राजा भर्तृहरि

(पूज्य बापूजी के सत्संग प्रवचन से)

[please scroll down for hindi devnaagari script

हिंदी के लिए कृपया स्क्रोल कीजिये ]

)

ujjain ka raja bhartruhari jungle me shikaar khelane gayaa..ek badaa pyara sundar mrug najar padaa…us ke pichhe ghoda daudaayaa..mrug bhi kam nahi tha…aakhir mrug ko pranlewa baan lag hi gayaa… chikhataa huaa vo hiran aisi jagah gayaa jahaa jogi gorakhnath ji baithe huye the…jogi gorakhnath ji ke charano me hiran giraa aur mar gayaa…gorakh nath ji ne dekha ki ghode sawaar koyi aa rahaa hai..hiran ka pichha karate huye raja bharotari bhi wahi pahunchaa.. ..bhartruhari raja hai, shikar ke liye aaya tha to raja ko shikar ki shashriy aagya hai..raja ne bhi dekha ki sant hai, us ne jogi ji ko pranaam kiya…. vartalaap huaa..raja ne puchha ki, maharaj ‘raaj satta badi ki yog sattaa badi?’jogi gorakh nath ji bole,.. raja maar sakata hai , us ke paas satta hai maarane ki…. raaj satta jilaa nahi sakati..maar sakati hai…jogi maarane ki sochate hi nahi…apani tapasya se mangal karate..raja to jahaa dwesh hota wahaa a-mangal karataa , mahatma ko dwesh hota hi nahi..” raja bole : “to kya yog satta jila sakate hai?”jogi gorakh nath ji bole : “tumhe shanka hai kya?” uthayi bhabhut aur phunk maar ke hiran ko bole “uth!”maraa huaa hiran uth kar khadaa ho gayaa!! yog satta ne hiran ko jila diya!!bharotari charano me giraa……raja bharotari bolate : “mujhe bhi yog vidya sikhao…maharaj mujhe diksha do”…jogi ji bole, “chamatkar dekh ke diksha lena  ye  to thik nahi..vivek jagega tab aao..”pranaam kar ke raja laut gayaa..lekin hruday me shradhdaa lekar gayaa…ab nirdosh jeev ki jaan lene ki ichha nahi rahi..apani pingalaa rani ko samajha rahaa hai ki satshishy ki pahechan hai ki apane guru ke siwa kahi un ka man na lage… ek sadguru mila to baas!suraj ugaa to aur diya kiya na kiyaa… supaatr mila to kupaatr ko daan diya na diya.. guru aisa sochata hai ki , sat-shishy mila to ku-shishy ko gyan diya na diyaa..kahe kavi gang sadguru mila to auro ko namaskaar kiya na kiyaa.. shishy ki pahechan hai ki ek sadguru mil gayaa to idhar udhar bhatakega nahi..jo bhatakataa hai vo sat-shishy nahi..jaise ek pati mila to pativrata sree apane pati ke siwa kahi nahi bhatakati…pativrataa ka kya lakshan hota hai? pativrataa ka lakshan hai ki pati ke prano ke sath us ke pran jude hote hai…pati ka jeevan hi us ka jeevan hota hai..sati pati ka viyog nahi saheti.. is prakaar bhartuhari ne pingala ko sunaya…pingala pati parayanaa thi..ek din bhartruhari ko sujhaa ki shishya ki pariksha guru lete aur pativrataa ki pariksha pati lete..to ek din apane kapade rakt se gile kar ke aise chinh kar ke bheje, aur pingala ko kahe ki shatru ke dware mare gaye..pingala ne kapade dekhe ki yahi kapade pahen ke raja gaye the, aur aise rakt se sane hai…heart attack ho gayaa aur pingala mar gayi…raja bhartruhari “haay haay”kar ke vilap kare ki hey pingala ye pariksha nahi liya,  tumhare sath anyay kiya..julum kiya..ab kaise prayaschitt karu?..pingale pingale karate karate bharotari to mano diwane ho gaye..bahut samay beet gayaa..Gorakhnath ji ne dekha ki ab samay aayaa hai..gorakhnatha ji wahaa se gujar rahe the , jahaa bhartruhari ekant me pingala ki yaad me vilaap kar rahe the… ekant me kis ki yaad aati?ekant me jis ki yaad aati usi ka mahatv hai aap ke jeevan me…swapna kaisa aata hai, usi ka mahatv hai..vartaalaap ekant me kis se karate ho? ham guruji se karate the… gorakhanath ji mitti ka handi(matakaa) lekar bhartruhari ke samane se aise dhang se gaye ki us ki najar pade…aur seer par se handi giri..gorakhanaath ji jor jor se rone lage..handi re handi …kya gunaah tha ki tu phut gayi? tu kyu mar gayi?..tere bina kaise jiyuanga?”bhartruhari dekh rahaa tha… bole , “maharaj ek handi ke liye kaahe rote ho?mai to aap ko daso handi laakar de dun…aap sant ho kar handi ke liye ro rahe!maharaj bole, “tu bhi pingala ke liye ro rahaa hai..”raja bole, “pingala to pingala thi..” maharj bole, äre mai tum ko daso pingalaa laake de du?..bhabhut se kayi pingala dikha di yog bal se! bhartruhari ne kahaa , “maharaj ab samay ho gayaa hai, mujhe sharan me le lijiye” ..ujjain ka raaj vikramadity ko sambhalane ko de diya… kuchh hi dino me bhartruhari jyada tejaswi shishya sabit ho rahe the… gorakhnath ji bhartruhari ke tyag par, shradhda bhakti par, samarpan par prasann  ho rahe the..

ujjayini (vartamaan men ujjain) ke raja bhartrihari se paas 360 pakashastri the bhojan banane ke liye। varsh men keval ek ek ki baari aati thi। 359 din ve taakate rahate the ki kab hamari baare aaye aur ham rajasahab ke liye bhojan banayen, inam paayen lekin bhartrihari jab guru gorakhanathaji ke charanon men gaye to bhiksha maangkar khate the। ek baar guru gorakhanathaji ne apane shishyon se kahaah “dekho, raja hokar bhi isane kaam, krodh, lobh tatha ahankar ko jeet liya hai aur dridhanishchayi hai।” shishyon ne kahaah “guruji ! ye to rajadhiraj hain, inake yahan 360 to baavarchi rahate the। aise bhog vilaas ke vaatavaran men se aaye hue raja aur kaise kaam, krodh, lobharahit ho gaye !” guru gorakhanath ji ne raja bhartrihari se kahaah “bhartrihari ! jaao, bhandare ke liye jangal se lakadiyan le aao।” raja bhartrihari nange pair gaye, jangal se lakadiyan ekatrit karake sir par bojh uthakar la rahe the। gorakhanath ji ne doosare shishyon se kahaah “jaao, usako aisa dhakka maaro ki bojha gir jaay।” chele gaye aur aisa dhakka mara ki bojha gir gaya aur bhartrihari bhi gir gaye। bhartrihari ne bojha uthaya lekin n chehare par shikan, n aankhon men aag ke gole, n honth fadake। guru ji ne chelon se kahaah “dekha ! bhartrihari ne krodh ko jeet liya hai।” shishya boleah “guruji ! abhi to aur bhi pariksha leni chaahiye।” thoda sa aage jaate hi guruji ne yogashakti se ek mahal rach diya। gorakhanath ji bhartrihari ko mahal dikha rahe the। lalanaayen nana prakar ke vyanjan aadi lekar aadar satkar karne lagin। bhartrihari lalanaaon ko dekhakar kami bhi nahin hue aur unake nakharon par krodhit bhi nahin hue, chalte hi gaye। gorakhanathaji ne shishyon ko kahaah “ab to tum logon ko vishvaas ho hi gaya hai ki bhartrihari ne kaam, krodh, lobh aadi ko jeet liya hai।” shishyon ne kahaah “gurudev ek pariksha aur leejiye।” gorakhanathaji ne kahaah “achchha bhartrihari ! hamara shishya banane ke liye pariksha se gujarana padta hai। jaao, tumako ek maheena maroobhoomi men nange pair paidal yatra karni hogi।” bhartriharih “jo aagya guroodev !” bhartrihari chal pade। pahadi ilaka laanghate-laanghate maroobhoomi men pahunche। dhadhakti baalu, kadake ki dhoop… marubhoomi men pair rakho to bas senk jaay। ek din, do din….. yatra karte-karte chhah din beet gaye। saataven din guru gorakhanathaji adrishya shakti se chelon ko bhi saath lekar vahan pahunche। gorakhanath ji boleah “dekho, yah bhartrihari ja raha hai। main abhi yogabal se vriksh khada kar deta hoon। vriksh ki chhaya men bhi nahin baithega।” achaanak vriksh khada kar diya। chalte-chalte bhartrihari ka pair vriksh ki chhaya par aa gaya to aise uchhal pade maano angaron par pair pad gaya ho ! ‘marubhoomi men vriksh kaise aa gaya ? chhayavaale vriksh ke neeche pair kaise aa gaya ? guru ji ki aagya thi marubhoomi men yatra karne ki।’ – koodkar door hat gaye। guru ji prasann ho gaye ki dekho ! kaise guru ki aagya maanta hai। jisane kabhi pair galiche se neeche nahin rakha, vah marubhoomi men chalte-chalte ped ki chhaya ka sparsh hone se angare jaisa ehasaas karta hai।’ gorakhanath ji dil men chele ki dridhataa par bade khush hue lekin aur shishyon ki maanyata eershyavali thi। shishya boleah “guruji ! yah to theek hai lekin abhi to pariksha poori nahin hui।” gorakhanath ji (roop badal kar) aage mile, boleah “jara chhaya ka upayog kar lo।” bhartriharih “nahin, guru ji ki aagya hai nange pair marubhoomi men chalne ki।” gorakhanath ji ne socha, ‘achchha ! kitana chalte ho dekhte hain।’ thoda aage gaye to gorakhanath ji ne yogabal se kantak-kantak paida kar diye। aisi kantili jhadi ki kantha (fate purane kapadon ko jodkar banaya hua vastra) fat gaya। pairon men shool chubhane lage, fir bhi bhartrihari ne ‘aah’ tak nahin ki। taisa anmrit1 taisi bikhu2 khaati। taisa manu taisa abhimanu। harakh sog3 ja kain nahin bairi meet samaan। kahu nanak suni re mana mukati taahi tai jaan।। 1.amrit 2. vish 3 harsh-shok bhartrihari to aur antarmukh ho gaye, ‘yah sab sapana hai aur gurutatva apana hai। guru ji ne jo aagya ki hai vahi tapasya hai। yah bhi guruji ki kripa hai’। gurukripa hi kevalam shishyasya param mangalam। antim pariksha ke liye gurugorakhanath ji ne apane yogabal se prabal taap paida kiya। pyas ke maare bhartrihari ke pran kanth tak aa gaye। tabhi gorakhanath ji ne unake atyant sameep ek hara-bhara vriksh khada kar diya, jisake neeche pani se bhari surahi aur sone ki pyali rakhi thi। ek baar to bhartrihari ne usaki or dekha par turant khyal aaya ki kahin guruaagya ka bhng to nahin ho raha hai ? unka itana sochna hi hua ki saamane se gorakhanath aate dikhaai diye। bhartrihari ne dandavat pranam kiya। guruji boleah “shaabaash bhartrihari ! var maang lo। ashtasiddhi de doon, navanidhi de doon। tumane sundar-sundar vyanjan thukra diye, lalanaayen charan-champi karne ko, chnvar dulane ko taiyaar thi, unake chakkar men bhi nahin aaye। tumhen jo maangana ho maang lo।” bhartriharih “guruji ! bas aap prasann hain, mujhe sab kuch mil gaya। shishya ke liye guru ki prasannta sab kuch hai।” bhagavaan shiv parvatiji se kahate hain- aakalpajanmakotinan yagyavratatapah kriyaah। taah sarvaah safala devi gurusantoshamatratah।। ‘he devi ! kalpaparyant ke, karodon janmon ke yagya, vrat, tap aur shastrokt kriyaen – ye sab gurudev ke santoshamaatra se safal ho jaate hain।’ “guruji ! aap mujhase santusht hue, mere karodon punyakarm aur yagya, tap sab safal ho gaye।” “nahin bhartrihari ! anadar mat karo। tumane kuch-n-kuch to lena hi padega, kuch-n-kuch maangana hi padega।” itane men reti men ek chamachamaati hui sui dikhaai di। use uthakar bhartrihari boleah “guruji ! kantha fat gaya hai, sui men yah dhaaga piro deejie taki main apana kantha si loon।” gorakhanathaji aur khush hue ki ‘had ho gayi ! kitana nirapegya hai, ashtasiddhi-navanidhiyan kuch nahin chaahiye। mainne kaha kuch to maango to bolta hai ki sui men jara dhaaga dal do। guru ka vachan rakh liya।’ anapekshah shuchirdaksh udaasino gatavyathah। sarvarambhaparityagi yo mad bhaktah s me priyah।। ‘jo purush aakanksha se rahit, baahar bheetar se shuddh, daksh, pakshapaat se rahit aur duahkhon se chhoota hua hai – vah sab aarambhon ka tyagi mera bhakt mujhako priya hai।’ (geetaah 12.16) ‘koi apeksha nahin ! bhartrihari tum dhanya ho gaye ! kahan to ujjayini ka samraat aur kahan nange pair marubhoomi men ! ek maheena bhi nahin hone diya, saat-aath din men hi pariksha se utteern ho gaye।’ abhi bhartrihari ki gufa aur gopeechand ki gufa prasiddh hai।

kahane ka taatparya hai ki manushya-jeevan men bahut saari oonchaiyon ko chhoo sakte hain।

 

ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ

उज्जैन का राजा भर्तृहरि जंगल में शिकार खेलने गया..एक बड़ा प्यारा सुन्दर मृग नजर पडा…उस के पीछे घोडा दौडाया..मृग भी कम नहीं था…आखिर मृग को प्राणलेवा बाण लग ही गया… चीखता हुआ वो हिरन ऐसी जगह गया जहा जोगी गोरखनाथ जी बैठे हुए थे…जोगी गोरखनाथ जी के चरणों में हिरन गिरा और मर गया…गोरख नाथ जी ने देखा की घोड़े सवार कोई आ रहा है..हिरन का पीछा करते हुए राजा भर्तृहरि भी वही पहुंचा..

..भर्तृहरि राजा है, शिकार के लिए आया था तो रजा को शिकार की शास्त्रीय  आज्ञा  है..राजा ने भी देखा की संत है, उस ने जोगी जी को प्रणाम किया….

वार्तालाप हुआ..राजा ने पूछा की, महाराज ‘राज सत्ता बड़ी की योग सत्ता बड़ी?’

जोगी गोरख नाथ जी बोले,  “.. राजा मार सकता है , उस के पास सत्ता है मारने की…. राज सत्ता जिला नहीं सकती..मार सकती है…जोगी मारने की सोचते ही नहीं…अपनी तपस्या से मंगल करते..राजा तो जहाँ  द्वेष होता वहाँ  अ-मंगल करता , महात्मा को द्वेष होता ही नहीं..”

राजा बोले : “तो क्या योग सत्ता जिला सकते है?”

जोगी गोरख नाथ जी बोले : “तुम्हे शंका है क्या?” उठाई भभूत और फूंक मार के हिरन को बोले “उठ!”  ..मरा हुआ हिरन उठ कर खडा हो गया!! योग सत्ता ने हिरन को जिला दिया!!

भर्तृहरि चरणों में गिरा……राजा  भर्तृहरि बोलते : “मुझे भी योग विद्या सिखाओ…महाराज मुझे दीक्षा दो”

…जोगी जी बोले, “चमत्कार देख के दीक्षा लेना  ये  तो ठीक नहीं..विवेक जागेगा तब आओ..”

प्रणाम कर के राजा लौट गया..लेकिन ह्रदय में श्रध्दा लेकर गया…अब निर्दोष जीव की जान लेने की इच्छा नहीं रही..अपनी पिंगला रानी को समझा रहा है की सतशिष्य की पहेचान है की अपने गुरु के सिवा कही उन का मन न लगे… एक सद्गुरु मिला तो बस! ..

सूरज उगा तो और दिया किया न किया…

सुपात्र मिला तो कुपात्र को दान दिया न दिया..

गुरु ऐसा सोचता है की , सत-शिष्य मिला तो कु-शिष्य को ज्ञान दिया न दिया..

कहे कवी गंग सद्गुरु मिला तो औरो को नमस्कार किया न किया..

शिष्य की पहेचान है की एक सद्गुरु मिल गया तो इधर उधर भटकेगा नहीं..जो भटकता है वो सत -शिष्य नहीं..जैसे एक पति मिला तो पतिव्रता स्री अपने पति के सिवा कही नहीं भटकती…पतिव्रता का क्या लक्षण होता है? पतिव्रता का लक्षण है की पति के प्राणों के साथ उस के प्राण जुड़े होते है…पति का जीवन ही उस का जीवन होता है..सती पति का वियोग नहीं सहेति..

इस प्रकार भर्तृहरि ने पिंगला को सुनाया…पिंगला पति परायणा थी..एक दिन भर्तृहरि को सुझा की शिष्य की परीक्षा गुरु लेते और पतिव्रता की परीक्षा पति लेते..तो एक दिन अपने कपडे रक्त से गिले कर के ऐसे चिन्ह कर के भेजे, और पिंगला को कहे की शत्रु के द्वारे राजा  मारे गए..पिंगला ने कपडे देखे की यही कपडे पहेन  के राजा गए थे, और ऐसे रक्त से सने है…हार्ट  एटैक  हो गया और पिंगला मर गयी…राजा भर्तृहरि “हाय हाय”कर के विलाप करे की.. ‘ हे पिंगला ये  मैं परीक्षा नहीं लिया,  तुम्हारे साथ अन्याय किया..जुलुम किया..अब कैसे प्रायश्चित्त करू?’  ..पिंगले पिंगले करते करते भरोतरी तो मानो दीवाने हो गए..बहुत समय बीत गया..गोरखनाथ जी ने देखा की अब समय आया है..गोरखनाथ  जी वहाँ  से गुजर रहे थे , जहा भर्तृहरि एकांत में पिंगला की याद में विलाप कर रहे थे…

एकांत में किस की याद आती?

एकांत में जिस की याद आती उसी का महत्त्व है आप के जीवन में…

स्वप्ना कैसा आता है, उसी का महत्त्व है..

वार्तालाप एकांत में किस से करते हो? हम गुरूजी  से बाते करते थे…

गोरखनाथ जी मिटटी का हांड़ी(मटका) लेकर भर्तृहरि के सामने से ऐसे ढंग से गए की उस की नजर पड़े…और सीर पर से हांड़ी गिरी..गोरखनाथ जी जोर जोर से रोने लगे.. “हांड़ी रे हांड़ी …क्या गुनाह था की तू फुट गयी? तू क्यों मर गयी?..तेरे बिना कैसे जियुंगा?”‘

भर्तृहरि देख रहा था… बोले , “महाराज एक हांड़ी के लिए काहे रोते हो? मैं  तो आप को दसो हांड़ी लाकर दे दूँ…आप संत हो कर हांड़ी के लिए रो रहे!”

महाराज बोले, “तू भी पिंगला के लिए रो रहा है..”

राजा बोले, “पिंगला तो पिंगला थी..”

महाराज  बोले, “अरे मैं  तुम को दसो पिंगला लाके दे दूँ ?”  ..भभूत से कई पिंगला दिखा दी योग बल से!

भर्तृहरि ने कहा , “महाराज अब समय हो गया है, मुझे शरण में ले लीजिये”

..उज्जैन का राज विक्रमादित्य को संभालने को दे दिया…

कुछ ही दिनों में भर्तृहरि ज्यादा तेजस्वी शिष्य साबित हो रहे थे…

गोरखनाथ जी भर्तृहरि के त्याग पर, श्रध्दा भक्ति पर, समर्पण पर प्रसन्न  हो रहे थे..

उज्जयिनी (वर्तमान में उज्जैन) के राजा भर्तृहरि से पास 360 पाकशास्त्री थे भोजन बनाने के लिए। वर्ष में केवल एक एक की बारी आती थी। 359 दिन वे ताकते रहते थे कि कब हमारी बारे आये और हम राजासाहब के लिए भोजन बनायें, इनाम पायें लेकिन भर्तृहरि जब गुरू गोरखनाथजी के चरणों में गये तो भिक्षा माँगकर खाते थे।
एक बार गुरू गोरखनाथजी ने अपने शिष्यों से कहाः “देखो, राजा होकर भी इसने काम, क्रोध, लोभ तथा अहंकार को जीत लिया है और दृढ़निश्चयी है।”
शिष्यों ने कहाः “गुरूजी ! ये तो राजाधिराज हैं, इनके यहाँ 360 तो बावर्ची रहते थे। ऐसे भोग विलास के वातावरण में से आये हुए राजा और कैसे काम, क्रोध, लोभरहित हो गये !” गुरू गोरखनाथ जी ने राजा भर्तृहरि से कहाः “भर्तृहरि ! जाओ, भंडारे के लिए जंगल से लकड़ियाँ ले आओ।”
राजा भर्तृहरि नंगे पैर गये, जंगल से लकड़ियाँ एकत्रित करके सिर पर बोझ उठाकर ला रहे थे। गोरखनाथ जी ने दूसरे शिष्यों से कहाः “जाओ, उसको ऐसा धक्का मारो कि बोझा गिर जाय।” चेले गये और ऐसा धक्का मारा कि बोझा गिर गया और भर्तृहरि भी गिर गये। भर्तृहरि ने बोझा उठाया लेकिन न चेहरे पर शिकन, न आँखों में आग के गोले, न होंठ फड़के।
गुरू जी ने चेलों से कहाः “देखा ! भर्तृहरि ने क्रोध को जीत लिया है।” शिष्य बोलेः “गुरुजी ! अभी तो और भी परीक्षा लेनी चाहिए।”
थोड़ा सा आगे जाते ही गुरुजी ने योगशक्ति से एक महल रच दिया। गोरखनाथ जी भर्तृहरि को महल दिखा रहे थे। ललनाएँ नाना प्रकार के व्यंजन आदि लेकर आदर सत्कार करने लगीं। भर्तृहरि ललनाओं को देखकर कामी भी नहीं हुए और उनके नखरों पर क्रोधित भी नहीं हुए, चलते ही गये। गोरखनाथजी ने शिष्यों को कहाः “अब तो तुम लोगों को विश्वास हो ही गया है कि भर्तृहरि ने काम, क्रोध, लोभ आदि को जीत लिया है।” शिष्यों ने कहाः “गुरुदेव एक परीक्षा और लीजिये।”
गोरखनाथजी ने कहाः “अच्छा भर्तृहरि ! हमारा शिष्य बनने के लिए परीक्षा से गुजरना पड़ता है। जाओ, तुमको एक महीना मरूभूमि में नंगे पैर पैदल यात्रा करनी होगी।”
भर्तृहरिः “जो आज्ञा गुरूदेव !”
भर्तृहरि चल पड़े। पहाड़ी इलाका लाँघते-लाँघते मरूभूमि में पहुँचे। धधकती बालू, कड़ाके की धूप… मरुभूमि में पैर रखो तो बस सेंक जाय। एक दिन, दो दिन….. यात्रा करते-करते छः दिन बीत गये। सातवें दिन गुरु गोरखनाथजी अदृश्य शक्ति से चेलों को भी साथ लेकर वहाँ पहुँचे।
गोरखनाथ जी बोलेः “देखो, यह भर्तृहरि जा रहा है। मैं अभी योगबल से वृक्ष खड़ा कर देता हूँ। वृक्ष की छाया में भी नहीं बैठेगा।”
अचानक वृक्ष खड़ा कर दिया। चलते-चलते भर्तृहरि का पैर वृक्ष की छाया पर आ गया तो ऐसे उछल पड़े मानो अंगारों पर पैर पड़ गया हो ! ‘मरुभूमि में वृक्ष कैसे आ गया ? छायावाले वृक्ष के नीचे पैर कैसे आ गया ? गुरु जी की आज्ञा थी मरुभूमि में यात्रा करने की।’ – कूदकर दूर हट गये। गुरु जी प्रसन्न हो गये कि देखो ! कैसे गुरु की आज्ञा मानता है। जिसने कभी पैर गलीचे से नीचे नहीं रखा, वह मरुभूमि में चलते-चलते पेड़ की छाया का स्पर्श होने से अंगारे जैसा एहसास करता है।’ गोरखनाथ जी दिल में चेले की दृढ़ता पर बड़े खुश हुए लेकिन और शिष्यों की मान्यता ईर्ष्यावाली थी।
शिष्य बोलेः “गुरुजी ! यह तो ठीक है लेकिन अभी तो परीक्षा पूरी नहीं हुई।”
गोरखनाथ जी (रूप बदल कर) आगे मिले, बोलेः “जरा छाया का उपयोग कर लो।” भर्तृहरिः “नहीं, गुरु जी की आज्ञा है नंगे पैर मरुभूमि में चलने की।” गोरखनाथ जी ने सोचा, ‘अच्छा ! कितना चलते हो देखते हैं।’ थोड़ा आगे गये तो गोरखनाथ जी ने योगबल से कंटक-कंटक पैदा कर दिये। ऐसी कँटीली झाड़ी कि कंथा (फटे पुराने कपड़ों को जोड़कर बनाया हुआ वस्त्र) फट गया। पैरों में शूल चुभने लगे, फिर भी भर्तृहरि ने ‘आह’ तक नहीं की।
तैसा अंम्रित1 तैसी बिखु2 खाटी। तैसा मानु तैसा अभिमानु।
हरख सोग3 जा कैं नहीं बैरी मीत समान। कहु नानक सुनि रे मना मुकति ताहि तै जान।।
1.अमृत 2. विष 3 हर्ष-शोक
भर्तृहरि तो और अंतर्मुख हो गये, ‘यह सब सपना है और गुरुतत्त्व अपना है। गुरु जी ने जो आज्ञा की है वही तपस्या है। यह भी गुरुजी की कृपा है’।
गुरुकृपा ही केवलं शिष्यस्य परं मंगलम्।
अंतिम परीक्षा के लिए गुरुगोरखनाथ जी ने अपने योगबल से प्रबल ताप पैदा किया। प्यास के मारे भर्तृहरि के प्राण कंठ तक आ गये। तभी गोरखनाथ जी ने उनके अत्यन्त समीप एक हरा-भरा वृक्ष खड़ा कर दिया, जिसके नीचे पानी से भरी सुराही और सोने की प्याली रखी थी। एक बार तो भर्तृहरि ने उसकी ओर देखा पर तुरंत ख्याल आया कि कहीं गुरुआज्ञा का भंग तो नहीं हो रहा है ? उनका इतना सोचना ही हुआ कि सामने से गोरखनाथ आते दिखाई दिये। भर्तृहरि ने दंडवत प्रणाम किया।
गुरुजी बोलेः “शाबाश भर्तृहरि ! वर माँग लो। अष्टसिद्धि दे दूँ, नवनिधि दे दूँ। तुमने सुंदर-सुंदर व्यंजन ठुकरा दिये, ललनाएँ चरण-चम्पी करने को, चँवर डुलाने को तैयार थी, उनके चक्कर में भी नहीं आये। तुम्हें जो माँगना हो माँग लो।” भर्तृहरिः “गुरूजी ! बस आप प्रसन्न हैं, मुझे सब कुछ मिल गया। शिष्य के लिए गुरु की प्रसन्नता सब कुछ है।”
भगवान शिव पार्वतीजी से कहते हैं- आकल्पजन्मकोटीनां यज्ञव्रततपः क्रियाः। ताः सर्वाः सफला देवि गुरुसंतोषमात्रतः।।
‘हे देवी ! कल्पपर्यन्त के, करोड़ों जन्मों के यज्ञ, व्रत, तप और शास्त्रोक्त क्रियाएँ – ये सब गुरुदेव के संतोषमात्र से सफल हो जाते हैं।’
“गुरुजी ! आप मुझसे संतुष्ट हुए, मेरे करोड़ों पुण्यकर्म और यज्ञ, तप सब सफल हो गये।”
“नहीं भर्तृहरि ! अनादर मत करो। तुमने कुछ-न-कुछ तो लेना ही पड़ेगा, कुछ-न-कुछ माँगना ही पड़ेगा।”
इतने में रेती में एक चमचमाती हुई सुई दिखाई दी। उसे उठाकर भर्तृहरि बोलेः “गुरूजी ! कंथा फट गया है, सुई में यह धागा पिरो दीजिए ताकि मैं अपना कंथा सी लूँ।”
गोरखनाथजी और खुश हुए कि ‘हद हो गयी ! कितना निरपेज्ञ है, अष्टसिद्धि-नवनिधियाँ कुछ नहीं चाहिए। मैंने कहा कुछ तो माँगो तो बोलता है कि सुई में जरा धागा डाल दो। गुरु का वचन रख लिया।’
अनपेक्षः शुचिर्दक्ष उदासीनो गतव्यथः। सर्वारम्भपरित्यागी यो मद् भक्तः स मे प्रियः।।
‘जो पुरुष आकांक्षा से रहित, बाहर भीतर से शुद्ध, दक्ष, पक्षपात से रहित और दुःखों से छूटा हुआ है – वह सब आरम्भों का त्यागी मेरा भक्त मुझको प्रिय है।’
(गीताः 12.16)
‘कोई अपेक्षा नहीं ! भर्तृहरि तुम धन्य हो गये ! कहाँ तो उज्जयिनी का सम्राट और कहाँ नंगे पैर मरुभूमि में ! एक महीना भी नहीं होने दिया, सात-आठ दिन में ही परीक्षा से उत्तीर्ण हो गये।’
अभी भर्तृहरि की गुफा और गोपीचंद की गुफा प्रसिद्ध है।
कहने का तात्पर्य है कि मनुष्य-जीवन में बहुत सारी ऊँचाइयों को छू सकते हैं।
ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ

 

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s


%d bloggers like this: