नसीरुद्दीन के बड़े पीर की कथा

मुक्तानंद बाबा हो गए वज्रेश्वरी मुंबई के पास , उन के सदग्रंथ में बड़े रोचक ढंग से एक कथा आती है …



TO WATCH THIS VIDEO PLEASE CLICK HERE

नसीरुद्दीन नाम का एक युवक अपने अब्बा को बोलता, ‘अब्बाजान मुझे कुछ बनना है, कुछ हो कर दिखाना है..’

अब्बा ने कहा, ‘बेटे कुछ दिन धीरज रखो मेरे बुजुर्ग होने के दिन आ रहे है..एक दिन बुढ्ढा   हो जाऊँगा..अब तुम को क्या बताऊ? एक दिन तो मैं  कबरिस्थान में सोउंगा …थोडा धीरज रखो ..फिर तो ये सारी  जायदाद की मालकियत तुम्हारी ही है…’

बोले, ‘अब्बा मैं  ऐसा क्यों सोचु की अब्बा बूढ़े हो  जाए, अब्बा कबरिस्थान में सो जाए..और मैं  मालिक बनू ऐसा मैं  नहीं सोचूंगा ..मुझे तो आप मेरा प्यारा गधा दे दो और कुछ खर्चे के रुपये दे दो…’
बार बार बेटे की भावना को देख कर अब्बा जान ने गधा और कुछ रुपये बेटे को दिए…

चल पडा नसीरुद्दीन….
जाते जाते कई सप्ताह बीत गए..गरमियों के दिन थे….काली हवा लगती ऊंट को और गधों को तो तुरंत मर जाते…वो गधा मर गया…
बेचारा नसरुद्दीन….
युवक था…बार बार गधे को आलिंगन करे…अरे मेरे प्यारे यार दोस्त..क्यों रूठ गए..मेरे से कोई शरारत हुयी क्या …मैंने तुझ पे ज्यादा बोझ डाला?….या तू मुझे उठा कर थक गया इसलिए मुझे छोड़ कर चला गया मुझे अकेला छोड़ कर….अरे जनाबे अली… उठ मेरे दोस्त..मेरे मित्र…मेरे साथी…’ बड़े प्यार से खूब खूब उसे आलिंगन करे…

मुसलमानों में भी कई समझदार लोग होते है ..जैसे रहीम , रहियाना तैय्यब, रहिमत खानंखान, मंसूर जैसे और भी कई लोग है ….

कुछ लोगो ने देखा की युवक है…मरे हुए गधे को बार बार आलिंगन करे, उस के बैक्टेरिया  से इस युवक  को कही जान गवानी ना पड़े…..और इस गधे की लाश सामने होगी तो बार बार उस को चिपकेगा…इसलिए तो जल्दी जल्दी कर के उन्हों ने खड्डा कर के  गधे की लाश को गाड  दिया…किसी ने मुजाहिर बना दी..चादर भी चढ़ा दी…
कहानी कहेती है की लोग बोलने लगे, ‘अब तो तू खाना खा..’
नसरुद्दीन बोले, ‘मेरा जनाबे अली मुझे छोड़ कर चला गया….’
अब उस का मन बहेलाने के लिए किसी ने चादर चढ़ा   दी ..किसी ने अगरबत्ती कर दी…ऐसे करते करते कोई हिन्दू कोई मुसलमान सब मिल के रहेनेवाले लोग थे…उस को बहेलाते गए…अच्छे  लोगो की कमी नहीं है दुनिया में…
बुरे भी होते , अच्छे  भी होते…
उस का दिल बहेलाने के लिए किसी ने पैसे लगा दिए तो अच्छी  मुजाहिर बन गयी…
दोस्तों ने कहा , ‘तू अब  खाना पीना शुरू कर’…
उस का दुःख भुलाने के लिए सब होता रहा..लोग आते जावे..कोई मजाक से चढ़ावे तो कोई यकीन  से चढ़ावे….कोई चादर चढ़ावे तो कोई कुछ चढ़ावे..चढ़ावा चढने लगा…

दिन बीते, सप्ताह और महीने बीते…बोले अब इस मुजाहिर का नाम क्या रखे?

बोले कोई 2 पैर वाला होता है तो उस को  पीर बोलते, ये तो 4 पैर वाला था..दोस्तों ने बोला इस का नाम रखते है “बड़े पीर की मुजाहिर! 🙂 ‘

यकीन  की तो कमी नहीं है….यकीन  माना श्रध्दा..
लेकिन श्रीकृष्ण  कहेते की श्रध्दा के साथ तत्परता और बुध्दी योग की उपासना करो…नहीं तो श्रध्दा कही मूर्ति में रुक जायेगी, कही पीर में रुक जायेगी तो कही बड़े पीर में रुक जायेगी…तो फिर वहाँ  ही लोग चक्कर काटते रहेते…

कबीर जी ने कहा, पथ्थर पूजे हरी मिले तो मैं  पुजू पहाड़!…श्रध्दा को आगे बढाने के लिए कहा.

तो मुजाहिर पर भीड़ होने लगी तो हलवाई की दूकान, चाय बीडी वाले की दूकान, ऐसे करते करते वहाँ  रजाई तकिये किराए से देनेवाले की दूकान सराय बनते बनते 4 साल में वो मुजाहिर बड़ी मस्जिद के रूप में लहेराने लगी…
खुदा खैर करे!बन्दा लेहेर  करे !!

अब्बाजान को  पता चला की अपनी आमदनी इतनी नहीं जीतनी बड़े पीर की होगी…जाओ मिया ज़रा बात क्या है देख के आये…2-4 दिन का सफर है ..लेकिन देख कर आयेंगे तो अपन भी इधर करेंगे तो आमदनी बढ़ेगी…

देखा तो बड़ा अच्छा लगा..लेटेस्ट  व्यवस्था थी… 🙂

अब्बाजान ने कहा की इस संस्था का जो मुखिया है उस मुल्लाजी से मुझे मिलाओ…कुछ भी करो..मैं  मिले बगैर नहीं जाउंगा..मैं  आप की शुकर गुजारी करूंगा…
जब मुलाक़ात के कमरे में ले गए तो अब्बा को एक झटका लगा!
बोले , ‘इमाम साब गुस्ताखी माफ हो…आप की शकल देख कर मुझे अपने बेटे नसरुद्दीन की याद आ गयी….वो घर से गया है..4 साल हो गए..मैं  कैसे कहू? लेकिन आप हूब  हु मेरे बेटे जैसे दिखते है…’
नसीरुद्दीन जोर जोर से हँसने लगा, ‘अब्बाजान खा गये न धोका ? मैं  वो ही नसीरुद्दीन हूँ..उस समय गाल ज़रा दबे हुए थे, यहाँ जरा माल मिलता तो चेहरा ज़रा भर गया..बाकी हूँ मैं  आप ही का बेटा!’

बोले, ‘फिर ये सब क्या है?’
नसीरुद्दीन कहे, ‘वो जनाबे अली की रहेमत है! मेरा प्यारा गधा! उसी की ये सारी  करामत है!!’

अब्बा हंसा.
बोले अब्बा क्यों हँसे?

अब्बा बोले मैंने भी ऐसे ही 2 पैर वाले को  सुला कर पीर नाम रखा था..मुजाहिर बनायी थी…और तुम ने 4 पैर वाले को सुला कर बड़ा पीर नाम रखा! 🙂 दोनों खुशियाँ  मनाते है …
लेकिन रहियाना तैय्यब से पूछो, रहिमन खानंखान से पूछो, मंसूर से पूछो…तो बोलेंगे की
भूल कर भी उन खुशियों से मत खेलो जिन के पीछे लगी हो गम की कतारें …

लोगो की श्रध्दा है, उस श्रध्दा का फायदा उठा कर उन पैसो से ऐश करने की बजाय पसीने के 2 पैसे अच्छे  है…श्रध्दा के साथ तत्परता होनी चाहिए..और प्रजा में बुध्दियोग की उपासना होनी चाहिए…4 पैर वाले को  तो पता ही  नहीं मैं  पीर हूँ….खोदेंगे तो क्या निकलेगा?

लोगों के जीवन में यकीन  तो है,  लेकिन लोगो के जीवन में उस अल्ल्लाह के स्वरुप का-  ईश्वर के स्वरुप का ज्ञान भी होना चाहिए..तत्परता भी होनी चाहिए..राग और द्वेष, ईर्षा और घृणा  छोड़ कर अपने अंतरात्मा में – फिर उसे God   कहे दो..ईश्वर कहे दो…अल्ल्लाह कहे दो…उस में थोड़ी विश्रांति पाए तो मानव जात का मंगल होता है…

ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ

muktanand baba ho gaye vajreshwari mumbai ke paas , un ke sadgranth me bade rochak dhang se ek kathaa aati hai …

nasiruddin naam ka ek yuwak apane abbaa ko bolataa, ‘abbaa jaan mujhe kuchh bananaa hai, kuchh ho kar dikhaanaa hai..’

abba ne kahaa bete kuchh din dhiraj rakho mere bujurg hone ke din aa rahe hai..ek din budhdaa ho jaaunga..ab tum ko kya bataau? ek din to mai kabaristhaan me soungaa…thoda dhiraj rakho ..phir to ye sari jaaydaad ki maalkiyat tumhaari hi hai…’

bole abbaa ‘mai aisa kyu sochu ki abbaa budhe h jaaye, abbaa kabaristhan me so jaaye..aur mai malik banu aisa mai nahi schungaa..mujhe to aap mera pyara gadha de do aur kuchh kharche ke rupiye de do…’
baar baar bete ki bhaavanaa ko dekh kar abbaa jaan ne gadhaa aur kuchh rupiye bete ko diye…

chal padaa nasiruddin….
jaate jaate kayi saptaah beet gaye..garamiyon ke din the….kaali havaa lagati unt ko aur gadhon ko to turant mar jaate…vo gadhaa mar gayaa…
bechaaraa nasaruddin….
yuwak thaa…baar baar gadhe ko aalingan kare…are mere pyare yaar dost..kyu ruth gaye..mere se koyi sharaarat huyi…maine tujh pe jyada bojh daalaa?….yaa tu mujhe uthaa kar thak gayaa isliye mujhe chhod kar chalaa gayaa mujhe akelaa chhod kar….arre janaabe ali uth mere dost..mere mitr…mere sathi…’ bade pyaar se khub khub use alingan kare…

musalmaano me bhi kayi samajhadaar log hote hai ..jaise raheem , rahiyaanaa taiyyab, rahimat khaanankhaan…..aur bhi kayi log….

kuchh logo ne dekhaa ki yuwak hai…mare huye gadhe ko baar baar aalingan kare, us ke bacteriyaa se is yuwal ko kahi jaan gavaani naa pade…..aur is gadhe ki laash saamane hogi to baar baar us ko chipakegaa…isliye to jaldi jaldi kar ke unho ne khaddaa kar ke gaad diyaa…kisine mujaahir banaa di..chaadar bhi chadhaa di…
kahaani kaheti hai ki log bolane lage, ‘ab to tu khana khaa..’
nasaruddin bole, ‘mera  janaabe ali mujhe chhod kar chalaa gayaa….’
ab us ka man bahelaane ke liye kisi ne chaadar chadaa di ..kisi ne agar batti kar di…aise karate karate koyi hindu koyi musalamaan sab mil ke rahenewale log the…us ko bahelaate gaye…achhe logo ki kami nahi hai duniyaa me…
bure bhi hote , achhe bhi hote…
us ka dil bahelaane ke liye kisi ne paise lagaa diye to achhi mujaahir ban gayi…
dosto ne kahaa tu khana pina khaa…
us ka dukh bhulaane ke liye sab hotaa rahaa..log aate jaawe..koyi majaak se chadhaave to koyi yakin se chadhaave….koyi chaadar chadhaave to koyi kuchh chadhaave..chadhaavaa chadhane lagaa…

din bite, saptaah aur mahine bite…bole ab is mujaahir ka naam kya rakhe?

bole koyi 2 pair wala hota hai to us k peer bolate, ye to 4 pair wala tha..dosto ne bolaa is kaa naam rakhate hai “bade pir ki mujaahir! 🙂 ‘

yakin ki to kami nahi hai….yakin maanaa shradhdaa..
lekin shrikrush nkahete ki shradhdaa ke sath tatparataa aur budhdi yog ki upaasanaa karo…nahi to shradhdaa kahi murti me ruk jaayegi, kahi pir me ruk jaayegi to kahi bade pir me ruk jaayegi…to phir wahaa hi log chakkar kaatate rahete…

kabir ji ne kahaa, paththar puje hari mile to mai puju pahaad!…shradhdaa ko aage badhaane ke liye kahaa.

to mujaahir par bhid hone lagi to halavaayi ki dukaan, chaay bidi wale ki dukaan, aise karate karate wahaa rajaayi takiye kiraaye se denewaale ki dukaan saraay banate banate   4 saal me vo mujaahir badi masjid  ke rup me laheraane lagi…
khudaa khair kare!bandaa laher kare !!

abbaa jaan k pataa chalaa ki apani aamadani itani nahi jitani bade pir ki hogi…jaao miyaa jaraa baat kya hai dekh ke aaye…2-4 din kaa saphar hai ..lekin dekh kar aayenge to apan bhi idhar karenge to aamadani badhegi…

dekhaa to badaa achha lagaa..latest vyavasthaa thi… 🙂

abbaajaan ne kahaa ki is sansthaa ka jo mukhiyaa hai us mullaaji se mujhe milaao…kuchh bhi karo..mai mile bagair nahi jaaungaa…mai aap ki shukar gujaari karungaa…
jab mulaakaat ke kamare me le gaye to abbaa ko ek jhatakaa lagaa!
bole , ‘imaam saab gustakhi maph ho…aap ki shakal dekh kar mujhe apane bete nasaruddin ki yaad aa gayi….vo ghar se gaya ahai..4 saal ho gaye..mai kaise kahu? lekin aap hub hu mere bete jaise dikhate hai…’
nasiruddin jor jor se hasane lagaa, ‘abbaajaan khaa gaye na dhoka?mai vo hi nasiruddin hun..us samay gaal jaraa dabe huye the, yahaa jara maal milataa to cheharaa jaraa bhar gayaa..baaki hun mai aap hi kaa betaa!’

bole, ‘phir ye sab kya hai?’
nasiruddin  kahe, vo janaabe ali ki rahemat hai! mera pyara gadhaa! usi ki ye saari karaamat hai!!’

abbaa hansaa.
bole abbaa kyu hanse?

abba bole maine bhi aise hi 2 pair wale ki sulaa kar pir naam rakhaa thaa..mujaahir banaayi thi…aur tum ne 4 pair wale ko sulaa kar badaa pir naam rakhaa! 🙂

dono khushiyaa manaate hai …lekin rahiyana taiyyab se puchho, rahiman khaanankhaan se puchho, mansur se puchho…to bolenge ki
bhul kar bhi un khushiyon se mat khelo jin ke pichhe lagi ho gam ki kataare…

logo ki shradhdaa hai, us shradhdaa ka phayadaa uthaa kar un paiso se aish karane ki bajaay pasine ke 2 paise achhe hai…shradhdaa ke sath tatparataa honi chahiye..aur prajaa me budhdiyog ki upasanaa honi chaahiye…4 pair wale k to pata ahi nahi mai pir hun….khodenge to kya nikalegaa?

logon ke jeevan me yakin to hai lekin logo ke jeevan me us alllaah ke swarup kaa iishwar ke swarup kaa gyaan bhi hona chahiye..tatparataa bhi honi chaahiye..

aarag aur dwesh, iirshaa aur ghrunaa chhod kar apane antaraatmaa me – phir use God kahe do..iishwar kahe do…alllaah kahe do…us me thodi vishranti paaye to maanav jaat ka mangal hotaa hai…

ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s


%d bloggers like this: