Bhagavan Kaise?..Poonam satsang_live(24/11/07)

24 November 2007, Saturday. IST:4:45 PM

 Baroda Dhyan Yog Shivir . satsang_live 

************ 

Sadgurudev Santshiromani  Pujyashri Asarambapuji  ki Amrutwani :-  

*********** 

In Hinglish(Hindi written in English)

(For HIndi please scroll down…)

(aaj kartik Poonam hai….Param Pujya Sadgurudev vyaspith pe padhare hai…khushiya , ulhas aur prasannata ka watavaran hai….  6 -7 lakh satsangi pandal mey baithe hai…desh mey  audio conference se delhi , ahmedabad, aurangabad jaise kayi  ashramo mey ; videsho mey dubai, chicago, new jercy, toranto jaise kayi jagah se video conference se ;  shradhda channel se live telecast sunane ke liye tv set ke paas, tatha internet pe hariomgroup se jude huye yahoo conference ke dwara  kayi sadhak computer ke headphone lagaye apane kaano mey pran lakar Bapuji ki amrutwani sunane ke liye aatur hai….) 

Om namo Bhagavate Vasudevay….

..Aaj Bhagavan Narayan ka matsy awatar hua tha ..sath sath mey aaj dev diwali hai, mahavir jayanti hai..aur poonam vratdhari sadhako ke jeevan ka apane sadhana mey agrasar hone ka shubh awasar bhi hai… 

Baitho dikariyo ..baitho lala…

Jay Shrikushn..

Baap re .. kitane door tak log hai….mai amerika mey gaya tha to waha ek sadhak bola ki baba wo din bhi aayege ki aap ke darshan karane log aayenge aur unko sirf aap ke kapade hi dikhenge…J ..to abhi aap ko mere kapade hi dikhate honge…bapu kya dikhenge itane door se…jay shrikushn…!! 

Om namo bhagavate vasudevay…vasudevay..priti devay…bhakti devay…shantidevay….mam devay…… 

Bhagavan kaise hai? 

..Kale hai ki gore hai?naate hai ki lambe hai?bhagavan kaise hai?Jo chij pakadani hai usake baare mey sochana chahiye aur jo chij pakadani hi nahi usake baare sochana kya? Bhagavan ko to chhodane ki kisi ke baaap ki takad nahi ki bhagavan ko chhode…. kyo ki bhagavan to sada hi tumhare sath hai…J …itana maan lo , baki kaam bhagavan swayam hi kara dete hai… J

..BhaGaVan

 =“ Bha  Ga Wa N”

=  Bha = mane bharan poshan karata hai sab ka wo, jis chaityany se bharan poshan ka gyan aur parvritti hoti hai..

= Ga = mane gaman+aagaman ki satta jisase aati wo, arthat jisaki satta se pashu-pakshi, manushy aadi mey gamanaagaman ki shakti hai.. 

= Wa = mane wani sphutit hoti hai jisaki satta se wo, arthat wani ko (vaikhari, madhyama,pashyanti aur para) jo aadhar hai….

= N =  mane sharir adi kuchh bhi sath mey nahi ho , phir bhi jo sath mey raheta hai wo, arthat sab mitan eke bad bhi jo nahi mitatat “neti-neti” kahekar indriya ,man budhdi adi ka sabhika nishedh karane par bhi jo bachata hai usi ek aatma-paramatma  ko bolate  “BHAGAVAN”!

..bhago hi bhakti hai…!

Bhagavan mey priti, bhagavn ki smruti ho jaye ..bhagavan ko apana mankar nischint jeevan ki taraf badhe..bhagavan ka naam hi kalyankari hai…..Vivek ke virodh vichar nahi karate..vivek ke anurup karm karate to vivek par vishwas bhagavan ko mila deta hai…Ye “mai” hu , ye “mera” hai ye vivek virodhi vichar hai..Sharir ko “mai” manate to bachapan ka sharir ab hai kya? Bachapan chala gaya..har 7 saal mey pura sharir badal jata to wo sharir bhi nahi….to sharir ko “mai” manata to vivek virodhi vichar hai… “mera” kahate to sab mera mere kahane pe chale…lekin kuchh aap ke kahane pe chalata hai kya? Sab “mai mera”  badalata , chhutata lekin jo nahi badalata , marane ke bad bhi nahi chhutata gaharayi mey jo baitha hai chaityany swaroop mai hun….itana maan lo..“Parmatma Mera , Mai Paramatma ka” …bas itana manane ki tarkib sikh lo  to ishwar prapti yun…….(chutaki bajate..)  

Vivek virodhi vichar kaise hote hai? 

 ..ek balak tha…Hanumanji pe bahot shradhda rakhata….bhagavan ko manata…pariksha mey paper mey aaya ki gujrath ki rajdhani kaha hai? To usane likha “ baroda”   .. J  .. to bad mey pata chala ki baroda to nahi hai , to Hanumanji ko prarthana karata ki,  “hey prabhuji ek  din gujrath ki rajdhani baroda kar do…savva sher pedha chadhaunga!” …..tu savva lakh pedhe bhi chadhayega to bhi ye nahi hoga….hanumanji ko manata hai..lekin ek vaky galat likha to usake liye gujrath ki rajdhani gandhi nagar se uthakar baroda karane ke liye kahata to ye vivek virodhi vishwas hua….vivek virodhi vishwas karane se aisa hota hai….. kayi log aise hi rote… bhagavan aisa kar do aur nahi hua to dukhi hote….vivek virodhi vishwas karoge to aisa hi hota hai… 

..ek poojari tha…bhagavan ki chandi ki murti churane chor aaye..to poojari ne bhagavan ki murti ko chhati se lagaya aur kaha ki , “mai jinda hun tab tak bhagavan ki murti ko hath nahi laga sakate” ..chor to chor hai..poojari ko mara aur murti le gaye…to log bolate kaisa bhagavan , poojari ki raksha nahi ki…..bhagavan ke liye poojari marane ko taiyar ho gaya aur choro ne poojari ko maara bhagavan dekhata raha….yaha poojari ka sewa bhav to hai lekin “vivek sammat sewabhav nahi” ….poojari ne agar bhakti kiya , to bhagavan jarur usake liye kaisa chola racha hoga bhagavan hi janata….bhagavan ke nimitt maut huyi to bhi kalyan hi hua…. 

Bhagavan nyayykari  hai ki dayaloo hai?

 ….agar bhagavan nyayykari hai to saja denge ..saja denge to dayaloo kaise honge? Aur agar bhagavan dayaloo hai to saja nahi dete..saja nahi dete to nyayy kya karega? Bhagavan dayaoo hai to nyayy nahi karate aur nyayy karate to dayaloo nahi..to kaise hai bhagavan?…jo bhagavan ko pritipurvak bhajate unake liye bhagavan dayaloo hai….aur jo sansar ko bhajate unake liye bhagavan nyayykari hai..jaisi jisaki bhavana waisi usako phalshruti dete…. Isaka naam hai vivek..! Jeevan mey utar chadhav aata hai…lekin vicharo mey vivek hota to saphal hota….to ye vivek se saphalata milegi.. 

 Vivek kaise badhe? 

 -vivek virodhi kaam na kare….

-vivek virodhi vishwas na kare…

-vivek virodhi ichha nahi karenge ..

= to vivek badhega…itana badhega ki sakshatkar tak pahuncha dega….! 

To vivek kaise hota hai?budhdi badhati to vivek badhega? Nahi… 

…Binu satsang vivek na hoii….l 

Satsang ke bina vivek nahi hoga..vivek ka navama hissa budhdi hoti hai..isliye budhdi badhane se vivek nahi hota…vivek prakhar hota to budhdi sahi raste pe chalati….sukarat(socretis) ko mrutyudand diya , jahar diya gaya to bola ki ye rone ki ghadi nahi hai , mai to amar hun….abhi ye pran nikalane ka kam jahar kar raha hai…sharir ka aur mera sambandh chhut raha hai…lekin mera aur paramatma ka sambandh jyo ka tyo hai….aisa vivek prakhar hua to aaj bhi lakho karodo log sukarat ko aadar se dekhate…kisi ko jahar diya gaya  to kisi ko suli pe chadha diya gaya…lekin shivji apane nitya tatv mey sada hote hai , shivji ne prakhar vivek se vishpaan kiya lekin na usako waman kiya ..dusaro ko taklif se bachaya , aur na hi jahar ko andar utara jaise sukrat ke sharir ki jahar pike mrutyu huyi,  shiv ji ne jahar ko kanth mey dharan kar liya..NILKANTH bhagavan ki JAY!!!! 

*******  Chalbaji 

Videshiyo ne apane desh mey Andhshradhha nirmulan ke naam pe aisi chalbaji ka kanoon bana rahe ki kab usake chapet mey santo aur mahatmao ko le….aisa kanoon aayega to aisa satsang karna –karana bhi mushkil ho jayega aisi videshi sajish hai…to aisa kanoon na bane isliye sankalp  karo ki bhagavan aisa kanoon nahi bane…OM OM OM OM OM….….thoda chintan karo….                                    ……Lalkrushn adwani perfect manushy hai ,neta ke libas mey sant hai…neta ke bina kaise chalega? Vote nahi doge to lokshahi ka gala ghotane ka paap karate…jisame kum galati hai usako pasand karo….lekin vote to dena hi chahiye…isame to mere satsangi hai…aur jo live telecast se mera satsang sun rahe …satsang punyakarm hai…satsang sunane ke baad sant ko dakshina dena shrota ka kartyavy hai aur mera dakshina lena adhikar banata hai…to mujhe dakshina nahi doge to chalega ,lekin rashtr ke liye, desh ke nirman ke  liye vote to jarur kare, mujhe meri dakshina mil jayegi aisa mai samajhunga..tum jaise satsangi vote nahi karate to jo raat ko clubo mey nachate , sharab pite aise kusangi logo ke hath mey desh chala jayega…jo satta ka durupayog karate…satsangi vote nahi karenge to kusangi ka vote lag jayega….jo desh mey sone ke bartan mey khana khate the aisa mahan desh tha hamara..hamari udasinata se hi desh ki halat bigad rahi…achhe logo ko sanghatit hokar achha kam karana chahiye…aise nahi ki sub mey bhagavan hai, jhuthmut ki ninda karega to bhi saho, aisa thodi hi gyan hai…shrikrushn bhagavan ne arjun ko bola nahi kya? Aap kisaki santan ho?adharm ke samane ghutane tekana ye kayarata hai…julam karo nahi aur julam saho nahi…kabir ji ne ek aadami ko dhaga diya ,usase jaal banakar wo machhaliya pakadata aur machhaliya tadap tadap kar marati to kabir ji ne sir kuta, ki are maine dhaga diya aur isi se machhaliya tadap kar mar rahi hai…kabir ji ne us aadami ko bola ki wo jaal mujhe wapas de de ..kabir ne apana dhaga wapas le liya….ye vivek hai….virodhi chintan kyo karana…sujhbujh ko prakhar rakho…thakurji ka prasad hai kaise na bolu kar ke khate jate ..dybitis hai aur shira khate to .. apane andar ke thakur ka nahi sochate…Om namo bhagavate vasudevay…Shradhda sarv dharmo mey shresht hai..shradhdawan labhate gyanam…  shradhda ki aankhe nahi hoti…apane baap ko baap bhi shradhda se hi manana padata hai…andhshradhda ke naam se kanoon banake virodh kiya to usake pahale jaag jao….nahi to bharatwasi aise kanoon bananewale ko hata sakate hai..aise log shasan nahi kar sakate….bharat bhagavan ko paye huye sant mahapurusho ki dharohar hai…

Kartum akartum anyathakartum samarthah…l  

..Har poonam ko sakshatkar.. aisa najariya milata to wah bapu wah..aaiii haiii … J ..mujhe kayi log batate ki hum gharo mey tv pe satsang sunate aur humhare padosi satsang sunate jo alag majhab ke hai ,aur khush hote , bolate ki tumhara baba bada powerful hai… J … aisa bolate hai ..aisa sunane ko mila hai to hath upar karo… J lo kitane hath..!! J Bandalbaji karu to vivek virodhi baat ho jaye…karm  kare aur vivek virodhi baat  nahi kare to kaam ban jata….kai log bolate phalana paise khata..to mai bolata , “arre nahi… koi paise nahi khata… jab khata to roti khata..”  J ..ek police adhikari ki raat ki duty thi…achhi post thi…nayi nayi shaadi huyi thi..ghar aaya..snan karane gaya to dekha ki jeb se paise nikal liye gaye hai..to ye kaam to patni ka hi ho sakata hai…to ghar mey hi case thok di ki , “mere paise chori ho gaye hai tumane hi nikale hai”…patni samajh gayi ki ab chhutana sambhav nahi….ab kya karana? boli ki 25% aap ka 75 % mera..!.. lenden ki baat hoti hai na…kahe ka jhagada balam nayi nayi prit re… J ….  Aap ko maja aata hai , lekin ye vivek sahmat baat nahi hai…jo vivek ko sahmat nahi hai , aisi baat   nahi karani chahiye…

Satsang se kaisa gyan milata…kewal 3 tarike se satsang milata ….satsang tabhi milata hai jab punya punj hote hai , ya bhagavan dravibhut hote hai … Drave jab raghunath tab deve sadhusangati.. …ya aap ka vivek jagrut hota hai ki , itana paya aakhir kya? Sakshat bhagavan ram ka sanniddhya aur ramrajy ke sukh thukarakar kaushalya maharani , sumitra aur kaikayi ke sath shrungi rushi ke ashram mey jati hai to kitana prakhar vivek hai….ramji ko bolati hai ki moh mey mat phasao..aatma ka gyan karane do..aajkal ka jamana hai 4 km bhi koyi jate nahi…bahu ko bolate parayi jayi…to sasu bhi to parayi jayi hi aayi thi us ghar mey..sasu apane ko us ghar ki mane aur bahu ko paraye ghar se aayi aisa mane to ye vivek virodhi hai..sasu bahu ka dhindora nahi pite…wo bhi kabhi dusare ghar se aayi hai..aur bahuoko bhi sochana chahiye ki sasu kaise bhi bole usaki mauj hai lekin sasu ke hruday ko prasann rakhana vivek sammat kary hai….

Hari om hari om hari om hari om…Om namo bhagavate vasudevay…vasudevay ..pritidevay..bhakti devay ..shanti devay..madhury devay….prabhu devay….om namo bhagavate vasudevay..

3 prakar ke sadhak hote hai..1) abhyas karate karate thoda thoda achha lagane lagata..2) abhyas karate karate priti ho jati aur priti purvak abhyas karate3)purane sadhak hai to sadhana mey ruchi aa jati aur priti purvak sadhana karate to madhury chhalakane lagata hai..

Kamar sidhi , gardan sidhi ..(pranayam kar rahe hai…) 

******Kalyankari namochcharan 

Ooooommmmmm

Hari OOOOmmmm 

Omkar ke uchcharan mey Ooooo aur mmmmmm ka jabtak uchchar karate tab koi sankalp nahi hota..budhdi badhati hai ..3 baar subah dopahar sham omkar ka uchcharan kare…40 din ka anushtan kare…aahar niyantrit rakhe to bahot labh hote hai…(param pujya sadgurudev ne deshabhar mey ashramo dwara mantrjap kendr chalaye jate waha ke achhe samachar aa rahe usaki jankari di…)..rojgar samjh kar japate to bhi etana phayada hota hai…krodh bhavana  , majak bhavana se bhi bhagavan  ka naam uchcharan karate to mangal hi karata hai…majak se mishri muh mey dalo ya gusse se muh mey dalo to bhi mithas hi degi hai aise harinam bhi mangal hi karata hai chahe jis bhav se uchcharan karo…isliye  nanak ji bolate ki,

 Bhay nashan duramati haran, kali mey hari ko naam  l

Nish din nanak jo jape saphal hovai sab kaam ll

Hari oooooooommmmmm

Hari  om hari om hari om jaldi jaldi japate paap nash hote , hariiiiiii ooooooommmm aisa dirgh mane thoda lamba japate to kary mey saphalata milati hai…..aur Hari:Ooooooooommmmmmmmmm aisa lamba uchcharan plut uchcharan karate to ishwar mey vishranti milati hai…vastav mey ishwar hi kewal hai ishwar ke siwa kuchh bhi nahi hai…jo dikh raha hai dikhane bhar ka hai..jaise raat ko sapana aaya , sapana dekha tab bhi tum wohi ho , aur sapana  khatam hua to bhi tum wo hi ho…aur subah uthe tab bhi tum wohi..chatyany hai…nind mey bhi aur nind jan eke bad bhi wohi chaityany rah jata hai ..baki sab aata jata hai ..asat hai…jo rah jata wohi hai satchitanand..baki sab maya hai…ishwar hi hai.baki sab ho ho ke mitanewala hai….ye vivek hai..mithya mey saty ko jan lena…nashwar mey shashwat ko khoj lena , anatma mey aatma ko pahechan lena aur aatm-may hokar jina yeahi vivek hai….nity chaityanya aatma mey avishwas vivek virodhi hai….

Narayn narayan narayan narayan…

Narayan kaise is phikar mat pado…..pralhad ne nahi socha tha ki bhagavan kis roop mey aayenge….narsihn roop ki aawashyakata padi to bhagavan narsinh ka awatar  lekar pragat huye….gajendr moksh mey katha aati hai ki gajendr ko jawani mey ek magar ghasit ke le ja raha tha…sab jagah pani hi pani koyi sahara nahi dikha to ishwar ko pukara….dukh mey koyi sahara nahi deta ,kyi sangisathi nahi milata..sharir ki yogyataye hai tab tak sharir bhi sath deta..bad mey to sharir bhi lachar hota….lekin tab bhi ishwar tumhe nahi chhodata…Ishware sarv bhutanam… ishwar sab mey hai…balak jis rang ka  chasma lagata waisa usako dikhata….aise hi ishwar sabhi mey hai aap jise dekhana chahate wohi aap ko dikhata hai…to gajendra pukara…. “ “hey srushtikarta….” …to kamal ka phool badha aur gajendr ko sahayata di…..bhagavan ko pukaro to bhagavan apane ko sari sahayata dete…samarthy dete..bhagavan chaturbhuj bankar aate..pralhad ke liye narsinh ke roop mey aate , guru ke aage tatv ke roop mey aate aur shishy ke aage guru ke roop mey pragat hote …!(Sadgurudev ki jay ho..!!!!)…Aise aise anubhav dekhe ki sabarmati ke bahav mey baap bete bahe ja rahe the….bahav mey kisi ne hath pakada aur khinch ke kinare laya to hath pakadane wali satta nahi dikhi…..abhi ashram ke trusti hai….aise kayi anubhav hai…usaki mahima janane tak apani mati nahi jati .. 

Mat karo varnan har be–ant hai… 

..jis roop mey socho aa jate dadhiwale ke roop mey ho ya kanghi karanewale ke roop mey ho….jisaki aavashyakata ho bhagavan aa sakate….shararat se baith gaye ki jisako garaj hogi aayega, srushtikarta khud layega…to raat ko 3 baje kisano ko sapana dikha sakate..sapane mey anjan rasta dikha sakate…(param pujya sadgurudev ne 8 doctor logo ke sath koyi ghatana batayi..)8 doctor the…usame koyi sarjan bhi the..to unhone ek sawal puchha ki “ishwar sab ke hruday mey hota hai, aap manate hai kya?” Maine kaha , “ mai nahi manu to bhi ishwar hai..mere manane se bhi hai aur nahi manu tab bhi hai..!”To wo ekdusare ka muh takane lage..sankoch maryada rakhkar bol rahe the..to bolo kya baat hai puchha ..to bole ki uname se ek agra ke paas bada heart specialist hai..lakho aadami ke heart ka operation kiya hai…

…to bola ki “ …agar hruday mey ishwar hai to mujhe darshan ho jaye…!”

Mujhe hansi aayi…

..Hruday kaat ke microscope se bhagavan ke darshan nahi honge…bhagavan virat se virat aur sukshm se sukhmtam hai..budhdi se nahi paye jate….Budhi to jisaki jaisi sthiti hoti waisi badalati hai..sthitiya vruttiya badalati hai,budhdi se kiya chintan badala jata hai..phir bhi nahi badalata wo hi karm data , karmo ka niyamak aur karmo ka phaldata hai..wo nyayykari bhi hai…wohi aatma paramatma baap banata hai aur garbh bhi banata hai….guru bhi hai aur shishya bhi hai..hathi bhi hai aur kidi bhi hai…maa bhi hai aur ronewala bachha bhi wo hi hai..sab tera hi chamatkar hai prabhu…sab ko chola denewala data tu hi hai prabhu…kar chori ne bhagan lagyo pakadanewala tu hi tu…Sari srushti mey  bhagavan hi hai…maya denewala bhi bhagavan ..nash karanewala bhi bhagavan….achhe kam karate to aanand denewala bhi bhagavan aur daru pi rahe gande kam kar rahe to bhay denewale bhi bhagavan….prakruti ke virodhi karate isliye bhagavan bhay bhi deta hai…isi ka naam antrayami paramtma hai….sharir , man , budhdi, bhagavan ki di huyi hai….man .budhdi , indriyo ko surakshit rakh ke vivek sahemat karm karake shant hona bhagavan mey vishranti pana hai..ye  humari  mang hai… 

Ish krupa bin guru nahi guru bina nahi gyan..l

Gyan bina aatma nahi gav hi ved puran ll 

(sadgurudev ne pritam maharaj ka drushtant diya…)

..brahm puran mey likha hai ki…kartik maas mey aanwale vruksh ki chhanv  mey bhojan karana vishesh phaladayi mana jata hai…

 * ann-dosh ka niwaran hota hai..

* nirdhan ki nirdhanata mitati hai..

* vidyarthi ko yash milata hai..

* sury narayan ko jal dene se budhdi ka bal milata hai..tribhuvan budhdi ka bal sab se bada bal hai..

* ravivar ko lal kapade nahi pahane, lal mirch nahi khaye aur ghar mey lal bulb ho to nikal de nahi to jhagade honge..

(…aarati ho rahi hai..aanand mangal karu aarati..Prarthana ho rahi hai..swami mohe na bisariyo..Malyarpan hua..“Madhur madhur naam hari hari om”  naam sankirtan ho raha hai…. )

..Bolane ya samjhane mey kuchh galati ho jaye to shrota aur vakta ye bolane se purn labh hoga…

Om tam namami harim param

Om tam namami harim param

Om tam namami harim param

(suresh maharaj bhajan ga rahe hai…kaisa tera pyar guruwar..) 

Om Shanti… 

Hari Om!Sadgurudev ki jay ho!!!!!

(galatiyo ke liye prabhuji kshama kare…)     

**********************

हिंदी में
 
भगवान कैसे?.. पूनम सत्संग_लाइव( २४/११/०७)
२४ नवम्बर २००७ , शनिवार. भर्तय समय शम के  :४ :४५
 बरोडा ध्यान योग शिविर . सत्संग_लाइव


************
सदगुरूदेव संतशिरोमणि  पुज्यश्री आसाराम बापूजी की अमृत वाणी  :- 

***********
(आज कार्तिक पूनम है….परम पूज्य सदगुरूदेव व्यासपीठ  पे पधारे है…खुशिया , उल्हास और प्रसन्नता का वातावरण है ….  ६ -७ लाख सत्संगी पंडाल मे बैठे है…देश मे  औडियो कांफेरेंस से देल्ही , अहमदाबाद, औरंगाबाद जैसे कई  आश्रमों मे ; विदेशो मे दुबई, शिकागो, न्यू जर्सि , टोरंटो जैसे कई जगह से विडियो  कांफेरेंस से ;  श्रध्दा चैनल से लाइव टेलिकास्ट  सुनने के लिए टीवी सेट के पास, तथा इंटरनेट पे हरिॐग्रुप से जुडे हुए याहू कांफेरेंस के द्वारा  कई साधक कांप्यूटर के हेडफोन  लगाए अपने कानो मे प्राण लाकर बापूजी की अमृतवाणी  सुनने के लिए आतुर है….)
ॐ नमो भगवते वासुदेवाय….
..आज भगवान नारायण का मत्स्य अवतार हुआ था ..साथ साथ मे आज देव दिवाली है, महावीर जयंती है..और पूनम व्रतधारी साधको के जीवन का अपने साधना मे अग्रसर होने का शुभ अवसर भी है…
बैठो डिकरियो ..बैठो लाला…
जय श्रीकृष्ण..
बाप रे .. कितने दूर तक लोग है…. मैं अमेरिका मे गया था तो वहा एक साधक बोला कि बाबा वो दिन भी आएंगे , कि आप के दर्शन करने लोग आएंगे और उनको सिर्फ आप के कपडे ही दिखेंगे…  🙂  ..तो अभी आप को मेरे कपडे ही दिखते होंगे…बापू क्या दिखेंगे इतने दूर से…जय श्रीकुष्ण …!!
ॐ नमो भगवते वासुदेवाय…वासुदेवाय..प्रीति देवाय…भक्ति देवाय… शान्ति देवाय ….मम देवाय…… 

भगवान कैसे है?

..काले है कि गोरे है? नाते है कि लंबे है?भगवान कैसे है?जो चीज पकड़नी है उसके बारे मे सोचना चाहिऐ और जो चीज पकड़नी ही नही उसके बारे सोचना क्या? भगवान को तो छोड़ने कि किसी के बाप की ताकद नही , कि भगवान को छोडे …. क्यो कि भगवान तो सदा ही तुम्हारे साथ है …  🙂   … इतना मान लो , बाकी काम भगवान स्वयम ही कर देते है…   🙂 
.. भगवान
 =” भ  ग वा  न”
=  भा = माने भरण पोषण करता है सब का वो , जिस चैत्यन्य  से भरण पोषण का ज्ञान और प्रवृत्ति  होती है..
= गा = माने गमन+ आगमन की सत्ता जिससे आती वो, अर्थात जिसकी सत्ता से पशु-पक्षी, मनुष्य आदि मे  गमनागमन की शक्ति है..  
= व = माने वाणी स्फुटित होती है जिसकी सत्ता से वो, अर्थात वाणी का  (वैखरी, माध्यम,पश्यन्ति और परा) जो आधार है….
= न =  माने शरीर आदि कुछ भी साथ मे नही हो , फिर भी जो साथ मे रहेता है वो, अर्थात सब मिटने के  बाद भी जो नही मिटता  “नेति-नेति” कहेकर इन्द्रिय ,मन , बुध्दी आदि का सभीका निषेध करने पर भी जो बचता है उसी एक आत्मा-परमात्मा  को बोलते  “भगवान”!

..भागो ही भक्ति है…!
भगवान मे प्रीति, भगवान की स्मृति हो जाये ..भगवान को अपना मानकर निश्चिंत जीवन की तरफ बढे..भगवान का नाम ही कल्याणकारी है…..विवेक के विरोध विचार नही करते..विवेक के अनुरूप कर्म करते तो विवेक पर विश्वास भगवान को मिला देता है…ये “मैं”  है  , ये “मेरा” है – ये विवेक विरोधी विचार है.. शरीर को “मैं” मानते तो बचपन का शरीर अब है क्या ? बचपन चला गया..हर ७ साल मे पुरा शरीर बदल जाता तो वो शरीर भी नही….तो शरीर को “मैं” मानना  , तो विवेक विरोधी विचार है … “मेरा” कहते तो सब मेरा मेरे कहने पे चले… लेकिन कुछ आप के कहने पे चलता है क्या? सब “मैं , मेरा”  बदलता , छुटता लेकिन जो नही बदलता , मरने के बाद भी नही छुटता गहराई मे जो बैठा है , चैत्यन्य स्वरूप वो  “मैं ” हूँ….इतना मान लो..”परमात्मा मेरा , मैं परमात्मा का” …बस इतना मानने की तरकीब सिख लो  तो ईश्वर प्राप्ति यूं…….( चुटकी बजाते..) 

विवेक विरोधी विचार कैसे होते है?

 ..एक बालक था…हनुमानजी पे बहोत श्रध्दा रखता….भगवान को मानता…परीक्षा मे पेपर मे आया कि गुजरात की राजधानी कहा है? तो उसने लिखा ” बरोडा ”   ..   🙂    .. तो बाद मे पता चला कि बरोडा तो नही है , तो हनुमानजी को प्रार्थना करता कि,  “हे प्रभुजी , एक  दिन  के लिए गुजरात की राजधानी बरोडा कर दो… सव्वा शेर पढा चढाऊंगा!” …..तू सव्वा लाख पेढे  भी चढायेगा तो भी ये नही होगा….हनुमानजी को मानता है..लेकिन एक वाक्य गलत लिखा तो उसके लिए गुजरात की राजधानी गाँधी नगर से उठाकर बरोडा करने के लिए कहता तो ये विवेक विरोधी विश्वास हुआ ….विवेक विरोधी विश्वास करने से ऐसा होता है….. कई लोग ऐसे ही रोते… भगवान ऐसा कर दो और नही हुआ तो दुखी होते….विवेक विरोधी विश्वास करोगे तो ऐसा ही होता है…

..एक पुजारी था…भगवान की चांदी की मूर्ति चुराने चोर आये..तो पुजारी ने भगवान की मूर्ति को छाती से लगाया और कहा कि , “मैं जिंदा हूँ तब तक भगवान की मूर्ति को हाथ नही लगा सकते” .. चोर तो चोर है..पुजारी को मारा और मूर्ति ले गए…तो लोग बोलते – कैसा भगवान , पुजारी की रक्षा नही की…..भगवान के लिए पुजारी मरने को तैयार हो गया और चोरो ने पुजारी को मारा भगवान देखता रहा….यहा पुजारी का सेवा भाव तो है लेकिन “विवेक सम्मत सेवाभाव नही” ….पुजारी ने अगर भक्ति किया , तो भगवान जरुर उसके लिए कैसा चोला रचा होगा भगवान ही जानता….भगवान के निमित्त मौत हुयी तो भी कल्याण ही हुआ…. 

भगवान न्याय्यकारी  है कि दयालु है?

 ….अगर भगवान न्याय्यकारी है तो सजा देंगे ..सजा देंगे तो दयालु कैसे होंगे? और अगर भगवान दयालू है तो सजा नही देते..सजा नही देते तो न्याय  क्या करेगा? भगवान दयालु  है , तो न्याय  नही करते और न्याय  करते तो दयालू नही..तो कैसे है भगवान?… जो भगवान को प्रीतिपूर्वक भजते उनके लिए भगवान दयालू है ….और जो संसार को भजते उनके लिए भगवान न्याय्यकारी है..जैसी जिसकी भावना वैसी उसको फलश्रुति देते…. इसका नाम है विवेक..!  जीवन मे उतार चढाव आता है…लेकिन विचारो मे विवेक होता तो सफल होता….तो ये विवेक से सफलता मिलेगी..

  विवेक कैसे बढे ?
 -विवेक विरोधी काम ना  करे….
-विवेक विरोधी विश्वास ना  करे…
-विवेक विरोधी इच्छा नही करेंगे ..
= तो विवेक बढेगा…इतना बढेगा की साक्षात्कार तक पहुँचा देगा….! 

तो विवेक कैसे होता है? बुध्दी बढती तो विवेक बढेगा?  नही…  !

…बिनु सत्संग विवेक न होई….l
 
सत्संग के बिना विवेक नही होगा..विवेक का नवम हिस्सा बुध्दी होती है ..इसलिए बुध्दी बढ़ने से विवेक नही होता …विवेक प्रखर होता तो बुध्दी सही रस्ते पे चलती ….सुकरात(सोक्रेटिस) को मृत्युदंड दिया , जहर दिया गया तो बोला कि , ये रोने कि घडी नही है , मैं तो अमर हूँ….अभी ये प्राण निकालने का काम जहर कर रहा है…शरीर का और मेरा संबंध छुट रहा है… लेकिन मेरा और परमात्मा का संबंध ज्यों का त्यों है….ऐसा विवेक प्रखर हुआ तो आज भी लाखो करोडो लोग सुकरात को आदर से देखते… किसी को जहर दिया गया  तो किसी को सूली पे चढा दिया गया…लेकिन शिवजी अपने नित्य तत्व मे सदा होते है , शिवजी ने प्रखर विवेक से विषपान किया लेकिन न उसको वमन किया ..दूसरो को तकलीफ से बचाया , और न ही जहर को अन्दर उतारा… जैसे सुकरात के शरीर की जहर पीके मृत्यु हुयी,  शिव जी ने जहर को कंठ मे धारण कर लिया..निलकंठ भगवान की जय!!!! 

*******  चालबाजी 


विदेशियों ने अपने देश मे अंध श्रद्धा   निर्मूलन के नाम पे ऐसी चालबाजी का कानून बना रहे कि कब उसके चपेट मे संतो और महात्माओ को ले ….ऐसा कानून आएगा तो ऐसा सत्संग करना –कराना  भी मुश्किल हो जाएगा ऐसी विदेशी साजिश है …तो ऐसा कानून ना  बने इसलिए संकल्प  करो , कि भगवान ऐसा कानून नही बने…ॐ ॐ ॐ ॐ ॐ…. ….थोडा चिंतन करो….                                  

 …… लालकृष्ण अडवानी परफेक्ट मनुष्य है ,नेता के लिबास मे संत है…नेता के बिना कैसे चलेगा? वोट नही दोगे तो लोकशाही का गला घोटने का पाप करते…जिसमे कम गलती है ,उसको पसंद करो….लेकिन वोट तो देना ही चाहिऐ…इसमे तो मेरे सत्संगी है …और जो लाइव टेलेकास्ट से मेरा सत्संग सुन रहे …सत्संग पुण्यकर्म है…सत्संग सुनने के बाद संत को दक्षिणा देना श्रोता का कर्त्यव्य है और मेरा दक्षिणा लेना अधिकार बनता है…तो मुझे दक्षिणा नही दोगे तो चलेगा ,लेकिन राष्ट्र के लिए, देश के निर्माण के  लिए वोट तो जरुर करे, मुझे मेरी दक्षिणा मिल जायेगी ऐसा मैं समझूँगा ..तुम जैसे सत्संगी वोट नही करते तो जो रात को क्लबों  मे नाचते , शराब पीते ऐसे कुसंगी लोगो के हाथ मे देश चला जाएगा… जो सत्ता का दुरुपयोग करते…सत्संगी वोट नही करेंगे तो कुसंगी का वोट लग जाएगा…. जिस  देश मे लोग  सोने के बर्तन मे खाना खाते थे ऐसा महान देश था हमारा ..हमारी उदासीनता से ही देश की हालत बिगड़ रही…अच्छे लोगो को संघटित होकर अच्छा काम करना चाहिऐ…ऐसे नही की सब  मे भगवान है, झुठमुट की निंदा करेगा तो भी सहो, ऐसा थोडी ही ज्ञान है…श्रीकृष्ण भगवान ने अर्जुन को बोला नही क्या? आप किसकी संतान हो?अधर्म के सामने घुटने टेकना ये कायरता है… जुलम करो नही और जुलम सहो नही…कबीर जी ने एक आदमी को धागा दिया , उससे जाल बनाकर वो मछलिया पकड़ता और मछलिया तड़प तड़प कर मरती तो कबीर जी ने सिर कुटा, कि अरे मैंने धागा दिया और इसी से मछलिया तड़प कर मर रही है…कबीर जी ने उस आदमी को बोला कि वो जाल मुझे वापस दे दे ..कबीर ने अपना धागा वापस ले लिया…. ये विवेक है….विरोधी चिंतन क्यो करना …सूझबूझ को प्रखर रखो…ठाकुरजी का प्रसाद है कैसे ना  बोलू कर के खाते जाते .. डायबिटीस  है और शिरा खाते तो .. अपने अन्दर के ठाकुर का नही सोचते…

ॐ नमो भगवते वासुदेवाय …

…श्रध्दा सर्व धर्मो मे श्रेष्ट है..श्रध्दावान लभते ज्ञानं…….  श्रध्दा को आँखे नही होती , अपने बाप को बाप श्रध्दा से ही मानना पड़ता है … अन्धश्रध्दा के नाम से कानून बनाके  श्रध्दा को विरोध किया तो उसके पहले जाग जाओ , नही तो भारतवासी ऐसे कानून बनानेवाले को हटा सकते है..ऐसे लोग शासन नही कर सकते…. भारत भगवान को पाए हुए संत महापुरुषों की धरोहर है…

करतुम अकर्तुम अन्याथाकर्तुम समर्थः…l  

.. हर पूनम को साक्षात्कार .. ऐसा नजरिया मिलता तो वाह बापू वाह..ऐई हैई …  🙂
   ..मुझे कई लोग बताते कि हम घरो मे टीवी पे सत्संग सुनते और  हमारे  पडोसी सत्संग सुनते जो अलग मजहब के है , और खुश होते , बोलते कि तुम्हारा बाबा बड़ा पावरफूल  है…  🙂  … ऐसा बोलते है ..ऐसा सुनने को मिला है तो हाथ ऊपर करो… 🙂    लो कितने हाथ..!!   🙂 
  ..मैं  बंडल बाजी  करू तो विवेक विरोधी बात हो जाये…कर्म  करे और विवेक विरोधी बात नही करे तो काम बन जाता….कई लोग बोलते फलाना पैसे खाता..तो मैं बोलता , “अरे नही … कोई पैसे नही खाता… जब खाता तो रोटी खाता..”    🙂  ..एक पुलिस अधिकारी कि रात की ड्यूटी थी…अच्छी पोस्ट थी…नयी नयी शादी हुयी थी..घर आया..स्नान करने गया तो देखा कि जेब से पैसे निकल लिए गए है.. तो ये काम तो पत्नी का ही हो सकता है…तो घर मे ही केस ठोक दी कि , “मेरे पैसे चोरी हो गए है तुमने ही निकाले है”…पत्नी समझ गयी कि अब छूटना संभव नही…. अब क्या करना? बोली कि २५% आप का ७५ % मेरा..!.. लेनदेन की बात होती है ना … काहे का झगडा बालम नयी नयी प्रीत रे…    🙂  ….  आप को मजा आता है , लेकिन ये विवेक सहमत बात नही है …जो विवेक को सहमत  नही , ऐसी बात नही करनी चाहिऐ…

सत्संग से कैसा ज्ञान मिलता..! 🙂
…केवल ३ तरीके से सत्संग मिलता (१)….सत्संग तभी मिलता है जब पुण्य पुंज होते है , (२)  या भगवान द्रविभुत होते है … द्रवे  जब रघुनाथ तब देवे साधुसंगति.. … (३) या आप का विवेक जागृत होता है कि , इतना पाया आख़िर क्या? साक्षात् भगवान राम का सान्निध्य  और रामराज्य के सुख ठुकराकर कौशल्या महारानी , सुमित्रा और कैकयी के साथ शृंगी ऋषी के आश्रम मे जाती है तो कितना प्रखर विवेक है…. रामजी को बोलती है कि मोह मे मत फसाओ ..आत्मा का ज्ञान करने दो ..आजकल का जमाना है ४ किलोमीटर  भी कोई जाते नही…बहु को बोलते परायी जाई…तो सासु भी तो परायी जाई ही आई थी उस घर मे..सासु अपने को उस घर कि माने और बहु को पराये घर से आई ऐसा माने तो ये विवेक विरोधी है..सासु बहु का ढिन्डोरा नही पिटे… वो भी कभी दूसरे घर से आई है..और बहुओंको  भी सोचना चाहिऐ , कि सासु कैसे भी बोले उसकी मौज है लेकिन सासु के ह्रदय को प्रसन्न रखना विवेक सम्मत कार्य है….

हरी ॐ हरी ॐ हरी ॐ हरी ॐ…
ॐ नमो भगवते वासुदेवाय …वासुदेवाय ..प्रितिदेवाय.. भक्ति देवाय ..शांति देवाय..माधुर्य  देवाय ….प्रभु देवाय….ॐ नमो भगवते वासुदेवाय ..

३ प्रकार के साधक होते है.. १) अभ्यास करते करते थोडा थोडा अच्छा लगने लगता.. २) अभ्यास करते करते प्रीति हो जाती और प्रीति पूर्वक अभ्यास करते ३)पुराने साधक है तो साधना मे रूचि आ जाती और प्रीति पूर्वक साधना करते तो माधुर्य छलकने लगता है..

कमर सीधी , गर्दन सीधी ..(प्राणायाम कर रहे है…)

******कल्याणकारी नामोच्चारण
 
ओऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽम्म्म्म्म्म
हरी  ओऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽम्म्म्म्म्म

ओमकार के उच्चारण मे “ओ” और “म्म्म्म्म्म” का जबतक उच्चार करते तब कोई संकल्प नही होता ..बुध्दी बढती है ..३ बार सुबह दोपहर शाम ओमकार का उच्चारण करे …४० दिन का अनुष्टान करे…आहार नियंत्रित रखे तो बहोत लाभ होते है…(परम पूज्य सदगुरूदेव ने देशभर मे आश्रमों द्वारा मंत्रजाप केंद्र चलाये जाते वहा के अछे समाचार आ रहे उसकी जानकारी दी…).. रोजगार समझ कर जपते तो भी इतना फायदा होता है…क्रोध भावना  , मजाक भावना से भी भगवान   का नाम उच्चारण करते तो मंगल ही करता है…मजाक से मिश्री मुंह  मे डालो या गुस्से से मुंह  मे डालो तो भी मिठास ही देती  है , ऐसे हरिनाम भी मंगल ही करता है चाहे जिस भाव से उच्चारण करो…इसलिए  नानक जी बोलते कि,

 भय नाशन दुरामती हरण, कलि मे हरी को नाम   l
निश दिन नानक जो जपे सफल होवे सब काम ll
हरी ओऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽम्म्म्म्म्म
हरी : ओम
“हरी  ॐ हरी ॐ हरी ॐ  ” जल्दी जल्दी जपते  तो  पाप नाश होते , “हरिईई ओऽऽऽऽम्म्म्म ” ऐसा दीर्घ माने थोडा लम्बा जपते तो कार्य मे सफलता मिलती है…..और  ” हरी:  ओऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽम्म्म्म्म्म  ”
 ऐसा लम्बा उच्चारण , प्लुत उच्चारण करते तो ईश्वर मे विश्रांति मिलाती है…वास्तव मे ईश्वर ही केवल है ..ईश्वर के सिवा कुछ भी नही है …जो दिख रह है , दिखने भर का है.. जैसे रात को सपना आया , सपना देखा तब भी तुम वोही हो , और सपना  खतम हुआ तो भी तुम वो ही हो …और सुबह उठे तब भी तुम वोही ..चैत्यन्य  है…नींद मे भी और नींद जाने  के  बाद भी वोही चैत्यान्य रहे  जाता है ..बाकी सब आता जाता है ..असत है …जो रह जाता वोही है सत्चितानंद..बाकी सब माया है…ईश्वर ही है….बाकी सब हो हो के मिटनेवाला है….ये विवेक है..मिथ्या मे सत्य को जान लेना…नश्वर मे शाश्वत को खोज लेना , अनात्मा  मे आत्मा को पहेचान लेना और आत्म-मय होकर जीना ये ही  विवेक है…. नित्य  चैत्यन्य  आत्मा मे अविश्वास विवेक विरोधी है….

नारायण नारायण नारायण नारायण…

नारायण कैसे इस फिकर मत पडों….. प्रल्हाद ने नही सोचा था कि भगवान किस रुप मे आएंगे….नरसिंह  रुप कि आवश्यकता पड़ी तो भगवान नरसिंह का अवतार  लेकर प्रगट हुए….गजेन्द्र मोक्ष मे कथा आती है कि गजेन्द्र को जवानी मे एक मगर घसीट के ले जा रहा था…सब जगह पानी ही पानी ..कोई सहारा नही दिखा तो ईश्वर को पुकारा…. दुःख मे कोई सहारा नही देता ,कोई  संगीसाथी नही मिलता ..शरीर की योग्यताये है तब तक शरीर भी साथ देता..बाद मे तो शरीर भी लाचार होता….लेकिन तब भी ईश्वर तुम्हे नही छोड़ता… ईश्वरो  सर्व भूतानाम… ईश्वर सब मे है …बालक जिस रंग का  चश्मा लगता वैसा उसको दिखता….ऐसे ही ईश्वर सभी मे है आप जिसे देखना चाहते वोही आप को दिखता है…तो गजेन्द्र पुकारा ….  “हे सृष्टिकर्ता….” …तो कमल का फूल बढ़ा और गजेन्द्र को सहायता दी…..भगवान को पुकारो तो भगवान अपने को सारी सहायता देते…सामर्थ्य देते ..भगवान चतुर्भुज बनकर आते..प्रल्हाद के लिए नरसिंह के रुप मे आते , गुरु के आगे तत्व के रुप मे आते और शिष्य के आगे गुरु के रुप मे प्रगट होते …!(सदगुरूदेव की जय हो..!!!!) .. ऐसे ऐसे अनुभव देखे कि साबरमती के बहाव मे बाप बेटे बहे जा रहे थे….बहाव मे किसी ने हाथ पकडा और खींच के किनारे लाया तो हाथ पकड़ने वाली सत्ता नही दिखी…..अभी आश्रम के ट्रस्टी  है….ऐसे कई अनुभव है…उसकी महिमा जानने तक अपनी मति नही जाती ..

मत करो वर्णन हर  बे –अंत  है…

..जिस रुप मे सोचो आ जाते ..दाढीवाले के रुप मे हो या कंघी करनेवाले के रुप मे हो…. जिसकी आवश्यकता हो भगवान आ सकते….शरारत से बैठ गए , कि जिसको गरज होगी आएगा , सृष्टिकर्ता खुद लाएगा…तो रात को ३ बजे किसानों को सपना दिखा सकते..सपने मे अनजान रास्ता दिखा सकते…( परम पूज्य सदगुरूदेव ने ८ डाक्टर लोगो के साथ कोई घटना बताई..)८ डाक्टर थे…उसमे कोई सर्जन भी थे ..तो उन्होने एक सवाल पूछा कि “ईश्वर सब के ह्रदय मे होता है , आप मानते है क्या?” मैंने कहा , ” मैं नही मानू , तो भी ईश्वर है..मेरे मानने से भी है और नही मानू तब भी है..!”  तो वो एकदूसरे का मुंह  ताकने लगे..संकोच मर्यादा रखकर बोल रहे थे..तो बोलो क्या बात है पूछा …तो बोले कि , उनमें  से एक आगरा के पास बड़ा हार्ट स्पेसिअलिस्ट है..लाखो आदमी के हार्ट का ऑपरेशन किया है…
.तो बोला कि ” … अगर ह्रदय मे ईश्वर है तो मुझे दर्शन हो जाये…!”
मुझे हंसी आई…
.. ह्रदय काट के माइक्रोस्कोप से भगवान के दर्शन नही होंगे…भगवान विराट से विराट और सूक्ष्म से सूक्ष्मतम  है.. बुध्दी से नही पाए जाते….बुध्दी  तो जिसकी जैसी स्थिति होती वैसी बदलती है..स्थितियाँ  वृत्तिया  बदलती है,बुध्दी से किया चिंतन बदला जाता है..फिर भी नही बदलता वो ही कर्म दाता , कर्मो का नियामक और कर्मो का फलदाता है..वो न्याय्यकारी भी है…वोही आत्मा परमात्मा बाप बनता है और गर्भ भी बनता है….गुरु भी है और शिष्य भी है..हाथी भी है और कीड़ी भी है…माँ भी है और रोनेवाला बच्चा भी वो ही है..सब तेरा ही चमत्कार है प्रभु…सब को चोला देनेवाला दाता तू ही है प्रभु…कर चोरी ने भागन लाग्यो पकड़नेवाला तू ही तू…सारी सृष्टि मे  भगवान ही है…माया देनेवाला भी भगवान .. नाश करनेवाला भी भगवान ….अच्छे काम करते तो आनंद देनेवाला भी भगवान और दारू पी रहे , गंदे कम कर रहे तो भय देनेवाले भी भगवान ….प्रकृति के विरोधी करते इसलिए भगवान भय भी देता है…इसी का नाम अंतरयामी परमात्मा  है….शरीर , मन , बुध्दी, भगवान की दी हुयी है…. मन .बुध्दी , इन्द्रियों को सुरक्षित रख के विवेक सहेमत कर्म करके शांत होना भगवान मे विश्रांति पाना है..ये   हमारी  मांग है…


ईश कृपा बिन गुरु नही , गुरु बिना नही ज्ञान..l
ज्ञान बिना आत्मा नही , गाव ही वेद पुरान ll

(सदगुरूदेव ने प्रीतम महाराज का दृष्टांत दिया…)
..ब्रह्म पुराण मे लिखा है कि… कार्तिक मास मे आंवले के  वृक्ष की छाँव मे भोजन करना विशेष फलदायी माना  जाता है…
 * अन्न-दोष का निवारण होता है ..
* निर्धन की निर्धनता मिटती है..
* विद्यार्थी को यश मिलता है ..
* सूर्य नारायण को जल देने से बुध्दी का बल मिलता है..त्रिभुवन बुध्दी का बल सब से बड़ा बल है..
* रविवार को लाल कपडे नही पहने, लाल मिर्च नही खाए और घर मे लाल बल्ब हो तो निकल दे नही तो झगडे होंगे..
(… आरती हो रही है ..आनंद मंगल करू आरती..प्रार्थना हो रही है..स्वामी मोहे न बिसरियो.. माल्यार्पण हुआ..”मधुर मधुर नाम हरी हरी ॐ”  नाम संकीर्तन हो रहा है….  )
.. बोलने या समझाने मे कुछ गलती हो जाये तो श्रोता और वक्ता मिलकर ये बोलने से पूर्ण लाभ होगा…
ॐ तम  नमामि हरिम परम
ॐ तम  नमामि हरिम परम
ॐ तम  नमामि हरिम परम
(सुरेश महाराज भजन गा रहे है …कैसा तेरा प्यार गुरुवार..)
ॐ शांति…
 
हरी ओम!सदगुरूदेव की जय हो!!!!!
(गलतियों के लिए प्रभुजी क्षमा करे …)
     


 

Advertisements
Explore posts in the same categories: Uncategorized

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s


%d bloggers like this: