मेरे पास तो ॐ वाला गुरूमन्त्र है- नानी

(Pujyashri Bapuji ke satsang se )

अधिभौतिक हो, लेकिन उस के साथ अधिदैविक शक्तियां हो…अधिदैविक ज्ञान आप के मन को दिव्य बनाता है और बुध्दी को दिव्य बनाता है और दिव्य लोगों से दिव्य आत्माओं से सम्बन्ध भी जोड़ सकते हो..सम्बन्ध जुड़े ना जुड़े लेकिन आप के जीवन में थोड़ी दिव्यता आ जाती है..

जैसे मेरे नानी के जीवन में दिव्यता आई….ज्यादा पढ़ी लिखी नहीं थी..सत्ता नहीं थी..देहाती महिला थी मेरी नानी- मेरी माँ की माँ..

मेरी माँ की माँ मर गयी..सम्शान में ले गए..और वहा करवट हिलाई ..रस्सी खोली..गयी तो कंधे पे थी, जिन्दी होकर पैदल चल के आई !अगर मैं  झूठ बोलू तो तुम सब मरो!..    लेकिन जांच करना झूठी बात हो तब ना..39 साल मेरी नानी जीवित रही..पूछा गया की क्या हुआ था?..मरते समय एलिज़ाबेथ जैसी, सिकंदर जैसी पीड़ा हुयी?..बोली कुछ भी नहीं!  क्यों की उन के पास अधिदैविक  गुरूमन्त्र था !

नानी बोली, ऐसा  कोई सुन्न सा हुआ..फिर मैंने देखा की ये यमदूत है..यहाँ तो पापियों की जगह है..

तो मैंने बोला की, “मैं  तो पापी नहीं हूँ, मेरे पास तो ॐ वाला गुरूमन्त्र है..मेरे को इधर कैसे लाये?”

यमदूत बोले, “तुम्हारा नाम हेमिबाई है ना?”

नानी बोली, “हेमिबाई तो हमारे शहर में बहोत है, जैसे कमला नाम बहोत होते ऐसे..तो कौन सी कमला?कौन सी हेमिबाई? आगे का नाम लो तो पता चले..”

यमदूत बोले, “हेमिबाई पोहुमल!”

“नहीं नहीं नहीं…हम वो नहीं है!हमारे पति का नाम दूसरा है..”  नानी ने यमदूतो को बोला..

यमदूतों ने पूछा, “तो क्या नाम है?प्रहलाद?”

“नहीं!”

“पुरुषोत्तम?”

“नहीं!”

“तो क्या है?”

“प पे है , लेकिन ये नहीं है..”

“तो बाई बोल दे ना..”

नानी बोली, “हम अपने पति का नाम नहीं लेते..तुम बोलते जा ना..हेमिबाई फलाना..फलाना..”

यमदूत बोले, “प्रेमकुमार?”

नानी बोली, “ठहेरो!..आगे का नाम तो रखो..कुमार की जगह पर चाँद लगाओ तो!”

बोले, “प्रेमचंद!”

नानी बोली, “हां!..तेरा भला हो!”

यमराज ने यमदूतों को डाटा की ‘अरे मूर्खो..हेमिबाई प्रेमचंद को ले आये हो हेमिबाई पोहुमल के बदले ..जाओ वापिस छोड़ के आओ!..”

नानी 39 साल जीवित् रही !..ना सिकंदर जैसी पीड़ा, ना एलिज़ाबेथ जैसी पीड़ा..न बड़े बड़े सत्ताधीशो जैसी पीड़ा..क्यों की अधिदैविक ज्ञान है..गुरू मन्त्र है..गुरू मन्त्र से अधि दैविक शक्तियां जागृत रहेती है..नानी यमदूतों को डाट  कर वापिस आई!..

सिख धरम के आदि गुरू कहेते है :

ब्रम्हज्ञानी संग धर्मराज करे सेवा

आत्मवेत्ता गुरू मिल गया, दीक्षा मिल गया तो यमराज तो सेवा करते !अधिभौतिक ज्ञान से यमराज सेवा नहीं करेगा..

अधिभौतिक ज्ञान कितना भी मिल जाए , सुख-शांति के लिए वाईन की जरुरत पड़ती है…क्लबों की जरुरत पड़ती..स्वास्थ्य के लिए टोनिकों की जरुरत पड़ती…ज्ञान के लिए किताबों और पोथों की जरुरत पड़ती है.. प्रसन्नता के लिए नाच गान और न जाने क्या क्या करने की जरुरत पड़ती है बड़े लोगों को..

लेकिन जिस के जीवन में अधिदैविक ज्ञान है उन्हें शराब की जरुरत नहीं पड़ती…वो अपने आप में खुश रहेते है..जाम पर जाम पिने से क्या फ़ायदा?..

ऐसी अध्यात्मिक ज्ञान की महिमा है ! अधिभौतिक ज्ञान उस के आगे बहुत बौना हो जाता है..

अध्यात्म ज्ञान की आप 10 मिनट भी यात्रा करे तो आप का भौतिक ज्ञान और अधिदैविक ज्ञान दोनों चमकेगा…

अगर अध्यात्मिक ज्ञान से मुंह मोड़ कर भौतिक ज्ञान के पीछे लगते है बड़े पछताते है..

मेरठ का रूप नारायण जैसा भौतिक डिग्रीयां  वाला विद्वान् इस समय भारत में शायद ही हो..लेकिन इतनी डिग्रियों के बाद भी दुःख नहीं मिटा, वो मेरा चेला बन गया..

अधिभौतिक कितना भी मिल जाए, मकान दूकान मिल जाए, पद प्रतिष्ठा  वाह वाही मिल जाए..लेकिन अध्यात्म और अधिदैविक के बिना आदमी का दुखद अवस्था से छुटकारा नहीं होता…

 

 मरते समय 4 दुःख सताते है..

1) शारीरिक पीड़ा

2) मानसिक तपन ..किसी से बुरा सलूक किया है तो वो पाप तपाता है.

3)आसक्ति की पीड़ा- जहा अटैचमेंट  है वहा अटकेगा..धन दौलत, बेटे का क्या होगा?बेटी का क्या होगा? पोता और पोती का क्या होगा ऐसा चिंतन कर के मरते तो वो ही दादा दादी मरने के बाद कुत्ता कुत्ती  बन के पोता पोती के इर्द गिर्द पूंछ हिला रहे है..

4) मरने के बाद कहा जायेंगे कोई पता नहीं, इसलिए लाचार हो के मरते.

तो शारीरिक पीड़ा, मानसिक तपन, आसक्ति की पीड़ा और मरने के बाद कहाँ जायेंगे ये 4 पीडाएं जीते जी  कुचल डालने के लिए मनुष्य जीवन मिला है..ये भौतिकता  से नहीं कुचल सकते हो..उस के लिए अधिदैविक शक्ति चाहिए.. अध्यात्मिक गुरू की दीक्षा चाहिए..

 

 ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ

adhibhautik ho, lekin us ke saath adhi daivik shaktiyaan ho…adhi daivik gyaan aap ke man ko divya banaataa hai aur budhdi ko divya banaataa hai aur divya logon se divya aatmaao se sambandh bhi jod sakate ho..sambandh jude naa jude lekin aap ke jeevan me thodi divyataa aa jaati hai..

jaise mere naani ke jeevan me divyataa aayi….jyada padhi likhi nahi thi..sattaa nahi thi..dehaati mahilaa thi meri naani- meri maa ki maa..

meri maa ki maa mar gayi..samshaan men le gaye..aur wahaa karavat hilaayi ..rassi kholi..gayi to kandhe pe thi, jindi hokar paidal chal ke aayi !agar mai jhuth bolu to tum sab maro!  lekin jaanch karanaa jhuthi baat ho tab naa..39 saal meri naani jivit rahi..puchhaa gayaa ki kyaa huaa tha?..marate samay elizabeth jaisi, sikandar jaisi pidaa huyi?..boli kuchh bhi nahi!  kyo ki un ke paas adhi daivik guru mantr tha !

naani boli, äisaa koyi sunn saa huaa..phir maine dekhaa ki ye yamadut hai..yahaa to paapiyon ki jagah hai..

to maine bolaa ki, “mai to paapi nahi hun, mere paas to guru mantr hai..mere ko idhar kaise laaye?”

yamdut bole, “tumhara naam hemibai hai naa?”

nani boli, “hemibaai to hamaare shaher men bahot hai, jaise kamalaa naam bahot hote aise..to kaun si kamalaa?kaun si hemibaai? aage kaa naam lo to pataa chale..”

yamdut bole, “Hemibaai Pohumal!”

“nahi nahi nahi…ham vo nahi hai!hamaare pati kaa naam dusaraa hai..”  naani ne yamduto ko bola..

yamduton ne puchhaa, “to kyaa naam hai?prahlaad?”

“nahi!”

“purushottam?”

“nahi!”

“to kyaa hai?”

“p pe hai , lekin ye nahi hai..”

“to baai bol de naa..”

naani boli, “ham apane pati kaa naam nahi lete..tum bolate jaa naa..hemibaai phalaanaa..phalaanaa..”

yamdut bole, “premkumaar?”

nani boli, “thahero!..aage kaa naam to rakho..kumaar ki jagah par chand lagaao to!”

bole, “premchand!”

nani boli, “haa!..teraa bhalaa ho!”

yamaraaj ne yamduton ko daataa ki ‘arre murkho..hemibaai premchand ko le aaye ho hemibaai pohumal ke badale ..jaao waapis chhod ke aao!..”

naani 39 saal jee..naa sikandar jaisi pidaa, naa elizabeth jaisi pidaa..na bade bade sattaadhisho jaisi pidaa..kyo ki adhidaivik gyaan hai..guru mantr hai..guru mantr se adhi daivik shaktiyaan jaagrut raheti hai..nani yamduton ko daant kar waapis aayi!..

sikh dharam ke aadi guru kahete hai :

bramhgyaani sang dharmraaj kare sewaa…

aatm vetta guru mil gayaa, dikshaa mil gayaa to yamraaj to sewaa karate !adhibhautik gyaan se yamraaj sewaa nahi karegaa..

adhi bhautik gyaan kitanaa bhi mil jaaye , sukh-shanti ke liye waaiin ki jarurat padati hai…klabon ki jarurat padati..swaasthy ke liye tonikon ki jarurat padati…gyaan ke liye kitaabon aur pothon ki jarurat padati hai.. prasannataa ke liye naach gaan aur na jaane kya kyaa karane ki jarurat padati hai bade logon ko..

lekin jis ke jeevan men adhi daivik gyaan hai unhe sharaab ki jarurat nahi padati…vo apane aap men khush rahete hai..jaam par jaam pine se kyaa phaayadaa?..

 

aisi adhyaatmik gyaan ki mahimaa hai ! adhibhautik gyaan us ke aage bahut baunaa ho jata hai..

adhyaatm gyaan ki aap 10 minat bhi yaatraa kare to aap ka bhautik gyaan aur adhi daivik gyaan dono chamakegaa…

agar adhyaatmik gyaan se munh mod kar bhautik gyaan ke pichhe lagate hai bade pachhataate hai..

merath ka rup narayan jaisa bhautik degreeyaa wala vidwaan is samay bhaarat me shaayad hi ho..lekin itani degriyon ke baad bhi dukh nahi mitaa, vo mera chela ban gayaa..

adhibhautik kitanaa bhi mil jaaye, makaan dukaan mil jaaye, pad pratistha waah waahi mil jaaye..lekin adhyatm aur adhi daivik ke bina aadami ka dukhad awasthaa se chhutakaaraa nahi hotaa…

 

marate samay 4 dukh sataate hai..

1) shaaririk pida

2) maansik tapan ..kisi se bura saluk kiyaa hai to vo paap tapaataa hai.

3)aasakti ki pida- jahaa attaichment hai wahaa atakegaa..dhan daulat, bete ka kya hoga?beti ka kya hoga? pota aur poti ka kya hogaa aisaa chintan kar ke marate to wo hi dada dadi marane ke baad kutta ktti ban ke pota poti ke ird gird punchh hila rahe hai..

4) marane ke baad kahaa jaayenge koyi pataa nahi, isliye laachar ho ke marate.

to sharirik pida, maanasik tapan, aasakti ki pidaa aur marane ke baad kahaan jaayenge ye 4 pidaayen jeete jee  kuchal daalane ke liye manushy jeevan milaa hai..ye bhautik-taa se nahi kuchal sakate ho..us ke liye  adhi daivik shakti chaahiye.. adhyatmik guru ki dikshaa chaahiye..

 

 ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s


%d bloggers like this: