नारद जी के पूर्व जन्म की कथा

( परम पूज्य आसाराम बापूजी के सत्संग से )


नारद जी कहेते :- महा पुरुषों  के आज्ञा  के अनुसार कर्म करना, महापुरुषों से प्रीति  रखना और महापुरुषों के संपर्क में आना ये धर्म के प्रसाद को  सहज में प्रगट कर देता है …

नारद जीने बताया मैं  तो एक गरीब दासी का बेटा था.. वो भी रोजाने काम में जाती, कभी काम मिले , कभी ना मिले….. चातुर्मास के दिनों में किसी संत महापुरुष की कथा में किसी सेठ ने मेरी माँ को कहा की यहाँ कथा के मैदान में झाड़ू बुहारी लगाया कर, पानी का छिटकाव  किया कर..तेरे को  रोजी देंगे रोज की..
मैं 5 साल का था.. मेरा बाप तो मर गया था…मैं  भी अपने माँ के साथ गया..मेरी माँ तो काम काज करे…और मैं  सत्संग में बैठु..संत का दर्शन  करू… अब समझू तो नहीं..लेकिन संत की वाणी मेरे कान से टकराए…कान पवित्र हुए.. धीरे धीरे अच्छा लगने लगा …फिर कीर्तन में मेरे को मजा आने लगा…फिर कीर्तन करते करते , भगवान का नाम जपने से मेरे रक्त के कण पवित्र हुए…ऐसे करते करते मेरे को  सत्संग में रूचि हुयी…
संत जब जा रहे थे तो मैंने हाथ जोड़े…बाबाजी मेरे को तो अब घर में अच्छा  नहीं लगेगा.. मैं  तो आप के साथ चलू…
बाबा ने कहा, ‘अभी तू बच्चा है.. घर में ही रहो.. घर में ही रहे के भजन करो..’
बोले, मेरी माँ टोकेगी…
बाबा बोले, ‘जो भगवान के रस्ते जाते, उन को मदद करनेवाले को पुण्य  होता ..लेकिन भगवान के रस्ते जानेवाले को जो रोकते-टोकते उन को पाप लगता.. ऐसे रोकने-टोकने वालो की भगवान बुध्दी बदल देते या तो  भगवान अपने चरणों में बुला लेते है…तेरी माँ की बुध्दी बदलेगी या तो तेरी माँ को भगवान अपने धाम में बुला लेंगे…’
कुछ दिनों में मेरी माँ टोकने लगी…उस को तो साप ने काटा  और वो मर गयी..मेरी माँ की अंतेष्टि पंचों ने मकान बेच के कर लिया…
..मैं  तो चलता बना…दिशा का तो पता नहीं था…उत्तर की तरफ चलता गया…चलते चलते कही गाव आये, कई तहेसिल आये…तालाब आये..नदिया आये..किसी से भिक्षा मांग के खा लेता..
संतो ने नाम रख दिया – ‘हरी दास’.. हरी हरी ..हे गोविन्द..हरी हरी …बोलता..कुछ और पता नहीं था…
ऐसे करते करते गंगा किनारे पहुंचा..गंगाजी में नहा धो के थोडा पीपल के पेड़ के निचे बैठा ….भगवान मैं कुछ नहीं जानता  हूँ , लेकिन तुम्हारा हूँ… …हे गोविन्द ..हे गोपाल..हरी.. हरी…ऐसे बोलता..मेरे को पता ही नहीं था की हरी हरी बोलने से भगवान पाप हर लेते…’हरि ॐ ‘ बोलने से भगवान अपना ज्ञान भरते…..
मैं  तो प्रभु को पुकारता …हे प्रभु …कब मिलोगे….
हरि ssssssss ओम्म्म sssssssssss
ऐसे करते करते मेरा मन शांत होने लगा… प्रकाश दिखने लगा..आनंद भी आया, और भगवान की तड़प भी जगी… आकाशवाणी  हुयी की,  ‘पुत्र अभी तू मेरा दर्शन नहीं कर सकता…मेरे दर्शन का प्रभाव तू नहीं झेल सकेगा…लेकिन अगले जनम में तू मेरा खास महान संत बनेगा.. ‘नारदजी’ तेरा नाम पडेगा.. ब्रम्हा के यहाँ तेरा जन्म होगा.. और देश-देशांतर में , लोक-लोकांतर में तेरी अ-बाधित गति होगी …!’
कहा तो मैं  गरीब दासी का बेटा..और कहा नारदजी बना !..भगवान श्रीकृष्ण के सभा में जाऊं तो भगवान श्रीकृष्ण उठ कर मेरा स्वागत करते… ये संतों के दर्शन का और धर्म का फल नहीं तो काय का फल है?

ये किस का फल है? बी. टेक  का फल है या एम् डी  होने का फल है? पी एच डी  का फल हा या डी .लिट. अथवा एम् बी बी एस होने का फल है?…ये तो ‘हरि ॐ’ का फल है !!!!
मेरे को  भी जो फल मिला वो  गुरू के प्रसाद का फल मिला है…

तो नारद जी बोलते है – की महान  पुरुषों  का संग, सत्संग, जप-ध्यान ये ही धर्म मनुष्य को महान  बना देता है ….
भरद्वाज ऋषि कहेते की तमो गुण  का ह्रास कर के सत्व गुण बढाए वो धर्म है..

भगवान व्यास जी कहेते की अंतकरण की शुध्दी के जो भी साधन कर्म है –
-जप ध्यान करना,
-प्यासे को पानी देना,
– भूखे को रोटी देना,
– बीमार को स्वास्थ्य का मार्ग बताना,
-भूले हुए को रास्ता बताना,
– हारे को हिम्मत देना..
-अ-भक्त क भक्ति देना,
– भक्त को मन्त्र दीक्षा दिलाना
– ये सब धर्म कार्य है… जिस से अंतकरण शुध्द हो जाए वो सब धर्म है ..

ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ

NAARAD JI KE PURV JANM KI KATHAA

(Param Pujya Asaram Bapuji ke satsang se..)

narad ji kahete :- maha purushon  ke aagya  ke anusaar karm karana, mahapurushon se priti  rakhna aur mahapurushon ke sanpark men aana ye dharm ke prasad ko  sahaj men pragat kar deta hai …

narad jeene bataya main  to ek gareeb dasi ka beta tha.. vo bhi rojaane kaam men jaati, kabhi kaam mile , kabhi na mile….. chaturmaas ke dinon men kisi sant mahapurush ki katha men kisi seth ne meri maan ko kaha ki yahan katha ke maidaan men jhadu buhari lagaya kar, pani ka chhitakaav  kiya kar..tere ko  roji denge roj ki..
main 5 saal ka tha.. mera baap to mar gaya tha…main  bhi apane maan ke saath gaya..meri maan to kaam kaj kare…aur main  satsang men baithu..sant ka darshan  karu… ab samajhu to nahin..lekin sant ki vani mere kaan se takaraaye…kaan pavitra hue.. dheere dheere achchha lagne laga …fir keertan men mere ko maja aane laga…fir keertan karte karte , bhagavaan ka nam japane se mere rakt ke kan pavitra hue…aise karte karte mere ko  satsang men roochi huyi…
sant jab ja rahe the to mainne haath jode…baabaaji mere ko to ab ghar men achchha  nahin lagega.. main  to aap ke saath chalu…
baba ne kaha, ‘abhi too bachcha hai.. ghar men hi raho.. ghar men hi rahe ke bhajan karo..’
bole, meri maan tokegi…
baba bole, ‘jo bhagavaan ke raste jaate, un ko madad karanevaale ko punya  hota ..lekin bhagavaan ke raste jaanevaale ko jo rokte-tokte un ko paap lagata.. aise rokne-tokne vaalo ki bhagavaan budhdi badal dete ya to  bhagavaan apane charanon men bula lete hai…teri maan ki budhdi badalegi ya to teri maan ko bhagavaan apane dhaam men bula lenge…’
kuch dinon men meri maan tokne lagi…us ko to saap ne kata  aur vo mar gayi..meri maan ki anteshti panchon ne makaan bech ke kar liya…
..main  to chalta bana…disha ka to pata nahin tha…uttar ki taraf chalta gaya…chalte chalte kahi gaav aaye, kai tahesil aaye…taalaab aaye..nadiya aaye..kisi se bhiksha maang ke kha leta..
santo ne nam rakh diya – ‘hari das’.. hari hari ..he govind..hari hari …bolta..kuch aur pata nahin tha…
aise karte karte ganga kinare pahuncha..gangaji men naha dho ke thoda peepal ke ped ke niche baitha ….bhagavaan main kuch nahin jaanta  hoon , lekin tumhara hoon… …he govind ..he gopal..hari.. hari…aise bolta..mere ko pata hi nahin tha ki hari hari bolne se bhagavaan paap har lete…’hari ॐ ‘ bolne se bhagavaan apana gyan bharte…..
main  to prabhu ko pukarta …he prabhu …kab miloge….
hari ssssssss ommm sssssssssss
aise karte karte mera man shaant hone laga… prakash dikhne laga..aanand bhi aaya, aur bhagavaan ki tadap bhi jagi… aakashavani  huyi ki,  ‘putra abhi too mera darshan nahin kar sakta…mere darshan ka prabhaav too nahin jhel sakega…lekin agale janam men too mera khaas mahaan sant banega.. ‘naradaji’ tera nam padega.. bramha ke yahan tera janm hoga.. aur desh-deshantar men , lok-lokantar men teri a-baadhit gati hogi …!’
kaha to main  gareeb dasi ka beta..aur kaha naradaji bana !..bhagavaan shrikrishna ke sabha men jaaoon to bhagavaan shrikrishna uth kar mera svaagat karte… ye santon ke darshan ka aur dharm ka fal nahin to kaay ka fal hai?

ye kis ka fal hai? B.. Tek  ka fal hai ya M.D.  hone ka fal hai? P.hd.  ka fal ha ya D. .lit. athava M.B.B.S. hone ka fal hai?…ye to ‘hari ॐ’ ka fal hai !!!!
mere ko  bhi jo fal mila vo  guru ke prasad ka fal mila hai…

to narad ji bolte hai – ki mahaan  purushon  ka sang, satsang, jap-dhyaan ye hi dharm manushya ko mahaan  bana deta hai ….
bharadvaj rishi kahete ki tamo gun  ka hraas kar ke satva gun badhaaye vo dharm hai..
bhagavaan vyas ji kahete ki antakaran ki shudhdi ke jo bhi saadhan karm hai –
-jap dhyaan karana,
-pyase ko pani dena,
– bhookhe ko roti dena,
– beemaar ko swasthya ka marg batana,
-bhoole hue ko raasta batana,
– haare ko himmat dena..
-a-bhakt k bhakti dena,
– bhakt ko mantra diksha dilana
– ye sab dharm karya hai… jis se antakaran shudhd ho jaaye vo sab dharm hai ..

ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s


%d bloggers like this: