दीर्घ तपा ऋषी

(Pujyashri Bapuji ke satsang se…)

दीर्घ तपा  ऋषी और उन की पत्नी साध्वी थी…दोनों ज्ञान ध्यान में आगे बढ़ने के लिए प्रयत्न करते…दीर्घ तपा को पावक नामक  एक बेटा हुआ..कुछ समय के बाद उस दम्पति को पुण्यक नाम का दूसरा बेटा  हुआ…वो दम्पति  इच्छा निवृत्त कर के, कंद मूल फल से व्यवहार चलाते….  प्रसन चित्त रहेते… काल चक्र चलता रहा… आत्मज्ञान पाने के बाद भी शरीर के धर्म तो होते ही है….शरीर को  बुढापा तो आता ही है…. देह धारणा कर के दीर्घतपा ने ऐसे शरीर को छोड़ा की जैसे कोई  आमिर आदमी पुराने कपडे छोड़ते ऐसे शरीर को छोड़कर ब्रम्हस्वरूप परमात्म से एकाकारता कर के ब्रम्ह में विलय हो गए….
उन की  पत्नी ने भी पति ने शरीर छोड़ा देख के अपना शरीर छोड़ा…
पुण्यात्माओं के लिए  उत्तरायण मार्ग है…. भीष्म पितामह ने उत्तरायण होने तक प्राण रोक के रखे…लेकिन पापियों के लिए क्या उत्तरायण और क्या दक्षिणायन..उन को कोई फरक नही पङता..

धर्मात्मा के लिए शरीर छोड़ते तो सूर्य लोक चन्द्र लोक को प्राप्त होते…लेकिन पापी लोग मरते तो  वासनाओ के अनुसार गीध बन जाते…कबूतर बन गए ….शरीर मिला तो ठीक नही तो नाली में बहे गए… ऐसे पापी के दुखो की गिनती नही…

जिन की वासनाओ की पूर्ण तृप्ति नही हुयी ऐसे धर्मात्मा  लोग दक्षिणायन में प्राण छोड़ते तो भी  चंद्रलोक में जाते… चन्द्र लोक से फिर वापस आते और अपनी वासनाओ के अनुसार जनमते…

तीसरे प्रकार के लोग होते , जिन की वासना निवृत्त हो गई है ऐसे जिव  जहा भगवान शिव,  वासुकी नाग आदि मुक्त पुरूष हो गए उन में जाते है …
(जिन्हों ने जीते जी ब्रम्ह को पा लिया उन को ब्रम्ह लोक जाना  नही होता).. … ब्रम्ह लोक में ब्रम्ह ये बड़ा  पद है..लेकिन  ब्रम्हज्ञानी के लिए क्या ब्रम्ह लोक और क्या ब्रम्ह पद…. ब्रम्ह लोक और ब्रम्ह भी उन के मन  में एक कोने में है …..असलियत बताऊ ना तो जैसे मंसूर के साथ हुआ…जिझस  से जो व्यवहार  किया ऐसा ब्रम्ह्ग्यानियो से ये दुनिया व्यवहार करेगी….
घाटवाले बाबा बोलते, अपना अनुभव ज्ञानवालो  को दूसरो को नही बताना चाहिए… उचित नही है….कभी कोई  उच्च कोटि का आत्मा मिले तो  जरासा संकेत करते…!
भगवान के नाम से मन की चंचलता से अपने को बचाए…. मनन ,बुध्दी, वासना दुखदायी है… छल , छिद्र,  कपट दुखदायी है …
उमा कहूँ मैं अनुभव अपना l
एक हरी भजे , बाकि सब स्वप्ना ll

ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ

drightapaa rushi aur un ki patni sadhvi thi…gyan dhyan me aage badhane ke liye prayatn karate…dirgh tapaa ko  ek beta huaa..kuch samay ke baad us dampati ko punyak naam ka dusara beta  huaa…wo dampati  ichha nivritt kar ke, kand mul phal se yyavahar chalaate….  prasan chitt rahete… kaal chakr chalata raha… atmgyan pane ke baad bhi sharir ke dharm to hote hi hai….sharir to  buDhapa to aata hi hai…. deh dharana kar ke dirghtapaa ne aise sharir ko chhoda ki jaise koyi  amir aadami purane kapade chhodate aise sharir ko chhodakar bramhswarup paramatm se ekakarata kar ke bramh me vilay ho gaye….

Un ki  patni ne bhi pati ne sharir chhoda dekh ke apana sharir chhoda…

punyatmaao ke liye  uttarayan marg hai…. bhishm pitamah ne uttarayan hone tak pran rok ke rakhe…lekin paapiyo ke liye kya uttarayan aur kya dakshinayan..un ko koyi pharak nahi padataa..

dharmatma ke liye sharir chhodate to sury lok chandr lok ko prapt hote…lekin paapi log marate to  waasanao ke anusar gidh ban jate…kabutar ban gaye ….sharir mila to thik nahi to nali me bahe gaye… aise papi ke dukho ki ginati nahi…

Jin ki wasanao ki purn trupti nahi huyi aise Dharmatma  log dakshinayan me pran chhodate to bhi  chandrlok me jaate… chandr lok se phir wapas aate aur apani wasanao ke anusar janamate…

Tisare prakar ke log hote , jin ki wasana nivrutt ho gayi hai aise jiv  jaha bhagavan shiv,  vasuki naag aadi mukt purush ho gaye un me jate hai …

(Jinho ne jite jee bramh ko paa liya un ko bramh lok jana nahi hota).. … bramh lok me bramh ye bada pad hai..lekin  bramhgyani ke liye kya bramh lok aur kya bramh pad…. bramh lok aur bramh bhi un ke mann me ek kone me hai …..asaliyat bataau naa to jaise mansur ke sath huaa…jisus se jo vyavhahaar kiya aisa bramhgyaniyo se ye duniya vyavhaar karegi….

ghatwaale baba bolate, apana anubhav gyanwalo ko dusaro ko nahi batana chahiye… uchit nahi hai….kabhi koyi  uchch koti ka aatma mile to  jarasa sanket karate…!

bhagavan ke naam se man ki chanchalata se apane ko bachaye…. mann ,budhdi, wasana dukhdayi hai… chhal , chhidr,  kapat dukhdayi hai …

uma kahun mai anubhav apana l

ek hari bhaje , baki sab swapna ll

 ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s


%d bloggers like this: