Bhavsagar se paar….Susner satsang_live(9/12/07)

Sunday, 9 December 2007, IST :4:15PM

SUSNER, Dist.SHAJAPUR (M.P.) Satsang_live

*********************

Sadgurudev Santshiromani Param Pujya Shri Asaram Bapuji ki Amrutwani

**********************

In Hinglish(Hindi written in English)

(For Hindi please scroll down…)

.. Suresh Maharaj bol rahe hai….Bhavasagar se paar hone ki vidya sadgurudev ke charano mey baith ke nahi paya to dub jayega….

.… Bapuji ek katha sunaya karate the ki.. ek sadhu mahatma baithe the..thandi ke din the isliye ek dharmatma vyakti ne unhe shawl odha di..to ek chor aaya aur sadhu baba ko odhayi huyi shawl uthake bhagne laga…sadhu baba vrudhd the, chor jawan tha..chor ke pichhe bhag ke to sadhu baba use pakad nahi pate…jis disha mey chor bhaga tha tha usaki ulati disha mey , viparit disha mey sadhu baba bhagne lage aur munh se bolate jate , “mai tujhe chhodunga nahi” …to ek dukanwale ne puchha., “..baba , chor to gaya idhar aur aap daud rahe udhar aur muh se bol bhi rahe ki tere ko nahi chhodunga ….to kaise pakadenge?”.. To baba bole…, “ek din to chor udhar aayega jarur, kyo ki udhar samshan hai…!”

.. insan bhi Hari Bhakti ki sarita chhodkar kitana bhi os ki bunde se pyas bujhana chahata hai to kaise pyas bujhegi ?…Patte aur tinake ke makan mey rahekar apane ko surakshit karana chahata hai ..kaise hoga? Babool ke vruksh se aam ki apeksha karata hai kaise milega?

Isliye mai aap ko bahot dhanywad deta hun ki aap log satsang mey aaye…bahot uncha kaam kar rahe hai… Om namo bhagavate vasudevay…

Baapuji aaye..

“HARI HARI BOL….”

(Parampujya sadgurudev ki amrutwani …)

Jay jay shivay….bandhu re…..

Baitho lala…laliya ..devata….baitho….

Itane log..baap re baap..kaha se aa jate…..allah re allah…kaise phaij hai tumhari…wo apane hisse ki bhi tumhe pilana chahata hai…

Narayan narayan Hari om

Bolo :- Hari om Hari om hari om Hari om(dirgh uchcharan ho raha hai 10 baar…)

Jab hi naam hruday dharyo, bhayo paap ko nash l

Jaise chinagi aag ki padi purane ghaans ll

..Bhagavan ke naam mey itani shakti hai ki janm-janmantar ke purane paap sanskar ko jala dete hai, nash kar dete hai…hari naam ke uchcharan se khali…. “mere path mey kuchh kami rahe gayi ho to kshama mangakar hari Om ..” uchcharan kar lo ..raat ko sote samay hari naam ka gunjan karo…

(Sadgurudev ne raja ajj ki katha sunayi..katha mey Sadgurudev ne kaha ki satsang se sarvangin kalyan hota hai…aankho se satsang ka mahol dekhate to aankhe pavitr hoti, kaano se sunate to kaan pavitr hote…satsang ke gyan se dil pavitr hota hai..budhdi mey sadbudhdi hoti hai ….santo ko aur bhagavan ko ektuk dekhane se hruday ki malinata door hoti hai..paapnashini aur punyadayini Urja paida hoti hai…raja ajj ki kahani padhane ke liye krupaya baroda or ratlam purnahuti satsang padhe)

..jo satsang karate karavate wo bahot budhdimani ka kaam karate…jo bhagavan ke raste dusaro ko chalate aur khud bhi chalate…jo bhagavan ki bhakti smruti charcha khud bhi karate aur dusaro se bhi karate to isase bada budhdimani ka kaam trilok mey dusara nahi hai…kaliyug ke naarkiya jeevan mey satsang rupi janak ke hajiri mey ham bhi paap taap chinta se mukt ho gaye…aankho mey phariyad nahi.. munh mey hari ka naam aur dil mey hari ki priti se swargiya sukh ka, vaikunth dham ka anubhav kiya …bhuk nahi , pyas nahi..ghanto baithkar intajar kiya..maan nahi , apaman nahi..abhiman chhodkar satsang mey aakar baithate….kisi ke shaadi mey jate to yaha bithaya ..waha bithaya.. naraj ho jate…lekin yaha amir ho chahe garib sab ek jaise…dhakke kha kar bhi baithate ..sab milkar bhagavan ka naam lete to 84 lakh yoni ke dhakko se bach jate…anant puny hote , jis punya ka ant nahi hota use anant puny kahate hai…jinake puny jor pakadate unhi ko satsang ka labh hota hai…isilye kahate hai ki, “bhayo paap ko nash…” om namah shivay..bhagavan ka (hari ka ) naam lene matr se kaliyug mey paap nash hote hai.. bhagavan ka saty swaroop jan lete hai..aatma mey vishranti pate hai to naam japat mangal das disha…

bhagavan ka naam japate raho…ghar mey sabhi katori mey pani lekar bhagavan ka naam 100 baar usame dekhate huye bole..wo pani ghar mey chhate aur piye sab mangal hi mangal hoga…koyi bhi baat karo narayan narayan…ek dusare ko milo to “narayan narayan” , “hari om hari om”..phir baat karo…ghar ke bachho ko baal sanskar de..ladayi jhagade nahi ho isliye sab milakar hari hari om hari om ram ram ram ram shiv shiv shiv shiv om om om om shambho bholenath ha ha ha ha aise dono hath upar kar ke sab milakar hasy karo to watawaran aanandmay bana de….gali gali mey , mohalle mohalle mey, ghar ghar mey satsang ki baate pahuncha do to 4 saal mey ye bachche kitane aage badhenge…bharat ka naam , bharat ki shakti puri duniya ko manani padegi…maine 7 saal pahale kaha tha..aur 2011 mey bharat vishwaguru pad pey pahuchega…

..Jo kuchh achha tha wo aap ke bhagy ka tha..gita ka tha, mahapurusho ka tha, mere gurudev ka tha..aur jo kuchh khara khatta hoga wo mera hoga..mujhe maph kar de…tulasi ke 5 patte roj khana…tulasi ka paudha lagao, pipal, aanwala, bel aise vruksh lagao…kali gay ka dudh budhape mey pina..nahi mila to bhais ke dudh mey pani daal ke piye..jo bhi mile…sab se main hai mann achha rahe…sochana ki “prabhu mai tera aur tu mera..”

Om namo bhagavate vasudevay…priti devay..madhury devay..bhakti devay…mam devay..prabhu devay….om namo bhagavate vasudevay…. Paramatma hi kewal hamare hai..agale janam ka hamare pas kya raha? Is janam ka bachapan , jawani sath mey rahi kya?bachapan ke sangi sathi rahe kya?

Sangi sathi chal gaye saare, koyi naa dijyo saath

Kahe tulasi sath na chhode tera ek raghunath..

..Sangi sathi sab chhut jate sath nahi aate…marane ke baad bhi sath nahi chhodate wo hai aap ke raghunath …aap ka aatma…

Saare sambandhi dewadaari samshaan tak

Patni ghar ke daalan tak

Bachche agnidaan tak

Aur prabhu dono jahan tak….

..isliye prabhu ko priti karo…koyi rok nahi sakata mrutyu ka diwas…usake pahale jo aatma ka gyan kar lo…jeevan lachar mohataj ho jaye usake pahale jeevan mey paramatm sukh ki punji ikaththi kar lo….jab tak sury chamakata tab tak sab kahate sury bhagavan ki jay…aise jab tak ye jeevan mey aatma ka sury chamak raha hai tab tak prabhu ko apana mankar prabhu ko priti kar ke gyan paana sikh lo…aisa nahi ki kahi jaoge waha bhagavan milenge..wo aap ke pas hi hai….bhagavan ke paane ke liye hi janam mila hai…bhagavan kaha milenge? Khoj karo .. to khojate khajate khud hi mey bhagvan ko paa loge..jaise raja bhartuhari ne dekha ki sone ki thali mey khana khane se , chandi ke sinhasan pe baithane se sukh milata hai kya..to khojane se pahunch gaye gorakhnath ke pas..guru ke charano mey baithe tab likhate hai ki..

jab swachh Satsang kino tab kuch kuchh chino…

tab likhate hai ki , ab kuch kuchh jaan paya hun…pura nahi…ki chamchamate gahane pahane sundariya chanwar dulaye,chandi ke sinhasan pe baitha to ahankar badhaya..ye raj gaddi , ye bhog sab chhutanewala hai..yaha hi pada rahega…sone ki thali mey khana khane wala sharir bhi agni mey jalana hai…to bhartuhari bolate ki abhi kuchh kuchh jana..

pada rahega maal khajana chhod striya sut jana hai l

kar satsang abhi se pyare nahi to phir pachhatana hai ll

khila pila ke deh badhayi wo bhi agni mey jalana hai…l

kar satsang abhi se pyare nahi to phir pachhatana hai..ll

“mai bada , mai bada” karane se phayada nahi…suraj kisi ka kharida hua nahi sabhi phayada lo..aise sadguru ke gyan ka sabhi labh lo… sadguru se mili pagadi 150 rs. ki bole, to wo janate nahi ki guru se mili chij anmol hoti hai….(kisi sandarbh mey sadgurudev ne kaha)

Doctor vikramsingh UP sarkar mey aaj ki tarikh mey IG hai, 6 gold medal mile…phir bhi nange pair guru ka saman uthate, jahaj mey chadhate hai…to jo jitana punyayi karata utana usaka yash badhata…santo ko kya pharak padata hai?

( ek vyakti jinaki aayu 57 varsh ki hai aur 27 desho mey pravachan karate hai…kayi log unase jude huye hai..unhone aaj bapuji se diksha li …to wo apana anubhav bataye… )

“sadgurudev maharaj ki jay ho….bapuji ki jay ho…”

Bapuji :- “meri jayjaykar nahi bolo..apana anubhav sunao..”

Shishya :- “ mai itanaa khush hun…ki.. ki..mere paas shabd nahi hai….suraj ke saamane juganoo kya bole…ham to juganoo bhi nahi hai…baas..dhany ho gaye…”

(aaj hi in sadhak bhai ne dikshaa li hai , lekin wo itane gadgad ho gaye ki kuchh bol nahi paa rahe the…to itana hi kahe paye ki , Bihaar mey mugalsaray aur patana ke bich mey aara shahar ke paas 3 km Rampur hai jaha unaka aashram hai….unake kayi followers bhi hai…)

“ bapuji sakshat bhagavan hai..mere paas naa shabd hai na adhikar hai …ki…. kya bolu?…”

Bapuji bole, “nahi ham to garib baba hai…hamare takiye ko bhi taat lagate hai , makhmal nahi lagate…ek aadami ne bahot mahenga ticket kharida tha, maine manaa kar diya ki mai to economy wale class se jaunga…sabhi desh dekh liya..jahajo mey baith ke dekh liya lekin bhagavan mey baithana sarvopari aanand hai..bhagavan mey vishram karana sab se achhi chij hai…”

Kashi dekhi mathura dekhi kahi na mann ka meet mila…to aaya andar ke aatma mey…..aap log bahot bhagyshali hai..ham to kaha kaha bhage..kis kis ke charano mey baithe….idhar jao udhar jao…ek maharaj ne bola ki 12 saal yaha dhyan 12 saal yaha..karate karate 48 saal mey ishwar prapti hogi….mai to waha se khisak gaya…mujhe to ishwar prapti ki pyas thi…ishwar ko prarthana karata ki raja parikshit ko 7 din mey mile..dhruv ko 6 mahine mey mile…prahlad ko 5 saal ke aayu mey mile..ramtirth ko 22 saal mey mile..mujhe kab miloge?…ek jagah to mujhe bola gaya ki yaha raho to ye sambhalo…maine apani milkat nahi sambhali..ham ko to ishwar prapti chahiye…kaise mile …bhagavan ko ulahana dete…aisi aisi baate karate ki koyi sunata to paagal hi gin leta…

..ek baar narmada mata ke kinare jab tak darshan nahi dete tab tuk baith gaye….2ghante 4 ghante..6 ghante..raat ho gayi…machhaware aaye…bhuk lagi to bhune huye chane hath mey liye…lekin abhi to darshan nahi huye..kaise khaye? Chane bhi phenk diye pani mey..baith gaye dhyan mey…raat ka ek baj gaye….indr ne dekha ki kya irada karata…itani badi badi bunde barasi…..socha nadi mey uchhal jaye….aatm tyag karenge to bhi thik nahi… phir ishwar prapti kaise hogi?..ek ghar ke baramade mey baith gaya dhyan laga ke….ganv ka koyi aadami —ko nikala hoga ..to bataya hoga is ghar mey koyi chhed daal raha hai….phir to koyi kya lekar to koyi kya hathiyar lekar aaye .. “maro , pakado” aawaj suni to dhyan tutaa…khada ho gaya aur bhid mey se nikal gaya….aisa bhagvan ne lila kiya ki koyi soche shadi wadi nahi ho rahi hogi, kunwara diwaana hoke ghum raha hai..kisi ne socha pahelwan hai…kisi ko kya laga, kisi ka sach nahi tha……. ham to waha se nikale apani masti mey..ishwar ki pyas….aisa to kayi baar hua…..kabhi khana khaya kabhi naa bhi raha to bhi kuchh nahi…khojat khojat khojanewala tha wo hi ho gaya….

“madhyani dhayi baje” (ashwin shudhd do diwas )…phir sadhana saphal ho gayi….ek baar to pair pad gaya saap par to bhi saap ne kaanta nahi….mung aur aloo daal ke chawal ubal ke khate kabhi…bhagvaan sab janate hai…ki ise mere bina chain nahi…imandari se bolate to wo bhi dekhate hai ..ham be-imani karate to bhi bhagavan dekhate hai….duniya ko dhoka karate to bhi wo dekhate hai…jitane bhi sachchayi se rahe..utane prabhu paas aaye…krupa ki….Ishwar ke bina itana bade aayojan sambhav nahi…rajya sarkar bhi kare to bhi sambhav nahi..kendr sarkar bhi kare to bhi sambhav nahi…ishwar ki satta se ho raha hai ….156 desho mey karodo log satsang dekhate hai..jaha ye channel nahi pahunchate waha US channel se ya kisi aor channel se bheja jata hai…log to apana programme aane ke liye channel walo ko paise dete..lekin soni channel se ek saal ka 1karod 38lakh mila,wo trust mey jama kiya aur sewa mey lag raha hai…mai agar khud bhi aiasa aayojan karata , tab bhi nahi hota,aisi ishwar ki lila hai….ishwar ke aage kya kathin hai? Mai kuchh jyada padha likha nahi hun..lekin 16 degreeya lenewale rupnarayan jaise, kayi degree wale shishya hai….isake pichhe kewal ishwar ki shakti kaam kar rahi…sachchayi kaam kar rahi..manushya ki budhdi ka kaam nahi hai ye….shudhd swaroop paramtma ki krupa hai…

tera tujh mey kuchh nahi…ishwar ke hokar jio…..prabhu ka apana mano aur apane ko prabhu ka….kisi ka bura karo nahi….kisi ka bhala nahi kar sakate to koyi baat nahi…..lekin burayi nahi karo….kisi ki burayi nahi ki, kisi ka bura nahi chaha to bhi aap ne bhagavan ki sewa kar li….kisi ka bura nahi kiya to bhi duniya ka sukh paake imandaar ban jata hai….

Duniya ka koyi bhi darshan shastr ya duniya ka koyi bhi insaan aisa nahi kahega ki phalana kaam mai dukh milane ke liye kar raha hun…aisa koyi hai kya dukh milane ke liye koyi kaam kar raha hai…ek bhi nahi milega aisa….to bhi dukh mitata nahi..sabhi kaam sukh ke liye karate to bhi sukh tikata nahi…lekin mere pas to dukh tikata nahi aur sukh mitata nahi , kyo ki maine krushn bhagvaan ki baat maan li.. gita ki baat maan lo to dukh tikata nahi aur sukh mitataa nahi….Jo bhi kaam hota hai achchayi se hi hota hai..chalaki se koyi kam nahi hota..kam hua aisa lagata hai…

Ishwar sada hai aur wo hi satya hai….ishwar hi aap ka aapa hai….wohi antrayami hokar baitha hai….jo amar hai..maranewale sharir ke liye kisi se dariye nahi….aur kisi ko darao nahi….ishwar aanand swaroop hai…aap mey jo bhi achha hai, dusare ke aanand ke liye upyog mey lao…kanoon ki padhayi ki hai to nyaay dilane ke liye..doctor ki padhayi ki hai to marij ko bimari se aaram dilane ke liye..aise aap ke paas jo bhi achhayi hai , yogyata hai use samaj rupi devata ke liye hai….mere beta hai to baad mey khayega, pahale ashram ke bachche khayenge..meri beti hai to usako nahi , pahala hakk mahila ashram ke betiyo ka…. “mere beta, meri beti” kiya to mamata huyi…sab tumhare aur tum sabhi ke…thodasa mera banaya to kup mandook ho gaye…

….us aatmnidhaan mey shant ho jaye….jo sharabi nahi, usako bolo ki sharab chhod do..to wo bolega chhod di…usake liye kya kathin hai?….jo sharabi hai usako kathin lagata hai sharab chhodana…aise hi kisi ko bolo paanmasala chhod do..to bolega, “lo chhod diya,ham khate hi nahi”..khate hi nahi to kya kathin hai chhodana? Jisaki aasakti nahi usako chhodana kya kathin hai?sansar ki aasakti chhutegi tab bhagavan milenge…ishwar to hamara aatma hai…apane andar jaane ke liye kya kathin? Nind mey jaane ke liye prayatn karana padata hai kya?aise hi ishwar ke liye koyi prayatn nahi karana padata….

Log kahate hai sansar ke bina kaam nahi chalata..lekin mai kahata haun..sansar ko bhule bina kam nahi chalata….pura din kam karate raat ko sansar ko bhulkar nind mey jate tabhi dusare din kaam karane ke kabil banate…sansar mey jate to shakti ka rhas hota hai…nind mey jate to shakti ka sanchay hota hai…sansar ko bhulkar nind mey jate ..shakti paate ..tabhi dusare din kam kar sakate…kam karake thak gaye to phir nind…aise hi jagat mey sanyam se khaya piya… aur ishwar ko paaya…kathin nahi hai…pata nahi isliye kathin hota hai…

Pura sadguru payiye ….pure ke gun gayiye….

Ishwar prapti kathin nahi hai….ishwar ko bolo…sab ki gaherayi mey baitha hai wo….sab ke dil ko ishwar janate hai….ishwar ke liye tadap ho….bachcha maa ko chahata ho…bachcha “maa maa” kahe aur maa nahi aaye to wo maa kahe ki huyi ?beta agar maa ko chahata ho, sachmuch sachhe hruday se “maa maa” kar ke bulata ho aur maa nahi aaye to aisi maa ko to mar jana chahiye….aise sachhi tadap se ishwar ko bulao aur ishwar nahi aaye to aise ishwar ko to mar jana chahiye..lekin ishwar kyo mare…ham mare hajar baar….isliye dam maar ke bol raha hun….ye bolane ki takad kaun de raha hai ? ye mere mukh se margdarshan kaun de raha hai ? agar galat hai to paralise ho jaye jivha ya heartfail ho jaye…wo hi to bol raha hai…satsang ke baad bhi itana bulwa raha hai isake pichhe aap ki punyayi hai..ishwar ki krupa hi kam kar rahi hai na?..jo kaam kathin nahi , phir bhi kathin lag raha hai .. to saral kya hai? Itani kathinayi to khatmal aur mchchar bhi sahe leta hai…machharo ko bhi pata hota hai ki kaha baithana..mai kayi baar try kiya ki machhar mere dadhi pe baithe…aise aage aage bhi kiya..to bhi nahi bithata… J …itani akkal to machharo mey bhi hai ki yaha khurak nahi milega….bachche to machhar aur khatmalo ke bhi paida hote hai…manushya janam paakar bhi wohi kiya to machhar aur manushy mey antar hi kya? Manushy mey ye janane ki shakti hai ki , sharir marane ke bad bhi jo raheta hai usako mai kaise jaan lu..wo mujhe kais emile?sab dukho ko se kaise chhutu is baat ki pyas mil jaye…

Yah kaun sa ukada hai jo ho nahi sakata l

Tera ji na chahe to ho nahi sakata ll

Chhota sa kida patthar mey ghar kare l

Aur insan kya dile dilbar mey ghar na kare ll

Om Shanti ..

Hari Om!Sadgurudev ki jay ho!!!!!

(Galatiyo ke liye prabhuji kshama kare….)

*****************

हिन्दी में


भवसागर से पार….सुसनेर सत्संग_लाइव(9/12/07)
रविवार ९ दिसम्बर २००७, भारतीय समय शाम के ४:१५ बजे
सुसनेर, जिला .शाजापुर (म.प्रदेश .)
*********************
सदगुरूदेव संतशिरोमणि  परमपूज्य श्रीआसाराम बापूजी की अमृतवाणी 
**********************
.. सुरेश महाराज बोल रहे है….भवसागर से पार होने की विद्या सदगुरूदेव के चरणों मे बैठ के नही पाया तो डूब जाएगा….
.… बापूजी एक कथा सुनाया करते थे कि.. एक साधू महात्मा बैठे थे..ठंडी के दिन थे इसलिए एक धर्मात्मा व्यक्ति ने उन्हें शॉल  ओढा दी..तो एक चोर आया और साधू बाबा को ओढायी हुयी शॉल उठाके भागने लगा…साधू बाबा वृध्द थे, चोर जवान था..चोर के पीछे भाग के तो साधू बाबा उसे पकड़ नही पाते…जिस दिशा मे चोर भागा था  उसकी उलटी दिशा मे , विपरीत दिशा मे साधू बाबा भागने लगे और मुँह से बोलते जाते , “मैं तुझे छोडूंगा नही” …तो एक दुकानवाले ने पूछा., “..बाबा , चोर तो गया इधर और आप दौड़ रहे उधर और मुंह  से बोल भी रहे कि तेरे को नही छोडूंगा ….तो कैसे पकडेंगे?”.. तो बाबा बोले…, “एक दिन तो चोर उधर आएगा जरुर, क्यो कि उधर समशान है…!”
.. इन्सान भी हरि भक्ति की सरिता छोड़कर कितना भी ओस की बूंदों  से प्यास बुझाना चाहता है तो कैसे प्यास बुझेगी ?…पत्ते और तिनके के मकान मे रहेकर अपने को सुरक्षित करना चाहता है ..कैसे होगा? बबूल के वृक्ष से आम की अपेक्षा करता है कैसे मिलेगा?
इसलिए मैं आप को बहोत धन्यवाद देता हूँ कि आप लोग सत्संग मे आये…बहोत ऊँचा काम कर रहे है…
ॐ नमो भगवते वासुदेवाय…
बापूजी आये..
“हरि हरि बोल….”

(परमपूज्य सदगुरूदेव की अमृत वाणी  …)
जय जय शिवाय….बंधू रे…..
बैठो लाला…लालिया ..देवता….बैठो….
इतने लोग..बाप रे बाप..कहा से आ जाते…..अल्लाह रे अल्लाह…कैसे फैज है तुम्हारी…वो अपने हिस्से की भी तुम्हे पिलाना चाहता है…
नारायण नारायण हरि ॐ
बोलो :- हरि ॐ हरि ॐ हरि ॐ हरि ॐ(दीर्घ उच्चारण हो रहा है १० बार…)

जब ही नाम ह्रदय धरयो, भयो पाप को नाश l
जैसे चिनगी आग की पड़ी पुराने घांस ll
 
..भगवान के नाम मे इतनी शक्ति है कि जन्म-जन्मांतर के पुराने पाप संस्कार को जला देते है, नाश कर देते है…हरि नाम के उच्चारण से खाली…. “मेरे पाठ मे कुछ कमी रहे गयी हो तो क्षमा मांगकर हरि ॐ ..” उच्चारण कर लो ..रात को सोते समय हरि नाम का गुंजन करो…
(सदगुरूदेव ने राजा अज्ज की कथा सुनाई..कथा मे सदगुरूदेव ने कहा कि सत्संग से सर्वांगिण कल्याण होता है…आंखो से सत्संग का माहोल देखते तो आँखे पवित्र होती, कानो से सुनते तो कान पवित्र होते…सत्संग के ज्ञान से दिल पवित्र होता है..बुध्दी मे सदबुध्दी होती है ….संतो को और भगवान को एकटक देखने से ह्रदय की मलिनता दूर होती है..पापनाशिनी और पुण्यदायिनी उर्जा पैदा होती है…राजा अज्ज की कहानी पढ़ने के लिए कृपया बरोडा और रतलाम पूर्णाहुति सत्संग पढे)
..जो सत्संग करते करवाते वो बहोत बुध्दिमानी का काम करते…जो भगवान के रास्ते दूसरो को चलाते और खुद भी चलते…जो भगवान की भक्ति , स्मृति , चर्चा खुद भी करते और दूसरो से भी करते तो इससे बड़ा बुध्दिमानी का काम त्रिलोक मे दूसरा नही है…कलियुग के नारकीय जीवन मे सत्संग रूपी जनक के हाजिरी मे हम भी पाप ताप चिंता से मुक्त हो गए…आंखो मे फरियाद नही.. मुँह मे हरि का नाम और दिल मे हरि कि प्रीति से स्वर्गीय सुख का, वैकुण्ठ धाम का अनुभव किया …भूक नही , प्यास नही..घंटो बैठकर इंतजार किया..मान नही , अपमान नही..अभिमान छोड़कर सत्संग मे आकर बैठते….किसी के शादी मे जाते तो यहा बिठाया ..वहा बिठाया.. नाराज हो जाते…लेकिन यहा अमीर हो चाहे गरीब सब एक जैसे…धक्के खा कर भी बैठते ..सब मिलकर भगवान का नाम लेते तो ८४ लाख योनी के धक्को से बच जाते…अनंत पुण्य होते – जिस पुण्य का अंत नही होता उसे अनंत पुण्य कहते है…जिनके पुण्य जोर पकड़ते उन्ही को सत्संग का लाभ होता है…इसिलए कहते है कि, “भयो पाप को नाश…”

 ॐ नमह शिवाय..भगवान का (हरि का ) नाम लेने मात्र से कलियुग मे पाप नाश होते है.. भगवान का सत्य स्वरूप जान लेते है..आत्मा मे विश्रांति पाते है तो नाम जपत मंगल दस दिशा… भगवान का नाम जपते रहो…घर मे सभी कटोरी मे पानी लेकर भगवान का नाम १०० बार उसमे देखते हुए बोले..वो पानी घर मे छाटे और ख़ुद भी  पिए.. सब मंगल ही मंगल होगा…कोई भी बात करो नारायण नारायण…एक दूसरे को मिलो तो “नारायण नारायण” , “हरि ॐ हरि ॐ”..फिर बात करो…घर के बच्चो को बाल संस्कार दे..लड़ाई झगडे नही हो इसलिए सब मिलकर हरि हरि ॐ हरि ॐ राम राम राम राम शिव शिव शिव शिव ॐ ॐ ॐ ॐ शम्भो भोलेनाथ हा हा हा हा   🙂    ऐसे दोनो हाथ ऊपर कर के सब मिलकर हास्य करो तो वातावरण आनंदमय बना दे….गली गली मे , मोहल्ले मोहल्ले मे, घर घर मे सत्संग की बाते पहुँचा दो तो ४ साल मे ये बच्चे कितने आगे बढेंगे…भारत का नाम , भारत की शक्ति पूरी दुनिया को माननी पड़ेगी…मैंने ७ साल पहले कहा था..और २०११ मे भारत विश्वगुरु पद पे जरुर  पहुचेगा…
..जो कुछ अच्छा था वो आप के भाग्य का था..गीता का था, महापुरुषों का था, मेरे गुरुदेव का था..और जो कुछ खारा खट्टा होगा वो मेरा होगा..मुझे माफ कर दे…तुलसी के ५ पत्ते रोज खाना…तुलसी का पौधा लगाओ, पीपल, आंवला, बेल ऐसे वृक्ष लगाओ…काली गाय  का दूध बुढापे मे पीना..नही मिला  तो भैस के दूध मे पानी डाल के पिए..जो भी मिले…सब से मेन  है मन अच्छा रहे…सोचना कि “प्रभु मैं तेरा और तू मेरा..”

ॐ नमो भगवते वासुदेवाय…प्रीति देवाय..माधुर्य  देवाय..भक्ति देवाय…मम देवाय..प्रभु देवाय….ॐ नमो भगवते वासुदेवाय….
 परमात्मा ही केवल हमारे है..अगले जनम का हमारे पास क्या रहा? इस जनम का बचपन , जवानी साथ मे रही क्या?बचपन के संगी साथी रहे क्या?

संगी साथी चल गए सारे, कोई ना दिज्यो साथ l
कहे तुलसी साथ न छोडे  तेरा एक रघुनाथ..  ll

..संगी साथी सब छुट जाते , साथ नही आते…मरने के बाद भी साथ नही छोड़ते वो है आप के रघुनाथ …आप का आत्मा…
सारे सम्बन्धी देवादारी समशान तक
पत्नी घर के दालान तक
बच्चे अग्निदान तक
और प्रभु दोनो जहाँ तक….

..इसलिए प्रभु को प्रीति करो…कोई रोक नही सकता मृत्यु का दिवस…उसके पहले जो  मृत्यु के बाद भी तुम्हारे साथ रहेगा उस आत्मा का ज्ञान कर लो…जीवन लाचार मोहताज हो जाये उसके पहले जीवन मे परमात्म सुख की पूंजी इकठ्ठी कर लो….जब तक सूर्य चमकता तब तक सब कहते सूर्य भगवान की जय…ऐसे जब तक ये जीवन मे आत्मा का सूर्य चमक रह है तब तक प्रभु को अपना मानकर प्रभु को प्रीति कर के ज्ञान पाना सिख लो…ऐसा नही कि कही जाओगे वहा भगवान मिलेंगे..वो आप के पास ही है….भगवान के पाने के लिए ही जनम मिला  है…भगवान कहा मिलेंगे? खोज करो .. तो खोजते खोजते  खुद ही  में  भगवान को पा लोगे..जैसे राजा भर्तृहरी ने देखा कि सोने की थाली मे खाना खाने से , चांदी के सिंहासन पे बैठने से सुख मिलता है क्या..तो खोजने से पहुंच गए गोरखनाथ के पास..गुरु के चरणों मे बैठे तब लिखते है कि..
जब  सत्संग कीनो तब कुछ कुछ चीनो…
तब लिखते है कि , अब कुछ कुछ जान पाया हूँ…पुरा नही…कि चमचमाते गहने पहने सुन्दरिया चंवर डुलाये,चांदी के सिंहासन पे बैठा तो अंहकार बढाया..ये राज गद्दी , ये भोग सब छुटनेवाला है..यहा ही पड़ा रहेगा…सोने की थाली मे खाना खाने वाला शरीर भी अग्नि मे जलाना है…तो भर्तृहरी बोलते कि , “अभी कुछ कुछ जाना..”

पड़ा रहेगा माल खजाना छोड़ त्रिया (स्त्री ) सूत (बेटे) जाना है l
कर सत्संग अभी से प्यारे नही तो फिर पछताना है ll
खिला पिला के देह बढाई वो भी अग्नि मे जलाना है…l
कर सत्संग अभी से प्यारे नही तो फिर पछताना है..ll
 
“मैं बड़ा , मैं बड़ा” करने से फायदा नही…सूरज किसी का ख़रीदा हुआ नही सभी फायदा लो..ऐसे सदगुरू के ज्ञान का सभी लाभ लो… सदगुरू से मिली पगड़ी १५० रुपियो  की बोले, तो वो जानते नही कि गुरु से मिली चीज अनमोल होती है….(किसी संदर्भ मे सदगुरूदेव ने कहा)
…डॉक्टर विक्रमसिंह यू पी  सरकार मे आज की तारीख मे आईजी है, ६ गोल्ड मेडल मिले…फिर भी नंगे पैर गुरु का सामान उठाते, जहाज मे चढाते है…तो जो जितना पुण्याई करता उतना उसका यश बढ़ता…संतो को क्या फरक पड़ता है?
 ( एक व्यक्ति जिनकी आयु ५७ वर्ष की है और २७ देशो मे प्रवचन करते है…कई लोग उनसे जुडे हुए है..उन्होने आज बापूजी से दीक्षा ली …तो वो अपना अनुभव बताये… )
“सदगुरूदेव महाराज की जय हो….बापूजी की जय हो…”
बापूजी :- “मेरी जयजयकार नही बोलो..अपना अनुभव सुनाओ..”
शिष्य :- “ मैं इतना खुश हूँ…कि.. कि..मेरे पास शब्द नही है….सूरज के सामने जुगनू क्या बोले…हम तो जुगनू भी नही है…बस..धन्य हो गए…”
(आज ही इन साधक भाई ने दीक्षा ली है , लेकिन वो इतने गदगद हो गए कि कुछ बोल नही पा रहे थे…तो इतना ही कहे पाए कि , बिहार मे मुगलसराय और पटना के बिच मे आरा शहर के पास ३ किमी  रामपुर है जहा उनका आश्रम है….उनके कई फोलोवर्स भी है…)
“ बापूजी साक्षात् भगवान है..मेरे पास ना शब्द  है ना  अधिकार है …कि…. क्या बोलू?…”
बापूजी बोले, “नही ….हम तो गरीब बाबा है…हमारे तकिये को भी टाट लगते है , मखमल नही लगते…एक आदमी ने बहोत महँगा टिकेट ख़रीदा था, मैंने मना कर दिया कि मैं तो इकोनोमी वाले क्लास से जाऊंगा…सभी देश देख लिया..जहाजो मे बैठ के देख लिया लेकिन भगवान मे बैठना सर्वोपरि आनंद है..भगवान मे विश्राम करना सब से अच्छी चीज है…”
…काशी देखी मथुरा देखी कही न मन का मीत मिला …तो आया अन्दर के आत्मा मे…..आप लोग बहोत भाग्यशाली है..हम तो कहा कहा भागे..किस किस के चरणों मे बैठे….इधर जाओ उधर जाओ…एक महाराज ने बोला कि १२ साल यहा ध्यान १२ साल यहा..करते करते ४८ साल मे ईश्वर प्राप्ति होगी….मैं तो वहा से खिसक गया…मुझे तो ईश्वर प्राप्ति की प्यास थी…ईश्वर को प्रार्थना करता कि राजा परीक्षित को ७ दिन मे मिले..ध्रुव को ६ महीने मे मिले…प्रह्लाद को ५ साल के आयु मे मिले..रामतीर्थ को २२ साल मे मिले..मुझे कब मिलोगे?…एक जगह तो मुझे बोला गया कि यहा रहो तो ये संभालो…मैंने अपनी मिल्कत नही संभाली..हम को तो ईश्वर प्राप्ति चाहिऐ…कैसे मिले …भगवान को उलाहना देते…ऐसी ऐसी बाते करते कि कोई सुनता तो पागल ही गिन लेता…..

…एक बार नर्मदा माता के किनारे जब तक दर्शन नही देते तब तक  बैठ गए….2 घंटे  ४ घंटे..६ घंटे..रात हो गयी…मछवारे आये…भूक लगी तो भुने हुए चने हाथ मे लिए…लेकिन अभी तो दर्शन नही हुए..कैसे खाए? चने भी फ़ेंक दिए पानी मे..बैठ गए ध्यान मे…रात के  एक बज गए….इन्द्र ने देखा कि क्या इरादा करता…इतनी बड़ी बड़ी बूंदे बरसी…..सोचा नदी मे उछल जाये….आत्म त्याग करेंगे तो भी ठीक नही… फिर ईश्वर प्राप्ति कैसे होगी?..एक घर के बरामदे मे बैठ गया ध्यान लगा के….गाँव का कोई आदमी —को निकला होगा ..तो बताया होगा इस घर मे कोई छेद डाल रहा है….फिर तो कोई क्या लेकर तो कोई क्या हथियार लेकर आये ..  “मारो , पकडो” आवाज सुनी तो ध्यान टूटा…खड़ा हो गया और भीड़ मे से निकल गया….ऐसा भगवान ने लीला किया कि कोई सोचे शादी वादी नही हो रही होगी, कुंवारा दीवाना होके घूम रहा है..किसी ने सोचा पहेलवान है…किसी को क्या लगा, किसी का सच नही था……. हम तो वहा से निकले अपनी मस्ती मे..ईश्वर कि प्यास….ऐसा तो कई बार हुआ…..कभी खाना खाया , कभी ना भी रहा तो भी कुछ नही…खोजत खोजत खोजनेवाला था वो ही हो गया….
“मध्यानी ढाई बजे” (आश्विन शुध्द दो दिवस )…फिर साधना सफल हो गयी….एक बार तो पैर पड गया साप पर तो भी साप ने काँटा नही….मुंग और आलू डाल के चावल उबाल के खाते कभी…भगवान् सब जानते है…कि इसे मेरे बिना चैन नही…ईमानदारी से बोलते तो वो भी देखते है ..हम बे-इमानी करते तो भी भगवान देखते है….दुनिया को धोका करते तो भी वो देखते है…जितने भी सच्चाई से रहे..उतने प्रभु पास आये…कृपा की….ईश्वर के बिना इतने  बडे आयोजन संभव नही…राज्य सरकार भी करे तो भी संभव नही..केंद्र सरकार भी करे तो भी संभव नही…ईश्वर कि सत्ता से हो रहा है ….१५६ देशो मे करोडो लोग सत्संग देखते है..जहा ये चैनल नही पहुंचते वहा यू एस  चैनेल   या एशिया  चैनल से या किसी ओर चैनल से भेजा जाता है…लोग तो अपना प्रोग्राम आने के लिए चैनल वालो को पैसे देते..लेकिन सोनी चैनल से एक साल का 1 करोड़  38 लाख  मिला , वो ट्रस्ट मे जमा किया और सेवा मे लग रहा है…मैं अगर खुद भी ऐसा  आयोजन करता , तब भी नही होता,ऐसी ईश्वर कि लीला है….ईश्वर के आगे क्या कठिन है? मैं कुछ ज्यादा पढा लिखा नही हूँ..लेकिन १६ डिग्रिया  लेनेवाले रूपनारायण जैसे, कई डिग्री वाले शिष्य है….इसके पीछे केवल ईश्वर की शक्ति काम कर रही…सच्चाई काम कर रही..मनुष्य की बुध्दी का काम नही है ये….शुध्द स्वरूप परमात्मा की कृपा है…

तेरा तुझ मे कुछ नही…ईश्वर के होकर जियो…..प्रभु को  अपना मानो और अपने को प्रभु का….किसी का बुरा करो नही….किसी का भला नही कर सकते तो कोई बात नही…..लेकिन बुराई नही करो….किसी की बुराई नही की, किसी का बुरा नही चाहा  तो भी आप ने भगवान की सेवा कर ली….किसी का बुरा नही किया तो भी दुनिया का सुख पाके  आदमी  इमानदार बन जाता है….
दुनिया का कोई भी दर्शन शास्त्र या दुनिया का कोई भी इंसान ऐसा नही कहेगा कि फलाना काम मैं दुःख मिलने के लिए कर रहा हूँ…ऐसा कोई है क्या कि जो  दुःख मिलने के लिए कोई काम कर रहा है…एक भी नही मिलेगा ऐसा….तो भी दुःख मिटता नही..सभी काम सुख के लिए करते तो भी सुख टिकता नही…लेकिन मेरे पास तो दुःख टिकता नही और सुख मिटता नही , क्यो कि मैंने कृष्ण भगवान् की बात मान ली.. गीता की बात मान लो तो दुःख टिकता नही और सुख मिटता नही….जो भी काम होता है अच्छाई से ही होता है..चालाकी से कोई काम नही होता..काम हुआ ऐसा लगता है… ईश्वर सदा है और वो ही सत्य है….ईश्वर ही आप का आप है….वोही अंतरयामी होकर बैठा है….जो अमर है..मरनेवाले शरीर के लिए किसी से डरीए नही….और किसी को डराओ  नही….ईश्वर आनंद स्वरूप है…आप मे जो भी अच्छा है, दूसरे के आनंद के लिए उपयोग मे लाओ…कानून की पढाई की है तो न्याय दिलाने के लिए..डॉक्टर की पढाई की है तो मरीज को बीमारी से आराम दिलाने के लिए..ऐसे आप के पास जो भी अच्छाई है , योग्यता है उसे समाज रूपी देवता के लिए  उपयोग में लाओ ….मेरा  बेटा है तो बाद मे खायेगा, पहले आश्रम के बच्चे खायेंगे..मेरी बेटी है तो उसको नही , पहला हक्क महिला आश्रम के बेटियों का…. “मेरा बेटा, मेरी बेटी” किया तो ममता हुयी…सब तुम्हारे और तुम सभी के…थोडासा मेरा बनाया तो कूप मंडूक हो गए…
….उस आत्मनिधान  मे शांत हो जाये….जो शराबी नही, उसको बोलो कि शराब छोड़ दो..तो वो बोलेगा छोड़ दी…उसके लिए क्या कठिन है?….जो शराबी है उसको कठिन लगता है शराब छोड़ना…ऐसे ही किसी को बोलो पानमसाला छोड़ दो..तो बोलेगा, “लो छोड़ दिया,हम खाते ही नही”..खाते ही नही तो क्या कठिन है छोड़ना? जिसकी आसक्ति नही उसको छोड़ना क्या कठिन है?संसार की आसक्ति छूटेगी तब भगवान मिलेंगे…लेकिन संसार की आसक्ति ही नही तो कोई कठिनाई नही …ईश्वर तो हमारा आत्मा है…अपने अन्दर जाने के लिए क्या कठिन? नींद मे जाने के लिए प्रयत्न करना पड़ता है क्या?ऐसे ही ईश्वर के लिए कोई प्रयत्न नही करना पड़ता….

…. लोग कहते है संसार के बिना काम नही चलता..लेकिन मैं कहता हूँ ..संसार को भूले बिना काम नही चलता….पुरा दिन काम करते रात को संसार को भूलकर नींद मे जाते तभी दूसरे दिन काम करने के काबिल बनते…संसार मे जाते तो शक्ति का र्हास  होता है…नींद मे जाते तो शक्ति का संचय होता है…संसार को भूलकर नींद मे जाते ..शक्ति पाते ..तभी दूसरे दिन काम कर सकते…काम करके थक गए तो फिर नींद…ऐसे ही जगत मे संयम से खाया पिया… और ईश्वर को पाया …कठिन नही है…पता नही इसलिए कठिन होता है…

पुरा सदगुरू पाईये ….पूरे के गुण गाईए….ईश्वर प्राप्ति कठिन नही है….ईश्वर को बोलो…सब की गहेरायी मे बैठा है वो….सब के दिल को ईश्वर जानते है….ईश्वर के लिए तड़प हो….बच्चा माँ को चाहता हो…बच्चा “माँ माँ” कहे और माँ नही आये तो वो माँ काहे की हुयी ?बेटा अगर माँ को चाहता हो, सचमुच सच्चे ह्रदय से “माँ माँ” कर के बुलाता हो और माँ नही आये तो ऐसी माँ को तो मर जाना चाहिऐ….ऐसे सच्ची तड़प से ईश्वर को बुलाओ और ईश्वर नही आये तो ऐसे ईश्वर को तो मर जाना चाहिऐ..लेकिन ईश्वर क्यो मरे…हम मरे हजार बार….इसलिए दम मार के बोल रहा हूँ….ये बोलने की ताकद कौन दे रहा है ? ये मेरे मुख से मार्गदर्शन कौन दे रहा है ? अगर गलत है तो पॅरालाइज हो जाये जिव्हा या हार्ट फैल  हो जाये…वो ही तो बोल रहा है…सत्संग के बाद भी इतना बुलवा रहा है , इसके पीछे आप की पुण्याई है..ईश्वर की कृपा ही काम कर रही है ना ?..जो काम कठिन नही , फिर भी कठिन लग रहा है .. तो सरल क्या है? इतनी कठिनाई तो खटमल और मच्छर   भी सहे लेता है…मच्छरों  को भी पता होता है कि कहा बैठना..मैं कई बार ट्राय  किया कि मच्छर  मेरे दाढ़ी पे बैठे…ऐसे आगे आगे भी किया..तो भी नही बैठता …   🙂   …इतनी अक्कल तो मच्छरों  मे भी है कि यहा खुराक नही मिलेगा….बच्चे तो मच्छर  और खटमलो के भी पैदा होते है…मनुष्य जनम पाकर भी वोही किया तो मच्छर  और मनुष्य मे अंतर ही क्या? मनुष्य मे ये जानने की शक्ति है कि , शरीर मरने के बाद भी जो रहेता है उसको मैं कैसे जान लू..वो मुझे कैसे मिले  ?सब दुखो को से कैसे छुटू.. इस बात की प्यास मिल जाये…

यह कौन सा उकदा है जो हो नही सकता l
तेरा जी न चाहे तो , हो नही सकता ll
छोटा सा कीडा पत्थर मे घर करे l
और इन्सान क्या , दिले दिलबर मे घर न करे ll

ॐ शांति ..
हरि ओम!सदगुरूदेव की जय हो!!!!!
(गलतियों के लिए प्रभुजी क्षमा करे….)
 

Advertisements
Explore posts in the same categories: Pujya Bapuji

One Comment on “Bhavsagar se paar….Susner satsang_live(9/12/07)”

  1. lalita Says:

    what a story very nice


Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s


%d bloggers like this: