Shaakshat Aparoksh!

Sept. 11 th  2008; IST : 8.30pm 

Ekant Satsang

 

********************************************************

Sadgurudev SantShiromani ParamPujya ShriAsaramBapuji ki Amrutwani :-

 

*******************************************************

 

 video link for this satsang :

http://in.youtube.com/watch?v=XuS-xYjvSm4

 

 

 

 

 

 

 

(For Hindi Devnaagari Please scroll down)

….paramatma paroksh bhi nahi hai…. aparoksh bhi nahi hai…sakshat aparoksh hai….

agar swarg aap ne nahi dekha to paroksh hai , aur swarg mey gaye to aparoksh ho gaya…

 

aise hi aatma  paramatma sakshaat aparoksh hai…

 

humahari aakhe jis ko dekhati wo sakshat hai ..

paramatma ki satta se aankhe dekhati hai… apana jo aapa hai us ko bolate hai sakshaat aparoksh ,

 “jo sahib sada hajure andha janat tako doore”

 

jo jaise sharir mey baitha hai , kuvichar mey baitha hai ,  satkarm mey baitha hai , vyarthy karm me baitha  hai waisa hi wo vyavahaar kar raha hai… kyo ki jo saksahat aparoskh hai udhar ko gati nahi huyi ..!

 

maulana jalalauddin raaajsi thath se rahete …sab kuchh dekhane ke baad laga ki aayushy to nasht ho raha hai… to bade gharane ke log bhi phakir ho jate…budhd phakir ho gaye…

mai ek IS officer ko janataa hun jo phakir ban gaye, sant ban gaye… abhi 87 saal ke hai…. 50 saal se sadhu ban gaye hai …

 

(kitane bhi sukh bhoge to bhi )‘aakhir aayushy to nasht ho raha hai’… sharir chhut jayega to baad me bhi hum rahenge… to hum kaun hai?aisi  tadap badh  jati hai…

 

 jaise moraraji bhai bolate ki pradhan mantri pad me wo shanti nahi mili jo raman maharaj ke charano me mili …

 

sakshaat aparoksh ka  jo samarthy hai usi se kaam chalata srushti ka.. us ko nahi jaanate isliye sara kara karaaya chala jata… isliye shariri ko apana maanate, vastuo ko ‘mera’ maanate …

 

pada rahega maal khajana, chhod triya sut jana hai l

kar satsang abhi se pyare , nahi to phir pachhatana hai ll

 

(triya mane sree/patni aur sut mane beta)

to satya ka sang karo.. jo sat swarup hai .. gyan swarup  hai ..jiska koyi ant nahi hai , us bramh swarup ka gyan paa liya , anubhav paa liya to sakshat aparoksh paroksh ho gay a!!

 

 

mann tu jyoti swarup apana mul pahechan l

 

…aukhi ghadi aati to   mrutyu ke ek jhatake se sab pasaar ho jayega…  kyo ki jo sakshat hai , us ka pata nahi hai, us ko jaanate nahi hai….braamhi sthiti prapt kar….(sabhi bhakt gaa rahe hai..)

 

bramhi sthiti prapt kar  , kary rahe naa shesh ll

moh kabhi naa thug sake , ichha nahi lavlesh ll

purn guru krupa mili  , purn guru ka gyan  ll

aasumal se ho gaye ,saai aasaram ll

 

khali asumal se asharam ho gaye aisa nahi …

gadaadhar ke samane kali mata prasann ho kar  pragat ho jati thi…(to bhi kali maa ne kaha ki totapuri guru se diksha le lo, to gadaadhar bolate..)  “maa, mai gajara bana ke laata hu ,to tum sweekar karati hun… mere sunghe huye phool bhi  mai prem se deta hun to aap sweekar kar leti ho..(to bhi kyo guru ke pas jane kya jarurat hai?)

 

….  ‘prem’ to vashikaran mantr hai.. shiv ji ka aisa prem aisi prem ki nigaah.. aisa prem ka bhav ki jis par pade nihaal ho jaaye… to wo prem swarup nity navin us me tike hai shiv ji aur  shrikrushn …us me jo jitane tike hai, utane hi  log khinche chale aate hai…!

 

…aur prem kis se hota hai? jis me ‘apanatv’ hai , us me priti hoti hai.. apanaapan jaha se shuru hota hai , wo hai sakshat aparoskh…!

 

jati priy, parivar priy , patni priy..sharir priy …to sharir par musibat aati hai to sthul indriya hatho se bachaati hai.. jo jyada najdik hai us ko raksha mey lagaate …phir bhi kisi ko puchhe ki faansi chahate ya hath katavaaoge to bolenge ki hath katavana thik hai jaan to bachegi….aise aatma ke najdiki jo chij ho  gayi us ko bachayega  aur jo dur hai us  ko kurban karega……..

sharir se bhi apana aapaa adhik priy hai , to aapane aapa par  koyi musibat aayi to sharir ki bali dekar bhi apane aap ko  sukhi rakhana chahate ….aapana aapa itana priy hota hai ki , jis ke liye sharir bhi de dete …. marate hai… to mai sukhi ho jaun…(ye hi bhav hota hai)

mere pitaji jab antim samay aaya , sharir jara bimar raheta tha to puchhate , “aaj kaun si tithi hai? pancham hai  kya?..ekadashi kab hai?…achha  kal ka din bhi rahena padega !”

to bhai puchhate .. “kya bol rahe?”

…to  chup ho jate…

Aur jab  ekaadashi ki subah huyi to , “ye jeththe, ye jeththe” ..(mere bhai ka naam tha..)..gaay ka gobar le ke aao… lipan karo… aur  mujhe niche dharati par rakho….gita ka path karo ….

 

..jab un ko niche dharati par rakha gaya to meri maa ko hath jode aur  bolate marane ki kala sikhataa hun….

jane anjane me jo maine 2 shabd bole maph kar dena ..”

.maa to rone lagi, ye kya bol rahe?”     …phir maa bhi boli ki , “aap bhi mere ko maph kar do!”…..

 

..to ye hath kyo jode? ‘gaay ka gobar ka lipan karo’ kyo? Kyo ki , ‘sharir chhute to chhute, mai dukhi nahi hun’…ye hi  chaahate..hai naa ?

 ..to aap ka aapa  sakshat hai… aparoskh hai ..jo aap dekh rahe wo aap nahi hai…. ghar mey aaye to ghar aap ho gaye kya? aise jo bhi sharir mey baithe ho ,  us ko ‘mai’ maan rahe hai …aap wo nahi ho…aap to chaityany roop ho ,  gyan swarup hai ..us ko jab tuk nahi jana tab tuk kuchh nahi jana…jis ka aatm gyan ‘mai’ tak ho jata to ho gaya!…totapuri guru  ne gadaadhar se ramkrushn dev ko pragat kar diya..!!

 

sant ke liye kuchh (galat bhav se)bole to prakruti ki taraf se us ke tino  jaye tej, bal aur vansh ..

hum to chahate sab ka mangal ho lekin prakruti nahi chhodati….prakruti ke niyam hai..

 

santo ke prati aadar hota , prem hota , sneh hota to unn ko jo shanti milati wo hi jaanatehai.. …

 

sakshaat bhagavan hi karm ka niyamak hai, karm ka prerak hai aur karm ka phaldata hai…aur wo hi  karm karaata hai.. to wasana nusar karm karate to durgati hoti… dharm ke anusar karate to karm ki gati unchi hoti ….karmo se mukt hote jate… dharm aur sanskruti ke liye karm kiya to der saber aap ko chamaka deta… sanskruti aur dharm ka kam phal  deta hi hai….aur swarth se karate to wo thode samay ke liye dikhataa  hai, lekin baad me aise chapet me aa jate ki kya bole……aise kayi log dekhe hai …

aur aise bhi kayi log dekhe hai jo  satsang me aaye aur un ke jeevan mey bahot sundar parivartan aaye…..agar aap ko labh huye hai to imandari se hath upar karo…  hummm…tabhi to aate hai..aarthik, samajik, shariraik labh to hote hi hai…lekin mrutyu ke samay bhi agar is bramhgyan ke satsang ki yaad aa jaye to ishwar ki yatra kar sakate hai !! J

..aur labh to dekh sakate hai lekin is bramhgyan ka labh to  bramhaaji ki taraaju bhi nahi tol sakati, itana labh hota hai !!  J

 ….jo atamgyan mai de raha hun wo ved pramanait bol raha hun…apane  aanubhav ko  chhukar bol raha hun…is ka labh to hoga… !! 🙂

 

jibh ko taloo me laga ke 6 min tuk dekho… kuchh hi din me anubhav hoga… khali jivha ko ek jagah rakhne se aisa  hota hai…

vishwas ke sath karo to labh hoga hi ….vaidik sankruti mey bahot saph-suthara gyan bhara huaa hai….

 

..

…tatavik gyan ki gadi to kabhi kabhi chalati….baki to  middle class ki adhyatmik hota hai….

jis ko kabhi chhod naa sake wo sakshat aparoskh hai aap ka aapaa hai.. …

kya kare ? kab milega..aise logo ko bahot unchi baat kahi hai kabir ji ne … ‘bhatak muaa…. khojat khojat yug gaye..”

pairo tale hi anguthi ya hiraa  dabaa hai, aur khojat phir raha hai … aise hruday me hi paramatma hai..aur yogo se khojat phir rahaa hai..

 

..socho  ki kitane bhi kimati hire mile ,  pramoshan ka letter mil gaya  mahine me 2 karod ki aamdani hogi aisa likha hai …..to bhi  aise letter ko kitane der pakad kar  baithoge? sakshat ke parosksh aparoskh sab chhut jayega…sakshat paroskh me aaoge nahi tab tuk aap ko dusare din ke liye layakat nahi milegi..(sab kuchh chhodakar jab tuk gahari nind mey nahi jayenge tab tuk dusare din ke liye freshness nahi milegi..)

 

sakshat aparoksh ke bal se hi sab vyavhar chalata hai ..

 

aatma parmatma dev sakshat aparoskh hai ..sapane mey gangaji nahaye to ganga ji ki dhara, nahane wale andar baahar sab aatmdev hi hai…sab sapana …lekin aatmdev to wohi ka wohi hai ..

 

sab kuchh chhod ke us ki sharan jate ho , tab sab kuchh lane ki yogyata laate ho….

 sab kuch chhodnaa hai usi ko apanaa manate ho…aur jo kabhi chhutega nahi wo hi paraya lagata hai …jis ko apanaa maan rahe ho , mar jayenge to sab yaha hi chhutega…jara to rahem karo …!

 

 

 

narayan hari narayan hari

 

jitane us prabhu ke paas jate utane rasamay hote ..aatm swarup hote ….tere phoolo se bhi  pyar..tere kaanto se bhi pyar… kyo ki denewale hath prabhu ke hai…. aap ko mitr milate hai to aanand aata ki nahi aata? Aata hai! Kyo ki wo aap ko nikat ka lagata hai…aise hi jo sab se nikat ka sakshat aparoksh hai , wo apane ko   milate to jab sabhi me wo hi mitr dikhayi deta to kitana anand aata hoga socho..!! 🙂

 

aap log to nind me jate… kaise pata hi nahi… hum to roj sote nahi …sakshat aparoskh me jaate… uthe to bhi sakshat aparoksh mey ..! : -)  …hum nahi jate auro ke jaise attach toilet me ! J ..hum to sidha sakshat aparoskh me …!!  isliye to  aajkal bapu kaise lagate ? ..jyada aanandit …jyada nirbhik…jyada utsaheet lagate hai ki nahi ?…to  ye baat hai!.. to sakshat aparokh hai na…:-)

 

narayan hari..

om namo bhagavate vasudevay… priti devay… mahdury devay… saksaht devay…!

kitane bhi mandir masjid jaao.. bhagavan kaha hoga?.. sakshat bhagavan ke satta se hi dikhega jo bhi dikhega… …kya kahayal hai? …us bade ki badaayi koyi maap nahi sakata…aii haii  J  .. prabhu teri jay ho..

 

wo madhumay hai..isliye  madhav hai.. indriyo ke dwara vicharan karata isliye  govind hai.. indriyo ka paalana karata  (go maana indriya) isliye gopal hai… kabhi chhutata nahi  isliye woh achyut hai …rom rom me ramata isliye ram hai …chitt ki dharaao mey raman karata isliye radha raman hai….

 

tasyaham sulabham parth….

shrikrushn kahete mai us ko sulabh hun jo mujh mey nity hai…..kitana bhi MA padho CA padho BA padho… mai to kaheta hun dasavi ki class bhi sulabh nahi jitana bhagavan ko paana sulabh hai!!

…40saal se bhi nahi   milate to us ki mang nahi,  priti nahi iske liye nahi milate…asali mang , asali priti nahi isliye durlabh hote hai..

 

kitana sulabh hai.. parikshit ko 7 din me mil jata ! koyi dasavi ki pariksha paas hoga kya 7 din mey?…

 

bhagavan nahi milate to wo to kabhi bichada hi nahi hai ..

 

narayan narayan ..

‘bapu milate nahi,  ekant me hai’ bolate  phir bhi hall to bhar  gaya hai!!

 

…ek lekh kisi ne padhkar sunaya….dil undel diya hai lekhak ne..  J

 

(Panjab Kesari naam ki masik patrika mey “sant samaaj ki agni pariksha” naam ka lekh aaya hai…)

narayan narayan narayan narayan

 

 Hari Om!sadgurudevji  bhagavan ki jay ho!!!!!

Galatiyo ke liye prabhuji kshama kare….

 
साक्षात  अपरोक्ष!
सप्टे  11 ,  2008; भारतियसमय  : रात  के 8.30 
एकांत सत्संग
 
***************************************************                                                     
सदगुरुदेव संतशिरोमणि परमपूज्य श्रीआसारामबापूजी  की अमृतवाणी  :-

 
****************************************************

 
….परमात्मा अपरोक्ष भी नहीं है…. साक्षात् परोक्ष है….
अगर स्वर्ग आप ने नहीं देखा तो अपरोक्ष है , और स्वर्ग मे गए तो परोक्ष हो गया…
 
ऐसे ही आत्मा  परमात्मा साक्षात् अपरोक्ष है…
 
हमारी आँखे जिस को देखती वो साक्षात् है ..
परमात्मा की सत्ता से आँखे देखती है… अपना जो आपा  है , उस को बोलते है “साक्षात् अपरोक्ष” ,
 “जो साहिब सदा हजुरे अँधा जानत ताको दूरे ”
 
जो जैसे शरीर में बैठा है , कुविचार में बैठा है ,  सत्कर्म में बैठा है , व्यर्थ  कर्म में बैठा  है ..वैसा ही वो व्यवहार कर रहा है… क्यों की जो साक्षात  अपरोक्ष है , उधर को गति नहीं हुयी ..!
 
मौलाना जलालुद्दीन राजसी ठाठ से रहेते …सब कुछ देखने के बाद लगा की आयुष्य तो नष्ट हो रहा है… तो बड़े घराने के लोग भी फकीर हो जाते…बुध्द फकीर हो गए…
मैं एक आइएस  ऑफिसर को जानता हूँ , जो फकीर बन गए, संत बन गए… अभी ८७ साल के है…. ५० साल से साधू बन गए है …
 
(कितने भी सुख भोगे तो भी )‘आखिर आयुष्य तो नष्ट हो रहा है’… शरीर छुट जायेगा तो बाद में भी हम रहेंगे… तो हम कौन है?ऐसी  तड़प बढ़  जाती है…
 
 जैसे मोरारजी भाई बोलते कि, प्रधान मंत्री पद में वो शांति नहीं मिली, जो रमण महाराज के चरणों में मिली …
 
साक्षात् अपरोक्ष का  जो सामर्थ्य है उसी से काम चलता सृष्टी का.. उस को नहीं जानते इसलिए सारा करा कराया चला जाता… इसलिए शरीर  को अपना मानते, वस्तुओ को ‘मेरा’ मानते …
 
पड़ा रहेगा माल खजाना, छोड़ त्रिया  सूत जाना है l
कर सत्संग अभी से प्यारे , नहीं तो फिर पछताना है ll

(त्रिया  माने स्री  /पत्नी और सूत माने बेटा)
तो सत्य का संग करो.. जो सत् स्वरुप है .. ज्ञान स्वरुप  है ..जिसका कोई अंत नहीं है , उस ब्रम्ह स्वरुप का ज्ञान पा लिया , अनुभव पा लिया तो साक्षात् अपरोक्ष “परोक्ष” हो गए !!
 
 
मन तू ज्योति स्वरुप अपना मूल पहेचान l
 
…औखी घड़ी आती तो  मृत्यु के एक झटके से सब पसार हो जायेगा…  क्यों की जो साक्षात् है , उस का पता नहीं है, उस को जानते नहीं है….ब्राम्ही स्थिति प्राप्त कर….(सभी भक्त गा रहे है..)
 
ब्राम्ही स्थिति प्राप्त कर  , कार्य रहे ना शेष l
मोह कभी ना ठग  सके , इच्छा नहीं लवलेश ll
पूर्ण गुरु कृपा मिली  , पूर्ण गुरु का ज्ञान  l
आसुमल से हो गए ,साईं आसाराम ll
 
खाली आसुमल से आशाराम हो गए ऐसा नहीं …
गदाधर के सामने काली माता प्रसन्न हो कर  प्रगट हो जाती थी…(तो भी काली माँ ने कहा कि, ‘तोतापुरी गुरु से दीक्षा ले लो’ , तो गदाधर बोलते..)  “माँ, मैं गजरा बना के लाता हूँ  , तो तुम स्वीकार करती हो … मेरे सूंघे हुए फूल भी  मैं प्रेम से देता हूँ तो आप स्वीकार कर लेती हो..(तो भी क्यों ?…गुरु के पास जाने क्या जरुरत है?)
 
….  ‘प्रेम’ तो वशीकरण मंत्र है.. शिव जी का ऐसा प्रेम.. ऐसी प्रेम की निगाह.. ऐसा प्रेम का भाव कि , जिस पर पड़े निहाल हो जाए!… तो वो प्रेम स्वरुप नित्य नविन उस में टिके है शिव जी और  श्रीकृष्ण …उस में जो जितने टिके है, उतने ही  लोग खींचे चले आते है…!
 
…और प्रेम किस से होता है? जिस में ‘अपनत्व’ है , उस में प्रिती होती है.. अपनापन जहाँ  से शुरू होता है , वो है साक्षात् अपरोक्ष …!
 
जाती प्रिय, परिवार प्रिय , पत्नी प्रिय..शरीर प्रिय …तो शरीर पर मुसीबत आती है ..तो स्थूल इन्द्रिय तो हाथो से बचाती है.. जो ज्यादा नजदीक है उस को रक्षा में लगाते …फिर भी किसी को पूछे कि, फांसी चाहते या हाथ कटवाओगे तो बोलेंगे कि, ‘हाथ कटवाना ठीक है , जान तो बचेगी’….ऐसे आत्मा के नजदीकी जो चीज हो  गयी उस को बचायेगा  और जो दूर है उस  को कुर्बान करेगा……..
शरीर से भी अपना आपा अधिक प्रिय है , तो अपने आपा  पर  कोई मुसीबत आई तो शरीर की बलि देकर भी अपने आपा  को  सुखी रखना चाहते ….अपना आपा  इतना प्रिय होता है की , जिस के लिए शरीर भी दे देते …. मरते है… तो मैं सुखी हो जावूँ …(ये ही भाव होता है)..

मेरे पिताजी जब अंतिम समय आया , शरीर जरा बीमार रहेता था तो पूछते , “आज कौन सी तिथि है? पंचम है  क्या?..एकादशी कब है?…अच्छा  कल का दिन भी रहेना पड़ेगा !”
तो भाई पूछते .. “क्या बोल रहे?”
…तो  चुप हो जाते…
और जब  एकादशी की सुबह हुयी तो , “ये जेठ्ठे, ये जेठ्ठे” ..(मेरे भाई का नाम था..)..गाय का गोबर ले के आओ… लिंपण  करो… और  मुझे निचे धरती पर रखो….गीता का पाठ करो ….
 
..जब उन को निचे धरती पर रखा गया तो मेरी माँ को हाथ जोड़े ..
और  बोलते “मरने की कला सीखता हूँ….!जाने अनजाने में जो मैंने २ शब्द बोले माफ कर देना ..”
….माँ तो रोने लगी, ये क्या बोल रहे?”   
 …फिर माँ भी बोली की , “आप भी मेरे को माफ कर दो!”…..
 
..तो ये हाथ क्यों जोड़े? ‘गाय का गोबर का लिंपण करो’ क्यों? क्यों की , ‘शरीर छूटे तो छूटे, मैं दुखी नहीं हूँ’…ये ही  चाहते..है ना ?
 ..तो आप का आपा   साक्षात् है… अपरोक्ष  है ..जो आप देख रहे वो आप नहीं है…. घर में आए तो घर आप हो गए क्या? ऐसे जो भी शरीर में बैठे हो ,  उस को ‘मैं’ मान रहे है …आप वो नहीं हो…आप तो चैत्यन्य रूप हो ,  ज्ञान स्वरुप है ..उस को जब तक  नहीं जाना तब तक कुछ नहीं जाना…जिस का आत्म ज्ञान ‘मैं’ तक हो जाता तो हो गया!…तोतापुरी गुरु
  ने गदाधर से रामकृष्ण देव को प्रगट कर दिया..!!
 
संत के लिए कुछ (ग़लत भाव से)बोले तो प्रकृति की तरफ़ से उस के तीनो  जाए तेज, बल और वंश ..
हम तो चाहते सब का मंगल हो लेकिन प्रकृति नहीं छोड़ती….प्रकृति के नियम है..
 
संतो के प्रति आदर होता , प्रेम होता , स्नेह होता तो उन को जो शांति मिलती वो ही जानते है .. …
 
साक्षात् भगवान ही कर्म का नियामक है, कर्म का प्रेरक है और कर्म का फलदाता है…और वो ही  कर्म कराता है.. तो वासना नुसार कर्म करते तो दुर्गति होती… धर्म के अनुसार करते तो कर्म की गति ऊँची होती ….कर्मो से मुक्त होते जाते… धर्म और संस्कृति के लिए कर्म किया तो देर सबेर आप को चमका देता… संस्कृति और धर्म का काम फल  देता ही है….और स्वार्थ से करते तो वो थोड़े समय के लिए दिखता  है, लेकिन बाद में ऐसे चपेट में आ जाते की क्या बोले……ऐसे कई लोग देखे है …
और ऐसे भी कई लोग देखे है जो  सत्संग में आए और उन के जीवन मे बहोत सुंदर परिवर्तन आए…..अगर आप को लाभ हुए है तो ईमानदारी से हाथ ऊपर करो…  हम्म्म…तभी तो आते है..आर्थिक, सामाजिक, शारीरिक लाभ तो होते ही है…लेकिन मृत्यु के समय भी अगर इस ब्रम्हज्ञान के सत्संग की याद आ जाए तो ईश्वर की यात्रा कर सकते है !!  🙂 
..और लाभ तो देख सकते है लेकिन इस ब्रम्हज्ञान का लाभ तो  ब्रम्हाजी की तराजू भी नहीं तोल सकती, इतना लाभ होता है !!  🙂
 ….जो आत्मज्ञान  मैं दे रहा हूँ वो वेद प्रमाणित बोल रहा हूँ…अपने  अनुभव को  छूकर बोल रहा हूँ…इस का लाभ तो होगा… !! 
 
जीभ को तालू में लगा के ६ मिनट  तक देखो… कुछ ही दिन में अनुभव होगा… खाली जिव्हा को एक जगह रखने से ऐसा  होता है…
विश्वास के साथ करो तो लाभ होगा ही ….वैदिक संस्कृति  में बहोत साफ-सुथरा ज्ञान भरा हुआ है….
 
..
…तात्विक ज्ञान की गाड़ी तो कभी कभी चलती….बाकि तो  मिडल  क्लास की अध्यात्मिक होता है….
जिस को कभी छोड़ ना सके वो साक्षात् अपरोक्ष  है आप का आपा है.. …
क्या करे ? कब मिलेगा..ऐसे लोगो को बहोत ऊँची बात कही है कबीर जी ने … ‘भटक मुआ…. खोजत खोजत युग गए..”
पैरो तलें ही अंगूठी या हीरा  दबा है, और खोजत फिर रहा है … ऐसे ह्रदय में ही परमात्मा है..और युगों  से खोजत फिर रहा है..
 
..सोचो  की कितने भी किमती हीरे मिले ,  प्रमोशन का लैटर मिल गया  महीने में २ करोड़ की आमदनी होगी ऐसा लिखा है …..तो भी  ऐसे लैटर को कितनी  देर पकड़ कर  बैठोगे? साक्षात् के परोक्ष  अपरोक्ष  सब छुट जायेगा…साक्षात् अपरोक्ष  में आओगे नहीं तब तक आप को दुसरे दिन के लिए लायकात नहीं मिलेगी..(सब कुछ छोड़कर जब तक गहरी नींद मे नहीं जायेंगे तब तक दुसरे दिन के लिए फ्रेशनेस नहीं मिलेगी..)
 
साक्षात् अपरोक्ष के बल से ही सब व्यवहार चलता है ..
 
आत्मा परमात्मा देव साक्षात् अपरोक्ष  है ..सपने मे गंगाजी नहाये तो गंगा जी की धारा, नहाने वाले अन्दर बाहर सब आत्मदेव ही है…सब सपना …लेकिन आत्मदेव तो वोही का वोही है ..
 
सब कुछ छोड़ के उस की शरण जाते हो , तब सब कुछ लाने  की योग्यता लाते हो….
 सब कुछ छोड़ना है और उसी को अपना मानते हो…और जो कभी छूटेगा नहीं वो ही पराया लगता है …जिस को अपना मान रहे हो , मर जायेंगे तो सब यहाँ ही छूटेगा…जरा तो रहेम  करो …!
 नारायण हरी नारायण हरी
 
जितने उस प्रभु के पास जाते उतने रसमय होते ..आत्म स्वरुप होते ….तेरे फूलो से भी  प्यार..तेरे कांटो से भी प्यार… क्यों की देनेवाले हाथ प्रभु के है…. आप को मित्र मिलते है तो आनंद आता की नहीं आता? आता है! क्यों कि वो आप को निकट का लगता है…ऐसे ही जो सब से निकट का साक्षात् अपरोक्ष है , वो अपने को मिलते तो जब सभी में वो ही मित्र दिखाई देता तो कितना आनंद आता होगा सोचो..!! 
 
आप लोग तो नींद में जाते… कैसे पता ही नहीं… हम तो रोज सोते नहीं …साक्षात् अपरोक्ष  में जाते… उठे तो भी साक्षात् अपरोक्ष मे ..! : -)  …हम नहीं जाते औरो के जैसे ऐटैच टॉयलेट में ! 🙂 ..हम तो सीधा साक्षात् अपरोक्ष  में …!!  इसलिए तो  आजकल बापू कैसे लगते ? ..ज्यादा आनंदित …ज्यादा निर्भीक…ज्यादा उत्साहीत लगते है की नहीं ?…तो  ये बात है!.. तो साक्षात् अपरोक्ष  है ना …:-)
 
नारायण हरी..
ॐ नमो भगवते वासुदेवाय… प्रिती देवाय … माधुर्य  देवाय… शक्ति  देवाय…!
कितने भी मन्दिर मस्जिद जाओ.. भगवान कहा होगा?.. साक्षात् भगवान के सत्ता से ही दिखेगा जो भी दिखेगा… …क्या ख़याल  है? …उस बड़े की बडाई कोई माप नहीं सकता…एई  है   🙂
  .. प्रभु तेरी जय  हो..!
 
वो मधुमय है..इसलिए  माधव है.. इन्द्रियों के द्वारा विचरण करता इसलिए  गोविन्द है.. इन्द्रियों का पालन करता  (गो माना इन्द्रिय) इसलिए गोपाल है… कभी छुटता नहीं  इसलिए वोह अच्युत है …रोम रोम में रमता इसलिए राम है …चित्त की धाराओं मे रमण करता इसलिए राधा रमण है….
 
तस्याहम सुलभं पार्थ….

श्रीकृष्ण कहेते मैं उस को सुलभ हूँ जो मुझ मे नित्य है…..कितना भी एम् ए  पढो का पढो बी ए पढो… मैं तो कहेता हूँ दसवी की क्लास भी सुलभ नहीं जितना भगवान को पाना सुलभ है!!
…४०साल से भी नहीं   मिलते तो उस की मांग नहीं,  प्रिती नहीं इसके लिए नहीं मिलते…असली मांग , असली प्रिती नहीं इसलिए दुर्लभ होते है..
 
कितना सुलभ है !.. परीक्षित को ७ दिन में मिल जाता ! कोई दसवी की परीक्षा पास होगा क्या ७ दिन में?…
 
भगवान नहीं मिलते तो वो तो कभी बिछडा  ही नहीं है ..
 
नारायण नारायण ..
‘बापू मिलते नहीं,  एकांत में है’ बोलते  फिर भी हॉल तो भर  गया है!!
 
…एक लेख किसी ने पढ़कर सुनाया….दिल उँडेल दिया है लेखक ने..   🙂 
 
(पंजाब केसरी नाम की मासिक पत्रिका में “संत समाज की अग्नि परीक्षा” नाम का लेख आया है…)
नारायण नारायण नारायण नारायण
 
 
 
हरी ॐ!सदगुरुदेव जी  भगवान की जय हो!!!!!
गलतियों के लिए प्रभुजी क्षमा करे….

 

Advertisements
Explore posts in the same categories: Pujya Bapuji

10 Comments on “Shaakshat Aparoksh!”

  1. Pritesh Says:

    Hari Om!, prabhu sadho, sadho, man anand se bhar gaya ur Shaakshat Aparoksh ko janke

    Hari Om! Sadho Sadho…..

  2. Dr Rajendra Patel Says:

    HariOm Prabhuji, Sadho, Sadho, Sadho, Sadho, Sadho……………………..

  3. BIpin Jadav Says:

    Sadho… Sadho……. Uttam seva.. Hari om ji apki is seva to bar bar pranam hai.
    Om. GURU…..

  4. sheetanshu Says:

    Sadho sadho sadhosadho sadho sadho sadho sadho……………..

    sadho sadho sadho sadho…………………

  5. Hariom Says:

    Hariom..Great Seva..Please continue writing ekanth Satsangs, they are treasure to sadhana and is very helpful….Salutations to your guru bhakthi and seva bhaav.

    Jai Gurudev

  6. ARBIND Says:

    hariom shadho shado … bahut hi badiya hai ,padnae ke samay lagata hai ki guruji khud ye baat hamare kano me bol rahe hai.pleas eknat satsang ki jhalka jarur post kare , bahut achha lagta hai ,hariom prabhu jee

    jai gurudev

  7. gaurav Says:

    sadho sadho aapki sewa ko
    ab dil ki baat ko kya type karun
    hari hari ommm


  8. hariomji, you are doing immense seva to all the sadhaks by reproducing pujya gurudevs satsang, especially tatwik sastsang like sakhyat aporakhy. carry on the good work, gurudevki jay ho.

  9. sheetanshu Says:

    video link for this satsang :

    http://in.youtube.com/watch?v=XuS-xYjvSm4

  10. kamal hirani Says:

    sadho sadho……………………..

    bapu aapki jai ho………

    hariom
    kamal hirani

    dubai
    971553285791

    jaibapuasharamji.webs.com


Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s


%d bloggers like this: