Baundsi Satsang (23-Sep-07): Amrit Bindu

HariOm,
Narayan Narayan, Narayan Narayan…


************ ********* *********
Gurudev ke Baundsi Satsang (Sunday, 23-Sep) ke kuch Amrit Bindu –

 ********* ********* *********

In Hinglish (Hindi written in English) for Hindi please scroll dawn
1). 20 pranayam gardan peechey daboch kay, 20 pranayam gardan aagey daboch kay, aur yeh 10 pranayam (1 minute aur 40 second
waley)…shareer ki shuddhi, mann ki shuddhi, buddhi ki
shuddhi,…. aur apni bhakti drudh ho jaayegi…
2. Khuley sir dhoop mein kabhi nahin ghoomna chahiye…3. Gurudev ne Padma Ekadashi ke mahaatmya ki katha bataai… Usmein unhone raja maandhaata ki katha sunaai jo ki punyaatma
thhey…narayan sab ka aatma ban ke baithey hain, aisa vey jaante
thhey…

Angira rishi ne unse kaha ki bhadon maas ki shukla paksh ki padma
ekadashi ka vrat karne se jaane anjaane paap naash ho jaate
hain…padma ekadashi ka vrat rogon ko mitaata hai, paapon ko jalaata
hai, aur bhagvaan ki preeti aur bhakti ko badhaakar is lok mein aur
par-lok mein sukh shaanti, mukti deta hai…

Bhagvaan ke naam aur upaasna se badi badi aapdayein talti hai…raja
ne sun rakha thha…to unhone yeh ekadashi ka vrat kiya…

4. Gurudev ne kaha ki jo log satsang dhyan se suntey hain, woh
budhimaan bantey hain…badi badi tapasya se bhi aadmi itna buddhimaan nahin hota jitna satsang se ho jaata hai…satsang se jo buddhi ka vikas hota hai, bhagya ka uday hota hai, woh rajya satta milne se bhi nahin hota…

5. Gurudev ne kaha kayee log vrat karte hain aur ice-cream/coca- cola
pitey hain…hai! Arey usmein to haddiyon ka tel nikaala hua daaltey
hain…chemical daalte hain…vrat mein to nimbu paani pi liya…subah
subah athva raat ko thoda doodh pi liya aur thoda seb(apple) fal kha liya,bas ho gaya…kele bhi nahin khaane chahiye jaada…vrat ki bhukhamari se jathra ko ann nahin milta to jathra rog ko pacha leti hai, aadmi nirog rehta hai…

ek 95 saal ke “jawaan” se poocha aap abhi tak 95 saal mein “jawaan”
kaise hain? boley main haftey mein ek baar kada vrat rakhta hun…aur
mausam badalta hai to hum das-das din ke vrat rakhtey hain…aur
bhojan mein hum salad khaate hain thoda…isiliye 95 saal mein bhi
main jawaan jaisa…jo teeson din khaana khaate hain woh jaldi buddhey hotey hain aur bimariyon ke ghar ho jaate hain…hafta mein ek din vrat to rakhna chahiye, nahin rakhey to 15 din mein ek baar to vrat rakhna hi chahiye ekadashi ka…jisse paap aur rog mitein…

lekin jo budhey hain, kamjor hain, diabetes ki takleef hai…woh vrat
na rakhe to chal jaayega…athva koi vrat rakhta hai aur kamjor hai to
kishmish khaaye…diabetes wala bhi kishmish khaayega to diabetes mein bhi aaraam hai aur taakat bhi rahegi…doodh ka bhi kaam kare, fal ka bhi kaam kare kishmish…doodh pachaane mein jitna samay lagey us se bhi aadhey samay mein kishmish pach jaaye, lekin kishmish dhoye bina nahin khaani chahiye…kyonki usko chemical laga ke rakhte hain, jantu-naashak davaai…dho ke hi kishmish khaani chahiye…

6. Gurudev ne kaha ki is season mein to kaaju, badaam, maava, paneer dushman ko bhi nahin dena chahiye…woh pachta nahin hai, uske karan phir bypass surgery/heart attack karaayengey. ..garmiyon mein yeh badaam/kaju khaana/khilaana bahut nuksaan karta hai…is season mein to upvaas kare, upvaas nahin karna hai to chaney aur kishmish khaaye…chaney aur kaaley draaksh khaaye…sardi aa gayee, khaansi aa gayee, motaapa aa gaya…thoda din yeh kar ke dekh le, bahut aaraam aa jayega…jo motey log hain, woh to chane aur draksh 2-5 din kar le, aur khaana kum kar de, band kar de…saara kaf svaha ho jaayega…

7. Is season mein chandani mein thoda baithna chahiye raat ko…

8. Gurudev ne kaha ki deviyon ko maasik dharm ki problem ho to
painkiller/injection na lein, bahut nuksaan karte hain…koi bhi
striyon(ladies) ki gupt bimaari ho, raat ko paani rakh lo sava litre, taambe ka bartan ho to theek hai, nahin to kisi mein, savere manjan kar ke, brush karne se fayada nahin hota, manjan karna chahiye, main (Gurudev) bhi manjan karta hun…manjan karke tulsi ke 5 pattey kha liye…lekin itvaar(Sunday) ko tulsi nahin khaana, nahin todna…5 pattey kha liye aur paani pi liya…vaise to suraj ugne par hi paani pina chahiye, raatri ko paani pina jathra mand karta hai…raatri ko der bhojan karma bimaari laata hai..aur din mein bhojan kar ke sona bimari laayega…yeh baatein samajh lo to aap nirog reh saktey ho…

to woh paani pi liya sava litre, thoda ghoomey phirey, 8 din ke andar
kabjiyat ki bimaari, pet saaf nahin aata to saaf aaney lagega…maasik
mein peeda hoti hai to peeda mit jaayega, jaada/kam aata hai to theek ho jaayega…nahin aata hai, santaan nahin hoti hai…aaney lagega, aur santaan ka mantr bhi de dengey, santaan bhi ho jaayegi…aise log thhey doctor boltey thhey santaan nahin hogi, aise logon ke ghar mein abhi 3-3 santaanein khel rahi hain…

9. Yuvadhan pustak jo bhi 5 baar padhey woh samajhdaar ban jaata
hai…to sanyam se rehtey, to unka veerya majboot hota hai..to baalak
bhi majboot paida hotey hain…

phir Gurudev kehte hain ki bachha paida ho usko gungune paani se
nehlaakar pita ki god mein rakhna chahiye…aur pita us bachhey ko
dekhey aur boley uske kaan mein –

om om om om om om om (7 baar) ashma bhavah…Tu chattaan ki naayee drudh hona…om om om om om om om (7 baar) parshu bhavah…Tu vighn baadhaaon ko aur paapon ko kaatne wala kulhaada banna..om om om om om om om (7 baar) hirnamastum bhavah…Tu suvarn ki naayee
– lohe ko daag lag jaata hai, taambey ko bhi jang lag jaata hai,lekin
sona jyon ka tyon rehta hai – aise hi tu sansaar mein nirlep rehna…
aisa karke baap maa ki god mein bachhey ko daal de…phir maa kya kare?

usey stun-paan na karaave, kuch bhi uske munh  mein na daale; pehle maa ko kya karna chahiye, ma ho, mausi ho, jo bhi ho, ek boond shahad ki, das boond ghee ki, dono ko milaa de, aur sone ki salaai se (agar sone ki salai khareedne ki takat nahin hai to chaandi ki salai par soney ka paani 15-20 rupye mein chad jaata hai) shehed aur ghee ke vimishran se(sam-mishran hoga to zeher banta hai – ya to shehed ka vajan jaada ho, ya to ghee ka jaada ho, barabari to zeher hota hai) baalak ki jeebh par om likh deve…baad mein usko jo bhi dena ho, paani/doodh de sakate hai ..bachha aisa banega ki 7 peedhi ke khaandaan mein aisa nahin hua hoga jaise yeh baalak/baalike banengey…

10) Jo satsang karvaate hain athva karvaane mein bhaagidaar hotey hain unpar bhagvaan bahut khush ho jaate hain….

11) Gurudev ne pucca karvaya –

sada diwali sant ki, aathon paher aanand,
akalmata koi upja, giney indra ko runk…

indra dev ko sukh lena hai to apsara dance kare phir sukh ho, aur sant
ko to “dil-e-tasveer hai yaar, jab ki gardan jhuka li, mulaakaat kar li”; apne aap se sukh leve…jo doosron se sukh lena chahta hai, woh  to kangaaliyat hai na, apna sukh aatma ka…!

12). Gurudev ne kaha bhakt apne jeevan mein 4 baaton ka pashchaataap karta hai – hey prabhu! Guru ki akal nahin mili thi, tab tak main yeh teen apraadh karta tha –

a) Aap kisi jagah mein ho, isliye main teerth mein bhatakta tha…aap
ghar mein nahin ho, dil mein nahin ho, main yeh apraadh karta tha…

b) Doosra apraadh yeh karta tha maharaj ki aap sarv-vyaapak, sarvatr, sab mein nahin ho, ek roop mein dikho…roshni dikhey, krishna ke roop mein dikho…ram ke roop mein dikho, abhi sabhi roop mein aapki leela hai, yeh main nahin jaanta tha (satsang sunne se pehle)… to aap kisi roop mein dikho, woh main apraadh karta tha…itney roop mein dikhey woh bhagvan…lekin aap to sarv-vyaapak thhey, mere ko pata nahin tha…kyonki satsang nahin tha, akalmata nahin upja…to main (Gurudev) bhi aisa sochta tha ki aisa dikhey to uska matlab bhagvaan ka darshan…mere (Gurudev) ko bhi aisi galti thi…Shivji dikhengey, prakat ho jaayengey, baatcheet hogi…yeh main apraadh karta tha…

c) (Teesra Apraadh) Mann ki aisi sthiti ho, mann mein aisa ho, aisa na
ho…yeh jo meri maathaa-pachhi thi…mann ke saath jud ke main aisa
chahta tha…aur mann, mann ka kaam kare, buddhi buddhi ka kaam kare, bin phere hum tere, yeh to Guru ne gyan diya maharaj, nahin to hum mare jaa rahe thhey…akalmata to Guru ne kiya…

sada diwali sant ki, aathon paher aanand
akalmata koi upja, giney indra ko runk…

14. Sureshanandji ne satsang mein bataaya ki Gopiyaan bhagvaan Krishna se prarthna karti thhi ki prabhu! hum aapki 4 baatein na bhulein –

a. Aap ka darshan
b. Aap ke vachan
c. Aap ke saath bitaaya hua samay
d. Aap ka madhur haasya

To Gurudev ne bhi kaha ki hum bhi yeh 4 baatein na bhulein…(Gurudev ka) darshan, unkey vachan, unke saath bitaaya hua samay aur madhur haasya…

HariOm,
Narayan Narayan, Narayan Narayan…

************ ********* ********* ********* ********

In Hindi Devnagari

हरिओम,नारायण नारायण, नारायण नारायण…
************ ********* ********* ********* *********
गुरुदेव के बौन्द्सी सत्संग (सन्डे, 23-sep) के कुछ अमृत बिन्दु –
********* ********* ********* ********* ********* *
(1.) २० प्राणायाम गर्दन पीछे दबोच के, २० प्राणायाम गर्दन आगे दबोच  के, और यह १० प्राणायाम (१ मिनट और ४० सेकंड वाले )…शरीर कि शुद्धि, मन  कि शुद्धि, बुद्धि की शुद्धि ,…. और अपनी भक्ती दृढ़ हो जायेगी…
(2.) खुले सिर धुप में कभी नहीं घूमना चाहिऐ…
(3.) गुरुदेव ने पद्मा एकादशी के महात्म्य कि कथा बताई…उसमें उन्होने रजा मान्धाता कि कथा सुनाई जो कि पुण्यात्मा थे …नारायण सब का आत्म बन के बैठे हैं, ऐसा वे जानते थे …अन्गिरा ऋषि ने उनसे कहा कि भादों मास  कि शुक्ल पक्ष कि पद्मेकदाशी का व्रत करने से जाने अनजाने पाप नाश हो जातेहैं…पद्मा एकादशी का व्रत रोगों को मिटाता है, पापों को जलाताही, और भगवान् कि प्रीति और भक्ती को बढ़ाकर इस लोक में और पर -लोक में सुख शांति, मुक्ति देता है…भगवान् के नाम और उपासना से बड़ी बड़ी आपदाएं टलती है…राजन सुन रखा था…तो उन्होने यह एकादशी का व्रत किया…
(४.)गुरुदेव ने कहा कई लोग व्रत करते हैं और आइस-क्रीम /कोका- कोला पीते  हैं…है! अरे उसमें तो हड्डियों का तेल निकाला हुआ डालते हैं …केमिकल डालते हैं…व्रत में तो निम्बू पानी पी लिया…सुबह सुबह  अथवा रात को थोडा दूध पी लिया और थोडा सेब(ऐपल) फल खा लिया,बस हो गया…केले भी नहीं खाने चाहिऐ जादा…व्रत कि भुखमरी से जठरा को अन्न नहीं मिलता तो जठरा रोग को पचा लेती है, आदमी निरोग रहता है…एक ९५ साल के “जवान” से पूछा आप अभी तक ९५ साल में “जवान”कैसे हैं? बोले मैं हफ्ते में एक बार कडा व्रत रखता हूँ…और मौसम  बदलता है तो हम दस-दस दिन के व्रत रखते हैं…और भोजन  में हम सलाद खाते हैं थोडा…इसीलिये ९५ साल में भी मैं  जवान जैसा…जो तीसों दिन खाना खाते हैं वोह जल्दी बुड्ढे  होते हैं और बीमारियों के घर हो जाते हैं…हफ्ता में एक दिन व्रत तो रखना चाहिऐ, नहीं रखे तो १५ दिन में एक बार तो व्रत रखना ही चाहिऐ एकादशी का…जिससे पाप और रोग मिटें…लेकिन जो बुड्ढे  हैं, कमजोर हैं, डायबिटीज़ कि तकलीफ है…वोह व्रतना रखे तो चल जाएगा…अथवा कोई व्रत रखता है और कमजोर है तोकिश्मिश खाए…डायबिटीज़ वाला भी किशमिश खायेगा तो डायबिटीज़ में भी आराम है और ताक़त भी रहेगी…दूध का भी काम करे, फल का भी काम करे किशमिश…दूध पचाने में जितना समय लगे उस से भी आधे समय में किशमिश पाच जाये, लेकिन किशमिश धोये बिना नहीं खानी चाहिऐ…क्योंकि उसको केमिकल लगा के रखते हैं, जंतु-नाशक दवाई…धो के ही किशमिश खानी चाहिऐ…
(५ ) गुरुदेव ने कहा कि इस सीज़न में तो काजू, बादाम, मावा, पनीर दुश्मन को भी नहीं देना चाहिऐ…वोह पचता  नहीं है, उसके कारन फिर बाईपास सर्जरी/हार्ट अटैक कराएंगे. ..गर्मियों में यह बादाम/काजू खाना/खिलाना बहुत नुकसान करता है…इस सीज़न में तो उपवास करे, उपवास नहीं करना है तो चने और किशमिश खाए…चने और काले द्राक्ष खाए…सरदी आ गयी, खांसी आ गयी, मोटापा आ गया…थोडा दिन यह कर के देख ले, बहुत आराम आ जायेगा…जो मोटे लोग हैं, वोह तो चने और द्रक्ष २-५ दिन कर ले, और खाना क़ुम कर दे, बंद कर दे…सारा कफ स्वाहा हो जाएगा…
(६). इस सीज़न में चांदनी में थोडा बैठना चाहिऐ रात को…
(७). गुरुदेव ने कहा कि देवियों को मासिक धर्म कि प्रोब्लेम  हो तो पैन किलर /इंजेक्शन न लें, बहुत नुकसान करते हैं…कोई भी स्त्रियों  की गुप्त बिमारी हो, रात को पानी रख लो सवा लीटर, ताम्बे का बरतन हो तो ठीक है, नहीं तो किसी में, सवेरे मंजन कर के, ब्रश  करने से फायदा नहीं होता, मंजन करना चाहिऐ, मैं (गुरुदेव) भी मंजन करता हूँ…मंजन करके तुलसी के ५ पत्ते खा लिए…लेकिन इतवार(सन्डे) को तुलसी नहीं खाना, नहीं तोडना…
५ पत्ते खा लिए और पानी पी लिया…वैसे तो सूरज उगने पर ही पानी पीना चाहिऐ, रात्री को पानी पीना जठरा मन्द करता है…रात्री को देर भोजन करना  बिमारी लाता है॥और दिन में भोजन कर के सोना बिमारी लाएगा…यह बातें समझ लो तो आप निरोग रह सकते हो…तो वोह पानी पी लिया सवा लीटर, थोडा घूमे फिरे, ८ दिन के अन्दर कब्जियात  की बिमारी, पेट साफ नहीं आता तो साफ आने लगेगा…मासिक में  पीड़ा होती है तो पीड़ा मिट जाएगा, जादा/कम आता है तो ठीक हो जाएगा…नहीं आता है, संतान नहीं होती है…आने लगेगा, और संतान का मंत्र भी दे देंगे, संतान भी हो जायेगी…ऐसे लोग थे डॉक्टर  बोलते थे संतान नहीं होगी, ऐसे लोगों के घर में अभी ३-३ संतानें खेल रही हैं…
(8।) युवाधन पुस्तक जो भी ५ बार पढे वोह समझदार बन जाता है  …तो संयम से रहते, तो उनका वीर्य मजबूत होता है॥तो बालक भी  मजबूत पैदा होते हैं…फिर गुरुदेव कहते हैं की बच्चा पैदा हो उसको गुनगुने पानी से नेहेलाकर  पिता कि गोद में रखना चाहिऐ…और पिता उस बच्चे को देखे  और बोले उसके कान में
-ॐ ॐ ॐ ॐ ॐ ॐ ॐ (७ बार) अश्मा भवः…तू चट्टान कि नाई दृढ़ होना…
ॐ ॐ ॐ ॐ ॐ ॐ ॐ (७ बार) परशु भवः…तू विघ्न बाधाओं को और पापों को काटने वाला कुल्हाडा बनना॥
ॐ  ॐ ॐ ॐ ॐ ॐ ॐ (७ बार) हिर्नामस्तुम भवः…तू सुवर्ण कि नाई- लोहे को दाग लग जाता है, ताम्बे को भी जंग लग जाता है,लेकिंसोना ज्यों का त्यों रहता है – ऐसे ही तू संसार में निर्लेप रहना…
ऐसा करके बाप माँ की गोद में बच्चे को डाल दे…फिर माँ क्या करे?उसे स्तन -पान न करावे, कुछ भी उसके मुँह  में न डाले; पहले माँ को क्या करना चाहिऐ, माँ हो, मौसी हो, जो भी हो, एक बूँद शहद कि, दस बूँद घी कि, दोनो को मिला दे, और सोने कि सलाई से (अगर सोने कि सलाई खरीदने कि ताकत नहीं है तो चांदी कि सलाई पर सोने का पानी १५-२० रूपये में चढ़ जाता है) शेहेद और घी के विमिश्रण से(सम-मिश्रण होगा तो ज़हर बनता है – या तो शेहेद का वजन जादा हो, या तो घी का जादा हो, बराबरी तो ज़हर होता है) बालक कि जीभ पर ॐ लिख देवे…बाद में उसको जो भी देना हो, पानी/दूध दे सकते है ॥बच्चा ऐसा बनेगा कि ७ पीढ़ी के खानदान में ऐसा नहीं हुआ होगा जैसे यह बालक/बालिका  बनेंगे…
 (9।) जो सत्संग करवाते हैं अथवा करवाने में भागीदार होते हैं उनपर भगवान् बहुत खुश हो जाते हैं
(10।) गुरुदेव ने पक्का  करवाया –
सदा दिवाली संत की, आठों पहर आनंद,
अकलमता कोई उपजा, गिने इंद्र को रुंक…इंद्र देव को सुख लेना है तो अप्सरा डान्स करे फिर सुख हो, और संत को  तो
“दिल-ए-तस्वीर है यार, जब कि गर्दन झुका ली, मुलाक़ात कर ली”;
अपने आप से सुख लेवे…जो दूसरों से सुख लेना चाहता है, वोह  तो कंगालियत है न!.. अपना सुख आत्म का ..!
(11 )। गुरुदेव ने कहा भक्त अपने जीवन में ४ बातों का पश्चाताप करता है – हे प्रभु! गुरू की अकल नहीं मिली थी, तब तक मैं यह तीन अपराध करता था –
 अ) आप किसी जगह में हो, इसलिये मैं तीर्थ में भटकता था…आप्घर में नहीं हो, दिल में नहीं हो, मैं यह अपराध करता था…
 ब) दूसरा अपराध यह करता था महाराज कि आप सर्व-व्यापक, सर्वत्र, सब में नहीं हो, एक रुप में दिखो…रौशनी दिखे, कृष्ण के रुप में दिखो…राम के रुप में दिखो, अभी सभी रुप में आपकी लीला है, यह मैं नहीं जानता था (सत्संग सुनने से पहले)… तो आप किसी रुप में दिखो, वोह मैं अपराध करता था…इतने रुप में दिखे वोह भगवन…लेकिन आप तो सर्व-व्यापक थे, मेरे को पता नहीं था…क्योंकि सत्संग नहीं था, अकलमता नहीं उपजा…तो मैं (गुरुदेव) भी ऐसा सोचता था कि ऐसा दिखे तो उसका मतलब भगवान् का दर्शन…मेरे (गुरुदेव) को भी ऐसी गलती थी…शिवजी दिखेंगे, प्रकट हो जायेंगे, बातचीत होगी…यह मैं अपराध करता था…
 क) (तीसरा अपराध) मन  कि ऐसी स्थिति हो, मन  में ऐसा हो, ऐसा नहो…यह जो मेरी माथा-पच्ची थी…मन  के साथ जुड़ के मैं ऐसा चाहता  था…और मन , मन  का काम करे, बुद्धि बुद्धि का काम करे, बिन फेरे हम तेरे, यह तो गुरू ने ज्ञान दिया महाराज, नहीं तो हम मरे जा रहे थे…अकलमता तो गुरू ने किया…सदा दिवाली संत की, आठों पहर आनंद अकलमता कोई उपजा, गिने इंद्र को रंक ….
(12।) सुरेशानान्द्जी ने सत्संग में बताया कि गोपियाँ भगवान् कृष्ण से प्रार्थना करती ठी कि प्रभु! हम आपकी ४ बातें न भूलें –
 अ। आप का दर्शन
 ब। आप के वचन
क। आप के साथ बिताया हुआ समय
डी। आप का मधुर हास्य
तो गुरुदेव ने भी कहा कि हम भी यह ४ बातें न भूलें…(गुरुदेव का) दर्शन, उनके वचन, उनके साथ बिताया हुआ समय और मधुर हास्य…
********* ********* ********* ********* ********* *
…हरिओम,नारायण नारायण, नारायण नारायण…    
 
************ ********* ********* ********* *********

 

Advertisements
Explore posts in the same categories: Uncategorized

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s


%d bloggers like this: