गौतमी ब्राम्हणी के पुत्र की कर्म की गति

कर्म की गति बड़ी गहन हैउस को  समझाना बड़ा कठिन है….

भीष्म पितामह की स्थिति  देखकर भगवान श्रीकृष्ण युधिष्टिर को बोले की , हमारे चित्त में भी पीडा हो रही है..
युधिष्टिर ईश्वर की गति जानी नही जाती…
गौतमी नाम की एक  ब्राम्हण बाई थी..आत्मशांति के अभ्यास में रत रहेती…उस का  एकलौता बेटा था… उस को सर्प ने ऐसा डंख मारा की गिर पड़ा..हमेशा के लिए  मृत्यु के शैय्या पर सो गया…सर्प का काटना देखकर ब्राम्हण बाई ने चतुराई से साँप को कपडे में बाँध लिया….
तो लोग कहेने लगे की सर्प को जला डाले या तुकडे तुकडे कर के काट दिया जाए…
गौतमी ब्राम्हणी  सत्संग से जानती थी..ब्राम्हणी ने कहा की , “ये नियति की लीला है… किसी जिव को मार देने से मेरा बेटा जीवित नही होगा…इस सर्प को जीवित जलाने का या  टुकड़े टुकड़े कराने का करम मुझे बाँधेगा ..
..  ना जाने किस काल के कर्म से ये घटना घटी है.. लेकिन अब हम कुछ करते तो और कर्मबंधन बनेगा .. मेरे बेटे की मृत्यु मृत्युके देवता की प्रेरणा से हुयी है , जो मृत्यु का अधिष्ठाता देव सब को प्रेरित करता है “
…..देखते ही देखते मृत्यु के देव आए..बोले, “ माता मैं दोषी नही हूँ …..काल चक्र सब को प्रेरित करता है…. सृष्टि का कर्म चलता रहेता है..हमारा तुम्हारे बेटे से क्या लेना-देना? हम तो काल से प्रेरित होके कर्म  करते ..”

ब्राम्हणी  विचार कर के शांत हुयी …४ बातें होती…
–         जीवात्मा अपनी सीमाए जाने…
–         भगवान का अनुसन्धान जाने, माने…
–         भगवान के सामर्थ्य को स्वीकार करे ..
–         और उसी में  शांत हो जाए…

तो मनुष्य भगवान के सृष्टि का रहस्य जान सकता है…जो भी इन ४ बातो पे चलता वो भगवान की  महानता जान पायेगा…भगवत शान्ति में जाए.. ..प्रार्थना कर के शांत हो जाए… प्रार्थना से बल मिलता ….प्रेरणा मिलती ….

..युधिष्टिर की पुण्याई के बल से , गौतमी ब्राम्हणी  बाई की तपोबल से कहो तो काल देवता भी आये..काल देवता बोले, “ मैं भी दोषी नही हूँ…”
काल देवता  बोले , तुम्हारे बेटे का मृत्यु मेरी प्रेरणा से नही हुआ ,  मृत्यु देवता भी बोले मेरी प्रेरणा  से नही हुआ..  सर्प बोले की मैं भी दोषी नही…  वास्तव में हर जिव का अपना काल है..स्वभाव हैअपनी अपनी जीवन की यात्रा होती है ….कोई किसी को दुःख सुख देता ये मानना बालक मति है..सब अपने कर्म के बंधन से चलते है..तो पुत्र की यात्रा संपन्न करनी थी..इसलिए ये घटना घटी….

ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ

karm ki gati badi gahan hai…us ko  samajhana bada kathin hai….

 

bhishm pitamah ki sthiti  dekhakar bhagavan shrikrushn bole ki , humaare chitt me bhi pida ho rahi hai..

yudhishtir ishwar ki gati jani nahi jati…

Gautami naam ki ek  bramhan bai thi..aatmshanti ke abhyas me rat raheti…us ka  eklauta beta tha… us ko sarp ne aisa dankh mara ki gir pada..humesha ke liye  mrutyu ke shaiyya par so gaya…sarp ka kaatana dekhakar Bramhan bai ne chaturayi se saap ko kapade me bandh liya….

to log kahene lage ki sarp ko jala daale yaa tukade tukade kar ke kaat diya jaye…

gautami bramhani  satsang se janati thi..bramhani ne kaha ki , “ye niyati ki lila hai… kisi jiv ko maar dene se mera beta jivit nahi hoga…is sarp ko jivit jalaane ka yaa  tukade tukade karane ka karam mujhe bandhega ..

..  naa jane kis kaal ke karm se ye ghatana ghati hai.. lekin ab hum kuchh karate to aur karmbandhan banega .. mere bete ki mrutyu mrutyu ke devata ki prerana se huyi hai , jo mrutyu ka adhisthata dev sab ko prerit karata hai …..dekhate hi dekhate mrutyu ke dev aaye..bole, “ mata mai doshi nahi hun …..kaal chakr sab ko prerit karata hai…. srushti ka karm chalata raheta hai..humara tumhare bete se kya lena-dena? hum to kaal se prerit hoke karm  karate ..”

 

Bramhani  vichar kar ke shant huyi …4 baate hoti…

–         jivatma apani simaye jane…

–         bhagavan ka anusandhan jane, mane…

–         bhagavan ke samarthy ko sweekar kare ..

–         aur usi me  shant ho jaye…

 

to manushy bhagavan ke srushti ka rahasy jaan sakata hai…jo bhi in 4 baato pe chalata wo bhagavan ki  mahanata jan payega…bhagavt shanti me jaaye.. ..prarthana kar ke shant ho jaaye… prarthana se bal milata ….prerana milati ….

 

..yudhishtir ki punyayi ke bal se , gautami bramhani  bai ki tapobal se kaho to kaal devata bhi aaaye..kaal devata bole, “ mai bhi doshi nahi hun…”

Kaal devata  bole , meri prerana se nahi huaa ,  mrutyu devata bhi bole meri prearana se nahi huaa..  sarp bole ki mai bhi doshi nahi…  vastav me har jiv ka apana kaal hai..swabhav hai…apani apani jeevan ki yatra hoti hai ….koyi kisi ko dukh sukh deta ye maanana balak mati hai..sab apane karm ke bandhan se chalate hai..to putr ki yatra sampann karani thi..isliye ye ghatana ghati….

ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s


%d bloggers like this: