प्रेमनिधि महाराज

देल्ही पूनम सत्संग अमृत; 11 दिसंबर 2011 

भक्त माल ग्रंथ में ये कथा आती है :

 

आगरा में एक भक्त रहेता था..प्रेम निधि उस का नाम था..सब में भगवान है ऐसा समझ कर प्रीति पूर्वक भगवान को भोग लगाए..और वो प्रसाद सभी को बाटें..

यमुनाजी से जल लाए..भगवान को स्नान कराए….उस समय यमुना जी में देल्ही की गट्टर का पानी नही आता था..तो यमुना जी के जल से भगवान को जल पान  कराता था..

सुबह सुबह जल्दी उठा प्रेम निधि…सुबह सुबह जल पर किसी पापी की, नीगुरे आदमी की नज़र पड़ने से पहेले मैं भगवान के लिए जल लेकर आऊँ ऐसा सोचा…अंधेरे अंधेरे में ही गया..लेकिन रास्ता दिखता नही था..इतने में एक लड़का मशाल लेकर आ गया..और आगे  चलने लगा..प्रेम निधि ने सोचा की ये क्या है?चलो ये लड़का जाता है उधर ही यमुना जी है..तो इस के पिछे पिछे  मशाल का फ़ायदा उठाओ..नही तो कही चला जाएगा…फिर लौटते समय देखा जाएगा..

लेकिन ऐसा नही हुआ..मशाल लेकर लड़का यमुना तक ले आया..प्रेम निधि ने यमुना जी से जल भरा..ज़्यु ही चलने लगे तो एकाएक लड़का आ गया.. आगे  आगे  चलने लगा..अपनी कुटिया तक पहुँचा..तो सोचा की उस को पुछे  की बेटा तू कहाँ  से आया..तो इतने में देखा की लड़का तो अंतर्धान हो गया!

प्रेम निधि भगवान के प्रति प्रेम करते तो भगवान भी उन के लिए कभी किसी रूप में कभी किसी रूप में उन का मार्ग दर्शन करने आ जाते…

लेकिन उस समय यौवनो का राज्य था..हिंदू साधुओं को नीचे दिखाना और अपने मज़हब का प्रचार करना ऐसी मानसिकता वाले लोग बादशाह के पास जा  कर उन्हों ने राजा  को भड़काया…की प्रेम निधि के पास औरते भी बहोत  आती है…बच्चे, लड़कियां , माइयां  सब आते है..इस का चाल चलन ठीक नही है..प्रेम निधि का प्रभाव बढ़ता हुआ देख कर मुल्ला मौलवियों ने , राजा के पिठ्ठुओ ने राजा को भड़काया..

राजा उन की बातों में आ कर आदेश दिया की प्रेम निधि को हाजिर करो..उस समय प्रेम निधि भगवान को जल पिलाने के भाव से कुछ  पात्र भर रहे थे…

सिपाहियों ने कहा , ‘चलो बादशाह सलामत बुला रहे ..चलो ..जल्दी करो…’

तो भगवान को जल पिलाए बिना ही वो निकल गये..अब उन के मन में खटका था की भगवान को भोग तो लगाया लेकिन जल तो  नही पिलाया..ऐसा उन के मन में खटका था…राजा के पास तो ले आए..राजा ने पुछा, ‘तुम क्यो सभी को आने देते हो?’

प्रेम निधि बोले, ‘सभी के रूप में मेरा परमात्मा है..किसी भी रूप में माई हो, भाई हो, बच्चे हो..जो भी सत्संग में आता है तो उन का पाप नाश हो जाता है..बुध्दी  शुध्द  होती है, मन पवित्र होता है..सब का भला होता है इसलिए मैं सब को आने देता हूँ सत्संग में..मैं कोई संन्यासी  नही हूँ की स्रीयों को नही आने दूं…मेरा तो  गृहस्थी जीवन है..भले ही मैं गृहस्थ हो कर विकारों में नही हूँ, फिर भी गृहस्थ परंपरा में ही तो मैं जी रहा हूँ..’

 बादशाह ने कहा की, ‘तुम्हारी बात तो सच्ची लगती है..लेकिन तुम काफर हो..जब तक तुम्हारा परिचय नही मिलेगा तब तक तुम को जेल की कोठरी में बंद करने की इजाज़त देते है..’बंद कर दो इस को’

भक्त माल में कथा आगे  कहेती है की प्रेम निधि तो जेल में बंद हो गये..लेकिन अंदर से जो आदमी गिरा है वो ही जेल में दुखी होता है..अंदर से जिस की समझ मरी है वो ज़रा ज़रा बात में दुखी होता है..जिस की समझ सही है वो दुख को तुरंत उखाड़ के फेंकने वाली बुध्दी  जगा देता है..क्या हुआ? जो हुआ ठीक है..बीत  जाएगा..देखा जाएगा..ऐसा सोच कर वो दुख में दुखी नही होता…

प्रेम निधि को भगवान को जल पान कराना था..अब जेल में तो आ गया शरीर..लेकिन ठाकुर जी को जल पान कैसे कराए?..रात हुई…राजा को मोहमद पैगंबर साब स्वप्ने में दिखाई दिए..

बोले, ‘हे बादशाह! अल्लाह को प्यास लगी है..’

‘मालिक हुकुम करो..अल्लाह किस के हाथ से पानी पियेंगे ?’ राजा ने पुछा.

बोले, ‘जिस के हाथ से पानी पिए उस को तो तुम ने जेल में डाल रखा है..’

बादशाह सलामत की धड़कने बढ़ गयी…देखता है की अल्लाह  ताला और मोहमाद साब बड़े नाराज़ दिखाई दे रहे…मैने जिस को जेल में बंद किया वो तो प्रेम निधि है..जल्दी जल्दी प्रेम निधि को रिहा करवाया…

प्रेम निधि नहाए धोए..अब भगवान को जल पान  कराते है..

राजा प्रेम निधि को देखता है…देखा की अल्लाह, मोहमद  साब और प्रेम निधि के गुरु एक ही जगह पर विराज मान है!

फिर राजा को तो सत्संग का चसका लगा..ईश्वर, गुरु और मंत्र दिखते 3 है लेकिन 1 ही सत्ता है..बादशाह सलामत हिंदुओं के प्रति जो नफ़रत की नज़रियाँ रखता था उस की नज़रिया बदल गयी…प्रेम निधि महाराज का वो भक्त हो गया..सब की सूरत में परब्रम्‍ह परमात्मा है ..राजा साब  प्रेम निधि महाराज को कुछ  देते..ये ले लो..वो ले लो …तो बोले, हमें तो भगवान की रस मयी, आनंद मयी, ज्ञान मयी भक्ति चाहिए..और कुछ नही…

 

जो लोग संतों  की निंदा करते वो उस भक्ति के रस को नही जानते..

 

संत की निंदा ते बुरी सुनो जन कोई l

की इस में सब जन्म के सुकृत ही खोई ll

 

जो भी सत्कर्म किया है अथवा सत्संग सुना है वो सारे पुण्य संत की निंदा करने से नष्ट होने लगते है..

जो गुरु के प्रति , भगवान के प्रति अहोभाव करते उन्हे वो प्रेमा भक्ति, परमात्म रस मिलता है…

 

ओम शांति.

 

श्री सद्गुरुदेव जी भगवान की महा जयजयकार हो!!!!!

ग़लतियों के लिए प्रभुजी क्षमा करे….

ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ

bhakt maal men ye kathaa aati hai :

 

aagraa men ek bhakt rahetaa thaa..prem nidhi us kaa naam thaa..sab men bhagavaan hai aisaa samajh kar priti purvak bhagavaan ko bhog lagaaye..aur vo prasaad sabhi ko baaten..

yamunaaji se jal laaye..bhagavaan ko snaan karaaye….us samay yamuna ji men delhi ki guttar kaa paani nahi aataa thaa..to yamunaa ji ke jal se bhagavaan ko jal paan karaataa thaa..

subah subah jaldi uthaa prem nidhi…subah subah jal par kisi paapi ki, nigure aadami ki najar padane se pahele main bhagavaan ke liye jal lekar aaun aisaa sochaa…andhere andhere men hi gayaa..lekin raastaa dikhataa nahi thaa..itane men ek ladakaa mashaal lekar aa gayaa..aur aage chalane lagaa..prem nidhi ne sochaa ki ye kyaa hai?chalo ye ladakaa jaataa hai udhar hi yamunaa ji hai..to is ke pichche pichhe mashaal kaa phaayadaa uthaao..nahi to kahi chalaa jaayegaa…phir lautate samay dekhaa jaayegaa..

lekin aisaa nahi huaa..mashaal lekar ladakaa yamunaa tak le aayaa..prem nidhi ne yamunaa ji se jal bharaa..jyu hi chalane lage to ekaaek ladakaa aa gayaa.. aage aage chalane lagaa..apani kutiyaa tak pahunchaa..to sochaa ki us ko puchhe ki betaa tu kahaa se aayaa..to itane men dekhaa ki ladakaa to antardhaan ho gayaa!

prem nidhi bhagavaan ke prati prem karate to bhagavaan bhi un ke liye kabhi kisi rup men kabhi kisi rup men un kaa maarg darshan karane aa jaate…

lekin us samay yauwano kaa raajya thaa..hindu saadhuon ko niche dikhaanaa aur apane majahab kaa prachaar karanaa aisi maanasikataa waale log baadashaah ke paas jaa kar un ko bhadakaayaa…ki prem nidhi ke paas aurate bhi bahot aati hai…bachche, ladakiyaa, maayiyaa sab aate hai..is kaa chaal chalan thik nahi hai..prem nidhi kaa prabhaav badhataa huaa dekh kar mullaa maulaviyon ne , raajaa ke piththuo ne raajaa ko bhadakaayaa..

raajaa un ki baaton men aa kar aadesh diyaa ki prem nidhi ko haajir karo..us samay prem nidhi bhagavaan ko jal pilaane ke bhaav se kuchh paatr bhar rahe the…

sipaahiyon ne kahaa , ‘chalo baadashaah salaamat bulaa rahe ..chalo ..jaldi karo…’

to bhagavaan ko jal pilaaye binaa hi vo nikal gaye..ab un ke man men khatakaa thaa ki bhagavaan ko bhog to lagaayaa lekin jal ti nahi pilaayaa..aisaa un ke man men khatakaa thaa…raajaa ke paas to le aaye..raajaa ne puchhaa, ‘tum kyo sabhi ko aane dete ho?’

prem nidhi bole, ‘sabhi ke rup men meraa paramaatmaa hai..kisi bhi rup men maayi ho, bhai ho, bachche ho..jo bhi satsang men aataa hai to un kaa paap naash ho jaataa hai..budhdi shudhd hoti hai, man pavitr hotaa hai..sab kaa bhalaa hotaa hai isliye main sab ko aane detaa hun satsang men..main koyi sanyaasi nahi hun ki sreeyon ko nahi aane dun…meraa to  gruhasthi jeevan hai..bhale hi main gruhasth ho kar vikaaron men nahi hun, phir bhi gruhasth paramparaa men hi to main jee rahaa hun..’

 baadashaah ne kahaa ki, ‘tumhaari baat to sachchi lagati hai..lekin tum kaafar ho..jab tak tumhaaraa parichay nahi milegaa tab tak tum ko jel ki kothari men band karane ki ijaajat dete hai..’band kar do is ko’

bhakt maal men kathaa aage kaheti hai ki prem nidhi to jel men band ho gaye..lekin andar se jo aadami giraa hai vo hi jel men dukhi hotaa hai..andar se jis ki samajh mari hai vo jaraa jaraa baat men dukhi hotaa hai..jis ki samajh sahi hai vo dukh ko turant ukhaad ke phenkane waali budhdi jagaa detaa hai..kyaa huaa? jo huaa thik hai..beet jaayegaa..dekhaa jaayegaa..aisaa soch kar vo dukh men dukhi nahi hotaa…

prem nidhi ko bhagavaan ko jal paan  karaanaa thaa..ab jel men to aa gayaa sharir..lekin thaakur ji ko jal paan kaise karaaye?..raat huyi…raajaa ko mohmad paigambar saab swapne men dikhaayi diye..

bole, ‘hey baadashaah allaah ko pyaas lagi hai..’

‘maalik hukum karo..allaah kis ke haath se paani piye?’ raajaa ne puchhaa.

bole, ‘jis ke haath se paani piye us ko to tum ne jel men daal rakhaa hai..’

baadashaah salaamat ki dhadakane badh gayi…dekhataa hai ki alaah taalaa aur mohmad saab bade naaraaj dikhaayi de rahe…maine jis ko jel men band kiyaa vo to prem nidhi hai..jaldi jaldi prem nidhi ko rihaa karavaayaa…prem nidhi nahaaye dhoye..ab bhagavaan ko jal paan karaate hai..

raajaa prem nidhi ko dekhataa hai…dekhaa ki allaah, mohamad saab aur prem nidhi ke guru ek hi jagah par viraaj maan hai!

phir satsang kaa chasakaa lagaa..iishwar, guru aur mantr dikhate 3 hai lekin 1 hi sattaa hai..baadshaah salaamat hinduon ke prati jo nafarat ki najariyaan rakhataa thaa us ki najariyaa badal gayi…prem nidhi mahaaraaj ka vo bhakt ho gayaa..sab ki surat men parbramh paramaatmaa hai ..raajaa saab  prem nidhi mahaaraaj ko kuchh dete..ye le lo..vo le lo …to bole, hamen to bhagavaan ki ras mayi, aanand mayi, gyaan mayi bhakti chaahiye..aur kuchh nahi…

 

jo log santo ki nindaa karate vo us bhakti ke ras ko nahi jaanate..

 

sant ki nindaa te buri suno jan koyi

ki is men sab janm ke sukurt hi khoyi

 

jo bhi satkarm kiyaa hai athavaa satsang sunaa hai vo saare punya sant ki nindaa karane se nasht hone lagate hai..

jo guru ke prati , bhagavaan ke prati ahobhaav karate unhe vo premaa bhakti, paramaatm ras milataa hai… 

OM SHANTI.

 

SHRI SADGURUDEV JI BHAGAVAAN KI MAHAA JAYAJAYKAAR HO!!!!!

Galatiyon ke liye Prabhuji kshamaa kare….

 

ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s


%d bloggers like this: