संस्कृत के आचार्य पाणिनि की कथा

संस्कृत  के आचार्य पाणिनि की कथा
….ऐसा ही एक बुद्दु लड़का था , १४ साल का हो गया फिर भी पहली कक्षा भी पास नही हुआ था… तो उस उमर मे मान – अपमान  की चोट जादा  लगती है.., जब वोह १५ साल का हुआ तो बाप बोला कि “तुमको कुछ शरम नही आती १४/१५ साल मे पहली कक्षा भी पास नही कर पाया..तुमको कुछ शरम नही आती? हम तो समाज मे मुँह दिखाने  लायक नही रहे ..”

तो लड़का दुःखी हो गया अपने माँ के पास गया, तो माँ भी बोली कि , “तुम पहली कक्षा भी पास नही होता , हमारे लिए तो मुसीबत हो गया..तेरे कारन क्या क्या सुनना पडता है..तू मर जा या तो कही चला जा..” लडके ने देखा कि माँ भी नाराज  हो गयी तो बहोत दुःखी होकर घर से निकल गया…

चलते चलते किसी गाँव मे पहुँचा , सुबह हो गयी थी , सड़क किनारे बैठा लड़का सोचा  कि कुवे पे माईया पानी भर रही है वो चली जाये तो  इसी  कुवे मे कूद कर जान दे दूँ ..”  लेकिन इतने मे लडके को वहा  आये संत के दर्शन हो गए..उसके भजन सुनने को मिले..तो सुबह सुबह  शुभ मुहूर्त मे संत के दर्शन होना और भजन सुनना तो पवित्र होता है.. तो लड़का देख रहा  .. रस्सी से पानी खीचते हुये  संत को… लड़का उसको देखता रहा  सोचता रहा  ..तो ..
“मथक मथक मति होत सुजान…!”
लड़का संत के पास गया , अपना दुःख बताया …तो संत ने उसको ऐसा मंत्र दिया , बोले कि “ जप ध्यान कर ऐसा ऐसा आगे बढेगा कि ध्यान मे शिवजी आएंगे ,डमरू बजायेंगे .. .तेरे बुध्दी के द्वार खुल जायेंगे..तेरे अन्दर ऐसी विद्या  प्रगट हो जायेगी…”…तो महाराज..लड़का तो कराने लगा “ॐ नमह शिवाय..”  ..शिवजी  समाधि से उठे देखा कि कोई मेरा गहराई से ध्यान कर रह है तो …. शिवजी साक्षात् प्रगत हो गए…ये कपोल कल्पित नही ..मेरे मित्र संतो को भी कई बार देवताओंके  दर्शन हुये हुये है….तो लडके को डमरू का नाद सुनायी दिया  ..नटराज के नवपंचम नाद से लडके मे ऐसा परिवर्तन हुआ कि जो लड़का १४ साल मे पहली कक्षा पास नही हुआ वोह संस्कृत  का पंडित बन गया और संस्कृत   का व्याकरण उसने लिखा..आज भी उसका ग्रंथ लोग पढते है …उस लडके का नाम था “पाणिनि”!
पाणिनि का नाम “संस्कृत  के आचार्य”  के नाम से सुप्रसिध्द  है..!!


तो पाणिनि की कथा याद करो और आप का बेटा  , पडोसी का बेटा  या और कोई भी बच्चा पढ़ने  मे अच्छा नही हो तो निराश ना हो..कितना भी गंदे से गन्दा , बुरे से बुरा बच्चा हो उसे डांटे नही , फटकारे नही , उसके अन्दर भी वोही परमात्मा का प्रकाश है, उसका भी विवेक बढ़ सकता है .. सारस्वत्य मंत्र से जप ध्यान से उसका विवेक बढेगा ..अपना बेटा , बेटी कोई गलती करता है तो वो सदा वैसा नही रहेगा , गलती हूई  तो उस बात को गांठ नही बांधनी चाहिऐ … अपना हो चाहे पडोसी का हो.. उसको विवेक जगाने मे मदत करो… बाकी तो …..


ईश्वर अल्लाह तेरो नाम
सब को सन्मति दे भगवान…!!
तुझ में  राम मुझ में  राम सब में  राम समाया है..
कर लो सभी से प्यार जगत मे कोई नही पराया है….
एक ही माँ के हम सब बच्चे ,एक ही पिता हमारा  है
फिर भी ना जाने किस मूर्खो ने लड़ना हमें  सिखाया है…
तुझ मे ॐ मुझ में   ॐ..


….हिंदु का बेटा  हो चाहे मुसलमान का… जनमता है तो पहली ध्वनि “ॐ” ही बोलता है…(बापूजी ने नवजात शिशु का पहला ध्वनि “ॐ” होती ये  स्वयम आवाज निकालकर  :-) स्पष्ट किया..) तो पहला ही ध्वनि ओमकार ध्वनि है..
….हिंदु हो ,चाहे मुस्लमान हो चाहे , ईसाई  हो ,बीमार पडता है कराहते हुये जो ध्वनि निकालता है वो भी “ओमकार का ॐ ध्वनी ” ही है..(बापूजी ने कराहने के ध्वनी  निकालकर स्पष्ट किया)
……सिर्फ मनुष्य ही नही लेकिन कुत्ते का बच्चा भी ठंड लगती और माँ आस पास  नही दिखती तो जो आवाज निकालता तो उसमे भी “ॐ” कि आवाज सुनायी देती है…मैंने नही सिखाया उनको..   :-)
…आमिर हो चाहे गरीब हो ,  विद्वान हो चाहे अनपढ़ हो , सब मे एक ही स्वाभाविक तत्व है..उस चैत्यन्य की सत्ता है…इस लिए…
-मुसलमानो के “अल्लाह हो अकबर “ मे भी वोही “ॐ” मिला  हुआ है..
-सीखो के “सतनाम” मे भी वोही “ॐ” सुनायी देता है..
-शैव और शकतो के मंत्रों मे भी वोही ॐ सुनायी देता है…


ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ




Sanskrut ke aachary Panini ki katha

….Aisa hi ek buddu ladaka tha , 14 saal ka ho gaya phir bhi pahali kaksha bhi pass nahi hua tha… to us umar mey maan –apaman ki chot jata lagati hai.., jab woh 15 saaal ka hua to baap bola ki “tumako kuchh sharam nahi aati 14/15 saal mey pahali kaksha bhi pas nahi kar paya..tumko kuchh sharam nahi aati? hum to samaj mey munh dikhane  layak nahi rahe ..” to ladaka dukhi ho gaya apane maa ke pas gaya, to maa bhi boli ki , “tum pahali kaksha bhi paas nahi hota , humare liye to musibat ho gaya..tere karan kya kya sunana padata hai..tu mar ja ya to kahi chala ja..”Ladake ne dekha ki maa bhi narajh ho gayi to bahot dukhi hokar ghar se nikal gaya…chalate chalate kisi ganv mey pahuncha , subah ho gayi thi , sadak kinare baitha ladaka socha  ki kuwe pe mayiya pani bhar rahi hai wo chali jaye to  esi kuwe mey kud kar jaan de doo..” lekin etane mey ladake ko waha aaye sant ke darshan ho gaye..usake bhajan sunane ko mile..to subah suabh shubh muhurt mey sant ke darshan hona aur bhajan sunana to pavitr hota hai.. to ladaka dekh raha .. rassi se pani khichate huye  sant ko… ladaka usako dekhata raha sochata raha ..to ..

“mathak mathak mati hot sujan…!”

ladaka sant ke pas gaya , apana dukh bataya …to sant ne usako aisa mantr diya , bole ki “ jap dhyan kar aisa aisa aage badhega ki dhyan mey shivji aayenge ,damaroo bajayeneg .tere budhdi ke dwar khul jayenge..tere andar aisi vidya pragat ho jayegi…”…to maharaj..ladaka to karane laga “om namah shivay..” shavji samadhi se uthe dekha ki koi mera gaharayi se dhyan kar raha hai to …. Shivji sakshat pragat ho gaye…ye kapol kalpit nahi ..mere mitr santo ko bhi kayi bar devataonke darshan huye huye hai..damaroo ka naad sunayi diya ..nataraj ke navpancham naad se ladake mey aisa parivartan hua ki jo ladaka 14 saal mey pahali kaksha pass nahi hua woh sanskrut ka pandit ban gaya aur saskrut  ka vyakaran usane likha..aaj bhi usaka granth log padhate hai …us ladake ka naam tha “panini”!

Panini ka naam “sanskrut ke aachary” ke naam se suprasidhda hai..!!

To panini ki katha yaad karo aur aap ka beta , padosi ka beta ya aur koi bhi bachcha padhane mey achcha nahi ho to nirash na ho..kitana bhi gande se ganda , bure se bura bachcha ho use dante nahi , phatakare nahi , usake andar bhi wohi paramatma ka prakash hai, usaka bhi vivek badh sakata hai .. saraswatya mantr se jaap dhyan se usaka vivek badhega ..apana beta, beti koi galati karata hai to wo sada waisa nahi rahega , galati huyi  to us baat ko ganth nahi bandhani chahiye … apana ho chahe padosi ka ho.. usako vivek jagaane mey madat karo… baki to

..Ishwar allah tero naam

Sab ko sanmati de bhagaavn…!!

Tujh mey ram mujh mey ram sab mey ram samaya hai..

Kar lo sabhi se pyra jagat mey koi nahi paraya hai….

Ek hi maa ke hum sab bachche ,ek hi pita humhara hai

Phir bhi na jane kis murkho ne ladana humhe sikhaya hai…

Tujh mey om muzame om..

Hindu ka beta ho chahe musalman ka… janamata hai to pahali dhwani “om” hi bolata hai…(bapuji ne navajat shishu ka pahala dhwani “om” hoti ye  swayam aawaj nikalkar   spasht kiya..  🙂 to pahala hi dhwani omkar dhwani hai..

Hindu ho ,chahe musalman ho chahe , esayi ho ,bimar padata hai karahate huye jo dhwani nikalata hai wo bhi “omkar ka om dwani” hi hai..(bapuji ne karaahane ke dwani nikalakar spasht kiya)

Sirf manushya hi nahi lekin kutte ka bachcha bhi thand lagati aur maa asspas nahi dikhati to jo awaj nikalata to usamey bhi “om” ki aawaj sunayi deti hai…maine nahi sikhaya unako..  J

Amir ho chahe garib ho ,  vidwan ho chahe anpadh ho , sab mey ek hi swabhavik tatv hai..us chaityanya ki satta hai…esilye musalmano ke “allah ho akbar “ mey bhi wohi “om” mila hua hai..

Sikho ke “satnam” mey bhi wohi “Om” sunayi deta hai..

Shaiv aur shakto ke mantro mey bhi wohi om sunayi deta hai…

ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s


%d bloggers like this: