Baundsi Satsang (22nd Sep’07): Amrit Bindu(in Hinglish & Hindi)

In Hinglish (Hindi-English)

HariOm,
Narayan, Narayan, Narayan Narayan, Narayan…

Baundsi mein Gurudev ke Satsang ke kuch Amrit Bindu – (Gurudev ne Baundsi mein satsang thoda Haryaanvi bhaasha mein kiya tha)

************ ********* ********* *********

1. Gurudev ne pucca karvaaya –

Hari sam jag kachu vastu nahin, Prem panth sam panth,
Sadguru sam sajjan nahin, Gita sam nahin granth…
Hari sam jag kachu vastu nahin – hari hain nitya, jagat hai anitya,
jagat hai jad aur hari hain gyan svaroop, hari hain chetan, jagat hai
jad, hari hain sukh roop aur jagat hai badalne wala…
duniya mein do vibhaag hain –– ek woh, jo hamara hai, jaise makaan, dukaan, ghar…
– aur doosra woh hai, jo hamara nahin hai…saarey makaan to mere
nahin hain, saari dukaan to meri nahin hain…
to ek woh hota hai jise aap bolte hain mera ghar, meri patni, mera
beta, mera paisa…aur doosra woh jo hamara nahin hai…

aur jisko mera bolte hain to woh bahut thoda hai…aur jo mera nahin
hai uska to koi ant nahin hai…to jisko mera mera maante hain, woh
sada saath mein rahega? marne ke baad sath mein chalega?

doosra miley ki nahin miley, lekin jo hai, woh chhodna padega ki
nahin? dil pe haath rakh kar dekho…jo mera nahin hai, woh to nahin
hai, lekin jisko mera maante hain, woh bhi chhod ke jaana padega…to
kya karein?

uska sadupyog karein, us se mamta kam karein, aur jiska sab kuch hai,
woh vaastvik mein mera tha, mera hai, aur mera rahega…kaun mera tha?
boley aatma mera tha, agley janam mein bhi…aur mera hai, bachpan
mein bhi tha, abhi bhi hai, aur marney ke baad bhi rahega…shareer
marega phir bhi mera aatma to rahega na?

to jo mera tha, mera hai aur mera rahega, us se to preeti karo…jo
sada hai us ka naam hai hari, rom rom mein ram raha hai, to usko aap
“raam” keh do…dukh aur thakaan har leta hai, to usko “hari” kehte
hain…din bhar aapa-dhaapi mein raat ko indriyan mann mein, mann
buddhi mein, aur buddhi us chaitanya mein…thakaan, dukh, chinta har leta hai…us parmeshwar ka naam ho gaya “hari”…aur woh aatma hai,
isliye hari ommmmmmmmmm. …

2. to ab kya karna hai…hari om ka to gunjan karna hai aur woh hi
mere hain…aur yeh thode din ke liye mera mera hai, chhootne wala
hai…aur woh sada ke liye mera hai…yeh baat samajhne mein aapko der
lagi kya? yeh baat jhoothi lagti hai kya? sachhi hai, pakki hai?

to jo apna nahin hai, woh to nahin hai…jisko apna maante hain, woh bhi sada nahin rehta…mere khilone, khilone rahe kya? meri shirt,
meri nanhi si boosh-shirt, abhi khojun to milegi nahin…koi de bhi de
to itne badey baba ko itni si boosh-shirt kaise aayegi? 🙂 lekin us
samay jo mera hari saath mein tha, woh abhi bhi hai…usi ko bolte
hain – aad sat, jugaat sat, hai bhi sat, hosey bhi sat…

to jo sat hai, us ko to apna maano, preeti karo…aur jo badalne wala hai uska upyog kar lo…maata ki, pita ki, kutumb ki, samaj ki,
bhagvaan ki, seva kar lo, bas ho gaya…dono haath mein laddoo…

aur ulta kya karte hain, jo apna nahin thha, apna nahin rahega, usko to boltey hain hamara hai, aur khapey khapey khapey…aur jo apna tha, hai, rahega, uska pata nahin…isiliye ashanti badh gayee saarey world mein….saari duniya mein…

3. mera ek sevak america se laut kar aaya hai, bol raha tha america ki
haalat bahut buri hai…pehle jo ek dollar mein milta tha petrol, uska
ab teen guna bhaav ho gaya…pehle jo toll tax 50 paise thhey, paanch
paanch dollar ho gaye…to yeh saarey achhey din, burey din aatey
jaatey hain…lekin woh parmaatma sada saath rehta hai, isiliye kehte
hain –

hari sam jag kachu vastu nahin

aur usko rijhaane ke liye, uski shakti paane ke liye, usko apna
maankar prem karo…

prem panth sam nahin panth…

aur Sadguru sam sajjan nahin, duniya ka sajjan koi sansaar ki cheez dega jo chhootne wali hai, aur Sadguru to aise dengey hanstey kheltey, ki maut ka baap bhi nahin chheen sakta…

4. Is season mein dahi to door se tyaag de, khatti cheez, tali hui
cheez, aur mirch masala…aur doodh to jitna piye, pi le, aur kisi ka
shareer dubla patla hai…aanvla, aanvla ka churan milega stall par,
ek chammach daal ke ghol bana ke pi le…laali aa jaayegi, majboot ho jaayega, jawaani chamkegi…

5. Gurudev ne satsang mein jaat deviyon aur bhaiyon se haath upar karne ko kaha, aur phir pucca karaaya –

jaat bhajo, gujar bhajo, chahe bhajo aheer,
tulsi raghuvir bhajan mein, sab kaaho ki peer…

5. Gurudev ne phir yeh amrit vachan kahe –

aaj sotey samay thoda yaad kar lena, ki “hari sam jag kachu vastu nahin”,

bhagvaan! tere samaan yeh duniya ki koi cheez mahatv nahin rakhti…tu
sada hai, duniya badalti hai…tu abadal hai..achhey kaam huey teri
kripa hai…aaj satsang sunya…aur pakka ho gaya – tu mera hai, main
tera hun…agley janam ka baap abhi nahin hai, agley janam ki patni,
bete, betiyan, abhi nahin, lekin agley janam wala rab tu abhi bhi
hai…marne ke baad bhi rahega…main teri god mein aa raha hun mere
prabhu…

raat ko sotey samay, jaise bachha maa ki god mein nishchint hota hai,
aise hi aap baithey baithey bolna main ab teri god mein aaraam karne
ko aaunga…lekin pehle main jara preeti purvak tumhaara bhajan kar
lun,…jaise maa maa maa pukaartey hain na…bachha pyaara kyon, kaise
ho jaata hai? maa to jaanti hai bachha mera hai, lekin bachha keh de
maa, main tera hun….maa tu meri maa hai…to bachhe ko bhi aanand
aata hai; aise hi aap bhagvaan ko bol dena – bhagvaan, aap to mere
hain…main jaisa taisa aapka hun…hai na, hai na?

hari om, hari om….(hasya prayog karein)

tu mera, main tera, bin phere hum tere…woh phere phirte hain, phir
bhi ek doosre ko chhod ke chale jaate hain, lekin hum phere nahin
phirey, par hum tere thhey, abhi hain, baad mein rahengey…

aisa karke phir seedhey let jaana, phir shvaas andar aa raha hai –
“ram”, bahar aa raha hai – “1”, andar aa raha hai – “hari”, bahar aa
raha hai – “2”, andar aa raha hai – “Om”, bahar aa raha hai –
“3”….aise shvaaso-shvaas gintey gintey aap so gaye…

main aapko sach bataaoun – aaj tak jitna bhi tumne kamaaya hai…us se
kayee guna yeh asli kamaai, aapke bhagya mein raat ke 6 ghantey tak
chalti rahegi…neend ki neend bhi aayegi, aur bhakti bhi chalu ho
jaayegi….daadhi ki daadhi, baaba ka baaba…:) dono haath mein
laddoo…kaye ghaata padey, koi rupya paisa paai lagey nahin…aur
bhakti bhi chaalu ho jaaye…neend ki neend bhi miley, aur bhakti ka
bhagvaan bhi dekhey ki yeh mere liye aaya hai…

6. Phir subah uthogey, 1-2 min chup baith jaana, aankhein dekhti hain,
lekin satta teri hai…kaan suntey hain, satta teri hai…mann sochta
hai, lekin satta teri, mann ke vichaar badal jaate hain, aankh ka
dekhna badal jaata hai, kaan ka sunna badal jaata hai, lekin “hari sam
jag kachu vastu nahin”, prabhu tere baraabar koi nahin…main to aaj
din bhar jo bhi kaam karun teri yaad karte karte karun…main tera, tu
mera, prabhu,…hai na? hai na? hari om hari om (hasya prayog
karein)….

haasya to vaise hi aarogya ki kunji hai…haasya se to rakt shudh bhi
hota hai…high b.p., high tension, sab bhaag jaaye…aur chehra bhi
aakarshak ho jaaye hasne wale ka…

haste ke saath hase duniya, rotey ko kaun bulaave….

7. To raat ko aise 2-5 minute aise kirtan kar ke so ja, aur subah
uthein to 2 min shaant baithein…aur koi musibat hai, main naukri
badlun, kya karun, aap hi bataao, to woh andar se prerna milegi…jara
jara baat mein angrezi davaai, injection, koi zarurat nahin
padegi…andar se achhi prerna milegi….phir din shuru kar, aur din
mein beech beech mein sumiran kar – “hari sam jag kachu vastu nahin,
prem panth sam panth”…

8. Bhagvaan ko apna maanengey to prem ras jaagega…gopiyon ko dekho,
prem ras tha to bhagvaan naachne lag gaye…bhagvaan to prem ke
bhukhey hain…prem se koi bhi de – patr, pushpam, bhagvaan sveekar
karte hain…

jab bhojan karo to keh do – “Thaakur ji! kha liyo”…vaastav mein to
thaakur ji hi bhog lagaave…main kha reya hun, main kha reya hun,
tera thakur ji na ho, to tu kha ke dikha? murdey ko bolo – tu chaba ke
dikha, bete…jeevan bhar kha liya, to ek roti chaba ke dikha tere
baap ki taakat hai to? 🙂 thaakur ji khilaaye tabhi khaave, phir
chahey jaat ho chahe uska baap ho, chahe baniya ho…:)

to jab bhojan karo na, to bhagvaan ko bolo ki aapko bhog lagaaun, pet
to tharo bharega, bhakti ki bhakti ho jaayegi aur bhojan ban jaayega
prasaad…aur bhagvaan kehte hain –

prasaadey sarv dukhaanaam haanirasyopjaayete. ..

buddhi mein prasannta aayegi…bhagvaan ko bhog lagaaogey to ras to
bhagvadmay banogo na, aisa thodey hi jhagda khor ras banogo…

9. Diksha ka mahatv bataate huey Gurudev ne kaha – bhagvaan ke naam
mein badi taakat hai, lekin diksha ke baad woh jaagrit hota hai…

10)Bapu ji ne yeh bhi pakka karvaya tha, sunday ko !

Sada Diwali Sant Ki………
Charon pahar Anand……
Akalmata koi upjaya…… …
Gine Indra ko Rank…..

********* ********* **** Satsang likhne mein koi truti hui ho, to main Gurudev se aur aap sabhi
se kshama chahta hun…
HariOm,
Narayan, Narayan, Narayan Narayan…
**********************************

In Devnagari Hindi 

हरिओम,नारायण, नारायण, नारायण नारायण नारायण…

बौन्दसी
में गुरूदेव के सत्संग के कुछ अमृत बिन्दु -(गुरूदेव ने बौन्दसी में सत्संग थोडा हरायांणवी  भाषा में किया था)
***************** *********

1. गुरूदेव ने पक्का  करवाया –
हरि सम जग कछु वस्तु नहीं, प्रेम पंथ सम पंथ,
सदगुरू  सम सज्जन नहीं, गीता सम नहीं ग्रंथ…
 हरि सम जग कछु वस्तू नहीं – हरि हैं नित्य, जगत है अनित्य,जगत है जड़ और हरि हैं ज्ञान स्वरूप, हरि हैं चेतन, जगत है जड़ , हरि हैं सुख रुप और जगत है बदलने वाला…
दुनिया में दो विभाग हैं –
– एक वोह, जो हमारा है, जैसे मकान, दुकान, घर…
 – और दूसरा वोह है, जो हमारा नहीं है…सारे मकान तो मेरे नही  हैं, सारी दुकान तो मेरी नहीं हैं…
 तो एक वोह होता है जिसे आप बोलते हैं मेरा घर, मेरी पत्नी, मेरा बेटा  , मेरा पैसा….
और दूसरा वोह जो हमारा नहीं है…
और जिसको मेरा बोलते हैं तो वोह बहुत थोडा है…और जो मेरा नही है , उसका तो कोई अंत नहीं है…तो जिसको मेरा मेरा मानते हैं, वोह सदा  साथ में रहेगा, मरने के बाद में साथ चलेगा?दूसरा मिले कि नहीं मिले, लेकिन जो है, वोह छोड़ना पड़ेगा कि नही ? दिल पे हाथ रख कर देखो…जो मेरा नहीं है, वोह तो नही है , लेकिन जिसको मेरा मानते हैं, वोह भी छोड़ के जाना पड़ेगा…तोक्या करें?उसका सदुपयोग करें, उस से ममता कम करें, और जिसका सब कुछ है,वोह वास्तविक में मेरा था, मेरा है, और मेरा रहेगा…कौन मेरा था?बोले आत्मा मेरा था, अगले जनम में भी…और मेरा है, बचपन मे  भी था, अभी भी है, और मरने के बाद भी रहेगा…शरीर मरेगा  फिर भी मेरा आत्मा तो रहेगा ना?तो जो मेरा था, मेरा है और मेरा रहेगा, उस से तो प्रीति करो…जो सदा  है उस का नाम है हरि, रोम रोम में राम रमता  है, तो उसको आप”राम” कह दो…दुःख और थकान हर लेता है, तो उसको “हरि” कह्तेहैं…दिन भर आपा-धापी में रात को मन इन्द्रियां  में, मन बुद्धि  में, और बुद्धि उस चैतन्य में…थकान, दुःख, चिन्ता हरलेता है…उस परमेश्वर का नाम हो गया “हरि”…और वोह आत्मा   है, इसलिये हरि ओम्म्म्म्म्म्म्म्म्म. …

२. तो अब क्या करना है…हरि ॐ का तो गुंजन करना है और वोह ही मेरा    हैं…और यह थोड़े दिन के लिए मेरा मेरा है, छूटने वाला है…और वोह सदा के लिए मेरा है…यह बात समझने में आपको देर लगी  क्या? यह बात झूठी लगती है क्या? सच्ची है, पक्की है?तो जो अपना नहीं है, वोह तो नहीं है…जिसको अपना मानते हैं, वोह्भी सदा नहीं रहता…मेरे खिलोने, खिलोने रहे क्या? मेरी शर्ट,मेरी नन्ही सी बुश-शर्ट, अभी खोजों तो मिलेगी नहीं…कोई दे भी देतो इतने बडे बाबा को इतनी सी बुश-शर्ट कैसे आएगी? 🙂 लेकिन उस समय जो मेरा हरि साथ में था, वोह अभी भी है…उसी को बोलतेहैं –
आड़ सत् , जुगात सत् , है भी सत्, होसे भी सत्…
तो जो सत् है, उस को तो अपना मानो, प्रीति करो…और जो बदलने वाला है उसका उपयोग कर लो…माता की, पिता की, कुटुंब की, समाज की,भगवान् की सेवा कर लो, बस हो गया…दोनो हाथ में लड्डू…और उल्टा क्या करते हैं, जो अपना नहीं था , अपना नहीं रहेगा, उसकोतो बोलते हैं हमारा है, और खपे खपे खपे…और जो अपना था,है, रहेगा, उसका पता नहीं…इसीलिये अशांति बढ़ गयी सारे वर्ल्ड मे ….सारी दुनिया में…
३. मेरा एक सेवक अमेरिका से लौट  कर आया है, बोल रह था अमेरिका की हालत  बहुत बुरी है…पहले जो एक डॉलर में मिलता था पैट्रोल, उसका तीन  गुना भाव हो गया…पहले जो टोल टैक्स 50 पैसे थे, पाँच पाँच डॉलर हो गए…तो यह सारे अच्छे दिन, बूरे दिन आते जाते हैं.  
…लेकिन वोह परमात्मा सदा साथ  रहता है, इसीलिये कहते है
 -हरि सम जग कछु वस्तु नहीं…और उसको रिझाने के लिए, उसकी शक्ति पाने के लिए, उसको अपनामानकर प्रेम करो…प्रेम पंथ सम नहीं पंथ…और सदगुरू सम सज्जन नहीं, दुनिया का सज्जन कोई संसार कि चीज  देगा  जो छूटने वाली है, और सदगुरू तो ऐसे देंगे हंसते खेलते,कि मौत का बाप भी नहीं छीन सकता…
4. इस सीज़न में दही तो दूर से त्याग दे, खट्टी चीज़, तली हूई चीज , और मिर्च मसाला.. (त्याग दे)..और दूध तो जितना पिए, पी ले, और किसी का शरीर  दुबला पतला है…आंवला, आंवला का चूरन मिलेगा स्टाल पर,एक चम्मच डाल के घोल बना के पी ले…लाली आ जायेगी, मजबूत होजायेगा, जवानी चमकेगी…
 गुरुदेव ने सत्संग में जाट देवियों और भाईयों से हाथ ऊपर करने  को कहा, और फिर पक्का  कराया
 -जाट भजो, गुजर भजो, चाहे भजो अहीर,
तुलसी रघुवीर भजन में, सब कहो की पीर…

5. गुरुदेव ने फिर यह अमृत वचन कहे -आज सोते समय थोडा याद कर लेना, कि “हरि सम जग कछु वस्तु नहीं”,भगवान्! तेरे समान यह दुनिया कि कोई चीज़ महत्त्व नहीं रखती…तू सदा  है, दुनिया बदलती है…तू अबदल है..अच्छे काम हे तेरी कृपा  है…आज सत्संग सुना …और पक्का हो गया – तू मेरा है, मैं तेरा  हूँ…अगले जनम का बाप अभी नहीं है, अगले जनम कि पत्नी,बेटे, बेटियाँ, अभी नहीं, लेकिन अगले जनम वाला रब तू अभी भी है …मरने के बाद भी रहेगा…मैं तेरी गोद में आ रहा  हूँ मेरे प्रभु …रात को सोते समय, जैसे बच्चा माँ कि गोद में निश्चिंत होता है,ऐसे ही आप बैठे बैठे बोलना मैं अब तेरी गोद में आराम करने को  आऊंगा…लेकिन पहले मैं जरा प्रीति पूर्वक तुम्हारा भजन करलूं,…जैसे माँ माँ माँ पुकारते हैं ना…बच्चा प्यारा क्यों, कैसे हो  जाता है? माँ तो जानती है बच्चा मेरा है, लेकिन बच्चा कह दे माँ , मैं तेरा हूँ….माँ तू मेरी माँ है…तो बच्चे को भी आनंद अता  है; ऐसे ही आप भगवान् को बोल देना – भगवान्, आप तो मेरे हैं …मैं जैसा तैसा आपका हूँ…है ना, है ना?
हरि ॐ, हरि ॐ….(हास्य प्रयोग करें)
तू मेरा, मैं तेरा, बिन फेरे हम तेरे…वोह फेरे फिरते हैं, फिरभी एक दुसरे को छोड़ के चले जाते हैं, लेकिन हम फेरे नहिंफिरे, पर हम तेरे थे, अभी हैं, बाद में रहेंगे…ऐसा करके फिर सीधे लेट जाए , फिर श्वास अन्दर आ रह है -“राम”, बाहर आ रह है – “1”, अन्दर आ रह है – “हरि”, बाहर आ रहा है – “2”, अन्दर आ रहा है – “ॐ”, बाहर आ रहा है -“3″….ऐसे श्वासों-श्वास गिनते गिनते आप सो गए…
मैं आपको सच बताऊ  – आज तक जितना भी तुमने कमाया है…उस से कई  गुना यह असली कमाई, आपके भाग्य में रात के 6 घंटे तक चलती  रहेगी…नींद कि नींद भी आएगी, और भक्ती भी चालू हो जायेगी ….दाढ़ी  कि दाढ़ी , बाबा का बाबा…:-) दोनो हाथ में लड्डू …कोई  घाटा पडे, कोई रुपया पैसा पाई लगे नहीं…और भक्ती  भी चालू हो जाये…नींद कि नींद भी मिले, और भक्ती भी ! भगवान  भी देखेंगे  कि यह मेरे लिए आया है…
6. फिर सुबह उठोगे, 1-2 मिनिट  चुप बैठो  ….जाना , आंखें देखती हैं,लेकिन सत्ता तेरी है…कान सुनते हैं, सत्ता तेरी है…मन  सोचता है , लेकिन सत्ता तेरी, मन  के विचार बदल जाते हैं, आंख का देखना  बदल जाता है, कान का सुनना बदल जाता है, लेकिन “हरि सम जग  कछु वस्तु नहीं”  , प्रभु तेरे बराबर कोई नहीं…मैं तो आज दिन  भर जो भी काम करूं तेरी याद करते करते करूं…मैं तेरा, तू मेरा , प्रभु,…है ना? है ना?
 हरि ॐ हरि ॐ (हास्य प्रयोग करें )
….हास्य तो वैसे ही आरोग्य कि कुंजी है…हास्य से तो रक्त शुद्ध भी होता  है…हाई बी .पी ., हाई टेंशन, सब भाग जाये…और चेहरा भी आकर्षक  हो जाये हँसने वाले का…
हसते  के साथ हसे दुनिया, रोते को कौन बुलावे….

7.) तो रात को ऐसे 2-5 मिनट ऐसे कीर्तन कर के सो जा, और सुबह उठें  तो 2 मिनिट  शांत बैठें…और कोई मुसीबत है, मैं नौकरी बद्लूं , क्या करूं, आप ही बताओ, तो वोह अन्दर से प्रेरणा मिलेगी…जराजरा बात में अंग्रेजी दवाई, इंजेक्शन, कोई ज़रूरत नहीं पडेगी …अन्दर से अच्छी प्रेरणा मिलेगी….फिर दिन शुरू करो , और दिनमें बीच बीच में सुमिरन करो  – “हरि सम जग कछु वस्तु नहीं,प्रेम पंथ सम पंथ”…
8). भगवान् को अपना मानेंगे तो प्रेम रस जागेगा…गोपियों को देखो,प्रेम रस था तो भगवान् नाचने लग गए…भगवान् तो प्रेम के भूखे  हैं…प्रेम से कोई भी दे – पत्र, पुष्पम, भगवान् स्वीकार करते  हैं…जब भोजन करो तो कह दो – “ठाकुर जी! खा लियो”…वास्तव में तो ठाकुर  जी ही भोग लगावे…मैं खा रिया हूँ, मैं खा रिया हूँ,तेरा ठाकुर जी ना हो, तो तू खा के दिखा? मुर्दे को बोलो – तू चबा के दिखा , बेटे…जीवन भर खा लिया, तो एक रोटी चबा के दिखा तेरे बाप  कि ताक़त है तो? 🙂 ठाकुर जी खिलाये तभी खावे, फिर चाहे  जाट हो चाहे उसका बाप हो, चाहे बनिया हो…:)तो जब भोजन करो ना, तो भगवान् को बोलो कि आपको भोग लगाऊं, पोट तो   थारो भरेगा, भक्ती कि भक्ती हो जायेगी और भोजन बन जायेगाप्रसाद…और भगवान् कहते हैं –
प्रसादेय सर्व दुखानाम हानिरास्योप्जायेते।
बुद्धि  में प्रसन्नता आएगी…भगवान् को भोग लगाओगे तो रस तो भगवत  मय  बनेगा ना, ऐसा थोडे ही झगड़ा खोर रस बनेगा…
9)। दीक्षा का महत्त्व बताते हे गुरुदेव ने कहा – भगवान् के नाम में  बड़ी ताक़त है, लेकिन दीक्षा के बाद वोह जागृत होता है…
10)हरि ॐ,बापू जी ने यह भी पक्का करवाया था, सन्डे को !
सदा दिवाली संत कि………
चारों पहर आनंद……
अकल माता  कोई उपजाया…… ..
गिने इन्द्र को रंक…
********* ********* ********
सत्संग लिखने में कोई त्रुटि हुई हो, तो मैं गुरुदेव से और आप सभी से क्षमा चाहता हूँ…हरिओम,नारायण, नारायण, नारायण नारायण…
***************************

Advertisements
Explore posts in the same categories: Uncategorized

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s


%d bloggers like this: