Manushya ke shatru….Gwalior satsang_live(10/10/07)

Wednesday , 10th Oct.07 , IST : 4:30PM

( Satsang_live from Gwalior) 

**************** 

Param Pujya Sadgurudev Shri Asaram Bapuji ki Amritwani :- 

 **************** 

(In Hinglish(Hindi Written in English)

(for Hindi Please scroll down....) 

…sajag rahe….

tatv se ekatv ko jodanewala Hindu dharm…. 

Humhara mann ek hi bat me nahi tikata , usako alag alag variety pasand hai.. esilye ghar mey kitane log hote lekin sabhi ek rang ke kapade nahi pahanate , sabhi ki pasand alag…sabji kharidate to 4 sabji kharidate, kyo ki variety chahiye..kapade kharidate to 4 dukane ghumate ; design , rang dekhate phir lete.. to variety ki bhuk hai mann mey .. manushya ka mann vividhata-priya hai…esliye sab ko  ek rang , ek dhang nahi hota..esiliye apane dharam mey bhagavan ne anek rup dharan kiye hai..jis ka jis dhara mey ras hoga waisa bhagavan ka rup hai.. utsav mey bhi vividhata hai ..40 prakar ke utsav manaye jate hai hindu dharam mey..prakrutik ritiriwaj se jude huye utsav manaye jate hai..tatv se ekatv ki taraf le janewala humhara dharam hai..Abhi pitru paksh chal raha hai….to jo mar gaye unka shok manate hai to dukhi hokar rote nahi ,  jo pitar mar gaye unaki shanti ke liye, mukti ke liye yogdan dete hai.. biti huyi paristhiti  sapana hai..woh paristhiti bit gayi, ye jananewala apana hai…wohi apana mitr hai , sada sath mey hai , kabhi alag hua nahi , hoga nahi wo chaityany hi apana hai , wo sanatan satya swarup ishwar hi apana hai..aur us ishwar ke nate hi hum shradh manakar uska bhi utsav mana lete hai….hum shant sanatan , satya swarup Ishwar ke vanshaj hai… esliye humhare hruday mey us ishwar ka ansh sada hi chamchamata hai……!!!!!

Ram ji aaye , shrikrushn aaye ..gaye lekin hum unka janam divas manate hai .. kab gaye ye yad karake shok nahi manate kyoki ramji krushn ji to sada hi apane hruday mey chamachamate rahete hai…..  Shurpanakha (rawan ki behen) ram ji ke pas gayi ram ji ne ek patnivrat liya hai  …to laksham ke pas gayi , lakhan ji bole,” ek nari ,sada brahmchari”….phir bhi jab shurpanakha nirlajjata karane lagi to lakhan ne usake kan aur nak kat diye aur ram ji ko bataya to ram ji ke aankho mey aansu aa gaye… wo ek stree thi , usane galati ki tab bhi aisa nahi hona chahiye tha..to  ek bure karm karanewali stree ke liye rone ki takad  sirf apane bhagavan mey hai…Shrikrushn bhagavan ka janm jail mey hua ..kans ne bhay se devaki aur vasudev ko jail mey rakha tha to kans ke dushkarmo se bachane ke liye bhagavan krushn ko jail mey janm lena pada… jab krushn ko vasudev kans se bachane ke liye gokul pahuchane ja rahe the, to jail ke jailer ko mithi nind aa gayi…vasudev nanhe balak shrikrushn ko yamuna nadi paar kar ke uspaar le jane lage to yamuna ko pata chala ki jo sampurn brahmand ko vyap raha hai , srushti ka lay-pralay karane ka samarthya rakhata hai , aisa sakshat narayan nanha munna hokar es dharti pe aaya hai to yamuna ki lahare balak shrikrushn ke charan chhune ke liye upar aane lagi…..vasudev ji ghabara gaye…to balak shrikrushn ne apana pair lamba kar diya aur yamuna j ko charan sparsh hua .. yamuna ji ki lahare shant huyi …to charan chhune wale bhakto ke liye apana pair lamba kar dene ka  udar hruday samarthya bhagavan mey hai…Putana rakshasi  nanhe  krushn ko vish pilakar mar dalane ke liye ayi, lekin krishn ne usaki bhi sadgati kar di…bhagavan ko marane  ke bhav se bhi bhagavan ke pas pahunch gaye to bhagavan sadgati hi kar dete hai.. Narayan hari..bolo na…kanjusi kahe karat ho… 

Sukh ka lalach aur dukh ka bhay(manushya ke shatru)

 2 mukhya tatv hai shrushti ke ek purush aur dusara prakruti..

Jivatma to sukhad – sundar – vimal – sukhrashi hai …

…lekin prakruti se judkar jivatma apana asthitv bhulkar bhatak jata hai…jaise bandar ki kahani hai…shikari ko bandar ko pakadana hota hai to chhote muhn ke gagar mey shikari khajur akhrot bhar ke rakh deta hai..bandar lalchata hai… hath andar daal kar muththi bharata hai….lekin gagar ke chhote muhn se bhari huyi mitthi nikale nahi….bandar pair patakata hai..punchh hilata hai…yahawaha gardan hilata hai..lekin jo karana chahiye wo nahi karata hai….agar gagar mey ataka hua hath chhudana hai to  khajur, akhrot se bhari muththi chodata to ataka hua hath apane aap mukt ho jata..) ..thakakar haar jata hai to shikari use pakad ke gale mey phanda daal deta hai…to bandar jaise 5 ungaliyo se muththi bandhkar gale mey phanda daal leta hai , aise hi manushya bhi kam , krodh, moh , matsar , ahankar ke 5 ungaliyo se sansar ke sukh dukho ko pakade rahata hai aur apane ko paradhin kar deta hai….apane “swa”  se aatma se jo sachhcha sukh  hai… vimal sukhrashi usase vanchit rahe jata hai…vivek ko kho baithate hai..aur dabbu ho jate hai…“swa” adhin rahate to vivek prakhar hota hai….budhdi mey yogya nirnay karane ki kshamata aati hai..vrutti sajag rahati hai…lekin sukh ka lalach aur dukh ka bhay manushya ko etana malin kar deta hai….Kyo?

..sharir ko kaise bhi sambhalo tikanewala nahi hai aur aatama maranewala nahi hai….lekin phir bhi sharir se judkar dukh ke bhay mey sukhswarup vimal antaratma ko malin karate hai…upnishado ne khoj nikala ki “abhayam hi kalyan karata hai..” bhay mitega tabhi kalyan hoga…nirbhay banana hai..lekin aap galati kar baithate …bhagavan ki najharose dekhoge to samajh mey aayega .. maranewale sharir ko shaswat manate aur jo shaswat hai use bhul jate hai to vivek kamjor hota hai…vivek ka navama hissa budhhi hai..vivek jagrut hoga bhay door hoga…satsang se hi vivek jagrut hoga..

..Binu satsang vivek na hoyi.. 

.. satsang kewal 3 batose hi prapt hota hai..

1) bhagavan ki krupa se

2) punya punj jor karata hai tab

3) budhdi mey unchi sujh bujh huyi ki jisase sadbhavana aur satbudhdi utpann huyi…

…jisako bhi satsang ka labh hota hai ye 3 karano se hi hota hai…esake bina satsang ka labh milana sabhav hi nahi hai…Bina satsang ke vivek jagega nahi ..vivek jage bina dukh mitega nahi….sub kuchch paa lo , sabhi vidya sikh lo , duniya ki har khishiya kharid lo lekin phir bhi dukh mitega nahi…aajama ke dekh lo..Kitane logo ke samane ghutane teke, kitane logo ke samane nak ragade..kitane logo ke samane natak baji ki..kya tumhara dukh mita?sukh tika?jarasa income tax wala aata high BP low Bp ho jata hai..jara si bimari aati to dar jate hai…jab tuk nirdukh narayan mey jate nahi aatmgyan pate nahi tub tuk dukh mitega nahi…aatmgyan paa liya ,apane chetan swarup ko jaan liya to kitane bhi dukh aane do sharir mey duniya ki koi takad aap ko dukhi nahi kar sakati…sukarat ko jahar de diya , sukarat (socretis) bolata raha ki sharir mar raha hai…use dukhi nahi kar sake…

Vastu aur paristhitiya sukh dukh ke nimitt hote hai..prarabdh mey hota hai to sukh dukh ghatit hota rahata hai..sukhakar dukhakar vrutti hoti hai…sukh aata hai to khokala banakar chala jata hai…dukh aata hai to daboch kar gaya lekin phir bhi sukh dekar chala gaya to sukh dukh ki thappade khayi…to ye sukh dukh to aane janewali chij hai esake sir pe pair dekar upar uthe ….Shrikrushn kahate ki mere najhar mey wo param yogi hai jo sukh se khokala nahi hota aur dukh se bhaybhit nahi hota.. 

Sukh sapana dukh bulbula dono hai mehman

Dono hi tyaj dijiye , aatma ko pahechan.. 

Yaad rakho…sukh mey kudo mat ..gyani makhkhi hoti hai kadhayi ke kinare kinare baith ke apana kam bana ke chali jaye …aur murkh  makkhi sare ke lalach mey kadhayi ke andar ghusati aur dub marati hai…aise hi sukh aaye to upar upar se kinare kinare se kam lelo aur nikal pado..usi mey dub kar maro nahi…gyani log aise hi mukt hote hai..aap kaun banoge? Sukho mey duboge nahi..dukho mey pachoge nahi..pakki baat hai? 

**   mayiyo ko tilak karane aagya di hai bhagavan ne…lekin jo mayiya plastik ki bindi lagate ,chipakane wali bindi lagate to ye jaan le ki wo chipakanewali chij mare huye jaanwaro ke charabi se banati hai..aur bindi se hani hogi ,tilak ka labh nahi hoga…tilak lagaye to haldi ka lagaye , kumkum ka lagaye , chandan ka lagaye, tulasi ke mitti ka lagaye…aur kuchh bhi nahi lagana to sirf hath ki ungali se tilak lagane ki jagah ragad de to bhi thik hai…lekin plastik ki bindi , chipakane wali bindi nahi lagaye….usase bahot hani hogi….tilak karo..tilak karane se sujh bujh badhati hai , saubhagya bana rahega , nirnay kshamata vikasit hogi ..mayiyo ko tilak jarur karana chahiye….lekin plastik se  bani ya chipakane wali bindiya nahi lagaye..muze vachan dete ho? …vachan dete ho to hath upar karo…wah..shabas !!   🙂  …muze meri dakshina mil gayi…. 

  paan masale ki aadat chhodo…usake liye upay hai.. 

**  Paan masale banate to usame mare huye kide hote hai..usame jo sopari dalate usame kide hote to usako paan masale mey dalate hai..aur logo ko aadat pade esliye etani gandi gandi chije paan masale mey padati hai to khanewala ka pachan  kamjor hota hai ,muhn me chhale padate , acidity badhati hai , chamadi ki bimariya hoti hai… paan masale ki aadat chhodo…

usake liye upay hai..:-

Sauph ajwayin bhunakar  kala namak  lagakar mukh-vas bana lo aur jab bhi paan masala khane ki echha huyi es mishran ko kh lo to pan masale ki aadat chhut jayegi , aur usake karan jo bimariya pichche lagi hai wo bhi door ho jayengi…to chhodoge pan masala..? hath upar karo… aap ko shabas hai. !!   🙂 .. .mil gayi muze dakshina…! 

**  Sharir ko sub se pushti dayak chij kya hai?

       -Shudhda hava ..  J !

Shudhd hava rom mey bhare…shrikrushn van-gaman karate the..aap ko bhi samay mile to khuli hava mey jao…  

 **  Mayiyo mey khun ki kami hai to lohe ke bartan mey pani aadi jobhi khate khaye piye to ghutano ka dard bhi  kam hoga aur sharir mey loh (iron) bhi badhega…aur khane mey manuka kishmish aadi ka jyada upyog karo..himoglobin badhega to naya khoon bhi banega….aawale ka churn liya karo , chawanprash le …liya to phayada hoga…chawanprash wo bajhar wala nahi khaye , jo 56 chijo se banata wo hi rang layega..aap ghar mey bhi bana sakate ya samitiwale banate hai wo le le.. nahi to aanwale ka mawa banakar rakh lo..ek kilo aanwala liya ,cooker mey thoda sa pani dalkar aanwale ko ek siti diya..usamey shudhha ghee aur masri milakar rakh lo..aur roj kaho..Durbhagya se abhi etana poshtik ghee nahi milata pahale 36mr ka ghee milata abhi 23 mr ka milata hai…dairywale tatv nikal lete hai esliye pahale jaisa postik ghee nahi milata …esiliye ashram mey 5000 gaay hai… 

**  Kal ke satsang mey chasme utarane ke liye triphala rasayan ka prayog bola hai , usaka bhi phayada jarur le..( for detail please  read 9/10/07 satsang) usase nadi tantr thik hota hai , rakt ke shwet kan badhate hai , nadiyo ka shudhan hoga..to aankho ki roshani achhi hogi..60 din ka prayog kare ..gunguna pani piye ….  falsi maleriya ke karan angreji dawayiyonse  meri aankhe kamjor ho gayi thi kanose kam sunane laga tha..lekin muze triphala rasayan se bahot phayada hua..aankhe thik ho gayi , chasma utar gaya ..pahale mai 57 saal ka budhdha tha abhi 68 saal ka jawan hun….  J 

**   Kano mey hafte ke ½ baar saraso ke tel ke 2/3 bund lagakar soye to budhape mey bhi kano ki sunane ki kshamata achhi rahegi..mere gurudev 90 saal ki umar mey bhi achchi tarah  sunate the.. muze bhi angeji dawayiyo se sunana kam ho gaya tha ,lekin abhi achchi tarah sunayi deta hai… 

** Jinako pet ki taklif hai wo triphala se chali jayegi lekin jinako pet mey krumi hai unako roj tulasi ke 5 bij chabakar khane chahiye..itwar (raviwar / Sunday) ko nahi khaye.. suryoday ke baad aur din ke 12 baje ke pahale tulasi ke patte ya phool   tode … 12 baje ke bad tulasi ke patte ya phool  todane se paap lagata hai..

** Bilw ke patto ki powder kar ke rakho , vayu ki taklif hai to bilw ke patto ki powder thode pani mey bhigakar rakho aur wo ghol se ragad ragad kar snan karo to vayu ki taklif nahi rahegi..budhape mey vayu ki taklif jyada hoti hai.. 

** Bachapan mey kuf ki taklif jyada hoti hai..hum ne bachcho ke liye tulasi ke bij daalkar toffiya banavayi hai jisase swad bahot badhiya aaya hai aur  kaf ke sath pet ki bhi sabhi taklife door ho rahi hai…Bachche bajharwale chocolate khate to usame chemical rahate , jisase  bachcho ka liver kharab hota hai.. to bachcho ki chocolate khane ki aadat bhi chutegi ..ye tulasi ke bij wali toffiya bachcho ko dena ,dusaro ko bhi batana aur ghar mey koi aaye to unko bhi prasad rup mey dena… 

** Grahan ke samay pani mey tulasi ke patte dalkar rakhenge to ashudhh nahi  mana jata..5 litre pani mey 5 tulasi ke patte dale..har ghar ke aangan mey tulasi honi hi  chahiye , esase watavarn shudhh rahata hai..ghar ke paschim mey pipal ka vruksh hona achcha hai ghar mey lakshmi aur prasannata raheti hai.. bilw ka ped bhi ghar ke pas hona bahot achcha mana jata hai lekin usaki chhav ko nahi langhana chahiye…esliye kone mey lagaye.. ekadashi ke din bilw ke vruksh ki pooja karane se bahot puny hota hai , brahm hatya ka paap bhi nasht hota hai…

**  45 saal se jyada umar ho to dono hath ki ungliya milakar hath god mey rakhakar baithane se budhapa ki kamjori jaldi nahi aayegi….pranayam karate samay ,dhyan karate samay esi sthiti mey baithe ..ya pranayam dhyan nahi karate to bhi din me 2/3 baar 10/15 mins aisa bithane se labh hoga.. (bapuji pranayam karava rahe hai..) 

Jaduyi pranayam  

– Lamba shwas lo ,

— pet ko andar daboch ke rakho ,

–sho uch ki jagah sikud lo… 

ek minute shwas ko rok ke rakhana hai….

–..vichar karo sharir anitya, mai chaityanya !..mere sath bhagavan hai..om shanti , om madhury , om  aanand….   — Ek minute ho gaya ..roka hua shwas chhod do…

— ..Ab shwas lena nahi 40 second tak…bhagavan ka priti puravk smaran karo.. jis sthiti mey achcha lage aap bhagavan ko pyar kar sako…

–ab ho gaye 40 second ..shwas le lo…

To pura milakar ho gaya ek pranayam..Aise 7 pranayam roj karate to aap ki tabiyat thik hone lagegi , pachan tantr thik , anidra chali jayegi , khun ki kami thik ….ye pranayam lagata sadharan hai , lekin asadharan phayada karata hai…sury aane se andhera door hota hai, sabhi rog jantu nasht hote usi prakar ye pranayam se sabhi bimariya dooor hoti hai..

 Satsang mahima (raja ajj ki kahani)

 raja janak ne dekha ki satsang ke bahot labh hai.. satsang ke bina aatma ka prakash  nahi milata..to aadami kitna bhi raja maharaj ho to bhi uska dukh nahi mitata to satsang ka mahatv jano..satsangati ke dwara hi janam maran ka ant hota hai..mukti ki anubhuti esi satsang ke dwara hoti hai.. …satsang ka mahatv hai , eska  punya maha kalyankari hai…satsang ki mahima aparampaar hai..Raja Janak ko satsang se labh hua  aur bhagavut prapti huyi to unhone  puri praja ko bhi satsang se labhanvit  karane ke liye satsang ka aayojan kiya..Ashtavakra maharaj satsang manch pey aaye etane mey ek bhayankar kaala saap aaya…….sabha mey aage aage saap aaye to log jara duhel gaye.. trikal gyani Ashtavakra maharaj ne saap ko dekha..samaz gaye ke ye saap sadharan nahi hai..mithila ka bhutpurv raja Ajj hai..Ashtavakra maharaj ne sabha ke  logo ko bola ki sabha mey ye saap tumhe kaatane ko nahi aaya ..ye esi mithila nagari ka raja Ajj hai…. satsang sunke apne paapo ko nasht karega…satsang ke purnahuti ki bela aayegi to usko divya sharir milega..esi ke munh se aap eski aap biti sunoge aisi mai vyavastha karunga..satsang chalate chalate purnahuti ki bela aayi… jub purnahuti ki bela huyi to jo saap kundi maarkar baithata tha aur satsang sunata tha to  woh baar baar  apani phan uthaye aur patake..phir uthe phan/ sir patake..aisa 5 -25 baar phatake lagane se  kankar pathhar laga …jub khun nikala to uuski  jiv ki jyoti bahar nikali aur dekhate dekhate uusme se ek divyapurush  devata ke rup me prakat ho gayia ….log dekhate rahe gaye…Woh dev purush aage badha…uusane Raja Janak ka matha sungha..Ashtavakra ko pranam kiya..

Ashtavakra maharaj ne kaha ki “mai to tuze janata hu, lekin ye satsangiyo ko tum apani aap biti sunaye..”

..tub wo devpurush Raja Ajj kahane lage ki, “mai esi Mithila nagari ka Raja Janak se 6 pidhi pahale ka Raja Ajj hu..kisi karan vash muze marane ke baad aisi tuchha yoniya mili… yamraj ke pass mrutyu ke abaad  gaya to Yamraj ne  mujhe kaha ki , “1000 varsh saap aur ajgar ki yoni me tumhe dukh dekhana padega….”

..maine Yamraj se hath jodkar kaha ki , “Hey Yamraj, muzpar krupa karo…1000varsh aisi yoniyo mey?…..”

to yamraj ne kaha, “agar koi aap ke kul mey  – koi kuldeepak, beta ,bete ka beta ya jo aap ke vansh mey janma hai woh agar satsang karavaye ya satsang ke aayojan me bhagidar ho to tumhe apane karmo se chhutkara mil sakata hai…”

to Raja Ajj ne kaha ki,  “hey Sayyam puri ke Devata!…muzpar par krupa kare ki aisa aayojan ho to muze waha upasthit hone ka labh mile..jo apane kul ki santan ki dwara satsang ho raha ho to mai woh satsang ka mahol  neehar ke apani aankhe pavitra karu.. satsang ke vachan sunkar apane janam janmantar ke paap-taap  nivrutt karke gyan ka prakash paau.. hey sayyam puri ke devata ! aap agar krupa kare to  ye vardan de sakate hai.. “

Yamraj prasann hokar bole ki,” baadhum baadhum!(badhiya badhiya)  sadho sadho! tumhari mang ..satsang ki mang..sidhi sadhi hai ..evam astu!”

phir mai chandrama ke kirano ke dwara giraya gaya ..kai tuchh yoniyo mey bhatakate bhatakate ajagar bana… raat ko pet bharane ko nikalata… mendhak ya aise hi jiv jaanavar ka shikar karata..shikar nahi mile to mara hua prani jiv janaavar khata … kabhi woh bhi na milata to bhuke pet lautata.. …to kabhi ped par golmatol chadhkar pakshiyoke  ghosalo mey se uunke ande ya bachhe  ko chaba leta… ek poonam ke raat mai woh shikar milane mey bhi viphal raha..pakshi milakar kilhol karane lage.. prabhat kaal mey apane beel ki taraf laut raha tha  to chandani ke karan log jungal me lakdiya aur ghans lene ke liye ghasiriye  jaldi aa gaye the..unki muzpar nazar padi..  ..  to muze dekhakar logo ne shor kiya “pakado pakado maro maro”..mai jaldi jaldi apane beel  me ghusane laga .aadhe se jada ghus gaya to logo ne paththar se, lakadi se meri puchh par prahar kiya…. ghasitate ghasitate kaise bhi mai beel ke andar ghusa…lahuluhan hokar puchh ghasitata andar gaya ..socha ki kuchh aaram paunga.. lekin bhaiyo jinhone hari me satsang ke dwara aaram nahi paya woh raj pud se chut hokar kya aaram payenge.. mere khun ki gandh jungal ke kidiyo ko aayi aur chintiyo ki, kidiyoki  katar lag gayi..kidiyo ne meri puchch ko noch daala ….kidiyo se jaan chhuda nahi sakata tha.. kaha to “rajadhiraj  maharaj aanndata padhar rahe hai..” aur kaha chhotisi kidise bhi jaan nahi chhuda sakate....Satsang ke bina to raja maharaj ki bhi durgati hoti hai.. 

 esi liye manushya ko bade se bade pud par  aarudh ho kar athava bade bul par  garv abhiman nahi karana chahiye  ye pud  sada nahi rahenge ..ye pud ye sharir aa aake chhut jayange phir bhi jo sada rahane wala parameshwar hai… uus parameshwar  ke gyan ka, uus parameshwar ke  naam ka, uus parameshwar ki priti ka prasad nahi paya eske liye mai pareshan ho raha tha… es pareshani ko mitane ke liye aapko prarthana karata hu ki , aap log satsang karana..

…mai rajayi ke garv se barbaad hua ..kidiyo ke dwara nocha gaya …kasht paye.. .. ek din bita.. dusara din bita.. tisara din bita..chautha din…chauthe din ki raat kahar ho gaya ..  behosh hokar pada raha.. kaha to tejaswi yashaswi raja maharaj.. jane karmane gati..saatve din mere pran nikale… bahot dukhi hoke mara …aise kasht paye..phir janam paya ..ek ande se bahar nikala to meri maa sarpini thi usi ne muze nigal liya..kaise kaise janm paye aur marata raha.. ..lekin ab bakike 750 varsh mere maph ho gaye..

etane mey punyashil aur sushil paarshad prakat huye..unhone  Ashtavakra maharaj ke charan mey pranam kiya.. kaha ki,” hum to gupt rup se sukshm rup se rahate hai ..lekin aap ki mahanata hai esliye hum prakat huye hai..aap ke bhakt ko le jane ke liye aaye hai..aap ke bhakt ko le jane ki anumati dijiye..”  Ashavakra ji ne “tathastu” kaha… hath se ashirwad ka sanket kiya…Raja Ajj ko  viman mey bithakar le jaa rahe hai..janak unko vidai dene ke liye abhivaadan kar rahe hai …aap bhi aap ke ghar me koi aaye to usko bidai dene ke liye 4 kadam chalkar jana ye gruhasthi jeevan ki shobha aur punya badhata hai..  to raja Janak ne dev purush(raja Ajj) ko vidai di..raja Ajj aakash marg se antardhaan ho gaye..

..Ashtavakra maharaj  ne Raja Janak ko diksha dee. Ashtavakra maharaj se raja Janak  madhubhari wani aur chitan se kahata hai ki,” maharaj aap yog samarthya ki kunjiya denewale ho..muze  yog vidya dijiye .. jisase mai ye sharir yahi rakhkar sukshm sharir se swarg mey saat pidhi ka darshan karu  ..humhare jo saat pidhi ka kalyan hua ye katha ko sunane aur katha  mey  sazidar hone se ye maine pratyaksh dekha  hai ..to jo swarg mey  honge uun purvajo ka darshan karu..unhe abhaivaadan karu..”  

Ashtavakra maharaj ki krupa se Raja Janak sukshm sharir se swarg mey pahunche..lekin waha Yamraj ne kaha ki “tum markar nahi aaye ho to swarg nahi ja sakate… …. lekin raja janak aap ne to satsang ka pyau lagaya.. punya prapt kiya to mai tumhe madad karata huu.. swarag to dekhoge lekin  uuske pahale  rauarav narak,kumbhi pak narak aur aise kai dukhi aatamao ke elako ke gujarate mere anuchar tumhe swarag ke pichhe ke daravajo se le jayange..”   janak ji jub waha pahunche to dekha ki  “high kasht! high dukh!”

..waha to kai narkiya jiv pida sah rahe the..raja janak ne puchha ye “aisa kyo?kyo ye aakranta hai?” to Yamraj ke anucharo ne kaha ki  … “punya ka phal chahate aur punya nahi karate aise logo ko yaha yatana di jati hai… paap karane se , chalaki karane se narak ki yatana dwara shudhhikaran hota hai “..etane mey waha ke pidit narkiya jiv bolane lage ki raja tum jug jug  jiyo janak raja ko ashchary hua…….raja janak  ko  narkiy jiv ‘jug jug jiyo’ ashirvad diye ..bole ki ..maharaj  , aap ne guru se diksha li …aatm – vishranti payi hai ..karane ki , janane ki aur maanane ki shakti se raja janak ko satsang dwara gyan dwara shanti mili …ishwariy aanand paya.. antarik shanti mili hai…tumane brahm gyan paya hai ..aap ko chhukar jo hava aa rahi hai woh humhara dukh mita rahi hai…badi shanti mil rahi hai..krupa barasati hai… paapiyoke paap mitaakar shanti de rahi… satsang se gyan milata hai… satsang se raja janak amar aatma paramtma mey vishranti paa rahe the .. to unki punyayi aur yash se narakiy jiv bhi apane paapo se mukti paa rahe the….

..Satsang se manushya ko aise labh milate hai..aaj ke yug mey to hum bhi naarkiy jeevan ji rahe hai..kaliyug mey nirdhanata se pura samaj pidit hai..ninda ,bimariya , dukh se vishwa mey sabhi naarakiya jeevan ji rahe hai.. aise dino mey  satsang ka prabhav bahot bhari hai.. sach batao ki abhi aap ne satsang sun rahe ho to adhyatmik tarang ja rahe hai , papiyonke paap shaman karrahe hai…adhtamik watavarn se sub mangal hi mangal ho raha hai …. madhury aa raha hai ….tabhi baithe ho… !!

aarati ho rahi hai…. Om jay jagdish hare..

prarthana ho rahi hai…. Karpur gauram karunavtaram 

jaha sury waha roshani , 

jaha chandr waha chandani ..

jaha kusum waha sugandh,

 aur jaha sant waha satsang…  J 

..shukdev maharaj ne raja parikshit ko satsang sunaya to shukdev ji maharaj jaise shudhh mahapurush ke kirtan mey bhagavan  shrikrushn , narad apani vina sahit  gupt rup se waha pahunche..indra bhi aise mauke ka pahayda uthaya jo bhagavan se priti karate hai wohi samazate hai ki ye anubhuti kya hoti hai…es  divya anubhuti ke rajya mey jisako pravesh mil gaya who dhanya hai..bhagavan narayan narad ji ko kahate hai ki , “hey narad,  mai nishkam karmyog se pragat hota hu..kai baar mai yogiye ke hruday langh jata hu… jaha satsang hai waha mai avashy hota hu…

 na mi vasami vaikunthe ,

yoginam hrudayem bruhi…

madbhakta yatr gayantri ,

tat pratishtami narada…  

to aise punya ki kamayi karanewale aap sabhi ko mai shivaji ki taraf se dhanywad deta hu… 

dhanyo mata pita dhanyo , gotram dhanyo kulodbhav

dhanyach vasudhadevi ,yatr syat guru bhaktata: 

Saral Sadhan 

aap jab kirtan karate to thodi der chup baithe to mann ki samadhi ka sukh mile…ratri ko sote samay jaise bachcha maa ki god mey sota hai waise humari  indriya mann mey ,mann budhdi mey aur budhdi se hum bhagavan ki god mey sote hai ..to aise soye……

– shwas andar gaya “om aanand” bahar aaya -1 ,

– shwas andar gaya “ om madhurya” bahar aaya -2 ,

– shwas andar gaya “ om shanti ” bahar aaya -3

 ..aise ginati karate karate so jaye… 

mala shwasoshwas ki phirati rahe din-raat…

— aap ki nind yog nidra mey badal jayegi…mati , gati sthiti mey chitt ko vishranti milegi…bhagavan se priti badhegi..

— karm  karo , lekin karm karke karam bandhan  mey phasane ke liye nahi …us parameshwar mey apane aham ka mai mila do , to karm bandhan nahi bandhega…!!

–sachhayi karo…dusare ka heet ka socho…apane liye nyayy aur dusare ke liye udarata rakho to  Ridhdi Sidhdi aap ke charano mey aayengi !!

niyati apana kary karati hai dukh mey dukhi pareshan hona nahi , sukh aaya to sukh sarakane wala hai ..sarakanewali chijo ka bahujan hitay bahujan sukhay upyog kar lo…

— sharir , mann , budhdi se shant aur swasth rahe …. To aap sansar mey rahate huye bhi jogi nahi , sahyogi ban jayenge..aanand aur shanti payenge….kathin thode hi hai ?aap ka karm yog , bhakti yog , gyan yog ka saral sadhan hai....jo adharm karate hai nich yoni mey janamate marate rahate hai… Jarajara bat mey dukhi hona sukh aaye to usame kudana ..to kutte jaisa jalebi dekhi to punchh hilaye aur danda dekha to punchh dono pairo mey  dalkar bhage….to aap waise hi ho gaye..kya jarajara baat mey dukhi hona?chinta karana? 

Chinta se chaturai ghate l 

ghate rup aur gyan  ll

chinta badi abhagini l

chinta chita saman   ll

tulasi bharose ram ke  l

nischint hoyi ke soye   ll

anhoni honi nahi  l

honi hoye so hoye.. ll 

..bhagavan nam ki mahima aur narayan stuti padhe, bachche yuwadhan padhe…to kusangat se bachoge..padhayi mey saphalata aayegi…. 

..Aap ko satsang sunkar jo bhi aanand aaya , madhry aaya , bhagavat ras aaya to wo mere gurudev ka tha..aur jo bhi khara khatta aaya hoga to meri galati thi…kal ka satsang sarmathura mey hoga aur phir aatm sakshatkar divas  ka satsang agra mey shahganj mey hoga..

 Narayan narayan narayan narayan narayan

om shanti….. 

 Hari Om! Sadgurudev ki jay ho!!!!!

(galatiyo ke liye prabhuji kshama kare…..)     

********************************

हिन्दी में

******************************** मनुष्य के शत्रु….ग्वालियर सत्संग_लाइव(10/10/07)
बुधवार  , 10th ओक्ट.07 , भारतीय समय : शाम के 4 :30
( सत्संग_लाइव , ग्वालियर  शहर से )
****************
परम पूज्य सदगुरूदेव संत  श्री आसाराम बापूजी की अमृतवाणी :- 
 **************** 

…सजाग रहे….
 

तत्व से एकत्व को जोड़नेवाला हिन्दू धर्म….

…हमारा मन एक ही बात मी नही टिकता , उसको अलग अलग व्हरायटी  पसंद है.. इसिलए घर मे कितने लोग होते लेकिन सभी एक रंग के कपडे नही पहनते , सभी की पसंद अलग…सब्जी खरीदते तो ४ सब्जी खरीदते, क्यो कि   व्हरायटी  चाहिऐ….कपडे खरीदते तो ४ दुकाने घूमते ; डिजाईन , रंग देखते फिर लेते.. तो व्हरायटी  की भूक है मन  मे .. मनुष्य का मन  विविधता-प्रिय है…इसलिए सब को  एक रंग , एक ढंग नही होता..इसीलिए अपने धरम मे भगवान ने अनेक रूप धारण किये है..जिस का जिस धारा मे रस होगा वैसा भगवान का रूप है.. उत्सव मे भी विविधता है ..४० प्रकार के उत्सव मनाये जाते है हिन्दू धरम मे.  !….प्राकृतिक रीतिरिवाज से जुडे हुए उत्सव मनाये जाते है..तत्व से एकत्व कि तरफ ले जानेवाला हमारा  धरम है..अभी पितृ पक्ष चल रह है….तो जो मर गए उनका शोक मानते है , तो दुखी होकर रोते नही ,  जो पितर मर गए उनकी शांति के लिए, मुक्ति के लिए योगदान देते है.. बीती हुयी परिस्थिति  सपना है…..वह परिस्थिति बीत गयी, ये जाननेवाला अपना है…वोही अपना मित्र है , सदा साथ मे है , कभी अलग हुआ नही , होगा नही वो चैत्यन्य ही अपना है , वो सनातन सत्य स्वरुप ईश्वर ही अपना है..और उस ईश्वर के नाते ही हम श्राद्ध मनाकर उसका भी उत्सव मना  लेते है….हम शांत , सनातन , सत्य स्वरुप ईश्वर के वंशज है… इसलिए हमारे  ह्रदय मे उस ईश्वर का अंश सदा ही चमचमाता है……!!!!!

….राम जी आये , श्रीकृष्ण आये ..गए लेकिन हम उनका जनम दिवस मानते है .. कब गए ये याद करके शोक नही मनाते क्योकि रामजी कृष्णजी तो सदा ही अपने ह्रदय मे चमचमाते रहेते है…..  शुर्पणखा (रावण की बहेन ) राम जी के पास गयी , राम जी ने एक पत्नीव्रत लिया है  …तो लक्ष्मण  के पास गयी , लखन जी बोले, ” एक नारी ,सदा ब्रह्मचारी”….फिर भी जब  शुर्पणखा  निर्लज्जता करने लगी तो लखन ने उसके कान और नाक काट दिए और राम जी को बताया तो राम जी के आंखो मे आंसू आ गए… वो एक स्त्री थी , उसने गलती की, तब भी ऐसा नही होना चाहिऐ था…..तो  एक बुरे कर्म करनेवाली स्त्री के लिए रोने की ताकद  सिर्फ अपने भगवान मे है…श्रीकृष्ण भगवान का जन्म जेल मे हुआ ..कंस ने भय से देवकी और वासुदेव को जेल मे रखा था तो कंस के दुष्कर्मो से बचने के लिए भगवान कृष्ण को जेल मे जन्म लेना पड़ा… जब कृष्ण को वसुदेव कंस से बचने के लिए गोकुल पहुचाने जा रहे थे, तो जेल के जेलर को मीठी नींद आ गयी…वसुदेव नन्हें बालक श्रीकृष्ण को यमुना नदी पार कर के उसपार ले जाने लगे तो यमुना को पता चला कि जो संपूर्ण ब्रह्माण्ड को व्याप रहा  है , सृष्टि का उत्पत्ति –  प्रलय  करने का सामर्थ्य रखता है , ऐसा साक्षात् नारायण नन्हा मुन्ना होकर इस  धरती पे आया है , तो यमुना की लहरे बालक श्रीकृष्ण के चरण छूने के लिए ऊपर आने लगी…..वसुदेव जी घबरा गए…तो बालक श्रीकृष्ण ने अपना पैर लम्बा कर दिया और यमुना जी  को चरण स्पर्श हुआ .. यमुना जी की लहरे शांत हुयी …तो चरण छूने वाले भक्तो के लिए अपना पैर लम्बा कर देने का  उदार ह्रदय सामर्थ्य भगवान मे है…पूतना राक्षसी  नन्हें  कृष्ण को विष पिलाकर मार डालने के लिए आई , लेकिन कृष्ण ने उसकी भी सदगति कर दी…भगवान को मारने  के भाव से भी भगवान के पास पहुंच गए , तो भगवान सदगति ही कर देते है.. !!
नारायण हरि..बोलो न…कंजूसी काहे करत हो…  🙂

सुख का लालच और दुःख का भय(मनुष्य के २ शत्रु)…

२ मुख्य तत्व है सृष्टि  के  :-  एक पुरुष और दूसरा प्रकृति..
….जीवात्मा तो सुखद – सुन्दर – विमल – सुखराशी है ..लेकिन प्रकृति से जुड़कर जीवात्मा अपना अस्तित्व भूलकर भटक जाता है…जैसे बन्दर की कहानी है…शिकारी को बन्दर को पकड़ना होता है , तो छोटे मुंह  के गागर मे शिकारी खजूर , अखरोट भर के रख देता है..बन्दर ललचाता है… हाथ अन्दर डाल कर मुठ्ठी भरता है….लेकिन गागर के छोटे मुंह  से भरी हुयी मुठ्ठी  निकले नही….बन्दर पैर पटकता है….पूंछ हिलाता है…यहावहा गर्दन हिलाता है..लेकिन जो करना चाहिऐ , वो नही करता है…. ( अगर गागर मे अटका हुआ हाथ छुड़ाना है , तो  खजूर, अखरोट से भरी मुठ्ठी छोड़ता तो अटका हुआ हाथ अपने आप मुक्त हो जाता..) ..थककर हार जाता है , तो शिकारी उसे पकड़ के गले मे फन्दा डाल देता है…तो बन्दर जैसे ५ उंगलियों से मुठ्ठी बांधकर गले मे फन्दा डाल लेता है , ऐसे ही मनुष्य भी काम , क्रोध, मोह , मत्सर , अंहकार के ५ उंगलियों से संसार के सुख दुखो को पकडे रहता है और अपने को पराधीन कर देता है….अपने “स्व”  से – आत्मा से जो सच्चा सुख  है… विमल सुखराशी है – उससे वंचित रहे जाता है…विवेक को खो बैठते है..और दब्बू हो जाते है…“स्व” अधीन रहते तो , विवेक प्रखर होता है….बुध्दी मे योग्य निर्णय करने की क्षमता आती है..वृत्ति सजाग रहती है…लेकिन सुख का लालच और दुःख का भय मनुष्य को इतना मलिन कर देता है….क्यो?
….शरीर को कैसे भी संभालो टिकनेवाला नही है और आत्मा मरनेवाला नही है….लेकिन फिर भी शरीर से जुड़कर दुःख के भय मे सुखस्वरूप विमल अंतरात्मा को मलिन करते है…उपनिषदों ने खोज निकाला कि “अभयं ही कल्याण करता है..”  भय मिटेगा तभी कल्याण होगा…निर्भय बनना है..लेकिन आप गलती कर बैठते …भगवान कि नझरोसे देखोगे तो समझ मे आएगा .. मरनेवाले शरीर को शाश्वत मानते और जो शाश्वत है उसे भूल जाते है तो , विवेक कमजोर होता है…विवेक का नवम हिस्सा बुध्दी  है. … .विवेक जागृत होगा तो  भय दूर होगा…सत्संग से ही विवेक जागृत होगा..

बिनु सत्संग विवेक न होई..

.. सत्संग केवल ३ बातोसे ही प्राप्त होता है..
१) भगवान कि कृपा से
२) पुण्य पुंज जोर करता है तब
३) बुध्दी मे ऊँची सूझ बुझ हुयी कि जिससे सद्भावना और सत्बुध्दी उत्पन्न हुयी…

…जिसको भी सत्संग का लाभ होता है , ये ३ कारणों से ही होता है…इसके बिना सत्संग का लाभ मिलना सम्भव  ही नही है…बिना सत्संग के विवेक जागेगा नही ..विवेक जगे बिना दुःख मिटेगा नही….सुब कुछ  पा लो , सभी विद्या सिख लो , दुनिया की हर खुशिया  खरीद लो लेकिन फिर भी दुःख मिटेगा नही…आजमा के देख लो..कितने लोगो के सामने घुटने टेके,  कितने लोगो के सामने नाक रगडे..कितने लोगो के सामने नाटक बाजी की…..क्या तुम्हारा दुःख मिटा ? सुख टिका  ?  जरासा इन्कम टॅक्स वाला आता तो , हाई बीपी , लो बीपी हो जाता है..जरा सी बीमारी आती तो डर जाते है…जब तक  निर्दुख नारायण मे जाते नही आत्मज्ञान पाते नही तब  तक  दुःख मिटेगा नही…आत्मज्ञान पा लिया , अपने चेतन स्वरुप को जान लिया तो कितने भी दुःख आने दो शरीर मे दुनिया की कोई ताकद आप को दुखी नही कर सकती…सुकरात को जहर दे दिया , सुकरात (सोक्रेटिस) बोलता रहा  कि शरीर मर रहा  है…उसे दुखी नही कर सके…

..वस्तु और परिस्थितियां  सुख दुःख के निमित्त होते है..प्रारब्ध मे होता है तो सुख दुःख घटित होता रहता है..सुखाकर दुखाकर वृत्ति होती है…सुख आता है तो खोकला बनाकर चला जाता है…दुःख आता है तो दबोच कर गया लेकिन फिर भी सुख देकर चला गया तो सुख दुःख कि थप्पड खाई…तो ये सुख दुःख तो आने जानेवाली चीज है इसके सिर पे पैर देकर ऊपर उठे ..

….श्रीकृष्ण कहते कि , मेरे नजर  मे वो परम योगी है , जो सुख से खोकला नही होता और दुःख से भयभीत नही होता.. !

सुख सपना दुःख बुलबुला , दोनो है मेहमान  l
दोनो ही त्यज दीजिए , आत्मा को पहेचान..  ll

…याद रखो…सुख मे कूदो मत ..ज्ञानी मख्खी होती है कढाई के किनारे किनारे बैठ के अपना काम बना के चली जाये …और मूर्ख  मक्खी सारे के लालच मे कढाई के अन्दर घुसती और डूब मरती है…ऐसे ही सुख आये तो ऊपर ऊपर से किनारे किनारे से काम लेलो और निकल पडों..उसी मे डूब कर मरो नही…ज्ञानी लोग ऐसे ही मुक्त होते है..आप कौन बनोगे ? सुखो मे डूबोगे नही..दुखो मे पचोगे नही..पक्की बात है ? 🙂

**  माईयो को तिलक करने आज्ञा दी है भगवान ने…लेकिन जो माईया प्लास्टिक की बिंदी लगाते ,चिपकाने वाली बिंदी लगाते तो ये जान ले कि वो चिपकनेवाली चीज मरे हुए जानवरों के चरबी से बनती है..और बिंदी से हानी होगी , तिलक का लाभ नही होगा…तिलक लगाए तो हल्दी का लगाए , कुमकुम का लगाए , चंदन का लगाए, तुलसी के मिटटी का लगाए…और कुछ भी नही लगाना तो सिर्फ हाथ की उंगली से तिलक लगाने की जगह रगड़ दे तो भी ठीक है…लेकिन प्लास्टिक की बिंदी , चिपकाने वाली बिंदी नही लगाए….उससे बहोत हानी होगी….तिलक करो..तिलक करने से सूझ बुझ बढती है , सौभाग्य बना रहेगा , निर्णय क्षमता विकसित होगी ..माईयो को तिलक जरुर करना चाहिऐ….लेकिन प्लास्टिक से  बनी या चिपकाने वाली बिंदिया नही लगाए..मुझे  वचन देते हो ? …वचन देते हो तो हाथ ऊपर करो…वाह..शाबास !!   🙂  …मुझे  मेरी दक्षिणा मिल गयी…. !!

  पान मसाले की आदत छोडो…उसके लिए उपाय है..

**  पान मसाले बनाते तो उसमे मरे हुए कीडे होते है..उसमे जो सोपारी डालते उसमे कीडे होते तो उसको पान मसाले मे डालते है..और लोगो को आदत पड़े इसलिए इतनी गन्दी गन्दी चीजे पान मसाले मे पड़ती है तो खानेवाला का पाचन  कमजोर होता है , मुंह  में  छाले पड़ते , ऐसिडीटी बढती है , चमडी की बीमारियाँ  होती है… पान मसाले कि आदत छोडो…
उसके लिए उपाय है..:-
सौफ अजवयिन  भुनकर  काला नमक  लगाकर मुखवास बना लो और जब भी पान मसाला खाने की इच्छा  हुयी इस  मिश्रण को खा  लो तो पान मसाले की आदत छुट जायेगी ,  और उसके कारन जो बीमारिया पीछे  लगी है वो भी दूर हो जाएँगी…तो छोड़ोगे पान मसाला..? हाथ ऊपर करो… आप को शाबास है.. !   🙂  मिल गयी मुझे  दक्षिणा…!

** शरीर को सब  से पुष्टि दायक चीज क्या है?
   शुध्द हवा ..     🙂  !
– शुध्द हवा रोम मे भरे…श्रीकृष्ण वन-गमन करते थे..आप को भी समय मिले तो खुली हवा मे जाओ… 

**    माईयो मे खून कि कमी है तो लोहे के बर्तन मे पानी आदि जोभी खाते – खाए पिए तो घुटनों का दर्द भी  कम होगा और शरीर मे लोह ( आयर्न ) भी बढेगा…और खाने मे मनुका किशमिश आदि का ज्यादा उपयोग करो..हीमोग्लोबिन बढेगा तो नया खून भी बनेगा….आंवले  का चूर्ण लिया करो , चवनप्राश  ले लिया , तो फायदा होगा…  चवनप्राश वो बझार वाला नही ,  जो ५६ चीजो से बनता वो ही रंग लाएगा..आप घर मे भी बना सकते या समितिवाले बनाते है वो ले ले.. नही तो आंवले का मावा बनाकर रख लो..एक किलो आंवला लिया ,कुकर मे थोडा सा पानी डालकर आंवले को एक सिटी दिया..उसमे शुध्द  घी और मिश्री ( बड़ी शक्कर ) मिलाकर रख लो..और रोज खाओ  ..दुर्भाग्य से अभी इतना पोष्टिक घी नही मिलता पहले 36mr का घी मिलता अभी 23mr  का मिलता है…डेआरी वाले  तत्व निकल लेते है , इसलिए पहले जैसा पोष्टिक  घी नही मिलता …इसीलिए आश्रम मे ५००० गाय है…

 **    कल के सत्संग मे चश्मे उतरने के लिए त्रिफला रसायन का प्रयोग बोला है , उसका भी फायदा जरुर ले..( कृपया जादा जानकारी के लिए इसी ब्लॉग पे  9/10/07 सत्संग) पढिएगा ) उससे नाड़ी तंत्र ठीक होता है , रक्त के श्वेत कण बढ़ते है , नाडियों का शुधन होगा..तो आंखो की रोशनी अच्छी होगी…..६० दिन का प्रयोग करे  ( ६० दिन का प्रयोग कराने के लिए १३५० ग्राम रसायन लगेगा..)..गुनगुना पानी पिए ….  फालसी मलेरिया के कारन अंग्रेजी दवायियोंसे  मेरी आँखे कमजोर हो गयी थी कानोसे कम सुनने लगा था..लेकिन मुझे  त्रिफला रसायन से बहोत फायदा हुआ..आँखे ठीक हो गयी , चश्मा उतर गया ..पहले मैं  ५७ साल  का बुढढा था अभी ६८ साल का जवान हूँ….      🙂
 
**    कानो मे हफ्ते के एक आध  बार सरसों के तेल के २/३ बूंद लगाकर सोये तो बुढापे मे भी कानो की सुनने की क्षमता अच्छी रहेगी..मेरे गुरुदेव ९० साल की उमर मे भी अच्छी तरह  सुनते थे.. मुझे  भी अंग्रेजी  दवाईयों से सुनना कम हो गया था , लेकिन अभी अच्छी तरह सुनाई देता है…

**   जिनको पेट कि तकलीफ है वो त्रिफला से चली जायेगी लेकिन जिनको पेट मे कृमि है उनको रोज तुलसी के ५ बिज चबाकर खाने चाहिऐ..इतवार (रविवार / सन्डे) को नही खाए.. सूर्योदय के बाद और दिन के १२ बजे के पहले तुलसी के पत्ते या फूल   तोडे  … १२ बजे के बाद तुलसी के पत्ते या फूल  तोड़ने से पाप लगता है..

**     बिल्व के पत्तो कि पोवडर कर के रखो , वायु की तकलीफ है तो बिल्व के पत्तो की पोवडर थोडे पानी मे भिगाकर रखो और वो घोल से रगड़ रगड़ कर स्नान करो तो वायु कि तकलीफ नही रहेगी..बुढापे मे वायु की तकलीफ ज्यादा होती है..

**   बचपन मे  कफ  की तकलीफ ज्यादा होती है..हम ने बच्चो के लिए तुलसी के बिज डालकर टोफ्फिया बनवाई है , जिससे स्वाद बहोत बढिया आया है और  कफ़ के साथ पेट कि भी सभी तकलीफे दूर हो रही है…बच्चे बझारवाले चोकलेट  खाते तो उसमे केमिकल रहते , जिससे  बच्चो का लिवर खराब होता है.. तो बच्चो की चोकलेट  खाने की आदत भी छूटेगी .. ..ये तुलसी के बिज वाली टोफ्फिया बच्चो को देना ,  दूसरो को भी बताना और घर मे कोई आये तो उनको भी प्रसाद रूप मे देना…

**   ग्रहण के समय पानी मे तुलसी के पत्ते डालकर रखेंगे तो अशुध्द  नही  माना जाता..५ लीटर पानी मे ५ तुलसी के पत्ते डाले..हर घर के आँगन मे तुलसी होनी ही चाहिऐ , इससे वातावरण  शुध्द  रहता है..घर के पश्चिम मे पीपल का वृक्ष होना अच्छा है , घर मे लक्ष्मी और प्रसन्नता रहेती है.. बिल्व का पेड़ भी घर के पास होना बहोत अच्छा माना जाता है , लेकिन उसकी छाव को नही लांघना चाहिऐ…इसलिए कोने मे लगाए.. एकादशी के दिन बिल्व के वृक्ष कि पूजा करने से बहोत पुण्य होता है , ब्रह्म हत्या का पाप भी नष्ट होता है…

**   ४५ साल से ज्यादा उमर हो  तो दोनो हाथ कि उंगलिया मिलकर हाथ गोद मे रखकर बैठने से बुढापे  की कमजोरी जल्दी नही आएगी….प्राणायाम करते समय ,ध्यान करते समय इसी स्थिति मे बैठे ..या प्राणायाम ध्यान नही करते तो भी दिन में  २/३ बार १०/१५ मिनट  ऐसा बैठने  से लाभ होगा..

    जादुई प्राणायाम   (बापूजी प्राणायाम करवा रहे है..)

   ..- लम्बा श्वास लो ,
    –  पेट को अन्दर दबोच के रखो ,
   –   शौच  कि जगह सिकुड़ लो…
   –    एक मिनट श्वास को रोक के रखना है….
– ..विचार करो शरीर अनित्य मैं  चैत्यन्य ..मेरे साथ भगवान है..ॐ शांति , ॐ माधुर्य  , ॐ  आनंद….
 – एक मिनट हो गया ..रोका हुआ श्वास छोड़ दो…
.- .अब श्वास लेना नही ४० सेकंड तक…
–  भगवान का प्रीति पुराव्क स्मरण करो.. जिस स्थिति मे अच्छा लगे आप भगवान को प्यार कर सको…
– अब हो गए ४० सेकंड ..श्वास ले लो…
-तो पुरा मिलकर हो गया एक प्राणायाम..ऐसे ७  प्राणायाम  रोज करते तो आप की तबियत ठीक होने लगेगी , पाचन तंत्र ठीक , अनिद्रा चली जायेगी , खून कि कमी ठीक ….ये प्राणायाम लगता साधारण है लेकिन असाधारण फायदा करता है…सूर्य आने से अँधेरा दूर होता है, सभी रोग जंतु नष्ट होते उसी प्रकार ये प्राणायाम से सभी बीमारिया दूर  होती है..

सत्संग महिमा (राजा अज्ज की कहानी)

…..राजा जनक ने देखा कि सत्संग के बहोत लाभ है..  सत्संग के  बिना आत्मा का प्रकाश  नही मिलता..    ज्ञान नही  है तो आदमी कितना भी राजा महाराज हो तो भी उसका दुःख नही मिटता तो सत्संग का महत्त्व जानो..सत्संगति के द्वारा ही जनम मरण का अंत होता है…..मुक्ति कि अनुभूति इसी सत्संग के द्वारा होती है.. …सत्संग का महत्त्व है , इसका  पुण्य महा कल्याणकारी है…सत्संग कि महिमा अपरम्पार है….राजा जनक को सत्संग से लाभ हुआ  और  भगवत  प्राप्ति हुयी तो उन्होने  पूरी प्रजा को भी सत्संग से लाभान्वित  करने के लिए सत्संग का आयोजन किया..

…अष्टावक्र महाराज सत्संग मंच पे आये इतने में  एक भयंकर काला सांप  आया…….सभा मे आगे आगे सांप  आये तो लोग जरा दहेल  गए.. त्रिकाल ज्ञानी अष्टावक्र  महाराज ने सांप  को देखा..समझ  गए की  ये सांप  साधारण नही है..मिथिला का भूतपूर्व राजा अज्ज है..अष्टावक्र महाराज ने सभा के  लोगो को बोला कि , सभा मे ये सांप  तुम्हे काटने को नही आया ..ये इसी मिथिला नगरी का राजा अज्ज है…. सत्संग सुनके अपने पापो को नष्ट करेगा…सत्संग के पूर्णाहुति कि बेला आएगी तो उसको दिव्य शरीर मिलेगा..इसी के मुंह  से आप इसकी आप बीती सुनोगे ऐसी मैं  व्यवस्था करूँगा..सत्संग चलते चलते पूर्णाहुति कि बेला आई… जब पूर्णाहुति कि बेला हुयी तो जो सांप  कुण्डी मारकर बैठता था और सत्संग सुनता था तो  वह बार बार  अपनी फण  उठाए और पटके..फिर उठे फण / सिर पटके..ऐसा ५ -२५ बार फटके लगने से  कंकर पत्थर लगा …जब खून निकला तो ऊसकी  जिव कि ज्योति बाहर निकली और देखते देखते ऊसमे से एक दिव्यपुरुष  देवता के रूप मी प्रकट हो गए ..लोग देखते रहे गए…वह देव पुरुष आगे बढ़ा…ऊसने राजा जनक का माथा सुंघा..अष्टावक्र को प्रणाम किया.. अष्टावक्र महाराज ने कहा कि “मैं  तो तुझे  जानता हूँ , लेकिन ये सत्संगियो को तुम अपनी आप बीती सुनाये..”

 ..तब  वो देवपुरुष राजा अज्ज कहने लगे कि, “मैं  इसी मिथिला नगरी का राजा जनक से ६ पीढ़ी पहले का राजा अज्ज हूँ ..किसी कारन वश मुझे  मरने के बाद ऐसी तुच्छ  योनिया मिली…
यमराज के पास मृत्यु के बाद   गया तो यमराज ने कहा  मुझे की , ” १००० वर्ष साप और अजगर कि योनी मी तुम्हे दुःख देखना पड़ेगा….”
मैंने यमराज से हाथ जोड़कर कहा कि , “हे यमराज, मुझ पर  कृपा करो…१०००  वर्ष … ऐसी योनियों में    ?…..” तो यमराज ने कहा, “अगर कोई आप के कुल मे – कोई कुलदीपक, बेटा ,बेटे का बेटा या जो आप के वंश मे जन्मा  है वह अगर सत्संग करवाए या सत्संग के आयोजन में  भागीदार हो तो तुम्हे अपने कर्मो से छुटकारा मिल सकता है…” 
 तो राजा अज्ज ने कहा कि,  “हे संयम  पूरी के देवता!…मुझ पर कृपा करे कि ऐसा आयोजन हो तो मुझे  वहा  उपस्थित होने का लाभ मिले..जो अपने कुल की संतान की द्वारा सत्संग हो रहा  हो तो मैं  वह सत्संग का माहोल  नीहार के अपनी आँखे पवित्र करू.. सत्संग के वचन सुनकर अपने जनम जन्मांतर के पाप-ताप  निवृत्त करके ज्ञान का प्रकाश  पाऊं .. हे सय्याम पूरी के देवता ! आप अगर कृपा करे तो  ये वरदान दे सकते है.. ”  यमराज प्रसन्न होकर बोले कि, “बाढम बाढम  !!  (बढिया बढिया)  साधो साधो! तुम्हारी मांग ..सत्संग कि मांग..सीधी साधी है ..एवं अस्तु!”
फिर  मैं  चन्द्रमा के किरणों के द्वारा गिराया गया ..कई तुच्छ योनियों मे भटकते भटकते अजगर  बना… रात को पेट भरने को निकलता… मेंढक या ऐसे ही जिव जानवर का शिकार करता..शिकार नही मिले तो मरा हुआ प्राणी जिव जानवर खाता … कभी वह भी न मिलता तो भूके पेट लौटता.. …तो कभी पेड़ पर गोलमटोल चढ़कर पक्षियोके  घोसलो मे से ऊनके अंडे या बच्चे  को चबा लेता… एक पूनम के रात मैं  वह शिकार मिलने मे भी विफल रहा ..पक्षी मिलकर किल्होल करने लगे.. प्रभात काल मे अपने बिल  कि तरफ लौट रहा  था ,  तो चांदनी के कारन लोग जंगल मी लकडियां और घांस लेने के लिए घसिरिये  जल्दी आ गए थे..उनकी मुझ पर  नज़र पड़ी..  ..  तो मुझे  देखकर लोगो ने शोर किया “पकडो पकडो मारो मारो”..  मैं  जल्दी जल्दी अपने  बिल   में  घुसने लगा .आधे से जादा घुस गया तो लोगो ने पथ्थर से, लकडी से मेरी पुच्छ पर प्रहार किया…. घसीटते घसीटते कैसे भी मैं  बिल  के अन्दर घुसा…लहूलुहान होकर पुच्छ घसीटता अन्दर गया ..सोचा कि कुछ आराम पाउँगा.. लेकिन भाइयो जिन्होंने हरि में  सत्संग के द्वारा आराम नही पाया , वह राज पद  से च्युँत  होकर क्या आराम पाएंगे.. मेरे खून कि गंध जंगल के किडियो को आई और चिंटियों की, किडियोकी  कतार लग गयी..किडियो ने मेरी पुच्छ को नोच डाला ….किडियो से जान छुडा नही सकता था.. कहा तो “राजाधिराज  महाराज अन्नदाता पधार रहे है..” और कहा छोटीसी किडिसे भी जान नही छुडा सकते….सत्संग के बिना तो राजा महाराज की भी दुर्गति होती है.. ..
….इसी लिए मनुष्य को बडे से बडे पद  पर  आरूढ़ हो कर अथवा बडे बल पर  गर्व अभिमान नही करना चाहिऐ  ये पद   सदा नही रहेंगे ..ये पद  , ये शरीर आ आके छुट जायंगे फिर भी जो सदा रहने वाला परमेश्वर है… उस परमेश्वर  के ज्ञान का, उस परमेश्वर के  नाम का, उस परमेश्वर कि प्रीति का प्रसाद नही पाया इसके लिए मैं  परेशान हो रहा  था ….इस  परेशानी को मिटाने के लिए आपको प्रार्थना करता हूँ , कि आप लोग सत्संग करना..

….मैं  राजाई के गर्व से बर्बाद हुआ ..किडियो के द्वारा नोचा गया …कष्ट पाए.. .. एक दिन बिता.. दूसरा दिन बिता.. तीसरा दिन बिता..चौथा दिन…चौथे दिन की रात कहर हो गया ..  बेहोश होकर पड़ा रहा .. कहाँ तो तेजस्वी यशस्वी राजा महाराज.. चंवर डुलाती ललनाएँ  और कहाँ  ये स्थिति  … ” जाने कर्मणे गति.. ” ….सातवे दिन मेरे प्राण निकले… बहोत दुखी होके मरा …ऐसे कष्ट पाए..फिर जनम पाया ..एक अंडे से बाहर निकला तो मेरी माँ सर्पिणी थी उसी ने मुझे  निगल लिया..कैसे कैसे जन्म पाए और मरता रह.. ..लेकिन अब बाकीके ७५० वर्ष मेरे माफ हो गए..
…इतने मी पुण्यशील और सुशील पार्षद प्रकट हुए..उन्होने  अष्टावक्र महाराज के चरण मे प्रणाम किया.. कहा कि,  “हम तो गुप्त रूप से सूक्ष्म रूप से रहते है ..लेकिन आप कि महानता है इसलिए हम प्रकट हुए है..आप के भक्त को ले जाने के लिए आये है..आप के भक्त को ले जाने कि अनुमति दीजिए..”  अष्टावक्र  जी ने “तथास्तु” कहा… हाथ से आशीर्वाद का संकेत किया…राजा अज्ज को  विमान में  बिठाकर ले जा रहे है..जनक उनको विदाई देने के लिए अभिवादन कर रहे है ….
…आप भी आप के घर मी कोई आये तो उसको बिदाई देने के लिए ४ कदम चलकर जाना ये गृहस्थी जीवन कि शोभा और पुण्य बढ़ता है..  तो राजा जनक ने देव पुरुष(राजा अज्ज) को विदाई दी..राजा अज्ज आकाश मार्ग से अंतर्धान हो गए..
..अष्टावक्र  महाराज  ने राजा जनक को दीक्षा दी… अष्टावक्र महाराज से राजा जनक  मधुभरी वाणी और  चिंतन  से कहता है कि,  “महाराज आप योग सामर्थ्य कि कुंजिया देनेवाले हो..मुझे   योग विद्या दीजिए .. जिससे मैं  ये शरीर यही रखकर सूक्ष्म शरीर से स्वर्ग मे सात पीढ़ी का दर्शन करू  .. हमारे  जो सात पीढ़ी का कल्याण हुआ ये कथा को सुनने और कथा  मे  साझीदार  होने से , ये मैं ने प्रत्यक्ष देखा, .. तो जो स्वर्ग मे  होंगे ऊन पूर्वजो का दर्शन करू..उन्हें अभिवादन करू..” 
अष्टावक्र महाराज की कृपा से राजा जनक सूक्ष्म शरीर से स्वर्ग मे पहुंचे..लेकिन वहा यमराज ने कहा कि “तुम मरकर नही आये हो तो स्वर्ग नही जा सकते…. लेकिन राजा जनक आप ने तो सत्संग का प्याऊ लगाया.. पुण्य प्राप्त किया तो मैं  तुम्हे मदद करता हूँ .. स्वर्ग तो देखोगे लेकिन  ऊसके पहले  रौरव  नरक,  कुम्भी पाक नरक और ऐसे कई दुखी आत्माओंके  इलाको के गुजरते मेरे अनुचर तुम्हे स्वर्ग के पीछे के दरवाजो से ले जायंगे..”   जनक जी जब वहा पहुंचे तो देखा कि , “हाय  कष्ट! हाय  दुःख!”..वहा तो कई नारकीय जिव पीडा सह रहे थे..राजा जनक ने पूछा ये “ऐसा क्यो?   क्यो  ये  आक्रांत है ? ”  
तो यमराज के अनुचरों ने कहा कि  … “पुण्य का फल चाहते और पुण्य नही करते ऐसे लोगो को यह यातना दी जाती है… पाप करने से , चालाकी करने से नरक की यातना द्वारा शुध्दिकरण  होता है”  …..इतने मे वहा के पीड़ित नारकीय जिव बोलने लगे कि , “राजा तुम जुग जुग  जियो !! ”
जनक राजा को आश्चर्य हुआ…….राजा जनक  को जुग जुग जियो आशीर्वाद दिए….. बोले की , महाराज , आप ने गुरु से दीक्षा ली आत्म विश्रांति पाई है ..करने की, जानने की और मानने की शक्ति से राजा जनक को सत्संग द्वारा ,ज्ञान द्वारा शांति मिली , ईश्वरीय आनंद पाया.. आतंरिक शांति मिली है…तुमने ब्रह्म ज्ञान पाया है ..आप को छूकर जो हवा आ रही है , वह हमारा  दुःख मिटा रही है…बड़ी शांति मिल रही है..कृपा बरसती है… पापियोके पाप मिटाकर शांति दे रही… सत्संग से ज्ञान मिलता है… सत्संग से राजा जनक अमर आत्मा  परमात्मा  मे विश्रांति पा रहे थे .. तो उनकी पुण्याई और यश से नारकीय जिव भी अपने पापो से मुक्ति पा रहे थे….!

..सत्संग से मनुष्य को ऐसे लाभ मिलते है..आज के युग मे तो हम भी नारकीय जीवन जी रहे है..कलियुग मे निर्धनता से पुरा समाज पीड़ित है..निंदा ,बीमारिया , दुःख से विश्व मे सभी नारकीय जीवन जी रहे है.. ऐसे दिनों मे  सत्संग का प्रभाव बहोत भारी है.. सच बताओ कि , अभी आप  सत्संग सुन रहे हो तो अध्यात्मिक तरंग जा रहे है , पपियोंके पाप शमन कर रहे  है…अध्यात्मिक  वातावरण  … सब से – सब  मंगल ही मंगल हो रहा  है …माधुर्य आ रहा  है .. तभी बैठे हो… !

आरती हो रही है…. ॐ जे जगदीश हरे..
प्रार्थना हो रही है…. कर्पूर गौरम करुणावतारम…


-जहाँ  सूर्य वहा रोशनी ,
-जहाँ  चन्द्र वहा चांदनी ..
-जहा कुसुम  वहा  सुगंध,
 -और जहाँ  संत वहा सत्संग…     🙂
 

..शुकदेव महाराज ने राजा परीक्षित को सत्संग सुनाया तो शुकदेव जी महाराज जैसे शुध्द  महापुरुष के कीर्तन मे भगवान  श्रीकृष्ण , नारद अपनी वीणा सहित  गुप्त रूप से वहा पहुंचे..इन्द्र भी ऐसे मौक़े का फायदा  उठाया ..जो भगवान से प्रीति करते है वोही समज़ते है कि ये अनुभूति क्या होती है…इस   दिव्य अनुभूति के राज्य मे जिसको प्रवेश मिल गया वो  धन्य है..भगवान नारायण नारद जी को कहते है कि ,  ” हे नारद,  मैं  निष्काम कर्मयोग से प्रगट होता हूँ ..कई बार मैं  योगिये के ह्रदय  भी लाँघ जाता हूँ …  लेकिन जहाँ  सत्संग है वहा  मैं  अवश्य होता हूँ …”

 “न मी वसामि वैकुंठे ,
योगिनाम ह्रुदयेम ब्रूहि…
मदभक्ता  यत्र गायंत्री ,
तत् प्रतिष्ठामी नारदा …  “

तो ऐसे पुण्य कि कमाई करनेवाले आप सभी को मैं  शिवजी कि तरफ से धन्यवाद देता हूँ …
धन्यो माता पिता धन्यो , गोत्रं धन्यो कुलोदभव l
 धन्याच  वसुधादेवी ,यत्र स्यात गुरु भक्तता:
  ll

सरल साधन


आप जब कीर्तन करते तो थोडी देर चुप बैठे तो मन  की समाधि का सुख मिले…रात्रि को सोते समय जैसे बच्चा माँ कि गोद मे सोता है वैसे हमारी  इन्द्रिय मन  मे , मन  बुध्दी मे और बुध्दी से हम भगवान कि गोद मे  सोते है, तो ऐसा सोये  ..…
-श्वास अन्दर गया “ॐ आनंद” बाहर आया -१ ,
-श्वास अन्दर गया “ ॐ माधुर्य” बाहर आया -२ ,
-श्वास अन्दर गया “ ॐ शांति ” बाहर आया -३
….ऐसे गिनती करते करते सो जाये…
…..माला श्वासोश्वास की फिरती रहे दिन-रात…!
…आप कि नींद योग निद्रा मे बदल जायेगी…
— मति , गति , स्थिति मे चित्त को विश्रांति मिलेगी…! भगवान से प्रीति बढेगी.. !!
–कर्म करो – कर्म करके करम बन्धन फसने के लिए नही …उस परमेश्वर मे अपने अहम का मैं  मिला  दो तो कर्म बन्धन नही बांधेगा…!!
— सच्चाई करो…दूसरे का हीत का सोचो…अपने लिए न्याय  और दूसरे के लिए उदारता रखो तो रिध्दी  सिध्दि  आप के चरणों मे आएँगी…
-नियति अपना कार्य कराती है… दुःख मे दुखी परेशान होना नही , सुख आया तो सुख सरकने वाला है ..सरकनेवाली चीजो का  ‘ बहुजन हिताय बहुजन  सुखाय ‘  उपयोग कर लो…
-शरीर ,  मन  , बुध्दी से शांत और स्वस्थ रहे …. तो आप संसार मे रहते हुए भी जोगी नही सहयोगी बन जायेंगे..आनंद और शांति पाएंगे….कठिन थोडे ही ही ? आप का कर्म योग , भक्ति योग , ज्ञान योग का सरल साधन है….जो अधर्म करते है नीच योनी मे जनमते मरते रहते है… जराजरा बात मे दुखी होना , सुख आये तो उसमे कूदना.. ..तो कुत्ते जैसा जलेबी देखी तो पूंछ हिलाये और डंडा देखा तो पूंछ दोनो पैरो मी डालकर भागे….तो आप वैसे ही हो गए……क्या जराजरा बात मैं  दुखी  होना ? चिंता करना ?

चिंता से चतुराई घटे l
घटे रूप और ज्ञान  ll
चिंता बड़ी अभागिनी l
चिंता चिता समान   ll
तुलसी भरोसे  राम के  l
निश्चिंत होई के सोये   ll
अनहोनी होनी नही  l
होनी होए सो होए.. ll
 
..’ भगवन नाम की महिमा’  और ‘ नारायण स्तुति’ पढे, बच्चे ‘युवाधन’  पढे…तो कुसंगत से बचोगे..पढाई मे सफलता आएगी….
..आप को सत्संग सुनकर जो भी आनंद आया , माधुर्य  आया , भगवत रस आया तो वो  मेरे गुरुदेव का था..और जो भी खारा खट्टा आया होगा तो मेरी गलती थी…कल का सत्संग सरमथुरा मे होगा और फिर आत्म साक्षात्कार दिवस  का सत्संग आगरा मे शाहगंज मे होगा..
 नारायण नारायण नारायण नारायण नारायण
ॐ शांति…..


 हरि ॐ! सदगुरूदेव की जय  हो!!!!!
(गलतियों के लिए प्रभुजी क्षमा करे…..)  
 

Advertisements
Explore posts in the same categories: Uncategorized

4 Comments on “Manushya ke shatru….Gwalior satsang_live(10/10/07)”

  1. Naveen Says:

    Sadho!! Sadho!!
    Kaisi sundar seva hai, Sai aap par bahut khush hote honge.

    Hari Om

  2. Lola Says:

    This design is spectacular! You definitely know how to keep a reader amused.
    Between your wit and your videos, I was almost moved to start my own blog (well,
    almost…HaHa!) Wonderful job. I really enjoyed what you had to say, and more than that, how you presented it.

    Too cool!

  3. Selene Says:

    Quality content is the main to be a focus for
    the people to visit the website, that’s what this web site is providing.


  4. Pretty nice post. I just stumbled upon your weblog and wished to say that I
    have really enjoyed browsing your blog posts.
    After all I will be subscribing to your

    feed and I hope you write again very soon!


Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s


%d bloggers like this: