Nishkam Karmyog….Chhindwara satsang_live(15/12/07)

Saturday, December 15, 2007; IST 4:30PM

Chhindwara( M. P.) satsang_live 

****************

Sadgurudev SantShiromani PraramPujya ShriAsaramBapuji ki Amrutwani :-

 **************** 

In Hinglish(Hindi written in English)

(For Hindi please scroll down..)

 …..sab se pushtidayi kya hai bolo?koyi badam bolega koyi kishmish bolega koyi kaju bolega..lekin ye sab nahi…. 

Shlok pathan ho raha hai..bharat gyanmay pradipah….

Hari om ……. 

..Bahe se Lamba shwas loge…jitana jyada le sakate ho lo…rok do…jis bhagavan ko mante ho uska naam lo……dahe se chhodo…..phir mai “hari om” ka uchcharan karaunga tab “m” bolate samay hoth band rakhoge aur apani 72000 nadiyo mey pavitr naam ki shakti gunjane doge , jisase paap taap door hokar aanand aur prasannata ki paavan urja aap ke sharir mey daudane lagegi….phir se lamba shwas(dahe se)….roko…..bhagavan ka naam japo…phephado ke band chhidr khulenge…..ab shwas chhodo(bahe se)……pranayam bhojan ke baad adhayi ghante ke baad kar sakate hai….bhojan ke baad turant nahi kare….subah aur sham ko khali pet kar sakate hai….akele pranayam karana phephado ki kasarat matr hai…lekin usame bhagavan ka naam milaya jaye(shwas rokake bhagavan naam ka jap) to aayu, aarogy aur aanand pushti ki prapti hoti hai…..sirf anulom vilom karane se ek guna phayada hota hai lekin bhagavan ke naam ke sath kiya hua sagarbha pranayam ka 100 guna phayada kaha gaya hai shastro mey….sagarbha paranayam se apani shakti bhagavan ke shakti se, bhagavat samarthy se, bhagavan ke bal se judi raheti hai…. Phir se shwas bharo(jis  nathune se chhoda usi se lo)…aur thoda…bhagavan ka naam japo aur shwas chhodo( dusare nathune se )…..

Hari ooooooommmmmmmmmm

(for detail vidhi of pranayam please click on following link…..

English : pranayam pdf-  http://hariombooks.googlepages.com/PranayamTherapyAnInstantPanacea.pdf

Hindi : part ” kewal nidhi ” padhe :  http://hariombooks.googlepages.com/hindi_IshvarKiOr.htm#_Toc184990231  ) 

 Hari OOOOOOooooommmmmmmmmmmm 

Jo jhuk ke baithe hai ,unko samajha de ki agar unako koyi bhi (aira gaira) aakar daraa de…dhamaka de….dabaa de aise dabbu banake jeevan jeena chahate ho to jhuk kar baithe…apane bachcho ke upar bhi dhyan dena….kitana bhi marks laye aur unchi degreeya lekar ghume ..bada officer bane..lekin bada officer bhi jhuk ke baithanewala hoga to usaka chhota officer bhi use dabayega….isliye sidha baithana chahiye….phir se gahera shwas…

Hari OOOOOOOMMmmmmmmmmmmmm 

Aaj subah ke satr mey bhi bataya tha, abhi phir se bata raha hun….bhagavat gita mey shrikrushn bhagavan kahate hai ki , karm karo, lekin karm ke phal  ki aasakti chhod do…phal ki aasakti hi jiv ko sansaar mey bhatakati hai…Moh badhati hai…. Moh tyaje upaje shula…Pati hai to apana kartyavy patni ka gyandaan badhe, aarogya badhe , prasannata badhe isliye karo …lekin patni hai to sharir ko noch ko sukh lo aise adhikar ka hauwa magaj mey mey se nikaal do….Patni hai to pati ke liye bhojan banao, usake swasthy ka khayal rakho  chij vastu ka khayal rakho…lekin pati ki taraf se ye mile, wo mile ..pati ka kamar tute aisi apeksha na karo….wasanaa badhanewala hota hai wo “marriage”(marech !)..lekin yaha to shaadi hoti hai..shaa+ aabad= shad aabad rahe aisa rishte mey bandhate wo shadi hai….koyi bolata meri mrs(misej) hai to ekdum bekar baat hai…koyi bolata “he is my mister” ..to mai bolata hun ekdum vahiyyat baat hai…mrs and mr sex karane ke liye hote hai…shaadi karm karake kartyavya kar ke aabad hone ke liye hoti hai…Tasmat tapasyat kary..Us kartyavy mey bhi aasakti nahi honi chahiye…aasakti huyi to phir dukh , chinta ke ghero mey padoge….paramatma hi purush hai..kartyavy kar , lekin karm ka phal milega is aakansha se mat kar….tu karm kar lekin nishkam bhav se…kartyavy karane ka abhiman nikal de….tumhari yogyata  badhegi, samarthy aayega…karm ki aasakti baandhati hai….karm aasakti sahit karane se itani shakti nahi milati jitani karm aasakti rahit hokar karane se milati hai….Savva 5 karod manushy hai is dharati par….lekin savva 5 karod mey se ek bhi manushy aisa nahi kahega ki phalana kaam maine dukhi hone ke liye kiya..phir bhi sabhi dukhi hai….

Tu to puran bramh tha..

Karm ke phal mey aasakti huyi to dukhi hota….aasakti se rahit hota to paramatma ko parpt hota…jo tumhara aatma hokar baitha hai…hamesha sath raheta hai..marane ke baad bhi jiska sath nahi chhutata nahi..lekin tum sansar se  mamata ke karan nahi pahechan sakate usako….wasana, moh ke parde se nahi pahechanate usako..jo tumhare sath janm janmatar se hai..isiliye bhatakana padata hai….aasakti rahit karm karate to janak raja aadi  bramh paramatma ke sidhdi ho gaye…Gita ke tisare dhyay mey 20 wa shlok 

Na mey partha sti kartyavyam trishu lokeshu kinchan  l

Naanvaptamvaptyam vart evach karmani ll

 Jo Param sidhdi ko prapt ho gaye…aise lok karm karate huye bhi ishwar ko dhyan mey rakhate hai…to bhakti se karm ke pravah mey shant hoga..paramatma sukhrup hai..paramatma gyan swaroop hai..jo bachapan mey sath the..ab hai kya ? jo bachapan mey bewkufiya thi wo ab hai kya?..lekin un bewkufiyo ko jananewala ab bhi tumhare andar hai…bachapan ki budhdi badal gayi…jawani aayi..jawani ka josh aaya..jawani ka josh bhi badal gaya lekin phir bhi jo nahi badala wohi hai tumhara aatma…is aatma ko nahi janane ke karan hi nichi-unchi yoniyo mey bhatakana padata hai…jeevan yuhi vyarthy gava raha  hai jiv….

..Sab se jyada manushy sharir ke liye pushtidayi kya chij hai? Manushya sharir ke liye sab se pushtidayi, aarogya pradayi hai shudhd vayu mandal….manushy pani adi se 2 litre leta hai..2100shwas lete roj to 10 kilo hava lete ..bhojan lete – roti sabji phal se 1 kilo..lekin sab se jyada lete hai wo hai hava….isliye shudhd hava sharir ke pushti ke liye bahot jaruri hai.. 

Jo log attach latrin use karate unake kamare ki hava atyant ashudhd hoti hai..utani shudhd nahi raheti…nahane ka to phir bhi thik hai lekin shauchalay wala aattach kamara bahot haani karak hai swasthy ke liye…aur jo log wo angreji padhdtika shauchalay hai wo vikalang logo ke liye hai…apane pair pe baithane se pet aur pairo ke dono taraf  pressure padata hai..pet , hath , pair saph hone mey madad milati hai…jo log aise angreji shauchalay ka upyog karate unko budhapa jaldi gher leta hai..purn swasthy labh nahi milata…Ghar ke paschim mey pipal ho to aise ghar ki hava atyant shudhd raheti hai…swasthyprad hoti hai…har ghar ke aangan mey tulasi ka paudha hona hi chahiye…tulasi bacteriya paida hi nahi hone deti….isliye bhojan bhagavan ko arpan karate to bhagavan ke naividya mey bhi tulasi ka patta rakhate ki bacteriya paida hi nahi hote…tulasi ki mahima kitani kahe…. 

..Bhagavan krushn ne apane gwal baal ke sath sudhd hava ke liye van-diwas manaya…bhojan ke baad krutvarma , balaram aadi jangal mey ghumane nikale to unhe ek purana sukha kuwa dikha….us sukhe kuye ke andar ek kirkit jhatpata raha tha…krutvarma , balaram us kirlit ko kuwe se bahar nikalane ka prayas karane lage , lekin viphal huye..to shrikushn bhagavan ne yukti se us kirkit ko bahar nikala….use bahar nikala to sahi lekin uspar karuna mayi drushti daali to dekhate dekhate us kirkit ki pran-jyoti nikali aur ek divy prakash ke roop mey badala…aur ek devata pragat ho gaye…..bhagavan krushn bole ki , “hey dev purush, aap yaha kaise padhaare?”

To dev purush bola, “ madhav…”Madhav ye bhagavan ka naam hai…madhav , govind, gopal….“go” maane indriya jab indriya thak jati to raat ko jis mey vishranti paakar shakti ka sanchay karati hai, apane indriyo ka poshan karati hai..us paramatma ko bolate hai “gopal” aur jisaki satta se indriyo ko kary karane ki shakti milati( aankhe jisaki satta se dekhati, jivha jisaki satta se chakhati..etc) usako kahate hai “govind”Aur gane mey jo mithas bhar deta, phal-phul aadi mey jo mithas bharata, madhumakhkhi ke chhatte mey jo shahad aata wo inhi phulo mey se..to ye madhurata denewala parmatma hai “madhav”..chhota bachha chahe manushy ka ho, chahe kutte billi ya gaay ka ho pyara lagata hai….nanha munna bachha ahankar rahit hota hai isliye madhur lagate hai..ye hame “madhav” ki madhurata dikhaati hai…

..to devpurush aage bola..“madhav, Govind, Gopala…aap sab kuchh janate hai..lekin apane gwal bal mitro ko satsang dene ke liye anjaan bankar puchhate hai…..mai prasidhd raja hun….maine apani prasidhdi ke liye bahot gaaye daan ki….koyi aasman ke taare gin sakata hai lekin maine kitani gaaye daan ki usaki koyi ginati nahi kar sakata…lekin maine ye gaaye bhagvat priti ke liye nahi daan ki, satsang milane ke liye nahi daan ki, punya prabhava badhe isliye nahi daan ki…lekin mera naam prasidhd ho, wahwahi mile..aisa daanvir raja ka parichay dene ke liye gaaye daan ki wohi abhaga raja hun..jisaka naam aaj bhi itihas mey hai…lekin wahwahi prasidhdi ke liye karm karane se maine apani wasana badhayi, isliye marane ke baad mujhe kayi nich yoniyo mey bhatakana pada…..aaj aap ne mujhe dev roop mey pragat kiya hai madhav……jisaki prasidhdi ki charcha to ab bhi hoti hai wohi abhaga raja mai hun…”

Bhagavan krushn ne puchha , “ to tum raja Nrug ho?” 

Devpurush bola, “ ha madhav , mai wohi raja Nrug hun jisaka naam gaay daan ke prasidhd hai, ekchhatr samrat daanvir….lekin ye sab wahwahi ke liye karane se karm ke bandhan mey bhatakata raha..”… karm ke bandhan se jiv manushy loko  mey aaya to bhi mata ka garbh mile na mile..to peshab mey gandi naali mey bahe jana padata hai…aise durbhagy hote hai..bhagavan ke naam se vanchit satsang se vanchit rahate to ramayam mey aise jivo ko “mand mati” kaha hai….raja nrug bhi aisa mand mati ke karan maranewale sharir ki wahwahi mey badhaane mey aatma ko bhul baitha aur adhogati paaya….isliye satsang jaruri hai… jo tumhara aatma ka gyan kara de…jiv ki adhogati ko rok de…aatma pyara hai us ko jaan lo , apana manushy jeevan vyarthy na gavao isi bhavana se prerit hokar kaheta hun ki… Sau kaam chhodkar khana kha lena chahiye, hajar kaam chhodkar snan kar lena chahiye, lakh kaam chhodkar daan-pun kar lena chahiye aur karod kaam chhodkar hari ka naam (satsang)aur hari ka dhyan  dhar lena chahiye…

shatam vihay bhuktavyam l

sahasram snanam aacharet ll

laksham vihaay datrutvam l

koti  tvatvat Hari bhajet ll

..maine wo katha bhi sunayi thi ki ek sharabi savva muhurat satsang ke puny sthali pe pade rahane se indrapad ko prapt hua aur savva mahina mile huye indrapad ka yogya upayog kar ke (aatmgyani rushi,santo ka aadar kar ke satsang suna)  “raja bali”  hua..mujhe satsang nahi milata to aaj mai kaha hota? Satsang ke bina aatm unnati hi nahi…satsang se hi aantarik shakti pragat hoti hai…. Delhi mey ek pariwar ne apane 4/5 saal ke bachhe ko sarswaty mantr ki diksha dilayi kuchh mahine bite…abhi ki baat hai ab wo ladaka sade 5 saal ka hoga…us bachche ka naam tanshu hai…to ghar ke bade bahar gaye the..tanshu aur sabhi bachche khel rahe the…itane mey chhat se , ghar ke upari manjil se usaka chachera bhai 3 saalka himanshu upar se puchhata hai “mai aau.. mai aau?” to niche khelane wale bachho ne kaha “aa jaaa…..” wo abodh balak chhat se gir pada…to tanshu ne 2/4 bachcho ki sahayata se usako maruti van mey litaya aur jis bachche ne gadi kabhi nahi chalayi, sirf dekhi thi..to driving sit pe baith gaya …shant hua..aur andar se prerana paakar waha se 11 kilometer door jeevan anmol hospital gadi chalakar le gaya…bachche ko admit karaya, usaki jaan bachayi….nanhasa tanashu gadi chalakar le gaya to midiyawale , tv wale waha pahunche..usase phir se gadi chalakar dekhe, shooting karaye..to sabhi ne dekha ki itana sa nanha munna kaise gadi ke cluch dabaye, giyar badale…!! (Tanshu ko rastrapti purskar mila hai)

Manushya ke andar bahot sari yogyata chhupi hai…kitane hi mayi bhayi dekhe hai jiname diksha lene se mantr ke jap karane aisi yogyataye vikasit huyi hai…aise kayi kisano ko dekha hai jo diksha lene ke baad unke jeevan mey bahot khushhaali chhayi hai ..sukhi aur khush najar aate hai..samiti aur samiti ke sampark mey aane wale kayi log milate hai , jinake jeevan mey bahot hi shubh parivartan aaya hai…satsang manushy jeevan ki  aihik, naitik aur adhyatmik unnati bhi karata hai…..yagy-yaag kiya to usaka phal bahvishy mey milata ,wobhi vidhivat hua hai ya swarth sahit hua isape phal milata..lekin satsang ka phal turant milata hai..nishkam bhav se karm karate to mangal karate aisi jeevan ki yukti satsang se sikhane ko milati…maan lo tumhara nokar dudh garam kar raha hai aur usake hatho dudh ki garam tapeli gir gayi to aap kya karoge? Usako daantoge…..aur wo hi kaam aap ke beti se ya bete se hua to aap bologe, “ kahi lagi to nahi”…..kyo ki yaha bhav hai jo badlaata hai…aap ye bhav ko hi badal do … sabhi mey wohi parmatma hai….jo apane ke liye bhav hai wohi paraye ke liye rakho to aap ko bhagavan ke yagy karane ka prasad mil jayega…bhagvaan ka prasad bhi kaisa hota hai? 

Prasade sarv dukhanam haani rasyopjayate l

Prasann chetasu ya su budhdi pariveshtate ll 

Aisa bhagavat prasad paane se vruttiya shant hone lagengi…paramatma mey aanand aane lagega..budhdi mey bhagavan ka samarthy pragat hone lagega..aap ke paas koyi degree nahi , koyi certificate nahi tab bhi aap itani unchayi chhu sakate hai…. 

Ahmedabad se 25/26 km baawala ganv mey pratapsinh aur kuwarbai ke yaha beta paida hau…beta das saal ka hote hote maa baap chal base…anaath 10 saal ka ladaka surdaas tha, aankho se dekh nahi pata…lokal train mey nadiyad tak jata, train mey daphali bajakar, gana gaakar bhik mangakar pet bharta…..ek baar satsangiyo ne kaha ki paas mey bhagavat katha ho rahi hai , chalo waha, khana bhi mil jayega…ladake ne 1din , 2 din , 3 din  bhagavat katha suni…asaram bapuji ka satsang nahi tha,..ye kahani 1782 ki hai…us ladake ka janam 1770 saal mey hua tha, tab wo ladaka 12 saal ka hoga…to katha karane wale maharaj the mahant bhaidaas…mahant bhaidas bole ki , jiska isht nahi hota usaka anisht hota hai…jisaka isht hota hai uska anisht kuchh bigad nahi sakata…jiska koyi aadhar nahi uska aadhar hai bhagvan….manushya janam paakar jo satsang nahi karata, diksha nahi leta , aise manushy ko dhikkar hai..aise manushy ko  nich yoni mey bhatakana padega…” 

.. bhagavan ne khud pragat hokar Namdev ko shivoba khechar se diksha lene ke liye kaha tha…maa kali ne swayam pragat hokar ramkrushn ko totapuri guru se diksha lene ko kaha tha…bhagavan swayam bhi avtar lekar aaye to guru charano mey gaye..bhagavan ram ke guru vaishishth the, bhagvaan krushn ke guru sandipani the…lekin aaj kal  thoda bahot padh likh lete to apani hegadi dikhate….bhagavan ke raste chalane ko bura maanate to aise logo ki mati mand ho gayi hai…..aise manushyo pe dhikkar hai aise ramayan mey aata hai…..to katha sunkar 12 saal ka surdas balak mahant bhaidas ko bola ki maharaj aap mujhe apana shishy bana lo…lekin mahant bhaidas imandar kathakar honge…unho ne bola ki  , “ mai kathakar hun…mai to jo shastr bolate hai unaki kath sunata hun..lekin sant bolate to wohi shastr ho jata aise sant hote hai , wo jo bolate wo satsang ho jata hai…sant bolate unake pichhe pichhe shastr chalate hai…aur kathakar katha ke pichhe pichhe chalate hai…aatmgyani santo se jo mantr milata hai wo chetan mantr hota hai…tabhi mangal hota hai….”

..Mai isake aage aur bolata hun ki aap apane ghar mey wayaring karate to ek light nahi jala sakate..lekin usi ko power house ke cable se jodate to sabhi intrument mey jaan aa jati hai…pankhe, fridge sabhi chalne lagate hai…aise hi kisi sachche sant se diksha lete to aap santatv ko uplabdh ho jate hai…kabir ko ramanand swami se “ram” naam mila to mahan ho gaye..dhruv ko narad ji se “om namo bhagavate vasudevay” mantr mila 6 mahine mey saphalta paa liya..aansumal ko lilashah bapu mile to 40 din mey ishwarprapti ho jati hai..aur ishwar prapti nahi bhi karani ho to bhi jeevan mey jitani unchayiya paana chahate ho utani paa sakate ho… 

..To mahant bhaidas ne use guru govind ramji  se diksha lene ke liye kaha..aise guru ne chetan mantr  kalyankari sankalp se diya….drudh vishwas se mantr  jap aur pranayam se sushupt shaktiya jagrut huyi..to anath balak se sant pritam das ban gaye…us balak ka nam pritam tha…to aise mahan ban gaye wo bolate jate aur pandit unki wani ko likhate jate…pandit likhate likhate thak jate itane  hast likhit lipiyo ke dher lag gaye..ahmedawad –baroda 120 km hoga..waha tak nahi, aanand tak unake 52 ashram hai  , aaj bhi koyi gin le….aanand se 12 km pe sandeshwar mey unki samadhi hai….mai waha 11/12 mahine pahale jakar aaya..to waha ke trusti ne bataya ki urope ke romarola trust ke log 5 santo ke hastlikhit le gaye to uname sant pritamdas ji ke hastlikhit the…kuchh abhi bhi waha padi hai..mere ko dikhayi…kuchh print karaye hai….sant pritam das kahate hai… 

Guru ko maane maanavi dekhe deh vyavhaar l

Kahe pritam sanshay nahi pade narak mey jhar ll

Guru govind te adhik hai , shudhd chitt kari joye  l

Kahe pritam karuna kare aawagaman naa hoye ll

Guru pade preme pujiye pragate gyan prakash  l

Kahe pritam ek palak ma kare avidya nash ll

Jaa ke mastak guru nahi , so nar nigura jaan  l

Kahe pritam paatak nahi ; purush nahi – pashan ll 

..Unake rache huye bhajan aur aarati aaj bhi gujrath mey karodo log janate hai….unaki rachi huyi aarati gujarath mey aaj bhi karodo log  se gayi jati hai…

AANAND MANGAL KARU AARATI,
HARI GURU SANTAN KI SEVAA

PREM DHARI MANDIR PADHARAAVU,
SUNDAR SUKHADAA LEVAA

RATNA SINHAASAN AAP BIRAAJO,
DEVAA DHI CHO DEVAA

MAARE AANGANE TULSI NO KIYAARO,
SHAALIGRAAMANI SEVAA
A

DASAT TIRATH GURUJI NE CHARANE,
GANGAA JAMANAA REVAA

KAHE PRITAM ENE ORAKHE INDHAANE,
HARI NAA JAN HARI JEVAA

( Sadgurudev ne swayam  aarati gayi..)..kabhi school mey gaye nahi..aankhe chali gayi thi aise surdas …daphali bajakar, gaana gaakar , bhik manganewala anath bachcha aaj karodo logo ko margdarshan denewala sahitya likhkar amar ho gaya hai…aap ke andar bahot yogyata chhupi hai…school college mey jate to kewal suchanaye milati hai…sansar ke moh mey phasate to anatma mey jate..isliye vastavik yogyata to chhupi hi rahe jati…aap ke bachho ko dhyan  bhi sikhao..unaki vastavik yogyata ka vikas karane mey madad karo…  

** Ghee chuna ko marega aur khoja jinda rahe jayega…(Birbal ki kahani) 

Garib 12 saal ke birbal ko usaki mata ne sarswaty mantr ki diksha dilayi thi…jab wo 15 saal ka hua paan ki dukan mey baithata…ek din ek khoja aaya aur puchhane laga ki pavbhar chuna milega kya? To birbal ne sarswaty mantr liya hua tha…usaki yogyataye vikasit huyi thi…usane gaherayi mey dekha ki pav bhar chuna khoja kyo le ja raha hai….saari baat birbal ke samajh mey aa gayi…usane khoja ko pucha ki “aap badshah akabar ko pan dene ki sewa karate kya?”Khoja bola, “ha”Birbal bola ki , “aap ke hatho paan mey chuna jyada pad gaya isliye badshah akabar ke munh mey chhale pad gaye hai…wo pareshan ho gaye hai…isliye pavbhar chuna tumase mangaya hai…ab tum chuna lekar jaoge to badshah tumko pavbhar chuna khilayega..aur nahi khaoge to bhi dand milega…”To khoja bahot ghabaraya… “toba toba” karane laga….ab kya hoga?Birbal bola ki , “bhag jayega to bhi sainiko se   pakada jayega…mere paas ghee hai wo le ja..kal jab badshah ke pas jayega to pahale ghee pi kar jaa..to ghee chune ko marega aur khoja jinda rahe jayega….!”15 saal ka birbal akbar badshah ke khoja ko yukti bataya….

..dusare din khoja ghee pikar pavbhar chuna lekar badshah ke samane hajir hua to jaise birbal ne bataya tha waisa hi hua..badshah  ne sainiko ko bulwaya aur apani talware myan se nikalkar taiyyar hone ko kaha… aur khoja ko bole ki , “…nalayak..badtamij kabhi dekha tha kya  itana chuna pan mey daalte huye..laaparwah..dushman ko bhi aisa chuna wala paan koyi khilayega nahi…sipahi thali lekar aao….aur ye pura pavbhar chuna khata hai to thik nahi to maaro…”

..Jaisa birbal ne kaha tha waisa hi hua…khoja ne ghee piya tha isliye chuna khaa liya…ghar gaya..aur dusare din phir badshah ke sewa mey hajir hua..badshah chauka…  “arre tum abhi tak jinda? Pavbhar chuna khakar bhi..ye kaise?”  

….Aisa prabhav hai sarswaty mantr ka..aap kya samjhate gurudiksha ko?aap kya samajhate vaidik mantro ko? Anant ki sidhdiya shishy mey pragat karane ki kshamata hai un mey..!!

Vivekanand ne thik kaha tha ki , “manushy ke budhdi ka lakhava hissa upyog mey aata hai to use budhdiman samajha jata hai lekin 99999 koshikaye to abhi bhi pitaare mey band padi hai…”

Manushy ki itani shakti avikasit rahe jati hai…satsang aisi yogyata ke dwar khol deta hai…ek makan aur gadi lekar sansar ke piththu bankar jane ke liye nahi aaye ho tum is duniya mey……paramatma ka amar khajana paane ke liye aye ho…

Badshah ne khoja ko dekha to bola ki abe tu jinda kaise?..akbar badshah nahi janata ki 15 saal ke bachche ki ruh ki chetana sarswaty mantr se jagi hai…andar ki baat jan gaya aur usane khoja ko yukti batayi hai…birbal ko darbar mey bulaya gaya ..sawal jabab huye..birbal ke dhada-dhad jabab sunkar badshah ne puchha hamare mantri banoge? …shapath vidhi ho gaya…

.. birbal 19/20 saal ka hua to sare mantri usake virodh mey sanghatit hokar birbal ki tang khichane ka plan banane lage..badshah ke sabase sundar begam jo thi usake bhai ko contact kar ke bataya ki kaisa bhi kar ke begam sahiba ko kahe ki birbal ko nikal do…..begam ne kaha badshahko  ki, “ is birbal ko nikal do..is kaafar ko nikal do…” badshah ne nahi mana to hatt(jid) bhi kiya..to badshah ne bola ki uska kuchh kasur batao…aisa kuchh socho ki uspe kasoor  thopa jaye to birbal ko nikal denge….to begam ne apane baal khol diye..khatiya khadi kar di…aur baith gayi…aur badshah ko boli ki aap hukum karo birbal ko ki begam sahiba ko rajdarbar mey le aao..mai to yaha se uthane wali nahi..jab birbal se  itana kam nahi hua to jao nikal diya bol dena….Birbal pakke guru ka chela tha…kabhi kisi sundari ko manaya nahi tha…yaha to begam sahiba ko manakar raj darbar le jana tha..chalo ye bhi aaj kar ke dekhate hai…birbal ko jhataka laga ki khatiya khadi kar ke , baal khule chhod ke begam baithi hai…aur badshah bol rahe ki begam ko rajdarbar le aao….to jahapanha itana najuk kaam mere jimme kyo soup rahe hai? Kuchh to hai….usane sare mahel ke sewako ko bulaya..sari baat jan li….shant ho gaya ..planning chali…phir mahel ki dasiyonko bola ki tum bich bich mey aakar aise aise bolana..baki ka mai sambhal lunga…

Birbal begam sahiba ko kaheta hai ki, “ jahapanha aap ko pyar se bulwana chahate hai isliye mujhe bheja hai…begam sahiba rahemat kijiye is garib par…begam sahiba rutha naa kare…humari to jaan nikal jati hai…begam sahiba…”

Itane mey dasi aakar boli ki , “jahapanha ne tumako turant bulaya hai, us shahejadi ko lene ke liye jana hai..jahapanha usase shadi karenge…ye begam nahi aati to marane do usako…”Birbal ne phir aage, “ chaliye begam sahiba ab der na kijiye” kaha…

Itane mey dusari dasi aayi , boli ki , “jahapanha bole ki wo shahejadi to bahot khubsurat hai…wo birbal ko nikal do aisa hatth bhi nahi karegi….birbal ka jahapanha pramoshan kara denge….turant jakar us shahejadi se shadi ka intjam karo….us ruthi begam ko chhodo..tumhare siwa ye kaam dusara mantri nahi kar sakata…” 

To begam sahiba boli..  “jo khubsurat shahejadi ki baat jahapanha kar rahe the , usi se shadi karenge kya?” Birbal bola .., “ ji ha begam sahiba… lekin ab der ho gayi … mujhe abhi jana padega…jahapanha ka hukum hai..”

To birbal aage aur begam sahiba usake pichhe… “bhaijaan ab mujhe kaun puchhega? Aap jayiyega nahi…us shahejadi ko layiyega nahi…”

 Birbal aage aur begam sahiba pichhe…khule baal, bina parde ke begam sahiba nange pair bhag rahi hai…  “ bhaiyya birbal..is bahen ko bacha lo..”  birbal aage aage..  “nahi begam sahia…jahapanha naraj ho jayenge…”birbal aage aage  aur begam bakari jaisi pichhe pichhe…nange pair chalane se komal pairo mey kankad chubhe , khun bahe raha hai…aise darbaar mey pahunche…akbar badshah uth khade ho gaye.. “arre!! tu to boli thi ki mai ruth ke baithungi..phir aisi be-parda, khule baalo se darbar mey aa gayi…”begam hath jodkar bolane lagi, “ shahejadi ko nahi lao..mai kuchh nahi bolungi…..birbal ko nikalo aisa kabhi nahi bolungi…”to badshah ne birbal ko puchha ye kaise kya.. to birbal bola ki jahapanha aap ki aagya ka palan karane ke liye aisa kahana pada…!! ..to kya birbal begam ruthegi to kaise manaya jaaye aisa corse karane gaya tha kya? J  mai satsang kaisa karana hai aisa corse karane gaya tha kya? Kahi kashi mey pandito se padhane bhi nahi gaya…..bas aatma mey gota marke jo baat kaheta hun..satsang ho jati hai…..sewa ke liye dhan ki jarurat nahi , sewa ke liye kursi ki jarurat nahi…kuchh log sochate dhan aayega tab sewa karenge…lekin aisa nahi hai mere lala , meri laliya…aap ke pas jo bhi yogyata hai usi se sewa karo….lekin jo bhi karo wasana ke bandhan ke liye nahi..dusare ke hit mey..dusare ki yogyata ke liye karo to dekhana kaisa nikhar aata hai…bilkul sidha ganit hai…..bahy aanand ke liye nahi…antar ke aanand ke liye karo…aados pados mey ghar mey saas , nanand, jethani devrani, bahen,  bhabhi… amir, garib ..mayi , bhayi ..jo bhi ho usaka bhala chaho…apane sukh ke liye karate , apani wasana ke liye karate to wo aapaki kshamata ghataati hai….dusare ke dukh mitane ke liye karate to aap ke vyaktitv mey 4 chand lag jaate…aap ko apane antar mey hi paramtma ka aanand ka prasad mil jayega…apani yogyata ko dusare ke liye lagate to apane ko nikharate hai….dusare ka dukh mitate to apane dukho ka ant hota hai…jo akarm karate wo shanti se nahi jite….nishakam karm karane wala jite ji mukt hota hai….

Saa trupto bhavati..saa amruto bhavati…  

..najaro se wo nihaal ho jate..jo bramhgyani ki najaro mey aa jate……

……apane santatv mey jago na….  

Kabira darshan sant ke sahib aawe yaad l

Lekhe mey wohi ghadi , baki ke din baad ll 

Tulasi maaya re samajh sab sansar l

Raag dwesh dukh sab gaye awataar ll 

…is desh ka naam jis raja ke naam se pada wo ajnab khand ka ek chhatr samrat raja bharat ko bhi marane ke baad hiran ka sharir mila….ye katha bhagavat mey hai…ham kartyavy palane mey phal ki aasakti rakhate to kartyavy waasana se phal ki shakti kunthit ho jati hai..wasana apurti ke liye aasakti rahit karm karo to aisa karm nishkam karm ban jata hai….aasakti sahit karm karate to aise karm ki gati mey chadh jata hai…aasakti rahit karate to antaratma pragat ho jata…maja lete to boja badhate..dusare ki bhalayi ke liye karate to bhagavan ka  bal milata .. “bhagavan mere mai bhagavan ka”  aisa sadaiv smaran kare…

ramayan mey aata hai ki bhagavan shankar parvati ji ko kahate hai , 

 Uma Ram swabhav jehi jana l

Taahi bhajan tyaji bhav na aana ll 

..rom rom mey aatmaram basate hai….marane ke bad bhi hamara sath nahi chhodate hai..aise aatmaram bhagavan aanand swaroop hai..chetan swaroop hai….apane karmo ke niyamak hai..apane karmo ke karta hai…karmo ke phaldata hai…humhra unase sambandh param drudh hai…aisa paramatma ka thik swabhav jaan liya to dusare koyi sansari chijo mey mohabat nahi hogi…antar mey parbramh ko payega  to…khayega piyega…lekin antar sant ka hoga…sat swaroop ishwar mey aanand aayega…kisi jati majhab ka ho…paramatma ko paa sakata hai…paramatma ka samrthy paa sakata hai…prerana paa sakata hai….kewal itana mano ki bhagavan humara hai…to bhagavan ka bal, nirbhayata aap ke hruday mey bharega….

 ..aaj ghar jane ke bad ek kam karo….soyenge to sirhana kaha hai ye dekho…paschim mey sirhana hai to chinta pichha nahi chhodegi..uttar mey sirhana hai to bimari pichha nahi chhodegi…isliye sirhana dakshin ya purab ki disha mey kar ke soye…sone se pahale aaj dinbhar mey jo bhi kaam kiya sabhi kaam prabhu ko arpan…achha kaam kiya to bhagavan ko dhanywad dena,prabhu aap ki krupa se hua…galati kiya to prabhu aisi galati nahi karunga maphi mang lo….phir bhagavan ka naam uchcharan karoge is prakar :- 

Hari om hari om hari om ..ram ram ram ram …shiv shiv shiv shiv….aanand deva…prabhu deva..pyare deva…aatm deva….om om om om bin phere ham tere…ha ha ha ha J (bapuji hasy prayog karavaye…lamba shwas bharake , dono hatho se tali bajakar bhagavan ka naam uchcharan karate huye dono hath upar kar ke hasy karana hai..) aisa karane se kamare watavaran pavitr hoga (aur aap bhi antar bahy relax honge)

..sote samay chinta , raag dwesh mann mey lakar , ya mere ko ais anahi mila waisa nahi hua…aise nakaratmak vichar laakar khud ke dushman nahi banana… “mai bhagavan ka aur bhagavan mere…jisaki satta se kan sunate hai jisaki satta se aankhe dekhati hai , jisaki satta se jibh chakhati hai, jisaki satta se dil ki dhadakan ho rahi hai wo mere aatmdev jo marane ke baad bhi mera sath nahi chhodate mai unaki god mey sone ja raha hun….”

..phir sidhe let jaye…shwas andar gaya “om aanand”…aap allahwale ho   to allah ka naam lo..jis bhagavan ko mante usaka naam lo… “bhagavan tum prem swaroop ho…gyan swaroop ho..mere hiteshi ho….bhagavan tum mere ho na …mere ho na.. mere ho na bhagavan..?” puchhate raho…shwaso ko ginate ginate so jao…aise aap sote to hari ki god mey jate…yognidra mey jate…jaise bhagavan narayan 4 mahine yog nidra mey sote aur sankalp se sampurn srushti ka paalan karate…aise aap ko aisi yognidra lene ke baad samarthy milega….aap mey jo samarthy chhupa hai, wo pragat hoga… 

…nind se uthane ke baad tanik bistar par hi baith jaao…Dinbhar ki aapadhapi mey jo nahi kar sakate aise vichar shant chitt se karate to kam kaj mey saphalata milegi…shant baithe raho….jaise bolate bolate thak jate to bolana rok kar shant hote to bolane ki shakti ka sanchay hota aur bolane ki shakti aati..kaam karate karate thak jate to kaam nahi karate to karane kaam karane ki shakti ka sanchay  ho jata ..shakti ka rhas ho jata to chup baithane se sanchay ho jata hai….shant baitho ..mai paramatma mey chup hun….kya lagega isame?koyi bhi kar sakata hai…..jis ghar mey utpat hai to aise shant chitt se baithkar upay khoj lena..gurumantr se achhi prerana mil jati hai…

..Narayan Narayan…

..phir snan kar ke sury narayan ko arghy do…Mirchi boye to mirchi ugaye ganna boye to ganna ugaye aise sury maharaj ke kirano mey shakti hai…

Bramhvaivart puran mey likha hai ki …

Jisako vidya chahiye sury bhagavan use vidya dete hai..

Jisako dhan chahiye sury bhagavan usako dhan dete hai..

Jis ko putr chahiye usako sury bhagavan putr dete hai..

Jisako yash chahiye sury bhagavan usako yash dete hai…

Is prakar jo jis bhav se sury narayan ko arghy deta hai use uski prapti hoti hai….isake pichhe vaigyanik arth ye hai ki sury ko jal dete samay pani se sury ke kiran paravartit hokar aap ke sharir par indrdhanush ka valay ban jata hai, jo tumhare sharir mey positive urja paida karata hai…isliye nabhi ko dikhate huye sury narayan ko jal arpan karana chahiye….sury bhagavan ko khuli aamkh se nahi dekhana chahiye…aankhe band kar ke shiv netr se sury bhagavan ka dhyan karo….dono hath upar kar ke bagal dikhate huye surynarayan ko vandan karo..aisa jadoo hoga ki buddu se buddu vidyarthi bhi achha mark lakar dikha dega..bilkul pakki baat hai..surydev budhdi ka adhisthata hai…anaath balak pritam se sant pritam ban gaya ..usako pata bhi hoga ki 200 saal baad asaram bapu meri mahima batayenge….

Paheli baat :- aap bhagvaan ko apana mano … 

Dusari baat :- sharir maranewala hai , sharir marane ke bad bhi jo raheta wo mai aatma hun.. 

Tisari baat :- sury narayan ko arghy do… 

Chauthi baat :- jo bhi karm karo wo waasana mitane keliye hai ki swarth ke liye hai check karo..prabhu priti ke liye karega to prabhu ki shakti se jud jayega….jo bhi kam karata ho..chahe bhik bhi mangata ho to bhi thakur ji ko bhog lagane ke liye mangata hun sochkar mange to bhakti ho jayegi….…bhojan karate to maja lene ke liye to bimar padate …sharir ke swasthy ke liye bhojan kare …pati patni ka karm karate santan  utpann ke liye thik hai..lekin bhog bhogane ke liye karate to jaldi marate…maja lene ke liye khate to swasthy ka rhas karate…Khane pine ki mana nahi hai lekin sharir ke swasthy ke liye khao piyo….to budhdi mey prakash ho jayega…..man bhi prasann rahega… 

… garami ke din the, pipal ke ek mahatma baithe the..waha se ek kasayi bakare ko lekar jaa raha tha….mahatma ko bakare ko dekhakar jor se hansi aayi to bhagat ne puchha ki kyo hanse ..mahatma bole ki ye jo bakara ja raha hai ye 2 dukano ka malik tha….bete ko dekh ke bola ki meri mundi isake ghar mey nahi bhejana …nahi to apane baap ki mundi khayega….Isaka matlab ye nahi ki chhindwada ke log jab bhi bakare ko dekhe to agale janam ka baap hoga aisa nahi sochana… J  …. Kahane ka tatpary   ki,  karm ki gati se jiv kaun kaunsi yoni mey bhatakata hai.. 

..Isliye meri hath jodkatr sab se binati hai ki  , dhan itana bhala nahi karata , satta itani bhala nahi karati….wahwahi itana bhala nahi karegi….jitana koyi bhi kaam bhagavan ki priti ke liye karoge…isase itna bhala hoga ki iska varnan nahi kar sakata…sukh lene ke liye nahi dene keliye hai ..aadar lene ke liye nahi dene ke liye hai…apane andar ke ishwar mey gota maro , sachche pyar ko paoge , sab ke pyare ban jaoge

 Kitana daant deta hun ki satsang mey kyo nahi aate, kya samjhate apane aap ko…achhi baat boli to kahe deta hun…sharam nahi aati taali bajao..ye aap logo se priti hai usi ke bal par kahe sakata hun…jab mohabat jor pakadati to shararat ka rup dharan karati hai….aisi hi us parameshwar se bhi 3 baar shararat kar li..kahe diya ki jisako garaj hogi aayega srushti karta khud layega to kaisi lila kar ke kisano ko raat ko sapana dekar rasta dikhakar subah mere liye dudh aur phal bhejata hai…ek baar jo hi tha narmada mey phenk kar baith gaye …itani hujjate ki to bhi us pyare ne hamari sab hujjate sweekar ki…..

 Hamari mohabbat ka kuchh aur hi andaj hai l

Hame usaar naaj hai to use bhi hampar naaj hai ll 

Aii haiii J

…chhindwara pe ham ko bhi naaj hai isliye itani apaar sankhya mey bhagavan ke naate baithe hai….kya khayal hai?  J .. 

(Sadgurudev gaa rahe hai….)

Ye mohabbat ki baate hai audhav l

Bandagi apane bas ki nahi hai…ll

Yaha sir dekar hote hai saude l

Aashaki itani sasti nahihai…ll

Premwalo ne kab kis ko puchha l

Kis ko punju bataa mere audhav l

Yaha dam dam par hote hai sijade l

Sir ghumane ki phursat nahihai….ll

 ..isi pyar mey mira gaati hai…mai to chal chaluni anuthi….Aap us prabhu ko apana mano….jo sachmuch mey tumhara hai…aap apan ejute ko bhi apana manate to kutta jute par pair upar kar ke karane lage to use chha chha kara ke hakalate ho kyo ki juta apana lagata hai….jo sachmuch mey tumhara tha, hai aur marane ke baad bhi rahega usako apana mano bete  , mere lala, laliya…. 

..Aaj subah utho to prabhu tum mere  ho..raat ko sote samay bhi bolana prabhu tum mere ho….munna kaise apani maa ko palla pakad ke manwata hai…maa ko majbur kar deta hai laad pyar karane ko…dekho maa maine chocolate kha liya, dudh pi liya ..dekho maine roti kha li….to maa ko bolana padata hai wah …wah…to aise apane asali maa baap  ban ke jo baitha hai usaka palla pakado aur kahate raho bhagavan tum mere ho na mere ho na? to bhagavan bhi kahenge ha bhai ha tum mera hai…to jaldi kam ban jayega….  J 

Paansa pakado prem ka , paari kiya sharir l

Sadguru ddanv batayiya , khele daas kabir ll 

Sadguru jo daanv bata rahe hai wo khelo …sharir ko sadhan banao  aur prem ka palla pakado….  “prabhu mere , mai prabhu ka”  bahot saral sadhana hai….mai aatma hun….sharir sansar mey paida hua sansar mey hi rahega…mai paramtma ka , paramatma mere..jaise pani mey jo rang daal do usi rang ka ho jata hai aise aap bhi prabhu ke rang mey rang jaoge…..

 (kal mantr diksha ka karyakram hoga…sadgurudev ne 2 sharte batayi..pahali ki kayi bhi phal phul, rupiya paisa nahi laye..aur rushiprasad mey karykram bataya jata hai usake anusar koyi bhi dhyan yog shivir attend karana hai jisase khet laharane lagata hai aise jeevan mey madhurata aayegi dhyan mey gaharayi aayegi…) Diksha se jeevan mey madhury aata hai saphalata aati hai….(33 prakar ke phayade hote hai aur aihik, naitik aur adhyatmik labh hota hai..) 

Sabhi bole :-

Laksh naa ojhal hone paaye , kadam milakar chal l

Saphalata tere charan chumegi aaj nahi to kal ll 

Hari ooooooooooommmmmmmm 

Hari oooooooooommmmmmmmm 

Bhay nashan durmati haran kali mey hari ko naam l

Nishi din nanak jo jape , saphal hove sab kaam ll 

Hari hari OOOOOooooommmmmmm 

 Na ham vasami vaikunthe , yoginaam hrudayem bruhi l

Madbhakta yatr gayantri tat pratishtami narad ..ll 

Bhagavan narayan kahete hai , hey narad , kabhi kabhi mai vaikunth mey nahi hota hun..yogi yo ke hruday bhi langh jata hun…lekin ye trivaar saty kaheta hun ki jaise jaha suraj waha roshani ..jaha chanda waha chandani…jaha samudr  waha tarang ……aur jaha kusum waha sugandh …aise hey narad jaha sant aur satsangi hote hai waha logo ke huday mey gyan , prema bhakti , shanti , aanand ke roop mey sabhi ke hruday mey raheta hun….tu meri hajiri tum wohi maan lo….agar mai kahi naa milu to mai waha hi aatmarami sant aur satsangi ho waha tum mujhe mil sakate ho…

….koyi bhi kaam karane se pahale bhagavan mey gota maar liya karo…karam karane se pahale karm ka phalit kya hua ye sochate …..to anatma ka santosh phalit hua..lekin karam hi prabhu ke liye karate to dodno hath mey laddoo..karm karane se pahale vichar , karm karate huye  purusharth ki aawashyakata hoti hai.. aur karm ke ant mey karm ka phal phalit hota hai….aisa ishwar ke liye sewa kary hai to bhagavat sukh phalit hoga….ishwar ka samarthy milega…isliye har kaam ishwar ke naate karo…jisaki saat pidhi kangali karani hai usako dusare ka dhan hadap karane ko bolo…..jisake aarogya ko khatara karana ho use raat ko der tak jagane ko aur sharab kabab khane ko bolo mrutyu jaldi hi gher legi…. Aur jisako aanand shanti madhury chahiye jeevan mey to satsang mey aana sikha do…daivi kary mey sajhidari karana sikha do….to jaise janak raja ki apani bhalayi huyi aur auro ki bhi bhalayi huyi ….aisi bhalayi hogi… 

Tirath nahaye ek phal…sant mile phal chaar l

Sadguru mile anant phal, kahat kabir vichar ll 

Jo tirath mey nahate unako puny labh hota hai , lekin sant mahatma ke darshan hote to 4 guna phal hota hai…aur agar sant mahatma hi sadguru ke rup mey mil jaye to anant phal ho jata hai aisa kabir ji kahete hai…. (Aarati ho rahi hai ..jay jagdish hare..Prarthana ho rahi hai ..karpoor gauram..Malyarpan ho raha hai…sadgurdev ke swagat ke liye gruh mantri aur vidhayak aaye huye hai…) jo apana mangal chahate hai , wo roj snan karane ke bad katori mey pani lekar usame dekhate huye bhagavan ka naam 100 baar bole aur wo pani piye….shankar bhagavan ki batayi huyi shivgita ka path karana akal mrutyu ko rok deti hai…..jo mote hai wo shivgita ka path kar ke katori mey pani lekar 100 baar nam jap ke pi le …shiv gita ka path sabhi vighno ko talata hai,akal mrutyu ko door karata hai…aayu aarogya deta hai….yuwadhan pustak padhate to aayu arogya aur yash milata hai….

Narayan narayan….

nagapur mey aye, indore mey aaye usase bhi chhindwara ke satsang mey jyada satsangi hai..kya jadoo hai samajh mey naa aaye…..

Ye kaisa hai jadoo samajh mey naaa aaya ..

Tere pyar ne ham ko jina sikhaya…..

Narayan shriman narayan  

 Om Shanti…  

Hari Om! Sadgurudev ki jay ho!!!!!

( Galatiyo ke liye prabhuji kshama kare…)

******************

 हिन्दी में


निष्काम कर्मयोग….छिन्दवारा सत्संग_लाइव(१५/१२/०७)
शनिवार , दिसम्बर १५, २००७; भारतीय समय शाम के  ४:३० बजे
****************
सदगुरूदेव संतशिरोमणि  परमपूज्य  श्री आसारामबापूजी  की अमृतवाणी  :-
 ****************
 …..सब से पुष्टीदायी क्या है बोलो?कोई बादाम बोलेगा कोई किशमिश बोलेगा कोई काजू बोलेगा..लेकिन ये सब नही….
श्लोक पठन हो रहा है..भारत ज्ञानमय प्रदीपः….
हरी ॐ …….
..बाहे से लम्बा श्वास लोगे…जितना ज्यादा ले सकते हो लो…रोक दो…जिस भगवान को मानते हो उसका नाम लो……दाहे से छोडो…..फिर मैं “हरी ॐ” का उच्चारण करूँगा तब “म” बोलते समय होठ बंद रखोगे और अपनी ७२००० नाडियों मे पवित्र नाम की शक्ति गूंजने दोगे , जिससे पाप ताप दूर होकर आनंद और प्रसन्नता की पावन उर्जा आप के शरीर मे दौड़ने लगेगी….फिर से लम्बा श्वास(दाहे से)….रोको…..भगवान का नाम जपो…फेफडो के बंद छिद्र खुलेंगे…..अब श्वास छोडो(बाहे से)……प्राणायाम भोजन के बाद अढाई घंटे के बाद कर सकते है….भोजन के बाद तुरंत नही करे….सुबह और शाम को खाली पेट कर सकते है….अकेले प्राणायाम करना फेफडो की कसरत मात्र है…लेकिन उसमे भगवान का नाम मिलाया जाये(श्वास रोकके भगवान नाम का जप) तो आयु, आरोग्य और आनंद पुष्टी की प्राप्ति होती है…..सिर्फ अनुलोम विलोम करने से एक गुना फायदा होता है लेकिन भगवान के नाम के साथ किया हुआ सगर्भा प्राणायाम का १०० गुना फायदा कहा गया है शास्त्रों मे….सगर्भा प्राणायाम  से अपनी शक्ति भगवान के शक्ति से, भागवत सामर्थ्य से, भगवान के बल से जुडी रहेती है…. फिर से श्वास भरो(जिस  नथुने से छोडा उसी से लो)…और थोडा…भगवान का नाम जपो और श्वास छोडो( दूसरे नथुने से )…..
हरी ओम्म्म्म्म्म्म्म्म्म
(प्राणायाम की डिटेल जानकारी के लिए इस लिंक पे क्लिक कीजियेगा  :-English : pranayam pdf-  http://hariombooks.googlepages.com/PranayamTherapyAnInstantPanacea.pdfहिन्दी : पार्ट ” केवल निधि “ पढे :  http://hariombooks.googlepages.com/hindi_IshvarKiOr.htm#_Toc184990231  )
हरी ओम्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म 
जो झुक के बैठे है , उनको समझा दे कि अगर उनको कोई भी (ऐरा गैरा) आकर डरा दे…धमका दे….दबा दे ऐसे दब्बू बनके जीवन जीना चाहते हो तो झुक कर बैठे…अपने बच्चो के ऊपर भी ध्यान देना….कितना भी मार्क्स लाये और ऊँची डिग्रिया  लेकर घुमे ..बड़ा ओफ़िसर बने..लेकिन बड़ा ओफ़िसर भी झुक के बैठनेवाला होगा तो उसका छोटा ओफ़िसर भी उसे दबाएगा….इसलिए सीधा बैठना चाहिऐ….फिर से गहेरा श्वास…
हरी ओम्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म 
आज सुबह के सत्र मे भी बताया था, अभी फिर से बता रहा हूँ….भागवत गीता मे श्रीकृष्ण भगवान कहते है कि , कर्म करो, लेकिन कर्म के फल  की आसक्ती छोड़ दो…फल की आसक्ती ही जिव को संसार मे भटकती है…मोह बढाती है….
मोह त्यजे उपजे शुला…
पति है तो अपना कर्त्यव्य पत्नी का ज्ञानदान बढे, आरोग्य बढे , प्रसन्नता बढे इसलिए करो …लेकिन पत्नी है तो शरीर को नोच को सुख लो ऐसे अधिकार का हौवा मगज में   से निकाल दो….पत्नी है तो पति के लिए भोजन बनाओ, उसके स्वास्थ्य का ख्याल रखो  चीज वस्तु का ख्याल रखो…लेकिन पति की तरफ से ये मिले, वो मिले ..पति का कमर टूटे ऐसी अपेक्षा न करो….वासना बढानेवाला होता है वो “मैरिज”(मारेच !)..लेकिन यहा तो शादी होती है..शा+ आबाद= शाद आबाद रहे ऐसा रिश्ते मे बांधते वो शादी है….कोई बोलता मेरी mrs(मिसेज) है तो एकदम बेकार बात है…कोई बोलता “ही  इज  माय मिस्टर” ..तो मैं बोलता हूँ एकदम वाहिय्यात बात है…मिसेज  ऎंड मिस्टर  सेक्स करने के लिए होते है…शादी कर्म करके कर्त्यव्य कर के आबाद होने के लिए होती है…
तस्मात् तपस्यात कार्य…
..उस कर्त्यव्य मे भी आसक्ती नही होनी चाहिऐ…आसक्ती हुयी तो फिर दुःख , चिंता के घेरो मे पडोगे….परमात्मा ही पुरुष है..कर्त्यव्य कर , लेकिन कर्म का फल मिलेगा इस अकांक्षा से मत कर….तू कर्म कर लेकिन निष्काम भाव से…कर्त्यव्य करने का अभिमान निकाल दे….तुम्हारी योग्यता  बढेगी, सामर्थ्य आएगा…कर्म की आसक्ती बांधती है….कर्म आसक्ती सहित करने से इतनी शक्ति नही मिलती जितनी कर्म आसक्ती रहित होकर करने से मिलती है….सव्वा ५ करोड़ मनुष्य है इस धरती पर….लेकिन सव्वा ५ करोड़ मे से एक  भी मनुष्य ऐसा नही कहेगा कि फलाना काम मैंने दुखी होने के लिए किया..फिर भी सभी दुखी है….
तू तो पुरण ब्रम्ह था..
कर्म के फल मे आसक्ती हुयी तो दुखी होता….आसक्ती से रहित होता तो परमात्मा को प्राप्त  होता…जो तुम्हारा आत्मा होकर बैठा है…हमेशा साथ रहेता है..मरने के बाद भी जिसका साथ नही छुटता नही..लेकिन तुम संसार से  ममता के कारन नही पहेचान सकते उसको….वासना, मोह के परदे से नही पहेचानते उसको..जो तुम्हारे साथ जन्म जन्मांतर  से है..इसीलिए भटकना पड़ता है….आसक्ती रहित कर्म करते तो जनक राजा आदि  ब्रम्ह परमात्मा के सिध्दि हो गए…गीता के तीसरे अध्याय मे २० वा श्लोक
कर्मणैव हि संसिध्दीमास्थिता जनकादया l
लोकसंग्रहमेवापि सम्पस्यन्कर्तुमर्हसी ll

….जो परम सिध्दि को प्राप्त हो गए…ऐसे लोक कर्म करते हुए भी ईश्वर को ध्यान मे रखते है…तो भक्ति से कर्म के प्रवाह मे शांत होगा..परमात्मा सुखरूप है..परमात्मा ज्ञान स्वरूप है..जो बचपन मे साथ थे..अब है क्या ? जो बचपन मे बेवकुफिया थी वो अब है क्या?..लेकिन उन बेवकुफियो को जाननेवाला अब भी तुम्हारे अन्दर है…बचपन की बुध्दी बदल गयी…जवानी आई..जवानी का जोश आया..जवानी का जोश भी बदल गया लेकिन फिर भी जो नही बदला वोही है तुम्हारा आत्मा…इस आत्मा को नही जानने के कारन ही नीची-ऊँची योनियों मे भटकना पड़ता है…जीवन युही व्यर्थ्य गवा रहा  है जिव….
..सब से ज्यादा मनुष्य शरीर के लिए पुष्टीदायी क्या चीज है? मनुष्य शरीर के लिए सब से पुष्टीदायी, आरोग्य प्रदायी है शुध्द वायु मंडल….मनुष्य पानी आदि से 2 लीटर लेता है..2100 श्वास  लेते रोज तो 10 किलो हवा लेते ..भोजन लेते – रोटी सब्जी फल से 1 किलो..लेकिन सब से ज्यादा लेते है वो है हवा….इसलिए शुध्द हवा शरीर के पुष्टी के लिए बहोत जरुरी है..
जो लोग अट्याच  लैटरिन  यूज  करते उनके कमरे की हवा अत्यंत अशुध्द होती है..उतनी शुध्द नही रहेती…नहाने का तो फिर भी ठीक है , लेकिन शौचालय वाला आत्ताच कमरा बहोत हानि कारक है स्वास्थ्य के लिए…और जो लोग वो अंग्रेजी पध्दतिका शौचालय है वो विकलांग लोगो के लिए है…अपने पैर पे बैठने से पेट और पैरो के दोनो तरफ  प्रेशर पड़ता है..पेट , हाथ , पैर साफ होने मे मदद मिलती है…जो लोग ऐसे अंग्रेजी शौचालय का उपयोग करते उनको बुढापा जल्दी घेर लेता है..पूर्ण स्वास्थ्य लाभ नही मिलता…घर के पश्चिम मे पीपल हो तो ऐसे घर की हवा अत्यंत शुध्द रहेती है…स्वास्थ्यप्रद होती है…हर घर के आँगन मे तुलसी का पौधा होना ही चाहिऐ…तुलसी बैक्टेरिया  पैदा ही नही होने देती….इसलिए भोजन भगवान को अर्पण करते तो भगवान के नैविद्य मे भी तुलसी का पत्ता रखते कि बैक्टेरिया  पैदा ही नही होते…तुलसी की महिमा कितनी कहे….
..भगवान कृष्ण ने अपने ग्वाल बाल के साथ शुध्द  हवा के लिए वन-दिवस मनाया…भोजन के बाद कृतवर्मा , बलराम आदि जंगल मे घूमने निकले तो उन्हें एक पुराना सुखा कुवा दिखा….उस सूखे कुए के अन्दर एक किरकिट झट पटा  रहा था…कृतवर्मा , बलराम उस किरकीट को कुवे से बाहर निकालने का प्रयास करने लगे , लेकिन विफल हुए..तो श्रीकुष्ण भगवान ने युक्ति से उस किरकिट को बाहर निकाला….उसे बाहर निकाला तो सही लेकिन उसपर करुणामय  दृष्टी डाली तो देखते देखते उस किरकिट की प्राण-ज्योति निकली और एक दिव्य प्रकाश के रुप मे बदला…और एक देवता प्रगट हो गए…..भगवान कृष्ण बोले कि , “हे देव पुरुष, आप यहा कैसे पधारे?”
तो देव पुरुष बोला, “ माधव…”
माधव ये भगवान का नाम है…माधव , गोविन्द, गोपाल….“गो” माने इन्द्रिय जब इन्द्रिय थक जाती तो रात को जिस मे विश्रांति पाकर शक्ति का संचय कराती है, अपने इन्द्रियों का पोषण कराती है..उस परमात्मा को बोलते है “गोपाल” और जिसकी सत्ता से इन्द्रियों को कार्य करने की शक्ति मिलती( आँखे जिसकी सत्ता से देखती, जिव्हा जिसकी सत्ता से चखती ..आदि ) उसको कहते है “गोविन्द” और गाने मे जो मिठास भर देता, फल-फूल आदि मे जो मिठास भरता, मधुमख्खी के छत्ते मे जो शहद आता वो इन्ही फुलो मे से..तो ये मधुरता देनेवाला परमात्मा है “माधव”..छोटा बच्चा चाहे मनुष्य का हो, चाहे कुत्ते बिल्ली या गाय का हो प्यारा लगता है….नन्हा मुन्ना बच्चा अंहकार रहित होता है इसलिए मधुर लगते है..ये हमे “माधव” कि मधुरता दिखाती है…
..तो देवपुरुष आगे बोला..“माधव, गोविन्द, गोपाला…आप सब कुछ जानते है..लेकिन अपने ग्वाल बल मित्रो को सत्संग देने के लिए अनजान बनकर पूछते है…..मैं प्रसिध्द राजा हूँ….मैंने अपनी प्रसिध्दी के लिए बहोत गाये दान की….कोई आसमान के तारे गिन सकता है लेकिन मैंने कितनी गाये दान की उसकी कोई गिनती नही कर सकता…लेकिन मैंने ये गाये भगवत प्रीति के लिए नही दान की, सत्संग मिलने के लिए नही दान की, पुण्य प्रभाव बढे इसलिए नही दान की…लेकिन मेरा नाम प्रसिध्द हो, वाहवाही मिले..ऐसा दानवीर राजा का परिचय देने के लिए गाये दान की वोही अभागा राजा हूँ..जिसका नाम आज भी इतिहास में है…लेकिन वाहवाही प्रसिध्दी के लिए कर्म करने से मैंने अपनी वासना बढाई, इसलिए मरने के बाद मुझे कई नीच योनियों मे भटकना पड़ा…..आज आप ने मुझे देव रुप मे प्रगट किया है माधव……जिसकी प्रसिध्दी की चर्चा तो अब भी होती है वोही अभागा राजा मैं हूँ…”
भगवान कृष्ण ने पूछा , “ तो तुम राजा नृग हो?”
देवपुरुष बोला, “ हा माधव , मैं वोही राजा नृग हूँ जिसका नाम गाय दान के प्रसिध्द है, एकछत्र सम्राट दानवीर….लेकिन ये सब वाहवाही के लिए करने से कर्म के बन्धन मे भटकता रहा..”
… कर्म के बन्धन से जिव मनुष्य लोको  मे आया तो भी माता का गर्भ मिले न मिले..तो पेशाब मे गन्दी नाली मे बहे जाना पड़ता है…ऐसे दुर्भाग्य होते है..भगवान के नाम से वंचित सत्संग से वंचित रहते तो रामायण  मे ऐसे जीवो को “मंद मति” कहा है….राजा नृग भी ऐसा मंद मति के कारन मरनेवाले शरीर की वाहवाही मे बढाने मे आत्मा को भूल बैठा और अधोगति पाया ….इसलिए सत्संग जरुरी है… जो तुम्हारा आत्मा का ज्ञान कर दे…जिव की अधोगति को रोक दे…आत्मा प्यारा है उस को जान लो , अपना मनुष्य जीवन व्यर्थ्य ना  गवाओ  इसी भावना से प्रेरित होकर कहेता हूँ कि… सौ काम छोड़कर खाना खा लेना चाहिऐ, हजार काम छोड़कर स्नान कर लेना चाहिऐ, लाख काम छोड़कर दान-पुण कर लेना चाहिऐ और करोड़ काम छोड़कर हरि का नाम (सत्संग)और हरि का ध्यान  धर लेना चाहिऐ…शतम विहाय भुक्तव्यम l
सहस्रम स्नानं आचारेत ll
लक्षम विहाय दात्रुत्वं l
कोटी  त्वत्वत हरिम  भजेत ll

..मैंने वो कथा भी सुनाई थी कि एक शराबी सव्वा मुहूर्त सत्संग के पुण्य स्थली पे पड़े रहने से इन्द्रपद को प्राप्त हुआ और सव्वा महीना मिले हुए इन्द्रपद का योग्य उपयोग कर के (आत्मज्ञानी ऋषी,संतो का आदर कर के सत्संग सुना)  “राजा बलि”  हुआ..मुझे सत्संग नही मिलता तो आज मैं कहा होता? सत्संग के बिना आत्म उन्नति ही नही…सत्संग से ही आतंरिक शक्ति प्रगट होती है….
..देल्ही मे एक परिवार ने अपने ४/५ साल के बच्चे को सरस्वती मंत्र की दीक्षा दिलाई कुछ महीने बीते…अभी की बात है अब वो लड़का साडे ५ साल का होगा…उस बच्चे का नाम तानशु है…तो घर के बडे बाहर गए थे..तानशु और सभी बच्चे खेल रहे थे…इतने मे छत से , घर के उपरी मंजिल से उसका चचेरा भाई ३ सालका हिमांशु ऊपर से पूछता है “मैं आउं.. मैं आउं?”
 तो निचे खेलने वाले बच्चो ने कहा “आ जा…..”
..वो अबोध बालक छत से गिर पड़ा…तो तानशु ने २/४ बच्चो की सहायता से उसको मारुति व्हॅन मे लिटाया और जिस बच्चे ने गाड़ी कभी नही चलायी, सिर्फ चलाते देखी थी..तो ड्राइविंग सिट पे बैठ गया …शांत हुआ..और अन्दर से प्रेरणा पाकर वहा से ११ किलोमीटर दूर जीवन अनमोल हॉस्पिटल गाड़ी चलाकर ले गया…बच्चे को एडमिट कराया, उसकी जान बचायी….नन्हासा तानशु गाड़ी चलाकर ले गया तो मिडियावाले , टीवी वाले वहा पहुंचे..उससे फिर से गाड़ी चलाकर देखे, शूटिंग कराये..तो सभी ने देखा कि इतना सा नन्हा मुन्ना कैसे गाड़ी के क्लच  दबाये, गियर बदले…!! (तानशु को राष्ट्रपति  पुरस्कार मिला है)
…मनुष्य के अन्दर बहोत सारी  योग्यता छुपी है…कितने ही माई भाई देखे है जिनमे दीक्षा लेने से मंत्र के जप करने ऐसी योग्यताये विकसित हुयी है…ऐसे कई किसानों को देखा है जो दीक्षा लेने के बाद उनके जीवन मे बहोत खुशहाली छाई है ..सुखी और खुश नजर आते है..समिति और समिति के सम्पर्क मे आने वाले कई लोग मिलते है , जिनके जीवन मे बहोत ही शुभ परिवर्तन आया है…सत्संग मनुष्य जीवन की  ऐहिक, नैतिक और अध्यात्मिक उन्नति भी करता है…..यज्ञ -याग किया तो उसका फल भविष्य  मे मिलता , वोभी विधिवत हुआ है या नही , स्वार्थ सहित हुआ तो उसके अनुसार  फल मिलता..लेकिन सत्संग का फल तुरंत मिलता है..निष्काम भाव से कर्म करते तो मंगल करते ऐसी जीवन की युक्ति सत्संग से सीखने को मिलती…मान लो तुम्हारा नोकर दूध गरम कर रहा है और उसके हाथो दूध की गरम तपेली गिर गयी तो आप क्या करोगे? उसको डाटोगे…..और वो ही काम आप के बेटी से या बेटे से हुआ तो आप बोलोगे, “ कही लगी तो नही”…..क्यो कि यहा भाव है जो बद्लाता है…आप ये भाव को ही बदल दो … सभी मे वोही परमात्मा है….जो अपने के लिए भाव है वोही पराये के लिए रखो तो आप को भगवान के यज्ञ  करने का प्रसाद मिल जाएगा…भगवान का प्रसाद भी कैसा होता है?

प्रसादे सर्व दुखानाम हानि रस्योपजायते l
प्रसन्न चेतसू या सु बुध्दी परिवेष्टते ll
 
ऐसा भगवत प्रसाद पाने से वृत्तीया शांत होने लगेंगी…परमात्मा में आनंद आने लगेगा..बुध्दी में भगवान का सामर्थ्य प्रगट होने लगेगा..आप के पास कोई डिग्री नही , कोई सर्टिफिकेट नही तब भी आप इतनी ऊँचाई छू सकते है….
अहमदाबाद से २५/२६ किलो मीटर  बावला गाँव मे प्रतापसिंह और कुवरबाई के यहा बेटा पैदा हुआ …बेटा दस साल का होते होते माँ बाप चल बसे…अनाथ १० साल का लड़का सूरदास था, आंखो से देख नही पाता…लोकल ट्रेन मे नडियाद तक जाता, ट्रेन मे डफली बजाकर, गाना गाकर भिक मांगकर पेट भरता…..एक बार सत्संगियो ने कहा कि पास मे भागवत कथा हो रही है , चलो वहा, खाना भी मिल जाएगा…लडके ने १ दिन  , २ दिन , ३ दिन  भागवत कथा सुनी…आसाराम बापूजी का सत्संग नही था,..ये कहानी १७८२ की है…उस लडके का जनम १७७० साल मे हुआ था, तब वो लड़का १२ साल का होगा…तो कथा करने वाले महाराज थे महंत भाईदास…महंत भाईदास बोले कि , जिसका इष्ट नही होता उसका अनिष्ट होता है…जिसका इष्ट होता है उसका अनिष्ट कुछ बिगाड़ नही सकता…जिसका कोई आधार नही उसका आधार है भगवान….मनुष्य जनम पाकर जो सत्संग नही करता, दीक्षा नही लेता , ऐसे मनुष्य को धिक्कार है..ऐसे मनुष्य को  नीच योनी मे भटकना पड़ेगा…”
.. भगवान ने खुद प्रगट होकर नामदेव को शिवोबा खेचर से दीक्षा लेने के लिए कहा था…माँ काली ने स्वयम प्रगट होकर रामकृष्ण को तोतापुरी गुरु से दीक्षा लेने को कहा था…भगवान स्वयम भी अवतार लेकर आये तो गुरु चरणों मे गए..भगवान राम के गुरु वशिष्ट  थे, भगवान कृष्ण के गुरु सांदिपनी थे…लेकिन आज कल  थोडा बहोत पढ़ लिख लेते तो अपनी हेगडी दिखाते….भगवान के रस्ते चलने को बुरा मानते तो ऐसे लोगो की मति मंद हो गयी है…..ऐसे मनुष्यों पे धिक्कार है ऐसे रामायण में आता है…..तो कथा सुनकर १२ साल का सूरदास बालक महंत भाईदास को बोला कि महाराज आप मुझे अपना शिष्य बना लो…लेकिन महंत भाईदास इमानदार कथाकार होंगे…उन्हों ने बोला कि  , “ मैं कथाकार हूँ…मैं तो जो शास्त्र बोलते है उनकी कथा  सुनाता हूँ..लेकिन संत बोलते तो वोही शास्त्र हो जाता ऐसे संत होते है , वो जो बोलते वो सत्संग हो जाता है…संत बोलते उनके पीछे पीछे शास्त्र चलते है…और कथाकार कथा के पीछे पीछे चलते है…आत्मज्ञानी संतो से जो मंत्र मिलता है वो चेतन मंत्र होता है…तभी मंगल होता है….”
..मैं इसके आगे और बोलता हूँ कि आप अपने घर मे वायरिंग करते तो एक लाइट नही जला सकते..लेकिन उसी को पॉवर हाऊस के केबल से जोड़ते तो सभी इन्स्टृमेंट  मे जान आ जाती है…पंखे, फ्रिज  सभी चलने लगते है…ऐसे ही किसी सच्चे संत से दीक्षा लेते तो आप संतत्व को उपलब्ध हो जाते है…कबीर को रामानंद स्वामी से “राम” नाम मिला तो महान हो गए..ध्रुव को नारद जी से “ॐ नमो भगवते वासुदेवाय” मंत्र मिला ६ महीने मे सफलता पा लिया..आन्सुमल को लिलाशाहा  बापू मिले तो ४० दिन मे ईश्वर प्राप्ति  हो जाती है..और ईश्वर प्राप्ति नही भी करनी हो तो भी जीवन में जितनी ऊंचायियाँ पाना चाहते हो उतनी पा सकते हो…
..तो महंत भाईदास ने उसे गुरु गोविन्द रामजी  से दीक्षा लेने के लिए कहा..ऐसे गुरु ने चेतन मंत्र  कल्याणकारी संकल्प से दिया….दृढ़ विश्वास से मंत्र  जप और प्राणायाम से सुषुप्त शक्तिया जागृत हुयी..तो अनाथ बालक से संत प्रीतम दास बन गए…उस बालक का नाम प्रीतम था…तो ऐसे महान बन गए कि ,  वो बोलते जाते और पंडित उनकी वाणी को लिखते जाते…पंडित लिखते लिखते थक जाते इतने  हस्त लिखित लिपियों के ढेर लग गए..अहमदाबाद  –बरोडा १२० किमी  होगा..वहा तक नही, आनंद तक उनके ५२ आश्रम है  , आज भी कोई गिन ले….आनंद से १२ किमी  पे संदेश्वर मे उनकी समाधि है….मैं वहा ११/१२ महीने पहले जाकर आया..तो वहा के ट्रस्टी ने बताया कि यूरोप  के रोमारोला ट्रस्ट के लोग ५ संतो के हस्तलिखित ले गए तो उनमे संत प्रीतम दास  जी के हस्तलिखित थे…कुछ अभी भी वहा पड़ी है..मेरे को दिखाई…कुछ प्रिंट कराये है….संत प्रीतम दास कहते है…
गुरु को माने मानवी देखे देह व्यवहार l
कहे प्रीतम संशय नही पड़े नरक में झार ll
गुरु गोविन्द ते अधिक है , शुध्द चित्त करी जोये  l
कहे प्रीतम करुणा करे आवागमन ना होए ll
गुरु पदे प्रेमे  पुजिये प्रगटे  ज्ञान प्रकाश  l
कहे प्रीतम एक पलक माँ करे अविद्या नाश ll
जा के मस्तक गुरु नही , सो नर निगुरा जान  l
कहे प्रीतम पातक नही ; पुरुष नही – पाषाण ll
 
..उनके रचे हुए भजन और आरती आज भी गुजरात मे करोडो लोग जानते है….उनकी रची हुयी आरती गुजरात मे आज भी करोडो लोगो   से गायी जाती है…
आनंद मंगल करू आरती,
हरी गुरु संत नी   सेवा
प्रेम धरी मंदिर पधारावु,
सुन्दर सुखदा लेवा
रत्ना सिंहासन आप बिराजो,
देवा धी चो देवा
मारे अंगने तुलसी नो कियारो,
शालिग्रामानी सेवा
अड़सट तीरथ  गुरुजी ने चरणे,
गंगा जमना रेवा
कहे प्रीतम एने ओळखे इन्धाने,
हरी ना जन हरी जेवा
( सदगुरूदेव ने स्वयम  आरती गायी..)..कभी स्कूल  में गए नही..आँखे चली गयी थी ऐसे सूरदास …डफली बजाकर, गाना गाकर , भिक मांगनेवाला अनाथ बच्चा आज करोडो लोगो को मार्गदर्शन देनेवाला साहित्य लिखकर अमर हो गया है…आप के अन्दर बहोत योग्यता छुपी है…स्कूल  कॉलेज में जाते तो केवल सुचानाये मिलती है…संसार के मोह मे फसते तो अनात्मा  में जाते..इसलिए वास्तविक योग्यता तो छुपी ही रहे जाती…आप के बच्चो  को ध्यान  भी सिखाओ..उनकी वास्तविक योग्यता का विकास करने मे मदद करो… 

** घी चुना को मारेगा और खोजा जिंदा रहे जाएगा…(बीरबल की कहानी)

गरीब १२ साल के बीरबल को उसकी माता ने सरस्वती मंत्र की दीक्षा दिलाई थी…जब वो १५ साल का हुआ पान की दुकान में बैठता…एक दिन एक खोजा आया और पूछने लगा कि पावभर चुना मिलेगा क्या? तो बीरबल ने सरस्वती मंत्र लिया हुआ था…उसकी योग्यताये विकसित हुयी थी…उसने गहेरायी में देखा कि पाव भर चुना खोजा क्यो ले जा रहा है….सारी बात बीरबल के समझ मे आ गयी…उसने खोजा को पूछा कि “आप बादशाह अकबर को पान देने की सेवा करते क्या?”
खोजा बोला, “हा”
बीरबल बोला कि , “आप के हाथो पान में चुना ज्यादा पड गया इसलिए बादशाह अकबर के मुँह मे छाले पड गए है…वो परेशान हो गए है…इसलिए पावभर चुना तुमसे मंगाया है…अब तुम चुना लेकर जाओगे तो बादशाह तुमको पावभर चुना खिलायेगा..और नही खाओगे  तो भी दंड मिलेगा…”
तो खोजा बहोत घबराया… “तोबा तोबा” करने लगा….अब क्या होगा?
बीरबल बोला कि , “भाग जाएगा तो भी सैनिको से   पकडा जाएगा…मेरे पास घी है वो ले जा..कल जब बादशाह के पास जाएगा तो पहले घी पी कर जा..तो घी चुने को मारेगा और खोजा जिंदा रहे जाएगा….!”
१५ साल का बीरबल अकबर बादशाह के खोजा को युक्ति बताया….
..दूसरे दिन खोजा घी पीकर पावभर चुना लेकर बादशाह के सामने हाजिर हुआ तो जैसे बीरबल ने बताया था वैसा ही हुआ..बादशाह  ने सैनिको को बुलवाया और अपनी तलवारे म्यान से निकालकर तैयार होने को कहा… और खोजा को बोले कि , “…नालायक..बदतमीज कभी देखा था क्या  इतना चुना पान मे डालते हुए..लापरवाह..दुश्मन को भी ऐसा चुना वाला पान कोई खिलायेगा नही…सिपाही थाली लेकर आओ….और ये पुरा पावभर चुना खाता है तो ठीक नही तो मारो…”
..जैसा बीरबल ने कहा था वैसा ही हुआ…खोजा ने घी पिया था इसलिए चुना खा लिया…घर गया..और दूसरे दिन फिर बादशाह के सेवा मे हाजिर हुआ..बादशाह चौका…  “अरे तुम अभी तक जिंदा? पावभर चुना खाकर भी..ये कैसे?” 

….ऐसा प्रभाव है सरस्वती मंत्र का..आप क्या समझते गुरुदीक्षा को?आप क्या समझते वैदिक मंत्रों को? अनंत की सिध्दियां शिष्य में प्रगट करने की क्षमता है उन मे..!!

विवेकानन्द ने ठीक कहा था कि , “मनुष्य के बुध्दी का लाखवां हिस्सा उपयोग में आता है तो उसे बुध्दिमान समझा जाता है लेकिन ९९९९९ कोशिकाए तो अभी भी पिटारे मे बंद पड़ी है…”
मनुष्य की इतनी शक्ति अविकसित रहे जाती है…सत्संग ऐसी योग्यता के द्वार खोल देता है…एक मकान और गाड़ी लेकर संसार के पिठ्ठू बनकर जाने के लिए नही आये हो तुम इस दुनिया में……परमात्मा का अमर खजाना पाने के लिए आये हो…
..बादशाह ने खोजा को देखा तो बोला कि अबे तू जिंदा कैसे?..अकबर बादशाह नही जानता कि १५ साल के बच्चे की रूह की चेतना सरस्वती मंत्र से जागी है…अन्दर की बात जान गया और उसने खोजा को युक्ति बताई है…बीरबल को दरबार मे बुलाया गया ..सवाल जबाब हुए..बीरबल के धडा-धड़ जबाब सुनकर बादशाह ने पूछा हमारे मंत्री बनोगे? …शपथ विधि हो गया…
.. बीरबल १९/२० साल का हुआ तो सारे मंत्री उसके विरोध मे संघटित होकर बीरबल की टांग खीचने का प्लान बनाने लगे..बादशाह के सबसे सुन्दर बेगम जो थी उसके भाई को काँटॅक्ट कर के बताया कि कैसा भी कर के बेगम साहिबा को कहे कि बीरबल को निकल दो…..बेगम ने कहा बादशाह को   कि, “ इस बीरबल को निकाल दो..इस काफर को निकल दो…” बादशाह ने नही माना तो हट(जिद) भी किया..तो बादशाह ने बोला कि उसका कुछ कसूर बताओ…ऐसा कुछ सोचो कि उसपे कसूर  थोपा जाये तो बीरबल को निकाल देंगे….तो बेगम ने अपने बाल खोल दिए..खटिया खड़ी  कर दी…और बैठ गयी…और बादशाह को बोली कि आप हुकुम करो बीरबल को कि बेगम साहिबा को राजदरबार में ले आओ..मैं तो यहा से उठने वाली नही..जब बीरबल से  इतना काम नही हुआ तो जाओ निकल दिया बोल देना….
बीरबल पक्के गुरु का चेला था…कभी किसी सुंदरी को मनाया नही था…यहा तो बेगम साहिबा को मनाकर राज दरबार ले जाना था..चलो ये भी आज कर के देखते है…बीरबल को झटका लगा कि खटिया खड़ी  कर के , बाल खुले छोड़ के बेगम बैठी है…और बादशाह बोल रहे कि बेगम को राजदरबार ले आओ….तो जहांपन्हां इतना नाजुक काम मेरे जिम्मे क्यो सौप रहे है? कुछ तो है….उसने सारे महेल के सेवको को बुलाया..सारी बात जान ली….शांत हो गया ..प्लानिंग चली…फिर महेल की दासियोंको बोला कि तुम बिच बिच में आकर ऐसे ऐसे बोलना..बाकी का मैं संभाल लूँगा…
बीरबल बेगम साहिबा को कहेता है कि, “ जहांपन्हां आप को प्यार से बुलवाना चाहते है इसलिए मुझे भेजा है…बेगम साहिबा रहेमत कीजिए इस गरीब पर…बेगम साहिबा रूठा ना करे…हमारी तो जान निकल जाती है…बेगम साहिबा…”
इतने मे दासी आकर बोली कि , “जहांपन्हां ने तुमको तुरंत बुलाया है, उस शहेजादी को लेने के लिए जाना है..जहांपन्हां उससे शादी करेंगे…ये बेगम नही आती तो मरने दो उसको…”
बीरबल ने फिर आगे, “ चलिए बेगम साहिबा अब देर न कीजिए” कहा…
इतने में दूसरी दासी आई , बोली कि , “जहांपन्हां बोले कि वो शहेजादी तो बहोत खूबसूरत है…वो बीरबल को निकाल दो ऐसा  भी  हट नही करेगी….बीरबल का जहांपन्हां प्रमोशन कर देंगे….तुरंत जाकर उस शहेजादी से शादी का इंतजाम करो….उस रुठी बेगम को छोडो..तुम्हारे सिवा ये काम दूसरा मंत्री नही कर सकता…”
तो बेगम साहिबा बोली..  “जो खूबसूरत शहेजादी की बात जहांपन्हां कर रहे थे , उसी से शादी करेंगे क्या?”
 बीरबल बोला .., “ जी हा बेगम साहिबा… लेकिन अब देर हो गयी … मुझे अभी जाना पड़ेगा…जहांपन्हां का हुकुम है..”
तो बीरबल आगे और बेगम साहिबा उसके पीछे… “भाई जान  अब मुझे कौन पूछेगा? आप जाईयेगा नही…उस शहेजादी को लायियेगा नही…”
 बीरबल आगे और बेगम साहिबा पीछे…खुले बाल, बिना परदे के बेगम साहिबा नंगे पैर भाग रही है…  “ भैय्या बीरबल..इस बहेन को बचा लो..” 
बीरबल आगे आगे..  “नही बेगम साहिबा …जहांपन्हां नाराज हो जायेंगे…”
बीरबल आगे आगे  और बेगम बकरी जैसी पीछे पीछे…नंगे पैर चलने से कोमल पैरो मे कंकड़ चुभे , खून बहे रहा है…ऐसे दरबार में पहुंचे…अकबर बादशाह उठ खडे हो गए.. “अरे!! तू तो बोली थी कि मैं रूठ के बैठुंगी..फिर ऐसी बे-पर्दा, खुले बालो से दरबार मे आ गयी…”
बेगम हाथ जोड़कर बोलने लगी, “ शहेजादी को नही लाओ..मैं कुछ नही बोलूंगी…..बीरबल को निकालो ऐसा कभी नही बोलूंगी…”
तो बादशाह ने बीरबल को पूछा ये कैसे क्या.. तो बीरबल बोला कि जहांपन्हां आप कि आज्ञा का पालन करने के लिए ऐसा कहना पड़ा…!!
 ..तो क्या बीरबल बेगम रुठेगी तो कैसे मनाया जाये ऐसा कोर्स करने गया था क्या? 🙂   मैं सत्संग कैसा करना है ऐसा कोर्स करने गया था क्या? कही काशी मे पंडितो से पढ़ने भी नही गया…..बस आत्मा मे गोता मारके जो बात कहेता हूँ..सत्संग हो जाती है…..सेवा के लिए धन की जरुरत नही , सेवा के लिए कुर्सी की जरुरत नही…कुछ लोग सोचते धन आएगा तब सेवा करेंगे…लेकिन ऐसा नही है मेरे लाला , मेरी लालिया…आप के पास जो भी योग्यता है उसी से सेवा करो….लेकिन जो भी करो वासना के बन्धन के लिए नही..दूसरे के हित में..दूसरे की योग्यता के लिए करो तो देखना कैसा निखार आता है…बिल्कुल सीधा गणित है…..बाह्य  आनंद के लिए नही…अंतर के आनंद के लिए करो…आडोस पड़ोस में, घर में सास , ननन्द, जेठानी देवरानी, बहेन,  भाभी… अमीर, गरीब ..माई , भाई ..जो भी हो उसका भला चाहो…अपने सुख के लिए करते , अपनी वासना के लिए करते तो वो क्रिया  आपकी क्षमता घटाती है….दूसरे के दुःख मिटाने के लिए करते तो आप के व्यक्तित्व मे ४ चाँद लग जाते…आप को अपने अंतर में ही परमात्मा  के  आनंद का प्रसाद मिल जाएगा…अपनी योग्यता को दूसरे के लिए लगाते तो अपने को निखारते है….दूसरे का दुःख मिटाते तो अपने दुखो का अंत होता है…जो अकर्म करते वो शांति से नही जीते….निष्काम कर्म करने वाला जीते जी मुक्त होता है….
सा तृप्तो भवति..सा अमृतो भवति… 


..नजरो से वो निहाल हो जाते..जो ब्रम्ह्ज्ञानी की नजरो मे आ जाते……
……अपने संतत्व मे जागो ना ….
कबीरा दर्शन संत के साहिब आवे याद l
लेखे मे वोही घडी , बाकी के दिन बाद ll
तुलसी माया रे समझ सब संसार l
राग द्वेष दुःख सब गए अवतार ll
 
…इस देश का नाम जिस राजा के नाम से पड़ा वो अजनाब खंड का एक छत्र सम्राट राजा भरत को भी मरने के बाद हिरन का शरीर मिल….ये कथा भागवत में है…हम कर्त्यव्य पालने में फल की आसक्ति रखते तो कर्त्यव्य वासना से फल की शक्ति कुंठित हो जाती है..वासना अपुर्ती  के लिए आसक्ति रहित कर्म करो तो ऐसा कर्म निष्काम कर्म बन जाता है….आसक्ति सहित कर्म करते तो ऐसे कर्म की गति में चढ़ जाता है…आसक्ति रहित करते तो अंतरात्मा प्रगट हो जाता…मजा लेते तो बोजा बढाते..दूसरे की भलाई के लिए करते तो भगवान का  बल मिलता .. “भगवान मेरे मैं भगवान का”  ऐसा सदैव स्मरण करे…
रामायण मे आता है कि भगवान शंकर पार्वती जी को कहते है ,
 

उमा राम स्वभाव जेहि जाना l
ताहि भजन त्यजी भाव न आना ll

..रोम रोम मे आत्माराम बसते है….मरने के बाद भी हमारा साथ नही छोड़ते है..ऐसे आत्माराम भगवान आनंद स्वरूप है..चेतन स्वरूप है….अपने कर्मो के नियामक है..अपने कर्मो के कर्ता है…कर्मो के फलदाता है…हमारा  उनसे संबंध परम दृढ़ है…ऐसा परमात्मा का ठीक स्वभाव जान लिया तो दूसरे कोई संसारी चीजो मे मोहबत नही होगी…अंतर मे परब्रम्ह को पायेगा  तो…खायेगा पिएगा…लेकिन अंतर संत का होगा…सत्  स्वरूप ईश्वर मे आनंद आएगा…किसी जाती मजहब का हो…परमात्मा को पा सकता है…परमात्मा का सामर्थ्य पा सकता है…प्रेरणा पा सकता है….केवल इतना मानो कि भगवान हमारा है…तो भगवान का बल, निर्भयता आप के ह्रदय मे भरेगा….
 ..आज घर जाने के बाद एक काम करो….सोयेंगे तो सिरहाना कहा है ये देखो…पश्चिम मे सिरहाना है तो चिंता पीछा नही छोडेगी..उत्तर मे सिरहाना है तो बीमारी पीछा नही छोडेगी…इसलिए सिरहाना दक्षिण या पूरब कि दिशा में कर के सोये…सोने से पहले आज दिनभर में जो भी काम किया सभी काम प्रभु को अर्पण…अच्छा काम किया तो भगवान को धन्यवाद देना,प्रभु आप की कृपा से हुआ…गलती किया तो प्रभु ऐसी गलती नही करूँगा माफी मांग लो….फिर भगवान का नाम उच्चारण करोगे इस प्रकार :-
हरि ॐ हरि ॐ हरि ॐ ..राम राम राम राम …शिव शिव शिव शिव….आनंद देवा…प्रभु देवा..प्यारे देवा…आत्म देवा….ॐ ॐ ॐ ॐ बिन फेरे हम तेरे…हा हा हा हा 🙂  (बापूजी हास्य प्रयोग करवाए…लम्बा श्वास भरके , दोनो हाथो से ताली बजाकर भगवान का नाम उच्चारण करते हुए दोनो हाथ ऊपर कर के हास्य करना है..) ऐसा करने से कमरे का वातावरण पवित्र होगा (और आप भी अंतर बाह्य  रिलेक्स  होंगे)
..सोते समय चिंता , राग द्वेष मन मे लाकर , या मेरे को ऐसा  नही  मिला, वैसा नही हुआ…ऐसे नकारात्मक विचार लाकर खुद के दुश्मन नही बनना… “मैं भगवान का और भगवान मेरे…जिसकी सत्ता से कान सुनते है जिसकी सत्ता से आँखे देखती है , जिसकी सत्ता से जीभ चखती है, जिसकी सत्ता से दिल की धड़कन चलती  है वो मेरे आत्मदेव जो मरने के बाद भी मेरा साथ नही छोड़ते मैं उनकी गोद मे सोने जा रहा हूँ….”.
..फिर सीधे लेट जाये…श्वास अन्दर गया “ॐ आनंद”…आप अल्लाह वाले  हो  , तो अल्लाह का नाम लो..जिस भगवान को मानते उसका नाम लो… “भगवान तुम प्रेम स्वरूप हो…ज्ञान स्वरूप हो..मेरे हितेषी हो….भगवान तुम मेरे हो ना  …मेरे हो ना .. मेरे हो ना  भगवान..?” पूछते रहो…श्वासों को गिनते गिनते सो जाओ…ऐसे आप सोते तो हरि की गोद में जाते…योगनिद्रा में जाते…जैसे भगवान नारायण ४ महीने योग निद्रा में सोते और संकल्प से संपूर्ण सृष्टि का पालन करते…ऐसे आप को ऐसी योगनिद्रा लेने के बाद सामर्थ्य मिलेगा….आप मे जो सामर्थ्य छुपा है, वो प्रगट होगा…
…नींद से उठने के बाद तनिक बिस्तर पर ही बैठ जाओ…दिनभर की आपाधापी में जो नही कर सकते ऐसे विचार शांत चित्त से करते तो काम काज में सफलता मिलेगी…शांत बैठे रहो….जैसे बोलते बोलते थक जाते तो बोलना रोक कर शांत होते तो बोलने की शक्ति का संचय होता और बोलने की शक्ति आती..काम करते करते थक जाते तो काम नही करते तो करने काम करने का  शक्ति का संचय  हो जाता ..शक्ति का र्हास  हो जाता तो चुप बैठने से संचय हो जाता है….शांत बैठो ..मैं परमात्मा में चुप हूँ….क्या लगेगा इसमे? कोई भी कर सकता है…..जिस घर मे उत्पात है तो ऐसे शांत चित्त से बैठकर उपाय खोज लेना..गुरुमंत्र से अच्छी प्रेरणा मिल जाती है…
..नारायण नारायण…
..फिर स्नान कर के सूर्य नारायण को अर्घ्य दो…मिर्ची बोये तो मिर्ची उगाये गन्ना बोये तो गन्ना उगाये ऐसे सूर्य महाराज के किरणों मे शक्ति है…ब्रम्ह वैवर्त  पुरान मे लिखा है कि …
जिसको विद्या चाहिऐ सूर्य भगवान उसे विद्या देते है..
जिसको धन चाहिऐ सूर्य भगवान उसको धन देते है..
जिस को पुत्र चाहिऐ उसको सूर्य भगवान पुत्र देते है..
जिसको यश चाहिऐ सूर्य भगवान उसको यश देते है…
इस प्रकार जो जिस भाव से सूर्य नारायण को अर्घ्य देता है उसे उसकी प्राप्ति होती है….इसके पीछे वैज्ञानिक अर्थ ये है कि सूर्य को जल देते समय पानी से सूर्य के किरण परावर्तित होकर आप के शरीर(नाभि मंडल पर ) पर इन्द्रधनुष   बन जाता है, जो तुम्हारे शरीर मे पॉज़िटिव उर्जा पैदा करता है…इसलिए नाभि को दिखाते हुए सूर्य नारायण को जल अर्पण करना चाहिऐ….सूर्य भगवान को खुली आंख से नही देखना चाहिऐ…आँखे बंद कर के शिव नेत्र से सूर्य भगवान का ध्यान करो….दोनो हाथ ऊपर कर के बगल दिखाते हुए सूर्यनारायण को वंदन करो..ऐसा जादू होगा कि बुद्दू से बुद्दू विद्यार्थी भी अच्छा मार्क लाकर दिखा देगा..बिल्कुल पक्की बात है..सूर्यदेव बुध्दी का अधिष्ठाता है…अनाथ बालक प्रीतम से संत प्रीतम बन गया ..उसको पता भी होगा कि २०० साल बाद आसाराम बापू मेरी महिमा बताएँगे….
आप ये बातें ध्यान मे रखो …..
पहेली बात :- आप भगवान को अपना मानो …
दूसरी बात :- शरीर मरनेवाला है , शरीर मरने के बाद भी जो रहेता वो मैं आत्मा हूँ..
तीसरी बात :- सूर्य नारायण को अर्घ्य दो…
चौथी बात :- जो भी कर्म करो वो वासना मिटाने के लिए  है कि स्वार्थ के लिए है चेक करो..प्रभु प्रीति के लिए करेगा तो प्रभु की शक्ति से जुड़ जाएगा
….जो भी काम करता हो..चाहे भिक भी मांगता हो तो भी ठाकुर जी को भोग लगाने के लिए मांगता हूँ सोचकर मांगे तो भक्ति हो जायेगी….…भोजन करते तो मजा लेने के लिए तो बीमार पड़ते , शरीर के स्वास्थ्य के लिए करो …पति पत्नी का कर्म करते संतान  उत्पन्न के लिए ठीक है..लेकिन भोग भोगने के लिए करते तो जल्दी मरते…मजा लेने के लिए खाते तो स्वास्थ्य का र्हास करते…खाने पीने कि मना नही है लेकिन शरीर के स्वास्थ्य के लिए खाओ पियो….तो बुध्दी मे प्रकाश हो जाएगा…..मन भी प्रसन्न रहेगा…
… गरमी के दिन थे, पीपल के एक महात्मा बैठे थे..वहा से एक कसाई बकरे को लेकर जा रहा था….महात्मा को बकरे को देखकर जोर से हंसी आई तो भगत ने पूछा कि क्यो हँसे ..महात्मा बोले कि ये जो बकरा जा रह है ये २ दुकानों का मालिक था….बेटे को देख के बोला कि मेरी मुंडी इसके घर मै नही भेजना …नही तो अपने बाप की मुंडी खायेगा….इसका मतलब ये नही कि छिन्दवाडा के लोग जब भी बकरे को देखे तो अगले जनम का बाप होगा ऐसा नही सोचना…    🙂   …. कहने का तात्पर्य   कि,  कर्म कि गति से जिव कौन कौनसी योनी मे भटकता है..
..इसलिए मेरी हाथ जोड़ कर सब से बिनती है कि  , धन इतना भला नही करता , सत्ता इतनी भला नही करती….वाहवाही इतना भला नही करेगी….जितना कोई भी काम भगवान कि प्रीति के लिए करोगे…इससे इतना भला होगा कि इसका वर्णन नही कर सकता…सुख लेने के लिए नही देने के लिए  है ..आदर लेने के लिए नही देने के लिए है…अपने अन्दर के ईश्वर में गोता मारो , सच्चे प्यार को पाओगे , सब के प्यारे बन जाओगे…
 कितना डांट देता हूँ कि सत्संग मे क्यो नही आते, क्या समझते अपने आप को…अच्छी बात बोली तो कहे देता हूँ…शरम नही आती ताली बजाओ..ये आप लोगो से प्रीति है उसी के बल पर कहे सकता हूँ…जब मोहबत जोर पकड़ती तो शरारत का रूप धारण करती है….ऐसी ही उस परमेश्वर से भी ३ बार शरारत कर ली..कहे दिया कि जिसको गरज होगी आएगा सृष्टि करता खुद लाएगा तो कैसी लीला कर के किसानों को रात को सपना देकर रास्ता दिखाकर सुबह मेरे लिए दूध और फल भेजता है…एक बार जो भी  था नर्मदा मे फ़ेंक कर बैठ गए …इतनी हुज्जते की तो भी उस प्यारे ने हमारी सब हुज्जते स्वीकार की…..
 हमारी मोहब्बत का कुछ और ही अंदाज है l
हमे उस पर  नाज है तो उसे भी हमपर नाज है ll
ऐई हैई      🙂 
…छिन्दवारा पे हम को भी नाज है इसलिए इतनी अपार संख्या मे भगवान के नाते बैठे है….क्या खयाल है?   🙂  ..
(सदगुरूदेव गा रहे है….)
ये मोहब्बत की बाते है औधव l
बंदगी अपने बस की नही है…ll
यहा सिर देकर होते है सौदे l
आश्की इतनी सस्ती नही है …ll
प्रेमवालो ने कब किस को पूछा l
किस को पुंजू बता मेरे औधाव ll
यहा दम दम पर होते है सिजदे l
सिर घुमाने की फुरसत नही है ….ll

 ..इसी प्यार मे मीरा गाती है…मैं तो चाल चलूंगी  अनूठी….आप उस प्रभु को अपना मानो….जो सचमुच मे तुम्हारा है…आप अपने  जूते  को भी अपना मानते तो कुत्ता जूते पर पैर ऊपर कर के करने लगे तो उसे छ छ कर के हकालते हो क्यो कि जूता अपना लगता है….जो सचमुच में तुम्हारा था, है और मरने के बाद भी रहेगा उसको अपना मानो बेटे  , मेरे लाला, लालिया….
…आज सुबह उठो तो प्रभु तुम मेरे  हो..रात को सोते समय भी बोलना प्रभु तुम मेरे हो….मुन्ना कैसे अपनी माँ को पल्ला पकड़ के मनवाता है…माँ को मजबूर कर देता है लाड प्यार करने को…देखो माँ मैंने चॉकोलेट खा लिया , दूध पी लिया ..देखो मैंने रोटी खा ली….तो माँ को बोलना पड़ता है वाह …वाह…तो ऐसे अपने असली माँ बाप  बन के जो बैठा है उसका पल्ला पकडो और कहते रहो भगवान तुम मेरे हो न मेरे हो न? तो भगवान भी कहेंगे हा भाई हा तुम मेरा है…तो जल्दी कम बन जाएगा….   🙂 
पांसा पकडो प्रेम का , पारी किया शरीर l
सदगुरू दांव  बतायिया , खेले दास कबीर ll
सदगुरू जो दांव बता रहे है वो खेलो …शरीर को साधन बनाओ  और प्रेम का पल्ला पकडो….  “प्रभु मेरे , मैं प्रभु का”  बहोत सरल साधना है….मैं आत्मा हूँ….शरीर संसार मे पैदा हुआ संसार में ही रहेगा…मैं परमात्मा  का , परमात्मा मेरे..जैसे पानी मे जो रंग डाल दो उसी रंग का हो जाता है ऐसे आप भी प्रभु के रंग मे रंग जाओगे…..
 (कल मंत्र दीक्षा का कार्यक्रम होगा…सदगुरूदेव ने २ शर्ते बताई..पहली कि कोई  भी फल फूल, रुपिया पैसा नही लाये..और ऋषीप्रसाद मे कार्यक्रम बताया जाता है उसके अनुसार कोई भी ध्यान योग शिविर अटैँड करना है जिससे ख्काद देने के बाद खेत लहराने लगता है ऐसे जीवन मे मधुरता आएगी ध्यान मे गहराई आएगी…) दीक्षा से जीवन मे माधुर्य  आता है सफलता आती है….(३३ प्रकार के फायदे होते है और ऐहिक, नैतिक और अध्यात्मिक लाभ होता है..)
सभी बोले :-
लक्ष ना ओझल होने पाए , कदम मिलाकर चल l
सफलता तेरे चरण चूमेगी आज नही तो कल ll
हरि ओम्म्म्म्म्म्म्म 
हरि ओम्म्म्म्म्म्म्म्म  
भय नाशन दुर्मति हरण कलि मे हरि को नाम l
निशि दिन नानक जो जपे , सफल होवे सब काम ll
हरि हरि ओम्म्म्म्म्म्म्म 
 ना  हम वसामि वैकुंठे , योगिनाम ह्रुदयेम ब्रूहि l
मद् भक्ता  यत्र गायंत्री तत् प्रतिष्टामी नारद ..ll
 भगवान नारायण कहेते है , हे नारद , कभी कभी मैं वैकुण्ठ में नही होता हूँ..योगीयो के ह्रदय भी लाँघ जाता हूँ…लेकिन ये त्रिवार सत्य कहेता हूँ कि जैसे जहा सूरज वह रोशनी ..जहा चन्दा वहा चांदनी…जहा समुद्र  वहा तरंग ……और जहा कुसुम वहा सुगंध …ऐसे हे नारद जहा संत और सत्संगी होते है वहा लोगो के हदय में ज्ञान , प्रेमा भक्ति , शांति , आनंद के रुप मे सभी के ह्रदय में रहेता हूँ…. मेरी हाजिरी तुम वोही मान लो….अगर मैं कही ना मिलु तो मैं जहा  आत्मरामी संत और सत्संगी हो वहा तुम मुझे मिल सकते हो…
कोई  भी काम करने से पहले भगवान मे गोता मार लिया करो…करम करने से पहले कर्म का फलित क्या हुआ ये सोचते …..तो अनात्मा  का संतोष फलित हुआ..लेकिन करम ही प्रभु के लिए करते तो दोनों  हाथ मे लड्डू..कर्म करने से पहले विचार , कर्म करते हुए  पुरुषार्थ की आवश्यकता   होती है.. और कर्म के अंत मे कर्म का फल फलित होता है….ऐसा ईश्वर के लिए  सेवा कार्य है तो भगवत सुख फलित होगा….ईश्वर का सामर्थ्य मिलेगा…इसलिए हर काम ईश्वर के नाते करो…
जिसकी सात पीढ़ी कंगाली करनी है उसको दूसरे का धन हड़प करने को बोलो…..जिसके आरोग्य को खतरा करना हो उसे रात को देर तक जागने को और शराब कबाब खाने को बोलो मृत्यु जल्दी ही घेर लेगी…. और जिसको आनंद शांति माधुर्य चाहिऐ जीवन में तो सत्संग मे आना सिखा दो…दैवी कार्य में साझीदारी करना सिखा दो….तो जैसे जनक राजा की अपनी भलाई हुयी और औरो की भी भलाई हुयी ….ऐसी भलाई होगी…
तीरथ नहाये एक फल…संत मिले फल चार l
सदगुरू मिले अनंत फल, कहत कबीर विचार ll
.. जो तीरथ मे नहाते उनको पुण्य लाभ होता है , लेकिन संत महात्मा के दर्शन होते तो ४ गुना फल होता है…और अगर संत महात्मा ही सदगुरू के रूप मे मिल जाये तो अनंत फल हो जाता है ऐसा कबीर जी कहेते है….
(आरती हो रही है ..जय जगदीश हरे..प्रार्थना हो रही है ..कर्पूर गौरम..माल्यार्पण हो रहा है…सदगुरूदेव  के स्वागत के लिए गृह मंत्री और विधायक आये हुए है…)
जो  अपना मंगल   चाहते है , वो रोज स्नान के बाद कटोरी में पानी लेकर उसमे देखते हुए भगवान का नाम १०० बार बोले और वो पानी पिए….शंकर भगवान की बताई हुयी शिवगिता का पाठ करना अकाल मृत्यु को रोक देती है…..जो मोटे है वो शिवगिता का पाठ कर के कटोरी मे पानी लेकर १०० बार नम जप के पी ले …शिव गीता का पाठ सभी विघ्नों को टालता है,अकाल मृत्यु को दूर करता है…आयु आरोग्य देता है….युवाधन पुस्तक पढ़ते तो आयु आरोग्य और यश मिलता है….
नारायण नारायण….
नागपुर मे आये, इंदौर मे आये उससे भी छिन्दवारा के सत्संग मे ज्यादा सत्संगी है..
क्या जादू है समझ मे ना आये…..
ये कैसा है जादू समझ मे ना आया ..
तेरे प्यार ने हम को जीना सिखाया…..
नारायण श्रीमन नारायण 

 ॐ शांति…  
 
 हरि ओम! सदगुरूदेव की जय हो!!!!!
(गलतियों  के लिए प्रभुजी   क्षमा करे…..)

Advertisements
Explore posts in the same categories: Uncategorized

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s


%d bloggers like this: