द्रौपदी की कहानी

गुरुदेव ने कथा सुनाई कि महाभारत में, जब युद्ध हो रहा था, तब कौरव मारे जा रहे थे; दुर्योधन ने भीष्म पितामह कों मस्का पोलिश करके उनसे कहा कि आप मेरी सेना के सेनापति हैं… और इतने कौरव मारे गए हैं, पर पाण्डवों में एक भी नहीं मरा…. तब भीष्म पितामह ने ५ बाण निकालकर प्रतिज्ञा की , कि  कल शाम का सूर्यास्त ५ पांडव नहीं देखेंगे, अगर श्री कृष्ण ने हथियार नहीं उठाया तो….
..यह सुनकर द्रौपदी जी बहुत चिंतित हुई और उन्होने श्री कृष्ण का सुमिरन किया… श्री कृष्ण बंसी बजाते हुए  आये और द्रौपदी को चिंतित देख कर उनसे बोले – “वर्तमान की समझ को भविष्य के भय में दबाने की गलती क्यों करती हो? धीरज रखो, मुसीबत आये तो विव्हल  मत हो, धीरज रखो, शांति से…”
उन्होने द्रौपदी को फिर युक्ति बताई कि द्रौपदी अगले दिन प्रभात के टाइम  भीष्म जी के पास जाएँ;  भीष्म जी उस समय ध्यान के लिए बैठते हैं और दुर्योधन की पत्नी रोज सुबह उनके पास आती है और जब प्रणाम करती है, तो चाचाजी (भिष्मजी) उनको होलसेल  में आशीर्वाद देते हैं…. तो द्रौपदी से श्री कृष्ण ने कहा कि दुर्योधन की पत्नी के आने से पहले वह वहाँ जाकर अपनी चूडियाँ  खनका दें, जिस से कि भीष्म जी को लगे कि दुर्योधन की पत्नी आयी है, और वह उन्हें “सदा सौभाग्यवती भवः” का आशीर्वाद दे दें…!!  श्री कृष्ण ने द्रौपदी से कहा कि वह इतना करें, बाक़ी का वे संभाल लेंगे…  :-)

*  भक्त के जूते उठाते भगवान…!
श्री कृष्ण देखो,
-मार्ग दर्शक भी हैं,
– कर्म के प्रेरक भी हैं,
– कर्म के निर्वाहक भी हैं,
– कर्म के फलदाता भी हैं,
– और भक्त की गलती निकालने वाले बडे मास्टरों के बाप के बाप भी हैं…   :-) !

द्रौपदी जा रही है और श्री कृष्ण रास्ते में मिले; ..”ओह हो, तू जा तो रही है, लेकिन तेरे जूते के आवाज़ से वह कहीं आँख खोल के देख लेंगे, तो फिर यह आशीर्वाद नहीं देंगे…ला तेरा जूता मेरे को दे दे…..!!  ऐये हैई! :-)

ऐसा भगवान हिन्दुओं के मजहब में है जो  भक्त का जूता उठाने में छोटा नहीं लगता, कैसा प्रेम है उस प्यारे का…कृष्ण कन्हैया लाल की जय!!

*  हमारा भगवन हमारे जैसा !

..हमें तो ऐसा भगवान चाहिऐ जो हमारी घोडा गाड़ी चला ले, हमसे बात कर ले, भक्त का जूता उठा ले, ऐसे भगवान को छोड़कर हम कहाँ जायेंगे? जो वहाँ बैठे बैठे आर्डर करे और किसी को भेज दे, वह भले बड़ा भगवान हो, हमें ऐसा नहीं चाहिऐ…. हमें तो ऐसा भगवान चाहिऐ, कि हमारे ह्रदय में भी हो, और कभी कभी मनुष्य रुप में आकर लीला भी करे, और हमारी गुत्थियाँ  भी  सुलझाए….

…और जैसे हमें गुत्थियाँ आती हैं, ऐसी उसको भी आयें, और हम देखें कि उसने कैसे सुलझाई…..
पत्नी चली गयी तो क्या करे?
दूसरी लोवरी  से नहीं किया, “हाई सीते , सीते , ओ सीते “  किए …
तो हमारी पत्नी रूठ जाये, या कोई अनाचार हो, तो हमें कहीं दूसरी नहीं ढून्ढनी चाहिऐ, हम भी उसको मुसीबतों से बाहर ले आयें, हमें ऐसा भगवान का मार्ग-दर्शन चाहिऐ…

देखते क्या हो, शरम नहीं आती, ताली बजाओ… :-)
चुप क्यों बैठे हो, बोलो “वाह बापू, वाह!”    :-)
इतने से काम नहीं चलेगा, बोलो “ऐ है है, ऐ है है…”    :-)

नानक सदगुरू भेटियां , मैल  जनम जनम दे लाथी…l

– इसी जनम की  तो  क्या, कई जन्मों कि मैल  उतर जाती है.. इसी का नाम है सत्संग…!.. जो सत्संग करते हैं, करवाते हैं, दूसरों को ले आते हैं, वे मानव जात के परम हितेषी हैं, उनको तो मेरा प्रणाम है…

हरि:  ओऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽम्ममममम्म्म्म हरि ओऽऽऽऽऽम्म्म्म्म


ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ

Draupadi ki kahani

Gurudev ne katha sunaai ki Mahabharat mein, jab yudh ho raha tha,tab Kaurav maare jaa rahe thhe; Duryodhan ne Bhishma Pitamah komaska polish karke unse kaha ki aap meri sena ke senapati hain; auritne kaurav maarey gaye hain, par Pandavon mey ek bhi nahin mara; tab Bhishma pitamah ne 5 baan nikaalkar pratigya ki kal shaam ka suryaast 5 Pandav nahin dekhenge, agar Shri Krishna ne hathiyaar nahin uthhaya to….

..Yeh sunkar Draupadi ji bahut chintit hui aur unhone Shri Krishna ka sumiran kiya; Shri Krishna bansi bajaate huye aaye aur Draupadi ko chintit dekh kar unse bole – “Vartmaan ki samajh ko bhavishya ke bhay mey dabaane ki galti kyon karti ho? Dheeraj rakho, museebat aaye to vival mat ho, dheeraj rakho, shaanti se…” Unhone Draupadi ko phir yukti bataayi ki Draupadi agle din prabhaatke time Bhishma ji ke paas jaaye; Bhishma ji us samay dhyaan ke liye baithte hai aur Duryodhan ki patni roj subah unke paas aati hai aur jab pranaam karti hai, to chachaji (Bhishmji) unko wholesale meyaashirvaad dete hain…!.. to Draupadi se Shri Krishna ne kaha ki Duryodhan ki patni ke aane se pehle woh wahan jakar apni chudiyan khanka dena, jis se ki Bhishm ji ko lage ki Duryodhan ki patni aayee hai, aur woh unhe “sada saubhagyvati bhavah” ka aashirvaad de denge….!.. Shri Krishna ne Draupadi se kaha ki woh itna kare, baaki ka vey sambhaal lenge… Is par Gurudev aagey kehte hai….

* Bhakt ke jute uthate bhagavan…!

Shri Krishna dekho,

-maarg darshak bhi hain,

– karm ke prerak bhi hain,

– karm ke nirvaahak bhi hain,

– karm ke faldaata bhi hain,

– aur bhakt ki galti nikaalne wale bade masteron ke baap ke baap bhi hain… J  !

Draupadi jaa rahi hai aur Shri Krishna raste mey mile; bole “oh ho, tujaa to rahi hai, lekin tere joote ke awaaz se woh kahin aankh khol kedekh lenge, to phir yeh aashirvaad nahi denge…laa tera joota mere ko de de…!”… aii haiiii !  J …Aisa bhagvaan hinduon ke majhab mey hai jo , bhakt ka joota uthhane mey chhota nahin lagta, kaisa prem hai us pyaare ka…Krishna kanhaiya lal ki jai!!

* Humara bhagvan humare jaisa !

..hume to aisa bhagvaan chahiye jo hamari ghoda gaadi chala le, humse baat kar le, bhakt ka joota uthha le, aise bhagvaan ko chhodkar hum kahan jaayenge? jo wahan baithe baithe order kare aur kisi ko bhej de, woh bhale bada bhagvaan ho, humein aisa nahin chahiye; hume to aisa bhagvaan chahiye, ki hamare hruday mey bhi ho, aur kabhi kabhi manushy roop mein aakar leela bhi kare, aur hamaari gutthiyan suljhaaye…. aur jaise humein gutthiyan aati hain, aisi usko bhi aayein, aur humdekhein ki usne kaise suljhaayee; patni chali gayee to kya kare?doosri loveri se nahin kiya,…. “haay seete, seete, o seete….”kiya..- to hamari  patni rooth jaaye, ya koi anaachaar ho, to hume kahin doosari nahi dhoondni chahiye, hum bhi usko musibaton se bahar le aaye, hume aise bhagvaan ka maarg-darshan chahiye…!!

..dekhte kya ho, sharam nahi aati, taali bajaao…  🙂

.. chup kyon baithe ho, bolo “wah Bapu, wah!”   🙂

itne se kaam nahin chalega, bolo,“aiii haiiii haiiii, aiiii haiiii haiiii…”   🙂

Nanak SadGuru bheitiya, maiel janam janam de lathhey – isi janam kito kya, kayee janamon ki maiel utar jaati hai, isi ka naam hai satsang…!.. jo satsang karte hain, karvaatey hain, doosron ko le aatey hain, vey maanav jaat ke param hiteshi hain, unko to mera pranaam hai…

Hari Ommmmmmmmmmmmmmmmmm ….

ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ

Advertisements

2 Comments on “द्रौपदी की कहानी”

  1. Harsh Gupta Says:

    i need shree krishna ki janam kahani

  2. Nitin Sharma Says:

    nice


Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s


%d bloggers like this: