AMRUT VARSHA….Ratlam satsang_live

Sunday, 2nd December, 2007 ; IST : 6:30 PM

Ratalam Purnahuti satsang_live

*********************

Sadgurudev Santshiromani Parampujya Shri Asaram Bapuji ki amrutwani

**********************

In Hinglish(Hindi writen in English)

(for Hindi please scroll down….)

Sadgurudev ka aagaman hua….

“HARI HARI BOL….”

Jay ho..!

Rock aur Pop karane se jeevan shakti ka rhaas hota hai doctor diomond kahate hai 13 saal ke research ke baad..bharatiy padhdati se kirtan karane se jeevan shakti ka vikas hota hai…

Baitho laliya ..baitho lala.. J

Bahot door – door se , kaha kaha se log aaye the milane ke liye.. lekin ham aap ke khichaav se khisak aaye…. J

Narayan Narayan….

Abhi aye aur sham ko aur subah ke , dopahar ke satr mey nahi aaye the to hath upar karo…kyo nahi aaye? Shashtr kahate hai ki –

-100kaam chhodkar khana khaalena chahiye

-1000 kaam chhodkar snan kar lena chahiye

-100000 kaam chhodkar daan punya kar lena chahiye

-100,00000 kaam chhodkar bhi hari ka sang aur hari ka dhyan dhar lena chahiye…

...to nahi aaye to galati kiya na?..lekin aap ke sachchayi ka mai swagat karata hun..aap ki isame koyi galati nahi thi.. J

OM NAMO BHAGAVATE VASUDEVAY…

Jab hi naam hruday dharyo , bhayo paap ke naash l

Jaise chinagi aag ki , padi puraane ghaans….ll

Sukhaa ghaans hota hai to wo 10 kilo ho , chahe 1000 kilo ho chahe 1000000 kilo ho…to bhi ek chingari aag ki padegi to sab ghaans ek kshan mey jal jayega aise hi satsang mey aane se , bhagavan ka naam kaan se sunane maatr se kitane bhi paap honge to bhi kshan mey jalkar raakh ho jayenge..nasht ho jayenge… Aaj aap satsang mey aa gaye hai ..sant tulasidas kahate hai…

Bigadi anek janam ki sudhare ab aur aaj ..l

Tulasi hoyi ram ko , ram bhaji , taji ko samajh…ll

Anek janamo ki bigadi ram ke hokar ram bhajane se sudhar jati hai..wo bhi kal aur paraaso nahi aaj aur ab… kitani yoniyo ke baad ye manushy janam mila hai…is janam ko bhi vyarthy gavaya to aur kitane pitaonke sharir mey bhatakata phirega ye aatma..aur kitani mataonke garbh mey ulata latakata phirega ye aatma…. Mera makan, mera dukan, meri gadi, mera bank balance .. “mera mera” kar ke jitana bhi paaya , mrutyu ke ek jhatake se sab khatam ho jayega..sab yaha hi rahe jayega…

Kahe raha hai aasama yah samaa kuchh bhi nahi l

Roti hai shabanam ki nairange kuchh bhi nahi ll

Jinake mahalo mey hajaro rang ke jalate the phanus l

Jhad unaki kabr par hai aur nishan kuchh bhi nahi ll

Jinaki naubat se sada gunjate the aasamaan l

Dam bakhud hai kabr mey ab hu naa haa kuchh bhi nahi ll

Takhtwaalo ka pata dete hai takhte gaur ke l

Khoj milata tak nahi waade ajaan kuchh bhi nahi ll

“Hamara hamara” kar ke jo bhi aaj tak sambhala hai , wo sab tumhara yaha hi chhut jayega…tumhara to kewal aatma hai , jo sada sath thaa, hai , aur rahega mrutyu ke baad bhi…baki sab dhokha hai dhokha… “neeri dhokha” ..jaise saphed jhuth kahate na aise “neeri dhokha” hai“mera mera” kahete kayi chale gayekayi nishan bhi nahi raha…”mere gahene”…. “meri gaadi” kahete hai , lekin koyi chor aake bhi chura leta to gahene ya gaadi nahi puchhate ki “seth/ sethani mai jaa raha hun…ram ram..”…tum kahete ho gahene mere gadi meri lekin gahene aur gadi to tumhe apana nahi manate .. tumhara to kewal tumhara aatma hai tum mano to bhi hai , nahi mano to bhi wo hi tumhara hai ..Is bharat desh ka raja ,ajanab khand ka ek chhatr samrat jisake naam se apane desh ka naam “bharat” pada ..wo bhi marate samay hiran ka chintan kiya to marane ke bad hiran ka janm paaya..bhagavat mey katha hai..is manushy janam ko sarthak nahi kiya to marane ke baad koyi bhi sharir mil sakata hai hathi ka, hiran ka, kutte ka , billi ka, murge ka…raja bharat ne marate samay hiran ka chintan kiya to hiran ban gaya…lekin hiran ke sharir mey bhi wo ekadashi ke din ghansphus nahi khata tha.. J …koyi bolega ki pashu ko kaise pata chalega ka aaj ekadashi hai? .. J … pata to chalata hai.. kutte ke jeevan mey bhi chalata hai..

Kutte ka mangalwar Vrat 🙂

…diwali ke samay adiwasi area mey ham mithayi baatane gaye the.. to dusare din subah 3 kutte aaye paas…maine jo mithayi bachi thi unako khilayi…lekin uname se 2 kutte kha rahe the aur ek kutta nahi kha raha tha… ham ne bahot koshish ki lekin nahi khaye..to maine dusare type ki mithayi khilane ki koshish ki , shayad ye pasand na ho… J varayati chahiye hogi… J …lekin phir bhi nahi khaye…to maine hath bhi jod liye ki maharaj kuchh bhul chuk ho gayi ho to maph kar dena.. J ..aakhir mey socha ki shayad thali mey khane ki aadat hogi to mitti ke thali mey khilaya to bhi sirf sunghe aur munh hata leta…to ham ne waha ke logo ko puchha ki yah kutta khata kyo nahi? To bole “maharaj khata to hai..lekin kahi aaj mangalwar to nahi?..mangalwar ko wo kutta nahi khata…!” aur us din manglwar tha !! J

Bhakt shwan 🙂

…ek baar disa se satsang mey aaye kuchh log waha se chalakar ramdevji ke darshan karane gaye , jo ki 500 kilo mater door hai….jab we pahunche to raat ho gayi thi ..ramdevji ka mandir band ho chuka tha..to pujari ne kaha ki kal subah darshan honge…sabhi bole , “achhi baat hai ..lekin ek bhakt ko darshan de do usane kuchh khaya nahi aur 500 kilometer chalake aaya hai..darshan kiye bina wo kuchh khayega nahi…to pujari ko daya aayi..bola ki thik hai us bhakt ko le aao…to bhakt ko laya to wo 4 pairo pe khada..:-) ..pujari bola ki bhakt ko lao… to sabhi bole ki ye hi bhakt!! Aisa kutta tha!!! Aisa apana amar aatma hai..marane ke baad budhdi ke sanskar badal jate lekin aatma ke nahi badalate….ek baar shadi ho gayi to mayiyo ko yaad karana padata hai kya ki mai jhabuaa ki ladi hun ? ya chhabuaa ki ladi hun ? nahi.. J apane aap yaad raheta hai…bhaiyonko yaad rakhana padata hai kya ki mai sindhi hun, mai gujrathi hun…ek baar budhdi mey gyan hua to yaad raheta jeevanbhar ..aise ek baar aatmgyan marane ke baad bhi yaad raheta hai..mai to ishwar ka putr amar aatma hun..marane wala ye sharir hai… “mai bhagavan ka , bhagavan mere” aisa soch ke bhagavan ko priti karate koyi baith jayeTo aatmgyan ek varsh ka bhi khel nahi…aise aise sadhan hai aur aisi aisi yuktiya hai….rudhdi sidhdi to hath jodakar khadi rahengi…kathin kya hai ? kathin hai aisa aatmgyan denewale mahapurusho ka milana..aur is kaliyug mey mahapurush bhi mil jate to bhi aise sadhana karanewale shishy bhi milana kathin hai jo drudhata se lag jaye…kaliyug mey bhagavan ko itana sasta kar diya hai ….jaise wo phutpath pe bhaji bechate na…subah hai to 5/6 rupiya ..dopahar mey sham ko 4 mey bech denge aur jaise jaise uthane ka samay aata to 3 mey chalo 2 rupiye mey le jao bolate… J

Narayan Hari Narayan Hari..

******Health tips

Mayiya kya halchal hai? Deviya thik to ho ?

Subah jo bataya phir se batata hun..dhyan se sun lo.. Agar weakness maalum hoti hai, ya thakaan maalum hoti hai, umar ke
anusaar kabhi kabhi tiredness feeling hota hai, to kya karo –
Raat ko,….kishmish kabhi dhoye bagair nahi khaana chahiye,…. ..do
kishmish ke daane dhokar glass mey daal do, aur ek nimbu nichod ke daal do; raat bhar pada rahe, subah manjan karke woh pi lo.. apne ko sphoorti aur bal mey paaoge.. nirbal ke bal Raam, lekin nirbal shareer ke bal Nimbu Raam; Kishmish Behen aur Nimbu Raam !
JNarayan Narayan.... aur kya sunaaoun, yeh latest khabar hai, do kishmish ke daane..khaali do hi, bas, woh chabaa liye aur nimbu paani pi liya…

..Jinake sharir mey aam banata hai.. sharir , kandhe jakad jate , sharir bhari lagata hai ..wo harad ka tukada chabaye…ratlam ka watavaran aisa hai..meri aankhe power full x-ray mashin hai.. J ..to aam banata ho khana kam khaye, sukshm tatv pachata nahi hai ..to aam banata hai, mitha kam khaye…..juice piye …chane khaa le..khana khate to bich bich mey gunguna pani piye…to aam ki taklif nahi hogi.. ..aise maranewale sharir ko kitana bhi tandurust rakho..mai kitana bhi kahu..doctor kitana bhi kahe phir bhi ye sharir to kitana bhi sambhalo to bhi bimar hoga..marega..

Ye tann kancha kumbh hai, phutat na laage baar..l

Phatakaa lage phuti pade, garv kare vin vaar ll

“mai seth hun…mai sahukar hun..mai bapuji hun ..mai beta ji hun…” kuchh bhi nahi rahega..yah sharir kanch ke kumbh ke saman kab phut jayega pata nahi chalega…ye to parameshwar ki lila hai ki ek bund pani se sharir rachaa diya..usi parameshwar ke paas jaana padega..RAM BOLO BHAI RAM….

Yaro ! ham bewafaai karenge l

Tum paidal hoge ham kandhe chalenge ll

Ham pade rahenge tum dhakelate chaloge l

Yaro ham bewafaai karenge ll

Uthaane walo ke bhi wohi haal honge ek din…to sharir jo mila hai bhagavan se dubala patala nata kala gora wo aise dukhi hokar marane keliye nahi mila hai ishwar se…aatma ke udhdar ke liye mila hai..aap office mey jate ..to wha aap ke liye kursi, table, pen adi kayi chije rakhi hoti hai..din bhar kaam karate aur sham ko ghar jate to aap wo chije ghar lekar jate hai kya bolo….nahi !! ..kyo ? kyo ki wo saman office mey kaam karane ke liye mila hai, wo saman kaam hone ke baad waha hi chhodana padata….aise ye sharir bhi yaha hi chhodana padega ye aap pakka maan lo… kahe ko tention lena ? Jag ke 8 dhanadhy logo ke baare research kiya gaya..25 ssal ke baad unaka kya hua ye bhi dekha gaya to ek jail mey mara ek pagal hoke mara ..aatho mey se ek bhi sukhi nahi , buri tarah se marana pada..to daulat ka bharosa nahi..daulat hai tab bhi tum rogo se bach nahi sakate..aakhir to ye sharir marane hi wala hai to … “dhan dhan” karane se us pyare ishwar ka dhyan dhar le..

Tu tera dil de de , mai usame amrut bhar doo l

Tu tera oor- aangan de de ,mai usame prabhu ka ras bhar doo..ll

(wah bapu wah …Sadgurdev ki jay ho!!!!!)Tali neta ke liye rakhana… J ..jay ram ji bolana padega.. OM NAMO BHAGAVATE VASUDEVAY… Kabhi suna tha kisi ko mere liye taali nahi bajao…lekin mohabbat jor pakadati to sharaarat ka roop dharan karati hai… J ..

Ye mohabbat ki bate hai audhdav l

Bandagi apane bas ki nahi hai ll

Yaha sir dekar hote hai saude l

Aashaki itani sasti nahi hai ll

Premwalo ne kab kisko puchha l

Kisko pooju bata mere audhdav ll

Yaha damdam par hote hai sijade l

Sir ghumane ki phurasat nahi hai ll

Ye mohabbat ki baat hai priti ki baat hai…lover – lovery ki baat nahi….ye bhakt aur ishwar ki priti ki baat hai…lover lover karate wo kamvikar hai , sharir aur bhog ka aakarshan hai use galat naam de diya hai mohabbat ka…prem ka….prem kaisa hota hai…?

Paansa pakada prem ka , paari kiya sharir l

Sadguru ddanv batayiya , khele daas kabir ll

Gardan sidhi…shwas bharo dono nathuno se …guru mantr japo shwas rok ke ek minute…phir shwas bahar chhodake bahar rokana 40 seconds..(pranayam ho raha hai..)

Sthan ka prabhav

….raja janak ne apane gurudev ki krupa se nij aatm sukh ka anubhav kiya to socha ki jo anubhav mujhe mila hai apani praja ko bhi isaka labh ho..isliye raja janak ne mithila nagari mey satsang ka aayojan kiya…raj kosh se taam jhaam se satsang ka aayojan hua..jara bhi dhum dhaam na ho is prakar ki sundar vyavastha ki gayi..ashtavakr maharaj vyaspith par padhare…tanik apane aatma mey vishram paaye ..itane mey ek kaala bhayanakar saap aaya…jaha satsang hota hai wo sthan pavitr ho jaata hai..waha aisi aapada nahi aa sakati..(sthan ka prabhav padata hai yah baat ram ji aur lakshman ka drushtant dekar sadgurdev ne samjhayi..)..to sthan ka prabhav padata hai..ishwar prapt mahapurush jaha satsang karate wo bhumi to pavitr ho jati hai……satsang sthan par kaala bhayankar saap aaya to ashtavakr maharaj ne logo ko samjhaya ki darane ki jarurat nahi hai … ye saap satsang sunane ke liye aaya hai…bil mey rahane wala saap satsang chalata raha tab tak roj kundi mar ke baithata aur satsang sunata..jab satang ke purnahuti ki bela aayi to saap ne apani phun uthaa ke 5/ 25 baar phatake maare…usake phun se khun bahane laga aur ek divy purush pragat huye…Sab log hakke bakke hokar dekhate rahe…Ashtavakr maharaj ne us divy purush ko kaha ki mai to aap ko janata hun..lekin mere satsangiyonko tum apani aap biti sunaao….

Mrutyu ke baad kya?

Divya purush raja janak ke paas gaya , raja janak ka matha sungha ..aur bola ki , “ mai isi mithila nagari ka saat pidhi pahale ka raja AJJ hun…mrutyu ke baad jab yamaraj ke paas mera lekha jokha dekha gaya to mujhe hajar varsh tak ajagar aur saapo ki yoni mey jane ki aagya mili…maine hath jodkar yamraj se kaha ki “hey sanyam puri ke devata..mujh par daya karo…” Yamraj bole ki , “tumhare karmo ke anusar jo phal milata wo bhogana hi padega..lekin agar tumhare kul khandaan mey koyi satsang karata ya karaane bhagidaar hota hai to tumhari mukti hogi…”Mujhe hua ki satsang ki itani mahima thi, aur maine pura jeevan bina satsang ke vyarthy gavaya…maine yamraj se prarthan ki , “ hey sanyam puri ke devata , jab koyi aisa satsang ka ayojan mere kul khandaan mey hoga to itani krupa karana prabhu ki mujhe wo satsang sunane ka awasar mile…”Yamaraj bole, “baadham , Baadham (badhiya badhiya) tumhari mang sundar hai…”

Raja ki aap se binati

…usake baad mai chandr ke kirano ke dwara dharati pe giraya gaya…kabhi saap , kabhi ajagar aise kayi yoniyo mey mai kitani baar janama aur mara…bahot dukh bhoge…kabhi koyi pathhar se maar deta to kabhi janam denewali mata hi mujhe khaa leti…. aise kayi janamo ke baad mai ajagar bana tha..kabhi kuchh shikar milati ..nahi milati to chidiyo ke ghosale se unake bachhe chaba leta..ek poonam ki raat ko mujhe kuchh bhi khane ko nahi mila… bahot bhatakane ke baad subah hone ko aayi to thaka haara bhuka mai apane bil ki taraf laut raha tha itane mey pakshi killol karane lage…to jangal mey aaye ghasiyaro ne mujhe dekh liya aur shor mach gaya..”pakado pakado ..maaro maaro..”Mai jaldi jaldi bil mey ghusane laga..aadhe ase adhik mera sharir andar gaya tha..lekin meri puchh pe logo ne dande, pathtar se bahot maara….kaise baise mai apani puchh ko ghasitata bil ke andar jakar thoda aaram karunga socha…kaha to itana bada samrat.. annadaata ..rajadhiraj maharaj ajj …lekin jab itana bada samrat hokar aatma mey 2 ghadi vishranti nahi payi ..satsang nahi kiya to ab aisi dayaniy avastha mey kya vishranti paata?..isliye meri aap sabhi ko hath jodkar binati hai ki aap isi manushy janam mey aatm vishranti paa lo…

jaisi karani waisi bharani

… meri khun ki gandh se kidiyo ne meri puchh ko noch daala…bahot dukh aur yatana se mai behosh ho jata…aise 6 din bite satave din mere pran nikale…to mujhe saap ka janam mila..mai kunde ke bahar nahi jaa saka to meri mata sarpini ne mujhe khaa liya..aise 250 saal maine bahot dukh bhoge….ab raja janak ne satsang ka aayojan kiya to usake puny pratap se mere baki varsh maaph ho gaye hai..”Itane parshad aaye…unhone ashtavakr maharaj ko pranam kar ke raja ajj ko le jane ki anumati mangi….raja janak raja ajj ko vidayi dene gaye…aap bhi apane ghar kyi aaye to usaka swagat karana , mithe vachan bolana..wo jata hai to , usako 4 kadam chalakar bidayi dena..isase aap ke gruhath jeevan ki shobha badhegi….

Kauaa ka ka dhan hare, koyal ka ko det l

Mithe vachan bol ke, jag apane kari let ll

Aap ke ghar mey garib aaye ya seth aaye sabhi se mithi wani bole..sant tulasi das kahate ki jis ghar mey aap ka prem se swagat nahi hota us ghar mey sone ki varsha ho to bhi nahi jana chahiye…priya wani sahit daan , kshama se yukt shaury , abhimaan se rahit gyan aur tyaag se yukt dhan ye dharati ke 4 chintamani hai…isliye priy wani bole…

Satsang rupi raja janak

Satsang ka aayojan karane se saat pidhi ka udhdar hota hai..to raja janak ko hua ki swarg mey jakar apane pitaro ka darshan karake unaka ashirvaad lekar aaye…to raja janak ne ashtavakr maharaj ko namrata se binati ki…yogvidya se sthul sharir dharati pe rakhakar sukshm sharir se kahi bhijaa sakate hai…ashtavakr maharaj ne raja janak ko aisi yog vidya sikhayi..mai bhi sikha sakata hun….pahale ke jamane mey kam samay laga abhi 4/6 mahine lagenge…lekin aisi vidya paakar swarg dekhake aane mey visheshsata nahi hai…tum to aatmgyan paakar apane aatm vishranti paa lo..raja janak swarg pahuncha to sanyam puri ke devata yamraj bole ki , tum markar nahi aaye , sukshm sharir dharan kar ke aaye ho ..isliye swarg ke darshan nahi kar sakate..lekin tumane satsang ka pyau khola hai..aatma mey vishranti paayi hai ..isliye mai tumhare sath 2 doot deta hun..wo tumhe kumbhipaak narak , raurav narak aadi se gujarate huye swarg ke pichhale darwaje se tumhe waha le jayenge…”..jab raja janak narako se gujarane lage to waha ki “hi hi” sunkar raja janak ne puchha ki aisa kyo? To door bole ki ye log manushy janam mila to sansar ka sukh paana chahate the lekin bure karamo ka phal nahi bhogana chahate..isliye kasht mey hai…” raja janak ka antakaran dravibhut hua…wo un narakiy jivo ki taraph dekhane lage..

Bramhgyani ki drushti amrut barasi..ll

…to raja janak ki drushti padate hi narakiy jiv raja janak ki jay jaykar karane lage….raja janak ne puchha to narkiy jiv bole ki tumhe chhukar jo hava aati hai usase hamhare dukh kasht nasht ho rahe hai…tumhari drushti se bada sukh mil raha hai…” doot bole ki aap ne apani aatma mey vishranti paayi hai isliye aap ke darshan se in narakiy jivo ko sukh mil raha hai…

Najaro se wo nihaal ho jaate l

Jo bramhgyani ke najaro mey aa jate…ll

Brmhgyani ke sharir se aisi tarange nikalate jo door door tak jate….unase chukar jo hava aati usase sukhad param shanti milati… Kaliyug mey dukh , chinta, bimari , mahengayi , bhrashtachar aur avishwas ke watavaran mey narak yatana bhogate.. …ratlam mey is satsang rupi raja janak ki upasthiti se ham sabhi ko kaliyug ke narakiy jeevan mey bhi aanand mila…(Sadgurudev ki jay ho!!!!!)

*******prashad

Sansar ki chinta to roj karate..Kabhi kabhi satsang ko yaad karake mai bhagavan ka bhagavan hamaare aisa chintan kar lena.. Ishwar ki lila aap ki raksha kare lekin dukho mey dubane se pahale Us nirdukh narayan ka dhyan kar le.. Kutumbi aap ko samshan mey pahuchaye usake pahale apane pairo se kisi sant mahatma ke charano mey pahunche.. Budhape se aankhe andhi ho jaye usake pahale us pyare ishwar ka deedar kar le… Kaan sansar ki swar sunsun kar bahre ho jaye usak epahale satsang dwar pe pahunch jaye.. Kutumbi aap ko agni ka sakshatkaar karaye isake pahale aap apani aatma se sakshatkar kar le… ..jo kuchh achha tha , badhiya tha wo mere gurudev ka , mahapurusho ka aur shashtro ka tha..aur jo kuchh chij aap ko achhi nahi lagi hogi, ruchi nahi hogi , kuchh khara khatta hoga to wo mera hoga..mujhe maph kar dena…hame aap se koyi rupiya paisa nahi chahiye…aap satsang ki amrut varsha ka paan kare..jaise gaay mata din bhar yahataha ghans khake bachhade ko dudh pilati hai , aise in satsang ke vachano se aap ki budhdi mey us bal daata ka bal mile..aap ke jeevan ka vikas ho..aur ishwar ki aor aap ki yatra ho ……

Hari om hari om hari om hari om hari om hari om hari om aanand deva..

hari om hari om hari om hari om hari om madhury deva….

Hari om hari om hari om hari om shanti deva…ha ha ha ha ha J

Narayan hari narayan hari..

(aarati ho rahi hai..om jay jagdish hare..prarthana ho rahi hai…malyarpan ho raha hai..)

RAM RAM…

Om shanti..

Hari om ! Sadgurudev ki jay ho!!!!!

(galatiyo ke liye prabhuji kshama kare..)

*******************

हिन्दी में

अमृत वर्षा….रतलाम सत्संग_लाइव
रविवार ,2nd दिसम्बर, 2007 ; भारतीय समय शाम के : 6:30 बजे
रतलाम पूर्णाहुति सत्संग_लाइव
*********************
सदगुरूदेव संत शिरोमणि परमपूज्य श्री आसाराम बापूजी की अमृत वाणी
**********************
सदगुरूदेव का आगमन हुआ….
“हरी हरी बोल….”
जय हो..!
रोक और पाक करने से जीवन शक्ति का र्हास होता है डॉक्टर डायमन्ड कहते है ,13 साल के रिसर्च के बाद..भारतीय पध्दति से कीर्तन करने से जीवन शक्ति का विकास होता है…
बैठो ललिया ..बैठो लाला.. 🙂
बहोत दूर – दूर से , कहा कहा से लोग आये थे मिलने के लिए.. लेकिन हम आप के खिचाव से खिसक आये…. 🙂

नारायण नारायण….

अभी आये और शाम को और सुबह के , दोपहर के सत्र मे नही आये थे तो हाथ ऊपर करो…क्यो नही आये? शास्त्र कहते है कि –
-100 काम छोड़कर खाना खा लेना चाहिऐ
-1000 काम छोड़कर स्नान कर लेना चाहिऐ
-100000 काम छोड़कर दान पुण्य कर लेना चाहिऐ
-100,00000 काम छोड़कर भी हरी का संग और हरी का ध्यान धर लेना चाहिऐ…
…तो नही आये तो गलती किया न?..लेकिन आप के सच्चाई का मैं स्वागत करता हूँ..आप की इसमे कोई गलती नही थी.. 🙂

ॐ नमो भगवते वासुदेवाय…

जब ही नाम ह्रदय धर्यो , भयो पाप के नाश l
जैसे चिनगी आग की , पड़ी पुराने घांस….ll

सुखा घांस होता है तो वो 10 किलो हो , चाहे 1000 किलो हो , चाहे 1000000 किलो हो…तो भी एक चिंगारी आग की पड़ेगी तो सब घांस एक क्षण मे जल जाएगा ऐसे ही सत्संग मे आने से , भगवान का नाम कान से सुनने मात्र से कितने भी पाप होंगे तो भी क्षण मे जलकर राख हो जायेंगे..नष्ट हो जायेंगे…
आज आप सत्संग मे आ गए है ..संत तुलसीदास कहते है…

बिगडी अनेक जनम कि सुधारे अब और आज ..l
तुलसी होई राम को , राम भजी , तजि को समझ…ll

अनेक जन्मों की बिगडी राम के होकर राम भजन से सुधर जाती है..वो भी कल और परसों नही आज और अब… कितनी योनियों के बाद ये मनुष्य जनम मिला है…इस जनम को भी व्यर्थ्य गवाया तो और कितने पिताओंके शरीर मे भटकता फिरेगा ये आत्मा..और कितनी माताओंके गर्भ मे उलटा लटकता फिरेगा ये आत्मा…. मेरा मकान, मेरा दुकान, मेरी गाड़ी, मेरा बैंक बैलेंस .. “मेरा मेरा” कर के जितना भी पाया , मृत्यु के एक झटके से सब खतम हो जाएगा..सब यहा ही रहे जाएगा…

कह रहा है आसमाँ यह समाँ कुछ भी नहीं ।
रोती है शबनम कि नैरंगे जहाँ कुछ भी नहीं ॥
जिनके महलों में हजारों रंग के जलते थे फानूस ।
झाड़ उनकी कब्र पर है और निशाँ कुछ भी नहीं ॥
जिनकी नौबत से सदा गूँजते थे आसमाँ ।
दम बखुद है कब्र में अब हूँ न हाँ कुछ भी नहीं ॥
तख्तवालों का पता देते हैं तख्ते गौर के ।
खोज मिलता तक नहीं वादे अजां कुछ भी नहीं ॥

“हमारा हमारा” कर के जो भी आज तक संभाला है , वो सब तुम्हारा यहा ही छुट जाएगा…तुम्हारा तो केवल आत्मा है , जो सदा साथ था, है , और रहेगा मृत्यु के बाद भी…बाकी सब धोखा है धोखा… “नीरी धोखा” ..जैसे सफेद झूठ कहते न ऐसे “नीरी धोखा” है…“मेरा मेरा” कहेते कई चले गए ..कही निशान भी नही रहा…”मेरे गहने”…. “मेरी गाड़ी” कहेते है , लेकिन कोई चोर आके भी चुरा लेता तो गहने या गाड़ी नही पूछते कि “सेठ/ सेठानी मै जा रहा हूँ…राम राम..”…तुम कहेते हो गहने मेरे , गाड़ी मेरी , ..लेकिन गहने और गाड़ी तो तुम्हे अपना नही मानते .. तुम्हारा तो केवल तुम्हारा आत्मा है तुम मानो तो भी है , नही मानो तो भी वो ही तुम्हारा है…
..इस भारत देश का राजा ,अजनाब खंड का एक छत्र सम्राट जिसके नाम से अपने देश का नाम “भारत” पड़ा ..वो भी मरते समय हिरन का चिंतन किया तो मरने के बाद हिरन का जन्म पाया..भागवत मे कथा है..इस मनुष्य जनम को सार्थक नही किया तो मरने के बाद कोई भी शरीर मिल सकता है हाथी का, हिरन का, कुत्ते का , बिल्ली का, मुर्गे का…राजा भरत ने मरते समय हिरन का चिंतन किया तो हिरन बन गया…लेकिन हिरन के शरीर मे भी वो एकादशी के दिन घांसफूस नही खाता था.. 🙂 …कोई बोलेगा कि पशु को कैसे पता चलेगा की आज एकादशी है? .. 🙂 … पता तो चलता है.. कुत्ते के जीवन मे भी चलता है..

कुत्ते का मंगलवार व्रत 🙂

…दिवाली के समय आदिवासी एरिया मे हम मिठाई बाटने गए थे.. तो दूसरे दिन सुबह 3 कुत्ते आये पास…मैंने जो मिठाई बची थी उनको खिलाई…लेकिन उनमे से २ कुत्ते खा रहे थे और एक कुत्ता नही खा रहा था… हम ने बहोत कोशिश की लेकिन नही खाए..तो मैंने दूसरे टाइप की मिठाई खिलाने की कोशिश की , शायद ये पसंद ना हो… 🙂 व्हरायटी चाहिऐ होगी… 🙂 …लेकिन फिर भी नही खाए…तो मैंने हाथ भी जोड़ लिए कि महाराज कुछ भूल चुक हो गयी हो तो माफ कर देना.. 🙂 ..आख़िर मे सोचा कि शायद थाली मे खाने की आदत होगी ..तो मिटटी के थाली मे खिलाया तो भी सिर्फ सुन्घे और मुँह हटा लेता…तो हम ने वहा के लोगो को पूछा कि यह कुत्ता खाता क्यो नही? तो बोले “महाराज खाता तो है..लेकिन कही आज मंगलवार तो नही?..मंगलवार को वो कुत्ता नही खाता…!” और उस दिन मंगलवार था !! 🙂

भक्त श्वान 🙂

…एक बार डिसा से सत्संग मे आये कुछ लोग वहा से चलकर रामदेवजी के दर्शन करने गए , जो कि 500 किलो मीटर दूर है….जब वहा पहुंचे तो रात हो गयी थी ..रामदेवजी का मंदिर बंद हो चूका था..तो पुजारी ने कहा कि कल सुबह दर्शन होंगे…सभी बोले , “अच्छी बात है ..लेकिन एक भक्त को दर्शन दे दो उसने कुछ खाया नही और 500 किलोमीटर चलके आया है..दर्शन किये बिना वो कुछ खायेगा नही…तो पुजारी को दया आई..बोला कि ठीक है उस भक्त को ले आओ…तो भक्त को लाया तो वो 4 पैरो पे खड़ा.. 🙂 ..पुजारी बोला कि भक्त को लाओ… तो सभी बोले कि ये ही है भक्त!! ऐसा कुत्ता था!!!

..ऐसा अपना अमर आत्मा है..मरने के बाद बुध्दी के संस्कार बदल जाते लेकिन आत्मा के नही बदलते….एक बार शादी हो गयी तो मायियो को याद करना पड़ता है क्या कि मै झबुआ की लाडी हूँ ? या छबुआ की लाडी हूँ ? नही.. 🙂 .. अपने आप याद रहेता है…भाईयोंको याद रखना पड़ता है क्या कि मै सिन्धी हूँ, मै गुजराथी हूँ…एक बार बुध्दी मे ज्ञान हुआ तो याद रहेता जीवनभर ..ऐसे एक बार आत्मज्ञान हुआ तो मरने के बाद भी याद रहेता है..मै तो ईश्वर का पुत्र अमर आत्मा हूँ..मरने वाला ये शरीर है… “मै भगवान का , भगवान मेरे” ऐसा सोच के भगवान को प्रीति करते कोई बैठ जाए तो आत्मज्ञान एक वर्ष का भी खेल नही…ऐसे ऐसे साधन है और ऐसी ऐसी युक्तिया है….रुध्दी सिध्दि तो हाथ जोड़कर खड़ी रहेंगी…कठिन क्या है ? कठिन है ऐसा आत्मज्ञान देनेवाले महापुरुषों का मिलना..और इस कलियुग मे महापुरुष भी मिल जाते तो भी ऐसे साधना करनेवाले शिष्य भी मिलना कठिन है जो दृढ़ता से लग जाये…कलियुग मे भगवान को इतना सस्ता कर दिया है ….जैसे वो फुटपाथ पे भाजी बेचते ना…सुबह है तो ५/६ रुपिया ..दोपहर मे , शाम को ४ मे बेच देंगे और जैसे जैसे उठने का समय आता तो ३ मे चलो २ रुपिये मे ले जाओ बोलते… 🙂

नारायण हरी नारायण हरी..

******हैल्थ टिप्स

माईया क्या हालचाल है? देविया ठीक तो हो ?
सुबह जो बताया फिर से बताता हूँ..ध्यान से सुन लो.. अगर विकनेस मालुम होती है, या थकान मालुम होती है, उमर के अनुसार कभी कभी टायरनेस फीलिंग होता है, तो क्या करो – रात को,….किशमिश कभी धोये बगैर नही खाना चाहिऐ,…. ..दो किशमिश के दाने धोकर ग्लास मे दाल दो, और एक नीम्बू निचोड़ के दाल दो; रात भर पड़ा रहे, सुबह मंजन करके वह पी लो.. अपने को स्फूर्ति और बल मे पाओगे.. निर्बल के बल राम, लेकिन निर्बल शरीर के बल नीम्बू राम – किशमिश बहेन और नीम्बू राम ! नारायण नारायण…. और क्या सुनाऊँ, यह लेटेस्ट खबर है, दो किशमिश के दाने..खाली दो ही, बस, वह चबा लिए और नीम्बू पानी पी लिया…

..जिनके शरीर मे आम बनता है.. शरीर , कांधे जकड जाते , शरीर भारी लगता है ..वो हरड का टुकडा चबाये…रतलाम का वातावरण ऐसा है..मेरी आँखे पॉवर फुल एक्स -रे मशीन है.. 🙂 ..तो आम बनता हो तो खाना कम खाए, सूक्ष्म तत्व पचता नही है ..तो आम बनता है, मीठा कम खाए…..जूस पिए …चने खा ले..खाना खाते तो बिच बिच मे गुनगुना पानी पिए…तो आम की तकलीफ नही होगी.. ..ऐसे मरनेवाले शरीर को कितना भी तंदुरुस्त रखो..मैं कितना भी कहूं..डॉक्टर कितना भी कहे फिर भी ये शरीर तो कितना भी संभालो तो भी बीमार होगा..मरेगा..

ये तन कांचा कुम्भ है, फुटत ना लागे बार..l
फटका लागे फूटी पड़े, गर्व करे विन वार ll

“मैं सेठ हूँ…मैं साहूकार हूँ..मैं बापूजी हूँ ..मैं बेटा जी हूँ…” कुछ भी नही रहेगा..यह शरीर कांच के कुम्भ के समान कब फुट जाएगा पता नही चलेगा…ये तो परमेश्वर की लीला है कि एक बूंद पानी से शरीर रचा दिया..उसी परमेश्वर के पास जान पड़ेगा..राम बोलो भाई राम….


यारों ! हम बेवफाई करेंगे।
तुम पैदल होगे हम कंधे चलेंगे ॥
हम पड़े रहेंगे तुम धकेलते चलोगे ।
यारों ! हम बेवफाई करेंगे ॥

..उठाने वालो के भी वोही हाल होंगे एक दिन…तो शरीर जो मिला है भगवान से दुबला , पतला , नाटा , काला , गोरा – वो ऐसे दुखी होकर मरने के लिए नही मिला है ईश्वर से…आत्मा के उध्दार के लिए मिला है..आप ऑफिस मे जाते ..तो वहा आप के लिए कुर्सी, टेबल, पेन आदि कई चीजे रखी होती है..दिन भर काम करते और शाम को घर जाते तो आप वो चीजे घर लेकर जाते है क्या बोलो….नही !! ..क्यो ? क्यो कि – वो सामान ऑफिस मे काम करने के लिए मिला है, वो सामान काम होने के बाद वहा ही छोड़ना पड़ता….ऐसे ये शरीर भी यहा ही छोड़ना पड़ेगा ये आप पक्का मान लो… काहें को टेंशन लेना ?
..जग के 8 धनाढ्य लोगो के बारे रिसर्च किया गया..25 साल के बाद उनका क्या हुआ ये भी देखा गया तो एक जेल मे मरा , एक पागल होके मरा ..आठो मे से एक भी सुखी नही , बुरी तरह से मरना पड़ा..तो दौलत का भरोसा नही..दौलत है तब भी तुम रोगों से बच नही सकते..आख़िर तो ये शरीर मरने ही वाला है तो … “धन धन” करने से उस प्यारे ईश्वर का ” ध्यान” धर ले..

तू तेरा दिल दे दे , मैं उसमे अमृत भर दू l
तू तेरा उर- आँगन दे दे ,मैं उसमे प्रभु का रस भर दू..ll

बोलो .. वाह बापू वाह …. 🙂
( …सदगुरूदेव की जय हो!!!!!)ताली नेता के लिए रखना… 🙂
..जय राम जी बोलना पड़ेगा..
ॐ नमो भगवते वासुदेवाय…
कभी सुना था किसी को ऐसे बोलते ? – मेरे लिए ताली नही बजाओ…लेकिन मोहब्बत जोर पकड़ती तो शरारत का रुप धारण कराती है… 🙂 ..
ये मोहब्बत कि बाते है औधव l
बंदगी अपने बस की नही है ll
यहा सिर देकर होते है सौदे l
आशकी इतनी सस्ती नही है ll
प्रेमवालो ने कब किसको पूछा l
किसको पूजू बता मेरे औधव ll
यहा दमदम पर होते है सिजदे l
सिर घुमाने की फुरसत नही है ll

ये मोहब्बत कि बात है , प्रीति की बात है… लवर – लवरी की बात नही….ये भक्त और ईश्वर की प्रीति की बात है… लवर लवरी करते वो काम विकार है , शरीर और भोग का आकर्षण है ; उसे गलत नाम दे दिया है मोहब्बत का , प्रेम का….प्रेम कैसा होता है…? पांसा पकडा प्रेम का , पारी किया शरीर l
सदगुरू दांव बतायिया , खेले दास कबीर ll

गर्दन सीधी…श्वास भरो दोनो नथुनों से …गुरु मंत्र जपो श्वास रोक के एक मिनट…फिर श्वास बाहर छोड़के बाहर रोकना 40 सेकंड्स..(प्राणायाम हो रहा है..)

स्थान का प्रभाव

….राजा जनक ने अपने गुरुदेव की कृपा से निज आत्म सुख का अनुभव किया तो सोचा कि जो अनुभव मुझे मिला है , अपनी प्रजा को भी इसका लाभ हो..इसलिए राजा जनक ने मिथिला नगरी मे सत्संग का आयोजन किया…राज कोष से ताम झाम से सत्संग का आयोजन हुआ..जरा भी धूम धाम ना हो इस प्रकार की सुन्दर व्यवस्था की गयी..अष्टावक्र महाराज व्यासपिठ पर पधारे…तनिक अपने आत्मा मे विश्राम पाए ..इतने मे एक काला भयंकर साप आया…जहा सत्संग होता है , वो स्थान पवित्र हो जाता है..वहा ऐसी आपदा नही आ सकती..(स्थान का प्रभाव पड़ता है यह बात राम जी और लक्ष्मण का दृष्टांत देकर सदगुरूदेव ने समझाई..)..तो स्थान का प्रभाव पड़ता है..ईश्वर प्राप्त महापुरुष जहा सत्संग करते वो भूमि तो पवित्र हो जाती है……सत्संग स्थान पर काला भयंकर साप आया तो , अष्टावक्र महाराज ने लोगो को समझाया कि डरने की जरुरत नही है … ये साप सत्संग सुनने के लिए आया है…बिल मे रहने वाला साप सत्संग चलता रहा तब तक रोज कुण्डी मार के बैठता और सत्संग सुनता..जब सत्संग के पूर्णाहुति की बेला आई तो साप ने अपनी फ़न उठा के ५/ २५ बार फटके मारे…उसके फ़न से खून बहने लगा और एक दिव्य पुरुष प्रगत हुए…सब लोग हक्के बक्के होकर देखते रहे…अष्टावक्र महाराज ने उस दिव्य पुरुष को कहा कि , मैं तो आप को जानता हूँ..लेकिन मेरे सत्संगियोंको तुम अपनी आप बीती सुनाओ….

मृत्यु के बाद क्या?

दिव्य पुरुष राजा जनक के पास गया , राजा जनक का माथा सुंघा ..और बोला कि , “ मैं इसी मिथिला नगरी का सात पीढ़ी पहले का राजा अज्ज हूँ…मृत्यु के बाद जब यमराज के पास मेरा लेखा जोखा देखा गया तो मुझे हजार वर्ष तक अजगर और सापो की योनी मे जाने की आज्ञा मिली…मैंने हाथ जोड़कर यमराज से कहा कि “हे संयम पूरी के देवता..मुझ पर दया करो…” यमराज बोले कि , “तुम्हारे कर्मो के अनुसार जो फल मिलता वो भोगना ही पड़ेगा..लेकिन अगर तुम्हारे कुल खानदान मे कोई सत्संग करता या कराने भागीदार होता है तो तुम्हारी मुक्ति होगी…” मुझे हुआ कि सत्संग की इतनी महिमा थी, और मैंने पुरा जीवन बिना सत्संग के व्यर्त्थ गवाया…मैंने यमराज से प्रार्थना कि , “ हे संयम पूरी के देवता , जब कोई ऐसा सत्संग का आयोजन मेरे कुल खानदान मे होगा तो इतनी कृपा करना प्रभु कि , मुझे वो सत्संग सुनने का अवसर मिले…” यमराज बोले, “बाढम , बाढम (बढिया बढिया) तुम्हारी मांग सुन्दर है… एवं अस्तु (ऐसा ही होगा ) ”

राजा की आप से बिनती

…उसके बाद मैं चन्द्र के किरणों के द्वारा धरती पे गिराया गया…कभी साप , कभी अजगर ऐसे कई योनियों मे मैं कितनी बार जन्मा और मरा…बहोत दुःख भोगे…कभी कोई पत्थर से मार देता तो कभी जनम देनेवाली माता ही मुझे खा लेती…. ऐसे कई जन्मों के बाद मैं अजगर बना था..कभी कुछ शिकार मिलती ..नही मिलती तो चिडियों के घोसले से उनके बच्चे चबा लेता..एक पूनम की रात को मुझे कुछ भी खाने को नही मिला… बहोत भटकने के बाद सुबह होने को आई तो , थका – हारा – भूका मैं अपने बिल कि तरफ लौट रहा था ..इतने मे पक्षी किल्लोल करने लगे…तो जंगल मे आये घसियारो ने मुझे देख लिया और शोर मच गया..”पकडो पकडो ..मारो मारो..” मैं जल्दी जल्दी बिल मे घुसने लगा..आधे से अधिक मेरा शरीर अन्दर गया था..लेकिन मेरी पुच्छ पे लोगो ने डंडे, पत्थर से बहोत मारा….कैसे बैसे मैं अपनी पुच्छ को घसीटता बिल के अन्दर जाकर थोडा आराम करूँगा सोचा…कहा तो इतना बड़ा सम्राट.. अन्नदाता ..राजाधिराज महाराज अज्ज …लेकिन जब इतना बड़ा सम्राट होकर आत्मा मे २ घडी विश्रांति नही पाई ..सत्संग नही किया तो अब ऐसी दयनीय अवस्था मे क्या विश्रांति पाता?..इसलिए मेरी आप सभी को हाथ जोड़कर बिनती है कि , आप इसी मनुष्य जनम मे आत्म विश्रांति पा लो…

जैसी करनी वैसी भरनी

… मेरी खून की गंध से किडियो ने मेरी पूछ को नोच डाला…बहोत दुःख और यातना से मैं बेहोश हो जाता…ऐसे 6 दिन बीते सातवे दिन मेरे प्राण निकले…तो मुझे साप का जनम मिला..मैं कुंडे के बाहर नही जा सका तो मेरी माता सर्पिणी ने मुझे खा लिया..ऐसे 250 साल मैंने बहोत दुःख भोगे….अब राजा जनक ने सत्संग का आयोजन किया तो उसके पुण्य प्रताप से मेरे बाकी वर्ष माफ हो गए है..” इतने में पार्षद आये…उन्होने अष्टावक्र महाराज को प्रणाम कर के राजा अज्ज को ले जाने की अनुमति मांगी….राजा जनक राजा अज्ज को विदाई देने गए…आप भी अपने घर कोई आये तो उसका स्वागत करना , मीठे वचन बोलना..वो जाता है तो , उसको ४ कदम चलकर बिदाई देना..इससे आप के गृहथ जीवन की शोभा बढेगी….

कौआं का का धन हरे, कोयल का को देत l
मीठे वचन बोल के, जग अपने करी लेत ll

..आप के घर मे गरीब आये या सेठ आये सभी से मीठी वाणी बोले..संत तुलसी दास कहते कि जिस घर मे आप का प्रेम से स्वागत नही होता उस घर मे सोने कि वर्षा हो तो भी नही जाना चाहिऐ…प्रिय वाणी सहित दान , क्षमा से युक्त शौर्य , अभिमान से रहित ज्ञान और त्याग से युक्त धन ये धरती के ४ चिंतामणि है…इसलिए प्रिय वाणी बोले…

सत्संग रूपी राजा जनक

सत्संग का आयोजन करने से सात पीढ़ी का उध्दार होता है..तो राजा जनक को हुआ कि स्वर्ग मे जाकर अपने पितरो का दर्शन करके उनका आशीर्वाद लेकर आये…तो राजा जनक ने अष्टावक्र महाराज को नम्रता से बिनती कि…योगविद्या से स्थूल शरीर धरती पे रखकर सूक्ष्म शरीर से कही भी जा सकते है…अष्टावक्र महाराज ने राजा जनक को ऐसी योग विद्या सिखाई..मैं भी सिखा सकता हूँ….पहले के ज़माने मे कम समय लगा , अभी ४/६ महीने लगेंगे…लेकिन ऐसी विद्या पाकर स्वर्ग देखके आने मे विशेषता नही है…तुम तो आत्मज्ञान पाकर अपने आत्मा में विश्रांति पा लो..राजा जनक स्वर्ग पहुँचा तो संयम पूरी के देवता यमराज बोले कि , तुम मरकर नही आये , सूक्ष्म शरीर धारण कर के आये हो ..इसलिए स्वर्ग के दर्शन नही कर सकते..लेकिन तुमने सत्संग का प्याऊ खोला है..आत्मा मे विश्रांति पायी है ..इसलिए मैं तुम्हारे साथ २ दूत देता हूँ..वो तुम्हे कुम्भिपाक नरक , रौरव नरक आदि से गुजरते हुए स्वर्ग के पिछले दरवाजे से तुम्हे वहा ले जायेंगे…”..जब राजा जनक नरकों से गुजरने लगे तो वहा कि “ हाय हाय ” सुनकर राजा जनक ने पूछा कि , “ऐसा क्यो?” .. तो दूत बोले कि , “ये लोग मनुष्य जनम मिला तो संसार का सुख पाना चाहते थे ..लेकिन बुरे कर्मो का फल नही भोगना चाहते..इसलिए कष्ट मे है…” राजा जनक का अंतकरण द्रविभुत हुआ…वो उन नारकीय जीवो की तरफ देखने लगे..

ब्रम्ह्ज्ञानी की दृष्टी अमृत बरसी..ll

…तो राजा जनक की दृष्टी पड़ते ही नारकीय जिव राजा जनक की जय जयकार करने लगे….राजा जनक ने पूछा तो नारकीय जिव बोले कि , तुम्हे छूकर जो हवा आती है उससे हम्हारे दुःख कष्ट नष्ट हो रहे है…तुम्हारी दृष्टी से बड़ा सुख मिल रहा है…” दूत बोले कि आप ने अपनी आत्मा मे विश्रांति पायी है इसलिए आप के दर्शन से इन नारकीय जीवो को सुख मिल रहा है…

नजरो से वो निहाल हो जाते l
जो ब्रम्ह्ज्ञानी के नजरो मे आ जाते…ll

ब्रम्ह्ज्ञानी के शरीर से ऐसी तरंगे निकलते जो दूर दूर तक जाते….उनसे छुकर जो हवा आती उससे सुखद परम शांति मिलती… कलियुग मे दुःख , चिंता, बीमारी , महेंगायी , भ्रष्टाचार और अविश्वास के वातावरण मे नरक यातना भोगते.. …रतलाम मे इस सत्संग रूपी राजा जनक की उपस्थिति से हम सभी को कलियुग के नारकीय जीवन मे भी आनंद मिला…(सदगुरूदेव की जय हो!!!!!)

******* सत्संग प्रसाद

संसार की चिंता तो रोज करते..कभी कभी इस सत्संग को याद करके , “मैं भगवान का , भगवान मेरे “.. ऐसा चिंतन कर लेना..
ईश्वर कि लीला आप की रक्षा करे लेकिन दुखो मे डूबने से पहले उस निर्दुख नारायण का ध्यान कर ले..
कुटुम्बी आप को समशान मे पहुचाए उसके पहले अपने पैरो से किसी संत महात्मा के चरणों मे पहुंचे..
बुढापे से आँखे अंधी हो जाये उसके पहले उस प्यारे ईश्वर का दीदार कर ले
कान संसार के स्वर सुनसून कर बहरे हो जाये उसके पहले सत्संग द्वार पे पहुंच जाये..
कुटुम्बी आप को अग्नि का साक्षात्कार कराये इसके पहले आप अपनी आत्मा से साक्षात्कार कर ले… ..
….जो कुछ अच्छा था , बढिया था वो मेरे गुरुदेव का , महापुरुषों का और शास्त्रों का था..और जो कुछ चीज आप को अच्छी नही लगी होगी, रूचि नही होगी , कुछ खारा खट्टा होगा तो वो मेरा होगा..मुझे माफ कर देना…हमे आप से कोई रुपिया पैसा नही चाहिऐ…आप सत्संग की अमृत वर्षा का पान करे..जैसे गाय माता दिन भर यहातहा घांस खाके बछड़े को दूध पिलाती है , उसका पोषण करती है , ..ऐसे इन सत्संग के वचनों से आप की बुध्दी मे उस बल दाता का बल मिले..आप के जीवन का विकास हो..और ईश्वर की ओर आप की यात्रा हो ……

हरी ॐ हरी ॐ हरी ॐ हरी ॐ हरी ॐ हरी ॐ हरी ॐ आनंद देवा..
हरी ॐ हरी ॐ हरी ॐ हरी ॐ हरी ॐ माधुर्य देवा….
हरी ॐ हरी ॐ हरी ॐ हरी ॐ शांति देवा…हा हा हा हा हा 🙂

नारायण हरी नारायण हरी..
(आरती हो रही है..ॐ जय जगदीश हरे..प्रार्थना हो रही है…माल्यार्पण हो रहा है..)

राम राम…
ॐ शांति..

हरी ओम ! सदगुरूदेव की जय हो!!!!!
(गलतियों के लिए प्रभुजी क्षमा करे..)

Advertisements
Explore posts in the same categories: Pujya Bapuji

One Comment on “AMRUT VARSHA….Ratlam satsang_live”

  1. Navneet Gupta Says:

    Sadho Sadho!! Aapko bahut bahut sadhuvaad aevam dhanyavaad Param Pujya SadGurudev ke Satsang Amrit ka paan karaane ke liye….

    Hari Om,
    Narayan Narayan, Narayan Narayan…


Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s


%d bloggers like this: