Indira ekadashi katha ,satsang_live(5/10/07)

Friday, 5 th Oct 07 , IST : 5 PM

(satsang_live : buksi 12 km from ujjain)

*********

Param Pujya Sadgurudev Sant Shri Aasaram Bapuji ki amritwani

********* 

In Hinglish(Hindi written in English)

( for Hindi please srcoll down…) .

..atyant ulhasmay sangit dhwani ke sath Bapuji ka vyaspith par  aagaman hua hai..

” Hari Hari Bol”…..

utho , kudo , jara jump maro…after 2 mins..baitho..baitho….ohhho…baksi walo ne to mini kumbh banaya..Ram Ram..kya haal hai? paheli baar dekha hoga 50 saal mey etani bhid …. baitho laliya deviya matayen baitho…aanand hai? bhakti ho rahi hai?prem ki boli ka naam hai sangit..prem ki chal ka naam hai nrutya…aur prem ki upasana ka naam hai bhakti…apane jeevan mey nirdosh prem ko jagao..bachcha kyo achha lagata hai?nirdosh , ahankar rahit hota hai , waise hi sant jiska raag , bhay,  krodh chala gaya hai nirdosh , ahankar rahit hote hai esliye unka darshan  bhi achhha lagata hai..bachche mey niragasata hoti hai sant mey nirahankarita, gyan aur bhagavat prem  hota hai isliye unka darshan achcha lagata hai…sant kabir kahate hai.. 

“kabira darshan sant ke sahib aawe yaad,

lekhe mey wohi ghadi baki ke din baad…” 

satsang ki badi bhari mahima hai.. sab logo ne suna hai aise raja ki katha batata hun…vyavhar me uska naam bolate bhi ho….to aisa raja virochan putr bali apana janam din  ek veshya ke sath manane ke liye ja raha tha…hath mey swastik banayi huyi phal mithayinya bhari huyi thali thi..nashe mey veshya ke yaha chala ja raha tha…aur ek jagah kisi chij se takarakar gir pada….jaha pe raja gir pada woh koi purana khandhar tha, jaha koi sant niwas karate the, unka  waha satsang hua karata tha….raja nashe mey waha hi pada raha..jab use hosh aaya to uska mann badal gaya..veshya ke ghar nahi gaya  aur hath ki thali jo padi huyi thi kisi garib ko daan de diya..samay paakar jab raja ki mrutyu huyi aur  yamraj ke pas jab dekha gaya to bas wohi savva muhurt ki ghadi thi usake lekhe mey..jaha nashe mey thokar khakar gir pada tha, waha kisi sant niwas karate the jaha bhajan hota tha waha savva muhurt pade rahane se bhi us punya bhumi ka savva muhurt ka sannidhya se use savva muhurt  indr pad mila…. bad mey narak mey jana padega..to savva muhurt indrapad mey baitha..vashisht maharaj ka chintan kiya…gyani guruonka savva muhurt ka chintan kiya  amar pad ko paya..to virochan putr bali  savva muhurat  nashe mey sant ki bhumi par pade rahane se amar pad ko pata hai to aap ki kamai kitani ho rahi hai… …to jyada jita hai koi esaka mahatv nahi hai..kaise jite ho iska mahatv hai…kya karate ho isaka mahatv nahi hai..kaise karate ho isaka mahatv hai..jo bhi karate ho ,ishwar priti ke liye karo..uddesh bhitar kya hai isaka mahatv jano..satasng tuchh aadami mey bhi prabhav badhata hai, virochan putr bali nashe mey satsang ki jagah pada rahane se indrpad ko paya , amar pad ko paya.. to jo bhagavan ke liye satsang mey aate hai..us pyare ko yaad karate hai to satsang se aap ki 7 pidhi ka udhhar hota hai.. 

jab hi naam hrudya dharyo bhayo paap ko nash,

jaise chinagi aag ki padi purane ghans… 

purani ghans kitani bhi ho lekin uspar ek chinagi aag ki padi to sari ghans jal jayegi..waise hi satsang mey us pyare ka naam lete to aap ke paap nash ho jate hai..guru se diksha mili aur mantr mila to chal pade…

.ek ladaka aaya usane bataya mai 50 % marks lata tha, school walo ne nikal dene ki dhamaki di thi,lekin saraswatya mantr liya aur ab 30lakh saal ka pagar hai..nokiya  mobile company mey hai.

dusara ek ladaka aaya bola ki mai bhaise charata tha,tyre ki chappal pahenata tha, saraswatya mantr liya..aisa aage badha ki abhi “go-Air” viman company mey engineer hai …kitana kamata hai…kitani bhi bhaise rakhata to kitana kama leta?12/14 rs litre bhains ka dudh..kitana bhi charata to kya karata bechara?aaj jarasa bola to bhais to chal padi…Bapuji bhais ki aawaj nikal kar sabhi ko khub hasa rahe hai….  🙂

bhais ki aawaj , pade ki aawaj…  🙂

jeevan halaka phulaka hona chahiye…jisake jeevan mey hansi nahi khushi nahi woh bhi kya jeena hai? 

nath sampraday ke gorakshnath kahate hai ,

hasibo khelibo dharibo dhyan aharnish karibo aatmgyan.. 

hasate khelate jeevan jiyo…mera koi nahi? jisaka koi nahi usaka bhagavan hai…satsang mila,sant ke darshan hota hai  to kuchh  punya hota hai..koi punya ka kam kiya hai to bhagavan dravibhut hote hai, tab hi satsang ka labh milata hai…jinake punya kamjor hai woh baith nahi sakate satsang mey…paap usko ghasit ke le jate…sant chale gaye ,khali waha us jagah par thokar lagi to bhi etana punya hua virochan putr bali ko to satsang sunane ka kitana punya hoga…

chalo pranayam karo..bapuji pranayam karavaye..subah suraj ugane ke samay aur sham ko suraj dubane se pahale 10 pranayam karo…jo mote hai, pet mey dard hai,high bp low bp hai to kal mantr batayenge..satsang se , pranayam se aayu  , aarogya ki pushti hoti hai..

.abhi lamba shwas lo dono nathuno se..

hari om….(plut uchharan)”m” kahate huye hoth band rakhe..aankhe khuli rakho..omkar ko ,guru maharaj ko ya bhagavan ko dekho…phir se lamba shwas…agar dhyan bhajan mey mann nahi lagata hai to lamba swas lo…muh band ,kanth mey om bole…gardan aage pichhe karenge…esase chinta door hogi, khushi aayegi..phir se gahara swas..om om om om om …muh band kar ke kanth mey bolate huye gardan ko aage pichhe kare…aisa 2 baar kare..

Tilak ka mahatv 

..lalaat pe tilak kare…esase suzbuz badhati hai ..budhhiman brahman sab se pahale aap ko tilak lagayega..nahi to sab kriya karm vyarth ho jate hai…apane sharir mey jo 7 mukhya kendra hai , usame se ek mukhya kendra “gyan kendra” lalat mey  dono bhauve(eyebrows) ke bich mey hai..esliye waha tilak lagana chahiye..aadami nahi karate to chal jata hai lekin matao bahano betiyo ko jarur tilak karana hai….kum kum, sindoor, chandan  se nahi to tulasi ki mitti se, gaay ke khur ke mitti se  bhi tilak kar sakate hai..jo kaam nahi hota to gaay ke khur ki mitti ka tilak lagakar jaye to kam hone lagega…. 

yantr tantr aur mantr

sharir yantr hai es yantr ko chalane ki yukti tantr aur bure karmo se bachana , satkarmo mey lagana ye hai mantr jo ishwar ko mila deta hai….yantr tantr aur mantr sahi ho ishwar prapti sahaj sulabh…. kal yantr ko thik rakhane ke aur tarike sikha dunga.. 

Indira ekadashi 

kal subah 7 se 9 ke bich diksha karykram hoga usake baad  11.30 tak satsang..kal ekadashi hai..kal ki  bhadrapad mahine ki krushn paksh ki ekadashi hai ese “indira ekadashi” kahate hai..raja yudhishtir ne puchha shrikrushn bhagavan ko ki prabhu is bhado krushn ekadashika phal kya hai?bhagavan krushn ne kaha ki indrasen naam ka ek bada dharmatma raja ho gaya..usane ekadashi ki mahima suni..devrushi narad se puchha..narad ji ne kaha ki yam lok gaya tha  yamraj ne swagat kiya.. to waha aap ke pitaji rote huye bole ki mere bete ko bolana ekadashi ka vrat kare.. es vrat se pitaro ka udhhar hota hai aur karane wale ka aarogya aayushya badhata hai..to aaj raat ko sote samay sankalp kare ki bhagavan narayan moksh pradayan karane wali indira ekadashi ka mai vrat karata hu…ekadashi ko maun rakhe, jal dudh piye, tulasi ke patte khaye..bajhar ki chije nahi khaye…bhuk lage to kishmish khaye ya ubalkar sarbat banakar piye…bhagavan ka naam jape,shastr padhe…jagaran kare…esaka punya pitaro ko arpan kare…unki sadgati  hogi…unka ashirvad milega..

karje utarane ke upay

karje hai to ravivar ke din bina namak ka bhojan karo…gajendra moksh ka path karo..”shri hari , shri hari” jaap kare…karja utar gaya to bhi katkasar se hath chalaye…aisa nahi ki byaj chalata rahe…katkasar se jiye… 

Sadgurudev ne pakka karvaya :- 

naam barabar kachhu nahi tap, tirath vrat daan..

kahe pritam sadhan sab hi , nahi hari naam saman… 

hajharo tirtho mey jao, pooja karo, lakho upay karo lekin guru ke mantr ke aage sab chhote pad jate hai..esliye bhagavan shiv ji ne kaha bhi guru mantr ki mahima kahi hai..stall se mala aur shivgeeta le lena, pet saph rakhana ..subah naha dhokar aana, pani pi sakate ho aur kuchh nahi khana hai..diksha ke baad prasad milega..  

abhi kirtan karenge.. 

bhay nashan duramti haran kali mey hari ko naam

nishi din nanak jo jape saphal hovai sab kaam 

satsang ke  5 minute aur 45 seconds..! 

 neta bolata hai to bhashan hota hai..

professor bolata hai to lecture hota hai…

kathakar bolata hai to katha hoti hai ..

lekin sant bolata hai to satsang hota hai…

satsang ki aadhi ghadi ka labh mila to sabhi paapo ka nash hota hai..tulasidas maharaj ne ramayan mey likha.. 

“ek ghadi aadhi ghadi aadhi mey puni aadh….

tulasi sangat sadh ki hare koti aparadh..”  

ek ghadi matlab  sade baaees minit(22 minutes 30 seconds = ek ghadi)..usake aadhe savva gyaraha (11minute 15 seconds) minute aur aur usake aadhe pavane 6 (5minute 45 seconds) bhi satsang sunate ho to paap nash ho jate hai..ek ek kadam satsang mey chalkar aate ho to ek ek yagya karane ka punya prapt karate ho…satsang mey baithe to bhakti ka meter chalu ho jata hai..samuhik kirtan karate ho to kirtan ke dwani me etani paap sanhaarak shakti hai ki jaise sankramak rog nahi chahate huye bhi manushya ko bimar kar hi dete hai..aise hi manushya  nahi chahe ki kalyan ho tab bhi kirtan mey galati se bhi pahunch gaya to uska kalyan hota hi hai…naam ke pavitr andolan uasake paap kat dalate hai..kirtan yatra mey kaun the? bahar dhup thi lekin hruday mey shitalata thi na?

….kaha kahase log aaye hai baksi mey..jabalpur, ujjain,surat..ek din ke program mey sare hindusthan ke kone kone se log aa gaye hai!!…

hari om .. 

jay siyaram jai jai siyaram hari hari om (madhur madhur naam kirtan ho raha hai…) 

 aanand data, bhaktidata, shambhu bholenath jai ho!!!!! 

hari om..

tumhari rag rag pawan ho rahi hai..tumhara rakt ka kan kan pavitr ho raha hai..dono hath upar kar ke hasya karenge to ye pavan rakt ki dhara sharir mey  bahegi..

hari om om om om om om…ram rama rama rama rama rama

om om om om om ha hah ha ha ha..  🙂 (bapuji hasya karavaye..)

koi phere nahi phire , phir  bhi bin phere hum tumhare parbhu…

aatma paramtma ..bin phere hum tere…

* kirtan ke baad ek min chup..bhagavan ki shanti hruday mey sthit hone do….* roj snan karane ke baad katori mey paani le, usame dekhe..”om om om om om ” aisa 100 baar bole…aur woh pani piye…kitana bhi bhagya phuta ho..pani mey dekhe , 100 baar om bole ..woh pani piye…kam ban jayega…karoge vachan do….! 

* triphala rasayan ke prayog se chasma utar jayega..roj subah aur sham 11gram khana hai.. 

* sharad poonam ki raat ko khana nahi banaye..khir banaye..aur woh bhi dudh ko bahot gadha nahi karana hai..ek litre dudh ho to usame 200 gram chawal dalo..agar dudh ko ubalana hai to usame pani dalo…chandrama ke chandani me rakho sade gyara baje tak..usame chandr ke kiran padane do..phir khao..rat ko chandani mey ghumo…(pujya bapuji ne bataya ki  surat ko kisi bhai ko bhais ka dudh ubalkar gadha kar ke pine ki aadat thi to rakt mey cancer ki ganth ho gayi thi..bhais ka dudh gadha kar ke pina nuksan karata hai…) 

aarati ho rahi hai..om jay jagdish hare…

prarthana ho rahi hai…karpur gauram…

malyarpan ho raha hai… om namo bhagavate vasudevay..

* chinta nahi chhodati agar paschim mey sirhane  kar ke soye,

*  bimari nahi chhodati agar uttar mey sirhane  kar ke soye…..

* sote samay sir hamesha purab ya dakshin ki oor kar ke hi soye…sote samay bhagavan ko yaad karo..bhagavan mere mai bhagavan ka…bin phere hum tere aisa bol dena…es prakar  yognidra mey jayenge to shanti aanand aayega..aisa chintan kar ke so gaye to bhakti ho jayegi aur nind bhi ho jayegi…

Har Har mahadev…!

* yuwadhan jarur ghar me rakhana maa baap beta beti sabhi padho, 5 baar..bhagavan naam ki mahima padho…kal 9 baje sabhi ko bimari ke upay bhi bata denge…ram ram… 

hari om ! sadgurudev ki jay ho!!!!!

(galatiyo ke liye prabhuji kshama kare..)   

  ॥ हिंदी मे ॥

शुक्रवार , 5-Oct-07, भारतीय समय शाम के 5:00
  ( from baksi -12 Km from Ujjain )
**********************
परम पूज्य सदगुरूदेव संत श्री आसाराम बापूजी की अमृतवाणी
************************

..अत्यंत उल्हासमय संगीत ध्वनि के साथ बापूजी का व्यास पीठ  पर  आगमन हुआ है..
हरि हरि बोल”…..
उठो , कूदो , जरा जम्प मारो…( २ मिनिट के बाद)..बैठो..बैठो….ओह्ह्हो…बकसी वालो ने तो मिनी कुम्भ बनाया..राम राम..क्या हाल है?

पहेली बार देखा होगा ५० साल मे इतनी भिड़ !! ….
.. बैठो लालिया, देविया , माताएं बैठो…आनंद है? भक्ती हो रही है?
प्रेम की बोली का नाम है संगीत !
..प्रेम की चाल  का नाम है नृत्य !!
…और प्रेम की उपासना का नाम है भक्ती !!!
…अपने जीवन मे निर्दोष प्रेम को जगाओ..
बच्चा क्यो अच्छा लगता है?क्यो कि वह निर्दोष , अंहकार रहित होता है …
वैसे ही संत जिसका राग , भय,  क्रोध चला गया है निर्दोष , अंहकार रहित होते है इसलिये उनका दर्शन  भी
अच्छा लगता है..बच्चे मे निरागसता होती है ; संत मे निरहंकारिता, ज्ञान और भागवत प्रेम  होता है इसलिये उनका दर्शन अच्छा
लगता है…

संत कबीर कहते है..
“कबीरा दर्शन संत के साहिब आवे याद,
लेखे मे वोही घड़ी बाकी के दिन बाद…”

सत्संग की बड़ी भरी महिमा है.. सब लोगो ने सुना है ऐसे राजा की कथा बताता हूँ…व्यवहार मे उसका नाम बोलते भी हो….तो ऐसा राजा विरोचन पुत्र बलि अपना जनम दिन  एक वेश्या के साथ मनाने के लिए जा रहा था…हाथ मे स्वास्तिक बनायीं हूई फल मिठाई  भरी हूई थाली थी..नशे मे वेश्या के यहा चला जा रहा  था…और एक जगह किसी चीज से टकराकर गिर पड़ा….जहा पे राजा गिर पड़ा वोह कोई पुराना खंडहर था, जहा कोई संत निवास करते थे, उनका  वहा सत्संग हुआ करता था….राजा नशे मे वहा  ही पड़ा रहा ..जब उसे होश आया तो उसका मन  बदल गया..वेश्या के घर नही गया  और हाथ की थाली जो पडी हूई थी किसी गरीब को दान दे दिया..समय पाकर जब राजा की मृत्यु हूई और  यमराज के पास जब लेखा जोखा देखा गया तो बस वोही सव्वा मुहूर्त कि घड़ी थी उसके लेखे मे..जहा नशे मे ठोकर खाकर गिर पड़ा था, वहा  कोई  संत निवास करते थे जहा भजन होता था, वहा  सव्वा मुहूर्त पडे रहने से भी उस पुण्य भूमि का सव्वा मुहूर्त का सान्निध्य से उसे सव्वा मुहूर्त  इन्द्र पद मिला …. बाद मे नरक मे जाना पड़ेगा..तो सव्वा मुहूर्त इन्द्रपद मे बैठा..वशिष्ट महाराज का चिन्तन किया…ज्ञानी गुरुओंका सव्वा मुहूर्त का चिन्तन किया तो  अमर पद को पाया..तो विरोचन पुत्र बलि  सव्वा मुहूर्त  नशे मे संत कि भूमि
पर पडे रहने से अमर पद को पाता है ; तो आप की  कितनी  कमाई हो रही है… …!!

..तो जो ज्यादा जीता है कोई इसका महत्त्व नही है..कैसे जीते हो इसका महत्त्व है…
क्या करते हो इसका महत्त्व नही है..कैसे करते हो इसका महत्त्व है..
जो भी करते हो ,ईश्वर प्रीति के लिए करो..उद्देश भीतर क्या है इसका महत्त्व जानो..सत्संग से  तुच्छ आदमी मे भी प्रभाव बढ़ता है, विरोचन पुत्र बलि नशे मे सत्संग की जगह पड़ा रहने से इन्द्र्पद को पाया , अमर पद को पाया.. तो जो भगवान के लिए सत्संग मे आते है..उस प्यारे को याद करते है तो सत्संग से आप कि ७ पीढी का उध्दार  होता है..

जब ही नाम हृदय धर्यो भयो पाप को नाश,
जैसे चिनगी आग कि पडी पुराने घांस…
पुरानी घांस कितनी भी हो लेकिन उसपर एक चिनगी आग की पडी तो सारी  घांस जल जायेगी..वैसे ही सत्संग मे उस प्यारे का नाम लेते तो
आप के पाप नाश हो जाते है..गुरू से दीक्षा मिली और मंत्र मिला
तो चल पडे…. 🙂

..एक लड़का आया उसने बताया मैं  50 % मार्क्स लाता था, स्कुल वालो ने निकाल देने कि धमकी दी थी,लेकिन सारस्वत्य  मंत्र लिया और अब 30lakh साल का पगार है..नोकिया  मोबाइल कंपनी मे है.
…दुसरा एक लड़का आया बोला कि मैं  भैसे चराता था, टायर  की चप्पल पहेनता था, सारस्वत्य  मंत्र लिया..ऐसा आगे बढ़ा कि अभी
“गो-एयर” विमान कंपनी मे इंजीनियर है …कितना कमाता है…कितनी भी भैसे रखता तो कितना कमा लेता?१२/१४ रु  लीटर भैंस का दूध..कितना भी चराता तो क्या करता बेचारा?आज जरासा बोला तो भैस तो चल पडी…  🙂

बापूजी भैस की आवाज निकाल  कर सभी को खूब हँसा रहे है…. 🙂 
भैस की आवाज , पाड़े की आवाज…  🙂
जीवन हलका फुलका होना चाहिऐ…जिसके जीवन मे हंसी नही ख़ुशी नही, वोह भी क्या जीना है?

नाथ संप्रदाय के गोरक्षनाथ कहते है ,

हसिबो खेलिबो धरिबो ध्यान अहर्निश करिबो आत्मज्ञान..

हसते खेलते जीवन जियो…मेरा कोई नही? जिसका कोई नही उसका भगवान है…सत्संग मिला , संत के दर्शन होते  है  तो कुछ  पुण्य होता
है..कोई पुण्य का काम किया है तो भगवान द्रवीभूत होते है, तब ही सत्संग का लाभ मिलता है…जिनके पुण्य कमजोर है वोह बैठ नही सकते
सत्संग मे…पाप उसको घसीट के ले जाते…संत चले गए ,खाली वह उस जगह पर ठोकर लगी तो भी इतना  पुण्य हुआ विरोचन पुत्र बलि को
तो सत्संग सुनने का कितना पुण्य होगा…

चलो प्राणायाम करो..
(बापूजी प्राणायाम करवाए..)
सुबह सूरज उगने के समय और शाम को सूरज डूबने से पहले 10 प्राणायाम करो…जो मोटे है, पेट मे दर्द है,हाई बीपी /  लो बीपी  है तो कल मंत्र बताएँगे..सत्संग से , प्राणायाम से आयु  , आरोग्य कि पुष्टि होती है..
.अभी लम्बा श्वास लो दोनो नथुनों से..
हरि ॐ….(प्लुत उच्चारण)”म” कहते हुये होठ बंद रखे..आंखें खुली रखो..ओमकार को ,गुरू महाराज को या भगवान को देखो…फिर से लम्बा
श्वास…अगर ध्यान भजन मे मन  नही लगता है तो लम्बा स्वास लो…मुँह   बंद ,कंठ मे ॐ बोले…गर्दन आगे पीछे करेंगे…इससे चिन्ता दूर
होगी, ख़ुशी आएगी..फिर से गहरा स्वास..ॐ ॐ ॐ ॐ ॐ …मुँह  बंद कर के कंठ मे बोलते हुये गर्दन को आगे पीछे करे…ऐसा २ बार करे..

तिलक का महत्त्व
..ललाट पे तिलक करे…इससे सूझ बुझ  बढती  है ..बुध्दीमान  ब्राह्मण सब से पहले आप को तिलक लगायेगा..नही तो सब क्रिया कर्म व्यर्थ हो
जाते है…अपने शरीर मे जो 7 मुख्य केंद्र है , उसमे से एक मुख्य केंद्र “ज्ञान केंद्र” ललाट मे  दोनो भौवे( eyebrows) के बिच मे है..इसलिये वहा  तिलक लगाना चाहिऐ..आदमी नही करते तो चल जाता है , लेकिन माता , बहनो, बेटियों को जरुर तिलक करना है….क़ुम क़ुम, सिन्दूर, चंदन  से नही तो तुलसी कि मिटटी से, गाय के खुर के मिटटी से  भी तिलक कर सकते है..जो काम नही होता तो गाय के खुर कि मिटटी का तिलक लगाकर जाये तो काम होने लगेगा….

यंत्र  तंत्र और मंत्र
*शरीर यन्त्र है ….
*इस  यन्त्र को चलाने की युक्ति तंत्र है….
* और बुरे कर्मो से बचना , सत्कर्मो मे लगना ये है मंत्र जो ईश्वर को मिला  देता है….
यन्त्र , तंत्र और मंत्र सही हो ईश्वर प्राप्ति सहज सुलभ…. कल यंत्र को ठीक रखने के और तरीके सिखा दूंगा.. 🙂

इंदिरा एकादशी
कल सुबह 7 से 9 के बिच दीक्षा कार्यक्रम होगा उसके बाद  11.30 तक सत्संग..कल एकादशी है..कल कि  भाद्रपद महिने की कृष्ण पक्ष की
एकादशी है इसे  “इंदिरा एकादशी” कहते है..राजा युधिष्टीर ने पूछा श्रीकृष्ण भगवान को कि प्रभु इस भादो कृष्ण एकादशीका फल क्या है ? भगवान कृष्ण ने कहा कि इन्द्रसेन नाम का एक बड़ा धर्मात्मा राजा हो गया..उसने एकादशी की महिमा सुनी..देव ऋषी  नारद से पूछा..नारद जी ने कहा कि, मैं यम लोक गया था … यमराज ने स्वागत किया.. तो वहा  आप के पिताजी रोते हुये बोले कि, मेरे बेटे को बोलना एकादशी का व्रत करे..”
 इस  व्रत से पितरो का उध्दार  होता है और कराने वाले का आरोग्य आयुष्य बढ़ता है..तो आज रात को सोते समय संकल्प करे कि,  ” हे भगवान नारायण , मोक्ष प्रदायन कराने वाली इंदिरा एकादशी का मैं  व्रत करता हूँ , इसका पुण्य मेरे पितरो को दीजिये और उनकी सदगति कीजिये “…एकादशी को मौन रखे, जल दूध पिए, तुलसी के पत्ते खाए..बझार कि चीजे नही खाए…भूक लगे तो किशमिश खाए या उबालकर शरबत  बनाकर पिए…भगवान का नाम जपे, शास्त्र पढे…जागरण करे…इसका पुण्य पितरो को अर्पण करे…उनकी सदगति  होगी…उनका आशीर्वाद मिलेगा..

कर्जे उतारने के उपाय
*कर्जे है तो रविवार के दिन बिना नमक का भोजन करो…

*गजेन्द्र मोक्ष का पाठ करो..

*”श्री हरि , श्री हरि” जप करे…

*कर्जा उतर गया तो भी कट कसर  से हाथ चलाये…ऐसा नही कि ब्याज चलता रहे…कट कसर  से जिए…

सदगुरूदेव ने पक्का करवाया :-

नाम बराबर कछु नही तप , तिरथ, व्रत, दान..
कहे प्रीतम साधन सब ही , नही हरि नाम समान…

हझारो तीर्थो मे जाओ, पूजा करो, लाखो उपाय करो लेकिन गुरू के मंत्र के आगे सब छोटे पड़ जाते है..इसलिये भगवान शिव जी ने  भी गुरू
मंत्र कि महिमा कही है..स्टाल से माला और शिवगीता ले लेना, पेट साफ रखना ..सुबह नहा धोकर आना, पानी पी सकते हो और कुछ नही खाना
है..दीक्षा के बाद प्रसाद मिलेगा.. 
अभी कीर्तन करेंगे..

भय नाशन दुरमती हरण कलि मे हरि को नाम
निशि दिन नानक जो जपे सफ़ल होवे सब काम

सत्संग के  ५ मिनट और ४५ सेकंड्स ..!

नेता बोलता है तो भाषण होता है..
प्रोफेसर  बोलता है तो लेक्चर  होता है…
कथाकार बोलता है तो कथा होती है ..
लेकिन संत बोलता है तो सत्संग होता है..!!
सत्संग की आधी घड़ी का लाभ मिले  तो सभी पापों का नाश होता है..

तुलसीदास महाराज ने रामायण मे लिखा..

“एक घड़ी आधी घड़ी आधी मे पुनि आध….
तुलसी संगत साध की हरे कोटी अपराध..” 
एक घड़ी मतलब  साडे बाईस मिनिट(22 minutes 30 sekonds = एक घड़ी)..उसके आधे सव्वा ग्यारह (11minute 15
sekonds) मिनट और और उसके आधे पौने छः  (5minute 45 sekondas) मिनटभी सत्संग सुनते हो तो पाप नाश हो जाते है..एक एक कदम सत्संग मे चलकर आते हो तो एक एक यज्ञ कराने का पुण्य प्राप्त करते हो…सत्संग मे बैठे तो भक्ती का मीटर चालू हो जाता है..सामुहिक कीर्तन करते हो तो कीर्तन के ध्वनी  मे इतनी पाप संहारक शक्ति है कि जैसे संक्रामक रोग नही चाहते हुये भी मनुष्य को बीमार कर ही देते है..ऐसे ही मनुष्य  नही चाहे कि कल्याण हो तब भी कीर्तन मे गलती से भी पहुंच गया तो उसका कल्याण होता ही है…भगवान  नाम के पवित्र आन्दोलन उसके  पाप काट डालते है..कीर्तन यात्रा मे कौन थे? बाहर धुप थी लेकिन ह्रदय मे शीतलता थी ना?

….कहा कहासे लोग आये है बकसी मे..जबलपुर, उज्जैन,सूरत..एक दिन के प्रोग्राम मे सारे हिन्दुस्थान के कोने कोने से लोग आ गए है!!…
.हरि ॐ ..
जय  सियाराम जय जय सियाराम हरि हरि ॐ (मधुर मधुर नाम कीर्तन हो रहा है…)
 आनंद दाता, भक्तिदाता, शंभू भोलेनाथ  तुम्हारी जय हो!!!!!
हरि ॐ..
तुम्हारी रग रग पावन हो रही है..तुम्हारा रक्त का कण कण पवित्र हो रहा  है..दोनो हाथ ऊपर कर के हास्य करेंगे तो ये पावन रक्त कि धारा
शरीर मे  बहेगी..


हरि ॐ ॐ ॐ ॐ ॐ ॐ…राम रामा रामा रामा रामा रामा
ॐ ॐ ॐ ॐ ॐ हा हः हा हा हा..  (बापूजी हास्य करवाए..) 🙂
कोई फेरे नही फिरे , फिर  भी बिन फेरे हम तुम्हारे प्रभु …
आत्मा  परमात्मा  ..बिन फेरे हम तेरे…
* कीर्तन के बाद एक मिनट   चुप..भगवान कि शांति ह्रदय मे स्थित होने दो….
* रोज स्नान करने के बाद कटोरी मे पानी ले, उसमे देखे..”ॐ ॐ ॐ ॐ ॐ ” ऐसा १०० बार बोले…और वोह पानी पिए…कितना भी भाग्य फूटा
हो..पानी मे देखे , १०० बार ॐ बोले ..वोह पानी पिए…काम बन जाएगा…करोगे ? वचन दो….!
* त्रिफला रसायन के प्रयोग से चश्मा उतर जाएगा..रोज सुबह और शाम 11gram खाना है..

* शरद पूनम की रात को खाना नही बनाए..खीर बनाए..और वोह भी दूध को बहोत गाढ़ा नही करना है..एक लीटर दूध हो तो उसमे 200 ग्राम चावल डालो..अगर दूध को उबलना है तो उसमे पानी डालो…चन्द्रमा के चांदनी मे रखो साडे ग्यारा बजे तक..उसमे चंद्र के किरण पडने दो..फिर खाओ..रात को चांदनी मे घुमो…(पूज्य बापूजी ने बताया कि  सूरत को किसी भाई को भैस का दूध उबालकर गाढ़ा कर के पिने की आदत थी तो रक्त मे कैंसर की गांठ हो गयी थी..भैस का दूध गाढ़ा कर के पीना नुकसान करता है…)
आरती हो रही है..ॐ जे जगदीश हरे
…प्रार्थना हो रही है…कर्पूर गौरं…
माल्यार्पण हो रहा  है…
ॐ नमो भगवते वासुदेवाय..
* चिन्ता नही छोड़ती अगर पश्चिम मे सिरहाने  कर के सोये,
* बिमारी नही छोड़ती अगर उत्तर मे सिरहाने  कर के सोये…..
* सोते समय सिर हमेशा पूरब या दक्षिण कि ऊर कर के ही सोये…
सोते समय भगवान को याद करो..भगवान मेरे मैं  भगवान का…बिन फेरे हम तेरे ऐसा बोल देना…इस  प्रकार  योगनिद्रा मे जायेंगे तो शांति ,आनंद आएगा..ऐसा चिन्तन कर के सो गए तो भक्ती हो जायेगी और नींद भी हो जायेगी…
हर हर महादेव…!
* युवाधन जरुर घर मे रखना माँ बाप बेटा  बेटी सभी पढो, 5 बार..भगवान नाम कि महिमा पढो…कल 9 बजे सभी को बिमारी से छुटकारा पाने
के  उपाय भी बता देंगे…

राम राम…

हरि ॐ ! सदगुरूदेव कि जय हो!!!!!
(गलतियों के लिए प्रभुजी क्षमा करे..)
  

Advertisements
Explore posts in the same categories: Uncategorized

4 Comments on “Indira ekadashi katha ,satsang_live(5/10/07)”

  1. myah l mirchandani Says:

    Thankyou, who ever came up with this wonderful concept ,will be blessed. Thankyou we all in different parts of the world can have access to GURUJI’S immediate. MAY GURJI’S BLESSING WITH US ALL.

  2. myah l mirchandani Says:

    sorry error in my previous comment . I MEANT ACCESS TO GURJIS IMMEDIATE WORDS OF WISDOM (SATSANG).

  3. Abhivyakti Sharma Says:

    Its very nice to see these sweet blessings of bapu on net. I m really very thankful to all those who contributed in this sewa, since being a wrking girl I hardly used to get time to go ashram. But the online sewa has realy helped me to be in touch with Bapu. HARI OM ..!!


Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s


%d bloggers like this: