every action creat in re-action!

7th March. 2009, Nagpur Satsang

*************************************************

Sant Shiromani Param Pujya Shri Asaramji Bapu ki Amrutwani

*************************************************

 

 

 

….निंदा को, इर्षा को दूर रखना ..आपस में संघटित रहेनाहिंदू अगर संघटित हो जाएगा तो विश्व का भला हो जाएगा..क्यो की हिंदू धरम में ही भगवान को प्रगट करने की व्यवस्था है..दुसरे धरम में भगवान को बेटा नही बना सकते है..भगवान को सखा बनाकर नचा नही सकते..हिंदू धरम में ही वैदिक ज्ञान है..दुसरे धर्म में ऐसी व्यवस्था नही है….इसलिए दुनिया का भला चाहना हो तो हिंदू धरम का विस्तार होने दो….

और जो भूल से धर्मान्तरित हो गए है उन को वापसी घर बुलाओ..

इसी से दुनिया को भला होगा..

 

भारत को विश्वगुरु बनाना ये अपना नारा होछोटी छोटी बातो का नारा नही..

नारा तो ये ही हो की, “भारत को विश्व गुरु बनाना हैविश्व मानव की पीडा हरनेवाला भारत को बनाना है…”

 

और जरुर बनेगा..एक सरकार नही बनाएगी तो दूसरी..तीसरी..

संतो का संकल्प है!..आज नही तो कल पूर्ण होकर रहेगा..प्रकृति , ईश्वर संतो का संकल्प पूर्ण करते ही है..

 

ऐसी कई आत्मा प्रगट हो चुकी  है..लाखो ऐसे बच्चे पैदा हो चुके है , जो भारत को विश्वगुरु बनायेंगे….!

 

विवेकानंद ने कहा था की भारत के गाँव गाँव में , घर  घर में साक्षरता आए..लेकिन विवेकानंद जी बोले , ‘मिशनरियो ने रूकावट डाली तो मेरा कार्य सफलता पूर्वक पूर्ण नही हो पा रहा है..लेकिन खेतडी के महाराजा मैं तुम को सच कहेता हूँ..ये कार्य जरुर पूर्ण होगा..

मिशनरिवालो ने उन के पीछे ऐसा कु-प्रचार किया ऐसा जुलुम किया स्वामी विवेकानंद के लिए की उन के गुरु के लिए १० गज जमीन लेकर समाधी बनाना भी स्वामी विवेकानंद के लिए मुश्किल  हो गया था ..

विवेकानंद ने खेतडी के महाराज को कहा की,  ‘..मेरा संकल्प है..मैं अकेला और उन का नेटवर्क बड़ा..लेकिन खेतडी के महाराज मैं कहेता हूँ की भारत में साक्षरता हो ये मेरा संकल्प है ..तो ये मेरा संकल्प गाँव गाँव में घर घर में पहुचेगा ..साक्षरता में बदलेगा..भारत के गाँव गाँव में मोहल्ले मोहल्ले में साक्षरता जायेगी ..

तो आज विवेकानंद जी का संकल्प साकार हुआ है!

तो आशाराम का भी संकल्प साकार होता ही है..कौन रोक सकता है इस को?

हरि ॐ ..हरि ॐ..ओम्..ओम्

 

जो हिंदू  संस्कृति के साधुओ को बदनाम करते है , जुलुम करते है , राजनीती करना चाहते है, हिंदू साधुओको बदनाम कर के हिंदू संस्कृति को तोड़ना चाहते है तो मैं चुप नही बैठूँगा..

लाखो लाखो आशाराम दुसरे पैदा हो रहे ..मेरा एक शरीर चला जाए तो भी लाखो लाखो शरीरो में मैंने प्राण बल भर दिया है..मनो बल भर दिया है..विचार बल भर दिया है ..

 

सिर्फ़ मेरे पीछे मिशनरिया पड़ी है ऐसी बात नही..

हिंदू संत के पीछे कैसे भी सीधे -अनसिधे हिंदू को ही आगे रख के संत को बदनाम करते..

 

जैसे रामसुखदास जी महाराज हो गए.. अभी उन का शरीर शांत हुआतो मारवाडी समाज को भड़का कर ऐसा उन का विरोध किया किया की वो संत को ६० साल की उमर में अन्न-जल छोड़ देना पड़ा, इतना गन्दा कु-प्रचार किया ..

ऐसे ही संत ज्ञानेश्वर के लिए , नरसी मेहता के लिए, एकनाथ महाराज के लिए क्या क्या वो करते परदे के पीछे..

 

हिंदू संस्कृति को तोड़ने के लिए हिंदू संतो की जड़े कांटो , उन को बदनाम करो ..ऐसा नियोजन करते

 

मेरे लिए तो उन्हों ने जितना भी खर्चा किया , मेरे को तो फायदा ही हुआ…!..उन्हों ने कु-प्रचार किया तो जो नही आते थे वो भी आते है..! पहेले से लोग और बढ़ गए है!!

every action creat in re-action!

 

 

ये सैटेलाइट सिस्टम क्या होता है , हमारा  ब्रम्ह सिस्टम में ये संकल्प डाल दिया है..तो ये संकल्प पुरा हो कर ही रहेगा

भारत कोई सदा के लिए शोषित होगा क्या?

वास्को-दे-गामा भारत को नोच नोच के चला गया..अंग्रेज आए भारत को नोच के चले गए..अफगानिस्थानवाले आए भारत को नोच के चले गए..फिर भी भारत की भक्ति , तंदुरुस्ती और  ज्ञान अभी भी मौजूद है ..अब देखो २०११ के बाद क्या करवट लेता है भारत..!

 

 

ओम शान्ति.

 

हरि ओम!सदगुरुदेव जी भगवान की जय हो!!!!!

गलतियों के लिए प्रभुजी क्षमा करे….

 

****************************** 

 

….ninda ko, irsha ko dur rakhana ..aapas me sanghatit rahena…hindu agar sanghatit ho jayega to vishw ka bhala ho jayega..kyo ki hindu dharam me hi bhagavan ko pragat karane ki vyavastha hai..dusare dharam me bhagavan ko beta nahi bana sakate hai..bhagavan ko sakha banaakar nacha nahi sakate..hindu dharam me hi VAIDIK gyan hai..dusare dharm me aisi vyavastha nahi hai….isliye duniya ka bhala chaahana ho to hindu dharam ka vistar hone do….

Aur jo bhul se dharmantarit ho gaye hai un ko waapsi ghar bulaao..

Isi se duniya ko bhala hogaa..

 

bharat ko vishwaguru banaanaa ye apana nara ho… chhoti chhoti baato ka nara nahi..

nara to ye hi ho ki, “BHARAT KO VISHW GURU BANAANAA HAI…VISHW MAANAV KI PIDA HARANEWALA BHARAT KO BANANA HAI…”

 

aur jarur banega..ek sarkaar nahi banayegi to dusari..tisari..

santo ka sankalp hai!..aaj nahi to kal purn hokar rahega..prakruti ishwar purn karate hi hai..

 

aisi kayi aatma pragat ho chuki  hai..lakho aise bachche paida ho chuke hai , jo bharat ko vishwaguru banayenge….!

 

Vivekanand ne kaha tha ki bharat ke gaanv gaanv me , ghar  ghar me saaksharataa aaye..lekin mishanariyo ne mera kary saphalata purvak purn nahi ho paa rahaa hai..lekin khetadi ke maharaja mai tum ko sach kaheta hun..

mishanariwalo ne un ke pichhe aisa ku-prachar kiya aisa julum kiya swami vivekanand ke liye ki un ke guru ke liye 10 gaz jamin lekar samadhi lekar samadhi banaanaa bhi swami vivekanand ke liye musibat ho gaya..

vivekanand ne khetadi ke maharaj ko kaha ki,  ‘..mera sankalp hai..mai akela aur un ka network bada..lekin khetadi ke maharaj mai kaheta hun ki …bharat me saaksharta ho ye mera sankalp hai ..to ye mera sankalp gaanv gaanv me ghar ghar me pahuchega ..saaksharata me badalega..bharat ke gaanv gaanv me mohalle mohalle me saaksharata jayegi ..’

to aaj vivekanand ji ka sankalp saakar hua hai!

to Asharam ka bhi sankalp sakar hota hi hai..kaun rok sakata hai is ko?

Hari OM ..Hari Om..OMM..OMM…

 

jo hindu  sanskruti ke sadhuo ko badanaam karate hai , julum karate hai , rajniti karana chahate hai, hindu sadhuoko badanaam kar ke hindu sanskruti ko todana chahate hai to mai chup nahi baithunga..

lakho lakho asharam dusare paida ho rahe ..mera ek sharir chala jaaye to bhi lakho lakho shariro me maine pran bal bhar diya hai..mano bal bhar diya hai..vichar bal bhar diya hai ..

 

sirf mere pichhe mishanariya padi hai aisi baat nahi..

hindu sant ke pichhe kaise bhi sidhe -ansidhe hindu ko hi aage rakh ke sant ko badnaam karate..

 

jaise ramsukhdaas ji maharaj ho gaye.. abhi un ka sharir shant huaa…to marwadi samaaj ko bhadakaa kar aisa un ka virodh kiya ki wo sant ko 60 saal ki umar me ann-jal chhod dena pada, itana ganda ku-prachar kiya ..

aise hi sant gyaneshwar ke liye , Narasi mehata ke liye, Eknath maharaj ke liye kya kya vo karate parde ke pichhe..

 

Hindu sankruti ko todane ke liye hindu santo ki jade kaanto , un ko badanaam karo ..aisa niyojan karate…

 

mere liye to unho ne jitana bhi kharcha kiya , mere ko to phayadaa hi huaa…!..unho ne ku-prachar kiya to jo nahi aate the wo bhi aate hai..! pahele se log aur badh gaye hai!!

EVERY ACTION CREAT IN RE-ACTION !

 

 

ye satelite system kya hota hai , humhara bramh system me ye sankalp daal diya hai..to ye sankalp pura ho kar hi rahega …

bharat koyi sada ke liye shoshit hoga kya?

vasco-de-gama bharat ko noch noch ke chala gaya..angrej aaye bharat ko noch ke chale gaye..aphaganisthanwale aaye bharat ko noch ke chale gaye..phir bhi bharat ki bhakti , tandurusti aur  gyan abhi bhi maujud hai ..ab dekho 2011 ke baad kya karvat leta hai bharat..!

 

Om Shanti.

Hari Om!Sadgurudev ji Bhagavan ki Jay ho!!!!!

Galatiyo ke liye prabhuji kshama kare….

Advertisements
Explore posts in the same categories: Pujya Bapuji

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s


%d bloggers like this: