प्रार्थना करो..हे दुःख हारी तू ही अज्ञान हरनेवाला, दुःख हरनेवाला,अपना स्वभाव भरनेवाला हम तेरी शरण आये..हरीईईईई ओ sssssम  ..ऐसा 15 से 25 मिनट सुबह-दोपहर -शाम चालू कर दो..कैसा भी दुःख हो,अगर 2/3 दिन में नहीं दुःख भागा तो मेरे पास दुःख को ले आना! :)

ये उपाय करने के बाद भी तुम्हारा दुःख नहीं जाता तो मैं  कुछ भी सहेने को तैयार हूँ!मेरा गाल और तुम्हारी थपड़े  अथवा तो मेरी पीठ और तुम्हारे मुक्के!!नहीं कैसे भागेगा दुःख? गैरंटी  देता हूँ ना .. :)
दुःख होता क्यों है?

-मन की चाहि नहीं हुयी तो दुःख होता है..

-विरोधी सफल हुआ तो दुःख होता है..

-अपना जिस को मानते वो चला जाने के दुर्र से दुःख होता है…

.तो कुलमिलाकर दुःख बेवकूफी का बेटा है.. :)
मनुष्य के अन्दर अद्भुत शक्ति सामर्थ्य है , इस सामर्थ्य को नहीं जगाता और रोता रहेता वो ऐसा है की   ‘आ बैल मुझे मार!’   दुःख आता है तुम्हारी  सोयी हुयी शक्तियां  जगाने को..विवेक जगाने को..वैराग्य जगाने को…दुःख हारी से प्रीति  करने को…सुख आता है उदारता बढाने  को.. सभी में सुख बाटने को..दुखी होकर संसार की तरफ जायेंगे तो दुःख बढाते..दुःख हारी के पास जाओगे तो दुःख मिटेगा..
संसार अपने काम आनेवाले को चाहता है..दुखी को दुनिया नहीं चाहती..

उज्जैन सत्संगियो की संख्या कैमरा की पकड़ में नहीं आ रही थी… 

2)  कभी ऐसा नहीं सोचो की हम तो हलकी  जाती के है..यहाँ तक की नीच से नीच काम धंदा करनेवाले में भी ऊँचे से ऊँचे परमात्मा का सामर्थ्य , सुख के दर्शन होते रहेते है…
शरीर मलिनता को प्राप्त हो उस के पहेले तुम अमरता को प्राप्त कर लो… कैसी भी परिस्थिति में सम रहो..
शामा  नाम की वेश्या अपना शरीर बेच कर नाच कर, गा कर कामी लोगो की  काम की पुतली बन कर जीवन जीती थी..उस को लड़की हुयी..लड़की बड़ी खुबसूरत थी…जीतनी बाहर से खुबसूरत थी, उतनी भीतर से भी उस की खुबसुरती चमकी..सत्संग जाती…15 वर्ष की हुयी तब तक तो नाच गाने में बड़ी निपुण हो गयी..

(  पुज्यश्री बापूजी ने संत कान्होपात्रा  की कथा  सुनाई.. कथा के लिए कृपया  लिंक पर क्लिक कीजिएगा .. संत कान्होपात्रा )

पुज्यश्री बापूजी उज्जैन व्यासपीठ  से.. 

3) संत सताए तीनो जाए आयु बल और वंश

ऐसे ऐसे कई गए दुर्योधन, रावण  जैसे कंस
कर्णाटक में महात्मा हो गए…बसवेश्वर..उन्हों ने लिंगायत धर्म की स्थापना की..जाती पाति के भेद-भाव नहीं मानते..तो ब्राम्हणों  ने विरोध किया तो राजा भी विरोधी हो गया….राजा ने उस महात्मा को बहुत कष्ट दिया, उन को हाथी  के पैरो तले कुचलवाया..उन के शिष्यों पर  बहोत जुलुम किया..राज सत्ता के बल से जुलुम तो कर लिया, लेकिन बाद में उस की ऐसी हालत हुयी की खोज कर भी उस का नामोनिशन नहीं मिलता..लिंगायत सम्प्रदाय के शिष्य और आश्रम आज भी  बसवेश्वर में मौजूद है…

भक्तो के भगवान 

4) केवल अपना हीत सोचता वो असुर है..अ-सुर माने दैत्य ..पूरी मानवता का भी  मंगल  सोचते, वो तो केवल महामानव ही सोच सकते…
साधू ते नहीं होवे  कारज हानी

यदि वो संकल्प चलाये मुर्दा भी जीवित हो जाए..
संत नामदेव का यश चारो ओर फैला था….विदर्भ के भक्तो ने बुलाया तो नामदेव जी भक्तो के साथ विदर्भ में गए..राजा को पता चला की इतने सारे लोग आ रहे है तो मौका है…विदर्भ नरेश ने नामदेव जी को बंदी बना कर लाया और मरी हुयी गाय ला कर उन के सामने रख दी … आदेश दिया की मरी हुयी गाय जिन्दा कर के दिखाओ या हमारा मजहब स्वीकार करो, मुसलमान बनो..वरना सूरज डूबते ही गला कटेगा..
धर्मांध राजा था ..क्रूर अपनी क्रूरता नहीं छोड़ता तो नामदेव अपने भगवान को क्यों छोड़े?…भक्तो के प्राण कंठ में आ गए की सूरज अब डूबने को है…नामदेव जी  कीर्तन करते करते विश्रांति योग में चले गए..भ्रू-मध्य में संकल्प कर के गाय की तरफ देखते हुए पानी छिटका तो गाय जिन्दा हो गयी..!!

अपार जनमेदनी.. 

5) तुम्हारे अंतकरण की ऐसी ऊँची दशा हो की वर्तमान में सुखद, भविष्य में सुखद हो…इहलोक परलोक सुखी हो…. संघर्षो से बच कर आराम करने के लिए गुरुद्वार नहीं होता..भक्ति सेवा कर के परम आराम में पहुँचाने के लिए गुरु का द्वार होता है..
गुरुवचनो का आदर कर के सेवा सुमिरन में लगा रहेता उस के पीछे दुनिया घुमती है…

(पुज्यश्री बापूजी राजा भर्तृहरि और उन के गुरूजी जोगी गोरखनाथ जी की कथा सुनाये..पूरी कथा के लिए लिंक पर क्लिक कीजिएगा.. राजा भर्तृहरि की कथा )
राजा भर्तृहरि बोले : “तो क्या योग सत्ता जिला सकते है?”

जोगी गोरख नाथ जी बोले : “तुम्हे शंका है क्या?” उठाई भभूत और फूंक मार के हिरन को बोले “उठ!”मरा हुआ हिरन उठ कर खडा हो गया!! योग सत्ता ने हिरन को जिला दिया!! भर्तृहरि चरणों में गिरा……

राजा भर्तृहरि बोलते : “मुझे भी योग विद्या सिखाओ…महाराज मुझे दीक्षा दो”

…जोगी जी बोले, “चमत्कार देख के दीक्षा लेना  ये  तो ठीक नहीं..विवेक जागेगा तब आओ..”

प्रणाम कर के राजा लौट गया..लेकिन ह्रदय में श्रध्दा लेकर गया…अब निर्दोष जीव की जान लेने की इच्छा नहीं रही..अपनी पिंगला रानी को समझा रहा है की सतशिष्य की पहेचान है की अपने गुरु के सिवा कही उन का मन न लगे… एक सद्गुरु मिला तो बास!
सूरज उगा तो और दिया किया न किया…
सुपात्र मिला तो कुपात्र को दान दिया न दिया..

गुरु ऐसा सोचता है की , सत-शिष्य मिला तो कु-शिष्य को ज्ञान दिया न दिया..

कहे कवी गंग सद्गुरु मिला तो औरो को नमस्कार किया न किया..


सत शिष्य की पहेचान है की एक सद्गुरु मिल गया तो इधर उधर भटकेगा नहीं..जो भटकता है वो सत -शिष्य नहीं..जैसे एक पति मिला तो पतिव्रता स्री  अपने पति के सिवा कही नहीं भटकती…पतिव्रता का क्या लक्षण होता है? पतिव्रता का लक्षण है की पति के प्राणों के साथ उस के प्राण जुड़े होते है…पति का जीवन ही उस का जीवन होता है..सती पति का वियोग नहीं सहेति..

इस प्रकार भर्तृहरि ने पिंगला को सुनाया…पिंगला पति  परायणा ..एक दिन भर्तृहरि को सुझा की शिष्य की परीक्षा गुरु लेते और पतिव्रता की परीक्षा पति लेते..तो एक दिन अपने कपडे रक्त से गिले कर के ऐसे चिन्ह कर के भेजे, और पिंगला को कहे की शत्रु के द्वारे राजा मारे गए..पिंगला ने कपडे देखे की यही कपडे पहेन  के राजा गए थे, और ये कपडे ऐसे रक्त से सने है…हार्ट  एटेक   हो गया और पिंगला मर गयी…राजा भर्तृहरि “हाय हाय”कर के विलाप करे की.. ‘ हे पिंगला ये मैं परीक्षा नहीं लिया,  तुम्हारे साथ अन्याय किया..जुलुम किया..अब कैसे प्रायश्चित्त करू? ‘  ..पिंगले पिंगले करते करते भर्तृहरि  तो मानो दीवाने हो गए..बहुत समय बीत गया..गोरखनाथ जी ने देखा की अब समय आया है..गोरखनाथ  जी वहाँ  से गुजर रहे थे , जहा भर्तृहरि एकांत में पिंगला की याद में विलाप कर रहे थे…

नज़रो से वो निहाल हो जाते, जो संतो के नज़रो में आ जाते.. 

एकांत में किस की याद आती?

एकांत में जिस की याद आती उसी का महत्त्व है आप के जीवन में…स्वप्ना कैसा आता है, उसी का महत्त्व है..वार्तालाप एकांत में किस से करते हो?

हम गुरूजी से बाते करते थे…

भगवान के लिए एकांत में रहो…..भगवान के लिए चुप होने से सामर्थ्य काम आता रहेगा..रात्रि को कुछ नहीं करते तो वो ही  भगवत सत्ता स्थूल शरीर को आराम देती; जागृत में भगवत स्मृति में चुप्पी करते तो वोही सत्ता आत्म-स्वरुप को आराम देती है..उस सत्ता से मिलनेवाले सामर्थ्य का ढिंढोरा  न पीटो  तो लाभ अधिक होगा……
आयु आरोग्य और पुष्टि चाहते तो सूर्योदय के पहेले जाग जाओ..प्राणायाम करो..भार रहित होना चाहते , सुखमय जीवन चाहते हो तो अनेक स्थानों का आकर्षण छोड़ कर एक परमेश्वर के चरणों में  अपने को अर्पित कर के उस की प्रीति  से स्मृति करो….बालक के स्मित में तुम ही हो महाराज…पक्षी के किलोल में तू है भगवान.. ऐसे एक के माधुर्य  से मधुमय स्मृति बना ले..
दुःख से बचने के लिए सुख की लालच से  बचो ….विवाह करो लेकिन उस से सुखी होने की लालच छोडो..दूसरो से मान और स्तुति की इच्छा छोडो..
भगवान की शरण चाहते तो बार बार उस की स्मृति करो…भगवान की स्मृति सतत नहीं होती बोले…तो जैसे ट्यूब लाईट  देखते, पंखे को देखते, टीवी-फ्रिज को देखते तो दिन भर ये थोड़ी रटते की इन में इलेक्ट्रिक शक्ति है,लेकिन भूलते नहीं…तो ऐसे ही जो भी देखो उस में मधुमय सर्व व्याप्त की स्मृति बनी रहे..

सुमिरन ऐसा कीजिये खरे निशाने चोट …

ऐसा  सुमिरन होगा तो चाहे कही भी बैठे, स्मरण सदा बना रहेता…ऐसे सुमिरन हो…फिर तो शरीर को साधन समझ के मजबूत करना भी पुण्य हो जाएगा..शरीर से ममता हटा कर दुसरे के काम आये इसलिए शरीर को संभाला तो सेवा माना   जाता..इस के लिए शरीर पर खर्चा किया तो दान माना  जाता…

भगवान के साथ शाश्वत  सम्बन्ध है..तोड़ना चाहे तो तोड़ नहीं सकते..और संसार के साथ अ-शाश्वत सम्बन्ध है, रखना चाहे तो भी रख नहीं सकते…
जीवन मुक्त होना चाहते तो ज्ञानी का स्वाभाव अपने अंतरात्मा में धर दीजिये…निर्भीकता, मुदिता, समता, आदि..

भक्तो के लिए कैसा रूप बनाया.. 

गोरखनाथ जी मिटटी का हांड़ी(मटका) लेकर भर्तृहरि के सामने से ऐसे ढंग से गए की उस की नजर पड़े…और सीर पर से हांड़ी गिरी..गोरखनाथ जी जोर जोर से रोने लगे..हांड़ी रे हांड़ी …क्या गुनाह था की तू फुट गयी? तू क्यों मर गयी?..तेरे बिना कैसे जियुंगा?”

भर्तृहरि देख रहा था… बोले , “महाराज एक हांड़ी के लिए काहे रोते हो? मैं  तो आप को दसो हांड़ी लाकर दे दूँ…आप संत हो कर हांड़ी के लिए रो रहे!”

महाराज बोले, “तू भी पिंगला के लिए रो रहा है..”

राजा बोले, “पिंगला तो पिंगला थी..”

महाराज बोले,  “अरे  मैं  तुम को दसो पिंगला लाके दे दूँ ?..भभूत से कई पिंगला दिखा दी योग बल से! (भर्तृहरि और गुरूजी गोरखनाथ जी की सम्पूर्ण कथा की लिंक :  भर्तृहरि  और जोगी गोरखनाथ )

सफल  लाइफ टिप्स 

स्वस्थ सुखी जीवन सब की मांग है…आध्यत्मिक आनंद सभी की मांग है..सभी को  संतोष  चाहिए ..

दिवाली में मिठाई  मीठा मुंह करने के लिए थोडा सा खाना,  लेकिन मावे के मिठाईयों  से सावधान रहेना..नकली घी और नकली मावा होता है..लीवर, किडनी  पे बुरा असर होता..पाचन खराब करता है, बीमारियां  लाता है..विवेकानंद बोलते थे मिठाई की दुकान साक्षात् यमदूत की मौत की दुकान है..इसलिए ऐसी मिठाई से परहेज करना…घर में बना लेना…
दिवाली में नारायण सहित की लक्ष्मी का पूजन करते…आप नारायण को चाहते तो लक्ष्मी जी प्रसन्न होती है… माँ की तरह पूजे तो प्रसन्न होती है.. लेकिन जो लक्ष्मी का उपभोग करने जाते तो लक्ष्मी माता उन्ही पर चंडिका रूप दिखाती है..(लक्ष्मी जी का पुत्र बनो ,  लक्ष्मी माँ  को पत्नी ना बनाओ –  दुःख दरिद्रता आएगी )

8 चीज का मिश्रण कर के 5 आहुतियां  डालते गाय के कंडे पर घी, गुड, चन्दन चुरा, कपूर, गूगल, चावल, जऊ, तिल..स्थान देवताभ्यो नमः , ग्राम देवताभ्यो नमः, कुल देवताभ्यो   नमः..कर के घर के सभी 5 -5 आहूतियां  डाले…रसोई घर में बैठ कर घर के लोग खाना खाए..तो घर के लोगो की विसंवादिता मिटती है..घर के सभी सदस्य मिल कर , दिवार पर गुरु अथवा  देवता पर एक टक  देखते हुए “हरि  ॐ”का लंबा उच्चारण करे , ऐसा 5  दिन करे तो सुख सम्पदा आएगी..

मुस्लिम लोग है तो  ‘हरि ॐ’ कैसे बोले ? तो “अल्ल्लाहो” कर दो…इस प्रकार करने से भी मुस्लिम को भी वो ही फायदा होगा जो हिन्दू को फायदा होगा..


जोगी के द्वार पे जो मिलता है कही नहीं वो मिलता

प्राप्ति और प्रतीति का भ्रम यही पे आकर मिटता

जोगी रे क्या जादू है तेरे ज्ञान में..


काल की सार्थकता में ही पूजन है महाकाल का

जोगी के द्वारे सफल है हर पल,छूटे मोहजाल का

जोगी रे क्या जादू है तेरे प्यार में…


महाकाल के पूजन से तो पुण्य  है सब को मिलता

पाप पुण्य  से पार हो जाता जो जोगी की वाणी है सुनता

जोगी रे क्या जादू है तेरे सत्संग में….

ॐ शांती

सदगुरुदेव जी भगवान की महा जयजयकार  हो!!!!!

गलतियों के लिए प्रभुजी क्षमा करे



Advertisements
Explore posts in the same categories: Pujya Bapuji

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s


%d bloggers like this: