धर्म वचनों का सही अर्थ नहीं समझते तो ही परेशानी में पड़ते


( परम पूज्य आसाराम बापूजी के सत्संग से )

नारद जी जा रहे थे, रास्ते  में सर्प देवता ने कहा की आप संत है, अगले जनम में कुछ कर्म  किया इसलिए मैं  सर्प योनी को प्राप्त हुआ, अब इस योनी से छुटने का उपाय बताये..
नारद जी बोले ..’द्वेष न कर, किसी को काटना नहीं’…
वर्ष भर के बाद नारद जी उसी रास्ते  से गुजर रहे थे… तो देखा की सर्प देवता की दुर्दशा थी.. जैसे सिकंदर का बंदी बन के सम्राट पुरु की दुर्दशा हुयी… सर्प के दांत  टूट गए..शरीर में जखम.. ये दुर्दशा कैसे हुयी? बोले आप ने धर्म उपदेश दिया, उस को निभा रहा हूँ…
नारद जी चौकन्ने हो गए… जो धर्म की रक्षा करता, धर्म उस की रक्षा करता है ..तुम्हारी तो ये दुर्दशा हुयी , तो कही न कही जरूर गलती है..नारद जी ने सर्प राज को पूछा की , तुम ने क्या किया?..
बोले, आप ने कहा की किसी को काटना नहीं, तो मैंने किसी को  नहीं काटा …तो कोई मेरी पूछ को हिलाए..कोई मुझे इधर उधर फेंके…कोई तो मुझे रस्सी की तरह खेले… तब से मेरी ये दुर्दशा हो गयी..
नारद जी बोले की, मैंने किसी को  काटना  नहीं बोला था , किसी का द्वेष नहीं करने के लिए बोला था ….लेकिन आत्म रक्षा के लिए मना नहीं किया था..
धर्म वचनों का सही अर्थ नहीं समझते तो ही परेशानी में पड़ते ….

“सत्यम वद” तो कौन सा सत्यम वद? प्रियं वद और हीत-कर वद…

माँ बच्चे को दवाई पिलाती तो सत्य नहीं बोलती, लेकिन माँ को पाप नहीं लगता, क्यों की हीत के लिए बोली..

सत्यतपा नाम का एक तपस्वी तप कर रहे थे.. एक गाय पर कसाई की नजर पड़ी तो गाय प्राण भय से भागी और ये तपस्वी जिस कुटियाँ  के बाहर खड़े तप कर रहे  थे , उस की कुटियाँ  के पीछे छिप गयी…कसाई ने पूछा तो तपस्वी ने इशारे से बता दिया.. गाय की हत्या हुयी ….आकाशवाणी हुयी की .. ‘मुर्ख.. जिस सत्य से गाय की जान गयी ये सत्य नहीं ! ‘
… धर्म के वचनों का सही अर्थ नहीं समझे तो धर्म के रहस्यों को समझा ही नहीं…

ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ


narad ji ja rahe the, raste me sarp devataa ne kahaa ki aap sant hai, agale janam me dwesh kiya isliye mai sarp yoni ko prapt huaa, ab is yoni se chhutane ka upaay bataaye..
‘dwesh na kar, kisi ko kaatanaa nahi’… varsh bhar ke baad naarad ji usi raste se gujar rahe the to dekha ki sarp devataa ki durdashaa thi.. jaise sikandar ka bandi ban ke samrat puru ki durdasha huyi… sarp ke daat tut gaye..sharir me jakham.. ye durdashaa kaise huyi? bole aap ne dharm upadesh diya, us ko nibha rahaa hun…
narad ji chaukanne ho gaye… jo dharm ki raksha karataa, dharm us ki raksha karataa..tumhari to ye durdasha huyi , to kahi na kahi na galati hai..narad ji  ne sarp raaj ko puchha ki tum ne kya kiya?..
bole aap ne kahaa ki  kisi ko kaatanaa nahi, to maine kisi k nahi kata…to koyi meri puchh ko hilaaye..koyi mujhe idhar udhar phenke…koyi to mujhe rassi ki tarah khele… tab se meri ye durdashaa  ho gayi..

naarad ji bole ki, maine kisi k katana nahi bola,lekin aatm raksha ke liye manaa nahi kiyaa thaa..

“satyam vad”  to kaun sa satyam vad? priyam vad aur heet-kar vad…

maa bachche ko dawaayi pilaati to saty nahi bolati, lekin maa ko paap nahi lagataa, kyo ki heet ke liye boli..

satyatapaa naam ka ek tapaswi tap kar rahe the.. ek gaay par kasaayi ki najar padi to gaay pran bhay se bhaagi aur ye tapaswi jis  kutiya ke baahar khade tap kar raha tha us ki kutiyaa ke pichhe chhip gayi…kasaayi ne puchha to tapaswi ne ishare se bata adiyaa..aakashwani huyi ki murkh jis satya se gaay ki jaan gayi ye satya nahi… dharm ke vachano ka sahi arth nahi samajhe to dharm ke rahasyo ko  samajhaa hi nahi…


ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s


%d bloggers like this: