मैंने कहा, “हे गाय माता… क्या हुआ?”

(Pujyashri Baapuji ke satsang se…)

..एक गाय के बछडे को दूसरी गाय का धक्का लगा…बछडा २ दिन में मर गया..गाय की  आँखों से आंसू झरते…(चारा पानी नही खाती)..२ दिन…४ दिन..८ दिन.. १० दिन हो गए…
गाय के बारे में  मुझे पता चलामुझ से रहा नही गयामैंने कहा,  “हे गाय माताक्या हुआ?”
… गाय के बारे में  ऐसा सोचते सोचते भगवान में मन  स्थिर हो गया…गाय की पीडा से ह्रदय व्यथित था… भगवान की महिमा, भगवान का  सामर्थ्य ऐसा देखने को मिला की प्रार्थना कर के सो गया था तो प्रभात को देखता हूँ  की एक दृश्य चल रहा है….. एक अच्छा खासा परिवार है..परिवार की २ बहुयें  कुवे का पानी भरने जाती..बड़ी बहु छोटी बहु को  धक्का मारती है…तो वो कुवे में गिर जाती…छोटी बहु प्रयत्न से निकाली जाती… बहु के गर्भ में बालक था उस का २ दिन में मृत्यु हो गया…छोटी बहु एक्कीस वे(21st)  दिन मर जाती ….
इस को दृश्य कहूँ  की भगवान की लीला कहूँ ?…
जीव का रहस्य बता दिया मैंने घर वालो को बताया की  ये तुम्हारी घर की बहुयें थी…छोटी बहु  को बड़ी ने धक्का मारा तो  उसी रूप में आकर छोटी बहु ने धक्का मारा…२ दिन के बाद बछडा मरा… छोटी बहु  का बेटा(गर्भ) भी  २ दिन में मरा था…ये गाय के रूप में बड़ी बहु आई है…वो २१ वे दिन में जायेगी….आज ११ वा दिन है तो और १० दिन गो-माता की सेवा कर लो…. वो आप के घर की बड़ी बहु है… इक्कीस वे दिन जायेगी… १० दिन और बीते.. २१ वे दिन गाय माता  का शरीर शांत हुआ…

तो सब जीवो के अपने अपने कर्म होते…

ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ

..ek gaay ke bachhade ko dusari gaay ka dhakka laga…bachhada 2 din me mar gaya..gaay ki  aankho se aansu jharate…(chara pani nahi khati)..2 din…4 din..8 din.. 10 din ho gaye…

gaay ke baare me  mujhe pata chala… mujh se raha nahi gaya…maine kaha,  “hey gaay mata… kya huaa?”

… gaay ke baare me  aisa sochate sochate bhagavan me mann sthir ho gaya…gaay ki pida se hruday vyathit tha… bhagavan ki mahima, bhagavan ka  samarthy aisa dekhane ko mila ki prarthana kar ke so gaya tha to prabhat ko dekhaata hu ki ek drushy chal raha hai…

.. ek achha khasa pariwar hai..pariwar ki 2 bahuye  kuwe ka pani bharane jati..badi bahu chhoti bahu ko  dhakka marati hai…to wo kuwe me gir jati…chhoti bahu prayatn se nikali jati… bahu ke garbh me balak tha us ka 2 din me mrutyu ho gaya…chhoti bahu ekkisve(21st)  din mar jati ….

Is ko drushy kahu ki bhagavan ki lila kahu?…

… jeev ka rahasy bata diya… maine ghar walo ko bataya ki  ye tumhari ghar ki bahuye thi…chhoti bahu  ko badi ne dhakka maara to  usi rup me aakar chhoti bahu ne dhakka mara…2 din ke baad bachhada maraa… chhoti bahu  ka beta(garbh) bhi  2 din me maraa tha…ye gaay ke rup me badi bahu aayi hai…wo 21 ve din jayegi….aaj 11 vaa din hai to aur 10 din go-mata ki sewa kar lo…. wo aap ke ghar ki badi bahu hai… ikkis ve din jayegi… 10 din aur bite.. 21 ve din gaay mata  ka sharir shant huaa…

 

to sab jivo ke apane apane karm hote…

 

ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s


%d bloggers like this: