Depression Hataao,Purusharth karo..Betul satsang_live(18/12/07)

Tuesday,18th December,2007 ; IST : 5PM

BETUL (M.P.) satsang_live

****************

Sadgurudev SantShiromani PraramPujya ShriAsaramBapuji ki Amrutwani :-

****************

In Hinglish(Hindi written in English)

(For Hindi please scroll down…)

..(Parampujya Sadgurudev plastik ki bindi mayiya apane bhal par nahi lagaye is vishay par bol rahe hai….)….mare huye janwaro ka ghol apane bhagy pe chipakana bahot bhari nuksan karata hai…kunkoo lagaao, tulasi ki mitti lagaao, gaay ke khoor ki mitti lagaao…gaay ke khoor ki mitti bhai bhi laga sakate ..gaay ke khoor ki mitti ka tilak lagakar jayenge to kary mey saphalata jarur milati hai…pipal ki jad ki mitti bhi pavitr hoti hai…pipal ko jal sinchane se daridrata door hoti hai, punylabh hota hai..hara pipal kabhi katana nahi chahiye, paap hota hai..pipal ka ped lagana punydayi hai…ghar ke paschim ki aor pipal ka ped ho to ghar ki hava shudhd rahegi aur ghar mey aarogya, sukh , shanti rahegi… Bahar ke mandiro mey darshan karate jate, wo to thik hai…lekin bahar ke mandiro mey jane ka phal bhi yahi hai ki aap ko hruday ke mandir mey pahuchaye..satsang hruday mandir mey le janewala hai , isliye bahot uncha sadhan hai..satsang ke bhumi par savva muhurt pade rahane se ek sharabi ka kitana udhdar ho gaya….

( Sadgurudev ne raja bali ki kahani batayi…please read this satsang for details….

https://latestsatsang.wordpress.com/2007/10/30/sharabi-se-prajapatidelhi-satsang_live281007/ )

…..us sharabi ko satsasang bhumi par savva muhurt pade rahane se savva muhurt indrapad bhogane ko mila to usaka upyog kiya upbhog nahi kiya , isliye usaki hajaro saal ki narak yatana se mukti ho gayi…aise aap ko mili huyi chij ka upyog karo…

– mili huyi patni ko amavasya , poonam, ekadashi, ashtami ke din bhogy banate to akal mrutyu ko bulate aur santan utpatti ke liye upyog karate to apane kul khandan ko taarate …

– khana khate – sharir swasthy ke liye khate to upyog karate , maja lene ke liye khate to upbhog karate to bimar hote ..

– mili huyi aankho se sab mey bhagavan ka darshan karate, sat shashr padhate , vidya aur gyan paane ke liye karate to upyog karate aur unhi aankho ka thik se upyog nahi karate picture dekhate, jo dekhane yogya nahi aisi chij dekhate to upbhog karate….

– Bhagavan se mili huyi budhdi ka upyog kare…sajag rahe..bhagy ko dosh nahi de…wo to bewkuf log jo nirash rahate unko samjhane ke liye bhagy ka aadhar liya jata hai..vastav mey bhagy se kuchh nahi hota, jo bhi hota purusharth se hota…ishwar prapti bhi hoti hai to purusharth se aur rushimuniyo ki krupa se hi prapti hoti hai….bhagy mey hai to milata aisa kuchh nahi… jyada khana kha liya…ajirn ho gaya to kahete , “ mere bhagy mey nahi khana bhi…”….aisa kuchh nahi , kal ka adhik khana ho gaya to aaj khana nahi khao to ajirn mit jayega….kal kisi se jhagada ho gaya to hathajodi kar ke aaj compromise kar lo ho gaya jhagada khatam….kya kare hamase to hota nahi….budhdi ka upyog karo…..purusharth karo…ghar mey jhagade hote to ek lota pani lekar raat ko sote samay palang ke niche rakho aur dusare din subah wo pani ghar mey chhato pipal ko sinch do , ho gaye jhagade khatam…kay ka bhagy aur kay ka jhagada hai ? kahe ko apane ko kosata hai ?

Mili huyi chij ka upyog karo…upbhog nahi…to kalyan hi kalyan …

….sharabi ne savva muhurt mile huye indrpad ka samjhdari se upyog kiya….koundiny rushi ko swarg ka chintamani namr bhav se arpan kiya vashisth ji adi rushimuniyo ko bhi aadar se aamantrit kar ke swarg ke aishwary ka sat-upyog kiya….to yamaraj ke doot hajir huye aur bole ki tumhe ab hajaro varsh ka narakwas nahi bhogana padega…lekin manushy ka chola bhi nahi milega…daity raja virochan ke putr banoge…to sharabi ne prarthana ki , daity putr ke janam mey bhi ye smruti bani rahe ki satsang se kitana mahan ban sakate hai…

Ek ghadi aadhi ghadi aadhi mey pani aadh

…. Aadhi ke aadhi ghadi ke satsang sunane ka bhi kitana labh hota hai…wapinagar hai surat ke pas waha ek ladaki ne sarswaty mantr liya tha…itani kushal doctor bani hai..wapi mey uska gururkrupa hospital hai …usako itani saphalata mili ki ab dusara hospital kholane ki aagya mang rahi hai..bhagavan se yash mango to yash ki prapti hoti hai..vidya chahanewale ko vidya milati hai…bhagvan ka ashray lekar purusharth karo, sury ko arghy arpan karo…sapt rang jal se paravartit hokar tumhare tan man ko prabhavit kar ke sushupt shaktiya jagrut kar dete hai…din mey3-4 baar hasy prayog karo..

Hari om om om om shiv shiv shiv shiv ram ram ram ram ram ram..aarogydata…..aanand data..prabhuji ..pyare ji..om om om om …ha hahaha ha 🙂 .. aise dono hath upar kar ke hasy kare..

….…Ye dikhata to bahot sadharan prayog hai lekin isake labh bolunga to ek ghanta bhi kam hoga….hasy karane se endrosin ras banata hai aap ke sharir mey….jisase nirasha , hatasha….chidchidapan , swabhav ka rukhsukhapan door karane mey phayada hoga..din mey aisa 3-4 baar ye hasy prayog karo…bhagavan ka naam lene se aap ke aihik karm, adhibhautik karm , japtap pooja path phalega….aatma paramatma mey vishranti pate to adhyatmik phayada hota hai….manushya janam liya hai , har vyakti bhagyshali hi hai….manushy mey itani shakti hai ki devo devo ka raja indr ko bhi bechara bana de…

Tin tuk kopin ki , bhaji bina lun l

Tulasi hruday rabhubir base to Indr bapuda kun ?

..Bina namak ki bhaji khanewala apne aap ko itana uncha bana leta hai ki indr bhi janata hai ki ye kitana budhdiman hai….apane andar ek gota marata hai to param aanand prapt karata hai..indr ko to aanand ke liye apsara nache, gandharv gaan kare tab mile…. Manushy janam mey santatv ko uplabdh ho jao to…

Sada diwali sant ki aatho prahar aanand

Akalmata koyi upaja gine indr ko rank…

..Laukik jagat mey , mandiro mey kitane bhi nak ragad lo lekin itana phayada nahi hoga jitana satsang se hoga….bhagavan shankar ji ne bhi parvati ji ko vamdev guru se diksha dilayi..mata parvati guru ke vachano ka aadar karati…..

Maa kali kalakattewali

Tera vachan naa jaye khali…..

..aisi kali maa bhi ramkrushn ko totapuri guru se diksha lene ke liye boli….ramkrushn bole maa mujhe to tum swayam darshan deti ho mujhe kya jarurat hai diksha lene ki?

Maa kali boli jab tum pukarate to mai chali aati lekin mai chali jati to tumhari sthiti wohi rahati..tumhare aatma ki jagruti ke liye gurudiksha hi leni chahiye….gurudiksha ke bina aatma ki gati nahi…bhagavan ram bhi dharati par aaye to guru vashisht ke charano mey gaye, bhagavan krushn bhi guru sandipani ke chele bane..”

Jo maharashtr ke hai hath upar kara sagale..:-)

Namdev maharaj ka naam jante ki nahi?

..To ye namdev maharaj bade sant the…majha viththal pandurang kahekar bulate to bhagavan viththal pragat ho jate….lekin ek baar dyaneswar, muktabai, savata mali, gora kumbhar aise sabhi santo ke samane namdev ko kachcha ghada kaha gaya to wo viththal ke pas gaye..viththal bhagavan ne kaha santo ki baat sach hai…tu kachcha ghada hi hai…mere tatv ko tu jab nahi janega tab tak kachcha ghada hi rahega….namdev maharaj bole ki tum mujhe pakka ghada bana do ….bhagavan ne samjhaya ki choro ko pakadane ka kaam police department ka hota hai..judge ka nahi..aise tumhe aatm sakshatkar gurucharano mey jane se hi hoga aur tabhi tum mere tatv ko payega…he majha kam nahi.. 🙂 har kam apani apani leval pe hota hai…ye kam guruji ki level pe hota hai..tu shivoba khechar ke pas ja….

(kal Sadgurudev se diksha prapt kar ke anek bhagyshaliyo ke jeevan saphal honge….sadgurudev ne diksha ke baare mey jankari di..)

Hari om hari om Pavana pavan naam hari hari om

Mangal mangal naam hari hari om(kirtan ho raha hai..)

..kirtan ke baad chup baithane se kirtan ka prabhav gaharayi mey utarata hai….sat-swaroop antaryami mey chup baithana..(phir mann mey aise chintan karana..) mera chaityany prabhu kabhi mujhse alag nahi hota..mai unka aur aur wo mere…..om shanti..prabhu aap sukhrup hai..mujhe bhakti deta hai..shakti deta hai…..mere prabhu…

….dharati ke 4 chintamani hai :- kshama yukt shaoury, abhiman rahit gyan , madhur (priy)wani sahit kiya huaa daan , aur tyag yukt dhan ye dharati ke 4 chintamani manushy ko swarg se bhi uncha aishwary pradan karane ki kshamata rakhate hai….

..kamar sidhi..jo jhuk ke baithate wo dabbu banate…bachcho ko bhi jhuk ke baithane denge to padhayi mey dabbu banate…satsang mey aate , bhagavan ka naam, charcha aur smaram karate to paap nasht hote aur jis roop mey aap bhagavan ko pana chahate hai us roop mey bhgavan prakat honge..gyan rooop mey pana chahate ho, bhakti roop mey pana chahate ho, shivroop mey pana chahate ho us roop mey bhagavan aap ko milate hai….

5 baato ka vishesh dhyan rakhana…

1) bhojan shudhd ho….

2) bhagavan ke virudhd bhav na ho..bhaktibhav ke virudhd bhav mann mey nahi aane chahiye…nigure se aise bhav aate..

3) sab ka bhala soche, kisi ka bura sochana nahi hai , kisi ka bura karana nahi…

4)bhagavan ka naam-jap shradhda se kare…shuru mey vaikhari mey kare lekin dhire dhire arth mey utarate jao…..pooja, jap , dhyan niyam se kare..aur prasann rahe..bhagavan jo bhi paristhiti dete hai mere bhalayi ke liye dete ye bhav rakhe..viparit paristhitiya aayi to bhagavan aasakti se chhudakar unnati karana chahate hai..aur achhi paristhiti aayi to bhagavan sewa mey utsahit karana chahate hai….bhagavan jo bhi karate wo apani bhalayi ke liye hi karate ..jaise maa bachche ko khilati- pilati, laad – pyar karati lekin kabhi daat deti, aankhe dikhati , ruth jati to wo bhi bachche ke bhalayi ke liye..aisa bhav mann mey sada rakhe…apane mann ki ichcha purti ke liye bhagavan se bhav nahi badale…

5) har haal mey sam rahe, swayam ko bhagavan ka jaane….chinta nahi karani hai…chinta to nigure karate…. “beti ka kya hoga” … arre jo jeevan data hai mrutyudaata hai ..usi ko sab chinta saup de..

Chinta se chaturayi ghate ,ghate roop aur gyan l

Chinta badi abhaagini , chinta chitaa samaan ll

Tulasi bharose ram ke nischint hoyi ke soye l

Anhoni honi nahi , honi haye so hoye ll

Hari hari oooooOOooooOOooommm Hari:Omm

..Kal bachcho ko sarswaty mantr denge…chamatkarik labh honge…maa baap ke honhaar bachche honge…..bado ko bhi jinaka jis mey bhav hai uska mantr mil jayega……….raat ko sote samay shwas andar gaya “om aanand” bahar aaya 1(ginati)..shwas andar gaya “ om madhury” , shwas bahar aaya : 2 (ginati)….shwas andar aaya “ om shanti” , shwas bahar aaya :3(ginati) ..ye sadhana bahot hi uchch koti ki sadhana hai…sadharan aadami nahi kar sakata….

Mala shwasoshwas ki , jagat bhagat ke bich l

Jo phere so gurumukhi , na phere so nich ll

….sote samay agar isprakar ki sadhana kar ke sote to jitana samay sote wo bhi bhakti mey gina jayega….bhagavan se priti , bhagavan ki smuti hamare dukh mitati hai…bhagavn kahi mandir mey ya santo ke hruday mey hi rahete hai aisa nahi , sab ke hruday mey bhagavan hai…us bhagavan se priti, bhagavan ki smruti bhagavan ka gyan aur bhagavan ka dhyan kalyan kar dega….aur ye bhagavan ko apana manane se hoga…aap ke hruday mey itane pavitr sadbhav aayenge ki aap ki wani sunkar bhi logo ke paap mitenge aise pavitr ban jayenge aap….!!

..Kaliyug ke narakiy watavaran mey bhi santo ki wani , santo ke darshan paap mitaate hai…bhagavan humare hum bhagavan ke , sharir nahi rahega tab bhi bhagavan hamare rahenge , sukh-dukh aaya , sukh-dukh gaya ,sukh-dukh nahi hai tab bhi usako jananewala bhagavan hamare sath hi hai…aisa sochkar din mey 2/3 baar hasy prayog kare…..sury narayan ko arghy de…

Om namo bhagavate vasudevay…vasudevay..pritidevay..bhakti devay..mere devay..shanti devay..om namo bhagavate vasudevay… Aarati ho rahi hai..Om jay jagdish hare…prarthana ho rahi hai..karpoor gauram…naam sankirtan ho raha hai…Prabhu teri jay ho!!!!om hari om hari om hari om….

Om shanti…

Hari Om!Sadgurudev ki jay ho!!!!!

(galatiyo ke liye prabhuji kshama kare…)

********************************

हिन्दी में

डिप्रेशन हटाओ,पुरुषार्थ करो..बेतुल (मध्य प्रदेश )  सत्संग _लाइव(१८/१२/०७ )
मंगलवार 18th दिसम्बर,2007 ; भारतीय समय शाम के  : 5 बजे 

****************
सदगुरूदेव संतशिरोमणि  परमपूज्य  श्रीआसाराम बापूजी   की अमृतवाणी   :-
****************


..(परमपूज्य सदगुरूदेव प्लास्टिक की बिंदी माईया अपने भाल पर नही लगाए इस विषय पर बोल रहे है….)….मरे हुए जानवरों का घोल अपने भाग्य पे चिपकाना बहोत भरी नुकसान करता है…कुंकू लगाओ, तुलसी कि मिटटी लगाओ, गाय के खुर की मिटटी लगाओ…गाय के खुर की मिटटी भाई भी लगा सकते ..गाय के खुर की मिटटी का तिलक लगाकर जायेंगे तो कार्य मे सफलता जरुर मिलती है…पीपल की जड़ की मिटटी भी पवित्र होती है…पीपल को जल सींचने से दरिद्रता दूर होती है, पुण्य लाभ  होता है..हरा पीपल कभी काटना नही चाहिऐ, पाप होता है..पीपल का पेड़ लगाना पुण्य दाई  है…घर के पश्चिम की ओर पीपल का पेड़ हो तो घर की हवा शुध्द रहेगी और घर मे आरोग्य, सुख , शांति रहेगी…
बाहर के मंदिरो में दर्शन करते जाते, वो तो ठीक है…लेकिन बाहर के मंदिरो में जाने का फल भी यही है कि आप को ह्रदय के मंदिर में पहुचाए..सत्संग ह्रदय मंदिर में ले जानेवाला है , इसलिए बहोत ऊँचा साधन है..सत्संग के भूमि पर सव्वा मुहूर्त पड़े रहने से एक शराबी का कितना उध्दार हो गया…. (सदगुरूदेव ने राजा बलि की कहानी बताई , इस कहानी को डिटेल में पढ़ने के लिए यहा पर क्लिक  कीजियेगाhttps://latestsatsang.wordpress.com/2007/10/30/sharabi-se-prajapatidelhi-satsang_live281007/ )  

…..उस शराबी को सत्संग  भूमि पर सव्वा मुहूर्त पड़े रहने से सव्वा मुहूर्त इन्द्रपद भोगने को मिला तो उसका उपयोग किया उपभोग नही किया , इसलिए उसकी हजारो साल की नरक यातना से मुक्ति हो गयी…ऐसे आप को मिली हुयी चीज का उपयोग करो…
– मिली हुयी पत्नी को अमावस्या , पूनम, एकादशी, अष्टमी के दिन भोग्य  बनाते तो अकाल मृत्यु को बुलाते और संतान उत्पत्ति के लिए उपयोग करते तो अपने कुल खानदान को तारते …
– खाना खाते – शरीर स्वास्थ्य के लिए खाते तो उपयोग करते , मजा लेने के लिए खाते तो उपभोग करते तो बीमार होते ..
– मिली हुयी आंखो से सब में भगवान का दर्शन करते, सत शास्त्र  पढ़ते , विद्या और ज्ञान पाने के लिए करते तो उपयोग करते और उन्ही आंखो का ठीक से उपयोग नही करते पिक्चर देखते, जो देखने योग्य नही ऐसी चीज देखते तो उपभोग करते….
– भगवान से मिली हुयी बुध्दी का उपयोग करे…सजाग रहे..भाग्य को दोष नही दे…वो तो बेवकूफ लोग जो निराश रहते उनको समझाने के लिए भाग्य का आधार लिया जाता है..वास्तव मे भाग्य से कुछ नही होता, जो भी होता पुरुषार्थ से होता…ईश्वर प्राप्ति भी होती है तो पुरुषार्थ से और ऋषी मुनियों  की कृपा से ही प्राप्ति होती है….भाग्य में है तो मिलता ऐसा कुछ नही… ज्यादा खाना खा लिया…अजीर्ण हो गया तो कहेते , “ मेरे भाग्य में  खाना भी नही …”    ….ऐसा कुछ नही , कल का अधिक खाना हो गया तो आज खाना नही खाओ तो अजीर्ण मिट जाएगा….कल किसी से झगडा हो गया तो हाथाजोडी कर के आज कोम्प्रोमाइज कर लो , हो गया झगडा खतम….”क्या करे हमसे तो होता नही”….बुध्दी का उपयोग करो…..पुरुषार्थ करो…घर मे झगडे होते तो एक लोटा पानी लेकर रात को सोते समय पलंग के निचे रखो और दूसरे दिन सुबह वो पानी घर मे छाटों, पीपल को सींच दो , हो गए झगडे खतम…काहे का भाग्य और काहे का झगडा है ? काहे को अपने को कोसता है ?
मिली हुयी चीज का उपयोग करो…उपभोग नही…तो कल्याण ही कल्याण …


….शराबी ने सव्वा मुहूर्त मिले हुए इन्द्र्पद का समझदारी से उपयोग किया….कौंडिण्य ऋषी को स्वर्ग का चिंतामणि नम्र भाव से अर्पण किया , वशिष्ठ जी आदि ऋषी मुनियों  को भी आदर से आमंत्रित कर के स्वर्ग के ऐश्वर्य का सत-उपयोग किया….तो यमराज के दूत हाजिर हुए और बोले कि तुम्हे अब हजारो वर्ष का नरकवास नही भोगना पड़ेगा…लेकिन मनुष्य का चोला भी नही मिलेगा…दैत्य राजा विरोचन के पुत्र बनोगे…तो शराबी ने प्रार्थना कि , दैत्य पुत्र के जनम में भी ये स्मृति बनी रहे कि सत्संग से कितना महान बन सकते है…

एक घडी आधी घडी आधी मे पुनि आध…. आधी के आधी घडी के सत्संग सुनाने का भी कितना लाभ होता है…वापीनगर है सूरत के पास वहा एक लड़की ने सरस्वती मंत्र लिया था…इतनी कुशल डॉक्टर बनी है..वापी में उसका गुरुकृपा  हॉस्पिटल है …उसको इतनी सफलता मिली कि अब दूसरा हॉस्पिटल खोलने की आज्ञा  मांग  रही है..भगवान से यश मांगो तो यश की प्राप्ति होती है..विद्या चाहनेवाले को विद्या मिलती है…भगवान का आश्रय लेकर पुरुषार्थ करो, सूर्य को अर्घ्य अर्पण करो…सप्त रंग जल से परावर्तित होकर तुम्हारे तन मन को प्रभावित कर के सुषुप्त शक्तिया जागृत कर देते है…दिन में 3-४ बार हास्य प्रयोग करो..


हरि ॐ ॐ ॐ ॐ शिव शिव शिव शिव राम राम राम राम राम राम..आरोग्यदाता …..आनंददाता..प्रभुजी ..प्यारे जी..ॐ ॐ ॐ ॐ …हा हाहाहा हा   🙂 .. ऐसे दोनो हाथ ऊपर कर के हास्य करे..
….…ये दिखता तो बहोत साधारण प्रयोग है लेकिन इसके लाभ बोलूँगा तो एक घंटा भी कम होगा….हास्य करने से एन्ड्रोसिन रस बनता है आप के शरीर में….जिससे निराशा , हताशा….चिडचिडापन , स्वभाव का रुखासुखापन  दूर करने में फायदा होगा..दिन मे ऐसा ३-४ बार ये हास्य प्रयोग करो…भगवान का नाम लेने से आप के ऐहिक कर्म, अधिभौतिक कर्म , जपतप पूजा पाठ फलेगा….आत्मा परमात्मा में विश्रांति पाते तो अध्यात्मिक फायदा होता है….मनुष्य जनम लिया है , हर व्यक्ति भाग्यशाली ही है….मनुष्य में इतनी शक्ति है कि  देवों का राजा इन्द्र को भी बेचारा बना दे…

तीन टूक कोपीन  की , भाजी बिना लूण l
तुलसी ह्रदय रघुबीर  बसे तो इन्द्र बापुडा कुण ?

..बिना नमक की भाजी खानेवाला अपने आप को इतना ऊँचा बना लेता है कि इन्द्र भी जानता है कि ये कितना बुध्दिमान है….अपने अन्दर एक गोता मारता है तो परम आनंद प्राप्त करता है..इन्द्र को तो आनंद के लिए अप्सरा नाचे, गन्धर्व गान करे तब मिले…. मनुष्य जनम मे संतत्व को उपलब्ध हो जाओ तो…

सदा दिवाली संत की आठो प्रहर आनंद
अकल्मता कोई उपजा गिने इन्द्र को रंक…

..लौकिक जगत में , मंदिरो मे कितने भी नाक रगड़ लो लेकिन इतना फायदा नही होगा जितना सत्संग से होगा….भगवान शंकर जी ने भी पार्वती जी को वामदेव गुरु से दीक्षा दिलाई..माता पार्वती गुरु के वचनों का आदर करती…..
माँ काली कलकत्ते वाली  
तेरा वचन ना जाये खाली…..
..ऐसी काली माँ भी रामकृष्ण को तोतापुरी गुरु से दीक्षा लेने के लिए बोली….रामकृष्ण बोले माँ मुझे तो तुम स्वयम दर्शन देती हो मुझे क्या जरुरत है दीक्षा लेने  की ?
माँ काली बोली जब तुम पुकारते तो मैं चली आती लेकिन मैं चली जाती तो तुम्हारी स्थिति वोही रहती..तुम्हारे आत्मा की जागृति के लिए गुरुदीक्षा ही लेनी चाहिऐ….गुरुदीक्षा के बिना आत्मा की गति नही…भगवान राम भी धरती पर आये तो गुरु वशिष्ट के चरणों मे गए, भगवान कृष्ण भी गुरु सांदिपनी के चेले बने..”
जो महाराष्ट्र के है हाथ ऊपर करा सगळे.. 🙂
नामदेव महाराज का नाम जानते की नही?
..तो ये नामदेव महाराज बडे संत थे…”माझा विठ्ठल पांडुरंग” कहेकर बुलाते तो भगवान विठ्ठल प्रगट हो जाते….लेकिन एक बार ज्ञानेश्वर , मुक्ताबाई, सावता माली, गोरा कुम्भार ऐसे सभी संतो के सामने नामदेव को कच्चा घड़ा कहा गया तो वो विठ्ठल के पास गए..विठ्ठल भगवान ने कहा संतो की बात सच है…तू कच्चा घड़ा ही है…मेरे तत्व को तू जब नही जानेगा तब तक कच्चा घड़ा ही रहेगा….नामदेव महाराज बोले कि तुम मुझे पक्का घड़ा बना दो ….….भगवान ने समझाया कि चोरो को पकड़ने का काम पुलिस डिपार्टमेन्ट का होता है..जज(न्यायाधीश ) का नही..ऐसे तुम्हे आत्म साक्षात्कार गुरु चरणों  में जाने से ही होगा और तभी तुम मेरे तत्व को पायेगा…हे माझा काम नाही 🙂 .. हर काम अपनी अपनी लेवल पे होता है…ये काम गुरुजी की लेवल पे होता है..तू शिवोबा खेचर के पास जा….
(कल सदगुरूदेव से दीक्षा प्राप्त कर के अनेक भाग्यशालियो  के जीवन सफल होंगे….सदगुरूदेव ने दीक्षा के बारे मे जानकारी दी..)
हरि ओम हरि ओम पावन पावन नाम हरि हरि ओम
मंगल मंगल नाम हरि हरि ओम(कीर्तन हो रहा है..)
..कीर्तन के बाद चुप बैठने से कीर्तन का प्रभाव गहराई मे उतरता है….सत-स्वरूप अंतर्यामी में चुप बैठना..(फिर मन  में ऐसे चिंतन करना की ..) मेरा चैत्यन्य प्रभु कभी मुझसे अलग नही होता..मैं उनका और और वो मेरे…..ओम शांति..प्रभु आप सुखरूप है..मुझे भक्ति देता है..शक्ति देता है…..मेरे प्रभु…
….धरती के ४ चिंतामणि है :- क्षमा युक्त शौर्य, अभिमान रहित ज्ञान , मधुर (प्रिय)वाणी सहित किया हुआ दान , और त्याग युक्त धन ये धरती के ४ चिंतामणि मनुष्य को स्वर्ग से भी ऊँचा ऐश्वर्य प्रदान करने की क्षमता रखते है….


..कमर सीधी..जो झुक के बैठते वो दब्बू बनते…बच्चो को भी झुक के बैठने देंगे तो पढाई मे दब्बू बनते…सत्संग में आते , भगवान का नाम, चर्चा और स्मरण  करते तो पाप नष्ट होते और जिस रुप में आप भगवान को पाना चाहते है उस रुप मे भगवान प्रकट होंगे..ज्ञान रूप  में पाना चाहते हो, भक्ति रुप में पाना चाहते हो, शिवरूप में पाना चाहते हो उस रुप मे भगवान आप को मिलते है….

५ बातो का विशेष ध्यान रखना…
१) भोजन शुध्द हो….
२) भगवान के विरुध्द भाव ना  हो..भक्तिभाव के विरुध्द भाव मन में नही आने चाहिऐ…निगुरे से ऐसे भाव आते..
३) सब का भला सोचे, किसी का बुरा सोचना नही है , किसी का बुरा करना नही…
४)भगवान का नाम-जप श्रध्दा से करे…शुरू मे वैखरी में करे लेकिन धीरे धीरे अर्थ मे उतरते जाओ…..पूजा, जप , ध्यान नियम से करे..और प्रसन्न रहे..भगवान जो भी परिस्थिति देते है , मेरे भलाई के लिए देते ये भाव रखे..विपरीत परिस्थितिया आयी  तो भगवान आसक्ति से छुडाकर उन्नति करना चाहते है..और अच्छी परिस्थिति आयी तो भगवान सेवा में उत्साहित करना चाहते है….भगवान जो भी करते वो अपनी भलाई के लिए ही करते ..जैसे माँ बच्चे को खिलाती- पिलाती, लाड – प्यार करती लेकिन कभी डांट देती, आँखे दिखाती , रूठ जाती तो वो भी बच्चे के भलाई के लिए..ऐसा भाव मन मे सदा रखे…अपने मन की इच्छा पूर्ति के लिए भगवान से भाव नही बदले…
५) हर हाल मे सम रहे, स्वयम को भगवान का जाने….चिंता नही करनी है…चिंता तो निगुरे करते…. “बेटी का क्या होगा” … अरे जो जीवन दाता है , मृत्युदाता है ..उसी को सब चिंता सौप दे..


चिंता से चतुराई घटे ,घटे रुप और ज्ञान l
चिंता बड़ी अभागिनी , चिंता चिता समान ll
तुलसी भरोसे राम के निश्चिंत होई के सोये l
अनहोनी होनी नही , होनी होए  सो होए ll
हरि हरि ओऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽम्म्म  हरि:ओम
 
..कल बच्चो को सरस्वती मंत्र देंगे…चमत्कारिक लाभ होंगे…माँ बाप के होनहार  बच्चे होंगे…..बडो को भी जिनका जिस मे भाव है , उसका मंत्र मिल जाएगा……….रात को सोते समय श्वास अन्दर गया “ओम आनंद” बाहर आया १(गिनती)..श्वास अन्दर गया “ ओम माधुर्य ” , श्वास बाहर आया : २ (गिनती)….श्वास अन्दर आया “ ओम शांति” , श्वास बाहर आया :३(गिनती) ..ये साधना बहोत ही उच्च कोटी की साधना है…साधारण आदमी नही कर सकता….

माला श्वासोश्वास की , जगत भगत के बिच l
जो फेरे सो गुरुमुखी , न फेरे सो नीच ll

….सोते समय अगर इसप्रकार की साधना कर के सोते तो जितना समय सोते वो भी भक्ति मे गिना जाएगा….भगवान से प्रीति , भगवान की स्मुति हमारे दुःख मिटाती है…भगवन कही मंदिर में या संतो के ह्रदय मे ही रहेते है ऐसा नही , सब के ह्रदय मे भगवान है…उस भगवान से प्रीति, भगवान की स्मृति भगवान का ज्ञान और भगवान का ध्यान कल्याण कर देगा….और ये भगवान को अपना मानने से होगा…आप के ह्रदय में इतने पवित्र सदभाव आएंगे कि आप की वाणी सुनकर भी लोगो के पाप मिटेंगे ऐसे पवित्र बन जायेंगे आप….!!
..कलियुग के नारकीय वातावरण में भी संतो की वाणी , संतो के दर्शन पाप मिटाते है…भगवान हमारे हम भगवान के , शरीर नही रहेगा तब भी भगवान हमारे रहेंगे , सुख-दुःख आया , सुख-दुःख गया ,सुख-दुःख नही है तब भी उसको जाननेवाला भगवान हमारे साथ ही है…ऐसा सोचकर दिन में २/३ बार हास्य प्रयोग करे…..सूर्य नारायण को अर्घ्य दे…
ओम नमो भगवते वासुदेवाय…वासुदेवाय..प्रीति देवाय ..भक्ति देवाय..मेरे देवाय..शांति देवाय..ओम नमो भगवते वासुदेवाय…
आरती हो रही है..ओम जय  जगदीश हरे…प्रार्थना हो रही है..कर्पूर गौरम…नाम संकीर्तन हो रहा है…
प्रभु तेरी जय हो!!!!ॐ हरि ॐ हरि ॐ हरि ॐ….

ॐ शांति…


हरि ओम!सदगुरूदेव की जय हो!!!!!
(गलतियों के लिए प्रभुजी क्षमा करे…)

Advertisements
Explore posts in the same categories: Pujya Bapuji

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s


%d bloggers like this: