Manushya janm kyo?..satsang_live(8/10/07)Gwalior

Monday, 8th Oct. 07, IST:7PM

( From Gwalior )

**************

Param Pujya Sadgurudev Sant Shri Asaram Bapuji ki Amritwani :-

************** 

 In Hinglish( Hindi written in English)

 ( for Hindi please scroll down )

Aarati ho rahi hai..om jay jagadish hare..bhakt jano ke sankat das jano ke sankat kshan me door kare om jay jagadish harejo dhyave phal pave dukh binashe mann ka swami dukh binashe manka,,sukh samamptti ghar aawe kasht mite tan ka..om jai jagadish hare.. mata pita tum mere sharan gahu mai kisaki swami sharan gahu mai kiski..tumbin aur na duja swami bin aur na duja aans dharu jisaki om jai jagdish hare..

tum puran paramatma tum antaryami par brahm parameswahar tum sub ke swami..om jai jagadish hare..

tum karuna ke sagar tum palan karta..mai murakh khal kami , mai sewak tum swami krupa karo bharta..om jai jagadish hare

tum ho ek agochar sub ke pranpati..kis vidh milu dayamay tumko mai kumati…. om jai jagadish hare..

din bandhu dukh harta tum thakur mere swami tum rakshak mereapane hath uthao,apani sharan lagao dwar pada tereom jai jagdish hare..

vishay vikar mitao paap haro deva..swami kasht haro deva..shradhha bhakti badhao, shradha priti badhao santan ki sewa..om jay jagdish hare

tan man dhan hai tera swami sub kuchh hai tera tera tuzko arpan , tera tuzko arpan kya lage mera..om jay jagdish hare..

swami muze na bisariyo chahe lakh log mil jaye..hum sam tumko bahot hai, tum sam humko nahi..din dayal ko binati suno garib nawaz ..jo hum put kaput hai to hai pita teri laaj..hari hari om hari om …..

sachcha sukh ….….

sone ki katori hai, sone ke glass hai …chandi ki thaliya hai, kitana bhi sukh hai lekin bahar ka vaibhav hai , andar ka vaibhav nahi to shanti pana kathin ho jata hai…duniya ki sabhi chije mili lekin ek chij nahi hai mili ,  to shanti nahi milegi…sachha gyan  ka aatmsukh, shaswat sukh , bhakti ka sukh jab tak nahi paoge tab tak duniya bhar ki chijo mey sukh dhundhate huye phiroge lekin sukh nahi milega….Sandhya ke samay dekhate ki kitane jiv jantu hai diya jalao to dikhate hai..sandhya hoti hai to vikaro se bhatakane lagate hai..kya hum insan hokar bhi un jiv jantuo jaise ho rahe hai, socho….nahi to jaise hi sandhya hoti hai raat hoti hai to.. hey sharab tu sukh de..hey pan masala tu sukh de..hey kamvikar tu sukh de.. hey perfume tu naak ko sukh de….indriya sukh ko hi sachha sukh man rahe…to hum bhi wo jiv jantuo jaise nahi ho rahe hai kya?

Aap ka manushya janm kyo? 

Manushy ke mastak mey 2 arab koshikaye hai..usame se 1% koshikaye vikasit ho jati hai to duniya mey budhdiman kahelata hai..duniya ki sabhi vidya sabhi gyan wo pane ki kshamata rakhata hai… Sirf 1% koshikaye nuron vikasit hone pe use budhhiman mana jata hai..lekin baki ke nuron vikasit nahi huye hai..1 % nuron/koshikaye vikasit hone se manushy budhhiman ho jata hai, pratibha sampann ho jata hai..ek ek grah nakshatr ko chalit kar sakata hai , etani takad usame aa jati hai.. lekin kitane durbhagy ki bat hai ki karodo varsh se manushya es dharati pe hai lekin kitani yogyata vikasit kar paya hai?Sant kabir  kahate hai..murakh granthi khole nahi…Purusharth ko mahatv nahi dete..bas falatoo ki bate jutane mey kangale ho gaye hai…degree mile..nokari mile..makan mile..pati mile ..patni mile..ye mile wo mile.. .phalatu ki chije bator ne mey, khojane mey sari jindagi tabah kar dete hai..jhut ,kapat ka sahara lete hai..are manushya tuz mey kitani shakti hai…use jaan le..khud ko pahechan le..

Insan ki badbhakti andaj se bahar hai

Kambakht, khuda hokar banda najhar aata hai…

Andar ki chetana ko jagao..andar ki chetana jagi , bhakti hai to khuda ko pa lega…itani shakti hai insan tujh mey! sansar mey sukh khojana kusang hai aur sachche sukh ka tarika janana satsang hai..satsang ki to.. 

ek ghadi adhi ghadi aadhi mey puni aadh ,

tulasi sangat sadh ki hare koti aparadh..

satsang se agyan door hota hai .. jaise :-

* nange sir dhup mey ghumane se smruti kamjor hoti hai ,

* amavasya , poonam ke din sambhog karane se vikalang bachche paida hote hai..

* holi ,diwali , janmashtami aur shivratri ko sambhog karane se sharir ki shakti nasht ho jati hai , sharir ka nukasan ho jata hai …. kaam bhi garbhdan karane ke liye … nahi to phir rona hai..

* bhojan bhi jyada khaoge , maja lene ke liye khayenge to bimar padenge....

…to aisi bate samazi satsang se to kitana phayada hota hai..satsang na hone ke karan  kitane hi log vikari jagat mey pareshaniyon ke khayi mey jite  ja rahe hai....satsangiyo ke karan kitani hi achhi  paramparaye chal rahi hai.. sewa ke kam hote rahate.. sujh bujh badhati hai..subah 20-25 minute bhagavan ko yaad karo to din achcha jata hai..raat ko bhagavan ka vichar kar ke sone ka tarika satsang se jaan lo to raat unnat ho jati hai..kam karane se pahale bhagavan ka naam lo to kam achha hoga aur baad mey bhi wah karm bhagavan tumhari krupa  se ye kam hua , uska phal bhagavan ko arpan karo to karm bandhan se bhi bachate ho..subah uthakar bhagavan mey  thodi der chup ho jao to deemag ke navanu (nuron) bhi vikasit hone lagenge..saarswatya mantr liya to kitane bachcho ko phayada hua hai… ek ladaka bhaise charata , rat ki basi roti dusare din khata tayar ki adhayi rupaye ki chappal pahenata… lekin unnat hone ka tarika jaan liya to unnat ho gaya..abhi go-air mey engineer hai.. dedh lakh pagar kamata hai ..diksha se kshitij soni mey kitana parivartan aaya… ajay mishra  jo 50 % marks lata , school se nikalane ki dhamaki mil gayi thi lekin diksha se tarika jaan liya to nokiya company mey manager ban gaya adhai lakh pagar kamata hai..kathin hai kya? Budhhi ka vikas kaise karana hai esaka tarika jaan lo..shradhha bhakti se lage raho to Ishwar ko paa sakate ho..to ye sab pana to  bahot chhoti bate hai… to aisi chhoti bato mey jeevan ko nash karate ho?

Sab ke bhitar ram… murakh granthi khole nahi..aise karm kyo?

Kaisa hoga brahmgyan?

Aap ke budhhi ka lakh-va hissa budhdi sirf vikasit hoti hai…. baki ki chhupi hai…chhupi huyi budhdi ka upyog karana hi satsang hai..aatm gyan se bhagavat bhakti karo to loklokantar mey ja sakate hai..(bapuji ne gandharv jagat ke bare mey bataya)manushi sukh ke sau guna (multyply by 100)  sukh gandharvo ke pas hai….gandharvo se  sau guna sukh devatao ke pas hai ..aur devataonse sau guna sukh devo ka raja Indra ke pas hai..Indra ke pas aisa sukh hote huye bhi Indra brahmgyani ke samane  bauna hai to kaisa hoga brahmgyan….! J

..ek se ek  achhe aur sachche manushya hai lekin apana sukh kahi aur manate hai… koi  kam mey , koi dhan mey to koi maan mey sukh khojata hai …lekin achhe log hai jo maan karane yogya  insan hai unase kai guna jyada maan rashtrapati ko hota hai..kyoki maan sanman  to rashtrapati ke dwara milata hai ,.. rashtrapati se kai jyada maan sanman , dhan aur sukh to raja Indra ke pas hai , lekin wo bhi brahmgyani ke aage khud ko bauna kahata hai..to aise brahmgyani ke satsang dwara jo bhi samajh mey aata hai usake anusar thoda bhi chale to kaam banata hai…

Agar sadhana adhuri rahe gayi…..

….Samazo ki satsang karate , aap ki aatmgyan ki  yatra puri nahi huyi aur mar gaye to bhi  aap jo bhi sadhana karate  , shubh karm karate to “sat” ki abhilasha se karate… karanewala “sat” ki abhilasha se karata to “sat” to sada rahata hai, sharir sada nahi rahata ….. chetana “sat” hai , sada sath rahata hai… sharir yaha chhodenge ,  lekin hum marane ke bad bhi vishranti lenge swarg mey..punya kharch nahi honge…  mai Switzerland se america gaya to Switzerland mey ek jagah muze rukana pada , to unko mera khayal rakhana pada.. mere rahane ka , khane pine sone ki jimmedari unaki ..waise hi aap sadhana karate karate mar gaye , sadhana puri nahi  huyi to bhi aap ka  swarg mey khayal rakhana ishwar ke jimme ho gaya.. awasar paakar phir janam hoga , kisi mahapurush ka sannidhya prapt hoga aur jahase aap ki yatra ruki thi waha se aage chalu hogi..Bhagavan shrikrushn ne Gita mey bataya hai..(param Pujya bapuji ne shlok bataya.)..Jaise purv janam ke yogi the , Sidhharth naam se rajputr hokar raja ke yaha  janame.. rahul naam ka putr bhi hua…lekin aage bhagavan budhdh ho gaye…hum bhi pahale janam ki tijori sath mey laye the  to 40 din mey kam ho gaya..jaruri nahi ki sab ka 40 din mey kam hoga…hum 40 din mey pass huye to agale janam ki padhayi kaam aayi..to jisaki jaisi padhayi hogi waise kam banega….…abhi thodasa ye kar lo , wo kar lo to samay barbad karo.. aap yaha majduri karane ke liye manushya janam lekar nahi aaye ho…sharir ki wahwahi sunane ke liye nahi aaye ho…makan banawake use chhodkar mar jane ke liye nahi aaye ho..dhan jama karake use bank me jama kar ke chodkar mar jane ke liye nahi aaye ho…marane se pahale amartaa pa le..kathin nahi hai…….

….subah uthe .. bistar par hi us paramatma mey shant hone ke baad din shuru kare… nahane ke baad ek katori mey pani lekar  om om om om om om bole(100 bar , 5 baar lamba shwas lekar om om bolate rahoge to 100 baar ho jata hai..).. aur wo  pani piyo.. to  ishwar ki satta se kam karanewali us budhdi ka karyalay saph suthara rahega…budhdi vikasit hogi…jivatma ko paramtmase milane mey vign paida na ho esliye sahyog milega…sadhana karane ki than li hai to paramatma ka sahyog hoga hoga hoga hi!!!!

Ishwar ki sadhana karane se paap jal jate hai ,  punya kam aata hai ..phal hota hi hai..

Gwalior walo ko bapuji ke prati bahot sneh hai to bapuji ko bhi gwalior walo ke prati priti  bahot hai.. …. Kuchh log naye naye ate hai..”bapu hari om” bolate to mai samajh jata hu..shradhha hai ,  lekin samazdari nahi hai…. Door se darshan karate “maharaj hari om ,kaise hai ya kaisi tabiyat hai?” sant ke pas gaye ho ya bimar ke pas? Kuchh log naye naye satsang mey aate to pichhe se ghusakar aage aakar baith jate hai..pichhe walo ka khayal nahi karenge..to ek do baar aate to samajh jate ki aisa karana paap hai…phir aisa nahi karate..yaha satsang mey koi harata- jitata nahi hai..sabhi ki jay hoti hoti hai….satsangiyo ke paap taap mitane lagate hai ,  lekin unaka  jinase sampark hota hai unako bhi phayada ho jata hai..sabhi samitiwale , naye sabhi sewa kar rahe hai… koi vidya daan karata hai ,  koi gau-daan karata hai ..lekin satsang daan bahot bada daan hai…satsang ka aayojan karane mey , satsang dusaro tak pahuchane mey bahot punya hota hai…

shivaji kahate hai ,

dhanyo mata pita dhanyo gotram dhanyo kulodbhav

Dhanyach vasudha devi yatr syat guru bhaktata “

….jinako satsang mey ruchi hai unaki mata dhanya hai , pita dhanya hai , aap ke kul aur gotr dhanya hai..aap ke kul mey utpann hone walo ko bhi shiv ji pahale se dhanywad dete hai… aise guru bhakt jaha rahate unake niwas se vasudha devi bhi dhanya ho jati hai..

Budhdi ka vikas , dharana shakti vilakshan kaise kare?

Satsang mey aate hai , budhdi vikasit hoti hai..gyan ho jata hai ki sansar me kaise jina hai , kab kya karana hai , gyan mey , budhdi mey vicharo mey labh hota hai.. mai bachcha tha ,lekin tabhi jo “mai” tha bachapan chala gaya abhi bhi wohi “mai hu ”…jawani aayi, jawani chali gayi lekin “mai” wohi hu..to mai marunga to sharir marega “ mai” to nahi marega… kyo ki marane ke bad bhi pata chalega ki  “mai swarg ja raha hu , mai narak ja raha hu” ….to “mai” to rahega…to satsang se samajh badhati hai ki jo nitya hai , kabhi nahi badlata hai , wo mai hu , ye sharir “mai” nahi hu..aise gyan se jo sada rahata hai us ram mey shanti milati hai..dukh aaya to bhi om om om om om bolakar hasya kar ke sharir ko dukh aaya hai “mai” to satchchitanand aatma hu jo sada aanand mey rahata hai..aisa sochata hai to yog ban jata hai…Om om omom om om shanti deva..aanand deva prabhu deva teri jay ho…ha hah ha ha ha .. J

….Es prakar bhagavan ka naam lekar aanand mey jine lagata hai..jap dhyan karega sat swarup chetan swarup aanand swarup bhagavan sakshi hai to jaan jata hai ki hum unhiki satta se jite hai marate hai..bachpan chala gaya, jawani chali gayi lekin phir bhi use dekhanewala nahi gaya wo aatma “mai hu..” aisa uncha gurugyan satsang mey sunate to bhagavat satta ka prabhav badhata hai..budhdi vikasit hoti hai , dharana vilakshan ho jati hai..

jab hi naam hruday dharyo , bhayo paap ko nash ..

Jaise chinagi aag ki , padi purane ghans

Purana ghans 10 kilo ho chahe hazar kilo ho ek chinagi bhi padi to sari ghans jal jati hai usi prakar satsang se aap ke kitane hi janmo ke paap taap kat jate hai ,  jal jate hai…sushupt shaktiya jagrut hone lagati hai..koi kathin nahi hai..Lekin aajkal satsang ki chije kum aur kusang ki chije jyada ho gayi hai..apane desh mey phir bhi ishwar ko paye huye aatmgyani mahapurush hai..lakho karodo log roj satsang bhi sunate hai… ek satsang sunane wala adami roj 9 logo ko milata hi hoga.. to roj jitane bhi log satsang sunate honge unake sampark mey aane wale ka bhi achha ho jata hai…kai log pratyaksh nahi aa sakate lekin phir bhi kisi na kisi madhyam se sunkar bhi labh lete to achha hai.. ek baar satsang mey maine bola ki thekedar kam karanewalo ko kum paisa dete aur unka shoshan karate to kisi nyayadhish ne suna aur kam karanewalo ke heet  mey nirnay kar diya ki parishram karanewalo ka shoshan karana kanuni aparadh hai..us nyayadhish ko dhanywad hai..aisa satsang se wholesale mey phayada ho jata hai….karodo logo ko phayada hota hai..Ujjain se 100 km door ratlam ke pas petlawad hai , waha mai kai saalo se nahi gaya ..waha ke log bula rahe the …to ek din mandir ke ghumat par achanak chitr ubhar aaya ..dekhate dekhate mandir mey bapuji ka photo aaya..ab to waha line lagi hai…kisane dekha petalawad jakar hath upar karo…lo!  kitane dekhkar aaye hai….!! To ishwar ki lila hoti rahati hai…

Bhagavan ki shanti mey humhara mann shant ho.. bhagavan satta dete tabhi humhari wani bolati hai..bhagavan satta dete tabhi humhari aankhe dekh sakati hai , bhagavan satta dete tabhi humhare kan sun sakate hai …. us bhagavan mey mann shant karate tabhi prerana dete hai , budhdi ko niranay karane ki kshamata dete hai … sharir ko kary karane ki shakti dete hai…mann badal jata hai, nirnay badal jate hai , phir bhi jo nahi badalata wo hai mera aatmdev usi mey mann ko laga denge to udhdar !!!!!

hari om hari om hari om hari om hari om

mann nahi lagata to kya kare?…suz buz badhegi to  mann paramatma mey man lagega…  agar  phir bhi  bhagavan mey mann nahi tikata to mann ko bolo bhag kitana bhagaata hai…  J ek baar puchha kisi ne ki , “baba , shadi hoti hai to dulha ghode pe kyo baithata hai? ”shadi hoti to var raja ghode pe kyo baithate? To bole ki…”esliye bithate hai ki abhi bhi wakt hai…. bhag sake to bhag..nahi to puri jindagi  ghode ki tarah sansar ka bojh dhona padega…”!!!!! J .. waise mann ko bole ki bhag sake to bhag..bhag bhag kar kaha jaoge?Parameshwar to apane andar hi hai…..Andha janat kaho dura , kahe nath mai sada hajhura ! Jisake mukh mey gurumantr…

Mantr diksha se 33 prakar ke phayade hote hi hai..jiske mukh mey guru mantr usako labh hota hi hai bhagavan shiv ji kahate hai..

Gurumantro mukhe yasya tasya sidhyanti nanyatha

Dikshaya sarv karmani sidhyanti guruputrake

…. Jisake mukh mey gurumantra hai usake sabhi kam sidhh hote hai..diksha se guruputr mana jisane diksha li usako labh hota hi hai..Esliye bhagavan shiv ji ne parvati ko wamdev guru se diksha dilayi ,bhagavan krushn ne sandipani guru se diksha li thi , bhagavan ram ne vashishth ji se diksha li thi..

Narayan narayan narayan narayan narayan

Om shanti shanti shanti

 Hari om ! Satgurudev ki jay ho!!!!!!! 

(galatiyonke liye prabhuji kshama kare..)

हिन्दी में

मनुष्य जन्म क्यो?..सत्संग_लाइव(८/१०/०७)ग्वालियर
सोमवार , 8th ओक्ट. 07, भारतीय समय :7pm
(  ग्वालियर शहर से )
**************
परम पूज्य सदगुरूदेव संत श्री आसाराम बापूजी की अमृतवाणी :-
**************
 
आरती हो रही है..

ओम जय  जगदीश हरे..भक्त जनों के संकट,
दास जनों के संकट क्षण मे दूर करे  ओम जय  जगदीश हरे

जो ध्यावे फल पावे दुःख विनशे  मन  का स्वामी दुःख विनशे मन का
 सुख  संपत्ति  घर आवे कष्ट मिटे तन का..ओम जय जगदीश हरे..

माता पिता तुम मेरे शरण गहू मैं  किसकी स्वामी शरण गहू मैं किसकी..
तुमबिन और ना दूजा स्वामी बिन और ना दूजा आंस  धरु जिसकी… ओम जय जगदीश हरे..

तुम पूरण परमात्मा तुम अंतर्यामी पार ब्रह्म परमेश्वर  तुम सुब के स्वामी..
ओम जय जगदीश हरे..

तुम करुणा के सागर तुम पालन कर्ता..मैं मूरख खल कामी ,
मै सेवक तुम स्वामी कृपा करो भरता..ओम जय जगदीश हरे

तुम हो एक अगोचर सब  के प्राणपति ..किस विधि  मिलू दयामय तुमको मैं कुमति…
.. ओम जय जगदीश हरे..

दिन बंधु दुःख हर्ता तुम ठाकुर मेरे स्वामी तुम रक्षक मेरे अपने  हाथ उठाओ,
अपनी शरण लगाओ द्वार पड़ा तेरे ॐ  जय जगदीश हरे..

विषय विकार मिटाओ पाप हरो देवा..स्वामी कष्ट हरो देवा..श्रध्दा  भक्ती बढाओ  ,
श्रद्धा प्रीति बढाओ संतन की सेवा..ओम जय  जगदीश हरे

तन मन धन है तेरा स्वामी सुब कुछ है तेरा , तेरा तुझको अर्पण ,
तेरा तुझको अर्पण क्या लागे  मेरा..ओम जे जगदीश हरे..

स्वामी मुझे  ना बिसारियो चाहे लाख लोग मिल जाये..हम सम तुमको बहोत है , तुम सम हमको नाहि..दीन दयाल को बिनती , सुनो गरीब नवाज़ ..जो हम पुत कपूत है तो है पिता तेरी लाज..हरी हरी ओम हरी ओम …..

सच्चा सुख ….….

…सोने की कटोरी है, सोने के ग्लास है …चांदी की थाली  है , कितना भी सुख है लेकिन बाहर का वैभव है , अन्दर का वैभव नही तो शांति पाना कठिन हो जाता है…दुनिया की सभी चीजे मिली लेकिन एक चीज नही है मिली ,  तो शांति नही मिलेगी…सच्चा ज्ञान  का आत्मसुख, शाश्वत सुख , भक्ती का सुख जब तक नही पाओगे तब तक दुनिया भर कि चिजो मे सुख ढूंढते हुये फिरोगे , लेकिन सुख नही मिलेगा….संध्या के समय देखते कि , कितने जिव जंतु है ..दिया जलाओ तो दिखते है..संध्या होती है तो विकारों से भटकने लगते है..क्या हम इन्सान होकर भी उन जिव जन्तुओ जैसे हो रहे है, सोचो….नही तो जैसे ही संध्या होती है , रात होती है तो..
हे शराब तू सुख दे..
हे पान मसाला तू सुख दे..
हे काम विकार  तू सुख दे..
हे परफ्यूम तू नाक को सुख दे….इन्द्रिय सुख को ही सच्चा सुख मान रहे…तो हम भी वो जिव जन्तुओ जैसे नही हो रहे है क्या?

आप का मनुष्य जन्म क्यो?

मनुष्य के मस्तक मे २ अरब कोशिकाये है..उसमे से .१% कोशिकाये विकसित हो जति है तो दुनिया मे बुध्दिमान कहेलाता है..दुनिया की सभी विद्या , सभी ज्ञान वो पाने की क्षमता रखता है… सिर्फ .१% कोशिकाये नुरोन विकसित होने पे उसे बुध्दिमान  माना  जाता है..लेकिन बाकी के नुरोन विकसित नही हुये है…१ % नुरोन / कोशिकाये विकसित होने से मनुष्य बुध्दिमान  हो जाता है, प्रतिभा सम्पन्न हो जाता है..एक एक ग्रह नक्षत्र को चलित कर सकता है , इतनी ताकद उसमे आ जाती है.. लेकिन कितने दुर्भाग्य की बात है कि , करोडो वर्ष से मनुष्य इस  धरती पे है लेकिन कितनी योग्यता विकसित कर पाया है ?

संत कबीर  कहते है..मूरख ग्रंथि खोलें नही…

…पुरुषार्थ को महत्त्व नही देते..बस फालतू की बाते जुटाने मे कंगले हो गए है…डिग्री मिले..नोकरी मिले..मकान मिले..पति मिले ..पत्नी  मिले..ये मिले वो मिले.. .फालतू की चीजे बटोर ने मे , खोजने मे सारी  जिंदगी तबाह कर देते है..झूट ,कपट का सहारा लेते है..अरे मनुष्य तुझ  मे कितनी शक्ति है…उसे जान ले..खुद को पहेचान ले..

इन्सान कि बद भक्ती  अंदाज से बाहर है
कम्बख्त , खुदा होकर बन्दा नझर आता है…

अन्दर की चेतना को जगाओ ..अन्दर की चेतना जगी , भक्ती है तो खुदा को पा  लेगा…इतनी शक्ति है इन्सान तुझ मे !
संसार मे सुख खोजना कुसंग है और सच्चे सुख का तरीका जानना सत्संग है..!!

सत्संग कि तो..

एक घड़ी अधि घड़ी आधी मे पुनि आध ,
तुलसी संगत साध कि हरे कोटी अपराध..

– सत्संग से अज्ञान दूर होता है .. जैसे :-
* नंगे सिर धुप मे घुमाने से स्मृति कमजोर होती है ,
* अमावस्या , पूनम के दिन सम्भोग कराने से विकलांग बच्चे पैदा होते है..
* होली ,दिवाली , जन्माष्टमी और शिवरात्रि को सम्भोग कराने से शारीर कि शक्ति नष्ट हो जति है , शारीर का नुकसान हो जता है …. काम भी गर्भ्दन कराने के लिए … नही तो फिर रोना है..
* भोजन भी ज्यादा कहोगे , मजा लेने के लिए खायेंगे तो बीमार पड़ेंगे….…
..तो ऐसी बाते समझते , तो  सत्संग से तो कितना फायदा होता है  सत्संग  ना  होने के कारन  कितने ही लोग विकारी जगत मे परेशानियों के खायी मे जीते  जा रहे है….सत्संगियो के कारन कितनी ही अच्छी  परम्पराये चल रही है…. सेवा के काम होते रहते…. सूझ बुझ बढ़ती  है..सुबह २०-२५ मिनट भगवान को याद करो तो दिन अच्छा  जाता है..रात को भगवान का विचार कर के सोने का तरीका सत्संग से जान लो तो रात उन्नत हो जाती है..काम कराने से पहले भगवान का नाम लो तो काम अच्छा होगा और बाद मे भी वह कर्म ” भगवान तुम्हारी कृपा  से ये काम हुआ ” , उसका फल भगवान को अर्पण करो तो कर्म बन्धन से भी बचाते हो..सुबह उठाकर भगवान मे  थोड़ी देर चुप हो जाओ तो दीमाग के नवानु (nuron) भी विकसित होने लगेंगे..सारस्वत्य मन्त्र लिया तो कितने बच्चो को फायदा हुआ है… एक लड़का भैसे चराता , रात की बासी रोटी दुसरे दिन खाता , टायर कि आढाई रुपये कि चप्पल पहेनता… लेकिन उन्नत होने का तरीका जान लिया तो उन्नत हो गया..अभी गो-एअर मे इंजीनियर है.. डेढ़ लाख पगार कमाता है ..दिक्षा से क्षितिज सोनी मे कितना परिवर्तन आया… अजय मिश्रा  जो ५० % मार्क्स लाता , स्कुल  से निकालने की धमकी मिल गयी थी , लेकिन दिक्षा से तरीका जान लिया , तो नोकिया कंपनी मे मेनेजर बन गया , आढाई  लाख पगार कमाता है..कठिन है क्या?
 बुध्दी  का विकास कैसे करना है इसका तरीका जान लो..श्रध्दा  भक्ती से लगे रहो तो ईश्वर को पा सकते हो..तो ये सब पाना तो  बहोत छोटी बाते है… तो ऐसी छोटी बातो मे जीवन को  क्यो नाश करते हो?

सब के भीतर राम… मूरख ग्रंथि खोलें नही..ऐसे कर्म क्यो?

कैसा होगा ब्रह्मज्ञान?


..आप के बुध्दी  का लाख-वां   हिस्सा बुध्दी सिर्फ विकसित होती है…. बाकी कि छुपी है…छुपी हूई बुध्दी का उपयोग करना ही सत्संग है..आत्म ज्ञान से भागवत भक्ती करो तो लोकलोकांतर मे जा सकते है..(बापूजी ने गन्धर्व जगत के बारे मे बताया )  मानुषी सुख के सौ गुना (multyply by 100)  सुख गन्धर्वो के पास है….गन्धर्वो से  सौ गुना सुख देवताओ के पास है ..और देवातओंसे सौ गुना सुख देवो का राजा इन्द्र के पास है..इन्द्र के पास ऐसा सुख होते हुये भी इन्द्र ब्रह्मज्ञानी के सामने  बौना है तो कैसा होगा ब्रह्मज्ञान….!  🙂  सोचो..
..एक से एक  अच्छे और सच्चे मनुष्य है लेकिन अपना सुख कही और मनाते है… कोई  काम मे , कोई धन मे तो कोई मान मे सुख खोजता है …लेकिन अच्छे लोग है , जो मान करने योग्य  इन्सान है , उनसे कई गुना ज्यादा मान राष्ट्रपति को होता है..क्योकि मान सन्मान  तो राष्ट्रपति के द्वारा मिलता है ,.. राष्ट्रपति से कई ज्यादा मान सन्मान , धन और सुख तो राजा इन्द्र के पास है , लेकिन वो भी ब्रह्मज्ञानी के आगे खुद को बौना कहता है….तो ऐसे ब्रह्मज्ञानी के सत्संग द्वारा जो भी समझ मे आता है , उसके अनुसार थोडा भी चले तो काम बनता है…

अगर साधना अधूरी रहे गयी…..….

समाजों कि सत्संग करते , आप कि आत्मज्ञान कि  यात्रा पुरी नही हूई और मर गए तो भी  आप जो भी साधना करते  , शुभ कर्म करते तो “ सत् ” कि अभिलाषा से करते… करनेवाला “सत्” कि अभिलाषा से करता तो “सत्” तो सदा रहता है , शरीर सदा नही रहता ….. चेतना “सत्” है , सदा साथ रहता है… शरीर यहा छोडेंगे ,  लेकिन हम मरने के बाद भी विश्रांति लेंगे स्वर्ग में.. ..पुण्य खर्च नही होंगे…  मैं स्विटजरलैंड से अमेरिका गया तो स्विटजरलैंड मे एक जगह मुझे  रुकना पड़ा , तो उनको मेरा ख़याल रखना पड़ा.. मेरे रहने का , खाने पिने सोने की जिम्मेदारी उनकी ..वैसे ही आप साधना करते करते मर गए , साधना पुरी नही  हूई , तो भी आप का  स्वर्ग मे ख़याल रखना ईश्वर के जिम्मे हो गया.. अवसर पाकर फिर जनम होगा , किसी महापुरुष का सान्निध्य प्राप्त होगा और जहासे आप कि यात्रा रुकी थी वहा  से आगे चालू होगी..भगवान श्रीकृष्ण ने गीता मे बताया है..(परम पूज्य बापूजी ने श्लोक बताया.)
..जैसे पूर्व जनम के योगी थे , सिद्धार्थ  नाम से राजपुत्र होकर राजा के यहा  जनमे.. राहुल नाम का पुत्र भी हुआ…लेकिन आगे भगवान बुद्ध हो गए…हम भी पहले जनम की तिजोरी साथ मे लाए थे  तो ४० दिन मे काम हो गया..जरुरी नही कि सब का ४० दिन मे काम होगा…हम ४० दिन मे पास हुये तो अगले जनम कि पढाई काम आयी..तो जिसकी जैसी पढाई होगी वैसे काम बनेगा…..अभी थोडासा ये कर लो , वो कर लो ..तो समय बर्बाद करो.. आप यहा मजदूरी करने के लिए मनुष्य जनम लेकर नही आये हो…शरीर की वाहवाही सुनने के लिए नही आये हो…मकान बनवाके उसे छोड़कर मर जाने के लिए नही आये हो..धन जमा करके उसे बैंक मे जमा कर के छोड़कर मर जाने के लिए नही आये हो…मरने से पहले अमरता पा ले..कठिन नही है……
.….सुबह उठे .. बिस्तर पर ही उस परमात्मा मे शांत होने के बाद दिन शुरू करे… नहाने के बाद एक कटोरी मे पानी लेकर   लंबा श्वास लेकर ” ॐ ॐ ॐ ॐ ॐ ॐ ॐ ॐ ॐ ॐ ॐ ॐ ॐ ॐ ॐ ॐ ॐ ॐ ॐ ॐ ” इस प्रकार  बोले १०० बार ….( ५ बार लम्बा श्वास लेकर ॐ ॐ  बोलते रहोगे तो १०० बार हो जाता है..).. और वो  पानी पियो.. तो  ईश्वर कि सत्ता से काम करनेवाली उस बुध्दी का कार्यालय साफ सुथरा रहेगा…बुध्दी विकसित होगी…जीवात्मा को परमात्मा  से  मिलाने मे विघ्न  पैदा ना हो इसलिये सहयोग मिलेगा…साधना करने की ठान ली है तो परमात्मा का सहयोग होगा होगा होगा ही!!!! 🙂 

ईश्वर कि साधना करने से पाप जल जाते है ,  पुण्य काम आता है ..फल होता ही है..ग्वालियर वालो को बापूजी के प्रति बहोत स्नेह है तो बापूजी को भी ग्वालियर वालो के प्रति प्रीति  बहोत है.. …. कुछ लोग नए नए आते है..”बापू हरी ओम ” बोलते तो मैं समझ जाता हूँ ..श्रध्दा  है ,  लेकिन समझदारी  नही है…. दूर से दर्शन करते “ महाराज हरी ओम , कैसे है या कैसी तबियत है ? ” संत के पास गए हो या बीमार के पास ? कुछ लोग नए नए सत्संग मे आते तो पीछे से घुसकर आगे आकर बैठ जाते है..पीछे वालो का ख़याल नही करेंगे..तो एक दो बार आते तो समझ जाते कि ऐसा करना पाप है…फिर ऐसा नही करते..यहा सत्संग मे कोई हारता- जीतता नही है..सभी कि जय होती होती है….सत्संगियो के पाप ताप मिटने लगते है ,  लेकिन उनका  जिनसे सम्पर्क होता है उनको भी फायदा हो जाता है..सभी समितीवाले , नए , सभी सेवा कर रहे है… कोई विद्या दान करता है ,  कोई गौ-दान करता है ..लेकिन सत्संग दान बहोत बड़ा दान है…सत्संग का आयोजन कराने मे , सत्संग दूसरो तक पहुचाने मे बहोत पुण्य होता है…

शिवाजी कहते है ,

“ धन्यो माता पिता धन्यो गोत्रम धन्यो कुलोदभव ..
धन्याच वसुधा देवी यत्र स्यात गुरू भक्तता “

….जिनको सत्संग मे रूचि है उनकी माता धन्य है , पिता धन्य है , आप के कुल और गोत्र धन्य है..आप के कुल मे उत्पन्न होने वालो को भी शिव जी पहले से धन्यवाद देते है… ऐसे गुरू भक्त जहा रहते उनके निवास से वसुधा देवी भी धन्य हो जाती है.

* बुध्दी का विकास , धारणा शक्ति विलक्षण कैसे करे?

सत्संग मे आते है , बुध्दी विकसित होती है..ज्ञान हो जाता है कि , संसार मे कैसे जीना है , कब क्या करना है , ज्ञान मे , बुध्दी मे , विचारो मे लाभ होता है.. मैं बच्चा था ,लेकिन तभी जो “मैं” था , बचपन चला गया अभी भी वोही “मैं हूँ  ”…जवानी आयी, जवानी चली गयी लेकिन “मैं” वोही हूँ ..तो मैं मरुंगा तो शरीर मरेगा “ मैं” तो नही मरेगा… क्यो कि मरने के बाद भी पता चलेगा कि  “मैं स्वर्ग जा रहा  हूँ  , मैं नरक जा रहा  हूँ ” ….तो “मैं” तो रहेगा…तो सत्संग से समझ बढ़ती है कि जो नित्य है , कभी नही बदलता है , वो मैं हु , ये शरीर “मैं” नही हूँ ..ऐसे ज्ञान से जो सदा रहता है , उसे  राम मे शांति मिलती है..दुःख आया तो भी ओउम ओउम ओउम ओउम ओउम बोलकर हास्य कर के , शरीर को दुःख आया है “मैं” तो सत्च्चितानंद आत्मा  हूँ .. जो सदा आनंद मे रहता है..ऐसा सोचता है तो योग बन जाता है…
ओउम ओउम ओमोम ओउम ओउम शांति देवा..
आनंद देवा , प्रभु देवा तेरी जय हो…हा हः हा हा  हा  .. … 🙂 🙂
….इस  प्रकार भगवान का नाम लेकर आनंद मे जीने लगता है..जप ध्यान करेगा सत् स्वरुप , चेतन स्वरुप , आनंद स्वरुप भगवान साक्षी है तो जान जाता है कि हम उन्हीकी सत्ता से जीते है , मरते है..बचपन चला गया, जवानी चली गयी , लेकिन फिर भी उसे देखनेवाला नही गया , वो आत्मा  “मैं हूँ ..” ऐसा उंचा गुरुज्ञान सत्संग मे सुनते तो भगवत सत्ता का प्रभाव बढ़ता है..बुध्दी विकसित होती है , धारणा विलक्षण हो जाती है..

जब ही नाम ह्रदय धर्यो , भयो पाप को नाश ..
जैसे चिनगी आग की , पडी पुराने घांस
  

…..पुराना  घांस १० किलो हो चाहे हज़ार किलो  हो , एक चिनगी भी पडी तो सारी घांस जल जाती है उसी प्रकार सत्संग से आप के कितने ही जन्मों के पाप ताप कट जाते है ,  जल जाते है…सुशुप्त शक्तिया जागृत होने लगती है..कोई कठिन नही है..लेकिन आजकल सत्संग की चीजे कम और कुसंग की चीजे ज्यादा हो गयी है..अपने देश मे फिर भी ईश्वर को पाए हुये आत्मज्ञानी महापुरुष है..लाखो करोडो लोग रोज सत्संग भी सुनते है… एक सत्संग सुनने वाला आदमी रोज ९ लोगो को मिलता ही होगा.. तो रोज जितने भी लोग सत्संग सुनते होंगे उनके सम्पर्क मे आने वाले का भी अच्छा हो जाता है…कई लोग प्रत्यक्ष नही आ सकते लेकिन फिर भी किसी ना किसी माध्यम से सुनकर भी लाभ लेते तो अच्छा है.. एक बार सत्संग मे मैंने बोला कि ठेकेदार काम करनेवालों को कम पैसा देते और उनका शोषण करते तो किसी न्यायाधीश ने सुना और काम करनेवालों के हीत  मे निर्णय कर दिया कि परिश्रम करनेवालों का शोषण करना क़ानूनी अपराध है..उस न्यायाधीश को धन्यवाद है..ऐसा सत्संग से होलसेल  मे फायदा हो जाता है….करोडो लोगो को फायदा होता है..उज्जैन से १०० किमी  दूर रतलाम के पास पेतलावद  है , वहा  मैं कई सालो से नही गया ..वहा  के लोग बुला रहे थे …तो एक दिन मंदिर के घुमट पर अचानक चित्र उभर आया ..देखते देखते मंदिर मे बापूजी का फोटो आया..अब तो वहा  लाईन   लगी है…किसने देखा पेतलावद  जाकर हाथ ऊपर करो…लो!  कितने देखकर आये है….!! तो ईश्वर कि लीला होती रहती है…
…भगवान कि शांति मे हमारा  मन   शांत हो.. भगवान सत्ता देते तभी हमारी  वाणी बोलती है….भगवान सत्ता देते तभी हमारी  आंखें देख सकती है , भगवान सत्ता देते तभी हमारे  कान सुन सकते है …. उस भगवान मे मन  शांत करते तभी प्रेरणा देते है , बुध्दी को निर्णय  करने की क्षमता देते है … शरीर को कार्य करने की शक्ति देते है…मन  बदल जाता है , निर्णय बदल जाते है , फिर भी जो नही बदलता वो है मेरा आत्मदेव ! उसी मे मन  को लगा देंगे तो उध्दार !!!!!

हरी ॐ  हरी ॐ हरी ॐ   हरी ॐ हरी ॐ
हरी ॐ  हरी ॐ हरी ॐ हरी ॐ हरी ॐ

मन  नही लगता तो क्या करे?

…सुज़ बुज़ बढ़ेगी तो  परमात्मा मे मन लगेगा…  अगर  फिर भी  भगवान मे मन  नही टिकता तो मन  को बोलो भाग कितना भागता है…    🙂   एक बार पूछा किसी ने कि , “ बाबा , शादी होती है तो दूल्हा घोड़े पे क्यो बैठता है ? ”
शादी होती तो वर राजा घोड़े पे क्यो बैठते ? तो बोले कि… ” इसलिये बिठाते है कि अभी भी वक्त है…. भाग सके तो भाग..नही तो पुरी जिंदगी  घोड़े कि तरह संसार का बोझ धोना पड़ेगा…” !!!!   🙂 
.. वैसे मन  को बोले कि भाग सके तो भाग..भाग भाग कर कहा जाओगे ?

परमेश्वर तो अपने अन्दर ही है….
.
अँधा जानत काहो दूरा , कहे नाथ मई सदा हझुरा !

जिसके मुख मे गुरुमंत्र…

मंत्र दिक्षा से ३३ प्रकार के फायदे होते ही है..जिसके मुख मे गुरू मंत्र उसको लाभ होता ही है भगवान शिव जी कहते है..

गुरुमंत्रो मुखे यस्य तस्य सिध्यन्ति नान्यथा
दिक्षाया सर्व कर्माणि सिध्यन्ति गुरुपुत्रके


…. जिसके मुख मे गुरुमंत्र है उसके सभी काम सिध्द  होते है..दिक्षा से गुरुपुत्र माने  जिसने दिक्षा ली उसको लाभ होता ही है..इसलिये भगवान शिव जी ने पार्वती को वामदेव गुरू से दिक्षा दिलाई ,भगवान कृष्ण ने संदीपनी गुरू से दीक्षा ली थी , भगवान राम ने वशिष्ठ जी से दीक्षा ली थी..


नारायण नारायण नारायण नारायण नारायण
ॐ  शांति शांति शांति
 
 हरी ओम ! सदगुरूदेव  की जय हो!!!!!!!
(गलतियोंके लिए प्रभुजी क्षमा करे..)
 
 

Advertisements
Explore posts in the same categories: Uncategorized

One Comment on “Manushya janm kyo?..satsang_live(8/10/07)Gwalior”

  1. sonu Says:

    please try 2 send live video if possible


Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s


%d bloggers like this: