Bhagavan Dattatrey Jayanti..Surashmaharaj satsang_live

Sunday, December 23, 2007;IST: 4:30PM
SURAT DHYAN YOG SHIBIR satsang_live

**********************
Shri Sureshanandji Maharaj ki Amrutwani

**********************

In Hingish(Hindi written in English)

(For Hindi please scroll down…)

….pyas lagi aur samane samudr hai to bhi pyas nah bujhegi…..pyas bujhane ke liye ek anjuli bhar pani paryapt hai ,lekin wo samudr ka khara pani nahi….nirmal pani se pyas mitati hai, anjulibhar hoga to bhi..aise thodi  shradhda honi chahiye jeevan mey bhagavan ke prati, sadgurudev ke prati….
Thoda sa kisi ne kuchh kahe diya, kisi ne apaman kar diya to pareshan nahi hona chahiye.. “HariOm” bolakar chhod de…apani shakti , apani budhdi us baare mey sochakar kharab nahi kare…jo hame sadguru ke charano se door le jate, apani sadhana mey badha banate hai , aise kapati aur gire huye mitr sathiyo ki apeksha akele ghar mey baithana achha hai…musaphiri mey jaise anavashyak saman le jane se sirf boja dhona padata hai, avashyak saman hi le jana achha hota hai……usi prakar jinaki jeevan mey avshyakata nahi aise logo se milana julana jeevan ke saphar mey bojh dhona hi hai..Sadguru ki bhakti hi shreyaskar hai….
(Suresh maharaj Bhajan gaa rahe hai..  “aisa tera pyar guruvar”  is bhajan ke naye charan gaa rahe hai…)

Aisa tera pyar guruvar bhul naa paye
Baar baar milane ko mann lalachaye….

Din dukho se tum ho gujaarate
Chahu disha prabhu  aanand ho bharate
Tum bin kashto se kaise ubhaarate
Bikhare the ham aise din na nikharate
Tumhe dekhakar sab ka dil muskaye…..

Naino se aap ke amrut hai barase
Paa kar use sab ka tann-mann harashe
Har koyi aap ke darshan ko tarase
Jo bhi hai paya ham ne  paya tere dar pe
Aap ke  gyan ko hi jeevan mey laaye…..

Jhuthi hai duniya ye jhuthe sare waade
Ham ko lage hai pyari bas teri yaade
Tum hi sada sab ka sath hai nibhate
Tabhi to param pita ho kahalate
Aap ke siwa ab to kuchh nahi bhaaye…..
Aisa tera pyar guruvar bhul na paaye…

Tum ko jo chhukar ke aati hai havaaye
Mahekaye tann-mann ye maheke phajaye
Tum se hi khushiyo ke dip jagamagaye…
Gyan tera hruday ke kamal hai khilaye…
Aap ke hi charano mey mastak jhukaye…

Tum hi to guruwar ho jeevan hamara
Sambhav nahi ab tum bin gujara
Chhute kabhi ab naa daman tumhara
Jaise bhi hai tere hai dena tum sahara
Aap ki chhabi hi najar mey basaaye…

Tum ne dikhaya hai sach ka cheharaa
Aap ka hi gyan prabhu sab se gahera
Aap ke hi charano mey dil hai thahera
Aap se hi lagata hai jeevan sunhera
Tum se kabhi naa door ham jaaye

Aisa tera pyar guruvar bhul naa paye
Baar baar milane ko mann lalachaye
Bhul naa paaye …
Bhul naa paaye……
Hari : OOOOooommmmmm(plut uchcharan 7 baar kiya)

…ho sake to kuchh minute…aankhe band rakhe….mann hi mann gurudev se kahe ham bahar se aap ke paas aaye hai…dil se bhi sada aap ke paas hi rahe…..tum se kabhi door naa jaye..

Tere raaste se hatati hai ye duniya
Isharo se mujh ko bulati hai ye duniya….
Mujhe bacha sakata hai tumhara ishara

..mann mey idhar udhar ke vichar aaye to 5/10 seconde shwas rok de….pranayam nahi….sahaj bhav se…..

(Sabhi maun puravk shanti se sadgurudev ka smaran kar rahe hai…10 minute baithe hai…)

Hari OOOOooooooommmmmmmmm(plut uchcharan 5 baar)

….aaj ki poonam Bhagavan Dattatrey ki jayanti bhi hai…sati anusuya aur Atri rushi ke putr ke roop mey Bhagavan dattatrey ka awatar hua tha aaj wo tithi hai…. bhagavan vishnu ke 24 avatar hai usame se Bhagavan Dattatrey  chhate kram ka awatar hai…..vishnu bhagavan ka pahala awatar varah , dusara narad, tisara Nar-narayan , pachava bhagavan kapil  aur chhata awatar tha bhagavan dattatrey ka..
Bhagavan Dattatrey ji ne yadu vansh ke ek raja ko prasann hokar vardaan diya tha ki mai aage chalakar tumhare vanch mey awatar loonga….kyo diya tha varadaan? Kyo ki us yadu vansh ke raja ne unaka satsang khub dhyan dekar suna tha…to Bhagavan dattatrey bahot prasann huye ki raja ko dhyan mey satsang mey itani ruchi hai…bhagavan bole ki , “ mai tumhare vansh mey awatar loonga…”
Kuchh pidhi ke baad ..” …to unhi ke vansh mey kuchh pidhi ke baad Bhagavan  Krushn ne janam liya…..is prasang se ye sikh milati hai ki satsang sunane wale par bhagavan bahot raji hote hai…….aaj ki ye pornima ham sabhi bhakto ko ye prerana deti hai …

..bhagavan dattatrey ke 24 vidya guru the….sadguru nahi, vidya guru…..aaj unaki jayanti hai isliye thdoa kahu…
Bhagavan dattatrey ne pahala guru dharti ko maana..dharati se sahanshilata sikhe..

Dusara guru aakash ko mana….akash ki udarata aur vyapakata ke gun liye…

Pani se shitalata ka gun….kisi se katuta ke vachan nahi bolo…

Vayu se ye sikha ki hava chalati jati hai kisi se chipakati nahi aise man kisi se nahi chipake ..aasakti nahi ho…bhagavan dattatrey bolate ke main evayu se ye gun sikha ki kisi se aasakti nahi ho….

Agni se ye gun sikha ki agni jaisa uncha uthana…..dharati ki gurutavakarshan shakti agni ko nahi khinch sakati , agni upar ki aor hi uthata hai ..aise sansar ki koyi aasakti usaki taraf naa khich paaye…

Hathi ko bhi unho ne guru mana…hathi se ye sikha ki , jab hathi ko pakadate hai tab ek gadhdha banate hai uske upar se patto se dhak dete hai aur waha nakali hathin khadi kar dete hai..hathi ka mann lalchata hai aur hathin ke sparsh ke liye wo hathin ko aor badhata aur gadhhe mey girkar jindagi bhar gulami karata hai…to bhagavan dattatrey kahate hai ki hathi se maine sikha ki sparsh sukh ke liye bawalaa nahi banu ye gun sikha hai..

Unho ne machhali ko guru mana…machhali jaise aate ke swad ki diwani hoti haiusake pichhe kaante ko nahi dekhati aur phas jati hai aise bhagavan dattatrey ne machhali se ye gun sikha ki swad ke liye machhali ki tarah bawalaa nahi bane…

Bhagavan dattatrey ne hiran se y egun sikha ki hiran jaisa dhwani ka , sangit ka diwana hota hai ..sangit sunane ke daudata hai aur pakada jata hai, ya mar jata hai..kabhi insan ke janam mey sangit ka diwana raha hoga isliye hiran bana hoga..…aise sangit ka diwana naa banoo….

Bhanvare se ye gun sikh ki sungandh ka maja lene ke liye bhanwara kamal ke andar baitha rahata hai aur suryast ke baad jab kamal ki pankudiya band ho jati to wo andar hi atak jata hai …. koyi jangali pashu aate to kamal ko udhvast karate to bhanvara bhi andar mar jata hai…kabhi insan hoga , sugandh ke pichhe diwana bana to bhanvara bana hoga….
Bhagavan dattatrey aag ekahate hai ki patange ko bhi unhone guru mana aur ye vidya paaye ki jalata diya dekhkar usake roop pe aakarshit hokar jalkar mar jata hai …kabhi insan raha hoga aur  sundar roop se aasakt raha hoga….to kabhi aise roop ke prati aakarshit naa ho….

Ek lohar tha, wo lohe ke tir, bhale, awjar banaa raha tha..waha se ek raja ki sawari ja rahi thi…bandbaje baj rahe the..itana shor tha..lekin lohar apane kam mey itana ekakar tha ki raja ki swari aayi gayi to bhi usaki ekakarata tuti nahi, dhyan gaya nahi….ham bhi itana ekant apane mann mey laye ki beta shorgul karata hai, beti mujik sunati hai, patni rasoyi ka aawaj karati hai aisa kitana bhi aawaj aaye udhar dhyan hi naa jaye…itane andar ke  dhyan mey dub jaye…

Bhagavan ne ek kunwari kanya se ye sikh payi ki , kanya ke maa baap ghar pe nahi the…Dattatrey bhagavan uanke ghar bhiksha mangane pahuche to kanya chawal bin rahi thi…ghar mey mehaman aaye…to kanya ke chawal binane se usake hath ki chudiya khanakati, aawaj karati ..to kanya ko sankoch hua….usane dhire se hatho ki ek ek chudiya utar ke baju mey rakh di..aur sirf ek ek chudi dono hatho mey rahane di…to chudiyo ka aawaj band ho gaya….to aise dukh ,dar, chidchidapan aise bhav ubharate hai , jisake dwani se dusaro ka dhyan apani taraf jaye , aur apane ko sankoch ho aisi chije utaar de apane jeevan se…jo bhav jaruri hai utane hi rakhe….jisaki aawashyakata nahi use utar dena hai ye vidya us kunwari kanya se sikhe….

Pranayam ho raha hai …sandhya ki bela hai…

Sandhya ke samay gahera shwas lena vayudev ki pooja ka dyotak hai…aur gahera shwas lekar andar rokana vishnu bhagavan ki pooja ka dyotak hai..
Shlok bolana ye bhagavan ki stuti karana hai…use jaldi jaldi teji se nahi padhe…..)suresh maharaj ne atyant shant aur shradhda se prarthana ki…)
Gurur bramha…guru vishnu…
Gurur devo….maheshwara…
Guru sakshat parabrahm..
Tasamay shri guruve namaha…..

Dhyan mulam guru murti….
Pooja mulam guru padam…
Mantr mulam gurur vakyam…
Moksh mulam guru krupa…

Akhand mandalaa kaaram…
Vyapatam yenam charaacharam..
Tatpadam darshatam yenam….
Tasmay shri guruvai namaha..

Tvamev mata ch pita tvamev..
Tvamev bandhusch sakha tvamev..
Tvamev vidya dravidam tvamev….
Tvamev sarvam mam dev dev….

Bramhanandam…param sukhadam…kewalam dyanmurti…
Dwandatitam..gagan sadrushyam…tatv masyadi laksham…
Ekam nityam vimalamchalam…sarv dhi sakshi bhutam..
Bhaavaatitam trigun rahitam….

sadgurum tam namami…

sadgurum tam namami..

sadgurum tam namami…

Hari OOOOOOOOOmmmmmmmm


Hari Om! Sadgurudev ki jay ho!!!!!
(galatiyo ke liye prabhuji kshama kare…)

*************************

भगवान दत्तात्रेय जयंती..सुरेश  महाराज  सत्संग_लाइव
रविवार दिसम्बर २३, २००७;भारतीय समय शाम के : ४:३० बजे
सूरत ध्यान योग शिबिर सत्संग_लाइव

**********************
श्री सुरेशानन्दजी महाराज की अमृतवाणी

**********************

….प्यास लगी और सामने समुद्र है तो भी प्यास नही  बुझेगी…..प्यास बुझाने के लिए एक अंजुली भर पानी पर्याप्त है ,लेकिन वो समुद्र का खारा पानी नही….निर्मल पानी से प्यास मिटती है, अन्जुलिभर होगा तो भी..ऐसे थोडी  श्रध्दा होनी चाहिऐ जीवन में भगवान के प्रति, सदगुरूदेव के प्रति….
थोडा सा किसी ने कुछ कहे दिया, किसी ने अपमान कर दिया तो परेशान नही होना चाहिऐ.. “हरिओम” बोलकर छोड़ दे…अपनी शक्ति , अपनी बुध्दी उस बारे में सोचकर खराब नही करे…जो हमे सदगुरू के चरणों से दूर ले जाते, अपनी साधना में बाधा  बनते है , ऐसे कपटी और गिरे हुए मित्र साथियों की अपेक्षा अकेले घर में बैठना अच्छा है…मुसफिरी ( ट्रैवलिंग )में जैसे अनावश्यक सामान ले जाने से सिर्फ बोजा धोना पड़ता है, आवश्यक सामान ही ले जाना अच्छा होता है……उसी प्रकार जिनकी जीवन में आवश्यकता नही ऐसे लोगो से मिलना जुलना जीवन के सफर मे बोझ ढोना ही है..सदगुरू की भक्ति ही श्रेयस्कर है….
(सुरेश महाराज भजन गा रहे है..  “ऐसा तेरा प्यार गुरूवर”  इस भजन के नए चरण गा रहे है…)

ऐसा तेरा प्यार गुरूवर भूल ना पाए
बार बार मिलने को मन ललचाये….

दिन दुखो से तुम हो गुजारते
चहु दिशा प्रभु  आनंद हो भरते
तुम बिन कष्टों से कैसे उभारते
बिखरे थे हम ऐसे दिन ना  निखरते
तुम्हे देखकर सब का दिल मुस्काये…..

नैनो से आप के अमृत है बरसे
पा कर उसे सब का तन-मन हरषे
हर कोई आप के दर्शन को तरसे
जो भी है पाया हम ने  पाया तेरे दर पे
आप के  ज्ञान को ही जीवन में लाये…..

झूठी है दुनिया ये झूठे सारे वादे
हम को लगे है प्यारी बस तेरी यादे
तुम ही सदा सब का साथ है निभाते
तभी तो परम पिता हो कहलाते
आप के सिवा अब तो कुछ नही भाये…..
ऐसा तेरा प्यार गुरूवर भूल न पाए…

तुम को जो छूकर के आती है हवाए
महेकाए तन-मन ये महेके फिजाये
तुम से ही खुशियों के दीप जगमगाये…
ज्ञान तेरा ह्रदय के कमल है खिलाये…
आप के ही चरणों में मस्तक झुकाए…

तुम ही तो गुरूवर हो जीवन हमारा
संभव नही अब तुम बिन गुजरा
छूटे कभी अब ना दामन तुम्हारा
जैसे भी है तेरे है देना तुम सहारा
आप की छबि ही नजर में बसाए…

तुम ने दिखाया है सच का चेहरा
आप का ही ज्ञान प्रभु सब से गहेरा
आप के ही चरणों में दिल है ठहेरा
आप से ही लगता है जीवन सुन्हेरा
तुम से कभी ना दूर हम जाये

ऐसा तेरा प्यार गुरुवार भूल ना पाए
बार बार मिलने को मन ललचाये
भूल ना पाए …
भूल ना पाए……
हरि ओम्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म

…हो सके तो कुछ मिनट…आँखे बंद रखे….मन ही मन गुरुदेव से कहे हम बाहर से आप के पास आये है…दिल से भी सदा आप के पास ही रहे…..तुम से कभी दूर ना जाये..

तेरे रास्ते से हटाती है ये दुनिया
इशारों से मुझ को बुलाती है ये दुनिया….
मुझे बचा सकता है तुम्हारा इशारा

..मन में इधर उधर के विचार आये तो ५/१० सेकंड श्वास रोक दे….प्राणायाम नही….सहज भाव से…..

(सभी मौन पूर्वक  शांति से सदगुरूदेव का स्मरण कर रहे है…१० मिनट मौन में बैठे है…)

हरी ओम्म्म्म्म्म्म्म्म (प्लुत उच्चारण ५ बार)

….आज की पूनम भगवान दत्तात्रेय की जयंती भी है…सती अनुसुया और अत्री ऋषी के पुत्र के रुप में भगवान दत्तात्रेय का अवतार हुआ था आज वो तिथि है…. भगवान विष्णु के २४ अवतार है उसमे से भगवान दत्तात्रेय  छटे क्रम का अवतार है…..विष्णु भगवान का पहला अवतार वराह , दूसरा नारद, तीसरा नर-नारायण , पाचवा भगवान कपिल  और छटा अवतार था भगवान दत्तात्रेय का..
भगवान दत्तात्रेय जी ने यदु वंश के एक राजा को प्रसन्न होकर वरदान दिया था कि मैं आगे चलकर तुम्हारे वंश  में अवतार लूंगा….क्यों दिया था वरदान? क्यों कि उस यदु वंश के राजा ने उनका सत्संग खूब ध्यान देकर सुना था…तो भगवान दत्तात्रेय बहोत प्रसन्न हुए कि राजा को ध्यान में सत्संग में इतनी रूचि है…भगवान बोले कि , “ मैं तुम्हारे वंश मे अवतार लूंगा…कुछ पीढ़ी के बाद ..”
…तो उन्ही के वंश में कुछ पीढ़ी के बाद भगवान  कृष्ण ने जनम लिया…..इस प्रसंग से ये सिख मिलती है कि सत्संग सुनने वाले पर भगवान बहोत राजी होते है…….आज की ये पोर्णिमा हम सभी भक्तो को ये प्रेरणा देती है …

..भगवान दत्तात्रेय के २४ विद्या गुरु थे….सदगुरू नही, विद्या गुरु…..आज उनकी जयंती है इसलिए थोड़ा  कहू…
भगवान दत्तात्रेय ने पहला गुरु धरती को माना..धरती से सहनशीलता सीखे..

दूसरा गुरु आकाश को माना ….आकाश की उदारता और व्यापकता के गुण लिए…

पानी से शीतलता का गुण….किसी से कटुता के वचन नही बोलो…

वायु से ये सिखा कि हवा चलती जाती है किसी से चिपकती नही ऐसे मन किसी से नही चिपके ..आसक्ति नही हो…भगवान दत्तात्रेय बोलते के मैं वायु  से ये गुण सिखा कि किसी से आसक्ति नही हो….

अग्नि से ये गुण सिखा कि अग्नि जैसा ऊँचा उठना…..धरती की गुरुत्व आकर्षण  शक्ति अग्नि को नही खींच सकती , अग्नि ऊपर की ओर ही उठता है ..ऐसे संसार की कोई आसक्ति उसकी तरफ ना खीच पाए…

हाथी को भी उन्हों ने गुरु माना…हाथी से ये सिखा कि , जब हाथी को पकड़ते है तब एक गड्ढा बनाते है उसके ऊपर से पत्तो से ढक देते है और वहा नकली हाथिन खड़ी  कर देते है..हाथी का मन ललचाता है और हाथिन के स्पर्श के लिए वो हाथिन की  ओर बढ़ता और गढ्ढे  में गिरकर जिंदगी भर गुलामी करता है…तो भगवान दत्तात्रेय कहते है कि हाथी से मैंने सिखा कि स्पर्श सुख के लिए बावला नही बनू ये गुण सिखा है..

उन्हों ने मछली को गुरु माना…मछली जैसे आटे के स्वाद की दीवानी होती है उसके के  पीछे कांटे को नही देखती और फस जाती है ऐसे भगवान दत्तात्रेय ने मछली से ये गुण सिखा कि स्वाद के लिए मछली कि तरह बावला नही बने…

भगवान दत्तात्रेय ने हिरन से ये  गुन  सिखा कि हिरन जैसा ध्वनि का , संगीत का दीवाना होता है ..संगीत सुनने के  लिए दौड़ता है और पकडा जाता है, या मर जाता है..कभी इन्सान के जनम में संगीत का दीवाना रहा होगा इसलिए हिरन बना होगा..…ऐसे संगीत का दीवाना ना बनू….

भंवरे से ये गुण सिखा  कि सुगंध  का मजा लेने के लिए भंवरा कमल के अन्दर बैठा रहता है और सूर्यास्त के बाद जब कमल की पंकुडिया बंद हो जाती तो वो अन्दर ही अटक जाता है …. कोई जंगली पशु आते तो कमल को उध्वस्त करते तो भंवरा भी अन्दर मर जाता है…कभी इन्सान होगा , सुगंध के पीछे दीवाना बना तो भंवरा बना होगा….
भगवान दत्तात्रेय आगे  कहते  है कि पतंगे को भी उन्होने गुरु माना और ये विद्या पाए कि जलता दिया देखकर उसके रुप पे आकर्षित होकर जलकर मर जाता है …कभी इन्सान रहा होगा और  सुन्दर रुप से आसक्त रहा होगा….तो कभी ऐसे रुप के प्रति आकर्षित ना हो….

एक लोहार था, वो लोहे के तीर, भाले, अवजार बना रहा था..वहा से एक राजा की सवारी जा रही थी…बैंड बाजे  बज रहे थे..इतना शोर था..लेकिन लोहार अपने काम में इतना एकाकार था कि राजा कि सवारी आई , गयी तो भी उसकी एकाकारता  टूटी नही, ध्यान गया नही….हम भी इतना एकांत अपने मन में लाये कि बेटा शोरगुल करता है, बेटी मुजिक सुनती है, पत्नी रसोई का आवाज करती है ..ऐसा कितना भी आवाज आये उधर ध्यान ही ना जाये…इतने अन्दर के  ध्यान में डूब जाये…

भगवान ने एक कुंवारी कन्या से ये सिख पाई कि , कन्या के माँ बाप घर पे नही थे…दत्तात्रेय भगवान उनके घर भिक्षा मांगने पहुचे तो कन्या चावल बिन रही थी…घर में मेहमान आये…तो कन्या के चावल बीनने से उसके हाथ की चुडिया खनकती, आवाज करती ..तो कन्या को संकोच हुआ….उसने धीरे से हाथो की एक एक चुडिया उतार के बाजु में रख दी..और सिर्फ एक एक चूड़ी दोनो हाथो में रहने दी…तो चुडियो का आवाज बंद हो गया….तो ऐसे दुःख ,डर, चिडचिडापन ऐसे भाव उभरते है , जिसके ध्वनी  से दूसरो का ध्यान अपनी तरफ जाये , और अपने को संकोच हो ऐसी चीजे उतार दे अपने जीवन से…जो भाव जरुरी है उतने ही रखे….जिसकी आवश्यकता नही उसे उतार देना है ये विद्या उस कुंवारी कन्या से सीखे….

प्राणायाम हो रहा है …संध्या की बेला है…

संध्या के समय गहेरा श्वास लेना वायुदेव की पूजा का द्योतक है…और गहेरा श्वास लेकर अन्दर रोकना विष्णु भगवान की पूजा का द्योतक है..
श्लोक बोलना ये भगवान की स्तुति करना है…उसे जल्दी जल्दी तेजी से नही पढे…..)सुरेश महाराज ने अत्यंत शान्ति  और श्रध्दा से प्रार्थना की…)
गुरुर ब्रम्हा…गुरु विष्णु…
गुरुर देवो….महेश्वरा …
गुरु साक्षात् परब्रह्म..
तस्मै  श्री गुरुवे नमः…..

ध्यान मुलं गुरु मूर्ति….
पूजा मुलं गुरु पदम…
मंत्र मुलं गुरुर वाक्यम…
मोक्ष मुलं गुरु कृपा…

अखंड मंडला कारम…
व्याप्तं येनम  चराचरम..
तत्पदम दर्शितम  येनम  ….
तस्मै श्री गुरूवै  नमः..

त्वमेव माता च पिता त्वमेव..
त्वमेव बंधुश्च  सखा त्वमेव..
त्वमेव विद्या द्रविडम त्वमेव….
त्वमेव सर्वं मम देव देव….

ब्रम्हानंदम…परम सुखदम…केवलं ज्ञान मूर्ति  …
द्वंदातितम..गगन सदृश्यम…तत्व मस्यादी लक्षम…
एकं नित्यम विमलमचलम…सर्वधी साक्षी भूतं..
भावातितम त्रिगुण रहितम….

सदगुरूम तम नमामि…

सदगुरूम तम नमामि..

सदगुरूम तम नमामि…

हरी ओम्म्म्म्म्म्म्म
हरी ओम! सदगुरूदेव की जय हो!!!!!
(गलतियों के लिए प्रभुजी क्षमा करे…)

Advertisements
Explore posts in the same categories: Uncategorized

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s


%d bloggers like this: