साधू और मछवारा

( परम पूज्य आसाराम बापूजी के सत्संग से )


व्यास जी कहेते की ,  शुद्ध में शुद्ध है परमात्मा का प्रकाश, तो जिस से अंतकरण  में परमात्मा का प्रकाश होता वो धर्म है… प्याऊ लगाते तो भी भगवान के लिए, पति परायण  रहेते तो भी भगवान के लिए … तो अंतकरण शुध्द होगा और अंतकरण शुध्द होगा तो शुध्द तत्व का साक्षात्कार  होगा..
जिन साधनो से अंतकरण शुध्द होता है, वे सभी साधन धर्म है…

एक मछवारा मछलियों  को सता के निकाल रहा था..साधू ने देखा तो पूछा की क्यों इतनी   मछालियां  मार रहा है …
बोला, ‘अकेला हूँ ,.. पेट के लिए मार रहा हूँ’
साधू बोला, ‘एक का पेट भरने के लिए इतनी मछलियाँ  मत मार…चलो आश्रम में रहो ,तुझे खाना मिल जाया करेगा..’
मछ्वारे का आश्रम के माहोल से मन बदला.. गया साधू के पास की मुझे भी मन्त्र दो..दीक्षा दो..
साधू बोला, ‘अभी तेरा अंतकरण शुद्ध नहीं हुआ है, अंतकरण शुध्द नहीं और दीक्षा देते तो जैसे सड़क पर बिज नहीं उगता ऐसे अभी दीक्षा से तुम्हे उतना लाभ नहीं होगा..’
तो मछवारा बोला की, ‘अंतकरण को कैसे शुध्द करू?’
साधू बोले, ‘यात्रा कर!’
मछवारा  ने पूछा,  ‘ठीक है.. मैं  जाता हूँ यात्रा करने, लेकिन मुझे पता कैसे चले की अंतकरण शुध्द हुआ की नहीं..कब लौटना है’
साधू बाबा ने एक पेड़ का लठ्ठा  दिया, बोले..  ‘ये अभी गिला है, हरा है…ये जब सुख के पिला हो जाये तो आ जाना…’
मछवारा निकला यात्रा पर…
यात्रा करते करते एक गाँव के बाहर पेड़ के निचे सोया था..नींद तो नहीं आ रही थी..मध्यरात्री को कुछ लुटेरे आये , उसी पेड़ पर बैठ के लुटेरे लोग प्लानिंग बना रहे थे…की गाँव को ऐसा लूटेंगे , गड़बड़  हुयी तो तुम इधर से आग लगाना, तुम उधर से लगाना.. गाँव वाले जल मरेंगे आग की लपेट में…
मछवारे ने सोचा.. यूँ तो मैंने पाप बहोत किया है, थोडा और  सही..’
मछ्वारा ने डंडा उठाया और धाड़  धाड़  मारना शुरू कर दिया चोरों  को…3-4 को गिरा दिया …बाकि भाग गए..गाँव वाले बच गए…
सुबह हुयी तो मछ्वारा सोचा डंडा तो अब बहोत ज्यादा हरा हो गया होगा….देखा तो डंडा सुख कर पिला हो गया था..
मछवारा साधू बाबा के पास वापस आया , सब बताया की ये डंडा हरा होना चाहिए था, मैंने इतनो को मारा..
साधू बाबा बोले,  ‘बहोतो की रक्षा से , और दूसरो की हीत की भावना से तेरी पहेली की सारी  गड़बड़  माफ हुयी है..इसलिए डंडा पिला हो गया..अब तू दीक्षा  का अधिकारी हुआ है..’


24 शाम : पुज्यश्री बापूजी रजोकरी आश्रम गुरूमंदिर से



धर्म रक्षती , रक्षितः  – धर्म की रक्षा की तो धर्म आप की रक्षा करता ही है..

भगवान के लिए रोने से, माला जपने से अगर आप का ह्रदय शुध्द होता तो वो करो, जो करने से आप का ह्रदय  शुद्ध होता वो करना ये धर्म है.. …
कबीर जी बोलते , रोज संत का दर्शन करने से ह्रदय शुध्द होता..रोज न कर सके तो दुसरे दिन करो , दुसरे नहीं तो 3रे दिन करो , 7 दिन में करो, 7दिन में नहीं तो 15-15 दिन में करो..15 दिन में भी नहीं कर सकते तो मास  मास में कर लो तो काल दगा नहीं देगा… अकाल मृत्यु नहीं होगी ….यमपुरी नहीं जाना पडेगा…किसी गर्भ में जा कर बाथरूम में नहीं बहेना पडेगा …

याग्य वल्क्य ऋषि  कहेते-  यज्ञ , दान, स्वाध्याय, जप, ध्यान, देश- काल -पात्र के अनुसार व्यवहार करना ही धर्म के अंतर्गत है….

मनु महाराज कहेते की धर्म वो है जिस से इस लोक और परलोक की ऊँची गति हो..मनुष्य लाभान्वित हो सके..

गाड़ी बढ़िया है लेकिन ब्रेक नहीं है या स्टेआरिंग  नहीं है, तो ऐसी गाड़ी हमें सुरक्षित यात्रा नहीं करवाएगी..
ऐसे परायी वस्तु में मन न लगा के ईश्वर में मन लगे ये एक्सीलेटर है, अनुचित खाने के लिए मन को रोकने की शक्ति ये ब्रेक है..पतन से बचने की शक्ति है ये स्टेआरिंग  का उपयोग करते …तो जैसे सही कंडीशन  वाली गाड़ी सुरक्षित पहुंचाती ,  ऐसे जिस को  करने से  हम भगवान की तरफ पहुंचे उस का नाम है धर्म..

चोरी बे-इमानी न करना, व्यर्थ की हिंसा न करना(इस में बोर्डर वाले जवान नहीं आते), व्यभिचार न करना, दुसरे की वस्तु छिनना, अनिष्ट संकल्प न करना, चुगली नहीं करना, कठोर न बोलना, एक का दोष दुसरे को न बताना ये आप के जीवन में आये तो आप को धर्मात्मा महात्मा बना देंगे…

जो ज़रा ज़रा बात में चोरी करते, झूठ बोलते वो आत्म हत्यारे है…
सत्य समान कोई पुण्य नहीं,  झूठ समान नहीं पाप….

ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ

vyas ji kahete ki shuddh me shudh hai paramaatma ka prakash, to jis se anakaran paramatma ka prakash hota vo dharm hai… pyaau lagaate to bhi bhagavaan ke liye, patiparaayan rahete  to bhi bhagavan ke liye … to antakaran shudhd hogaa aur antakaran shudhd hoga to shudhd tatv ka sakshatakaar hogaa..
jin sadhano se antakaran shudhd hota hai, ve sabhi sadhan dharm hai…

ek machhawara machhaliyaa ko sataa ke nikaal rahaa tha..sadhu ne dekha to puchhaa ki kyu itan imachhaliyaa maar raha ahai …bola,  ‘akela hu,.. pet ke liye maar rahaa hun’
sadhu bola, ‘ek ka pet bharane ke liye itani machhhliya mat maar…chalo ashram me raho ,tujhe khana mil jaaya karegaa..
machhhaware ka aashram ke mahol se man badalaa.. gayaa sadhu ke paas ki mujhe bhi mantr do..diksha do..
sadhu bola, abhi tera antakaran shudh nahi huaa hai, antakaran shudhd nahi aur diksha dete to jaise sadak par bij nahi ugataa aise abhi diksha se tumhe utana labh nahi hogaa..
to machhawara bola ki, antakaran ko kaise shudhd karu?
sadhu bole, ‘yatraa kar!’
machhhwara ne puchha thik hai mai jata hun yatra karane, lekin mujhe pataa kaise chale ki antakaran shudhd hua aki nahi..kab lautanaa hai’
sadhu baba ne ek ped ka laththaa diyaa, bole ye abhi gila hai, haraa hai…ye jab sukh ke pilaa ho jaye to aa jana…
machhawara nikalaa yatra par…yatra karate karate ek gaanv ke baahr ped ke niche soya tha..nind to nahi aa rahi thi..madhyaraatri ko kuchh lutere aaye , usi ped par baith ke lutere log planing banaa rahe the…ki aisa lutenge , gadabad huyi to tum idhar se aag lagaanaa, tum udhar se lagaanaa.. gaanv wale jal marenge aag ki lapet me…
machhawaare ne socha yun to maine paap  bahot kiya hai, thoda uar sahi..’
machhwara ne  dandaa uthaya aur dhad dhad maarana shuru kar diya choro ko…3-4 ko gira diyaa baki bhaag gaye..gaanv waale bach gaye… subah huyi to machhwara socha danda to ab bahot jyada haraa ho gayaa hogaa….dekhaa to dandaa sukh kar pilaa ho gayaa thaa..
machhawara sadhu baba ke paas wapas aaya , sab bataya ki ye danda haraa hona chaahiye tha, maine itano ko maaraa..
sadhu baba bole, bahoto ki rakshaa se , aur dusaro ki heet ki bhavanaa se teri paheli ki sari gadabad maaph huyi hai..isliye dandaa  pila ho gayaa..ab tu diskha ka adhikari huaa hai..’

Pujyashri from Rajokari Ashram



dharm rakshati rakhsitaah- dharm ki raksha ki to dharm aap ki raksha karataa hi hai..

bhagavan ke liye rone se, mala japane se agar aap ka hruday  shudhd hota to vo karo, jo karane se aap ka hruiday shudh hota vo karana ye dharm hai.. …
kabir ji bolate , roj sant ka darshan karane se hruday shudhd hota..roj na kar sake to dusare din karo , dusare nahi to 3re din karo , 7 din me karo, 7din me nahi to 15-15 din me karo..15 din me bhi nahi kar sakate to maas maas me kar lo to kaal dagaa nahi degaa… yamapuri nahi jana padegaa…kisi garbh me jaa kar bathroom me nahi bahenaa padegaa …

yaagy valky rushi kahete yagy, daan, swadhyay, jap, dhyan, desh-kal-paatr ke anusar vyavahaar karanaa hi dharm ke antargat hai.

manu maharaj kahete ki dharm vo hai jis se is lok aur parlok ki unchi gati ho..manushya labhanvit ho sake..

gadi badhiya hai lekin break nahi hai ya stayaring nahi hai, to aisi gadi hame surakshit yatra nahi karavayegi..
aise parayi vastu me man na lagaa ke ishwar me man lage ye acciletor hai, anuchit khane ke liye man ko rokane ki shakti ye break hai..patan se bachane ki shakti hai ye stearing ka upayog karate …to jaise sahi condition wali gadi surakshit  pahunchate aise jo kar ke ham bhagavan ki taraf pahunche us ka naam hai dharm..

chori be-imani na karanaa, vyarth ki hinsa na karanaa(is me border wale jawan nahi aate), vyabhichaar na karanaa, dusare ki vastu chhinanaa, anisht sankalp na karanaa, chugali nahi karanaa,  kathor na bolanaa, ek ka dosh dusare ko na bataanaa ye aap ke jeevan me aaye to aap ko dharmatma mahaatmaa banaa denge…

jo jaraa jaraa baat me chori karate, jhuth bolate vo aatm-hatyaare hai..

satya samaan koyi punya nahi, jhuth samaan nahi paap…

ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s


%d bloggers like this: